#भारत की राजनीति

bolkar speaker

भारतीय सार्वजनिक बैंकों के विलय के बाद बैंक खाता धारकों पर क्या असर होगा?

Bhartiy Sarvjanik Bankon Ke Vilay Ke Baad Bank Khaata Dhaarkon Par Kya Asar Hoga
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:41
न्यूटन गति सार्वजनिक बैंकों के विलय के बाद लगा कि कोई असर नहीं पड़ेगा क्योंकि जिस प्रकार पिछले दिनों एसबीआई स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में बहुत सारी बैंकों का विलय हुआ था स्टेट बैंक बीकानेर एंड जयपुर भी शामिल होगी स्टेट बैंक बीकानेर एंड जयपुर देखना है तो हमें नई डायरी शुरू कर दी गई और बोली चुप कर दी गई है यह सारी प्रक्रिया ₹20 बैंक में जब आप जाओगे तो खाता नंबर आपकी वही रहेंगे डायरी है वह नहीं सुनने के चेक बुक नहीं दे देंगे एटीएम कार्ड नया दे देंगे तो कोई विशेष फर्क नहीं पड़ता खाता धारको धन्यवाद

और जवाब सुनें

bolkar speaker
भारतीय सार्वजनिक बैंकों के विलय के बाद बैंक खाता धारकों पर क्या असर होगा?Bhartiy Sarvjanik Bankon Ke Vilay Ke Baad Bank Khaata Dhaarkon Par Kya Asar Hoga
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:36
कार दोस्तों प्रश्न है कि भारतीय सार्वजनिक बैंकों के विलय के बाद बैंक खाता धारकों पर क्या असर होगा तो रूप में बताना चाहता हूं कि बैंक खाताधारकों पर कोई असर नहीं होगा बस हो सकता है कि उनका जो जिस बैंक में विलय हुआ हो उनका खाता नंबर में थोड़ा बहुत बदलाव आया हो या चेक बुक बदल जाएगी चेक बुक आईएफएससी कोड होता है वह विलय होने के बाद जिस बैंक में विलय हुआ है उसका एफ एस सी कोड आता है कुछ दिनों तक बैंक अपने सॉफ्टवेयर अपडेट करते हैं तो पुराने चेक भी चलते हैं लेकिन बाद में वह निरस्त हो जाते हैं तो आपको ध्यान देना है कि आपके कोई अकाउंट नंबर में बदलाव आया है तो वह पता कर लेना है और आपको नई चेक बुक ले ले नहीं है बैंक से जाकर हो सकता है कि आपका अगर सॉफ्टवेयर में उन्होंने परिवर्तन ज्यादा कर रखा हो तो एटीएम कार्ड भी आप को बदलना पड़ सकता है लेकिन ऐसी संभावना कम है वह क्योंकि एटीएम हर जगह ही चलते हैं तो ऐसी समस्या आने नहीं चाहिए और विलय होने के बाद जो घाटे में बैंक है जो सर्विस में है हो सकता है खातेदारों को पोस्ट सर्विस इसमें फायदा हो जाए पहले जो काम ना होते थे वह आसानी से हो जाए और दूसरा एक कारण यह भी हो सकता है कि हो सकता है कि बैंक कुछ क्षेत्र में कम हो तो भीड़ भी हो सकती है उस बैंक में लेकिन जो मिले वाले बैंक जात्रा भी बैंक वाले बंद नहीं करते हैं यहां आस-पास हो तो बंद करते हैं नहीं तो एक ही ब्रांच एस की संख्या बढ़ जाने से निश्चित रूप से खाता धारकों को भी लाभ होता है धन्यवाद

bolkar speaker
भारतीय सार्वजनिक बैंकों के विलय के बाद बैंक खाता धारकों पर क्या असर होगा?Bhartiy Sarvjanik Bankon Ke Vilay Ke Baad Bank Khaata Dhaarkon Par Kya Asar Hoga
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
2:05
भारती सार्वजनिक बैंकों के विलय के बाद बैंक खाताधारकों पर क्या करोगे कोई असर नहीं होगा जो भी मिले हुए हैं निश्चित तौर पर उन बैंकों के खाताधारकों का किसी भी तरह का कोई फ्रूट करने का उनका जो है जो अकाउंट का एक्टिव रहेगा आईएफएससी कोड है या और चीजें हैं उसमें पतला हो सकता है लेकिन धीरे-धीरे होता अकाउंट नंबर अकाउंट का डिटेल सब कुछ भी होता है इंटरनेट यूज करते हैं तो भी आपका टाइम ठीक रहेगा कौन सी बैंक और है उसकी जुड़ी हुई है तो निश्चित तौर पर आंध्र बैंक आंध्र और कॉरपोरेशन बैंक को कारपोरेशन बैंक और जो बांद्रा बैंक के अकाउंट होल्डर है टीम में कौन कौन खेलेगा इंटरनेट बैंकिंग में कोई परिवर्तन नहीं होगा सिंह नवीन आईडी पासवर्ड काम करेगी आईडी वगैरह वही रन करता है चेक बुक भी वही करता है लेकिन जब मैं यीशु का भी शुरू करवाएंगे नया टीवी शो करवाएंगे निश्चित तौर पर यूनियन बैंक ऑफ इंडिया दे दे कर धर्म को कोई फर्क नहीं पड़ने वाला उनके खाते में ऐसी रहेंगे बैंक की ब्रांच भी वही रहेगी स्थान बदल सकता है अकाउंट के भी रहे खुश रहे हो कोई प्रॉब्लम नहीं है

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भारतीय सार्वजनिक बैंकों के विलय के बाद बैंक खाता धारकों के साथ क्या होगा, सार्वजनिक बैंकों के विलय के बाद बैंक खाता धारकों पर क्या असर होगा
URL copied to clipboard