#undefined

bolkar speaker

प्राचीन काल में जब कूलर एयर कंडीशनर नहीं थे तब लोग गर्मी से बचाव कैसे करते थे?

Prachin Kaal Mein Jab Coolar Air Conditionar Nahi The Tab Log Garmi Se Bachav Kaise Karte The
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:45
कल में जब कूलर एयर कंडीशनर नहीं थे तब लोग गर्मी से बचाव कैसे करते थे दो तो हर चीज का कोई ना कोई स्वाद होता है ना देखें आज प्रदूषण बढ़ रहा है उसमें प्रदूषण नहीं था इसलिए इंजॉय ग्लोबिंग वार्मिंग हो रही है और जो अधिक गर्मी अधिक सर्दी का पढ़ना को रहा है यह इस वजह से हो रहा है कि प्रदूषण है पहले नहीं था तो उस समय काफी जगह बताओ बात करें गर्मी से बचते हैं गर्मी से बचाव का सीधा तरीका यह था कि मकान मकान पक्के कच्चे मकान हुआ करते थे शानदार आप देखेंगे कि उनके ऊपर छिड़काव करते रहते
Kal mein jab koolar eyar kandeeshanar nahin the tab log garmee se bachaav kaise karate the do to har cheej ka koee na koee svaad hota hai na dekhen aaj pradooshan badh raha hai usamen pradooshan nahin tha isalie injoy globing vaarming ho rahee hai aur jo adhik garmee adhik sardee ka padhana ko raha hai yah is vajah se ho raha hai ki pradooshan hai pahale nahin tha to us samay kaaphee jagah batao baat karen garmee se bachate hain garmee se bachaav ka seedha tareeka yah tha ki makaan makaan pakke kachche makaan hua karate the shaanadaar aap dekhenge ki unake oopar chhidakaav karate rahate

और जवाब सुनें

bolkar speaker
प्राचीन काल में जब कूलर एयर कंडीशनर नहीं थे तब लोग गर्मी से बचाव कैसे करते थे?Prachin Kaal Mein Jab Coolar Air Conditionar Nahi The Tab Log Garmi Se Bachav Kaise Karte The
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:10
प्राचीन काल में जब सोलर एयर कंडीशनर नहीं थे तब लोग गर्मी से कैसे बचाव करते हुए आपने देखा होगा खसखस के नहीं झाड़ियों में खाता था उसके घर जिसको खर्च किया बोलते हैं इस खास की दरिया का विलोम प्रयोग करते थे छात्रों के ऊपर लोग ठानी सब पर लगा देते थे उसको पानी से गीला कर देते थे ताकि छोरी की रोशनी के कारण ताप जो है नीचे न पहुंच सके और जो खर्च की टट्टी में लगा कर के और उसमें पंखे से उसको हवाओं ने का एक साधन बना देते थे तो वह काफी ठंड आता था और वातावरण को शांत रखता था पहले के जमाने में जब यह नहीं थे तो लोग अपनी जमीन एक अच्छे लगते थे कच्ची रखने के कारण उनके अंदर एक जमीन पर जैसे बहुत ज्यादा बोलते हैं खुदरा में मनु पल पल पानी के शोध भी रहते थे वहां पर जाकर के लेट जाते थे उसे गर्मी में उनको काफी आनंद मिलता था क्योंकि वह जगह काफी ठंड आते थे और सूर्य की रोशनी जब ऊपर से आती है उस किताब को रोक लिया जाए तो भिजवा और बीच वाले स्थान में थोड़ा पानी और संस्कृतियों की व्यवस्था हवा के माध्यम से करा दी जाए तभी वह बिल्डिंग काफी ठंडी रहेगी और ऊपर वाले मकान भी काफी ठंड दे रहे
