#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker

क्या प्यार सूरत देखकर करना चाहिए या फिर सीरत देखकर?

Kya Pyar Surat Dekhkar Karna Chayia Ya Fir Seerat Dekhkar
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:42
हेलो शिवांशु आज आपका सवाल है कि क्या प्यार सूरत देखकर करना चाहिए या फिर सीरत देखकर अगर मैं सच बोलूं मतलब इंग्लिश में अगर जो है सच अगर वह बोलो पहली बार जब इंसान अगर किसी को देखता है तो आपको कैसा है अंदर से कैसा नहीं है झलक में तो आपने ना मतलब बता कर पाएंगे किसी के अंदर इंसानियत है अगर किसी के अंदर यह क्वालिटीज है कि वह किसी की मदद करता है 1 सेकंड में तो जरूरी नहीं कि इंसान मदद किसी का कर रहा है या फिर उसके अंदर क्वालिटी जब आप उस वक्त उस इंसान को देख रहे हैं किसी को देखकर मतलब किसी के साथ होते अगर कोई इंसान ऐसा दिया कि हां कोई इंसान कुछ मदद कर रहा है जो बहुत ज्यादा दिल को छू लेता है या फिर कोई इंसान ऐसा कुछ काम कर रहा है जो मतलब बहुत ज्यादा अच्छा लगता हम लोगों से अलग हम सोचते भी नहीं है और जिंदगी बहुत ही अच्छा अंदर मतलब जाती है आप यार आगे कैसे बढ़े इस भूतनी कैसे चलेंगे सब की बात आती है तब सीरत का होना मतलब आप कैसे अंदर से है यह बहुत जरूरी होता तो हो गया वह चेहरा बहुत अच्छा दिख रहा था बातचीत कर रहे बात नहीं समझ नहीं है और किसी भी तरह का जैसे आप इंसान है जो आप से समझाना चाहते हैं आपके लिए कोई गलती नहीं है बताना चाहते तब भी वह इंसान नहीं समझ रहा उनका नहीं तुमको व्यक्ति तो बिल्कुल भी अलग है किसी से मतलब बहुत ही खराब तरीके से बात करना सब इंसान को डिस रेस्पेक्ट करना यहां पर रिलेशन आपके टूट जाएंगे देखकर उस इंसान के साथ नहीं रहता पर आप दोनों के नाते आप दोनों के बीच जो भी होता है कि हां मैं इसे समझा ना तो वह चीज मुझे वह समझा रहा अंडरस्टैंडिंग की बात आती है अभी यहां पर आपके कौन कितना अच्छा दिख रहा है अभी हां पर यह बात नहीं आती है तू ही पूरी तरह इंसान पहली झलक में कुछ ऐसी हरकतें जिसे देखकर 88 होता है लेकिन जब रहने की बात आती है जिंदगी जीने की बात आती है साथ उस इंसान को ले जाने की बात आती है कि अब हम यह जिंदगी और इस रिलेशन को आगे ले जाना चाहते तब इंसान कैसा है उसका व्यक्तित्व कैसा पूरी तरह से चीज पर निर्भर करता है

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या प्यार सूरत देखकर करना चाहिए या फिर सीरत देखकर?Kya Pyar Surat Dekhkar Karna Chayia Ya Fir Seerat Dekhkar
charu seth Bolkar App
Top Speaker,Level 88
सुनिए charu जी का जवाब
Think and speak
2:40
अपने खुश नहीं पूछा है क्या प्यार सूरत देखकर करना चाहिए या फिर थोड़ा ठीक है मैं आपको बताना चाहूंगा कि प्यार जो है कई तरीके का होता है एक होता है कि पहली नजर वाला प्यार तो पहली नजर में तो आप इंसान की सूरत ही देख लेना अगर आपको उसकी सूरत देखकर प्यार हो रहा है अगर आपको उसकी आंखें देख कर प्यार हो रहा है अगर आप उसकी चेहरा देखकर प्यार हो रहा है या आपको उसके लिए ट्रैक्टर प्यार है जो भी आप को उसके अंदर अट्रैक्शन वाला कोई भी चीज और देखकर अगर आप प्यार महसूस कर रहे हैं तो सब पहली नजर वाला प्यार कहते हैं तो उसमें आप तो कहां से देख पाएंगे तभी भी नहीं देख पाएंगे कहते हैं प्यार होना जिसे हम लोग कहते हैं सच्चा प्यार हो सकता है हमसे इनफैचुएशन भी बोल सकते हैं वह लवेशिप लव जब हम किसी से करने लग जाते हैं तो उसके लिए हमें उसका बार बार उससे बात करना या उसके बारे में जानना है उसके हर हर तरीके से उसके बारे में पहचान रखता क्योंकि जब हम किसी से देखें अट्रेक्ट होते हैं तो उससे उसका आजकल मोबाइल का ज्यादा यूज होने लगा है कि वह आपकी देर परत दर परत हर चीज को खोल देता तो आप अगर को आप उसका मोबाइल नंबर ले लेते हैं यह सोच कर कि मुझे इससे जो है दोस्ती आगे बढ़ानी है या मैं इसको और आगे जानना चाहता हूं तो यही प्यार की पहली सीढी होती है क्योंकि आप जब उससे बात करने लग जाते हैं तो अचानक से मान लीजिए 4 दिन बाद 5 दिन बाद उसका मैसेज आना बंद हो जाएगा कॉलोनी बंद हो जाए आपके अंदर बेचैनी आप महसूस कर देना समझ लीजिए वही प्यार है जब आप उससे बात करें बिना रह ना पाए जब आप उसे यहां देख देखने वाली बात आई नहीं रही यहां सिर्फ दो लोग आपस में बातें करें वह दूसरे को देख नहीं पा रहा है सिर्फ आपस में एक दूसरे से बात कर रहे हैं एक दूसरे से लेट कर रहे हैं एक दूसरे को समझ रहे हैं तो इसे कहते हैं सीरियल जान पाना जब आप उसकी सीरत से प्यार करने लग जाते हैं तो उसके दूसरे तरीके का प्यार करते हैं प्यार कई तरीके का होता है अगर हम यह तय है कि प्यार सूरत रोते हो सकता है क्या होता है तो ऐसा भी नहीं कह सकते हैं लोग अक्सर लड़कियां और लड़के यह चाहते हैं कि हम जिससे प्यार करें वह देखने में अच्छा हैंडसम गे ब्यूटीफुल लड़की होनी चाहिए लेकिन मैंने और भी बहुत सारे अच्छी कंडीशन से क्यों है यहां पर लड़की बिल्कुल अच्छी नहीं लगती होगी उसका रंग भी साफ नहीं है लेकिन लड़का उससे बहुत मोहब्बत करता है उसे कहते हैं असली रखवाला प्यार तो यह आपके ऊपर डिपेंड करता है कि आपको कौन सा प्यार होता है और वाकई में वह प्यार होता है बल्कि सिर्फ अट्रैक्शन होता है क्योंकि प्यार भी कई तरीके की परिभाषाएं लेकर आता है और आप उसको प्यार को अपनी लाइफ में आगे कितना ज्यादा बढ़ाते हैं या रोक देते हैं या पर डिपेंड करता है थैंक्स

