#undefined

bolkar speaker

इंसान का मानसिक तनाव बढ़ना कब चालू हो जाता है?

Insaan Ka Mansik Tnaav Badhna Kab Chalu Ho Jata Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
1:48
नमस्कार इंसान का मानसिक तनाव बनना कब चालू हो जाता है देखिए जीवन में मानसिक तनाव कभी भी हो सकता है यह बचपन में भी हो सकता है और यह किशोरावस्था में भी हो सकता है यह जवानी में भी हो सके और बुढ़ापे में हो सकता है लेकिन जो सबसे खतरनाक जो स्टेज होती है वह थिफ्टीनेस की चैन किशोरावस्था में जिसको बच्चे संभाल नहीं पाते हैं और वह गलत कदम उठा लेते हैं लेकिन मेरा यह भी मानना है कि जो व्यक्ति की उम्र 20 साल से लेकर जब 35 40 साल की होती है तो उस वक्त तनाव बहुत ज्यादा होने की संभावना रहती है और इसके पीछे कारण यह है कि एक तो उस वक्त व्यक्ति को अपने जो कैरियर के बारे में सोचना पड़ता है या वह कैरियर का समय होता है उसको धन की आवश्यकता होती है और वह सफलता ही सफलता की वजह से हार मान लेता है या तनाव ग्रस्त हो जाता है इस वक्त विवाह होता है तो विवाह की वजह से कुछ युवा है वह मतलब नहीं कर पाते ही अपनी जो शादी है उस पर एड्रेस नहीं कर पाते हैं अपने पति या पत्नी के साथ उनके जो संबंध है वह सही तरीके से बंदी पाते हैं उनके विचार दाई मेल नहीं खाती है और जिसकी वजह से तनाव बढ़ जाता है और इसका उदाहरण आज ही के दिन एक टीवी जाने की फिल्म स्टार हैं उनका नाम सुरेंद्र सॉरी कुछ नाहर नार करके उन्होंने आज सुसाइड की आत्महत्या की है तो मतलब उनकी अभी अपनी पत्नी के साथ संबंध अच्छे नहीं थे की वजह से उनका यह कदम उठाना पड़ा तो सबसे जोखिम वाला समय 20 से लेकर 40 के बीच एक इस वक्त बहुत सारे जो स्ट्रगल आते हैं जीवन में जिसकी वजह से तनाव व्यस्त हो जाते हैं और उनको गलत करता है
Namaskaar insaan ka maanasik tanaav banana kab chaaloo ho jaata hai dekhie jeevan mein maanasik tanaav kabhee bhee ho sakata hai yah bachapan mein bhee ho sakata hai aur yah kishoraavastha mein bhee ho sakata hai yah javaanee mein bhee ho sake aur budhaape mein ho sakata hai lekin jo sabase khataranaak jo stej hotee hai vah thiphteenes kee chain kishoraavastha mein jisako bachche sambhaal nahin paate hain aur vah galat kadam utha lete hain lekin mera yah bhee maanana hai ki jo vyakti kee umr 20 saal se lekar jab 35 40 saal kee hotee hai to us vakt tanaav bahut jyaada hone kee sambhaavana rahatee hai aur isake peechhe kaaran yah hai ki ek to us vakt vyakti ko apane jo kairiyar ke baare mein sochana padata hai ya vah kairiyar ka samay hota hai usako dhan kee aavashyakata hotee hai aur vah saphalata hee saphalata kee vajah se haar maan leta hai ya tanaav grast ho jaata hai is vakt vivaah hota hai to vivaah kee vajah se kuchh yuva hai vah matalab nahin kar paate hee apanee jo shaadee hai us par edres nahin kar paate hain apane pati ya patnee ke saath unake jo sambandh hai vah sahee tareeke se bandee paate hain unake vichaar daee mel nahin khaatee hai aur jisakee vajah se tanaav badh jaata hai aur isaka udaaharan aaj hee ke din ek teevee jaane kee philm staar hain unaka naam surendr soree kuchh naahar naar karake unhonne aaj susaid kee aatmahatya kee hai to matalab unakee abhee apanee patnee ke saath sambandh achchhe nahin the kee vajah se unaka yah kadam uthaana pada to sabase jokhim vaala samay 20 se lekar 40 ke beech ek is vakt bahut saare jo stragal aate hain jeevan mein jisakee vajah se tanaav vyast ho jaate hain aur unako galat karata hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
इंसान का मानसिक तनाव बढ़ना कब चालू हो जाता है?Insaan Ka Mansik Tnaav Badhna Kab Chalu Ho Jata Hai
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
3:04
