#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker

किसी के चरित्र पर शंका करना आजकल आम बात क्यों होने लगी है?

Kisi Ke Charitra Par Shanka Karna Aajkal Aam Baat Kyo Hone Lagi Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
2:31
किसी के चरित्र पर शंका करना अस्सलाम बाद क्यों होने लगी है दोस्तों आजकल जो एक चरित्र पर शंका इसलिए होने लगी है क्योंकि टेक्नोलॉजी कल तू कुछ ज्यादा ही प्रभाव हमारे देश के अंदर चल रहा है लोग एक दूसरे के प्रति किस तरीके से आकर्षित हो रहे हैं यह भी हम पश्चिमी संस्कृतियों से सीख रहे हैं और अब तो भारत के अंदर यह सारी चीजें जगजीत चरम पर पहुंच चुकी है और 12 जून की शुरुआत में एक पुरुष प्रधान समाज रहा है और इसके बाद जो है इसमें काफी सारे बदलाव हम देखने को मिल रहे हैं महिलाएं बराबरी पर आ रही है परंतु फिर भी कुछ बोलोगे वह मैं करके उनके चरित्र को लेकर शंका जाहिर करते हैं बुजुर्ग लोग जो हैं दोस्तों उनकी आदित्य हैं या बुजुर्ग महिलाएं उनके आते हैं वह काफी अच्छी रही है और हम जानते हैं कि आज से पहले हमारे समाज के अंदर हमने कुछ महिलाओं को लेकर के कुछ अश्लीलता का जिक्र जो है या तो राजा महाराजाओं को लेकर के पड़ा होगा आम समाज के अंदर नहीं यही कारण है कि आज जो है वह अपना वर्क बनती है और दूसरा यह कि वह अपने पार्टनर का चुनाव भी खुद करती है लिवइन रिलेशन में हो चाहे किसी और दोनों के ऊपर यह निर्भर करता है कि आप किस हद तक है दोस्तों हमारे समाज के अंदर आगे जो व्यक्ति जो खुद अश्लीलता की ओर अग्रसर हो रहा है वह व्यक्ति दूसरों के ऊपर पंखा करते हैं कोई महिला अपने भाई के साथ जा रही है तो उसके ऊपर भी चमका करने के लिए जाहिर हो जाता है कि वह अपने बॉयफ्रेंड के साथ जा रही है यानी कि इसका कारण यह है कि हमारा एक तो आजकल का जो खानपान चल रहा है दोस्तों यह को बढ़ावा देता है और दूसरा यह है कि आजकल के लोगों की मानसिकता जॉइन उस खानपान की वजह से जुड़े कुछ चेंज हो रही है इंसान जल्दी बड़ा हो रहा है और जल्दी ही मर रहा है हो रही है बच्चों की संख्या 500 के अंदर जाते ही फास्ट वेट करना आजकल हर एक बच्चे की इच्छा हो जाती है दोस्तों स्टूडेंट लाइफ के अंदर अपने पार्टनर को नापसंद कर लेता है कि जब कॉलेज लाइफ के अंदर जाते हैं तो वहां पर कुछ इस तरीके से होती हुई जा रही है कि किसी के चरित्र पर भी शंका करना आजकल आम बात हो रही है
Kisee ke charitr par shanka karana assalaam baad kyon hone lagee hai doston aajakal jo ek charitr par shanka isalie hone lagee hai kyonki teknolojee kal too kuchh jyaada hee prabhaav hamaare desh ke andar chal raha hai log ek doosare ke prati kis tareeke se aakarshit ho rahe hain yah bhee ham pashchimee sanskrtiyon se seekh rahe hain aur ab to bhaarat ke andar yah saaree cheejen jagajeet charam par pahunch chukee hai aur 12 joon kee shuruaat mein ek purush pradhaan samaaj raha hai aur isake baad jo hai isamen kaaphee saare badalaav ham dekhane ko mil rahe hain mahilaen baraabaree par aa rahee hai parantu phir bhee kuchh bologe vah main karake unake charitr ko lekar shanka jaahir karate hain bujurg log jo hain doston unakee aadity hain ya bujurg mahilaen unake aate hain vah kaaphee achchhee rahee hai aur ham jaanate hain ki aaj se pahale hamaare samaaj ke andar hamane kuchh mahilaon ko lekar ke kuchh ashleelata ka jikr jo hai ya to raaja mahaaraajaon ko lekar ke pada hoga aam samaaj ke andar nahin yahee kaaran hai ki aaj jo hai vah apana vark banatee hai aur doosara yah ki vah apane paartanar ka chunaav bhee khud karatee hai livin rileshan mein ho chaahe kisee aur donon ke oopar yah nirbhar karata hai ki aap kis had tak hai doston hamaare samaaj ke andar aage jo vyakti jo khud ashleelata kee or agrasar ho raha hai vah vyakti doosaron ke oopar pankha karate hain koee mahila apane bhaee ke saath ja rahee hai to usake oopar bhee chamaka karane ke lie jaahir ho jaata hai ki vah apane boyaphrend ke