Praacheen kaal mein jab solar eyar kandeeshanar nahin the tab log garmee se kaise bachaav karate hue aapane dekha hoga khasakhas ke nahin jhaadiyon mein khaata tha usake ghar jisako kharch kiya bolate hain is khaas kee dariya ka vilom prayog karate the chhaatron ke oopar log thaanee sab par laga dete the usako paanee se geela kar dete the taaki chhoree kee roshanee ke kaaran taap jo hai neeche na pahunch sake aur jo kharch kee tattee mein laga kar ke aur usamen pankhe se usako havaon ne ka ek saadhan bana dete the to vah kaaphee thand aata tha aur vaataavaran ko shaant rakhata tha pahale ke jamaane mein jab yah nahin the to log apanee jameen ek achchhe lagate the kachchee rakhane ke kaaran unake andar ek jameen par jaise bahut jyaada bolate hain khudara mein manu pal pal paanee ke shodh bhee rahate the vahaan par jaakar ke let jaate the use garmee mein unako kaaphee aanand milata tha kyonki vah jagah kaaphee thand aate the aur soory kee roshanee jab oopar se aatee hai us kitaab ko rok liya jae to bhijava aur beech vaale sthaan mein thoda paanee aur sanskrtiyon kee vyavastha hava ke maadhyam se kara dee jae tabhee vah bilding kaaphee thandee rahegee aur oopar vaale makaan bhee kaaphee thand de rahe

bolkar speaker
प्राचीन काल में जब कूलर एयर कंडीशनर नहीं थे तब लोग गर्मी से बचाव कैसे करते थे?Prachin Kaal Mein Jab Coolar Air Conditionar Nahi The Tab Log Garmi Se Bachav Kaise Karte The
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:50
दोस्तों प्रार्थना है कि प्राचीन काल में जब कूलर एयर कंडीशनर नहीं थे तब लोग गर्मी से बचाव कैसे करते थे तो दोस्तों हम लोगों का शरीर जैसी जलवायु है उसके हिसाब से ढल जाती है अभी भी आप गांव में जाएंगे बहुत जगह जहां से 8 से 9 घंटे बिजली आती है वहां ना ही आपको कूलर मिलेगा ना ही वहां बहुत लोगों के घर पंखा मिलेगा तो लोगों के घर जो है कच्चे मकान हुआ करते थे कपड़े लेकर हुआ करते थे उससे घर ठंडा रहता था और पंखा लोग आते थे हमें भी याद है हमारे घर में ना ही ऐसी था नहीं कूलर था और उस समय छोटा टेबल फैन हुआ करता था तो उसमें हमें गर्मी नहीं लगती थी इतनी गर्मी लगती भी थी तो लोग ठंडे पानी से गर्मियों में काफी नहाते रहते थे और अभी भी गांव में जाएंगे तो ऐसी स्थिति होती है लेकिन हमारे शरीर उसके हिसाब से ढल जाती है आप देखते हैं कभी राजधानी गंधारी 5 मिनट के लेट हो जाती है गाड़ी तो लोग पसीने से लथपथ हो जाते हैं बहुत सारे व्यापारियों को या बहुत सारे यात्रियों को देखेंगे उसके पीछे ऐसा क्यों होता क्या है कि वह व्यक्ति हमेशा एसी में रहने वाला व्यक्ति है गाड़ी में रहने वाला इस गाड़ी में भी ऐसी है तो काफी पसीना निकलता है अगर वह ऐसी से वंचित होता है तो जो कि पसीना निकलना 1 पास के लिए भी अच्छा होता है तो बॉडी उसके साथ चिपक कर लेती है अभी भी बहुत सारे आप शहरों में भी देंगे और ना ही कूलर पंखा है वह बहुत गरीब व्यक्ति हैं जो बहन नहीं कर सकते टेंट में रहते हैं या मजदूर है उनके पास अभी भी नहीं है वह अभी भी जीवित हैं उनकी रोटी जो एसी में रहते हैं कूलर में उनसे ज्यादा स्ट्रांग है तो अभी भी चल रहा है धन्यवाद
Doston praarthana hai ki praacheen kaal mein jab koolar eyar kandeeshanar nahin the tab log garmee se bachaav kaise karate the to doston ham logon ka shareer jaisee jalavaayu hai usake hisaab se dhal jaatee hai abhee bhee aap gaanv mein jaenge bahut jagah jahaan se 8 se 9 ghante bijalee aatee hai vahaan na hee aapako koolar milega na hee vahaan bahut logon ke ghar pankha milega to logon ke ghar jo hai kachche makaan hua karate the kapade lekar hua karate the usase ghar thanda rahata tha aur pankha log