#भारत की राजनीति

bolkar speaker

क्या तांडव के निर्माताओं और कलाकारों पर कैस करना उचित है?

Kya Tandav Ke Nirmatao Or Klakaro Par Case Karna Sahi Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:37
आना क्या होते हो रही है हमारी जिंदगी के लिए कितना महत्वपूर्ण है दोस्तों भावना ही होती है हमारे अंदर उत्पन्न होने वाले विचार जो की लोक कल्याणकारी स्थिति में हो दोस्तों यह भावना और इसका सिर्फ का संभावना तो भावना ही मांग रहा है और यदि आपके अंदर भावनाओं भावनाएं बहुत जरूरी है
Aana kya hote ho rahee hai hamaaree jindagee ke lie kitana mahatvapoorn hai doston bhaavana hee hotee hai hamaare andar utpann hone vaale vichaar jo kee lok kalyaanakaaree sthiti mein ho doston yah bhaavana aur isaka sirph ka sambhaavana to bhaavana hee maang raha hai aur yadi aapake andar bhaavanaon bhaavanaen bahut jarooree hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या तांडव के निर्माताओं और कलाकारों पर कैस करना उचित है?Kya Tandav Ke Nirmatao Or Klakaro Par Case Karna Sahi Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:34
हेलो एवरीवन स्वागत है आपका आपका फेसबुक या तांडव के निर्माताओं और कलाकारों पर केस करना उचित है जी बिल्कुल उचित है गुंडों के जो निर्माता हैं कलाकार हैं तो उन लोगों ने जो हमारे भारतीय हिंदू मानते हैं देवी देवता हैं हमारे जो उनका मजाक उड़ाया है उस पिक्चर में तो उस फिल्म पर बिल्कुल एक्शन करना चाहिए और बिल्कुल रोक लगा देना चाहिए स्क्रीन पर यह बिल्कुल सही बात है क्योंकि उन लोगों ने जो हमारे भगवान हैं उनके ऊपर मजाक बनाया है धन्यवाद
Helo evareevan svaagat hai aapaka aapaka phesabuk ya taandav ke nirmaataon aur kalaakaaron par kes karana uchit hai jee bilkul uchit hai gundon ke jo nirmaata hain kalaakaar hain to un logon ne jo hamaare bhaarateey hindoo maanate hain devee devata hain hamaare jo unaka majaak udaaya hai us pikchar mein to us philm par bilkul ekshan karana chaahie aur bilkul rok laga dena chaahie skreen par yah bilkul sahee baat hai kyonki un logon ne jo hamaare bhagavaan hain unake oopar majaak banaaya hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या तांडव के निर्माताओं और कलाकारों पर कैस करना उचित है?Kya Tandav Ke Nirmatao Or Klakaro Par Case Karna Sahi Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:29
आपका सवाई मानसिंह क्या पांडवों के निर्माता व कलाकारों को इश्क करना उचित है तो मेरे ख्याल से यह लोगों की आस्था के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं जो भी हॉलीवुड हॉलीवुड में इस तरह की फिल्में फिल्में बना रहे हैं लोगों की आस्था हिंदू बनकर हवा के साथ खिलवाड़ करना कतई उचित नहीं कहा जाता है मैंने
Aapaka savaee maanasinh kya paandavon ke nirmaata va kalaakaaron ko ishk karana uchit hai to mere khyaal se yah logon kee aastha ke saath khilavaad kar rahe hain jo bhee holeevud holeevud mein is tarah kee philmen philmen bana rahe hain logon kee aastha hindoo banakar hava ke saath khilavaad karana katee uchit nahin kaha jaata hai mainne

