#रिश्ते और संबंध

India is Great Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए India जी का जवाब
Master Chef in House
0:28
चलो कोई भी इंसान के माता के ऊपर में लिखा नहीं होता है और उसे लगता है कि यह बात किसी को नहीं पता लेकिन अक्सर सभी उसके बारे में जो है जानने लग जाते हैं इसलिए कुछ लोग ऐसे भी हैं जो सभी उसके बारे में जानकारी को उसके बावजूद भी नहीं मानते कि तुझे क्या पता मेरे बारे में तुम को क्या मालूम है क्यों ऐसा नहीं होता है इसी वजह से वह नहीं मानता है और कुछ लोग ऐसे होते हैं जो इस बात का भी लोगों को चुराता है तब भी नहीं मानने को कोई तैयार होता है यह सब कहानी है

और जवाब सुनें

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:30
हेलो अभिमान तो आज आप का सवाल है कि जब इंसान गलत ही होता है तो उसे कड़वी बात बुरी क्यों लगती है और फिर वह उसे मानता क्यों नहीं तो देखिए इंसान जब गलत होता है या फिर सही होता है तो बहुत सारे इंसान के हो तो नहीं कि वह गलत है तो वह चीज को एक्सेप्ट कर लेते क्योंकि उनको लाइफ में कुछ अच्छा करना हो तो उनको अपनी गलती को मान ना बहुत जरूरी है तुमको पता होता है कि लाइफ में यह पूरी जिंदगी में हमेशा सही नहीं हो सकते हमारे काम हमेशा सही नहीं हो सकते हम कभी ना कभी गलत हो सकते तो करेंगे कि हम गलत है तभी हम लाइफ में कुछ अच्छा करेंगे और आगे बढ़ेंगे तो कुछ लोग समझते हैं कुछ लोग इस चीज को नहीं समझ पाते उनको लगता है कि अगर हम अपनी गलती मान लेंगे एक्सेप्ट कर लेंगे तो शायद मतलब नीचे गिर जाएंगे या फिर ऐसा मेरी वाली हुए हो जाएगी लोग मुझे मतलब कमजोर समझेंगे गलत सोचने लगेंगे इसलिए वह सोचते हैं कि नहीं मैं अपनी गलती एक्सेप्ट नहीं कर बहुत सारे लोग भी करते हैं जो कोई समझ आता है या फिर कुछ बताते हैं कि तुम कहां गलत हूं कहां से ही तुमको यह बात कड़वी लगती और बुरी भी लगती क्योंकि वह इस चीज को मानना ही नहीं चाहते के कारण है कि बहुत सारे लोग अपनी गलती को नहीं मानते हैं जिसकी वजह से वह अपनी लाइफ में इस तरह से हो गलती करते रहते हैं और उनको कभी पछतावा भी नहीं होता और बहुत सारे लोगों से अगर गलती हो जाता उस गलती को मानते हैं समझते हैं और फिर से उसे ठीक कर के लाइफ में आगे बढ़ते हैं

TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
1:18
नमस्कार दोस्तों योजना पूछा है कि जब इंसान गलत ही होता है तो उसे कड़वी बातें बुरी क्यों लगती है और फिर वह उसे मानता किया है देखिए जब आप तो कोई गलती करते हैं जब इंसान को भी गलत होता है तो उसके रिलेटेड अगर आपको कोई कुछ कड़वी बातें बोल देता है उसके लिए जुड़े तो वह बातें डायरेक्ट आपको सेट करते हैं क्योंकि आपको पता होता आपने वह गलती करी है उस गलती के लिए जो है आप को ही जिम्मेदार ठहरा सकता लेकिन बीच में आ जाता है हम आ जाता है तो आपको जो है वह अपनी गलती स्वीकार नहीं करने देता है प्रभु बातें आपको चुभते हैं उन बातों के बदलाव कैसे से लड़की सकते हैं किसी को करने के क्या आपको लगता है कि मैं चार बंदों के बीच में जाके स्टार इंसान के बीच में मेरे को गलत ठहराया जाए तो और वह चीज आप नहीं कर पाते हैं एक्सेप्ट नहीं कर पाते हैं इसकी वजह से आपको जो है कड़वी बातें बुरी लगती हैं और उसे आप एक्सेप्ट नहीं करता जाने का मानते नहीं हो तो यह मानसिक ही ऐसा इसके लिए आपको अपना व्यवहार भी देखना पड़ेगा अगर आपको गलती आपने करी है तो उस गलती के लिए अगर आप किसी के आगे झुक जाते हैं किसी के आगे अपनी गलती मान लेते हैं अगर आप गलत हो तो तो उसमें कोई गलत बात नहीं बुरा ही नहीं है उस चीज में आशा करता हूं आपका कोई सवाल का जवाब मिल गया होगा लाइक और सब्सक्राइब करें धन्यवाद

Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:35
पसंद है लेकिन जब इंसान गलत ही होता है तो उसे कड़वी बात बुरी क्यों लगती है और फिर मैं उसे मानता क्यों है तो देगी जब इंसान गलत होता है तो यह बात उसी समय उसको समझ में आ जाए तो जरूरी नहीं होता है अक्सर ऐसा ही होता है क्या आपके द्वारा की गई गलतियों का एहसास आपको पता ही नहीं आपको पता ही नहीं चलता है दूसरा कर उस समय आप को इस बात का अहसास देने की कोशिश करते भी हैं तो आपको व्यक्ति और उस व्यक्ति के बारे में कही गई बात काफी दादा कड़वी लगती है और इस यही वजह है कि आप बुरा भी मान जाते हैं और रिश्तो में तनाव महसूस होता है आपका दिन शुभ रहे थे निवास

अमित सिंह बघेल Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए अमित जी का जवाब
सामाजिक कार्यकर्ता, मोटिवेशनल स्पीकर 
1:39
क्या पूछा कि जब इंसान गलत ही होता है तो उसे कड़वी बात बुरी क्यों लगती है और फिर वह उसे मानता क्यों देखिए आप ने सबसे पहले बोला कि इंसान गलत होता है जब इंसान गलत ही होता है जब कोई इंसान समझ गया कि हां मैंने गलती की है तो किस कोई अगर इंसान सामने वाला अच्छी बात बोले ना सच्ची बात बोलेगा तो उसको कड़वी लगे क्योंकि उसको पता है कि मैंने गलत किया है ठीक है तो उसको बुरा लगेगा कि हां यह मुझे समझा रहे थे कि जैसे हमारे माता-पिता क्या है कि अगर हम कुछ गलती करते हैं तो मुझे समझाते तो वह बात बुरी लगती थोड़ा और जो अच्छे इंसान होते जिनकी सोच अच्छी है तू और समझते हैं आगे बढ़ते जीवन का हर तरीके का आनंद लेकर आगे बढ़ते कि हर इंसान जीवन में गलतियां करता है ऐसा नहीं है कि गलती तो हर इंसान गलती है किया जीवन में बुरी इसलिए लगेगी उस इंसान को भी लगेगी जो इंसान बदलना नहीं चाहेगा अपने को अरे यार जब आपको पता कि आप गलत हो तभी अगर इंसान को सामने वाला समझा दो तो उस बात को समझो मैं यही कहना चाहता हूं और आपने कहा कि फिर वह उसे मानता क्यों है मानता है यह तो एक सच्चा इंसानों को मानेगा तो क्या वह गलत है इसलिए मानेगा कि हां मैं गलत हूं आज की डेट में मुझे आज से मैं यह गलती नहीं करूंगा लेकिन बस आपको जो गलत आपने किया है उसको दोहराना नहीं है आप को सुधारना है जीवन में आप यही चीज सीखे कि मुझे बहुत कुछ सुधार लाना अपने जीवन में गलती हर इंसान करेगा मैं करूंगा आप भी करोगे कौन नहीं करेगा हर इंसान का था लेकिन गलती बार-बार ना तो है अगर आप दोहराते हो तो मैं समझ जाऊंगा आप दुनिया समझ जाएगी सब समझे कि आप बदलने वाले में आप अपने अंदर बदलाव लाए हो जीवन में कुछ अच्छा करके दिखाएं जय हिंद जय भारत