aate the hamen bhee yaad hai hamaare ghar mein na hee aisee tha nahin koolar tha aur us samay chhota tebal phain hua karata tha to usamen hamen garmee nahin lagatee thee itanee garmee lagatee bhee thee to log thande paanee se garmiyon mein kaaphee nahaate rahate the aur abhee bhee gaanv mein jaenge to aisee sthiti hotee hai lekin hamaare shareer usake hisaab se dhal jaatee hai aap dekhate hain kabhee raajadhaanee gandhaaree 5 minat ke let ho jaatee hai gaadee to log paseene se lathapath ho jaate hain bahut saare vyaapaariyon ko ya bahut saare yaatriyon ko dekhenge usake peechhe aisa kyon hota kya hai ki vah vyakti hamesha esee mein rahane vaala vyakti hai gaadee mein rahane vaala is gaadee mein bhee aisee hai to kaaphee paseena nikalata hai agar vah aisee se vanchit hota hai to jo ki paseena nikalana 1 paas ke lie bhee achchha hota hai to bodee usake saath chipak kar letee hai abhee bhee bahut saare aap shaharon mein bhee denge aur na hee koolar pankha hai vah bahut gareeb vyakti hain jo bahan nahin kar sakate tent mein rahate hain ya majadoor hai unake paas abhee bhee nahin hai vah abhee bhee jeevit hain unakee rotee jo esee mein rahate hain koolar mein unase jyaada straang hai to abhee bhee chal raha hai dhanyavaad

bolkar speaker
प्राचीन काल में जब कूलर एयर कंडीशनर नहीं थे तब लोग गर्मी से बचाव कैसे करते थे?Prachin Kaal Mein Jab Coolar Air Conditionar Nahi The Tab Log Garmi Se Bachav Kaise Karte The
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:08
सवाल ये है कि प्राचीन काल में जब कूलर एयर कंडीशनर नहीं थे तो लोग गर्मी से कैसे बचाव करते थे तो उस समय दीवारों की चिनाई मिट्टी से की जाती थी और उनकी मोटाई लगभग 1 फीट तक होती जो तू सूरज की तेज गर्मी को रोकने में बहुत सहायक होती थी चिकनी मिट्टी आज प्रयोग में होने वाले सीमेंट की अपेक्षा में काफी कारगर थी घरों में दरवाजे और खिड़कियों की ज्यादा संख्या होती थी जो पूरी तरह से हवादार होने में सहायक होती थी इसका उदाहरण जैसे कि सुराणा की हवेली जिसमें दरवाजों और खिड़कियों की संख्या 1111 है इसी प्रकार मालजी का कमरा जारी कई पुराने घरों की बनावट ऐसी ही है झोपड़ी में रहने वाले लोग खाली बोरी को पानी में भिगोकर दरवाजे चारों तरफ लगा देते थे जो कूलर से भी अच्छी हवा देते थे घरों के आगे खाली जगह ज्यादा होती थी उसमें छायादार वृक्ष लगाए हुए रहते थे जो तापमान को नियंत्रित करते थे खानपान लोग रबड़ी एक पीतल परिहास दही और प्याज का अधिक सेवन करते थे जो शरीर का तापमान कम करने में सहायक थी
Savaal ye hai ki praacheen kaal mein jab koolar eyar kandeeshanar nahin the to log garmee se kaise bachaav karate the to us samay deevaaron kee chinaee mittee se kee jaatee thee aur unakee motaee lagabhag 1 pheet tak hotee jo too sooraj kee tej garmee ko rokane mein bahut sahaayak hotee thee chikanee mittee aaj prayog mein hone vaale seement kee apeksha mein kaaphee kaaragar thee gharon mein daravaaje aur khidakiyon kee jyaada sankhya hotee thee jo pooree tarah se havaadaar hone mein sahaayak hotee thee isaka udaaharan jaise ki suraana kee havelee jisamen daravaajon aur khidakiyon kee sankhya 