bolkar speaker
क्या प्यार सूरत देखकर करना चाहिए या फिर सीरत देखकर?Kya Pyar Surat Dekhkar Karna Chayia Ya Fir Seerat Dekhkar
Md Mahmud Alam Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Md जी का जवाब
स्टूडेंट विद्यार्थी
0:46
आज का सवाल है क्या प्यार सूरत देखकर करनी चाहिए या फिर सीधा तरीका यह बात तो सही बात है कि इंसान आज के जमाने इंसान सीधा साधा इंसान प्यार का धोखा बहुत सारा प्यार का मतलब बात होगी प्यार करने का मतलब होता है कि एक दूसरे के प्रति लगाव एक दूसरे के जीने मरने की कसमें होनी चाहिए और कभी भी उस सुख दुख में वह उसका साथ उसका साथी इसी को तो प्यार कहते हैं हरमन उसके बिछड़ने का याद उसके बिछड़ने का यही प्यार होता है इसलिए हमें सूरत देखा नहीं सीरत उसके अंदर क्या है उसके अंदर कुछ ऐसे इंसान होते हैं कि प्यार के नाम पर बहुत सारे ढक लेते हैं तो ऐसा ही उसके प्यार नहीं बल्कि उसके साथ दे कहीं प्यार करना बहुत जरूरी धन्यवाद

bolkar speaker
क्या प्यार सूरत देखकर करना चाहिए या फिर सीरत देखकर?Kya Pyar Surat Dekhkar Karna Chayia Ya Fir Seerat Dekhkar
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:45
नमस्कार प्रश्न है कि क्या प्यार सूरत देखकर करना चाहिए या फिर सिर्फ देख कर देखिए उतनी महत्वपूर्ण नहीं है प्यार में लेकिन सीरत होनी चाहिए गुण होने चाहिए जिस व्यक्ति से आप प्यार करें वह भी आपसे प्यार करना चाहिए जिस व्यक्ति से आप प्यार कर रहे हैं उसके प्रति आपका सब हमेशा के लिए सम्मान होना चाहिए या नहीं तो सामंजस्य होना चाहिए सूरत इतनी बेटा नहीं करती है अगर मैंने बहुत बार देखा है कि लोग सूरत यानी प्यार में सूरत नहीं देखते हैं और वास्तव में देखी भी नहीं चाहिए क्योंकि प्यार है वह तो एक आत्मा से होता है एक मन से होता है दो दिलों का मेल है जिसने सूरत में तो नहीं करते आप सूरत नहीं सिर्फ देखिए धन्यवाद

