#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

क्या कोई भी व्यक्ति नागा साधु बन सकता है?

Kya Koi Bhi Vyakti Naga Sadhu Ban Sakta Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:50
फोटो सवालों का कोई भी व्यक्ति नागा साधु बन सकता है या दोस्तों नागा साधु कुछ भी कोई भी बन सकते परंतु नागा साधु बनने के लिए कुछ प्रोसेस होती है कुछ भी होते हैं और उनकी डिटेल लेने के लिए आपको कुशल जो एक लड़ाकू भी होना पड़ता है जरा कि इत्यादि दोस्तों उसको हर चीज तो होना पड़ता है उसको इसमें स्ट्रांग होना पड़ता है कि वह अपने गुप्ता मुझसे भी जो है लगभग पांच 7 किलो का जो भजन है बोल उठा ले तो किस कर लिया पर तो कोई भी सकता है परंतु जो पोजीशन है वह जो किया जाता है वह बहुत ज्यादा है चाइल्ड चलाना होती तलवार चलाना अपने शरीर को इनकी पीड़ा जो नागा साधु बहुत ज्यादा देते हैं
Photo savaalon ka koee bhee vyakti naaga saadhu ban sakata hai ya doston naaga saadhu kuchh bhee koee bhee ban sakate parantu naaga saadhu banane ke lie kuchh proses hotee hai kuchh bhee hote hain aur unakee ditel lene ke lie aapako kushal jo ek ladaakoo bhee hona padata hai jara ki ityaadi doston usako har cheej to hona padata hai usako isamen straang hona padata hai ki vah apane gupta mujhase bhee jo hai lagabhag paanch 7 kilo ka jo bhajan hai bol utha le to kis kar liya par to koee bhee sakata hai parantu jo pojeeshan hai vah jo kiya jaata hai vah bahut jyaada hai chaild chalaana hotee talavaar chalaana apane shareer ko inakee peeda jo naaga saadhu bahut jyaada dete hain

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या कोई भी व्यक्ति नागा साधु बन सकता है?Kya Koi Bhi Vyakti Naga Sadhu Ban Sakta Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:42
वीडियो पिक्चर नागा साधु बन सकते नागा साधु मालूम कौन बनता है नागा साधु वह बनते हैं जो काम क्रोध मद लोभ मोह माया मत सर इन सब चीजों को त्याग देता है तभी उनका शरीर से कोई लेना देना नहीं है मनुष्य समाज से कोई लेना देना उनके लिए काम क्रोध मद लोभ मोह माया सब निर्मल उपस्थित कोई अपना भोजन का साधन समझते हैं वैसे पानी जो कुछ नहीं मिल गया वही खाना खा लेते हैं यह होते थे नागा साधु और हमेशा को रात को अपने शरीर पर लगाए रहते थे धूनी रमाते थे जो मिल जाता तो खाते थे बस यही उनका हुआ
Veediyo pikchar naaga saadhu ban sakate naaga saadhu maaloom kaun banata hai naaga saadhu vah banate hain jo kaam krodh mad lobh moh maaya mat sar in sab cheejon ko tyaag deta hai tabhee unaka shareer se koee lena dena nahin hai manushy samaaj se koee lena dena unake lie kaam krodh mad lobh moh maaya sab nirmal upasthit koee apana bhojan ka saadhan samajhate hain vaise paanee jo kuchh nahin mil gaya vahee khaana kha lete hain yah hote the naaga saadhu aur hamesha ko raat ko apane shareer par lagae rahate the dhoonee ramaate the jo mil jaata to khaate the bas yahee unaka hua

bolkar speaker
क्या कोई भी व्यक्ति नागा साधु बन सकता है?Kya Koi Bhi Vyakti Naga Sadhu Ban Sakta Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
4:35