saath ja rahee hai yaanee ki isaka kaaran yah hai ki hamaara ek to aajakal ka jo khaanapaan chal raha hai doston yah ko badhaava deta hai aur doosara yah hai ki aajakal ke logon kee maanasikata join us khaanapaan kee vajah se jude kuchh chenj ho rahee hai insaan jaldee bada ho raha hai aur jaldee hee mar raha hai ho rahee hai bachchon kee sankhya 500 ke andar jaate hee phaast vet karana aajakal har ek bachche kee ichchha ho jaatee hai doston stoodent laiph ke andar apane paartanar ko naapasand kar leta hai ki jab kolej laiph ke andar jaate hain to vahaan par kuchh is tareeke se hotee huee ja rahee hai ki kisee ke charitr par bhee shanka karana aajakal aam baat ho rahee hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
किसी के चरित्र पर शंका करना आजकल आम बात क्यों होने लगी है?Kisi Ke Charitra Par Shanka Karna Aajkal Aam Baat Kyo Hone Lagi Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
किसी के चरित्र पर शंका करना आजकल आम बात क्यों होने लगी एक बढ़िया इंस्ट्रूमेंट मिला है लोगों को दूसरों को नीचा दिखाने के लिए और दूसरों को बदनाम करने के लिए मुस्लिम को पीछे करने के लिए या फिर अगर ऐसा बात बात सच्ची है उसको एक्सपोर्ट करने के लिए किसका उपयोग इसलिए हो रहा है कि माध्यम बड़े हैं कोई भी चीज जो है वह सोशल मीडिया के माध्यम से ज्यादा करके दूर-दूर तक फैला की जा सकती है एक साधन हाथ में लगा है तो इसका भरपूर उपयोग करना मनुष्य की मनुष्य का स्वभाव को पहले ही था पहले भी था लेकिन इतना बड़ा माध्यम लोग के पास नहीं था लेकिन लोकल लेवल पर वही बातें करते थे गांव-गांव में बड़ी बस्ती में यह प्रवृत्ति हमेशा रहे दूसरे एक महत्वपूर्ण बैठक में भारतीय लोगों को अभी तक पर्सनल और सोशल स्टडी अभी तक ध्यान में नहीं आई आई कॉमन सेंस की बात से बटेश्वर भारतीय लोगों को अभी तक बड़े बड़ी संख्या में मालूम नहीं होगी जो होती है वह शिष्य भारतीय लोगों को नहीं है कि कहां तक हमने किसी के पर्सनल लाइफ में दिखना चाहिए या विक्की के कुछ अपने प्राइवेसी के अधिकार होते हैं यह बात लोगों को पता नहीं तो कोई चीज है जो होती है वह किसी की पर्सनल चीज होती है उसमें उस पर टिप्पणी करना कोई आवश्यक तत्व शिव बात नहीं ठीक है वैसे पर्सनल कीजिए हर व्यक्ति की होती है हमारी भी होती है उनका ऑपरेशन करने वालों वाले की भी भर्ती कॉमन सेंस की बात है कि कौन सी चीज है सामने वाले व्यक्ति को पूछा या नहीं पूछें इसका कोई ख्याल ही नहीं करते और बार-बार एक ही प्रश्न पूछते हैं मुझे एक व्यक्ति ने 20 बार पूछा कि तुम्हारा पगार कितना है तुम्हारा पगार मेरे गांव मैंने कहा कुछ भी नहीं है आपके बगैर में से मुझे कुछ महीना दे दीजिए मैं बहुत गरीब आदमी हूं बाद में वह हंसने लगा और उसने कहा कि ठीक है ठीक है दे दो उसके घर में आ गया कि यह गलत सवाल पूछे ज्यादा ज्यादा कोई बार बार पूछेगा कि अपने तुम्हारे भाई अब क्या करते हैं ऐसे 100 बार भी पूछेंगे पूछा होगा कि भाई क्या करता है वह भाई क्या करता है बहन के प्रति कम से कम 50 बार पूछा है ऐसा भी मुझे तो ऐसे मूर्ख इसलिए पैदा हुए हैं इनमें शिक्षा बहुत प्रमाण कमी कम है और वह भी दसवीं तक शिक्षा लेते हैं और उनको आज की डेट के पास करते या पास करते हैं और बाद में यह आधी अधूरी शिक्षा मूर्खता निर्माण करती हो तो पूरी होगी तो बिल्कुल ना हो यह बताया जा सकता है कि नहीं शिक्षा में लोधी समाज की इच्छा नहीं है बिल्कुल अनपढ़ है जमीन का विकास नहीं हो पाए विकास केवल पैसा कितना बड़ा है इतनी से नहीं हुआ यह बात उनको मालूम है धन्यवाद