bolkar speaker
क्या प्यार सूरत देखकर करना चाहिए या फिर सीरत देखकर?Kya Pyar Surat Dekhkar Karna Chayia Ya Fir Seerat Dekhkar
anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
3:45
नमस्कार दोस्तों बोलकर आपने स्वागत का सवाल है कि क्या सूरत तो देख कर प्यार करना चाहिए या सूरत देखकर तो दो तो मैं यह कहना चाहता हूं कि कभी भी प्यार करो तो उसको चेहरे को देखकर नहीं बल्कि उसकी सूरत को देखकर क्योंकि रंग रूप में कुछ भी नहीं रखा जहां भगवान जो कलर दिया हां या जो हमारी जन्मदाता माने जैसा भी जन्म दिया हम उसी तरह के रहेंगे रूप हैं या काले हैं या बुरे हैं यह तो हमारी किस्मत का किस्मत के कारण था लेकिन हमें जहां तक संभव है तो हमें प्यार में कभी भी खूबसूरत लड़की को नहीं देखना चाहिए मतलब खूबसूरत लड़की से प्यार नहीं करना चाहिए और जहां तक संभव हो तो हमें किसी भी किसी भी लड़की को प्यार करें तो उस के नक्शे नक्शे बोलचाल रीति रिवाज उस आधार पर मुझसे प्यार करना चाहिए ना कि उसकी आमदनी से या उनके घर में कितने पैसे आते हैं या उनके घर में कितनी कमाई है इस आधार पर कभी भी प्यार नहीं करना चाहिए प्यार करने के लिए सच्चा दिल होना चाहिए और प्यार को निभाने में दिल मजबूर होना चाहिए और जहां तक संभव हो तो प्यार एक ऐसा होना चाहिए जो दुनिया भी देखें और लोगों को भी पता चले कि सच्चा प्यार क्या होता है लेकिन जहां तक संभव हो तो हमें रूप को देखकर कभी भी प्यार नहीं करना चाहिए जो किस्मत में लिखा है सब लड़की काली हो या गोरी हो चाहे गोरी हो उसमें किसी भी प्रकार का प्रभाव नहीं पड़ना चाहिए हमें जो भी लड़की मिलती है हम उसे प्यार कर लेना चाहिए अगर नहीं मिलती है तो कोई बात नहीं जहां तक संभव हो प्यार मिलता है तो कर लीजिए नेता तो अपने अपने काम पर लग जाइए कोई अपना बिजनेस कीजिए या कोई का व्यवसाय करें या कोई अपना कार्य करें लेकिन कभी किसी भी लड़की को प्यार के चक्कर में धोखा कभी भी नहीं देना चाहिए क्योंकि वह दो इंसान के मन में धोखा सबसे बड़ा धोखा होता है जिसमें व्यक्ति किसी भी हद तक कुछ भी कर सकता है इसलिए कभी भी किसी भी लड़का होता लड़कियों आपस में किसी का भी दिल नहीं तोड़ना चाहिए यदि प्यार करने की हिम्मत तो विश्वास जताकर रिश्तो का प्यार का बंधन बनाए रखें और जहां तक संभव हो प्यार करते रहिए और जब से घर वाले शादी कर दे तो उस टॉपिक को समाप्त कर दीजिए और जो लाइफ में जो आने वाली बीवी है या पत्नी है उससे ज्यादा प्रेम कीजिए वही हमारा सब कुछ है वही हम पत्नी ही हमारा आगे का भविष्य संवार सकती है लेकिन प्यार भी हर इंसान में होता है लेकिन किसी न किसी ने नहीं होता तो दोस्तों घबराने की बात नहीं होता है तो ठीक है नहीं होता तो हमें किसी भी प्रकार की अच्छी कोई गलत कार्य नहीं करना चाहिए इसलिए कोई बच्ची को परेशानी हो

bolkar speaker
क्या प्यार सूरत देखकर करना चाहिए या फिर सीरत देखकर?Kya Pyar Surat Dekhkar Karna Chayia Ya Fir Seerat Dekhkar
Udham Prasad Gautam Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Udham जी का जवाब
Unknown
1:21
हाय दोस्तों नमस्कार गुड इवनिंग आपका प्रश्न है कि आप प्यार सूरत देखकर करना चाहिए या फिर सिर्फ देखकर दोस्तों कहना बहुत आसान होता है कि हमें प्यार सिर्फ देखकर करना चाहिए लेकिन हम और आप भी जानते हैं कि प्यार हमेशा सबसे पहले ज्यादातर खूबसूरती सही होता है इसलिए आप लोग हमेशा खूबसूरती से ही ज्यादा प्यार करते हैं और सीरत तो बाद में पता चलता है ना कैसी है कैसा नहीं है ठीक है लेकिन हमें और आपको यह फर्क करना जरूर करना चाहिए कि क्या खूबसूरती और सिर्फ जो है ठीक है उसमें डिफरेंस होना चाहिए क्योंकि खूबसूरती देखकर ही अगर आप शादी किया कुछ भी कर लेते हैं तो फिर खूबसूरती कुछ ही दिनों तक रहती है मेहमान लेकिन जो सीरत होती है वह आपके जिंदगी तक आपके साथ बनाए रखने का सदैव प्रयास करती है इसलिए खूबसूरती के साथ-साथ सीरत का भी होना बहुत ही जरूरत है एक लाइफ पार्टनर बीच में ठीक है तो दोस्तों आप से ही अनुरोध रहेगा कि थोड़ी खूबसूरती कमी हो क्यों ना हो लेकिन सिर्फ बिल्कुल अच्छा सौ पर्सेंट होना चाहिए ठीक है तो ऐसे ही आप अपने लाइफ पार्टनर की तलाश कीजिएगा ज्यादा खूबसूरती के चक्कर में अपने आप खुद को मत दीजिएगा बस जैसे धन्यवाद

