#रिश्ते और संबंध

TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
4:06
आपका दोस्त इस योजना को 6 बेटियां अपने पापा और बेटे अपनी मां के प्रति इतनी प्रिय क्यों होते हैं कि आपके जो क्वेश्चन पूछा उसका अनुसार देखिए बेटा और बेटी दोनों ही मां-बाप के अंश होते हैं और वह दोनों से ही प्यार करते हैं हां देखी फर्क सिर्फ इतना हो सकता है कि आज ऐसा क्यों बोला गया कि हो सकता है कि बाप बेटी से बहुत ज्यादा प्यार करता हूं यह और यह भी हो सकता है कि आप जवाब बेटे से बहुत ज्यादा प्यार करता हूं मैं जो है दोनों में से किसी से बहुत ज्यादा प्यार करता हूं या दूसरे को बहुत ज्यादा प्यार करता हूं इसलिए बात नहीं है कि अगर बेटी एक जरूरी बात नहीं है क्या करें जो बेटा अपने मां है जो अपने बेटे से बहुत ज्यादा प्यार करता हूं इसका मतलब यह नहीं कि उन्हें बेटे से बिल्कुल भी प्यार नहीं करती उसके पति उस किसने गाया उसके ममता नहीं है इसके पीछे एक सबसे बड़ी जो एक मानसिकता है वह यह है क्योंकि मां बेटे से ज्यादा डर इसलिए होती है क्योंकि उसको ल पता है कि बेटी की वजह से मान सम्मान तो से एक अच्छा तब का जो है मिला है जो कि एक सिम सोच है इस चीज के सपोर्ट में नहीं होना यही चीज को सोच है लोगों की कि बेटा पैदा करती हो तो बहुत अच्छा बुलाया था अच्छा माना जाता है बेटी करेगा तू नींदों की सोच गलत थी पहले भी सकता है कि जैसे आपने क्वेश्चन पूछा हो सकता मां के मन में हो कि शायद उसे जो भी चीजें मिली है बेटे की वजह से मिले तो उसको सकता है उसका स्नेह है जो है उसके प्रति ज्यादा हो यह भी लगता है कि आने वाले समय में बुढ़ापे में बैठा जो उसको अपने साथ रखेगा और उसका सहारा बनेगा और अमीर पिता की बस की बात करें तो पिता को तो एक पालनहार तो बोलते हैं और साथ में वह सिक्योरिटी अपनी बेटियों से उसके सिक्योरिटी की गारंटी है उसकी रक्षा की गारंटी है और प्यार इसलिए करता है एक कि मुझे बहुत ही अच्छा भेजा है कि आपको लगता है कि जो मेरी बेटी है उसका उसकी रक्षा करना जान एक से प्रोटेक्ट करना उसका अधर में इसीलिए उसको उसके प्रति बहुत नहीं होता है क्योंकि तब आपके लिए जो एक बेटी उसकी होती वहीं इसकी सबसे बड़ी दौलत होती है वही उसकी सबसे बड़ी इज्जत होती है ईटीवी अपने बाप के प्रति रोहित नहीं रखती है और उसकी हर जरूरत का ध्यान रखती है खुदा क्या बेटे जब बड़े हो जाते हैं तो मुस्लिम वह घर से बाहर चले जाते हैं बाहर जाने के बाद अक्सर बेपरवाह हो जाते हैं ना उनको अपने परिवार के कुछ वक्त तक चिंता रहती है और ना शायद वह समय भी नहीं दे पाते हैं कि अक्सर अपने मां-बाप के नजदीक रहती है तो तू भी उनका सबसे ज्यादा ख्याल रखती है घर का काम करके उनकी जरूरतें पूरी करती है इन सभी को देखते हुए जो है कि ताकि वह अपनी बेटी के साथ जो है बहुत ज्यादा टाइम थोड़ी गहरा रिश्ता होता जाता है बेटी भी अपनी बात को इतना ही अपना रोल मॉडल जो है मानती है इन्हीं दोनों की आपसी रिश्ते के कारण होगा हम उन तथ्यों को पहुंचे की बेटी अपने पिता पिता और बेटी अपनी महत्व प्रतीक तथा फ्री होते हैं अगर हम ए मनोवैज्ञानिक साइकोलॉजी के हिसाब से कहें तो जो सबसे बड़े मनोवैज्ञानिक माने जाते हैं स्कूल में फ्लाइट उनके अनुसार ऑडिटर्स के कारण जो है बाप अपनी बेटी से और मां अपने बेटे से ज्यादा प्यार करती है और चूहे का मिथिला करैक्टर है जिसमें बापू जी हां अपना मानता है इसी के कारण जो है बेटा अपने बाप को तरसे ऑप्शन की तरह मानता है अपनी मां के प्रति ज्यादा क्लोज होना चाहते हैं तू इश्क है ऐसा कि लॉजिकली है अपुन भी है यह कारण भी हो सकता है इन दोनों के अटैचमेंट के प्रति तो यह कुछ ऑप्शन से जैसे माफिया कुछ चीजें थी उनके आशा करता हूं मेरी बात को समझ पाएंगे लाइक और सब्सक्राइब करें धन्यवाद प्लीज मेरी प्रोफाइल को शेयर जरूर करें और सब्सक्राइब जरूर करें क्योंकि आपके सपोर्ट से ही मैं अपना लेवल आगे बढ़ा पाऊंगा धन्यवाद