Kisee ke charitr par shanka karana aajakal aam baat kyon hone lagee ek badhiya instrooment mila hai logon ko doosaron ko neecha dikhaane ke lie aur doosaron ko badanaam karane ke lie muslim ko peechhe karane ke lie ya phir agar aisa baat baat sachchee hai usako eksaport karane ke lie kisaka upayog isalie ho raha hai ki maadhyam bade hain koee bhee cheej jo hai vah soshal meediya ke maadhyam se jyaada karake door-door tak phaila kee ja sakatee hai ek saadhan haath mein laga hai to isaka bharapoor upayog karana manushy kee manushy ka svabhaav ko pahale hee tha pahale bhee tha lekin itana bada maadhyam log ke paas nahin tha lekin lokal leval par vahee baaten karate the gaanv-gaanv mein badee bastee mein yah pravrtti hamesha rahe doosare ek mahatvapoorn baithak mein bhaarateey logon ko abhee tak parsanal aur soshal stadee abhee tak dhyaan mein nahin aaee aaee koman sens kee baat se bateshvar bhaarateey logon ko abhee tak bade badee sankhya mein maaloom nahin hogee jo hotee hai vah shishy bhaarateey logon ko nahin hai ki kahaan tak hamane kisee ke parsanal laiph mein dikhana chaahie ya vikkee ke kuchh apane praivesee ke adhikaar hote hain yah baat logon ko pata nahin to koee cheej hai jo hotee hai vah kisee kee parsanal cheej hotee hai usamen us par tippanee karana koee aavashyak tatv shiv baat nahin theek hai vaise parsanal keejie har vyakti kee hotee hai hamaaree bhee hotee hai unaka opareshan karane vaalon vaale kee bhee bhartee koman sens kee baat hai ki kaun see cheej hai saamane vaale vyakti ko poochha ya nahin poochhen isaka koee khyaal hee nahin karate aur baar-baar ek hee prashn poochhate hain mujhe ek vyakti ne 20 baar poochha ki tumhaara pagaar kitana hai tumhaara pagaar mere gaanv mainne kaha kuchh bhee nahin hai aapake bagair mein se mujhe kuchh maheena de deejie main bahut gareeb aadamee hoon baad mein vah hansane laga aur usane kaha ki theek hai theek hai de do usake ghar mein aa gaya ki yah galat savaal poochhe jyaada jyaada koee baar baar poochhega ki apane tumhaare bhaee ab kya karate hain aise 100 baar bhee poochhenge poochha hoga ki bhaee kya karata hai vah bhaee kya karata hai bahan ke prati kam se kam 50 baar poochha hai aisa bhee mujhe to aise moorkh isalie paida hue hain inamen shiksha bahut pramaan kamee kam hai aur vah bhee dasaveen tak shiksha lete hain aur unako aaj kee det ke paas karate ya paas karate hain aur baad mein yah aadhee adhooree shiksha moorkhata nirmaan karatee ho to pooree hogee to bilkul na ho yah bataaya ja sakata hai ki nahin shiksha mein lodhee samaaj kee ichchha nahin hai bilkul anapadh hai jameen ka vikaas nahin ho pae vikaas keval paisa kitana bada hai itanee se nahin hua yah baat unako maaloom hai dhanyavaad

bolkar speaker
किसी के चरित्र पर शंका करना आजकल आम बात क्यों होने लगी है?Kisi Ke Charitra Par Shanka Karna Aajkal Aam Baat Kyo Hone Lagi Hai
Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College Student
0:56
आज का काम के ऊपर शक करना किसी के चरित्र पर ऐसा है जहां पर सभी लोग कोई ना कोई ना कि वह दूसरों को लुभा सके या अलग-अलग कारणों की वजह से 7 लोग करवाने के लिए सेना का पहनते हैं कुछ लोग ऐसे ही पहन लेते हैं ताकि बाकी के लोग उनसे दूर रहे तो तरह-तरह के नकाब पहनते हैं और इसी के चलते आजकल लोगों को ज्यादा भरोसा नहीं है सबको लगता है कि सामने वाला जो है वह अगर आपसे अच्छे से बात कर रहे हैं तो जरूर कुछ और बात हुआ नहीं है मतलब कट नाम है तो एक शख्स रहता है हर एक बात करें जिससे भी अपने आपको भरोसा नहीं हो पाता तो सामने वाला जैसे दिखा रहे थे उसमें उसका नीचे रहता है यह भी तो नकाब वाला जो उस कल्चर चला है यह उसके कारण शव काफी बड़ा है
Aaj ka kaam ke oopar shak karana kisee ke charitr par aisa hai jahaan par sabhee log koee na koee na ki vah doosaron ko lubha sake ya alag-alag kaaranon kee vajah se 7 log karavaane ke lie sena ka pahanate hain kuchh log aise hee pahan lete hain taaki baakee ke log unase door rahe to tarah-tarah ke nakaab pahanate hain aur isee ke chalate aajakal logon ko jyaada bharosa nahin hai sabako lagata hai ki saamane vaala jo hai vah agar aapase achchhe se baat kar rahe hain to jaroor kuchh aur baat hua nahin hai matalab kat naam hai to ek shakhs rahata hai har ek baat karen jisase bhee apane aapako bharosa nahin ho paata to saamane vaala jaise dikha rahe the usamen usaka neeche rahata hai yah bhee to nakaab vaala jo us kalchar chala hai yah usake kaaran shav kaaphee bada hai