bolkar speaker
क्या प्यार सूरत देखकर करना चाहिए या फिर सीरत देखकर?Kya Pyar Surat Dekhkar Karna Chayia Ya Fir Seerat Dekhkar
Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Laxmi जी का जवाब
🧖‍♀️Spiritual healer And Motivational speaker🙏
4:58
आपका प्रश्न है क्या प्यार सूरत देखकर करना चाहिए या फिर सिर्फ देखकर तो पहली बार प्यार किया नहीं जाता या प्यार को करना नहीं पड़ता प्यार हो जाता है एग्जांपल आपकी मां जैसे ही उन्हें पता चलता है कि आप इस दुनिया में आने वाले हैं उससे पहले ही उनके मन में आपके लिए प्रेम आ जाता है वह करती नहीं है उनके अंदर प्रेम आ ही जाता है ठीक है इस चीज को समझा दूसरा ना ही सूरत देखकर करना चाहिए ना ही सीधे कर करना चाहिए सूरत देखकर करेंगे तो सूरत एक दिन तो फिर चली जानी है ना देकर करेंगे तो क्या होगा कि आपकी एक्सपेक्टेशन ज्यादा बढ़ जाएगी उसने कुछ गलत कर दिया तो आप नाराज हो जाएंगे कि मैंने तुम्हारी सीरत देखा था तुम्हारा व्यवहार देखा था आज मेरा प्यार खत्म हो गया प्यार खत्म हो जाता है मतलब वहां प्यार है ही नहीं ना सूरत देखकर करो ना सीरत देकर करो प्यार सिर्फ होता है किया नहीं जाता अगर आप असर डाल रहे हो किसी को प्यार कर रहे हो मान लीजिए किसी को पसंद कर रहे हो नाराज हो गए हो अटैचमेंट आ गया है बहुत ज्यादा अटैच हो गए हो दूर नहीं हो सकते वहां पर नहीं है यह सारी चीजें क्या होती अशुद्धियां होती हैं किसी को देखकर आपको जलन हो रही है वहां प्यार नहीं है वहां रुक जाओ वहां सिर्फ और सिर्फ 40 ही होगी वहां क्या होगा कंट्रोलिंग पावर होगी आप किसी साथ हो और मान लीजिए आपकी कोई सहेली है वह आपको देखकर जब आप किसी के साथ हो देखकर जल रही है आपको लग रहा है वह आपसे प्यार कर रही है पर सीरियसली भू जल रही है आप को कंट्रोल कर रही है कि मत जाओ यह क्या आप कंट्रोलिंग लाइफ जीना पसंद करेंगे आपको कोई कंट्रोल करता रहे आप को शुरू शुरू में अच्छा लगेगा शुरू शुरू में सब को अच्छा लगेगा लेकिन बाद में आपको अच्छा नहीं लगेगा आपको लगेगा मैं दिनभर कंट्रोल नहीं हो सकता मुझे कुछ बांध के रखे मुझे पसंद नहीं है हर किसी को आजादी पसंद है तू जहां आप एक चीनी में आजाद हूं ना सीखो फीयरलेस हो ना सीखो 3D कि जितने भी बंधन है उन से आजाद होना सीखो बंधन आजाद मतलब अपने माइंड के लेवल से यह नहीं कि घर से भाग जहां शादी होती है नहीं माइंड के लेवल से अपने विचारों को आप एकदम से ओपन करना शुरू करो ना रियल सुनना शुरू करो अपनी बात को सही तरीके से प्रेजेंट करना शुरू कर दो अपने आप को जानना शुरू कर दो एक आजाद जिंदगी बिना किसी रिश्ते में बंधे रिश्ता है अभी तो उसने अब बंद ही नहीं हो आप अंदर से आजाद हो अगर बाहर से मैरिज भी हो गई है ना तो बाहर से वह मैरिज हुई है पर अंदर से आप आजाद हो वह भी आ जाते अभी आ जाता हूं यहां की बात हुई तो मतलब आप आजाद हो तो पूरी तरीके से यह होता है जो आप को आजाद कराने में आप की ग्रोथ में वह उसका जो उसकी जो पूछा है ना इतनी ज्यादा हो कि आप हमेशा ग्रो ही करें कुछ नया ही सीखें कुछ अच्छा ही सीखें कुछ अच्छा ही बोली अच्छी टीम की अच्छी पॉजिटिव जितने यीशु उसने ईशा जनन गुस्सा घमंड इस अब आप खुद ब खुद धीरे-धीरे खत्म करना शुरू करो आप हर इंसान को समझना शुरू करो आप सब में खुद को देखना शुरु करो आप अनकंडीशनल लव को की टीमें भी देखो एक हाथी ने भी देखो एनिमल में भी देखो ह्यूमन में भी देखो सब में देख पाओगे आप महसूस कर पाओ जैसे नीच और हमको यह तो नहीं थी ना कि तुम मुझे मेरे मेरे पेड़ में लगे आम को तोड़ रहे हो तो मैं तुम्हें ऑक्सीजन नहीं दूंगी ऐसा तो नहीं कहती वह सबको बराबर ऑक्सीजन दिया ना कि यही है कि नेचर अगर आपको बिना किसी शर्त के प्यार दे दी है आपको चेहरा देखकर नहीं देती और ना ही आपका सूरत देख कर देती है और ना ही आपकी सूरत देख कर देती है आप को भुला देती है चाहे आप का व्यवहार अच्छा हो चाहे बुरा हो चाहे आप एक पेड़ को काट रहे हो या नहीं काटते हो तो होता है प्यार समझ रहे हो ना आप यहां समझ लेना एक मां भी ऐसे ही प्यार करती है चाहे आप उनके साथ अच्छा व्यवहार करो या ना करो उनका प्यार आपके लिए कभी खत्म नहीं होता इस चीज को समझ लो कि प्यार एंड कंडीशनर यही होता है बाकी आपको लगता है कि किसी रिलेशनशिप में बंद कर वह प्यार होता है तो वहां सिर्फ और सिर्फ मोह माया में अब बंधे हुए हो और कुछ नहीं है वहां प्यार हो ही नहीं सकता कुछ दिन का अटैचमेंट है टूटेगा दर्द होगा ब्रेकअप होगा बहुत सारे लोग डिप्रेशन में चले जाते हैं बहुत सारे लोग सुसाइड कर लेते हैं जो प्यार नहीं होता ठीक है इस चीज को समझ लो मैं बहुत सटीक बात बताती हूं ठीक है किस चीज का मुझे एक्सपीरियंस है हर एक चीज को समझती हूं हर एक चीज को जानती हूं इसलिए शेयर करती हूं अदर वाइज में कोई गलत चीज शेयर नहीं करती सही चीज
