#भारत की राजनीति

bolkar speaker

एक नेता को बूढा बताकर उसके बेटे को नेता बना देना क्या यही राजनीति है?

Ek Neta Ko Budha Btakar Uske Bete Ko Neta Bana Dena Kya Yahi Raajneeti Hai
vikas Singh Rajput Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए vikas जी का जवाब
Unknown
6:13
आपका सवाल है एक नेता को बुरा बताकर उसके बेटे को नेता बना देना क्या यही राजनीति है जी हां यही राजनीति अब आप पूछोगे यह कौन सी राजनीति है तो मैं आपको बताऊंगा कि गंदी वाली राजनीति राजनीति दो प्रकार की होती है गंदी राजनीति होती है एक अच्छी राजनीति होती है राजनीति में अगर नेता का बेटा अच्छा है समाज के प्रति अच्छा सोचना है देश हित में हमेशा कार्य करता है देश के गरीबों के लिए उसने बहुत कल्याणकारी काम किया है तो उसे नेता बनाया जा सकता है और उसे नीला बनाया भी जाता है लेकिन नेता का बेटा एक नंबर का नालायक है उसने कभी भी देश के लिए समाज के लिए कुछ भी अच्छा काम नहीं किया उसके बाद भी वह नेता बन जाता है उसके चित्र का नुकसान होता है होता है मुलायम सिंह यादव जी नेता थे ठीक है भैया आपने मेहनत किया आप नेता बने अखिलेश यादव के अंदर कौन सी बहुत अच्छी क्वालिटी थी इन्होंने कौन था लंबे वक्त तक समाज का पेपर किया था कुछ भी नहीं किया था ना लेकिन उसके बाद के नेता बने मुख्यमंत्री बने और आज की डेट में सपा पार्टी के अध्यक्ष भी हैं लालू यादव के जो दो सुपुत्र हैं इन लोगों के अंदर कौन सी बहुत अच्छी क्वालिटी थे कि यह लोग नेता बन गए ब्लॉक अध्यक्ष भी बन गए कांग्रेस पार्टी का हाल आप जानते ही हो तो जब तक परिवारवाद रहेगा तब तक इस देश का विनाश होता रहेगा तब तक इस देश का कल्याण नहीं हो पाएगा भारतीय जनता पार्टी है पार्टी में रूल रेगुलेशन मंडल लेवल से लेकर जिला लेवल पर लेकर प्रदेश लेवल तक और 23:00 तक बना हुआ है जो कार्यकर्ता होते हैं वह किसी को चुनते हैं जिस को चुनते हैं उसी को भी उसी को ही जिला अध्यक्ष मंडल अध्यक्ष राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया जाता है ऐसा नहीं है कि किसी ने कुछ काम नहीं किया है और वह राष्ट्रीय नेता का बेटा है वह तुरंत आकर किसी पद पर बैठ जाएगा टाइम नहीं होता है भाजपा नेताओं के बेटे का विधायक या सांसद हैं श्री राजनाथ सिंह जी हैं उनके बेटे जो पंकज सिंह है वह बहुत ही अच्छे लीडर उन्होंने जमीनी स्तर पर काम किया है तो नोएडा से चुनाव लड़े थे और सबसे ज्यादा वोट से जीतने वाले प्रत्याशी थे ऐसे लोगों को नेता बनना भी चाहिए लेकिन परिवारवाद का खात्मा होना बहुत जरूरी है परिवारवाद करने वाली पॉलिटिकल पार्टियां देश को नुकसान पहुंचा रही है क्योंकि वह अपने सगे संबंधियों को नेता बना रही है सपा पार्टी का इतिहास उठाओगे तो आप देखोगे कि कोई जिला पंचायत सदस्य है कोई ब्लॉक प्रमुख है कोई विधायक है कोई सांसद है पूरा परिवार पूरे परिवार के लोग कुछ न कुछ पद लेकर बैठे कुछ भी समाज के लिए कभी भी अच्छा काम नहीं किया और जनता भी बेवकूफ जनता वोट भी देती है और नहीं पता हमें समझ नहीं आता है कि पार्टी कार्य करता है इन्हें कैसे चुन लेते हैं अगर मुलायम सिंह यादव जी अध्यक्ष थे अगर उनके बेटे अध्यक्ष बनने लायक नहीं थे तो इन्हें नहीं बनाना चाहिए पार्टी के सभी कार्यकर्ताओं को बगावत करनी चाहिए लेकिन बगावत कौन करेगा क्योंकि यह पार्टी चला रहे हैं इनके पास बहुत पैसा है तो लोग सोते हैं कि यार हम बगावत करेंगे तो पार्टी से हमें निकाल देंगे तो कहने का मतलब है परिवारवाद की भावना खत्म तभी होगी जब देश की जनता जागरूक होगी देश की जनता जब जागरूक होगी तो अपने वोट का इस्तेमाल सही करेगी किसी भी पॉलिटिकल पार्टी के कार्यकर्ता बहुत सोच समझकर बनेगी और जब उस वह सोच समझ कर अपना यह सब कदम उठाएगी तो फिर हमें लगता है कि किसी भी पॉलिटिकल पार्टी से परिवारवाद का खात्मा होगा और जब परिवारवाद का खात्मा होगा तो उस क्षेत्र का विकास भी बहुत तेज गति से होगा धन्यवाद