bolkar speaker
किसी के चरित्र पर शंका करना आजकल आम बात क्यों होने लगी है?Kisi Ke Charitra Par Shanka Karna Aajkal Aam Baat Kyo Hone Lagi Hai
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
2:33
नमस्कार दोस्तों आयोजन में पूछा किसी के चरित्र पर शंका करना आजकल आम बात क्यों होने लगी है आजकल के दौर में क्या है कि हम मोती किन चीजों पर ज्यादा डिपेंड होने लगे आसपास की चीजें हम देखते हैं क्योंकि हम न्यूज़ बहुत ज्यादा इस चीज को देखते हैं न्यूज़ को छोड़कर के न्यूज़ के एक तरफ से हटा कर दीजिए तो अगर हम जो हैं मूवीस देख रहे हैं मूवीस के अलावा वेब सीरीज सीरीज है उसमें कुछ किरदार इस तरह से मैनिपुलेट किए जाते हैं इस तरह से बताए जाते हैं कि वह आपके कहने के दिमाग में जगह कर जाते हैं और मूर्ति उसमें आपके अफेयर्स लव अफेयर से फीमेल और जो भी हैं लिव इन रिलेशनशिप इन चीजों के बारे में इस तरह से मॉडिफाई कर करके बताया है कि इंसान के दिमाग में वो चीज आती है और उन चीजों को किसी और चीजों के साथ डिलीट करना शुरू कर देता है और उसी के आधार पर वह उनके कपड़ों से उनके चाल चलन से उनकी बातों से उनके पहनावे से उनके कैरेक्टर को जज करना शुरू कर देता हूं के चरित्र पर शंका करना शुरू कर देता है जो कि बहुत ही गलत बात है क्योंकि आप किसी के लुक से किसी की बॉडी से किसी के शारीरिक ढंग से शारीरिक बनावट से और किसी के पहनावे से आप जो है जो किसी की बातों से आप किसी के चरित्र पर जो है उंगली नहीं उठा सकते और उस पर शंका नहीं करनी चाहिए क्योंकि हर किसी का अपना पहनने का तरीका हर किसी का अपना बात करने का तरीका पुर एग्जांपल आपने बहुत ही लड़की ऐसी देखी होंगी तो बहुत ओपन माइंडेड होते हैं और बहुत अच्छे से बात करते हो खुल कर बात करते हैं बिना किसी चीज के बिना किसी बनावटी शब्दों को तो हम लोग उस चीज को गलत जज करना शुरू कर देते हैं मोस्टली वह लोग जो इस चीज की ज्यादा आदमी नहीं है जो इस कम्युनिटी में नहीं है क्योंकि मुस्लिम बाहर के बच्चे हो तो बहुत कॉन्फिडेंट और बोसी बातों को उनको पहले से नॉलेज होती है तो बहुत डिस्कस करने में शर्म नहीं करते हैं तो उसी ही आधार पर लोग जो हैं उनके ऊपर शंका करने तो सबसे पहले हमें अपने चीजों के बारे में समझना पड़ेगा इन चीजों के ऊपर बा काम करना पड़ेगा और हर किसी को जज करने से पहले एक बार सोचिए कि अगर आप किसी को इस तरह से अगर आपके बारे में कुछ गलत जज करें और आपको बाद में पता चले तब किस तरह से लगेगा तो यही कुछ रीजन थे आशा करता हूं आपका आपके सवाल का जवाब मिल गया होगा लाइक और सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Namaskaar doston aayojan mein poochha kisee ke charitr par shanka karana aajakal aam baat kyon hone lagee hai aajakal ke daur mein kya hai ki ham motee kin cheejon par jyaada dipend hone lage aasapaas kee cheejen ham dekhate hain kyonki ham nyooz bahut jyaada is cheej ko dekhate hain nyooz ko chhodakar ke nyooz ke ek taraph se hata kar deejie to agar ham jo hain moovees dekh rahe hain moovees ke alaava veb seereej seereej hai usamen kuchh kiradaar is tarah se mainipulet kie jaate hain is tarah se batae jaate hain ki vah aapake kahane ke dimaag mein jagah kar jaate hain aur moorti usamen aapake apheyars lav apheyar se pheemel aur jo bhee hain liv in rileshanaship in cheejon ke baare mein is tarah se modiphaee kar karake bataaya hai ki insaan ke dimaag mein vo cheej aatee hai aur un cheejon ko kisee aur cheejon ke saath dileet karana shuroo kar deta hai aur usee ke aadhaar par vah unake kapadon se unake chaal chalan se unakee baaton se unake pahanaave se unake kairektar ko jaj karana shuroo