Aapaka prashn hai kya pyaar soorat dekhakar karana chaahie ya phir sirph dekhakar to pahalee baar pyaar kiya nahin jaata ya pyaar ko karana nahin padata pyaar ho jaata hai egjaampal aapakee maan jaise hee unhen pata chalata hai ki aap is duniya mein aane vaale hain usase pahale hee unake man mein aapake lie prem aa jaata hai vah karatee nahin hai unake andar prem aa hee jaata hai theek hai is cheej ko samajha doosara na hee soorat dekhakar karana chaahie na hee seedhe kar karana chaahie soorat dekhakar karenge to soorat ek din to phir chalee jaanee hai na dekar karenge to kya hoga ki aapakee eksapekteshan jyaada badh jaegee usane kuchh galat kar diya to aap naaraaj ho jaenge ki mainne tumhaaree seerat dekha tha tumhaara vyavahaar dekha tha aaj mera pyaar khatm ho gaya pyaar khatm ho jaata hai matalab vahaan pyaar hai hee nahin na soorat dekhakar karo na seerat dekar karo pyaar sirph hota hai kiya nahin jaata agar aap asar daal rahe ho kisee ko pyaar kar rahe ho maan leejie kisee ko pasand kar rahe ho naaraaj ho gae ho ataichament aa gaya hai bahut jyaada ataich ho gae ho door nahin ho sakate vahaan par nahin hai yah saaree cheejen kya hotee ashuddhiyaan hotee hain kisee ko dekhakar aapako jalan ho rahee hai vahaan pyaar nahin hai vahaan ruk jao vahaan sirph aur sirph 40 hee hogee vahaan kya hoga kantroling paavar hogee aap kisee saath ho aur maan leejie aapakee koee sahelee hai vah aapako dekhakar jab aap kisee ke saath ho dekhakar jal rahee hai aapako lag raha hai vah aapase pyaar kar rahee hai par seeriyasalee bhoo jal rahee hai aap ko kantrol kar rahee hai ki mat jao yah kya aap kantroling laiph jeena pasand karenge aapako koee kantrol karata rahe aap ko shuroo shuroo mein achchha lagega shuroo shuroo mein sab ko achchha lagega lekin baad mein aapako achchha nahin lagega aapako lagega main dinabhar kantrol nahin ho sakata mujhe kuchh baandh ke rakhe mujhe pasand nahin hai har kisee ko aajaadee pasand hai too jahaan aap ek cheenee mein aajaad hoon na seekho pheeyarales ho na seekho 3d ki jitane bhee bandhan hai un se aajaad hona seekho bandhan aajaad matalab apane maind ke leval se yah nahin ki ghar se bhaag jahaan shaadee hotee hai nahin maind ke leval se apane vichaaron ko aap ekadam se opan karana shuroo karo na riyal sunana shuroo karo apanee baat ko sahee tareeke se prejent karana shuroo kar do apane aap ko jaanana shuroo kar do ek aajaad jindagee bina kisee rishte mein bandhe rishta hai abhee to usane ab band hee nahin ho aap andar se aajaad ho agar baahar se mairij bhee ho gaee hai na to baahar se vah mairij huee hai par andar se aap aajaad ho vah bhee aa jaate abhee aa jaata hoon yahaan kee baat huee to matalab aap aajaad ho to pooree tareeke se yah hota hai jo aap ko aajaad karaane mein aap kee groth mein vah usaka jo usakee jo poochha hai na itanee jyaada ho ki aap hamesha gro hee karen kuchh naya hee seekhen kuchh achchha hee seekhen kuchh achchha hee bolee achchhee teem kee achchhee pojitiv jitane yeeshu usane eesha janan gussa ghamand is ab aap khud ba khud dheere-dheere khatm karana shuroo karo aap har insaan ko samajhana shuroo karo aap sab mein khud ko dekhana shuru karo aap anakandeeshanal lav ko kee teemen bhee dekho ek haathee ne bhee dekho enimal mein bhee dekho hyooman mein bhee dekho sab mein dekh paoge aap mahasoos kar pao jaise neech aur hamako yah to nahin thee na ki tum mujhe mere mere ped mein lage aam ko tod rahe ho to main tumhen okseejan nahin doongee aisa to nahin kahatee vah sabako baraabar okseejan diya na ki yahee hai ki nechar agar aapako bina kisee shart ke pyaar de dee hai aapako chehara dekhakar nahin detee aur na hee aapaka soorat dekh kar detee hai aur na hee aapakee soorat dekh kar detee hai aap ko bhula detee hai chaahe aap ka vyavahaar achchha ho chaahe bura ho chaahe aap ek ped ko kaat rahe ho ya nahin kaatate ho to hota hai pyaar samajh rahe ho na aap yahaan samajh lena ek maan bhee aise hee pyaar karatee hai chaahe aap unake saath achchha vyavahaar karo ya na karo unaka pyaar aapake lie kabhee khatm nahin hota is cheej ko samajh lo ki pyaar end kandeeshanar yahee hota hai baakee aapako lagata hai ki kisee rileshanaship mein band kar vah pyaar hota hai to vahaan sirph aur sirph moh maaya mein ab bandhe hue ho aur kuchh nahin hai vahaan pyaar ho hee nahin sakata kuchh din ka ataichament hai tootega dard hoga brekap hoga bahut saare log dipreshan mein chale jaate hain bahut saare log susaid kar lete hain jo pyaar nahin hota theek hai is cheej ko samajh lo main bahut sateek baat bataatee hoon theek hai kis cheej ka mujhe eksapeeriyans hai har ek cheej ko samajhatee hoon har ek cheej ko jaanatee hoon isalie sheyar karatee hoon adar vaij mein koee galat cheej sheyar nahin karatee sahee cheej

