#मनोरंजन

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:54
हमने आपको जीवन के बारे में सोचने या किसी भी विषय पर सोचने के लिए मजबूर किया है दोस्तों मेरे हिसाब से जो सबसे ज्यादा सोचने के लिए मजबूर किया है जो फिल्म की सुई और धागा कभी मुजफ्फर व्रत मेरे मूवी अभिषेक रही है और इसमें जिस तरीके से एक दंपति का जो जीवन बताया गया है शुरुआत में किस तौर पर वह जीते हैं कितनी गरीबी रहती है क्या हालत खराब रहती होंगी फिर धीरे-धीरे जिस तरीके से वह जो है अवार्ड जीते हैं फैशन डिजाइनर कोट करोगे तो दोस्तों इस चीज को मैं अक्सर लेकर भी चलता हूं तो इस फिल्म का है मेरे जीवन पर पड़ता है और इस विषय को लेकर के अंदर महत्व

और जवाब सुनें

Rohit Rathore Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Student
1:38
12 14 चक्का मेरी बोलकर ए प्रोफाइल पर थोड़ा सुन रहा है ना तू तो मैं अपने व्यूप्वाइंट से मुझे तो फिर बहुत ही बढ़िया लगे आपके लिए तो हमेशा से बहुत ही आकर्षित रहा हूं क्योंकि मुझे कई फिल्में अच्छे लगते थे एक मेरी दो फिल्में जो जीवन में मुझे सीखने को मिला और मुझे कुछ सोचने पर मजबूर किया पहले आमिर खान की 3 इडियट्स में हमें एक बेटी का जो हाल होता है वह पता चलेगा जीवन का एक साथ बदल गए क्या भाई जीवन में हमेशा खुश रहो यार मतलब जिंदगी एक ही बार मिलती है उसके लाइफ को जीना सीखो हर पल मतलब घुट घुट के जी ने बिल्कुल जादू सोचना है पल कुछ अपने लिए करो कुछ नया सोचते रहो बस कुछ दूसरी है तारे जमीन पर जो मूवी आमिर खान की है और उसमें मुझे वह चीज कि मुझे कुछ सीख नहीं है कि नहीं अगर बचपन से बच्चे को समझो उसी कर देंगे अगर हम उसे खोजते रहेगी तो कभी नहीं सकेगा कि आप को समझना और भी कंपेरिजन एजेंट मोटिवेशन अगर आप बच्चों का क्या करते हैं तो उसको मोटिवेट नहीं होता बल्कि वह विकास होता है वह आपको प्यार करना बंद नहीं करता वह खुद को प्यार करना बंद कर देता है मुझे खुद से नफरत हो जाती है अगर हम बचेंगे उसमें कोई सुधार नहीं हुआ आपको उसके साथ देना होगा आपको कमजोरियों को समझना होगा और किस चीज में अच्छा है आपको से सपोर्ट करना होगा क्योंकि आजकल मामा भी नहीं सकते बस सिर्फ एक चूहा फसाने चाहते अपने बच्चों की नई चीजों को मिले तो यह कर ले तो वह मेरे पर छोड़ कि कल टेस्ट है उसका उसका उसका सपोर्ट करना चाहिए तो मुझे ज्यादा दीजिए मिलते हैं आपसे अगले सवाल में जब तक के लिए थे क्या