kar deta hoon ke charitr par shanka karana shuroo kar deta hai jo ki bahut hee galat baat hai kyonki aap kisee ke luk se kisee kee bodee se kisee ke shaareerik dhang se shaareerik banaavat se aur kisee ke pahanaave se aap jo hai jo kisee kee baaton se aap kisee ke charitr par jo hai ungalee nahin utha sakate aur us par shanka nahin karanee chaahie kyonki har kisee ka apana pahanane ka tareeka har kisee ka apana baat karane ka tareeka pur egjaampal aapane bahut hee ladakee aisee dekhee hongee to bahut opan mainded hote hain aur bahut achchhe se baat karate ho khul kar baat karate hain bina kisee cheej ke bina kisee banaavatee shabdon ko to ham log us cheej ko galat jaj karana shuroo kar dete hain mostalee vah log jo is cheej kee jyaada aadamee nahin hai jo is kamyunitee mein nahin hai kyonki muslim baahar ke bachche ho to bahut konphident aur bosee baaton ko unako pahale se nolej hotee hai to bahut diskas karane mein sharm nahin karate hain to usee hee aadhaar par log jo hain unake oopar shanka karane to sabase pahale hamen apane cheejon ke baare mein samajhana padega in cheejon ke oopar ba kaam karana padega aur har kisee ko jaj karane se pahale ek baar sochie ki agar aap kisee ko is tarah se agar aapake baare mein kuchh galat jaj karen aur aapako baad mein pata chale tab kis tarah se lagega to yahee kuchh reejan the aasha karata hoon aapaka aapake savaal ka javaab mil gaya hoga laik aur sabsakraib karen dhanyavaad

bolkar speaker
किसी के चरित्र पर शंका करना आजकल आम बात क्यों होने लगी है?Kisi Ke Charitra Par Shanka Karna Aajkal Aam Baat Kyo Hone Lagi Hai
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:30
दोस्तों प्रश्न है किसी के चरित्र पर शंका करना आजकल आम बात क्यों होने लगी है तो दोस्तों आजकल लोगों को जल्दी आगे बढ़ने की होड़ लगी हुई है वह रिश्ते नाते धीरे-धीरे भूलता जा रहा है मित्रता भूलते जा रहा है तो पहले इतना लोगों पर शक नहीं किया करते थे इतना लोग स्वार्थी नहीं होते थे दोस्ती में लोग कितने साल की है काम कर देते हैं थे आजकल दोस्त भी आपको दोस्ती के नाम पर ठाक लेता है आपको कोई व्यवसाय में आपको सहायता करने में बल्कि नुकसान पहुंचाने की कोशिश करता है चाहे रिश्तेदार क्यों ना हो धीरे-धीरे आजकल हम मैं स्वार्थी होते जा रहे हैं हम स्वयं से साथी स्वार्थी और रिश्तेदारों से स्वार्थी हो रहे मित्रों से स्वार्थी हो रहे हैं हर चीज में हम पैसा देख रहे हैं तो इसलिए धोखा भी ज्यादा हो रहा है धोखा आने होने से अब हमारे चीजें हैं वह सब चीज शंका करना स्वाभाविक होता जा रहा है यहां बहुत सारे गलती से आ गई है भाभी एक प्रकार से नुकसानदायक है रिश्ते के लिए मानो कोई मित्र आप कुछ सामान बेच रहा है वह भी निश्चित रूप से कोई लाभ ले रहा होगा लेकिन आपको ऑनलाइन देखते हैं ऑनलाइन पे किताब कीमत और कम होती है यार कीमत कम होने की ऑनलाइन पे कई कारण हो सकते हैं लेकिन आप दोस्त है ना लेकर या दो उसको को हो गया तू तो महंगा लगा रहा है बाहर से लेते हो तो एक उसमें खटास आ जाती है विश्वास की कमी आ जाती है इसलिए आजकल शंका करना आम बात होती जा रही है धन्यवाद
Doston prashn hai kisee ke charitr par shanka karana aajakal aam baat kyon hone lagee hai to doston aajakal logon ko jaldee aage badhane kee hod lagee huee hai vah rishte naate dheere-dheere bhoolata ja raha hai mitrata bhoolate ja raha hai to pahale itana logon par shak nahin kiya karate the itana log svaarthee nahin hote the dostee mein log kitane saal kee hai kaam kar dete hain the aajakal dost bhee aapako dostee ke naam par thaak leta hai aapako koee vyavasaay mein aapako sahaayata karane mein balki nukasaan pahunchaane kee koshish karata hai chaahe rishtedaar kyon na ho dheere-dheere aajakal ham main svaarthee hote ja rahe hain ham svayan se saathee svaarthee aur rishtedaaron