#जीवन शैली

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:35
स्वागत है आपका आपका प्रश्न है आधुनिक मानव जीवन में रंगों का अंतर क्यों हो जाता है क्या इसके पीछे कोई खास वजह है फ्रेंड्स आजकल के लोगों में ही वह बहुत ज्यादा है वे अपने घमंड में रहते हैं और किसी ने थोड़ा सा पैसा कमा लिया तो उसको बहुत ज्यादा घमंड आ जाता है फिर भी किसी रिश्तो की इज्जत नहीं करता है और बस अपने हिसाब से अपना जीवन जीता है अपने घर के बड़ों की कोई बात नहीं मानता है तो लोगों में इगो बहुत ज्यादा आ गया है और अपने घमंड के कारण ही वे रिश्तो की परवाह ही नहीं करता है तो फ्रेंड साहब को जवाब पसंद आए तो लाइक करते रहेगा धन्यवाद
Svaagat hai aapaka aapaka prashn hai aadhunik maanav jeevan mein rangon ka antar kyon ho jaata hai kya isake peechhe koee khaas vajah hai phrends aajakal ke logon mein hee vah bahut jyaada hai ve apane ghamand mein rahate hain aur kisee ne thoda sa paisa kama liya to usako bahut jyaada ghamand aa jaata hai phir bhee kisee rishto kee ijjat nahin karata hai aur bas apane hisaab se apana jeevan jeeta hai apane ghar ke badon kee koee baat nahin maanata hai to logon mein igo bahut jyaada aa gaya hai aur apane ghamand ke kaaran hee ve rishto kee paravaah hee nahin karata hai to phrend saahab ko javaab pasand aae to laik karate rahega dhanyavaad

और जवाब सुनें

itishree Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए itishree जी का जवाब
Unknown
2:16
प्रश्न है आधुनिक मानव जीवन में रिश्तो का अंत क्यों हो जाता है क्या इसके पीछे कोई खास वजह है देखिए रिश्तो का अंत अभी ज्यादा हो रहा है कोई रिश्ते का महत्व नहीं समझ पा रहे कि एक हमारे भीतर एकता कितना इंपॉर्टेंट है इस सब समझते हैं पर समझ कर भी नहीं समझते हम एक शामली में रहते हैं अगर हमारे साथ कोई बुरा हो जाता है या कोई मुसीबत आए तो हमारे साथ जो खड़ा रहेगा वह है हमारी फैमिली और आजकल तो सारे रिश्ते जैसे टूट जाते हैं जिसे देखिए पति पत्नी का रिश्ता एक अटूट रिश्ता होता है पर आजकल शादी या 1 साल तक भी नहीं टिकती जल्दी से डिवोर्स हो जाते इतना डिवोर्स लेने की जल्दी क्यों है उनमें शादी कोई बच्चों का गुड़ियों का खेल नहीं है यह पवित्र बंधन है तब भी लोग अंडरस्टैंडिंग खेतमे वजह से या अगर कुछ हां पति पत्नी में झगड़ा हो जाए तो आसानी से रिमोट कैसे ले सकते हैं कुछ भी नहीं समझते हैं कोई जिस मां बाप ने अपने बच्चों को इतना पढ़ा लिखा कर इतना बड़ा किया बुढ़ापे में वह उनको ही छोड़ देते हैं वृद्धाश्रम में उनके हाथ को छोड़ देते हैं ऐसा क्यों होता है रिश्ते को कोई क्यों नहीं समझता दुनिया में सब कोई करता ही नहीं कि हम असर बताएं यही पर रह जाए हमको रिश्तो को समझना है क्योंकि मृत्यु एक मात्र दो सकते हैं पर जिससे समय जिसे दिन भगवान हमको धरती पर है जिसके लिए भेजा है बस हम वही काम करेंगे पहले अपने मां बाप को पहले अपने माता-पिता को खुश रखें दूसरों का हेल्प करें और अपने अपनों के साथ जैसे भी रिश्ता है उसको बाहर से रखिए कभी न टूटने वाला रिश्ता बनाइए जो कि हर मुसीबत में आपका साथ देगा