1111 hai isee prakaar maalajee ka kamara jaaree kaee puraane gharon kee banaavat aisee hee hai jhopadee mein rahane vaale log khaalee boree ko paanee mein bhigokar daravaaje chaaron taraph laga dete the jo koolar se bhee achchhee hava dete the gharon ke aage khaalee jagah jyaada hotee thee usamen chhaayaadaar vrksh lagae hue rahate the jo taapamaan ko niyantrit karate the khaanapaan log rabadee ek peetal parihaas dahee aur pyaaj ka adhik sevan karate the jo shareer ka taapamaan kam karane mein sahaayak thee

bolkar speaker
प्राचीन काल में जब कूलर एयर कंडीशनर नहीं थे तब लोग गर्मी से बचाव कैसे करते थे?Prachin Kaal Mein Jab Coolar Air Conditionar Nahi The Tab Log Garmi Se Bachav Kaise Karte The
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:03
हेलो एवरीवन स्वागत है आपका आपका प्रश्न प्राचीन काल में जम्मू और एयर कंडीशनर नहीं थे तब लोग गर्मी से कैसे बचाव करते थे जो प्राचीन काल में इतनी गर्मी भी नहीं होती थी आजकल ग्लोबिंग वार्मिंग के कारण गर्मी भी बहुत ज्यादा हो रही है पहले लोग पंखा का पंखा तो बहुत समय से चल रहा है तो पंखे से गर्मी से बचाव करते थे और गांव में लोग तो नीम के पेड़ होते हैं इसी खुशी के नीचे बैठ जाते थे ठंडक महसूस करते थे इतने पेड़ पौधे और हरियाली भी पहले पहले इतनी वातावरण में गर्मी ही नहीं कि एसी और कूलर की जरूरत ही नहीं थी लेकिन आजकल इतना ज्यादा प्रदूषण बढ़ गया है उसके कारण इतनी ज्यादा गर्मी बढ़ गई है कि एयर कंडीशनर और कूलर की आवश्यकता पड़ रही है पहले इतना टेंपरेचर नहीं होता था आजकल बहुत ज्यादा गर्मी बढ़ रही है ठंड कम पड़ती है गर्मी ज्यादा पड़ती है तो पहले लोग इसी प्रकार बचाव करते थे ठंडा पानी पीते थे मटके का और पंखे की हवा लेते थे पेड़ पौधों के नीचे धन्यवाद
Helo evareevan svaagat hai aapaka aapaka prashn praacheen kaal mein jammoo aur eyar kandeeshanar nahin the tab log garmee se kaise bachaav karate the jo praacheen kaal mein itanee garmee bhee nahin hotee thee aajakal globing vaarming ke kaaran garmee bhee bahut jyaada ho rahee hai pahale log pankha ka pankha to bahut samay se chal raha hai to pankhe se garmee se bachaav karate the aur gaanv mein log to neem ke ped hote hain isee khushee ke neeche baith jaate the thandak mahasoos karate the itane ped paudhe aur hariyaalee bhee pahale pahale itanee vaataavaran mein garmee hee nahin ki esee aur koolar kee jaroorat hee nahin thee lekin aajakal itana jyaada pradooshan badh gaya hai usake kaaran itanee jyaada garmee badh gaee hai ki eyar kandeeshanar aur koolar kee aavashyakata pad rahee hai pahale itana temparechar nahin hota tha aajakal bahut jyaada garmee badh rahee hai thand kam padatee hai garmee jyaada padatee hai to pahale log isee prakaar bachaav karate the thanda paanee peete the matake ka aur pankhe kee hava lete the ped paudhon ke neeche dhanyavaad

bolkar speaker
प्राचीन काल में जब कूलर एयर कंडीशनर नहीं थे तब लोग गर्मी से बचाव कैसे करते थे?Prachin Kaal Mein Jab Coolar Air Conditionar Nahi The Tab Log Garmi Se Bachav Kaise Karte The
anuj ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
Unknown
0:40