सवाल यह है कि क्या कोई भी व्यक्ति नाम साधु बन सकता है तो जी हां बन सकता है लेकिन शर्त यह होगी कि उसे कड़े नियमों का पालन करना होगा जैसे कि एक नाग साधू को अधिक से अधिक 7 घरों में भिक्षा लेने का अधिकार है नाग साधू सोने के लिए पलंग खटिया ने किसी का नहीं कर सकता रिक्शा के बाद गुरु से मिले गुरु मंत्र में ही उसे संपूर्ण आस्था रखनी होती है उसकी भविष्य की सारी तपस्या इसी गुरु मंत्र पर आधारित होती है एक बार नागा साधु बनने के बाद उसके पद और अधिकारियों पर जाते हैं नाग साधू के बाद महंत श्री महंत जमा किया मेहनताना पति महेंद्र महंत दिगंबर श्री महामंडलेश्वर और आचार्य महामंडलेश्वर जैसे पदों तक जा सकता है नाग का जो साधु बनने की प्रक्रिया होती है अगर व्यक्ति ब्रम्हचर्य का पालन करने की परीक्षा से सफलतापूर्वक गुजर जाता है तो उसे ब्रह्मचारी से महापुरुष बना दिया जाता है उसके पांच गुरु बनाए जाते हैं यह पांच गुरु 52 पंच परमेश्वर या निश्चय विष्णु शक्ति सूर्य सूर्य और गणेश होते हैं महापुरुष के बाद ना गांव का अवधूत बनाया जाता है सबसे पहले उसे अपने बाल कटवाने होते हैं अब दूध रूप में दीक्षा लेने वाले को खुद का तर्पण और पिंडदान करना होता है यह पिंडदान अखाड़े के पुरोहित करवाते हैं यह संसार और परिवार के लिए मृत्यु हो जाते हैं और उनका एक ही उद्देश्य होता है सनातन और वैदिक धर्म की रक्षा इस प्रक्रिया के लिए उन्हें 24 घंटे ना ग्रुप में अखाड़े के ध्वज के नीचे बिना कुछ खाए पिए खड़ा रहना होता है इस दौरान उनके कंधों पर एक दंड और हाथों में मिट्टी का बर्तन होता है इस दौरान अखाड़े के पहरेदार उन पर नजर रखते हैं इसके बाद अखाड़े के साधुओं द्वारा उनके लिंग को वैदिक मंत्रों के साथ झटके देकर निष्क्रिय किया जाता है यह कार्य भी अखाड़े के ध्वज के नीचे किया जाता है कोई भी आम आदमी जब नागा साधु बनी आता है तो सबसे पहले उसे उसके इस्लाम पर नियंत्रण की स्थिति को परखा जाता है उसे लंबे समय ब्रम्हचर्य का पालन करवाया जाता है प्रक्रिया में सिर्फ दैनिक ब्रह्मचार्य नहीं मानसिक नियंत्रण को भी परखा जाता है अचानक किसी को दीक्षा नहीं दी जाती ब्रम्हचर्य व्रत के साथ की दीक्षा लेने वाले के मन में सेवा भावना भी बहुत आवश्यक है यह माना जाता है कि जो भी साधु बन रहा है न धर्म राष्ट्र मानव समाज की सेवा और रक्षा के लिए बन रहा है ऐसे में कई बार दीक्षा लेने वाले साधु को अपने गुरु और वरिष्ठ साधु की सेवा भी करनी पड़ती है कि पहले जो महत्वपूर्ण कार्य है वह खुद का श्राद्ध और पिंड दान दान करना इस प्रक्रिया में साधक स्वयं को अपने परिवार और समाज के लिए मृत बनाकर अपने हाथों से अपना श्राद्ध कर्म करता है ना साधुओं को सबसे ज्यादा प्रिय होती है बस में भगवान शिव के रूप में भस्म रवाना सभी जानते हैं ऐसे ही शैव संप्रदाय के साधु भी अपने आराध्य के प्रिय भाइयों को अपने शरीर पर लगाते हैं रोजाना सुबह स्नान के बाद नाग साधू सबसे पहले अपने शरीर पर भस्म राम आते हैं यह बता दी होती है भारत में ही की तरह तरह ना गांव को रुद्राक्ष भी बहुत प्रिय है कहा जाता है कि रुद्राक्ष भगवान शिव के आंसू से उत्पन्न हुए हैं यह साक्षात भगवान शिव के प्रतीक है इस कारण लगभग सभी चाय बता दूं रुद्राक्ष की माला पहनते हैं यह माला है साधारण नहीं होती कई साधु नियमित रूप से फूलों की माला धारण करते हैं इसमें गेंदे के फूल सबसे ज्यादा पसंद किए