#जीवन शैली

Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:50
गुड मॉर्निंग बिट्टी द्वारा छोटी-छोटी बातों की चिंता करना और शाम को अस्थिर कर लेना क्या मानसिक रूप की शुरुआत हुई आप कह रहे हैं मानसिक स्वास्थ्य छोटी-छोटी बातों की चिंता नहीं करनी चाहिए और मानसिक अस्वस्थता का प्रतीक है एक शाम को ऐसे नहीं करना चाहिए हां बिल्कुल यह मानसिक रूप से अस्वस्थ होने का संकेत है और इससे बचने का उपाय यही है कि आप मतलब उठते ही व्यस्त कर ली थी और आज फॉर्मेशन कीजिए यानी सुबह उठकर और अपने आप को कहिए कि मैं स्वस्थ हूं मैं खुश हूं मैं प्रसन्न हूं बिल्कुल पुस्तक आनंद तू ऐसा अपने आप को बोलेंगे आपको छोटी मोटी बातों की चिंता नहीं होगी खुद आपका मन स्थिर नहीं है इस दिल नहीं होगा और अपने आप को मजबूत पाएंगे

और जवाब सुनें

Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
4:12
हेलो फ्रेंड्स नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है एक व्यक्ति द्वारा छोटी छोटी सी बातों की चिंता करना और स्वयं को अस्थिर कर लेना या मानसिक रूप की शुरुआत है यह एक मानसिक रूप से बात नहीं कर सकते शुरुआत जरूर कर सकते हैं छोटी-छोटी बातों को लेकर चिंता करने लगेंगे यह चिंता धीरे-धीरे आप की बढ़ती जाएगी और आप निरंतर डिप्रेशन के शिकार जो है वह होते जाएंगे इसके लिए आपको करना क्या है कि लाइफ में बड़ी से बड़ी चिंता है आपको डिप्रेशन में नहीं जाना है लेकिन फ्रेंड सबसे पहले तो आप की मांग में गीत चाहिए जहान में बैठा लेनी है कि हमें चिंता नहीं करनी है क्योंकि चिंता करने से फ्रेंड वह चीज नहीं हो जाती जो चीज हम पाना चाहते हैं जो चीज हम करना चाहते हैं उस कार्य के प्रति आप प्रयत्नशील आप उस कार्य को करने के लिए अपनी पूरी जी जान लगा दीजिए जितनी आपकी करती थी है जो आपकी क्षमता है वह पूरी लगा दीजिए वह कार्य हर हाल में होगा और आप यह सोचते हैं कि मैं कुछ ना करूं लेकिन मेरा कार्य हो जाए यह फ्रेंड असंभव वाली बात है आप 24 घंटे जो है टेंशन में डूबे रहे चिंता करते हैं कि यह काम कैसे होगा यह काम कैसे होगा उस काम को करने के लिए आप आगे ना आए तो काम होगा फ्रेंड कभी नहीं होगा क्योंकि वह काम करना तो आपको ही है यह तो है नहीं कि कोई दूसरा के करेगा करना आपको तो टेंशन लेने से वह काम हो नहीं जाएगा उस काम के प्रति जो है आप ना लगाओ रखिए और भगवान पर विश्वास रखिए तब देखिए आपका जो कार्य है वह बहुत ही आसानी से होगा और बहुत ही सफलता पूर्ण ढंग से होगा क्योंकि धीरे-धीरे छोटी-छोटी चीजें ही जो है एक बड़ी बीमारियों का जो है वह संकेत देती हैं जैसे कि अगर आप टेंशन लेंगे तो सबसे पहली बीमारी जो आपको पकड़े कि वह है डायबिटीज शुगर जिसे कहते हैं और यह आप सभी जानते हैं कि शुगर ही बीमारियों का घर होता है अगर शुगर आपकी शरीर में हो गया तो तमाम प्रकार की जो बीमारियां होती है वह आपको भेज देंगे क्योंकि यह आपके लिवर को डैमेज कर देता है और आपने एक कहावत सुनी होगी संघर्ष ही जीवन है लाइफ में अगर संघर्ष नहीं आया कोई कोई रिस्क नहीं आई कोई सोचने वाली बात नहीं आई तो वह लाइक ही नहीं फ्रेंड लाइफ में जो संघर्ष आते फ्रेंड असल में मैं आपको एक बात बताना चाहता हूं फ्रेंड तो यह सुख और दुख आते हैं लाइफ में जो यह पत्थर आते हैं हमारे यही हमारे हमारे अंदर की व्यक्तित्व को यही हम हमें जो है निखारने का काम करते हैं जैसे कि आप मूर्ति वाले को देखा होगा कोई मूर्ति जब बनती है तो उसे चीनी और हथौड़ी से प्रहार किया जाता है उसे निखार आ जाता है उसे पत्थर से मूर्ति का रूप दिया जाता है समस्याएं भी हमारी लाइफ में ठीक उसी प्रकार से आती हैं जिस प्रकार से कोई कलाकार जो है चीनी और हथौड़ी के सहारे किसी पत्थर को जो है मूर्ति एक के आकार में बदल देता है ठीक समस्याएं भी हमारी जो है उसी ऊपर आती है जो हमारे अंदर के व्यक्तित्व को जो है निखारती है यह हमारी लाइफ में जो राजन साथी के छोटे-छोटे हमारी ना पत्थर है और यही जो पत्थर है यही जब हम उठाते हैं इसे हटाने का प्रयास करते हैं तो हम दुखी हो जाते हैं हमें दुखी नहीं होना चाहिए इस पत्थर को आप हटाइए प्रयास में रख रहे कि आपका पत्थर आपके जीवन का दुख कैसे हटे गा आप देखेंगे फ्रेंड की आपको इसे हटाने में एक नई सोच नई ऊर्जा का विकास होगा और आप में एक नई शक्ति का जो है वह निखार आएगा तो आशा है फ्रेंड की आप सभी को यह जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद

Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:29
आप समय लेगी कृति के द्वारा छोटी छोटी सी बातों की चिंता करना शाम को अस्थिर कर लेना क्या मासिक रूप की शुरुआत है लेकिन आप ले सकते हैं इसको ऐसा क्योंकि अगर आप किसी बात की चिंता करने लगेंगे परेशान होने लगेंगे फैसला मिलाप कम पड़ने लगेगा और 78% लोग डिप्रेशन के शिकार हो जाते हैं इसलिए बहुत जरूरी है खुदकुशी रखना जैसे कि आप मैथिली टेबल रह पाए हेल्थी रह पाए आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • मानसिक रोग का अर्थ स्पष्ट कीजिए, मानसिक रोग कितने प्रकार के होते हैं, क्यों होते है मानसिक रोग
URL copied to clipboard