Prashn hai aadhunik maanav jeevan mein rishto ka ant kyon ho jaata hai kya isake peechhe koee khaas vajah hai dekhie rishto ka ant abhee jyaada ho raha hai koee rishte ka mahatv nahin samajh pa rahe ki ek hamaare bheetar ekata kitana importent hai is sab samajhate hain par samajh kar bhee nahin samajhate ham ek shaamalee mein rahate hain agar hamaare saath koee bura ho jaata hai ya koee museebat aae to hamaare saath jo khada rahega vah hai hamaaree phaimilee aur aajakal to saare rishte jaise toot jaate hain jise dekhie pati patnee ka rishta ek atoot rishta hota hai par aajakal shaadee ya 1 saal tak bhee nahin tikatee jaldee se divors ho jaate itana divors lene kee jaldee kyon hai unamen shaadee koee bachchon ka gudiyon ka khel nahin hai yah pavitr bandhan hai tab bhee log andarastainding khetame vajah se ya agar kuchh haan pati patnee mein jhagada ho jae to aasaanee se rimot kaise le sakate hain kuchh bhee nahin samajhate hain koee jis maan baap ne apane bachchon ko itana padha likha kar itana bada kiya budhaape mein vah unako hee chhod dete hain vrddhaashram mein unake haath ko chhod dete hain aisa kyon hota hai rishte ko koee kyon nahin samajhata duniya mein sab koee karata hee nahin ki ham asar bataen yahee par rah jae hamako rishto ko samajhana hai kyonki mrtyu ek maatr do sakate hain par jisase samay jise din bhagavaan hamako dharatee par hai jisake lie bheja hai bas ham vahee kaam karenge pahale apane maan baap ko pahale apane maata-pita ko khush rakhen doosaron ka help karen aur apane apanon ke saath jaise bhee rishta hai usako baahar se rakhie kabhee na tootane vaala rishta banaie jo ki har museebat mein aapaka saath dega

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:00
आधुनिक मानव जीवन में रिश्तो का अंत क्यों हो जाता है इसके पीछे कोई खास वजह है 200 आधुनिक मानव जीवन में इस वजह से हो रहा है क्योंकि आजकल का हमारा खान-पान हमें इस तरीके से चिड़चिड़ापन बना रहा है दोस्तों की आप का मानचित्र तनाव के चलते आप कुछ भी बोल देते हैं कि आप के रिश्तो के अंत हो जाता है इसके अतिरिक्त दोस्तों आजकल कि जब संगत है यह व्यक्ति को इस तरीके से बुराई की ओर ले जा रही है कि आप के रिश्तो का अंत होता वह आज कीजिए दोस्तों को भी हो गई है कि यह आपके रिश्तो का अंत कर रही है तो यह कारण है जो आप के रिश्तो का अंत कर रहे हैं इसके अतिरिक्त यदि अपने जीवन में सुधार लाना पैसे बाकी है कि अच्छी संगत में बैठना अच्छे चिपका लेना और प्रेम पिक्चर दिखाना कोई नहीं होगा इन रिश्तो के अंत को रोकने के लिए
Aadhunik maanav jeevan mein rishto ka ant kyon ho jaata hai isake peechhe koee khaas vajah hai 200 aadhunik maanav jeevan mein is vajah se ho raha hai kyonki aajakal ka hamaara khaan-paan hamen is tareeke se chidachidaapan bana raha hai doston kee aap ka maanachitr tanaav ke chalate aap kuchh bhee bol dete hain ki aap ke rishto ke ant ho jaata hai isake atirikt doston aajakal ki jab sangat hai yah vyakti ko is tareeke se buraee kee or le ja rahee hai ki aap ke rishto ka ant hota vah aaj keejie doston ko bhee ho gaee hai ki yah aapake rishto ka ant kar rahee hai to yah kaaran hai jo aap ke rishto ka ant kar rahe hain isake atirikt yadi apane jeevan mein sudhaar laana paise baakee hai ki achchhee sangat mein baithana achchhe chipaka lena aur prem pikchar dikhaana koee nahin hoga in rishto ke ant ko rokane ke lie