जाते हैं कई साधु अपने आप को फूलों से बचाते भी हैं यह निजी पसंद और विश्वास का मामला है तू सबसे ज्यादा अपने तिलक पर ध्यान देते हैं यह पहचानो शक्ति का प्रतीक है आरो तिलक एक जैसा लगे इस बात को लेकर नागा साधु बहुत सावधान रहते हैं आमतौर पर नागा साधु निर्वस्त्र ही होते हैं लेकिन कोई ना बता तू गुड धारण भी करते हैं ना गांव को सिर्फ साधु नहीं बल्कि योद्धा भी माना गया है युद्ध कला में माहिर क्रोधी और बलवान शरीर के स्वामी होते हैं अक्सर नागा साधु अपने साथ तलवार पर्दा त्रिशूल लेकर चलते हैं साधु में चिंता रखना अनिवार्य होता है धनीराम आने में सबसे ज्यादा काम चिमटे का ही होता है चिंता हथियार भी है और ऑल बार बताए भी नागा साधुओं की सबसे बड़ी पहचान होती है मोटी मोटी जटाओं की देखरेख उतने ही जलते की जाती है काली मिट्टी से उन्हें धोया जाता है सूर्य की रोशनी में उन्हें दिखाया जाए
Savaal yah hai ki kya koee bhee vyakti naam saadhu ban sakata hai to jee haan ban sakata hai lekin shart yah hogee ki use kade niyamon ka paalan karana hoga jaise ki ek naag saadhoo ko adhik se adhik 7 gharon mein bhiksha lene ka adhikaar hai naag saadhoo sone ke lie palang khatiya ne kisee ka nahin kar sakata riksha ke baad guru se mile guru mantr mein hee use sampoorn aastha rakhanee hotee hai usakee bhavishy kee saaree tapasya isee guru mantr par aadhaarit hotee hai ek baar naaga saadhu banane ke baad usake pad aur adhikaariyon par jaate hain naag saadhoo ke baad mahant shree mahant jama kiya mehanataana pati mahendr mahant digambar shree mahaamandaleshvar aur aachaary mahaamandaleshvar jaise padon tak ja sakata hai naag ka jo saadhu banane kee prakriya hotee hai agar vyakti bramhachary ka paalan karane kee pareeksha se saphalataapoorvak gujar jaata hai to use brahmachaaree se mahaapurush bana diya jaata hai usake paanch guru banae jaate hain yah paanch guru 52 panch parameshvar ya nishchay vishnu shakti soory soory aur ganesh hote hain mahaapurush ke baad na gaanv ka avadhoot banaaya jaata hai sabase pahale use apane baal katavaane hote hain ab doodh roop mein deeksha lene vaale ko khud ka tarpan aur pindadaan karana hota hai yah pindadaan akhaade ke purohit karavaate hain yah sansaar aur parivaar ke lie mrtyu ho jaate hain aur unaka ek hee uddeshy hota hai sanaatan aur vaidik dharm kee raksha is prakriya ke lie unhen 24 ghante na grup mein akhaade ke dhvaj ke neeche bina kuchh khae pie khada rahana hota hai is dauraan unake kandhon par ek dand aur haathon mein mittee ka bartan hota hai is dauraan akhaade ke paharedaar un par najar rakhate hain isake baad akhaade ke saadhuon dvaara unake ling ko vaidik mantron ke saath jhatake dekar nishkriy kiya jaata hai yah kaary bhee akhaade ke dhvaj ke neeche kiya jaata hai koee bhee aam aadamee jab naaga saadhu banee aata hai to sabase pahale use usake islaam par niyantran kee sthiti ko parakha jaata hai use lambe samay bramhachary ka paalan karavaaya jaata hai prakriya mein sirph dainik brahmachaary