se svaarthee ho rahe mitron se svaarthee ho rahe hain har cheej mein ham paisa dekh rahe hain to isalie dhokha bhee jyaada ho raha hai dhokha aane hone se ab hamaare cheejen hain vah sab cheej shanka karana svaabhaavik hota ja raha hai yahaan bahut saare galatee se aa gaee hai bhaabhee ek prakaar se nukasaanadaayak hai rishte ke lie maano koee mitr aap kuchh saamaan bech raha hai vah bhee nishchit roop se koee laabh le raha hoga lekin aapako onalain dekhate hain onalain pe kitaab keemat aur kam hotee hai yaar keemat kam hone kee onalain pe kaee kaaran ho sakate hain lekin aap dost hai na lekar ya do usako ko ho gaya too to mahanga laga raha hai baahar se lete ho to ek usamen khataas aa jaatee hai vishvaas kee kamee aa jaatee hai isalie aajakal shanka karana aam baat hotee ja rahee hai dhanyavaad

bolkar speaker
किसी के चरित्र पर शंका करना आजकल आम बात क्यों होने लगी है?Kisi Ke Charitra Par Shanka Karna Aajkal Aam Baat Kyo Hone Lagi Hai
deshrajchaurasiya37@gmail.com  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए deshrajchaurasiya37@gmail.com जी का जवाब
Director navik career institute faizabad
2:17
और मित्रों आपका अपना सुना है कि किसी के चरित्र पर शंका करना आजकल आम बात क्यों होने लगी है मित्रों आज कल जैसे हमारा समाज ग्लोबल हो गया है कि एक व्यक्ति अब काम के सिलसिले में या स्त्री हो या पुरुष को बाहर जा रहा है परदेस जा रहा है दूसरे देश जा रहा है एक परदेस दूसरे प्रदेश जा रहा है जिले से दूसरे जिले जिले जा रहा है एक देश दूसरे देश जा रहा है एक गांव से दूसरे गांव जा रहा है एक नगर से दूसरे नगर जा रहा है इस प्रकार से जब वह लोगों का आना जाना एक स्थान से दूसरे स्थान होता है कोई स्त्री हो या पुरुष हो तो उसका एक दूसरे से लगा होता है मेलजोल होता है तो ऐसी स्थिति में लोगों का कभी कभी दोस्ती प्रगाढ़ हो जाती है तो लोग उसे सख्त दृश्य देखना चाहते हैं कि इनकी इनकी अधिक बैठती है स्त्री पुरुष में तो लोगों को शंका लगे रहते हैं कि शायद इनके बीच में गलत संबंध होगा बट ऐसा हो भी सकता है और नहीं भी हो सकता है लेकिन लोगों के मन में यह संख्या बनी रहती हैं कि शायद इनका आपस में लगाओ है या इनका आपस में ऐसा गलत संबंध है तो चित्र पर दोष लगाते रहते हैं लेकिन यह सामने वाले सोचने वाले का नजरिया है देखने वाले नजरिया हो सकता है ऐसा ना हो वह दोनों बिल्कुल पार्षदों और अपने साथी के प्रति समर्पण की भावना रखते हो एक दूसरे से बातचीत करना कोई बुरी बात नहीं है लोग एक दूसरे से बातें करते हैं मिलते जुलते रहते हैं खासकर के अधिकारी पर गए बिजनेस में वर्ग है यह बहुत लोगों से रोज मिलता रहता है और किसी किसी व्यक्ति तो रोज मिलता है इसका मतलब यह नहीं होता कि उनका आपस में गलत ही संबंध है हां लेकिन लोगों के मन में शंका बनी रहती है जिससे जिससे लोग उस पिक्चर को दोस्त लगाते रहते हैं धन्यवाद मित्रों
Aur mitron aapaka apana suna hai ki kisee ke charitr par shanka karana aajakal aam baat kyon hone lagee hai mitron aaj kal jaise hamaara samaaj global ho gaya hai ki ek vyakti ab kaam ke silasile mein ya stree ho ya purush ko baahar ja raha hai parades ja raha hai doosare desh ja raha hai ek parades doosare pradesh ja raha hai jile se doosare jile jile ja raha hai ek desh doosare desh ja raha hai ek gaanv se doosare gaanv ja raha hai ek nagar se doosare nagar ja raha hai is prakaar se jab vah logon ka aana jaana ek sthaan se doosare sthaan hota hai koee stree ho ya purush ho to usaka ek doosare se laga hota hai melajol hota hai to aisee sthiti mein logon ka kabhee kabhee dostee pragaadh ho jaatee hai to log use sakht drshy dekhana chaahate hain ki inakee inakee adhik baithatee hai stree purush mein to logon ko shanka lage rahate hain ki shaayad inake beech mein galat sambandh hoga bat aisa ho bhee sakata hai aur nahin bhee ho sakata hai lekin