T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
4:57
आपने प्रश्न किया है कि आधुनिक मानव जीवन में रिश्तो का अंत क्यों हो जाता है क्या इसके पीछे कोई खास वजह है कि जहां तक मैं समझता हूं आधुनिक मानव जीवन में इंसान इतना गतिशील है इंसान इतनी आपाधापी में जी रहा है हर व्यक्ति को गला काट प्रतियोगिता में जीने की आदत पड़ गई है हर व्यक्ति सिर्फ भाग रहा है दौड़ रहा है व्यक्ति को जीवन में रुक कर के एक दूसरे की भावनाओं की कद्र करना एक दूसरे के भावनाओं के समय थोड़ी देर रुक कर के धैर्य के साथ एक दूसरे के विचारों का समझ पाना एक दूसरे की विचारधाराओं को समझ पाना एक दूसरे के साथ सामंजस्य बिठा पाना एक दूसरे की तकलीफ सुख-दुख को बांट पाना यह व्यवहारिक जीवन में खत्म होती जा रही है व्यक्ति का एक दूसरे से विश्वास खत्म होता जा रहा है और यही कारण है कि आधुनिक मानव जीवन में रिश्तो का अंत हुए जा रहा है समय काल के अनुसार आज की आधुनिकता के समय में व्यक्ति अपने परिवार से अपने समाज की जो हमारे भारतीय दर्शन है जो भारतीय संस्कृति सभ्यता परंपराएं संस्कार हमारी जो भाषा है हमारा जो पहनावा है जो हमारा रहन-सहन है जो हमारा सोच विचार है व्यक्तियों से दूर होता जा रहा है और पाश्चात्य परंपराओं की नकल करते हुए व्यक्ति भारतीय दर्शन से बहुत हद तक दूर हो गया है और हमारा भारतीय दर्शन टूटना नहीं बताता हमारा भारतीय दर्शन जोड़ना बताता है हमारा भारतीय दर्शन एक दूसरे के प्रति सम्मान रिश्तो की समक्ष एक दूसरे की भावनाओं का आदर एक दूसरे की बात धैर्य से सुनना यह हमारा भारतीय संस्कृति भारतीय संस्कार प्रतिकूल परिस्थितियों में भी एक दूसरे का हाथ पकड़े रहना यह वह कौन है जिसकी वजह से भारतीय रिश्तो के अंदर भारतीय परंपरा में रिश्तो की गहराई इतनी ज्यादा हुआ करता लेकिन आधुनिकता की चकाचौंध में भागम भाग में व्यक्ति के पास एक दूसरे के लिए समय एक दूसरे को सुनने का समय नहीं है एक दूसरे को समझने का समय नहीं है एक दूसरे की भावनाओं के साथ में अपने आप को सामंजस्य बिठाने की व्यवहारिकता नहीं रही है और यही कारण है कि रिश्तो का अंत इस तरीके से हुए जा रहा है यही इसके बड़े सब से यही इसके पीछे सबसे बड़ी वजह इसके पीछे कोई रॉकेट साइंस नहीं और मैं यह नहीं कहता हां सुधारवादी प्रक्रिया परिवर्तन संसार का नियम है और कुछ हर समाज के अंदर हर परंपरा के अंदर कुछ रुपया हो सकती है कुछ कमियां हो सकती है लेकिन हमको उसको समझ के उसको दूर करने का प्रयास किया जाना चाहिए लेकिन हम पूरी तरीके से अंधे नहीं हो सकते जो पाश्चात्य परंपरा की संस्कृति के मुंह में हम अंधे हो चुके हैं और यही कारण है कि रिश्तो का इस तरह से अंत हो रहा है मैं समझता हूं लोग इस बात को समझेंगे धन्यवाद