bolkar speaker
क्या प्यार सूरत देखकर करना चाहिए या फिर सीरत देखकर?Kya Pyar Surat Dekhkar Karna Chayia Ya Fir Seerat Dekhkar
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
2:17
भारत में अध्यात्मिकता का भविष्य क्या है दोस्तों यदि शुरुआत के दौर की बात करें तो आजादी में और उनके ऊपर थी भारत के अंदर परंतु जैसे-जैसे हम लोग जो है पश्चिमी संस्कृति के संपर्क में आते गए वैसे-वैसे हमारे आध्यात्मिक जा सकती है या आध्यात्मिक तभी जब आते हैं तो धीरे-धीरे लुप्त हो रही है और आज हम पाश्चात्य संस्कृति से इतना ज्यादा प्रभावित हो गए हैं कि मुझे नहीं लगता कि फ्यूचर के अंदर जो है हमारी आध्यात्मिकता का कुछ भविष्य रहेगा आपको पता होगा कि अश्लील का जो है वह चरम पर पहुंच रही है आजकल यदि आप कोई फिल्म देखेंगे तो उसमें अश्लीलता यदि आप कोई गूगल के ऊपर कुछ चीज सर्च कर रहे तो उसको लेकर के भविष्य के अंदर हमारे पास

bolkar speaker
क्या प्यार सूरत देखकर करना चाहिए या फिर सीरत देखकर?Kya Pyar Surat Dekhkar Karna Chayia Ya Fir Seerat Dekhkar
रंगन Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए रंगन जी का जवाब
Business,Student🤓
1:04
जब प्यार सूरत देखकर करना चाहिए या फिर फिर देख कर देखिए मुझे तो लगता है देखिए कि अगर आप हमेशा सूरत के बारे में सोचकर प्यार करोगे तो उसमें आप धोखा खाते हैं लेकिन अगर किसी इंसान के अंदर आपने दिल के बारे में सोचेंगे तो फिर अच्छा है उसका दिल बहुत अच्छा है और वह कौन सा इंसान है तो फिर आपका जो पॉसिबिलिटी है ना वह कमबख्त अब धोखा खाने से बच सकते हो क्योंकि जब तक दिल अच्छा हो आप को धोखा देना नहीं चाहेगा क्योंकि उसको भी पता है कि किसी को धोखा देने से पूरा चीज को छोड़कर तुम कोशिश करना चाहता किसी की सूरत पर नहीं सीरत नहीं है कि आप कोई फायदा हो और देखें लगाने का बहुत बहुत ज्यादा दर्द होता है क्या उधर से निकल पाना बहुत ज्यादा मुश्किल होता है अब तक साफ होगा मत खाइए किसी को अगर आपको पसंद है उसको सूरत के अंदर के बिना सोचे तबीयत कैसे है उसके बारे में सोचिए उसके बाद डिसाइड कीजिए आपको उसके साथ रिलेशनशिप में रहना है या नहीं आएगा

bolkar speaker
क्या प्यार सूरत देखकर करना चाहिए या फिर सीरत देखकर?Kya Pyar Surat Dekhkar Karna Chayia Ya Fir Seerat Dekhkar
DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
1:17
क्या क्या सूरज जी के करना चाहिए अगर प्यार किया नहीं जाता हो जाता आकर्षक हमारा जमीन की भावनाओं का आदान-प्रदान होता है मन की मन की तरंगे इंसान को जब तक जहां प्यार होता है वहां प्यार शक्ल सूरत से नहीं उनको संभालता है लेकिन प्यार में जानू गुड मॉर्निंग