नमस्कार दोस्तों बोलकर आप में स्वागत है सवाल की प्राचीन काल में जब कूलर एसी नहीं थे तब लोग गर्मी से बचाव कैसे करते हैं मेरा मानना यह है कि प्राचीन काल के लोग अर्थात पुराने जमाने के लोग एक प्याज रखा करते थे याद में गर्मी सोचने की क्षमता होती है और प्याज के रस से रात को सोते वक्त पैरों और हाथों पर विश का रस लगा लेते थे जिससे गर्मी से बचाव हो जाता हुआ और एक प्याज पॉकेट में भी रखते थे ताकि गर्मी सोंग प्ले
Namaskaar doston bolakar aap mein svaagat hai savaal kee praacheen kaal mein jab koolar esee nahin the tab log garmee se bachaav kaise karate hain mera maanana yah hai ki praacheen kaal ke log arthaat puraane jamaane ke log ek pyaaj rakha karate the yaad mein garmee sochane kee kshamata hotee hai aur pyaaj ke ras se raat ko sote vakt pairon aur haathon par vish ka ras laga lete the jisase garmee se bachaav ho jaata hua aur ek pyaaj poket mein bhee rakhate the taaki garmee song ple

bolkar speaker
प्राचीन काल में जब कूलर एयर कंडीशनर नहीं थे तब लोग गर्मी से बचाव कैसे करते थे?Prachin Kaal Mein Jab Coolar Air Conditionar Nahi The Tab Log Garmi Se Bachav Kaise Karte The
ekta Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए ekta जी का जवाब
Unknown
1:28
कुछ गया है प्राचीन काल में जब कूलर एयर कंडीशनर नहीं थे तब लोग गर्मी से बचाव कैसे करते थे तो देखे प्राचीन काल में जो घर बनाए जाते थे घर बनाने की व्यवस्था उसकी इंजीनियरिंग इतनी शानदार थी कि घर का टेंपरेचर लगभग 5 डिग्री सेंटीग्रेड बाहर के टेंपरेचर से कम होता था घरों का शेप घरों का डिजाइन कुछ इस तरीके से होता था कि बीच का हिस्सा उठा हुआ होता था लेकिन जो साइड वाला एरिया है जैसे घर साइड की तरफ बढ़ता जाता था बीच से और थोड़ा दबा दबा सा बना लेता तब बाहरी आउटर एरिया जो है बीच के पिक्चर काफी नीचे होता था तो बहुत ज्यादा गर्मी अगर के अंदर एंटर नहीं कर पाती थी उसके अलावा जो दिखा रहे थे वह मिट्टी के बने जाती थी और ऐसा कहा जाता है कि मिट्टी के दीवारें भी सांस लेती मिट्टी की मिट्टी की खासियत यह है कि वह सर्दी में गर्म गर्मी में ठंडी होती है यही कारण है कि अंदर का टेंपरेचर घर के जो है बार की अपेक्षा काफी कम रहता था और घर की डिजाइनिंग इतनी शानदार तेरी जाती फिर वेंटिलेशन इतना सही कहा जाता था कि गर्मी में टेंपरेचर 9 जून बहुत अच्छे सो जाता था और अगर उसके बावजूद भी अगर गर्मी ज्यादा लग रही है तो खिड़कियों पर मोटा कपड़ा जूतिया फिर भी मोटे कपड़े को गिला करके खिड़कियों पर सुखाया जाता है फिर उसे क्या पता कि गर्म हवा और जो है अंदर की तरफ ठंडी होकर आती थी उम्मीद करती हूं आपको मेरा जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद
Kuchh gaya hai praacheen kaal mein jab koolar eyar kandeeshanar nahin the tab log garmee se bachaav kaise karate the to dekhe praacheen kaal mein jo ghar banae jaate the ghar banaane kee vyavastha usakee injeeniyaring itanee shaanadaar thee ki ghar ka temparechar lagabhag 5 digree senteegred baahar ke temparechar se kam hota tha gharon ka shep gharon ka dijain kuchh is tareeke se hota tha ki beech ka hissa utha hua hota tha lekin jo said vaala eriya hai jaise ghar said kee taraph badhata jaata tha beech se aur thoda daba daba sa bana leta tab baaharee aautar eriya jo hai beech