#जीवन शैली

bolkar speaker

झूठ बोलने के सकारात्मक परिणाम क्या होते हैं?

Jhooth Bolne Ke Sakaratmak Parinam Kya Hote Hain
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:16
हेलो जी आज आपका सवाल है कि झूठ बोलने के सकारात्मक परिणाम क्या होता है कभी कभी भी किसी के लिए अच्छा और फायदेमंद कर सकते हैं सचिन के हिसाब से देख इंसान बातें करता है अगर आपको पता है कि हां जिसे दो इंसान के बीच लड़ाई झगड़ा हो गया है लड़की की कोई गलती नहीं है वह दोस्त के साथ थोड़ा ज्यादा टाइम स्पेंड कर लिया क्योंकि फ्रेंड को भी इंसान बना नहीं कर पाता है तो ऐसे समय पर अगर लड़की या फिर उसकी वाइफ हुई या फिर अगर गर्लफ्रेंड हुई तो अगर फ्रेंड से पूछ रही है कि यह कहां इतना देर था तो वहां पर घर उसके तो झूठ बोल देते कि नहीं यह काम कर रहा था तो गलत भी नहीं हूं फ्रेंड को भी मना नहीं किया तो इसलिए टाइम स्पेंड नहीं कर रहा था और यहां पर अगर उसके सच बोलने से रिलेशन अगर टूट जाते हैं खराब हो जाते हैं तो ड्यूटी बोलना सही रहता है बहुत बार क्या होता है कि कोई किसी को बहुत बड़ी बीमारी हो जाती है जिसने मतलब बच नाना की बराबर होता है झूठ बोलते कि नहीं ऐसा कुछ नहीं कहा यहां पर आप झूठ बोलते थे पॉजिटिव चीज आप अच्छे अच्छे आप देख सकते आगे चलकर इंसान यह सोचा कि जब डॉक्टर ने बोला है मुझे कि मैं ठीक हो सकता हूं कुछ भी प्रॉब्लम नहीं तो ठीक हो सकता अगर डॉक्टर ही बोल देता है पेशेंट के सामने कि नहीं इतने दिन बचे हैं आपके प्रॉब्लम बहुत ज्यादा बढ़ गया है यह स्टेज में इंसान चला गया इंसान अगर ठीक हो ना चाहे तब भी नहीं हो पाता तो यहां पर भी अगर आप झूठ बोलते थे कि इंसान को आप इंसान की जान बचा रहे हैं और वह इंसान उस बीमारी से निकल सकता है कि झूठ बोलने से तो ऐसे बहुत सारे सिचुएशन के हिसाब से है मतलब अगर आप कभी कदार छोटा-मोटा कर यह सब झूठ बोल देते किसी चीज को ठीक करने के लिए संभालने के लिए किसी की रिलेशन को टूटने से बचने के लिए तो मेरे हिसाब से यह सही हो है क्योंकि एक मतलब कुछ नहीं गलती करके भी अगर सच बोल कर अगर इतने बड़े-बड़े मतलब रिश्ते टूट जा रहे हैं या फिर किसी इंसान और ज्यादा बीमार कोई हो जा रहा है तो सही होता है क्या घर हम छोटा-मोटा झूठ बोलकर सिचुएशन को हैंडल कर ले तो

और जवाब सुनें

bolkar speaker
झूठ बोलने के सकारात्मक परिणाम क्या होते हैं?Jhooth Bolne Ke Sakaratmak Parinam Kya Hote Hain
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
1:02
प्रणाम क्या होता है झूठी झूठ है को सकारात्मक कहते हैं झूठ का कोई भी सर करत हो चाहे किसी किसी को बचाने के लिए झूठ बोला जाए तो सही होता है लेकिन यह झूठ को झूठ ही बोलता है झूठ को बढ़ावा देंगे उतना ही मानसिक रूप से परेशान करने का नहीं होता चाहे तो मान ली थी लेकिन मुझे ऐसा कोई सकारात्मक पहलू नहीं है नहीं आता भी तो मैं आपको बता दूंगी कुछ सुमन नहीं है