नमस्कार दोस्तों आयोजन ने पूछा है इंसान मानसिक तनाव बनना कब चालू होता है इसके बहुत सारे लक्षण से पहले आपको ही समझना पड़ेगा मानसिक तनाव है क्या और किस तरह का होता है विकी पूरी दुनिया में हजारों लोग मानसिक रोग से शिकार होते हैं इसका असर उनके साथ-साथ उनके परिवार को भी और जीवन से जुड़ा हमको भी उनके उमरी पड़ता है देखिए देखा गया कि हर चौथे इंसान में कभी ना कभी मानसिक रोग होते हैं और दुनिया भर में इसरो के बड़ा सबसे बड़ी वजह निराशा मानसिक रूप से जुड़ी एक संस्था की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले साल अमेरिका में 8 से 15 साल के बच्चों के दिन को मानसिक रोकथाम में से करीब 4% बच्चों का इलाज नहीं करवाया और 15 से ऊपर की उम्र के करीब 60% लोगों का इलाज नहीं हुआ पहले आपको समझना पड़ेगा मानसिक रोग है क्या है लेकिन होता क्या जब एक व्यक्ति ठीक से सोच नहीं पाता है उसका अपनी भावनाओं अपने व्यवहार को काबू नहीं रहता तो ऐसे हालत में से मानसिक रोग कहते हैं मानसिक रोगी आसानी से जो है दूसरों को समझ नहीं पाता दिल्ली के काम को अच्छे से कर नहीं पाता है उसको मुश्किलें आती हैं प्रथम लक्षण की बात करें तो वह मानसिक रोग के लक्षण जो हर व्यक्ति में अलग-अलग हो सकते हैं कि इस बात पर डिपेंड करता है कि वह कौन सी मानसिक बीमारी से ग्रसित है मानसिक रोग किसी को भी हो सकता है चाहे वह आदमी हो औरत को जवानिया बुजुर्ग पढ़ा लिखा अनपढ़ चाहे वह किसी भी धर्म या संस्कृति से जुड़ा हो सभी को सकता मानसिक रोगों का धन से अपना इलाज कराने से तो तू ही वह ठीक हो जाता और एक अच्छे खुशहाल जिंदगी जो है जी सकता है लेकिन ज्यादातर केस में लोग काउंसलिंग करवाने से डॉक्टरी परामर्श से डरते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि लोगों ने पागल के सुसाइड क्यों पागल समझेगी और यह समस्या और ज्यादा बढ़ जाती है मानसिक रोग भी बहुत टाइप के होते हैं तनाव डिप्रेशन चिड़चिड़ापन गुस्सा इस अभी इसके अंदर ही आते हैं पहले तनाव की बात करें तो तेजी से आ चुके थे जी के बढ़ते माहौल के कारण जो है इस पर शरीर और मन दोनों पर प्रभाव पड़ता है उसे इतना पहले तनाव दो तरह का हो सकता है कितना भी हो सकता है रत्ना भी तो जहां अच्छे थे आप तो वैसे आप अपनी नौकरी में प्रमोशन बातें हैं उन्नति होती है आपकी तो बहुत बातें हैं और वही बुरे तनाव को अगर आप किसी से गुस्से में बात कर लेते हैं इसके वजह से आपका जो है दिक्कत होना चुराते हैं परिवार कैसा काम स्कूल यह सब समाज के जो सामान्य कारण है अगर मैं लक्षणों की बात करूं सर दर्द पीठ दर्द नींद ना आना गुस्सा और हताश होना किसी एक चीज पर ध्यान ना लगना रोना दूसरों को नजरअंदाज करना यह सब लक्षण है उसके निपटाने की बात कह तो हमें अपनी जो है कि लाइफ में आपने जो हमारे रोटी ना उसमें काफी दिन जिद करने पड़ेंगे जैसा कि नियमित रूप से 20 से 30 किलोमीटर व्यायाम चलना व्यायाम करना यह सब आप को चेंज करना पड़ेगा अगर वो ज्यादा इसके बारे में आप जानकारी चाहते हैं तो मुझे मैसेज कर सकते हैं आपको क्योंकि आप कोई योग मेडिटेशन बहुत जरूरी है तो यह सब चीजों का आपका करना होगा आशा करता हूं आपको आपके सवाल का जवाब मिल गया होगा लाइक और सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Namaskaar doston aayojan ne poochha hai insaan maanasik tanaav banana kab chaaloo hota hai isake bahut saare lakshan se pahale aapako hee samajhana padega maanasik tanaav hai kya aur kis tarah ka hota hai vikee pooree duniya mein hajaaron log maanasik rog se shikaar hote hain isaka asar unake saath-saath unake parivaar ko bhee aur jeevan se juda hamako bhee unake umaree padata hai dekhie dekha gaya ki har chauthe insaan mein kabhee na kabhee maanasik rog hote hain aur duniya bhar mein isaro ke bada sabase badee vajah niraasha maanasik roop se judee ek sanstha kee riport ke mutaabik pichhale saal amerika mein 8 se 15 saal ke bachchon ke din ko maanasik rokathaam mein se kareeb 4% bachchon ka ilaaj nahin karavaaya aur 15 se oopar kee umr ke kareeb 60% logon ka ilaaj nahin hua pahale aapako samajhana padega maanasik rog hai kya hai lekin hota