ke pikchar kaaphee neeche hota tha to bahut jyaada garmee agar ke andar entar nahin kar paatee thee usake alaava jo dikha rahe the vah mittee ke bane jaatee thee aur aisa kaha jaata hai ki mittee ke deevaaren bhee saans letee mittee kee mittee kee khaasiyat yah hai ki vah sardee mein garm garmee mein thandee hotee hai yahee kaaran hai ki andar ka temparechar ghar ke jo hai baar kee apeksha kaaphee kam rahata tha aur ghar kee dijaining itanee shaanadaar teree jaatee phir ventileshan itana sahee kaha jaata tha ki garmee mein temparechar 9 joon bahut achchhe so jaata tha aur agar usake baavajood bhee agar garmee jyaada lag rahee hai to khidakiyon par mota kapada jootiya phir bhee mote kapade ko gila karake khidakiyon par sukhaaya jaata hai phir use kya pata ki garm hava aur jo hai andar kee taraph thandee hokar aatee thee ummeed karatee hoon aapako mera javaab pasand aaya hoga dhanyavaad

bolkar speaker
प्राचीन काल में जब कूलर एयर कंडीशनर नहीं थे तब लोग गर्मी से बचाव कैसे करते थे?Prachin Kaal Mein Jab Coolar Air Conditionar Nahi The Tab Log Garmi Se Bachav Kaise Karte The
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:25
हेलो विवान तो आज आप का सवाल है कि प्राचीन काल में जब कूलर एवं कंडीशनर नहीं थे तब लोग गर्मी से बचाव कैसे करते थे और प्राचीन काल की बात करें तब इतना गर्मी नहीं होता था कितना पोलूशन इतनी सारी इंडस्ट्रीज ऐसा नहीं था जिसकी वजह से इतना गर्मी हो और जो भी तापमान है वह इतना गरम अभी इतने सारे मैसेज डिलीट कर देते अगर इनसे अभी की तुलना करें तो बहुत ज्यादा बहुत ज्यादा गर्मी होती है तो पहले इतना गर्मी नहीं होता था तो लोग क्या कर देती एफबी पर या फिर आज सीमेंटेड का घर नहीं होता था ऐसा घर बनाया जाता था पर लगाई जाती थी जैसे कल छतरी हूं क्या उसे इस तरह से बनाया जाता था ताकि मतलब कितना गर्मी ना लगे आप घर भी बना दें इसमें देखिए अगर हमें इस दृष्टि से भी घर घर बनाते हैं हाथ में लगाते हैं तो वह छत में लगाने में दो पल कुछ इंटर वगैरह रख देते ताकि मतलब है सृष्टि बहुत जल्दी गर्म हो जाता है इस वजह से गर्मी लगता है तो इस हिसाब से लगाया जाता है मतलब फुलेरा से करके बनाया जाता है ताकि मतलब इतना ज्यादा गर्मी ना लगे तो पहले भी ज्यादा से ज्यादा कर तो देखिए मिट्टी का होता था और मिट्टी के घर में इतना गर्मी नहीं लगता और ना ही तभी अभी की तुलना में इतना ज्यादा गर्मी होता था तभी के समय में भी ऐसा नहीं कि लोग जानते ही नहीं थे कि कैसे बनाना है क्या स्ट्रक्चर अगर नहीं जानते तो आज ताजमहल पहले ही बना होता तुम लोगों को पता था कि कैसे क्या स्ट्रक्चर क्या होना चाहिए उस हिसाब बना देते
Helo vivaan to aaj aap ka savaal hai ki praacheen kaal mein jab koolar evan kandeeshanar nahin the tab log garmee se bachaav kaise karate the aur praacheen kaal kee baat karen tab itana garmee nahin hota tha kitana polooshan itanee saaree indastreej aisa nahin tha jisakee vajah se itana garmee ho aur jo bhee taapamaan hai vah itana garam abhee itane saare maisej dileet kar dete agar inase abhee kee tulana karen to bahut jyaada bahut jyaada garmee hotee hai to pahale itana garmee nahin hota tha to log kya kar detee ephabee par ya phir aaj seemented