bolkar speaker
झूठ बोलने के सकारात्मक परिणाम क्या होते हैं?Jhooth Bolne Ke Sakaratmak Parinam Kya Hote Hain
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:10
के सकारात्मक परिणाम क्या होते हैं तो ज्यादा कीजिए निकल के आएंगे झूठ बोलता है तो दोस्तों उसके साथ जो है वह लाल हो जाते हो कल आने लगता है कि मैं झूठ बोल रहा है उसके ऊपर विश्वास कर सकते हैं कि वह जो है ना तो कल आता है ना उसकी वजह से उसकी कोई गलती हुई हो तो उसका क्या होता है कि समाधान हो जाता है यदि आप झूठ बोलते हैं तो समाधान करने की कोशिश की जाती है उन्नाव की पोल खुल जाए और लोगों के मध्य में आप अपना विश्वास खो देते हैं

bolkar speaker
झूठ बोलने के सकारात्मक परिणाम क्या होते हैं?Jhooth Bolne Ke Sakaratmak Parinam Kya Hote Hain
neelam mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए neelam जी का जवाब
Job
2:49
नमस्ते तुम किसी की आंखो एक सवाल है कि झूठ बोलना कि सकारात्मक परिणाम क्या होती है जो दोस्तों झूठ बोलने की बहुत सारी सकारात्मक परिणाम होते हैं क्योंकि जब अपनी सिर्फ अपनी अपनी खुशी अपने स्वार्थ के लिए बोला जाता है वह गलत होता है कि हम कोई गलत काम करके आए झूठ बोलने की नहीं हम अच्छे हैं या फिर हमारा एक अलग रूप है हम चोरी करते हैं यार किसी के साथ बुरा कर रहे हैं किसी को धोखा दे रहे हैं और वहां झूठ बोलते हैं तो गलत है लेकिन अगर कोई भी झूठ हम अच्छे के लिए बोलते हैं दूसरे के फायदे के लिए होते हैं जो रिश्तो को बचाने के लिए बोलते हैं तो वह झूठ के सकारात्मक परिणाम होते हैं जैसे दोस्तों का सम्मान निधि की अगर दो लोग हैं परिवार में और किसी को कोई परेशानी है और उसे बताया जाए कि आप आपको यह चीज पहले शादी होने वाली है आप बीमार हो आपको यह रोग हो गया है दीदी सोमवार को इंसान टेंशन में इंसान को और ज्यादा प्रॉब्लम हो सकती है उसके लिए उसको कुछ नहीं है और उनका गुप्त रोग इलाज किया जाए या फिर उसको समझाया जाए थोड़ा बताया जाए कि खत्म हो जाएगी काफी दिन हो तो वह चीज होता है क्योंकि इंसान के अंदर अपने आप को जिंदा रखने की अपने आप को ठीक करने की जरूरत से नहीं बताती है वह भी हमारे बॉडी को ज्यादा एनर्जी मिलती है और वह ठीक होना चाहता है तो ठीक होता है उसके सकारात्मक परिणाम आते हैं उसके विपरीत अगर इंसान को कैंसर है और उसमें देखने मानो तो उसके अंदर से जूते जिंदगी होने की इच्छा खत्म हो जाती हुई अपने आप को सही करने की कोशिश नहीं करता है कोई दिल मेरा क्या उसके बाद इनका फ्रिज के अंदर नहीं ड्यूटी घट जाती है और उसका परिणाम होता है कि वह अपने अंदर से जिले की जो उम्मीद होती है वह खत्म हो जाती है तो उसका बॉडी भी हो जाता है कि आज मुझे वर्क नहीं करना है उसने बताया कि उसके सकारात्मक परिणाम किसी भी रिश्ते को बचाने के लिए फैमिली को एक करने के लिए दोस्तों के बीच की दूरी ना हो उसके लिए पति पत्नी के बीच बोला जाए तो उसके सकारात्मक परिणाम होते होते हैं अपने लिए सिखाने के लिए बोला था दोनों के बीच की तरह को मिटाने के लिए कोई झूठ बोला जाता है तो उसकी पत्नी का रात वाला
Namaste tum kisee kee aankho ek savaal hai ki jhooth bolana ki sakaaraatmak parinaam kya hotee hai jo doston jhooth bolane kee bahut saaree sakaaraatmak parinaam hote hain kyonki jab apanee sirph apanee apanee khushee apane svaarth ke lie bola jaata hai vah galat hota hai ki ham koee galat kaam karake aae jhooth bolane kee nahin ham achchhe hain ya phir hamaara ek alag roop hai ham choree karate hain yaar kisee ke saath bura kar rahe hain kisee ko dhokha de rahe hain aur vahaan jhooth bolate hain to galat hai lekin agar koee bhee jhooth ham achchhe ke lie bolate hain doosare ke phaayade ke lie hote hain jo rishto ko bachaane ke lie bolate hain to vah jhooth ke sakaaraatmak parinaam hote hain jaise doston ka sammaan nidhi kee agar do log hain parivaar mein aur kisee ko koee pareshaanee hai aur use bataaya jae ki aap aapako yah cheej pahale shaadee hone vaalee hai aap beemaar ho aapako yah rog ho gaya hai deedee somavaar ko insaan tenshan mein insaan ko aur jyaada problam ho sakatee hai usake lie usako kuchh nahin hai aur unaka gupt rog ilaaj kiya jae ya phir usako samajhaaya jae thoda bataaya jae ki khatm ho jaegee kaaphee din ho to vah cheej hota hai kyonki insaan ke andar apane aap ko jinda rakhane kee apane aap ko theek karane kee jaroorat se nahin bataatee hai vah bhee hamaare bodee ko jyaada enarjee milatee hai aur vah theek hona chaahata hai to theek hota hai usake sakaaraatmak parinaam aate hain usake vipareet agar insaan ko kainsar hai aur usamen dekhane maano to usake andar se joote jindagee hone kee ichchha khatm ho jaatee huee apane aap ko sahee karane kee koshish nahin karata hai koee dil mera kya usake baad inaka phrij ke andar nahin dyootee ghat jaatee hai aur usaka parinaam hota hai ki vah apane andar se jile kee jo ummeed hotee hai vah khatm ho jaatee hai to usaka bodee bhee ho jaata hai ki aaj mujhe vark nahin karana hai usane bataaya ki usake sakaaraatmak parinaam kisee bhee rishte ko bachaane ke lie phaimilee ko ek karane ke lie doston ke beech kee dooree na ho usake lie pati patnee ke beech bola jae to usake sakaaraatmak parinaam hote hote hain apane lie sikhaane ke lie bola tha donon ke beech kee tarah ko mitaane ke lie koee jhooth bola jaata hai to usakee patnee ka raat vaala