kya jab ek vyakti theek se soch nahin paata hai usaka apanee bhaavanaon apane vyavahaar ko kaaboo nahin rahata to aise haalat mein se maanasik rog kahate hain maanasik rogee aasaanee se jo hai doosaron ko samajh nahin paata dillee ke kaam ko achchhe se kar nahin paata hai usako mushkilen aatee hain pratham lakshan kee baat karen to vah maanasik rog ke lakshan jo har vyakti mein alag-alag ho sakate hain ki is baat par dipend karata hai ki vah kaun see maanasik beemaaree se grasit hai maanasik rog kisee ko bhee ho sakata hai chaahe vah aadamee ho aurat ko javaaniya bujurg padha likha anapadh chaahe vah kisee bhee dharm ya sanskrti se juda ho sabhee ko sakata maanasik rogon ka dhan se apana ilaaj karaane se to too hee vah theek ho jaata aur ek achchhe khushahaal jindagee jo hai jee sakata hai lekin jyaadaatar kes mein log kaunsaling karavaane se doktaree paraamarsh se darate hain kyonki unhen lagata hai ki logon ne paagal ke susaid kyon paagal samajhegee aur yah samasya aur jyaada badh jaatee hai maanasik rog bhee bahut taip ke hote hain tanaav dipreshan chidachidaapan gussa is abhee isake andar hee aate hain pahale tanaav kee baat karen to tejee se aa chuke the jee ke badhate maahaul ke kaaran jo hai is par shareer aur man donon par prabhaav padata hai use itana pahale tanaav do tarah ka ho sakata hai kitana bhee ho sakata hai ratna bhee to jahaan achchhe the aap to vaise aap apanee naukaree mein pramoshan baaten hain unnati hotee hai aapakee to bahut baaten hain aur vahee bure tanaav ko agar aap kisee se gusse mein baat kar lete hain isake vajah se aapaka jo hai dikkat hona churaate hain parivaar kaisa kaam skool yah sab samaaj ke jo saamaany kaaran hai agar main lakshanon kee baat karoon sar dard peeth dard neend na aana gussa aur hataash hona kisee ek cheej par dhyaan na lagana rona doosaron ko najarandaaj karana yah sab lakshan hai usake nipataane kee baat kah to hamen apanee jo hai ki laiph mein aapane jo hamaare rotee na usamen kaaphee din jid karane padenge jaisa ki niyamit roop se 20 se 30 kilomeetar vyaayaam chalana vyaayaam karana yah sab aap ko chenj karana padega agar vo jyaada isake baare mein aap jaanakaaree chaahate hain to mujhe maisej kar sakate hain aapako kyonki aap koee yog mediteshan bahut jarooree hai to yah sab cheejon ka aapaka karana hoga aasha karata hoon aapako aapake savaal ka javaab mil gaya hoga laik aur sabsakraib karen dhanyavaad

bolkar speaker
इंसान का मानसिक तनाव बढ़ना कब चालू हो जाता है?Insaan Ka Mansik Tnaav Badhna Kab Chalu Ho Jata Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:28
आलोट में स्वागत है आपका नाम का ब्रेसलेट इंसान का नंबर कब चालू हो जाता है तो फिर जब कोई इंसान किसी को बहुत ज्यादा टेंशन लेता है यार को नीचा दिखाने की कोशिश करता है वह दिन-रात उसी के पीछे पड़ जाता है तो उसका मानसिक तनाव बढ़ने लगता है या घर में उसको कोई दिखाने की कोशिश करता है यार जब किसी के साथ कोई अच्छा बर्ताव नहीं करता है तो उस इंसान का मन हो जाता है धन्यवाद
Aalot mein svaagat hai aapaka naam ka bresalet insaan ka nambar kab chaaloo ho jaata hai to phir jab koee insaan kisee ko bahut jyaada tenshan leta hai yaar ko neecha dikhaane kee koshish karata hai vah din-raat usee ke peechhe pad jaata hai to usaka maanasik tanaav badhane lagata hai ya ghar mein usako koee dikhaane kee koshish karata hai yaar jab kisee ke saath koee achchha bartaav nahin karata hai to us insaan ka man ho jaata hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • इंसान का मानसिक तनाव क्यों बढ़ता है, तनाव बढ़ना कब चालू होता है
URL copied to clipboard