#खेल कूद

bolkar speaker

क्या सच में कबीर दास जी का शरीर में मृत्यु के बाद फूलों के ढेर में बदल गया था?

Kya Sach Mein Kabir Das Ji Ka Shareer Mein Mrityu Ke Baad Phoolon Ke Dher Mein Badal Gaya Tha
Mohit Kumar Chaniyal Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Mohit जी का जवाब
Programmer , Ethical Hacker , Network Engineer
1:15
आपका क्वेश्चन है कि क्या सच में कबीर दास जी का मृत्यु के बाद फूलों के ढेर में बदल गया था तो भी आप नहीं कोचिंग करा है तो मैं सोच रहा हूं कि आप बहुत ज्यादा फिर आपका बहुत ही ज्यादा विश्वास करते थे और जादू कहानी सब बोलने की बात है कि कि अगर अभी तक देखें आपकी शादी में हम जी रहे हैं वहां पर मैं ऐसा कोई पिक्चर चाहिए 1 घंटा में कन्वर्ट हो जाएगा फिर भी आप लोग मार्च में जा रहे हो किस मंडल में जाने की तैयारी कर रहे मंगलमय रहे और इस समय में आप ही बात कर रहे हैं कि इन सभी लोग मरने के बाद तो लेना करवा दो तो ऐसा कुछ नहीं है यह सब मित्र जो कि पुराने समय से चली आ रही है गांधी जी ने किस को गुस्सा जिसमें किसी को कुछ कहा और वह बाद में बात ही पूरी की पूरी अलग हो जाती हो कि आपको मेरा जवाब पसंद आया तो लाइक कमेंट कर दीजिए और चैनल को सब्सक्राइब

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या सच में कबीर दास जी का शरीर में मृत्यु के बाद फूलों के ढेर में बदल गया था?Kya Sach Mein Kabir Das Ji Ka Shareer Mein Mrityu Ke Baad Phoolon Ke Dher Mein Badal Gaya Tha
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:43
अलका सच में कबीर दास जी का शरीर मृत्यु के बाद फूलों के ढेर में बदल गया था देखे दोस्तों सब बिल्कुल भी नहीं है यह सिर्फ एक सोची-समझी एक कहानी बनाई गई है जिसमें यह सारा दावा किया कि कबीर दास जी जोशी आदरणीय थे एक बहुत बड़े महापुरुष है पर इनका हमको हर कोई व्यक्ति सम्मान करता है क्योंकि हमें पता है कि मृत्यु के बाद इनका जो फूलों का ढेर में बदल गया था शरीर ऐसी जो कल्पना है हम किताब इत्यादि के अंदर या लोगों की कॉल तो भी पढ़ते हैं परंतु ऐसा बिल्कुल भी नहीं था दोस्तों उनकी जो डेथ हुई थी उनकी जो शरीर जरूर मिल जाता तो ठीक उसी तरीके से उनका शरीर दो ना उनको या निकले समाधि तब्दील कर दिया गया

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • कबीर दास की मृत्यु कैसे हुई थी, कबीर दास की मृत्यु किस सन में हुई थी, कबीर दास की मृत्यु कब और कैसे हुई
URL copied to clipboard