#जीवन शैली

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:43

और जवाब सुनें

pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
0:41

Alina Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Alina जी का जवाब
Unknown
1:34

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:01

TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
1:23

GIRISH PARJAPTI Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए GIRISH जी का जवाब
Computer operators
1:37
तो मेरे अति मधुरता युक्त भाइयों और बहनों को गिरीश जी की तरफ से याद प्यार स्वीकार करना जी नोट जरूर नहीं सूत्र का शिकार कर लेना क्वेश्चन विषय में अपने सुख के साधनों में खुशी मिलती है ना इसको पहले समझ लेते हैं ना कि क्या होता है जो भी सावधान रहते हैं तो यह जो भी साधन निर्देश संबंधित रहते हैं क्या होता है इन चीजों को खरीदने के बाद उपयोग करने से मुंह से अटैच हो जाते हैं इसमें जुड़ा होना ठीक है किशन जुड़ाव महसूस कर लेते हैं फिर हमको उनसे खुशी मिलती है ना ठीक है अब दूसरी बातें दूसरों के सुख के साधनों को देखकर हमें खुशी का नंबर क्यों नहीं होता है दिल क्या होता है जब हम अपने साधनों का उपयोग करते हैं तो उसको इस तरह से मानते हैं ना ठीक है वह साधन कैसा भी हो क्योंकि उसमें अपना अभी तो रहता है साथ साथ में गोविंद घमंड है ना ठीक है इसलिए फिर क्या होता हम दूसरों को साधना को देखकर मैं खुशी नहीं होती है कि हमारा साधन अच्छा है हम मंजू यूज कर रहे हो नंबर वन है उसी कमी और खामियां में हम निकालते रहते हैं क्योंकि यह चीज हमें फिर क्या है इस समाज से दुनिया और बच्चों से भी सिखाई गई है अरे देखी है वह भी मालूम है हम भी माना हुए हैं ना वह भी उस चीज का साधन का उपयोग कर रहा है ना थोड़ा सा कुछ उसमें डिफरेंस होगा ठीक है तो ऐसा हो सकता है प्रश्न पूछने के लिए धन्यवाद थैंक्स शुक्रिया
To mere ati madhurata yukt bhaiyon aur bahanon ko gireesh jee kee taraph se yaad pyaar sveekaar karana jee not jaroor nahin sootr ka shikaar kar lena kveshchan vishay mein apane sukh ke saadhanon mein khushee milatee hai na isako pahale samajh lete hain na ki kya hota hai jo bhee saavadhaan rahate hain to yah jo bhee saadhan nirdesh sambandhit rahate hain kya hota hai in cheejon ko khareedane ke baad upayog karane se munh se ataich ho jaate hain isamen juda hona theek hai kishan judaav mahasoos kar lete hain phir hamako unase khushee milatee hai na theek hai ab doosaree baaten doosaron ke sukh ke saadhanon ko dekhakar hamen khushee ka nambar kyon nahin hota hai dil kya hota hai jab ham apane saadhanon ka upayog karate hain to usako is tarah se maanate hain na theek hai vah saadhan kaisa bhee ho kyonki usamen apana abhee to rahata hai saath saath mein govind ghamand hai na theek hai isalie phir kya hota ham doosaron ko saadhana ko dekhakar main khushee nahin hotee hai ki hamaara saadhan achchha hai ham manjoo yooj kar rahe ho nambar van hai usee kamee aur khaamiyaan mein ham nikaalate rahate hain kyonki yah cheej hamen phir kya hai is samaaj se duniya aur bachchon se bhee sikhaee gaee hai are dekhee hai vah bhee maaloom hai ham bhee maana hue hain na vah bhee us cheej ka saadhan ka upayog kar raha hai na thoda sa kuchh usamen dipharens hoga theek hai to aisa ho sakata hai prashn poochhane ke lie dhanyavaad thainks shukriya

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • साधनों की खुशी सुख सुविधा
URL copied to clipboard