bolkar speaker
झूठ बोलने के सकारात्मक परिणाम क्या होते हैं?Jhooth Bolne Ke Sakaratmak Parinam Kya Hote Hain
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:27
सारा कपासन झूठ बोलने के सकारात्मक परिणाम क्या होते हैं तो आपको बता देंगे कि अगर आप अपने जीवन में सैनिक सुख प्राप्त करना चाहते हैं तो आप यहां पर झूठ का सहारा ले सकते हैं लेकिन अगर आप अपने जीवन में हमेशा के लिए खुशी पाना चाहते हैं तो फिर झूठ क्यों है आपको सच ही बोलना चाहिए और सच में ही आपका जोक्स संतुष्टि का भाव आपके अंदर आएगा उससे ही आपको खुशियां मिलेंगी मैं शुभकामनाएं आपके साथ है धन्यवाद
Saara kapaasan jhooth bolane ke sakaaraatmak parinaam kya hote hain to aapako bata denge ki agar aap apane jeevan mein sainik sukh praapt karana chaahate hain to aap yahaan par jhooth ka sahaara le sakate hain lekin agar aap apane jeevan mein hamesha ke lie khushee paana chaahate hain to phir jhooth kyon hai aapako sach hee bolana chaahie aur sach mein hee aapaka joks santushti ka bhaav aapake andar aaega usase hee aapako khushiyaan milengee main shubhakaamanaen aapake saath hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • झूठ बोलने के सकारात्मक परिणाम क्या होते हैं झूठ बोलने के सकारात्मक परिणाम
URL copied to clipboard