#खेल कूद

bolkar speaker

आदिवासियों का मसीहा उपनाम से किसे जाना जाता है?

Aadivasiyon Ka Maseeha Upnaam Se Kise Jana Jata Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:26
वासियों का मर्सिया उपनाम से किसे जाना जाता है दोस्तों मोतीलाल तेजावत कि वह आदिवासियों का मसीहा के नाम से जाना जाता है उन्होंने भील गरासिया दी जो भी जनजाति दी तथा अन्य हथियारों पर होने वाली सामंती अत्याचार का विरोध किया था उन्होंने एकजुट किया था तो उन्होंने मनवाची संघ की स्थापना की थी मोतीलाल तेजावत धन्यवाद
Vaasiyon ka marsiya upanaam se kise jaana jaata hai doston moteelaal tejaavat ki vah aadivaasiyon ka maseeha ke naam se jaana jaata hai unhonne bheel garaasiya dee jo bhee janajaati dee tatha any hathiyaaron par hone vaalee saamantee atyaachaar ka virodh kiya tha unhonne ekajut kiya tha to unhonne manavaachee sangh kee sthaapana kee thee moteelaal tejaavat dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
आदिवासियों का मसीहा उपनाम से किसे जाना जाता है?Aadivasiyon Ka Maseeha Upnaam Se Kise Jana Jata Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:52
शिवाजी के आदिवासियों का मसीहा उपनाम से किसे जाना जाता हूं कब होती है उपनाम से बीडी शर्मा को जाना जाता है आदिवासियों के लिए कई सरकारी नीतियों के निर्धारण में उन्होंने अहम भूमिका निभाई 1966 बैच के आईएएस अधिकारी डॉ शर्मा मौजूद छत्तीसगढ़ के बस्तर जिले के कलेक्टर के तौर पर आदिवासियों के पक्ष में खड़े रहने की बहुत चर्चा में रहे आदिवासियों और दलितों के लिए सरकारी नीतियों को लेकर उनके और सरकार के मतभेद के कारण 1981 में उन्होंने नौकरी छोड़ दी थी लेकिन गरीबों आदिवासियों और दलितों के लिए उनका संघर्ष जारी रहा सरकार ने 1981 में ही उन्हें नॉर्थईस्ट यूनिवर्सिटी का वाइस चांसलर बनाकर शिलांग भेजा था अपने 5 साल के कार्यकाल में उन्होंने वहां भी खूब लोकप्रियता हासिल की थी
Shivaajee ke aadivaasiyon ka maseeha upanaam se kise jaana jaata hoon kab hotee hai upanaam se beedee sharma ko jaana jaata hai aadivaasiyon ke lie kaee sarakaaree neetiyon ke nirdhaaran mein unhonne aham bhoomika nibhaee 1966 baich ke aaeeees adhikaaree do sharma maujood chhatteesagadh ke bastar jile ke kalektar ke taur par aadivaasiyon ke paksh mein khade rahane kee bahut charcha mein rahe aadivaasiyon aur daliton ke lie sarakaaree neetiyon ko lekar unake aur sarakaar ke matabhed ke kaaran 1981 mein unhonne naukaree chhod dee thee lekin gareebon aadivaasiyon aur daliton ke lie unaka sangharsh jaaree raha sarakaar ne 1981 mein hee unhen northeest yoonivarsitee ka vais chaansalar banaakar shilaang bheja tha apane 5 saal ke kaaryakaal mein unhonne vahaan bhee khoob lokapriyata haasil kee thee

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • आदिवासियों का मसीहा उपनाम से किसे जाना जाता है मसीहा उपनाम से किसे जाना जाता है
URL copied to clipboard