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:03
जब इंसान गलत ही होता है तो उसे कड़ी बात बुरी क्यों लगती है और फिर मैं उसे मानते क्यों नहीं तो कोई भी इंसान जो होता है वह पहली बात तो यह कि अपनी गलती स्वीकार नहीं करता जी आपने भी तो गलती कर दी तो आप मानने के लिए बिल्कुल भी तैयार नहीं हुए क्या आप ने कुछ गलत है पता नहीं क्यों आखिर परंतु इंसान की हमेशा से रही है इसको जो है वह बुरा नहीं बताएगा जब दूसरे लोग बुराइयां निकाल कर बात करें गलती हो जाती है तो उस गलती को मानता नहीं परंतु जब कोई व्यक्ति उसको लेकर के उसको बोलता है तो वह बातें कहीं ना कहीं सकते हो ती है सकते आप गलत है आपको कोई सच्चे बोलेगा तो आप यही कारण है कि अच्छी बात तो है क्योंकि वह आपकी बुराई को लेकर तो नहीं करेगा चाहे आप हो चाहे मैं हूं मैं कोई भी हूं
Jab insaan galat hee hota hai to use kadee baat buree kyon lagatee hai aur phir main use maanate kyon nahin to koee bhee insaan jo hota hai vah pahalee baat to yah ki apanee galatee sveekaar nahin karata jee aapane bhee to galatee kar dee to aap maanane ke lie bilkul bhee taiyaar nahin hue kya aap ne kuchh galat hai pata nahin kyon aakhir parantu insaan kee hamesha se rahee hai isako jo hai vah bura nahin bataega jab doosare log buraiyaan nikaal kar baat karen galatee ho jaatee hai to us galatee ko maanata nahin parantu jab koee vyakti usako lekar ke usako bolata hai to vah baaten kaheen na kaheen sakate ho tee hai sakate aap galat hai aapako koee sachche bolega to aap yahee kaaran hai ki achchhee baat to hai kyonki vah aapakee buraee ko lekar to nahin karega chaahe aap ho chaahe main hoon main koee bhee hoon

Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
1:08
तारा का प्रश्न जब इंसान गलत ही होता है तो उसे कड़वी बात बुरी क्यों लगती है और फिर मैं उसे मानता क्यों हूं तो आपको बताना चाहेंगे देखिए अगर इंसान गलत है तो यह उसको शाम को जरूर पता होता है ऐसा नहीं है कि इंसान को पता ना हो कि वह गलत नहीं है इंसान को उस बात के बारे में पता होता है हम उसको सेट करें ना करें यह सेकेंडरी चीज है क्योंकि वह सब नहीं करना चाहता है इसलिए उसको बातें बुरी लगती हैं और लेकिन सच्चाई तो सच है होता ही है उसमें आप कुछ भी बनावटी नहीं कर सकते हैं तो अंत में उसको बात को मानना होता ही है तो चैट कहते हैं ना तो सच्ची बातें होती हैं वह कड़वी होती हैं नीम के समान लेकिन असरदार भी हुई होती है तो उसी तरीके से यहां पर आप चेक गलत हो सही हो अगर आपने गलती अपने जीवन में कई करी है तो आपको बातें कोई आपको बोलेगा तो आपको कटास की बातें लगेंगी और अगर आप तो कुल कितनी भी गलत बातें बोलते रहे आपको उसका कोई फर्क नहीं पड़ेगा मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Taara ka prashn jab insaan galat hee hota hai to use kadavee baat buree kyon lagatee hai aur phir main use maanata kyon hoon to aapako bataana chaahenge dekhie agar insaan galat hai to yah usako shaam ko jaroor pata hota hai aisa nahin hai ki insaan ko pata na ho ki vah galat nahin hai insaan ko us baat ke baare mein pata hota hai ham usako set karen na karen yah sekendaree cheej hai kyonki vah sab nahin karana chaahata hai isalie usako baaten buree lagatee hain aur lekin sachchaee to sach hai hota hee hai usamen aap kuchh bhee banaavatee nahin kar sakate hain to ant mein usako baat ko maanana hota hee hai to chait kahate hain na to sachchee baaten hotee hain vah kadavee hotee hain neem ke samaan lekin asaradaar bhee huee hotee hai to usee tareeke se yahaan par aap chek galat ho sahee ho agar aapane galatee apane jeevan mein kaee karee hai to aapako baaten koee aapako bolega to aapako kataas kee baaten lagengee aur agar aap to kul kitanee bhee galat baaten bolate rahe aapako usaka koee phark nahin padega main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • गलत इंसान को कैसे पहचाने ? इंसान कौन सी गलत आदतों से दूर रहना चाहिए ?
URL copied to clipboard