nahin maanasik niyantran ko bhee parakha jaata hai achaanak kisee ko deeksha nahin dee jaatee bramhachary vrat ke saath kee deeksha lene vaale ke man mein seva bhaavana bhee bahut aavashyak hai yah maana jaata hai ki jo bhee saadhu ban raha hai na dharm raashtr maanav samaaj kee seva aur raksha ke lie ban raha hai aise mein kaee baar deeksha lene vaale saadhu ko apane guru aur varishth saadhu kee seva bhee karanee padatee hai ki pahale jo mahatvapoorn kaary hai vah khud ka shraaddh aur pind daan daan karana is prakriya mein saadhak svayan ko apane parivaar aur samaaj ke lie mrt banaakar apane haathon se apana shraaddh karm karata hai na saadhuon ko sabase jyaada priy hotee hai bas mein bhagavaan shiv ke roop mein bhasm ravaana sabhee jaanate hain aise hee shaiv sampradaay ke saadhu bhee apane aaraadhy ke priy bhaiyon ko apane shareer par lagaate hain rojaana subah snaan ke baad naag saadhoo sabase pahale apane shareer par bhasm raam aate hain yah bata dee hotee hai bhaarat mein hee kee tarah tarah na gaanv ko rudraaksh bhee bahut priy hai kaha jaata hai ki rudraaksh bhagavaan shiv ke aansoo se utpann hue hain yah saakshaat bhagavaan shiv ke prateek hai is kaaran lagabhag sabhee chaay bata doon rudraaksh kee maala pahanate hain yah maala hai saadhaaran nahin hotee kaee saadhu niyamit roop se phoolon kee maala dhaaran karate hain isamen gende ke phool sabase jyaada pasand kie jaate hain kaee saadhu apane aap ko phoolon se bachaate bhee hain yah nijee pasand aur vishvaas ka maamala hai too sabase jyaada apane tilak par dhyaan dete hain yah pahachaano shakti ka prateek hai aaro tilak ek jaisa lage is baat ko lekar naaga saadhu bahut saavadhaan rahate hain aamataur par naaga saadhu nirvastr hee hote hain lekin koee na bata too gud dhaaran bhee karate hain na gaanv ko sirph saadhu nahin balki yoddha bhee maana gaya hai yuddh kala mein maahir krodhee aur balavaan shareer ke svaamee hote hain aksar naaga saadhu apane saath talavaar parda trishool lekar chalate hain saadhu mein chinta rakhana anivaary hota hai dhaneeraam aane mein sabase jyaada kaam chimate ka hee hota hai chinta hathiyaar bhee hai aur ol baar batae bhee naaga saadhuon kee sabase badee pahachaan hotee hai motee motee jataon kee dekharekh utane hee jalate kee jaatee hai kaalee mittee se unhen dhoya jaata hai soory kee roshanee mein unhen dikhaaya jae

bolkar speaker
क्या कोई भी व्यक्ति नागा साधु बन सकता है?Kya Koi Bhi Vyakti Naga Sadhu Ban Sakta Hai
anuj ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
Unknown
0:23
नमस्कार दोस्तों बोलकर आपने स्वागत है सवाल है कि क्या कोई भी व्यक्ति नागा साधु बन सकता है यह नहीं हर कोई व्यक्ति नागा साधु नहीं बन सकता उसके लिए कठिन भक्ति कठिन परीक्षा कठिन समस्याओं का सामना करना पड़ता है उसके बाद वह साधु बन पाता है
