#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

प्राचीन काव्य ग्रंथों में चकवा पंछी की इतनी अधिक उपमा क्यों दी जाती थी?

Praacheen Kavya Granthon Mein Chakava Panchi Ki Itni Adhik Upma Kyun Di Jati Thi
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:52
काव्य ग्रंथों में चकोर पंछी की इतनी अधिक उपमा क्यों दी जाती है दोस्तों का तिनका में 2 ग्राम पर अधिक उपमा इसलिए दी जाती है कभी चकवा पक्षी और इसकी जो नर और मादा दोनों का जोड़ा जो है काफी प्रेम के साथ दर्शाया जाता है जो अपने दौरे के साथ हमेशा खुश रहता है और कहा जाता है कि जब तक वह पक्षी की पत्नी यानि कि जो मादा होती है वह उसको छोड़ कर चली जाती है तो उसको काफी दुख और कष्ट होता है इस चीज को लेकर और यही कारण है कि इनकी प्रेम कथा और इनके द्वारा एक दूसरे को छोड़े जाने पर जब दुख व्यक्त है इस प्रेम को ही प्राचीन काव्य ग्रंथों में दर्शाया गया है
Kaavy granthon mein chakor panchhee kee itanee adhik upama kyon dee jaatee hai doston ka tinaka mein 2 graam par adhik upama isalie dee jaatee hai kabhee chakava pakshee aur isakee jo nar aur maada donon ka joda jo hai kaaphee prem ke saath darshaaya jaata hai jo apane daure ke saath hamesha khush rahata hai aur kaha jaata hai ki jab tak vah pakshee kee patnee yaani ki jo maada hotee hai vah usako chhod kar chalee jaatee hai to usako kaaphee dukh aur kasht hota hai is cheej ko lekar aur yahee kaaran hai ki inakee prem katha aur inake dvaara ek doosare ko chhode jaane par jab dukh vyakt hai is prem ko hee praacheen kaavy granthon mein darshaaya gaya hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
प्राचीन काव्य ग्रंथों में चकवा पंछी की इतनी अधिक उपमा क्यों दी जाती थी?Praacheen Kavya Granthon Mein Chakava Panchi Ki Itni Adhik Upma Kyun Di Jati Thi
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:45
प्राचीन काल में जो चकवा पक्षी होता था एक महात्मा की तरह होता तो केवल अमृत की एक ही भूल जो बरसात में उसको मिलती थी उसका जीवन यापन होता था उसी दिन के लिए उच्च चकवा चकई उसकी प्रतीक्षा करते थे वह एक संत पक्षियों ने माना जाता है कि सुधारों ईश्वर की तपस्या के लिए वर्षा की ओर हमेशा ताकता रहता है और प्रभु का नाम लेता रहता है इसलिए उसकी जो है हमेशा वर्णन किया गया है कि वे को चंद्रमा की की ओर देखता रहता की अमृत की बूंद आ करके उसके मुंह पर पड़े और उसका जीवन जो है सार्थक हो जाए
Praacheen kaal mein jo chakava pakshee hota tha ek mahaatma kee tarah hota to keval amrt kee ek hee bhool jo barasaat mein usako milatee thee usaka jeevan yaapan hota tha usee din ke lie uchch chakava chakee usakee prateeksha karate the vah ek sant pakshiyon ne maana jaata hai ki sudhaaron eeshvar kee tapasya ke lie varsha kee or hamesha taakata rahata hai aur prabhu ka naam leta rahata hai isalie usakee jo hai hamesha varnan kiya gaya hai ki ve ko chandrama kee kee or dekhata rahata kee amrt kee boond aa karake usake munh par pade aur usaka jeevan jo hai saarthak ho jae