Aapane prashn kiya hai ki aadhunik maanav jeevan mein rishto ka ant kyon ho jaata hai kya isake peechhe koee khaas vajah hai ki jahaan tak main samajhata hoon aadhunik maanav jeevan mein insaan itana gatisheel hai insaan itanee aapaadhaapee mein jee raha hai har vyakti ko gala kaat pratiyogita mein jeene kee aadat pad gaee hai har vyakti sirph bhaag raha hai daud raha hai vyakti ko jeevan mein ruk kar ke ek doosare kee bhaavanaon kee kadr karana ek doosare ke bhaavanaon ke samay thodee der ruk kar ke dhairy ke saath ek doosare ke vichaaron ka samajh paana ek doosare kee vichaaradhaaraon ko samajh paana ek doosare ke saath saamanjasy bitha paana ek doosare kee takaleeph sukh-dukh ko baant paana yah vyavahaarik jeevan mein khatm hotee ja rahee hai vyakti ka ek doosare se vishvaas khatm hota ja raha hai aur yahee kaaran hai ki aadhunik maanav jeevan mein rishto ka ant hue ja raha hai samay kaal ke anusaar aaj kee aadhunikata ke samay mein vyakti apane parivaar se apane samaaj kee jo hamaare bhaarateey darshan hai jo bhaarateey sanskrti sabhyata paramparaen sanskaar hamaaree jo bhaasha hai hamaara jo pahanaava hai jo hamaara rahan-sahan hai jo hamaara soch vichaar hai vyaktiyon se door hota ja raha hai aur paashchaaty paramparaon kee nakal karate hue vyakti bhaarateey darshan se bahut had tak door ho gaya hai aur hamaara bhaarateey darshan tootana nahin bataata hamaara bhaarateey darshan jodana bataata hai hamaara bhaarateey darshan ek doosare ke prati sammaan rishto kee samaksh ek doosare kee bhaavanaon ka aadar ek doosare kee baat dhairy se sunana yah hamaara bhaarateey sanskrti bhaarateey sanskaar pratikool paristhitiyon mein bhee ek doosare ka haath pakade rahana yah vah kaun hai jisakee vajah se bhaarateey rishto ke andar bhaarateey parampara mein rishto kee gaharaee itanee jyaada hua karata lekin aadhunikata kee chakaachaundh mein bhaagam bhaag mein vyakti ke paas ek doosare ke lie samay ek doosare ko sunane ka samay nahin hai ek doosare ko samajhane ka samay nahin hai ek doosare kee bhaavanaon ke saath mein apane aap ko saamanjasy bithaane kee vyavahaarikata nahin rahee hai aur yahee kaaran hai ki rishto ka ant is tareeke se hue ja raha hai yahee isake bade sab se yahee isake peechhe sabase badee vajah isake peechhe koee roket sains nahin aur main yah nahin kahata haan sudhaaravaadee prakriya parivartan sansaar ka niyam hai aur kuchh har samaaj ke andar har parampara ke andar kuchh rupaya ho sakatee hai kuchh kamiyaan ho sakatee hai lekin hamako usako samajh ke usako door karane ka prayaas kiya jaana chaahie lekin ham pooree tareeke se andhe nahin ho sakate jo paashchaaty parampara kee sanskrti ke munh mein ham andhe ho chuke hain aur yahee kaaran hai ki rishto ka is tarah se ant ho raha hai main samajhata hoon log is baat ko samajhenge dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • आधुनिक मानव जीवन में रिश्तो का अंत क्यों हो जाता है क्या इसके पीछे कोई खास वजह है आधुनिक मानव जीवन में रिश्तो का अंत क्यों हो जाता है
URL copied to clipboard