ka ghar nahin hota tha aisa ghar banaaya jaata tha par lagaee jaatee thee jaise kal chhataree hoon kya use is tarah se banaaya jaata tha taaki matalab kitana garmee na lage aap ghar bhee bana den isamen dekhie agar hamen is drshti se bhee ghar ghar banaate hain haath mein lagaate hain to vah chhat mein lagaane mein do pal kuchh intar vagairah rakh dete taaki matalab hai srshti bahut jaldee garm ho jaata hai is vajah se garmee lagata hai to is hisaab se lagaaya jaata hai matalab phulera se karake banaaya jaata hai taaki matalab itana jyaada garmee na lage to pahale bhee jyaada se jyaada kar to dekhie mittee ka hota tha aur mittee ke ghar mein itana garmee nahin lagata aur na hee tabhee abhee kee tulana mein itana jyaada garmee hota tha tabhee ke samay mein bhee aisa nahin ki log jaanate hee nahin the ki kaise banaana hai kya strakchar agar nahin jaanate to aaj taajamahal pahale hee bana hota tum logon ko pata tha ki kaise kya strakchar kya hona chaahie us hisaab bana dete

bolkar speaker
प्राचीन काल में जब कूलर एयर कंडीशनर नहीं थे तब लोग गर्मी से बचाव कैसे करते थे?Prachin Kaal Mein Jab Coolar Air Conditionar Nahi The Tab Log Garmi Se Bachav Kaise Karte The
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:45
साले के प्राचीन काल में जब कूलर एयर कंडीशनर नहीं जाता लोग गर्मी से बचाव कैसे करते थे कि प्राचीन काल में लोग जो है अधिकतर पेड़ पौधों के नीचे बैठ कर के अपने को गर्मी से बचाया करते थे पहले इतने ज्यादा पेड़ हुआ करते थे घने घने पेड़ होते थे जिसकी वजह से कभी भी इतने ज्यादा मौसम में गर्मी का असर पता चलता ही नहीं था और दूसरी बात आज भी आपको बहुत ज्यादा पसीना है आप अभी भी बैठ कर के देख लीजिए पेड़ के नीचे आपको बहुत ही सुकून का अनुभव होगा तेज धूप में अगर आप काफी देर तक डावल कर रहे हो चल रहे हो आपको बहुत ज्यादा पसीना आ रहा है ऐसे समय में अगर किसी घने पेड़ की छाया आपको मिल जाता आपको तक उनके अनुभूति होती है और यही टेक्निक की यही चीज चीज का लोग पहले के जमाने में प्रयोग किया करते थे आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद
Saale ke praacheen kaal mein jab koolar eyar kandeeshanar nahin jaata log garmee se bachaav kaise karate the ki praacheen kaal mein log jo hai adhikatar ped paudhon ke neeche baith kar ke apane ko garmee se bachaaya karate the pahale itane jyaada ped hua karate the ghane ghane ped hote the jisakee vajah se kabhee bhee itane jyaada mausam mein garmee ka asar pata chalata hee nahin tha aur doosaree baat aaj bhee aapako bahut jyaada paseena hai aap abhee bhee baith kar ke dekh leejie ped ke neeche aapako bahut hee sukoon ka anubhav hoga tej dhoop mein agar aap kaaphee der tak daaval kar rahe ho chal rahe ho aapako bahut jyaada paseena aa raha hai aise samay mein agar kisee ghane ped kee chhaaya aapako mil jaata aapako tak unake anubhooti hotee hai aur yahee teknik kee yahee cheej cheej ka log pahale ke jamaane mein prayog kiya karate the aapaka din shubh rahe dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • प्राचीन काल में लोग गर्मी से कैसे बचते थे,
URL copied to clipboard