#undefined

bolkar speaker

माला जपने के समय ध्यान इधर-उधर भटकने लगता है, क्या आप बता सकते है कि माला जपने का सही तरीका क्या है?

Maala Japane Ke Samay Dhyaan Idhar-udhar Bhatakane Lagata Hai Kya Aap Bata Sakate Hai Ki Maala Japane Ka Sahee Tareeka Kya Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:05

और जवाब सुनें

bolkar speaker
माला जपने के समय ध्यान इधर-उधर भटकने लगता है, क्या आप बता सकते है कि माला जपने का सही तरीका क्या है?Maala Japane Ke Samay Dhyaan Idhar-udhar Bhatakane Lagata Hai Kya Aap Bata Sakate Hai Ki Maala Japane Ka Sahee Tareeka Kya Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:30

bolkar speaker
माला जपने के समय ध्यान इधर-उधर भटकने लगता है, क्या आप बता सकते है कि माला जपने का सही तरीका क्या है?Maala Japane Ke Samay Dhyaan Idhar-udhar Bhatakane Lagata Hai Kya Aap Bata Sakate Hai Ki Maala Japane Ka Sahee Tareeka Kya Hai
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:17

bolkar speaker
माला जपने के समय ध्यान इधर-उधर भटकने लगता है, क्या आप बता सकते है कि माला जपने का सही तरीका क्या है?Maala Japane Ke Samay Dhyaan Idhar-udhar Bhatakane Lagata Hai Kya Aap Bata Sakate Hai Ki Maala Japane Ka Sahee Tareeka Kya Hai
anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
0:58

bolkar speaker
माला जपने के समय ध्यान इधर-उधर भटकने लगता है, क्या आप बता सकते है कि माला जपने का सही तरीका क्या है?Maala Japane Ke Samay Dhyaan Idhar-udhar Bhatakane Lagata Hai Kya Aap Bata Sakate Hai Ki Maala Japane Ka Sahee Tareeka Kya Hai
Shahin fidai Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shahin जी का जवाब
Relationship Counselor, Neuro Linguistic Program Faculty, Pranic Healer
2:36

bolkar speaker
माला जपने के समय ध्यान इधर-उधर भटकने लगता है, क्या आप बता सकते है कि माला जपने का सही तरीका क्या है?Maala Japane Ke Samay Dhyaan Idhar-udhar Bhatakane Lagata Hai Kya Aap Bata Sakate Hai Ki Maala Japane Ka Sahee Tareeka Kya Hai
Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
2:43
हेलो फ्रेंड रेस कार जैसा कि आपका प्रश्न है माला जपने के समय ध्यान इधर-उधर भटकने लगता है क्या आप बता सकते हैं की माला जपने का सही तरीका क्या है लेकिन अभी आप माला जपते हैं तो आपको चाहिए कि आप जैसे कि मैडिटेशन किया जाता है ध्यान किया जाता है वह शांत माहौल में किया जाता है उसी प्रकार से जब हम प्रभु का नाम लेते हैं माला जपते हैं तो वह शांत माहौल में किया जाना चाहिए ना कि बहुत ज्यादा भीड़ भाड़ वाली जगह पर लेकिन फिर भी अगर आप के माहौल का घर का माहौल ठीक नहीं है शांत माहौल नहीं मिल पाता तो मैं आपको सजेस्ट यही करूंगा कि आप मॉर्निंग में सुबह 4:00 बजे के करीब आप उठ जाइए जब जो है कोई ना उठा हो और उस समय जो है आप अपने माला का जाप जो है वह कर सकते हैं देखिए यह जरूरी नहीं है कि आप नहाए खाए उसके बाद माला जपे अभी नहाने के बाद ही सपा हमारे यहां संत रैदास ने लिखा है कि मन चंगा तो कठौती आरती में गंगा यानी कि अगर हमारा मन पवित्र है हमारी आत्मा पवित्र है तो हमें कहीं स्नान करने के लिए जाने की जरूरत नहीं है हमारे यहां जो जल है जो पानी है वही हमारे लिए गंगा के समान है तो अगर आपका मन पवित्र है अच्छा है अंतर आत्मा शुद्ध है तो आप भगवान का नाम जो है वह किसी टाइम किसी भी देश में किसी भी जगह कर सकते हैं बस शर्त सिर्फ इतनी है कि उनके प्रति आपकी जो है वह श्रद्धा होनी चाहिए आप मॉर्निंग में उड़ सकते हैं सुबह 4:00 बजे जबकि इस समय भी बहुत अच्छा होता है माहौल शांत होता है सुबह ठंडी ठंडी हवा चलती है वातावरण शुद्ध होता है बहुत ही पर्फेक्ट समय होता है इस समय आप चाहे माला का जाप कहिए प्रभु का नाम लीजिए या स्टडी कीजिए बहुत ही उत्तम समय होता है इस टाइम के अलावा आपको 24 घंटे में कोई भी समय फ्रेंड अलग से नहीं मिल पाएगा कि इससे बेटर समय आपको मिल जाए मेरी निगाह में तो यही फ्रेंड की सुबह मॉर्निंग में चाहे जो भी काम होता है वह अच्छा होता है आप चाहे जो काम करें जो अच्छा होता है रे उसका रीजन होता है फ्रेंड की हमारी जो रिमाइंड होती है वह स्थिर होती है हम सो कर उठे होते हैं हमारी पूरी तनाव चली जाती है रिलैक्स होता है कोई किसी प्रकार का थकान नहीं होता तो हम जो भी काम करते हैं वह बहुत मन से लगन से चेतन सिर्फ वो काम होता है तो आप मॉर्निंग उठिए और अपना शांत माहौल दी कि किसी रूप में आप आराम से बैठ जाइए और अपना जो है हमारा जो है जा कर दे रही है आशा है कि आप सभी को जवाब पसंद आया होगा शुक्रिया

