#undefined

Rohit Rathore Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Student
0:39
कब एक स्वागत है आप सबको मेरी भूल कर अब प्रोफाइल पर और आप सुन रहा है रोहित राठौर को तो गुस्सा को नियंत्रण करने कहां तक उचित है और अगर गुस्सा आए ना ऐसी कोई उपाय हो तो हमें बताएं तो मैं दूंगा अगर जब भी आप गुस्सा करते हो या आपको गुस्सा आ रहा हो तो गहरी सांस लें डीप ब्रेथ लें जिससे आपका गुस्सा शांत हो सकता है और अगर आप किसी से चैट हो रही आप उसी को गुस्सा आ रही तो पहले एक गिलास पानी पिया आराम से बैठकर गहरी सांस लें यह दो चीजें आप का गुस्सा कहीं हद तक कम करने में आपका सहायता करेगी तो धन्यवाद मिलते हैं आपसे अगले सवाल में जब तक के लिए टेक केयर

और जवाब सुनें

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:43
गुस्से को निवेदन करना कहां तक उचित है क्या ऐसा कोई उपाय जिसे गुस्सा ही ना आए दोस्तों इसका जो है आप रोक सकते हैं उससे कोई है कि जब भी कोई व्यवस्था करें या फिर पर हावी हुई तो आप उसके ऊपर बिल्कुल भी गुस्सा ना करें कैसे करेंगे देखने के लिए मन को शांत रखना पड़ेगा सही और गलत देखना पड़ेगा आपको उस चीज को लेकर के पढ़ाई करनी पड़ेगी क्योंकि आपको गुस्से को कंट्रोल करती हूं चाहे वह दूसरों की भावनाओं को नजरअंदाज करना हो

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:59
नमस्कार दोस्तों ब्रश नहीं गुस्से को नियंत्रित करना कहां तक उचित है क्या ऐसा कोई उपाय जिससे गुस्सा आएगी ना तो दोस्तों जब आप गुस्से को नियंत्रित करते हैं तो भी बहुत अच्छा कार्य करते हैं गुस्से में कोई नहीं लिया गया निर्णय लिया गया कदम व नुकसानदायक होता है कि गुस्सा ही ना तो दोस्तों आपको अगर थोड़ा मन शांत रहेगा आपका आप को ज्ञान प्राप्त हो जाए आप अच्छे अच्छी पुस्तकें पढ़ें मानसिक रूप से आपका ज्ञान हो जाए तो निश्चित रूप से गुस्सा नहीं आएगा गुस्सा आएगा भी तो आप कुछ हद तक उसे नियंत्रण करने की कोशिश करेंगे मैंने देखा है कई बार लोग रोड पर हल्की सी गाड़ी की टक्कर होने पर हाथापाई पर आ जाते हैं कई बार देखेंगे लोग बड़े शान से किसी को पता भी नहीं चला होगा मामला निपटा लेते हैं तो गुस्सा कहीं वजह से आता है हो सकता है हम कार क्यों आपके आपके पैसे ज्यादा हूं तो आपको दिखावा करने के लिए गुस्सा करता है कि मैं पैसे वाला हूं तो इसलिए गुस्सा है तो कहीं पीछे कर रहे होते कई अपना हर समाज में दबदबा बनाने के लिए गुस्सा करके दिखाते हैं उसका लक्ष्य क्या है किस को वह दिखाना चाहता है वह युवावस्था में सब चीजें ज्यादा होती है जैसे जैसे वह अनुभव लेता रहता है समाज के जीवन के पोस्ट में धीरे-धीरे आप देखेंगे बदलाव भी आने लग जाता है लेकिन दोस्तों गुस्सा करने से कोई फायदा नहीं है गुस्सा करते हैं आप आप हाथापाई पर आते हैं हो सकता है सामने वाली कुच्छ कि आप करने में सक्षम होगी निश्चित रूप से आप की छवि भी आज नहीं तो कभी निश्चित है दोस्तों को से को शांत रखिए मनुष्य ने भगवान ने मनुष्य का जीवन लड़ाई झगड़े के लिए नहीं दिया बल्कि आपको जीवन जीने के लिए दिया है तो बढ़िया भेजिए मस्त रहें धन्यवाद

Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
25197141:29
नमस्कार प्रश्न है कि गुस्से को नियंत्रित करना कहां तक उचित है क्या इसका कोई उपाय है जिससे गुस्सा आए ना देखें शुरु शुरु में तो गुस्से को नियंत्रित भेजिए लेकिन बहुत सारे उपाय जिससे आपको गुस्सा नहीं होने का एक तो सबसे बड़ा उपाय है कि आप जल्दी उठके प्राणायाम कीजिए जॉब कीजिए इसके अलावा मैं जिस चीज पर विश्वास करता हूं वह होता है वह लॉ ऑफ अट्रैक्शन आकर्षण का सिद्धांत जिसमें यह बताया जाता है कि जैसा हम सोचेंगे वैसा ही हमारे साथ होगा तो आप अपने आप को यह कहते जाइए कि हमें बहुत शांत स्वभाव का हूं मैं बिल्कुल कूल हूं मैं बिल्कुल खुश हूं यानी फॉरमेशन करते रहेंगे अपने मन को अपने मस्तिष्क को अपने अवचेतन मस्तिष्क को समझाते रहिए कि मुझे गुस्सा आता ही नहीं है इनको सा शब्द लेना ही नहीं आपको ही कहना है कि मैं शांत स्वभाव हूं मैं खुश हूं मैं प्रसन्न हूं मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कोई मुझे कुछ भी कर इस प्रकार के परमिशन करेंगे बहुत जल्द आप गुस्से को काबू पा लेंगे धन्यवाद
Namaskaar prashn hai ki gusse ko niyantrit karana kahaan tak uchit hai kya isaka koee upaay hai jisase gussa aae na dekhen shuru shuru mein to gusse ko niyantrit bhejie lekin bahut saare upaay jisase aapako gussa nahin hone ka ek to sabase bada upaay hai ki aap jaldee uthake praanaayaam keejie job keejie isake alaava main jis cheej par vishvaas karata hoon vah hota hai vah lo oph atraikshan aakarshan ka siddhaant jisamen yah bataaya jaata hai ki jaisa ham sochenge vaisa hee hamaare saath hoga to aap apane aap ko yah kahate jaie ki hamen bahut shaant svabhaav ka hoon main bilkul kool hoon main bilkul khush hoon yaanee phorameshan karate rahenge apane man ko apane mastishk ko apane avachetan mastishk ko samajhaate rahie ki mujhe gussa aata hee nahin hai inako sa shabd lena hee nahin aapako hee kahana hai ki main shaant svabhaav hoon main khush hoon main prasann hoon mujhe koee phark nahin padata koee mujhe kuchh bhee kar is prakaar ke paramishan karenge bahut jald aap gusse ko kaaboo pa lenge dhanyavaad

Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:52
र क पस ने गुस्से को नियंत्रित करना कहां तक उचित है और क्या ऐसा कोई उपाय है जिससे गुस्सा आए ही ना तो आपको बताना चाहेंगे कि देखे गुस्से को नियंत्रित किया जा सकता है अगर आपकी अपनी इंद्रियों को कंट्रोल है तो निश्चित रूप से आप अपने गुस्से पर काबू पा सकते हैं और अगर आपको बहुत ज्यादा गुस्सा आता है तो कुछ करेंगे जिससे मैं गुस्से वाली बात हो रही हो उस समय वहां से उड़ जाए वो समग्र हो क्या या हाथ में अथवा उसके बाद दोबारा चाचा को ज्वाइन करें तो आप देखेंगे कि जो आपको गुस्सा उस समय आ रहा था बॉक्स जा चुका है वह फेस निकल चुका है तो हमेशा अपने गुस्से पर काबू पाएगी अगर आप गुस्से को काबू में चले जाएंगे तो आप पलट कर बैठेंगे आप खुद अपना नुकसान कर बैठेंगे तो कभी भी मुझसे को अपने ऊपर हावी ना होने दीजिए मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Ra ka pas ne gusse ko niyantrit karana kahaan tak uchit hai aur kya aisa koee upaay hai jisase gussa aae hee na to aapako bataana chaahenge ki dekhe gusse ko niyantrit kiya ja sakata hai agar aapakee apanee indriyon ko kantrol hai to nishchit roop se aap apane gusse par kaaboo pa sakate hain aur agar aapako bahut jyaada gussa aata hai to kuchh karenge jisase main gusse vaalee baat ho rahee ho us samay vahaan se ud jae vo samagr ho kya ya haath mein athava usake baad dobaara chaacha ko jvain karen to aap dekhenge ki jo aapako gussa us samay aa raha tha boks ja chuka hai vah phes nikal chuka hai to hamesha apane gusse par kaaboo paegee agar aap gusse ko kaaboo mein chale jaenge to aap palat kar baithenge aap khud apana nukasaan kar baithenge to kabhee bhee mujhase ko apane oopar haavee na hone deejie main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • गुस्से को नियंत्रित करना कहां तक उचित है क्या ऐसा कोई उपाय है जिससे गुस्सा आए ही ना गुस्से को नियंत्रित करना कहां तक उचित है क्या ऐसा कोई उपाय है जिससे गुस्सा आए ही ना
URL copied to clipboard