Aapaka dost is yojana ko 6 betiyaan apane paapa aur bete apanee maan ke prati itanee priy kyon hote hain ki aapake jo kveshchan poochha usaka anusaar dekhie beta aur betee donon hee maan-baap ke ansh hote hain aur vah donon se hee pyaar karate hain haan dekhee phark sirph itana ho sakata hai ki aaj aisa kyon bola gaya ki ho sakata hai ki baap betee se bahut jyaada pyaar karata hoon yah aur yah bhee ho sakata hai ki aap javaab bete se bahut jyaada pyaar karata hoon main jo hai donon mein se kisee se bahut jyaada pyaar karata hoon ya doosare ko bahut jyaada pyaar karata hoon isalie baat nahin hai ki agar betee ek jarooree baat nahin hai kya karen jo beta apane maan hai jo apane bete se bahut jyaada pyaar karata hoon isaka matalab yah nahin ki unhen bete se bilkul bhee pyaar nahin karatee usake pati us kisane gaaya usake mamata nahin hai isake peechhe ek sabase badee jo ek maanasikata hai vah yah hai kyonki maan bete se jyaada dar isalie hotee hai kyonki usako la pata hai ki betee kee vajah se maan sammaan to se ek achchha tab ka jo hai mila hai jo ki ek sim soch hai is cheej ke saport mein nahin hona yahee cheej ko soch hai logon kee ki beta paida karatee ho to bahut achchha bulaaya tha achchha maana jaata hai betee karega too neendon kee soch galat thee pahale bhee sakata hai ki jaise aapane kveshchan poochha ho sakata maan ke man mein ho ki shaayad use jo bhee cheejen milee hai bete kee vajah se mile to usako sakata hai usaka sneh hai jo hai usake prati jyaada ho yah bhee lagata hai ki aane vaale samay mein budhaape mein baitha jo usako apane saath rakhega aur usaka sahaara banega aur ameer pita kee bas kee baat karen to pita ko to ek paalanahaar to bolate hain aur saath mein vah sikyoritee apanee betiyon se usake sikyoritee kee gaarantee hai usakee raksha kee gaarantee hai aur pyaar isalie karata hai ek ki mujhe bahut hee achchha bheja hai ki aapako lagata hai ki jo meree betee hai usaka usakee raksha karana jaan ek se protekt karana usaka adhar mein iseelie usako usake prati bahut nahin hota hai kyonki tab aapake lie jo ek betee usakee hotee vaheen isakee sabase badee daulat hotee hai vahee usakee sabase badee ijjat hotee hai eeteevee apane baap ke prati rohit nahin rakhatee hai aur usakee har jaroorat ka dhyaan rakhatee hai khuda kya bete jab bade ho jaate hain to muslim vah ghar se baahar chale jaate hain baahar jaane ke baad aksar beparavaah ho jaate hain na unako apane parivaar ke kuchh vakt tak chinta rahatee hai aur na shaayad vah samay bhee nahin de paate hain ki aksar apane maan-baap ke najadeek rahatee hai to too bhee unaka sabase jyaada khyaal rakhatee hai ghar ka kaam karake unakee jarooraten pooree karatee hai in sabhee ko dekhate hue jo hai ki taaki vah apanee betee ke saath jo hai bahut jyaada taim thodee gahara rishta hota jaata hai betee bhee apanee baat ko itana hee apana rol modal jo hai maanatee hai inheen donon kee aapasee rishte ke kaaran hoga ham un tathyon ko pahunche kee betee apane pita pita aur betee apanee mahatv prateek tatha phree hote hain agar ham e manovaigyaanik saikolojee ke hisaab se kahen to jo sabase bade manovaigyaanik maane jaate hain skool mein phlait unake anusaar oditars ke kaaran jo hai baap apanee betee se aur maan apane bete se jyaada pyaar karatee hai aur choohe ka mithila karaiktar hai jisamen baapoo jee haan apana maanata hai isee ke kaaran jo hai beta apane baap ko tarase opshan kee tarah maanata hai apanee maan ke prati jyaada kloj hona chaahate hain too ishk hai aisa ki lojikalee hai apun bhee hai yah kaaran bhee ho sakata hai in donon ke ataichament ke prati to yah kuchh opshan se jaise maaphiya kuchh cheejen thee unake aasha karata hoon meree baat ko samajh paenge laik aur sabsakraib karen dhanyavaad pleej meree prophail ko sheyar jaroor karen aur sabsakraib jaroor karen kyonki aapake saport se hee main apana leval aage badha paoonga dhanyavaad