bolkar speaker
प्राचीन काव्य ग्रंथों में चकवा पंछी की इतनी अधिक उपमा क्यों दी जाती थी?Praacheen Kavya Granthon Mein Chakava Panchi Ki Itni Adhik Upma Kyun Di Jati Thi
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:47
सवाल ये है कि प्राचीन काव्य ग्रंथों में चकवा पंछी की इतनी अधिक उपमा क्यों जाती जाती है यूसुफ पठान मडियादो चकवा चकवी के नाम से मशहूर चक्रवाक पक्षी सुनार नदी के कटान घटा घाट पर अपना ठिकाना बना रहे हैं यहां 2 + अक्सर दिखाई दे जाता है जानकारों की मानें तो लद्दाख में पाए जाने वाला पक्षी जून-जुलाई में प्रजनन करता है अक्टूबर माह तक प्रवासी पक्षी बनकर देश में कम ठंड होने की वजह से वाले क्षेत्रों में आ जाता है जानकारों की मानें तो यह प्रवास पर आए पक्षियों में पहला पक्षी होता है इसके बाद विभिन्न प्रकार के पक्षी यहां आ जाते हैं इन दिनों सुनार नदी में विभिन्न स्थानों पर चक्रवाक पक्षी दर्जनों की संख्या में सुबह-शाम नदी किनारे धूप देखते हैं क्या कर रही में जलीय वनस्पति घास फूस को अपना भोजन बनाते हैं और चकवा चकवी कबीर कहते हैं कि सांझ पड़े बीत गए चकवी दिन है आज चकवा चकवा वे देश को जहां रहना नहीं होए चकवी की विशेषता है कि सूरज उगने से शाम को सूरज ढलने तक के जोड़े में रहता है सूर्यास्त होते ही यह अलग अलग हो जाते हैं रामसेवक और तंतु बायर का कहना है कि नहीं गांव में नदी के पास खेती करने करने 1 साल से रुका है यहां बहुत बड़ी संख्या में चकवा चकवी पक्षी रहा करते थे लेकिन सूरज ढलने के बाद आधे पक्षी उस पार तो आधे पक्षी द्वारा जाते थे रात्रि में कई बार अपने साथी को आवाज निकालकर उस साथी के सकुशल होने का संकेत लेते रहते थे कई लोग और भी ऐसे हैं जिनके द्वारा चकवा चकवी के जोड़ों को सूर्यास्त के बाद अलग-अलग देखा है जबकि दिन में यह साथ-साथ रहते हैं
Savaal ye hai ki praacheen kaavy granthon mein chakava panchhee kee itanee adhik upama kyon jaatee jaatee hai yoosuph pathaan madiyaado chakava chakavee ke naam se mashahoor chakravaak pakshee sunaar nadee ke kataan ghata ghaat par apana thikaana bana rahe hain yahaan 2 + aksar dikhaee de jaata hai jaanakaaron kee maanen to laddaakh mein pae jaane vaala pakshee joon-julaee mein prajanan karata hai aktoobar maah tak pravaasee pakshee banakar desh mein kam thand hone kee vajah se vaale kshetron mein aa jaata hai jaanakaaron kee maanen to yah pravaas par aae pakshiyon mein pahala pakshee hota hai isake baad vibhinn prakaar ke pakshee yahaan aa jaate hain in dinon sunaar nadee mein vibhinn sthaanon par chakravaak pakshee darjanon kee sankhya mein subah-shaam nadee kinaare dhoop dekhate hain kya kar rahee mein jaleey vanaspati ghaas phoos ko apana bhojan banaate hain aur chakava chakavee kabeer kahate hain ki saanjh pade beet gae chakavee din hai aaj chakava chakava ve desh ko jahaan rahana nahin hoe chakavee kee visheshata hai ki sooraj ugane se shaam ko sooraj dhalane tak ke jode mein rahata hai sooryaast hote hee yah alag alag ho jaate hain raamasevak aur tantu baayar ka kahana hai ki nahin gaanv mein nadee ke paas khetee karane karane 1 saal se ruka hai yahaan bahut badee sankhya mein chakava chakavee pakshee raha karate the lekin sooraj dhalane ke baad aadhe pakshee us paar to aadhe pakshee dvaara jaate the raatri mein kaee baar apane saathee ko aavaaj nikaalakar us saathee ke sakushal hone ka sanket lete rahate the kaee log aur bhee aise hain jinake dvaara chakava chakavee ke jodon ko sooryaast ke baad alag-alag dekha hai jabaki din mein yah saath-saath rahate hain

bolkar speaker
प्राचीन काव्य ग्रंथों में चकवा पंछी की इतनी अधिक उपमा क्यों दी जाती थी?Praacheen Kavya Granthon Mein Chakava Panchi Ki Itni Adhik Upma Kyun Di Jati Thi
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:57
हेलो एवरीवन स्वागत है आपका आपका प्रश्न है प्राचीन काव्य ग्रंथों में चकवा पक्षी की इतनी अधिक उम्र क्यों दी जाती है तो फ्रेंड्स जो प्राचीन काव्य ग्रंथ है तो चकवा पंछी इसलिए लोगों को अपने दी जाती है क्योंकि जो चकवा बनती है उनका जोड़ा बहुत ही फेमस माना जाता है और चकवा पंछी का जोड़ा जो नर और मादा होता है वे दोनों एक-दूसरे के साथ बहुत ही प्यार से भरा जीवन साथ निभाते हैं इसलिए इनके प्यार की उपमा दी जाती है यह दोनों एक दूसरे के साथ बहुत ही खुश रहते हैं और अगर भूलवश चकवा पंछी का जो माता जोड़ा है अगर सुंदर जोड़ी को छोड़कर चला जाए तो वह बहुत ज्यादा दुखी हो जाता है और खाना पीना सब कुछ त्याग देता है और बेहाल हो जाता है तो इसीलिए इनके प्रेम के नंबर जो भी है आपस में इनका प्रेम है उसी के संदर्भ में ही प्राचीन तंत्र ग्रंथों में इनकी उपमा दी गई है धन्यवाद
Helo evareevan svaagat hai aapaka aapaka prashn hai praacheen kaavy granthon mein chakava pakshee kee itanee adhik umr kyon dee jaatee hai to phrends jo praacheen kaavy granth hai to chakava panchhee isalie logon ko apane dee jaatee hai kyonki jo chakava banatee hai unaka joda bahut hee phemas maana jaata hai aur chakava panchhee ka joda jo nar aur maada hota hai ve donon ek-doosare ke saath bahut hee pyaar se bhara jeevan saath nibhaate hain isalie inake pyaar kee upama dee jaatee hai yah donon ek doosare ke saath bahut hee khush rahate hain aur agar bhoolavash chakava panchhee ka jo maata joda hai agar sundar jodee ko chhodakar chala jae to vah bahut jyaada dukhee ho jaata hai aur khaana peena sab kuchh tyaag deta hai aur behaal ho jaata hai to iseelie inake prem ke nambar jo bhee hai aapas mein inaka prem hai usee ke sandarbh mein hee praacheen tantr granthon mein inakee upama dee gaee hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • प्राचीन काव्य ग्रंथों में चकवा पंछी की इतनी अधिक उपमा क्यों दी जाती थी चकवा पंछी की इतनी अधिक उपमा क्यों दी जाती थी
URL copied to clipboard