#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

क्या सर्वोच्च न्यायालय किसी भी परिस्थिति में कोई कानून बना सकती है?

Kya Sarwochch Nyayalay Kisi Bhi Paristhiti Mein Koi Kanoon Bana Sakti Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:53
प्रज्ञा का सर्वोच्च न्यायालय किसी भी परिस्थिति में को कानून बना सकती हैं या दोस्तों किसी भी परिस्थिति में सर्वोच्च न्यायालय जो है वह कानून तो बना सकती है परंतु उस कानून को बनाने के बाद यदि इस कानून को यदि कोई तोड़ निकाल सकता है तो वह सिर्फ संसद ही रह जाती है तो परिस्थिति के अनुसार सर्वोच्च न्यायालय कानून बना सकती है संशोधन कर सकती है परंतु इसको हटाने का जज्बा है तो फिर संसद के पास होता है आपको पता है चैटिंग का शेड्यूल ट्राइब 199 इंस्पेक्टर सिटी एक्ट के नाम से भी जानते हैं और क्या किया जाएगा सर्वोच्च न्यायालय में काफी बदलाव कर दिया था और बदलाव करने के बाद एक चरण का शेड्यूल ट्राइब लोगों के द्वारा एक बहुत ही बड़ा आंदोलन किया गया और उसे आंदोलन के बाद संसद में जो है इसको वापस पूर्व स्थिति में लागू कर दिया था
Pragya ka sarvochch nyaayaalay kisee bhee paristhiti mein ko kaanoon bana sakatee hain ya doston kisee bhee paristhiti mein sarvochch nyaayaalay jo hai vah kaanoon to bana sakatee hai parantu us kaanoon ko banaane ke baad yadi is kaanoon ko yadi koee tod nikaal sakata hai to vah sirph sansad hee rah jaatee hai to paristhiti ke anusaar sarvochch nyaayaalay kaanoon bana sakatee hai sanshodhan kar sakatee hai parantu isako hataane ka jajba hai to phir sansad ke paas hota hai aapako pata hai chaiting ka shedyool traib 199 inspektar sitee ekt ke naam se bhee jaanate hain aur kya kiya jaega sarvochch nyaayaalay mein kaaphee badalaav kar diya tha aur badalaav karane ke baad ek charan ka shedyool traib logon ke dvaara ek bahut hee bada aandolan kiya gaya aur use aandolan ke baad sansad mein jo hai isako vaapas poorv sthiti mein laagoo kar diya tha

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या सर्वोच्च न्यायालय किसी भी परिस्थिति में कोई कानून बना सकती है?Kya Sarwochch Nyayalay Kisi Bhi Paristhiti Mein Koi Kanoon Bana Sakti Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:48
सर्वोच्च न्यायालय हमारे देश में तीन न्यायपालिका कार्यपालिका होती है ना उस कार्यपालिका हुई और विधि हिसाब से जो दिया सारी चीजें कहां किस पर हैं लोकसभा और सरकार पर निर्भर करते हैं तो जब लोकसभा में जो हमारे चुने हुए जनप्रतिनिधि आते हैं जिनको हम एमपी और एमएलए कहते हैं वहां जो अपनी बातें रखते हैं वहां कानून प्रस्तुत किए जाते हैं और जब देख लेते हैं कि जनता ने वाकई इसकी जरूरत है तो सब जब उसको विधि सम्मत तरीके से कानून बना करके और तो राष्ट्रपति के हस्ताक्षर से जब उससे गजल करा दिया तो वह कानून तो वह न्यायालय उसका पालन करता है उसके व्यवस्था की गई है और न्यायालय अपने मन से कोई कानून बना नहीं सकता है नाले के पास कानून बनाने का कोई अधिकार नहीं है
Sarvochch nyaayaalay hamaare desh mein teen nyaayapaalika kaaryapaalika hotee hai na us kaaryapaalika huee aur vidhi hisaab se jo diya saaree cheejen kahaan kis par hain lokasabha aur sarakaar par nirbhar karate hain to jab lokasabha mein jo hamaare chune hue janapratinidhi aate hain jinako ham emapee aur emele kahate hain vahaan jo apanee baaten rakhate hain vahaan kaanoon prastut kie jaate hain aur jab dekh lete hain ki janata ne vaakee isakee jaroorat hai to sab jab usako vidhi sammat tareeke se kaanoon bana karake aur to raashtrapati ke hastaakshar se jab usase gajal kara diya to vah kaanoon to vah nyaayaalay usaka paalan karata hai usake vyavastha kee gaee hai aur nyaayaalay apane man se koee kaanoon bana nahin sakata hai naale ke paas kaanoon banaane ka koee adhikaar nahin hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या अधिकारों पर उचित प्रतिबंध लगाना सही है, मौलिक अधिकार को कौन निलंबित कर सकता है, कौन सा अधिकार नागरिकों को अदालत में जाने की अनुमति देता है
URL copied to clipboard