bolkar speaker
माला जपने के समय ध्यान इधर-उधर भटकने लगता है, क्या आप बता सकते है कि माला जपने का सही तरीका क्या है?Maala Japane Ke Samay Dhyaan Idhar-udhar Bhatakane Lagata Hai Kya Aap Bata Sakate Hai Ki Maala Japane Ka Sahee Tareeka Kya Hai
ABHAI PRATAP SINGH Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए ABHAI जी का जवाब
teacher
1:15
मित्र आप ने प्रश्न किया है माला जपने के समय ध्यान इधर-उधर भटकने लगता है क्या बता सकते हैं की माला जपने का सही तरीका क्या है आपने बताया की माला जपते समय आपका ध्यान इधर-उधर भटकता है मित्र माला जपने के सबसे अच्छा तरीका यही है कि आप जैसे जैसे माला आप अपने किसी भी चीज का ध्यान करते रहे और उनसे संबंधित कोई मंत्र का जाप करता रे करते रहे जैसे यदि आप शिव भगवान शिव में आस्था रखते हैं तो यदि आप ओम नमः शिवाय का जाप कर रहे हैं तो आप ओम नमः शिवाय का जाप करते रहें और आपके ध्यान में भगवान शिव की साक्षात या उनकी शिवलिंग वाली प्रतिमा आपके दिमाग में विद्यमान होनी चाहिए और आप अपना फोकस केवल उन्हीं पर रखें निश्चित रूप से आपका ध्यान कुछ दिनों बाद एकाग्र हो जाएगा और आप यादव छमता एकाग्रता में पर्याप्त वृद्धि होगी धन्यवाद