bolkar speaker
क्या तांडव के निर्माताओं और कलाकारों पर कैस करना उचित है?Kya Tandav Ke Nirmatao Or Klakaro Par Case Karna Sahi Hai
Naayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Naayank जी का जवाब
College
2:49
तो मैंने तांडव की पूरी सीरीज एक ही और जिस दिन पर इतना विवाद हो रहा है मुझे उससे ज्यादा कुछ ऐसा अनुचित नहीं नजर आ रहा उस में कहीं पर भी नहीं देवी-देवताओं कहां लूट लिया गया है थोड़ा बहुत और रुक गया था क्या केवल गलत किया गया वहीं पर थोड़ा बहुत तो ज्यादा कुछ ऐसे नहीं कि बिल्कुल उनके कपड़े पहना दी उनको पूरा रूप ले लिया गया कि हम उनकी उम्र का रूप लेकर पास कर रख देने के लिए उन पर ही आक्रमण किया जा रहा है कि देवी देवता ऐसे हैं वैसे आज की शुरुआत की जा रही है कि भगवान है वह कैसे देख रहे हैं आज की ट्यूशन पर जो उनके नाम पर अलग-अलग धर्म करो आपस में लड़ते हैं उसे ट्यूशन को देखते हुए भगवान की क्या राय होगी तो ऐसा पूरा सीन इसलिए केवल हिंदू धर्म के ऊपर भी कई सारे मजाक भी होता है तो ऐसा नहीं होता कि अपमान करने के लिए बस कुछ ऐसे पोस्ट कॉपी पेस्ट होते हैं और बस उनको पूछ रहा था एक ऐसी कई सारी बातें जो समझ के बाहर है और केवल यह कहना कि भगवान का ही काम है तो उसमें जादू किया वह किया तो ऐसे कह के सवालों को ना छोड़कर बल्कि उनका जवाब ढूंढना यह कोशिश की जाती है कभी-कभी इसमें तो बुरा लगता है तो उसके बारे में बात करी जाती आज की क्या सर आप लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचता है तो उस पर केस हो सकता है आप किसी और के प्रेम कर रहे हैं सबके सोते लिखकर ऐसे लोग हैं सोसाइटी में जोधपुर छोटी बातें भी ओपन हो जाते हैं तो कहीं ना कहीं ऐसा करने से जो फ्रीडम आफ एक्सप्रेशन है उसको काफी खतरा हो जाता है उस पर एक टेक्स होता है क्योंकि आजकल के लोग छोटे-मोटे एडमिट से इसमें कुछ और दिखाया जाता कुछ और लेकिन कुछ नया मीनिंग निकाल दिया जाते समय की बात करें बिग बॉस में है जो सुशांत किसके नाम पर जो बॉयकॉट करने के लिए कहा गया था रणवीर सिंह के एडमिन को वाले सभी लोग हर बार हम इस को तवज्जो नहीं रह सकते इन लोगों के ऊपर होने को तो हमें हरकेश में देखना होगा कि क्या सही है क्या गलत ना किए थे कि कुछ रोको फ्रेंड हो
To mainne taandav kee pooree seereej ek hee aur jis din par itana vivaad ho raha hai mujhe usase jyaada kuchh aisa anuchit nahin najar aa raha us mein kaheen par bhee nahin devee-devataon kahaan loot liya gaya hai thoda bahut aur ruk gaya tha kya keval galat kiya gaya vaheen par thoda bahut to jyaada kuchh aise nahin ki bilkul unake kapade pahana dee unako poora roop le liya gaya ki ham unakee umr ka roop lekar paas kar rakh dene ke lie un par hee aakraman kiya ja raha hai ki devee devata aise hain vaise aaj kee shuruaat kee ja rahee hai ki bhagavaan hai vah kaise dekh rahe hain aaj kee tyooshan par jo unake naam par alag-alag dharm karo aapas mein ladate hain use tyooshan ko dekhate hue bhagavaan kee kya raay hogee to aisa poora seen isalie keval hindoo dharm ke oopar bhee kaee saare majaak bhee hota hai to aisa nahin hota ki apamaan karane ke lie bas kuchh aise post kopee pest hote hain aur bas unako poochh raha tha ek aisee kaee saaree baaten jo samajh ke baahar hai aur keval yah kahana ki bhagavaan ka hee kaam hai to usamen jaadoo kiya vah kiya to aise kah ke savaalon ko na chhodakar balki unaka javaab dhoondhana yah koshish kee jaatee hai kabhee-kabhee isamen to bura lagata hai to usake baare mein baat karee jaatee aaj kee kya sar aap logon kee bhaavanaon ko thes pahunchata hai to us par kes ho sakata hai aap kisee aur ke prem kar rahe hain sabake sote likhakar aise log hain sosaitee mein jodhapur chhotee baaten bhee opan ho jaate hain to kaheen na kaheen aisa karane se jo phreedam aaph eksapreshan hai usako kaaphee khatara ho jaata hai us par ek teks hota hai kyonki aajakal ke log chhote-mote edamit se isamen kuchh aur dikhaaya jaata kuchh aur lekin kuchh naya meening nikaal diya jaate samay kee baat karen big bos mein hai jo sushaant kisake naam par jo boyakot karane ke lie kaha gaya tha ranaveer sinh ke edamin ko vaale sabhee log har baar ham is ko tavajjo nahin rah sakate in logon ke oopar hone ko to hamen harakesh mein dekhana hoga ki kya sahee hai kya galat na kie the ki kuchh roko phrend ho

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • तांडव वेब सीरीज देखनी चाहिए कि नहीं.. तांडव सीरीज में कौन सा कॉलेज दिखाया है..
URL copied to clipboard