Namaskaar doston bolakar aapane svaagat hai savaal hai ki kya koee bhee vyakti naaga saadhu ban sakata hai yah nahin har koee vyakti naaga saadhu nahin ban sakata usake lie kathin bhakti kathin pareeksha kathin samasyaon ka saamana karana padata hai usake baad vah saadhu ban paata hai

bolkar speaker
क्या कोई भी व्यक्ति नागा साधु बन सकता है?Kya Koi Bhi Vyakti Naga Sadhu Ban Sakta Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:45
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है क्या कोई भी व्यक्ति नागा साधु बन सकता है तो फ्रेंड्स हां कोई भी व्यक्ति नागा साधु बन सकता है लेकिन इसके लिए बहुत ही कठोर नियम व्रत करते हैं तभी नागा साधु बन पाता है और उसे हर चीज छोड़ने की इसके अंदर क्षमता होनी चाहिए कि वह सब कुछ त्याग कर दे क्योंकि नागा साधु का पृथक्करण नहीं करते हैं तो उसमें कपड़े तक छोड़ने की 10 शक्ति होना चाहिए कि हम कपड़े भी पहनना छोड़ सकते हैं कि नहीं तो जब उसके अंदर दृढ़ संकल्प हो और बहुत सारी नियम कानून धर्म जब वह अपना लेगा बहुत सारे नियम अपनाने पड़ेंगे कठोर तप करने पड़ेंगे और जो भी नागा साधुओं की नियम है वे अपना आएगा तभी वह नागा साधु बन पाएगा धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai kya koee bhee vyakti naaga saadhu ban sakata hai to phrends haan koee bhee vyakti naaga saadhu ban sakata hai lekin isake lie bahut hee kathor niyam vrat karate hain tabhee naaga saadhu ban paata hai aur use har cheej chhodane kee isake andar kshamata honee chaahie ki vah sab kuchh tyaag kar de kyonki naaga saadhu ka prthakkaran nahin karate hain to usamen kapade tak chhodane kee 10 shakti hona chaahie ki ham kapade bhee pahanana chhod sakate hain ki nahin to jab usake andar drdh sankalp ho aur bahut saaree niyam kaanoon dharm jab vah apana lega bahut saare niyam apanaane padenge kathor tap karane padenge aur jo bhee naaga saadhuon kee niyam hai ve apana aaega tabhee vah naaga saadhu ban paega dhanyavaad

bolkar speaker
क्या कोई भी व्यक्ति नागा साधु बन सकता है?Kya Koi Bhi Vyakti Naga Sadhu Ban Sakta Hai
NeelamAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए NeelamAwasthi जी का जवाब
I am housewife
0:32
वाले क्या कोई व्यक्ति नगर साधु बन सकता है उनके जब तक अखाड़ा यह सुनिश्चित नहीं कर लेते हैं उस व्यक्ति को पूर्ण रूप से वैराग्य धारण कर चुका है जब तक वह साधु नहीं बन सकता है यदि वह सफल हो जाता है तो पहले उसे ब्रह्मचारी फिर महापुरुष और फिर नागा साधु की उपाधि नागा साधुओं को रात और दिन मिलाकर केवल एक ही समय का भोजन करना होता है धन्यवाद
Vaale kya koee vyakti nagar saadhu ban sakata hai unake jab tak akhaada yah sunishchit nahin kar lete hain us vyakti ko poorn roop se vairaagy dhaaran kar chuka hai jab tak vah saadhu nahin ban sakata hai yadi vah saphal ho jaata hai to pahale use brahmachaaree phir mahaapurush aur phir naaga saadhu kee upaadhi naaga saadhuon ko raat aur din milaakar keval ek hee samay ka bhojan karana hota hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • साधु बनने के लिए क्या करना पड़ता है, साधु कैसे बने, नागा साधु संत कैसे बने
URL copied to clipboard