bolkar speaker
माला जपने के समय ध्यान इधर-उधर भटकने लगता है, क्या आप बता सकते है कि माला जपने का सही तरीका क्या है?Maala Japane Ke Samay Dhyaan Idhar-udhar Bhatakane Lagata Hai Kya Aap Bata Sakate Hai Ki Maala Japane Ka Sahee Tareeka Kya Hai
Trainer Yogi Yogendra Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trainer जी का जवाब
Motivational Speaker | Career Coach | Corporate Trainer | Marketing & Management Expert's. Follow Us YouTube channel : https://www.youtube.com/channel/UCKY3o0Bey-4L8mWF9hyTRdQ
1:20
हेलो फ्रेंड्स आज हम जिसके रोशन के बारे में बात करने वाले हैं वह है की माला जपते अपने के समय ध्यान इधर-उधर भटकने लगता है क्या बता सकते हैं कि माला जपने का सही तरीका क्या है लेकिन माला जपने का तो वही तरीका होता है लेकिन आपके माइंड का जो तरीका है वह गलत है क्योंकि आप सोचते और विचार से ज्यादा है आपके माइंड में जो है सोच और विचार ज्यादा जलते हैं यही कारण होता है कि आप अपने आप को एक जगह कागज नहीं कर पाते और इसी कारण आपका ध्यान इधर-उधर ज्यादा भटक जाता है चाहे वह माला जपना हो चाहे स्टडी करना हो चाहे वह बिजनेस करना हो या किसी भी तरह का काम करना है जब तक वहां पर क्या कर चुकता नहीं आएगी तब तक हम जो हैं वहां पर फोकस नहीं कर पाएंगे और उस फोकस को बनाने के लिए हमें रेगुलरली ध्यान करना चाहिए ध्यान एक बहुत जबरदस्त वाली जो है सिस्टम है अगर उसको रेगुलर इंसान करता है तो उसका कौन से स्टेशन पावर बहुत ज्यादा बढ़ जाता है और वह हर चीज को पान के लिए जो है पूरा फोकस लगाने लगता है और जब आप ध्यान करेंगे मेडिटेशन करेंगे तो आप देखेंगे कि रेगुलर करते-करते आपका ध्यान लगने लगेगा आप माला पर भी अपना ध्यान लगाने लगेंगे और जैसे ही आप माला करेंगे तो आपका ध्यान इधर-उधर भटकना धीरे-धीरे बंद हो जाएगा जय हिंद
Helo phrends aaj ham jisake roshan ke baare mein baat karane vaale hain vah hai kee maala japate apane ke samay dhyaan idhar-udhar bhatakane lagata hai kya bata sakate hain ki maala japane ka sahee tareeka kya hai lekin maala japane ka to vahee tareeka hota hai lekin aapake maind ka jo tareeka hai vah galat hai kyonki aap sochate aur vichaar se jyaada hai aapake maind mein jo hai soch aur vichaar jyaada jalate hain yahee kaaran hota hai ki aap apane aap ko ek jagah kaagaj nahin kar paate aur isee kaaran aapaka dhyaan idhar-udhar jyaada bhatak jaata hai chaahe vah maala japana ho chaahe stadee karana ho chaahe vah bijanes karana ho ya kisee bhee tarah ka kaam karana hai jab tak vahaan par kya kar chukata nahin aaegee tab tak ham jo hain vahaan par phokas nahin kar paenge aur us phokas ko banaane ke lie hamen regularalee dhyaan karana chaahie dhyaan ek bahut jabaradast vaalee jo hai sistam hai agar usako regular insaan karata hai to usaka kaun se steshan paavar bahut jyaada badh jaata hai aur vah har cheej ko paan ke lie jo hai poora phokas lagaane lagata hai aur jab aap dhyaan karenge mediteshan karenge to aap dekhenge ki regular karate-karate aapaka dhyaan lagane lagega aap maala par bhee apana dhyaan lagaane lagenge aur jaise hee aap maala karenge to aapaka dhyaan idhar-udhar bhatakana dheere-dheere band ho jaega jay hind

bolkar speaker
माला जपने के समय ध्यान इधर-उधर भटकने लगता है, क्या आप बता सकते है कि माला जपने का सही तरीका क्या है?Maala Japane Ke Samay Dhyaan Idhar-udhar Bhatakane Lagata Hai Kya Aap Bata Sakate Hai Ki Maala Japane Ka Sahee Tareeka Kya Hai
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
1:07
बेटा भजन करने का अर्थ यह होता है कि मन को कंट्रोल में करना मन का एकाग्र करना ही भजन है जब मन एकाग्र नहीं होता है तो माला जपने का पत्र भी नाना मामा से गाना मामा चलता है धीरे-धीरे कंट्रोल करना सीखें धीरे-धीरे मन कंट्रोल होगा तभी जाकर कि आप जो है सार्थक हो पाएगा यह मन का कंफर्म करना थोड़ा बड़ी टेढ़ी खीर है यार किसी के लिए है तुम्हारे लिए भी है मेरे लिए भी है बड़े-बड़े तपस्वी और मुनियों के लिए भी है और जो इसको कंट्रोल कर लेते हैं एकाग्र कर लेते हैं वही है वही मनी है वही ऋषि है क्योंकि इसका कंट्रोल करना बहुत कठिन है बड़े-बड़े तपस्या का भी कंट्रोल में रहता है तो किसका प्रबल होता है मन का इसकी गति भाइयों से भी अधिक तेज है और भाई उससे भी ज्यादा चंचल है
Beta bhajan karane ka arth yah hota hai ki man ko kantrol mein karana man ka ekaagr karana hee bhajan hai jab man ekaagr nahin hota hai to maala japane ka patr bhee naana maama se gaana maama chalata hai dheere-dheere kantrol karana seekhen dheere-dheere man kantrol hoga tabhee jaakar ki aap jo hai saarthak ho paega yah man ka kampharm karana thoda badee tedhee kheer hai yaar kisee ke lie hai tumhaare lie bhee hai mere lie bhee hai bade-bade tapasvee aur muniyon ke lie bhee hai aur jo isako kantrol kar lete hain ekaagr kar lete hain vahee hai vahee manee hai vahee rshi hai kyonki isaka kantrol karana bahut kathin hai bade-bade tapasya ka bhee kantrol mein rahata hai to kisaka prabal hota hai man ka isakee gati bhaiyon se bhee adhik tej hai aur bhaee usase bhee jyaada chanchal hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • माला जपने का सही तरीका, माला जपने का तरीका, माला जपने का तरीका बताइए, माला जपने का तरीका बताओ, माला जपने का सही तरीका बताइए
URL copied to clipboard