logon ke man mein yah sankhya banee rahatee hain ki shaayad inaka aapas mein lagao hai ya inaka aapas mein aisa galat sambandh hai to chitr par dosh lagaate rahate hain lekin yah saamane vaale sochane vaale ka najariya hai dekhane vaale najariya ho sakata hai aisa na ho vah donon bilkul paarshadon aur apane saathee ke prati samarpan kee bhaavana rakhate ho ek doosare se baatacheet karana koee buree baat nahin hai log ek doosare se baaten karate hain milate julate rahate hain khaasakar ke adhikaaree par gae bijanes mein varg hai yah bahut logon se roj milata rahata hai aur kisee kisee vyakti to roj milata hai isaka matalab yah nahin hota ki unaka aapas mein galat hee sambandh hai haan lekin logon ke man mein shanka banee rahatee hai jisase jisase log us pikchar ko dost lagaate rahate hain dhanyavaad mitron

bolkar speaker
किसी के चरित्र पर शंका करना आजकल आम बात क्यों होने लगी है?Kisi Ke Charitra Par Shanka Karna Aajkal Aam Baat Kyo Hone Lagi Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:36
हेलो पेंट स्वागत है आपका आपका प्रश्न किसी के चरित्र पर शंका करना आजकल आम बात क्यों होने लगी है तो फ्रेंड आजकल लोग अपने बारे में नहीं देखते हैं और दूसरों के बारे में देखते हैं और दूसरों पे जल्दी राय बनाने लगते हैं और दूसरों के चरित्र पर शंकर करने लगते हैं क्योंकि आजकल ऐसा जमाना है कि अगर कोई एक लड़का हो या लड़की बात कर ले तो लोग गलत दृष्टि से देखने लगते हैं ऐसा नहीं होना चाहिए एक लड़का लड़की साथ में पढ़ते भी हैं वे दोस्त होते हैं साथ में क्लासमेंट होते हैं तो हर आदमी को शंकर की दृष्टि से नहीं देखना चाहिए या गलत बात होती है धन्यवाद
Helo pent svaagat hai aapaka aapaka prashn kisee ke charitr par shanka karana aajakal aam baat kyon hone lagee hai to phrend aajakal log apane baare mein nahin dekhate hain aur doosaron ke baare mein dekhate hain aur doosaron pe jaldee raay banaane lagate hain aur doosaron ke charitr par shankar karane lagate hain kyonki aajakal aisa jamaana hai ki agar koee ek ladaka ho ya ladakee baat kar le to log galat drshti se dekhane lagate hain aisa nahin hona chaahie ek ladaka ladakee saath mein padhate bhee hain ve dost hote hain saath mein klaasament hote hain to har aadamee ko shankar kee drshti se nahin dekhana chaahie ya galat baat hotee hai dhanyavaad

bolkar speaker
किसी के चरित्र पर शंका करना आजकल आम बात क्यों होने लगी है?Kisi Ke Charitra Par Shanka Karna Aajkal Aam Baat Kyo Hone Lagi Hai
itishree Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए itishree जी का जवाब
Unknown
2:03
पीछे के चरित्र पर शंका का ना आजकल आम बात क्यों होने लगी है देखिए यह जो है आजकल ज्यादा दिख रहा है क्योंकि अगर कोई लड़का किसी लड़की से बात कर रहा है तो लोग समझते हैं उसके भीतर कुछ रिश्ता है उनके और इन दोनों के भीतर कोई रिश्ता है अरे कैसे हो सकता है अगर आप किसी लड़का या कोई लड़का किसी लड़की से बात कर रहा है तो वह भी उसका फ्रेंड हो सकता है सिर्फ एक लड़का लड़के बात करें तो लोग समझते हैं आइए इस लड़की के भीतर कुछ संबंध है या यह इसी को प्यार करता है इससे जहां चार यार फैला देते हैं इसे सुनकर हमारी फैमिली में हमारे माता-पिता के ऊपर क्या बीती होगी उनको क्या थोड़ी पता है बदनाम करने के लिए लोग तो हमेशा रेडी ही रहते हैं उनके घर की उनकी आंखों में खुद को भी देखनी चाहिए ना कि हम दूसरों को क्यों बोले अपने आप को पहले से देखो ना पहले दूसरों को बोलना अगर कोई किसी के घर में जाता है अगर कुछ काम है या कोई एक है कि कोई अकेला लड़की घर में होता है अगर कोई लड़का उसके घर जाता है या कोई उसका संबंधी कोई भाई भाई होता है अगर उससे मिलने भी जाता है तो पड़ोसियों को देखना अरे यह तो हर दिन उसके पास जाता है क्या करता है अंदर एक थोड़ी ना ऐसा होता है जो आंखें सब आंखें दिखाएं सब आंखें दिखाई देने सत्य नहीं होता उसके भीतर हम को समझना है क्यों जा रहा है बोलता पर्सनल मेटर है आपको क्या वैसे रहे हो उस से पर्सनल मैटर में दखल देना है या आजकल लोगों का एक हावित हो गया है दूसरों को बदनाम करने का