bolkar speaker
क्या प्यार सूरत देखकर करना चाहिए या फिर सीरत देखकर?Kya Pyar Surat Dekhkar Karna Chayia Ya Fir Seerat Dekhkar
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
1:26
नमस्कार आपका प्रश्न है क्या प्यार सूरत देखकर करना चाहिए या फिर सिर्फ देखकर तो आपको बता दें देखे यहां पर बहुत सारे आपको जवाब मिलेंगे जो तू कहां जाएगा कि सिर्फ सीरत ही देखनी चाहिए लेकिन प्रैक्टिकली देखा जाए तो ऐसा पॉसिबल नहीं है आप कभी आना किसकी तरफ से लैस होते हैं ट्रैक्ट होते हैं तो फिर आप वहां पर उसके लुक्स भी मैटर करते हैं आप देखते होंगे कि जो टीवी कलाकार हैं या फिल्म स्टार्स हैं तो लोगों ने करोड़ों की संख्या में उनके फैंस क्यों बन जाते हैं क्यों क्योंकि उनको उनके लुक्स पसंद आते हैं उनकी अदाकारी पसंद आती है तभी बोल को फॉलो करते हैं तो यहां पर ऐसा नहीं है कि आप पर किस से प्यार करते हैं तो उसे सीरत ही देखेंगे सीरत बहुत ज्यादा इंपॉर्टेंट रोल तय करती है बिल्कुल सही बात है एक समय के बाद व्यक्ति का चेहरा और उसके चमक सबधन जाती है उसकी सीरत ही काम आती है लेकिन ऐसा नहीं है कि आप से सिर देख कर सब कुछ करते रहना सूरत की तो ध्यान ही ना दें क्योंकि आपको जिस व्यक्ति के साथ रहना है जिसके साथ अपने जीवन यापन करना है आप चाहते होंगे कि हां उसकी सूरत भी अच्छी दिखे तो प्रैक्टिकल लेने देखा जाए तो सूरत से दोनों ही देखी जाती सीरत ज्यादा बड़ा रोल प्ले करती है आपकी क्या राय तुम्हारे में कमा सकते हैं अपनी राय जरुर व्यक्त करें मैं शुभकामनाओं के साथ धन्यवाद

bolkar speaker
क्या प्यार सूरत देखकर करना चाहिए या फिर सीरत देखकर?Kya Pyar Surat Dekhkar Karna Chayia Ya Fir Seerat Dekhkar
 Nida Rajput       Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए जी का जवाब
Student Computer Science Education
0:44
देखिए आपका सवाल है कि प्यार पूरा देख कर करना चाहिए या सीरत देखकर प्यार में अक्सर लोग सूरत देखकर प्यार दाता करते हैं लेकिन सूरत देखकर प्यार जो होता है वह जल्दी खत्म हो जाता है तो इंसान को जब प्यार करना चाहिए यह कुछ छोटी मोटी चीज नहीं है कि आज हुआ कल खत्म हो गया यह लाइफ टाइम के लिए होता है जब भी आप किसी से प्यार करें आपके पास प्लीज सूरत देखेंगे लेकिन जब आपसे बात करेगा तो उसका नेचर ओके सिरत आपके सामने आ जाएगी आप उसे पसंद है अपना डाटा जनाब किसी व्यक्ति को किसी बंदे को तभी सुनाएं जब आप उसके बारे में अच्छे से जान चुके हैं जबकि सूरत भी अच्छी हो और तीरथ धन्यवाद
Dekhie aapaka savaal hai ki pyaar poora dekh kar karana chaahie ya seerat dekhakar pyaar mein aksar log soorat dekhakar pyaar daata karate hain lekin soorat dekhakar pyaar jo hota hai vah jaldee khatm ho jaata hai to insaan ko jab pyaar karana chaahie yah kuchh chhotee motee cheej nahin hai ki aaj hua kal khatm ho gaya yah laiph taim ke lie hota hai jab bhee aap kisee se pyaar karen aapake paas pleej soorat dekhenge lekin jab aapase baat karega to usaka nechar oke sirat aapake saamane aa jaegee aap use pasand hai apana daata janaab kisee vyakti ko kisee bande ko tabhee sunaen jab aap usake baare mein achchhe se jaan chuke hain jabaki soorat bhee achchhee ho aur teerath dhanyavaad

bolkar speaker
क्या प्यार सूरत देखकर करना चाहिए या फिर सीरत देखकर?Kya Pyar Surat Dekhkar Karna Chayia Ya Fir Seerat Dekhkar
Chandan Kumar bharati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Chandan जी का जवाब
Teacher
1:20
नमस्कार अब बोल कर मैं खुशी से होंगे व्हाट्सएप करना बना रहे आपका एक प्रश्न आप हमारे लिए भेजे थे कि क्या प्यार सूरत देखकर करना चाहिए या फिर सीरत देख कर प्यार सूरत देखकर नहीं करना चाहिए मेरे हिसाब से मेरे तरीके से प्यार सूरत देखकर करना ही नहीं चाहिए प्यार जब भी करना चाहिए फिर देखो क्या होता है इसलिए कि प्यार 12 पुरुष स्त्रियों का मिलन है इनके साथ धोखाधड़ी नहीं करना चाहिए और एक प्यार एक ऐसी आजीवन प्यार है जो कि जिंदगी भर एक दूसरे की मिलन ही रह जाता है इसलिए इस प्यार को सिर्फ देखकर ही करना चाहिए जो कि आगे चलकर दो लोग या चाय लोगे यह समाज में इसी बात करना हो तो एक अच्छी तरीके से बात करें जिसे समाज के लोग टोटल अच्छी तरह से एकदम खुश हो जाए इसलिए कहा जाता है कि प्यार सूरत देखकर नहीं करना चाहिए सीरत देखकर करना चाहिए इसी के साथ अपनी वाणी को विराम देता हूं
Namaskaar ab bol kar main khushee se honge vhaatsep karana bana rahe aapaka ek prashn aap hamaare lie bheje the ki kya pyaar soorat dekhakar karana chaahie ya phir seerat dekh kar pyaar soorat dekhakar nahin karana chaahie mere hisaab se mere tareeke se pyaar soorat dekhakar karana hee nahin chaahie pyaar jab bhee karana chaahie phir dekho kya hota hai isalie ki pyaar 12 purush striyon ka milan hai inake saath dhokhaadhadee nahin karana chaahie aur ek pyaar ek aisee aajeevan pyaar hai jo ki jindagee bhar ek doosare kee milan hee rah jaata hai isalie is pyaar ko sirph dekhakar hee karana chaahie jo ki aage chalakar do log ya chaay loge yah samaaj mein isee baat karana ho to ek achchhee tareeke se baat karen jise samaaj ke log total achchhee tarah se ekadam khush ho jae isalie kaha jaata hai ki pyaar soorat dekhakar nahin karana chaahie seerat dekhakar karana chaahie isee ke saath apanee vaanee ko viraam deta hoon