Aapaka savaal hai ek neta ko bura bataakar usake bete ko neta bana dena kya yahee raajaneeti hai jee haan yahee raajaneeti ab aap poochhoge yah kaun see raajaneeti hai to main aapako bataoonga ki gandee vaalee raajaneeti raajaneeti do prakaar kee hotee hai gandee raajaneeti hotee hai ek achchhee raajaneeti hotee hai raajaneeti mein agar neta ka beta achchha hai samaaj ke prati achchha sochana hai desh hit mein hamesha kaary karata hai desh ke gareebon ke lie usane bahut kalyaanakaaree kaam kiya hai to use neta banaaya ja sakata hai aur use neela banaaya bhee jaata hai lekin neta ka beta ek nambar ka naalaayak hai usane kabhee bhee desh ke lie samaaj ke lie kuchh bhee achchha kaam nahin kiya usake baad bhee vah neta ban jaata hai usake chitr ka nukasaan hota hai hota hai mulaayam sinh yaadav jee neta the theek hai bhaiya aapane mehanat kiya aap neta bane akhilesh yaadav ke andar kaun see bahut achchhee kvaalitee thee inhonne kaun tha lambe vakt tak samaaj ka pepar kiya tha kuchh bhee nahin kiya tha na lekin usake baad ke neta bane mukhyamantree bane aur aaj kee det mein sapa paartee ke adhyaksh bhee hain laaloo yaadav ke jo do suputr hain in logon ke andar kaun see bahut achchhee kvaalitee the ki yah log neta ban gae blok adhyaksh bhee ban gae kaangres paartee ka haal aap jaanate hee ho to jab tak parivaaravaad rahega tab tak is desh ka vinaash hota rahega tab tak is desh ka kalyaan nahin ho paega bhaarateey janata paartee hai paartee mein rool reguleshan mandal leval se lekar jila leval par lekar pradesh leval tak aur 23:00 tak bana hua hai jo kaaryakarta hote hain vah kisee ko chunate hain jis ko chunate hain usee ko bhee usee ko hee jila adhyaksh mandal adhyaksh raashtreey adhyaksh banaaya jaata hai aisa nahin hai ki kisee ne kuchh kaam nahin kiya hai aur vah raashtreey neta ka beta hai vah turant aakar kisee pad par baith jaega taim nahin hota hai bhaajapa netaon ke bete ka vidhaayak ya saansad hain shree raajanaath sinh jee hain unake bete jo pankaj sinh hai vah bahut hee achchhe leedar unhonne jameenee star par kaam kiya hai to noeda se chunaav lade the aur sabase jyaada vot se jeetane vaale pratyaashee the aise logon ko neta banana bhee chaahie lekin parivaaravaad ka khaatma hona bahut jarooree hai parivaaravaad karane vaalee politikal paartiyaan desh ko nukasaan pahuncha rahee hai kyonki vah apane sage sambandhiyon ko neta bana rahee hai sapa paartee ka itihaas uthaoge to aap dekhoge ki koee jila panchaayat sadasy hai koee blok pramukh hai koee vidhaayak hai koee saansad hai poora parivaar poore parivaar ke log kuchh na kuchh pad lekar baithe kuchh bhee samaaj ke lie kabhee bhee achchha kaam nahin kiya aur janata bhee bevakooph janata vot bhee detee hai aur nahin pata hamen samajh nahin aata hai ki paartee kaary karata hai inhen kaise chun lete hain agar mulaayam sinh yaadav jee adhyaksh the agar unake bete adhyaksh banane laayak nahin the to inhen nahin banaana chaahie paartee ke sabhee kaaryakartaon ko bagaavat karanee chaahie lekin bagaavat kaun karega kyonki yah paartee chala rahe hain inake paas bahut paisa hai to log sote hain ki yaar ham bagaavat karenge to paartee se hamen nikaal denge to kahane ka matalab hai parivaaravaad kee bhaavana khatm tabhee hogee jab desh kee janata jaagarook hogee desh kee janata jab jaagarook hogee to apane vot ka istemaal sahee karegee kisee bhee politikal paartee ke kaaryakarta bahut soch samajhakar banegee aur jab us vah soch samajh kar apana yah sab kadam uthaegee to phir hamen lagata hai ki kisee bhee politikal paartee se parivaaravaad ka khaatma hoga aur jab parivaaravaad ka khaatma hoga to us kshetr ka vikaas bhee bahut tej gati se hoga dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • एक नेता को बूढा बताकर उसके बेटे को नेता बना देना क्या यही राजनीति है क्या यही राजनीति है एक नेता को बूढा बताकर उसके बेटे को नेता बना देना
URL copied to clipboard