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:48
हेलो एवरीवन तू आज आपका सवाल है कि किस सन में आपको जीवन के बारे में सोचने या किसी भी विषय पर सोचने के लिए मजबूर किया है तो देख ली मैंने अभी-अभी देखा है मैंने अभी अभी कुछ दिन पहले मैंने जो मतलब बहुत बहुत ज्यादा अच्छा ऐसा देखने से लगता है कि नहीं मूवीस में अगर कोई डायलॉग नहीं बोला जा रहा है कोई भी डायलॉग नहीं है कोई भी सॉन्ग नहीं है तो मुझे अच्छा नहीं होगा कुछ भी चीज नहीं बोला गया है उसमें कोई भी डायलॉग नहीं है बट बहुत बहुत ज्यादा अच्छा मूवीस में मतलब बिना साउंड के इंसान कैसे रहेगा कैसे कर सकता है उसमें वह दिखाइएगा इंपॉर्टेंस ऑफ साउंड बिना आवाज के हम इंसान से कमी ने की थी नहीं कर सकते बात ही नहीं कर सकते कैसे हर एक चीज कितना ज्यादा प्रॉब्लम हो जाएगा मतलब अगर हमें पता चल अभी मैं कुछ समय के लिए कुछ मिनट के लिए नहीं बोलना आ जाए मन नहीं बोलना पड़े नहीं बोला जाए सब चीज बंद कर दिया जाएगा तो कैसे हर एक चीज इधर से उधर हो जाएगा उसमें यह दिखाया गया बहुत बहुत ज्यादा अच्छा मूवी है मुझे दोस्त मिला पर्सनली बहुत ज्यादा अच्छा लगा तो अगर आप लोग चाहे तो आप लोग भी देख सकते हैं जिसमें सामने तहसील में आवाज की बात है इसलिए बार-बार कर रही क्योंकि हम लोग इतना बातें करते हैं कि हमें पता ही नहीं होता क्या हो गया बात तो करें बात का क्या महत्व है लेकिन उसने बताया कि इंसान बिना बात की कैसे अपने सारे काम करता है कैसे बिन आपके बिना कैसे हर एक काम कितना मुश्किल हो जाता है अगर साउंड ना हो इंसान को बात करने के लिए अगर नहीं दिया जाए तो कैसे हर एक चीज कैसे इतना पोस्ट हो जाता है तो वह सच में दिखाएंगे

Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
1:21
नमस्कार कृष्णा की किस फिल्म ने आपको जीवन के बारे में सोचने किसी विषय पर सोचने के लिए मजबूर किया फिल्म तीन चीजों के पीछे भागते हुए जिंदगी पैसे नहीं है और वह बहुत अच्छी लगी और फरहान होता है लेकिन मैं खुश रहूंगा तो हम उस फिल्म से सोचना शुरू किया कि हमें मैं वह काम करूंगा कि उसके मुझे आनंद आता है मुझे खुशी मिलती है और मैंने मैंने असफलता ही बहुत देखे लेकिन अब मुझे लगता है कि मेरे अंदर जो खुशी मिलती है वह लोगों को ज्ञान देने में लोगों को शिक्षा देने में लोगों के जीवन में इंप्रूवमेंट लाने में मैंने यह देखना है हमें यूट्यूब पर बोलकर भी सोशल मीडिया पर एक्टिव और मैं अभी काम कर रहा हूं जिससे मुझे खुशी मिलती है तो आप मुझे बता सकते कमेंट करके कि मैं इस प्रकार से जो जवाब देता हूं उनके बारे में क्या खासियत है क्या कमी है क्या मुझे इंप्रूवमेंट करना चाहिए और अगर कुछ अच्छा लगा हो तो मेरा हौसला बढ़ा सकते हैं कमेंट करके
Namaskaar krshna kee kis philm ne aapako jeevan ke baare mein sochane kisee vishay par sochane ke lie majaboor kiya philm teen cheejon ke peechhe bhaagate hue jindagee paise nahin hai aur vah bahut achchhee lagee aur pharahaan hota hai lekin main khush rahoonga to ham us philm se sochana shuroo kiya ki hamen main vah kaam karoonga ki usake mujhe aanand aata hai mujhe khushee milatee hai aur mainne mainne asaphalata hee bahut dekhe lekin ab mujhe lagata hai ki mere andar jo khushee milatee hai vah logon ko gyaan dene mein logon ko shiksha dene mein logon ke jeevan mein improovament laane mein mainne yah dekhana hai hamen yootyoob par bolakar bhee soshal meediya par ektiv aur main abhee kaam kar raha hoon jisase mujhe khushee milatee hai to aap mujhe bata sakate kament karake ki main is prakaar se jo javaab deta hoon unake baare mein kya khaasiyat hai kya kamee hai kya mujhe improovament karana chaahie aur agar kuchh achchha laga ho to mera hausala badha sakate hain kament karake

Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
1:20
विकी मैप तलाश फिल्म की बात कर रहा हूं जो अक्सर एक एवरेज अपलॉक लिंग किस श्रेणी में आता है उस फिल्म ने मुझे सोचने के लिए मजबूर किया जाता चली नहीं मुस्लिम लिखी उसका जो सब्जेक्ट दमोह दिल को छू गया मतलब कुछ घटनाएं होती है लाइफ में ऐसी जिससे हमारा कोई कंट्रोल नहीं होता है लेकिन फिर भी हमेशा हम पास्ट में सोचते रहते हैं कि शायद हमारी गलती की वजह से ऐसा हो गया या फिर अगर मैंने ऐसा किया होता तो शायद यह नहीं होता हमेशा पास में जी रहे होते खुद को कोसते उस गलती के लिए तो कुछ चीजें ऐसी होती है जिस पर हमारा बस नहीं होता तो ऐसी सिचुएशन में खुद को गिल्टी समझना खुद को गीत कूदने की पालना यह गलत बात है जिसे तलाश फिल्म देने आया था कि आमिर खान अपने बच्चे को खोने के बाद यह डिलीट मार देता है कि उसकी गलती से बच्चे की डेथ हुई और उसका जो वाइफ के साथ है तो रिश्ता खराब हो जाता है तो कुछ चीजों पर हम लोगों का बस बिल्कुल भी नहीं सकता तो लाइफ में आगे बढ़ना उसके लिए बहुत जरूरी होता कुछ चीजों को बुलाकर
Vikee maip talaash philm kee baat kar raha hoon jo aksar ek evarej apalok ling kis shrenee mein aata hai us philm ne mujhe sochane ke lie majaboor kiya jaata chalee nahin muslim likhee usaka jo sabjekt damoh dil ko chhoo gaya matalab kuchh ghatanaen hotee hai laiph mein aisee jisase hamaara koee kantrol nahin hota hai lekin phir bhee hamesha ham paast mein sochate rahate hain ki shaayad hamaaree galatee kee vajah se aisa ho gaya ya phir agar mainne aisa kiya hota to shaayad yah nahin hota hamesha paas mein jee rahe hote khud ko kosate us galatee ke lie to kuchh cheejen aisee hotee hai jis par hamaara bas nahin hota to aisee sichueshan mein khud ko giltee samajhana khud ko geet koodane kee paalana yah galat baat hai jise talaash philm dene aaya tha ki aamir khaan apane bachche ko khone ke baad yah dileet maar deta hai ki usakee galatee se bachche kee deth huee aur usaka jo vaiph ke saath hai to rishta kharaab ho jaata hai to kuchh cheejon par ham logon ka bas bilkul bhee nahin sakata to laiph mein aage badhana usake lie bahut jarooree hota kuchh cheejon ko bulaakar

Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:53
र क कृष्ण किस फिल्म ने आपको जीवन के बारे में सोचने या किसी भी विषय पर सोचने के लिए मजबूर किया है तो आपको बताना देखिए अगर बात की जाए ऋषिकेश मुखर्जी जी की तो उन्होंने जो सिनेमा दिया है वह फिल्में सही में ऐसी है कि जिसमें आप सोच में पड़ जाते हैं कि क्या वाकई इस तरह की सच्चाई या हैं और अगर आज के समय में बात की जाए तो कई सारे ऐसे लोग हैं जो कि तरीके मूवीस बनाते हैं जो कि समाज के ऐसी चीजों से जुड़ी होती हैं जिनको लोग डायरेक्टरी स्वीकार नहीं करना चाहते और अगर किसी से कटकर मूवी की बात की जाए तो तारे जमीन पर जो मूवी आई थी वह भी मेरे दिल के काफी करीब है आपको कौन सी मूवी सबसे ज्यादा पसंद आई कौन से अपने दिल के करीब आके मिल सकता में जरूर बताएं मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Ra ka krshn kis philm ne aapako jeevan ke baare mein sochane ya kisee bhee vishay par sochane ke lie majaboor kiya hai to aapako bataana dekhie agar baat kee jae rshikesh mukharjee jee kee to unhonne jo sinema diya hai vah philmen sahee mein aisee hai ki jisamen aap soch mein pad jaate hain ki kya vaakee is tarah kee sachchaee ya hain aur agar aaj ke samay mein baat kee jae to kaee saare aise log hain jo ki tareeke moovees banaate hain jo ki samaaj ke aisee cheejon se judee hotee hain jinako log daayarektaree sveekaar nahin karana chaahate aur agar kisee se katakar moovee kee baat kee jae to taare jameen par jo moovee aaee thee vah bhee mere dil ke kaaphee kareeb hai aapako kaun see moovee sabase jyaada pasand aaee kaun se apane dil ke kareeb aake mil sakata mein jaroor bataen main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसी फिल्म ने आपको कुछ करने की प्रेरणा दी हो ? ऐसी कौन सी फिल्म है जो आप अपने परिवार के साथ बैठ कर देख सकते हो ?
URL copied to clipboard