और जवाब सुनें

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:10
अपने पापा और बेटे अपनी मां की प्रिय पति जो है उसके ससुराल चली जाती है और जो जी पिताजी जो थे वह ज्यादा से ज्यादा अपनी यानी की बेटी के लिए वह करना चाहते हैं कि यह चली जाएगी जितना हो सके प्यार कर लिया जाए तो इस वजह से बेटियों को पकड़ के प्रति कुछ ज्यादा ही प्रेम बताया गया है आजकल तो पापा की परी पापा की परी इत्यादि लेकर कभी हमसे भी बनते हैं और पुत्रों की जांच की जाए वह अपनी मां के प्रति यूनिट ने प्रेस लिए होते हैं क्योंकि पापा से पटवार पड़ती है पुत्र को और मां जो है उस की तरफदारी करते हैं क्योंकि बचाने वाला भी तो कोई एक होना चाहिए ना इसी वजह से मां के प्रति पुत्र और पिता के प्रति बेटी ज्यादा प्रयोग होती है कहते हैं हम पिता होता है अपने बेटे और बेटियों से सामान और जब जमा होती है वह भी समान रूप से प्रेम करते हैं धन्यवाद
Apane paapa aur bete apanee maan kee priy pati jo hai usake sasuraal chalee jaatee hai aur jo jee pitaajee jo the vah jyaada se jyaada apanee yaanee kee betee ke lie vah karana chaahate hain ki yah chalee jaegee jitana ho sake pyaar kar liya jae to is vajah se betiyon ko pakad ke prati kuchh jyaada hee prem bataaya gaya hai aajakal to paapa kee paree paapa kee paree ityaadi lekar kabhee hamase bhee banate hain aur putron kee jaanch kee jae vah apanee maan ke prati yoonit ne pres lie hote hain kyonki paapa se patavaar padatee hai putr ko aur maan jo hai us kee taraphadaaree karate hain kyonki bachaane vaala bhee to koee ek hona chaahie na isee vajah se maan ke prati putr aur pita ke prati betee jyaada prayog hotee hai kahate hain ham pita hota hai apane bete aur betiyon se saamaan aur jab jama hotee hai vah bhee samaan roop se prem karate hain dhanyavaad

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:41
डिफाइन स्वागत है आपका आपका कृष्ण बेटी अपने पापा और बेटे ने मां के गने पर क्यों होते हैं तो फ्रेंड से बेटियां अपने पापा को ज्यादा प्यार करती है क्योंकि पापा भी उन्हें बहुत चाहते हैं और जो बैठे हैं वह अपनी मां को हर बात बताते हैं क्योंकि यह अपने मन से ही लगाव होता है बेटियों को अपने पापा से लगाव होता है और बेटों को अपनी मां से लगाओ होता है यह प्राकृतिक देनी है तो इसलिए वे एक दूसरे से अत्यधिक प्यार करते हैं बेटियां अपनी सब बातें अपने पापा को बताती है सारी ख्वाहिशें उनसे पूरी करती हैं सब सामान मंगाती है और बेटे उनको कुछ चाहिए तो अपनी मां को बताते हैं धन्यवाद

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • बेटी अपने पापा की और बेटे अपने मां के प्रति प्रिय होते हैं ऐसा क्यों, बेटियां अपने पिता और बेटे अपनी मां के प्रति प्रिय होते हैं इसका कारण क्या है
URL copied to clipboard