bolkar speaker
क्या प्यार सूरत देखकर करना चाहिए या फिर सीरत देखकर?Kya Pyar Surat Dekhkar Karna Chayia Ya Fir Seerat Dekhkar
T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
4:57
आपने बहुत अच्छा प्रश्न किया है कि क्या प्यार सूरत देखकर करना चाहिए या फिर सिर्फ देखें सबसे पहले तो इस अति उत्तम प्रश्न के लिए मैं जिस में भी प्रश्न पूछा है उसको बहुत बधाई देना चाहता हूं लेकिन किसी ने कहा है कि दौलत से प्यार किया तो क्या किया दौलत से प्यार किया तो क्या किया शोहरत से प्यार किया तो क्या किया प्यार करना है तो सीरत से प्यार करना है तो सूरत से करो सूरत से प्यार किया तो क्या किया इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि तीरथ का क्या महत्व है शायद कुछ लोग ना समझते हो किस तीरथ किसको कहते हैं धीरज का मतलब होता है क्या भाव और सीमा की सोच लिखित प्यार ना तो दौलत से होता है प्यार ना ही सूरत से होता है क्या चित्र देखकर और दौलत प्यार जो करने वाले होते हैं वह कहते हैं दौलत देखी ना उसकी सूरत में दौलत देखी ना उसकी सूरत देखी हमने तो सिर्फ उनकी सीरत तो प्यार कि अगर हम तीरथ से तुलना करें या हम सूरत की तुलना अगर तीरथ से करें तुम मेरी दृष्टि में तीरथ का पलड़ा ही हमेशा भारी नजर है और इसकी सबसे बड़ी वजह यह है कि मोहब्बत के अंदर प्यार के अंदर सुरतिया जज्बात नहीं देखे जाते बल्कि मोहब्बत तो दिल मिलने से होती है और दिल केवल तभी मिलता है जब विचार मिलते हैं और विचार तब मिलते हैं जब सीरत अच्छी देखी साहब प्यार में ना तो दौलत का कोई स्थान होता है ना ही शोहरत का आप अगर किसी की दौलत पर औरत को देखकर मोहब्बत की बात करते हैं तो आप गलत है क्योंकि वाकई में यह तो सीरत से होता है कई बार लोग केवल चेहरा देखकर एक दूसरे को दिल में बसाने की बात करते हैं लेकिन वह लोग भूल जाते हैं कई अच्छे दिखने वाले चेहरों के पीछे भी लाख शरीफ चुके हैं और इसीलिए किसी ने कहा है प्रेमियों के लिए धोखा है प्यार दीवानों के लिए तोहफा है प्यार यूं तो कोई भी कर लेता है मगर इंसानों के लिए पूजा है प्यार को अगर पूजा की उपमा दें तो ज्यादा बेहतर होगा अगर आप किसी के प्रति कमिटेड हैं उसकी हर बात का ख्याल रखें उसके लिए अपनी पूरी जिंदगी कुर्बान कर देते हैं यह प्यार ही तो है जाटों को चाहना और चाहकर चाहते रहना प्यार को देखना और देखकर प्यार करते रहना तो आप इस बात से अंदाजा लगा और इसलिए मेरी दृष्टि में सूरत के साथ में तो धोखा हो सकता है लेकिन तीरथ के साथ में धोखा होने की संभावनाएं बहुत कम हो जाती है कई लाख दिखने वाले बेहद खूबसूरत चेहरे होते हैं लेकिन उन खूबसूरत चेहरों के पीछे कुछ खूबसूरत सूरत के पीछे कई लाख धोखे चुके हो उसके पीछे कटुता छिपी होती है उस सूरत के पीछे कई बार फैंसीपन छुपा होता है लेकिन जो तीरथ है वह आपको वास्तविकता बयान करती है सच्चाई बयान करते हैं आज की पीढ़ी कई बार सूरत के जाल में धोखा खा जाते पर इसलिए यह बहुत गलत बात है यार तीरथ देखकर कि कीजिए सूरत देखकर से मत कीजिए जीवन में आप आपका परिवार आपका जीवन खुशहाल होगा जल्दबाजी में जाएंगे तो हो सकता है तो खा जाएं यही मेरी दृष्टि में इसका उत्तर है धन्यवाद

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • प्यार सच मै अंधा होता है ? सच्चे प्यार को कैसे पहचाने ?
URL copied to clipboard