Peechhe ke charitr par shanka ka na aajakal aam baat kyon hone lagee hai dekhie yah jo hai aajakal jyaada dikh raha hai kyonki agar koee ladaka kisee ladakee se baat kar raha hai to log samajhate hain usake bheetar kuchh rishta hai unake aur in donon ke bheetar koee rishta hai are kaise ho sakata hai agar aap kisee ladaka ya koee ladaka kisee ladakee se baat kar raha hai to vah bhee usaka phrend ho sakata hai sirph ek ladaka ladake baat karen to log samajhate hain aaie is ladakee ke bheetar kuchh sambandh hai ya yah isee ko pyaar karata hai isase jahaan chaar yaar phaila dete hain ise sunakar hamaaree phaimilee mein hamaare maata-pita ke oopar kya beetee hogee unako kya thodee pata hai badanaam karane ke lie log to hamesha redee hee rahate hain unake ghar kee unakee aankhon mein khud ko bhee dekhanee chaahie na ki ham doosaron ko kyon bole apane aap ko pahale se dekho na pahale doosaron ko bolana agar koee kisee ke ghar mein jaata hai agar kuchh kaam hai ya koee ek hai ki koee akela ladakee ghar mein hota hai agar koee ladaka usake ghar jaata hai ya koee usaka sambandhee koee bhaee bhaee hota hai agar usase milane bhee jaata hai to padosiyon ko dekhana are yah to har din usake paas jaata hai kya karata hai andar ek thodee na aisa hota hai jo aankhen sab aankhen dikhaen sab aankhen dikhaee dene saty nahin hota usake bheetar ham ko samajhana hai kyon ja raha hai bolata parsanal metar hai aapako kya vaise rahe ho us se parsanal maitar mein dakhal dena hai ya aajakal logon ka ek haavit ho gaya hai doosaron ko badanaam karane ka

bolkar speaker
किसी के चरित्र पर शंका करना आजकल आम बात क्यों होने लगी है?Kisi Ke Charitra Par Shanka Karna Aajkal Aam Baat Kyo Hone Lagi Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:57
प्रणाम दोस्तों आप का सवाल है इसी के चरित्र पर शंका करना आजकल आप बात क्यों होने लगी तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार से है हमें किसी भी चरित्र पर शंका नहीं करना चाहिए क्योंकि हमें अपने अंदर भी झांकना चाहिए क्योंकि अगर हम अंदर नहीं जाते हैं तो हमें एक दूसरे की कमियां लेकिन आने लग जाएंगे इसलिए प्रत्येक व्यक्ति अगर अपने अंतरात्मा से अज्ञान अंदर से झगड़ा शुरु कर देगा तो वह किसी दूसरे के चरित्र पर शंका नहीं करेगा इसलिए हमें एक दूसरे का सम्मान करना चाहिए और अपने आप को भी समझना चाहिए जिससे आप के चरित्र का शंका नहीं करेंगे धन्यवाद साथियों खुश रहो
Pranaam doston aap ka savaal hai isee ke charitr par shanka karana aajakal aap baat kyon hone lagee to doston aapake savaal ka uttar is prakaar se hai hamen kisee bhee charitr par shanka nahin karana chaahie kyonki hamen apane andar bhee jhaankana chaahie kyonki agar ham andar nahin jaate hain to hamen ek doosare kee kamiyaan lekin aane lag jaenge isalie pratyek vyakti agar apane antaraatma se agyaan andar se jhagada shuru kar dega to vah kisee doosare ke charitr par shanka nahin karega isalie hamen ek doosare ka sammaan karana chaahie aur apane aap ko bhee samajhana chaahie jisase aap ke charitr ka shanka nahin karenge dhanyavaad saathiyon khush raho

bolkar speaker
किसी के चरित्र पर शंका करना आजकल आम बात क्यों होने लगी है?Kisi Ke Charitra Par Shanka Karna Aajkal Aam Baat Kyo Hone Lagi Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
1:43
आपका प्रश्न है कि किसी के चरित्र पर शंका करना आजकल आम बात क्यों होने लगे ऐसा है क्या आजकल हर आदमी जो है वह बुद्धिजीवी बन गया है पुराने समय की तुलना में आज भी लोग हैं उनका बौद्धिक स्तर बढ़ गया है और बहुत दिखता भोग और विलास में बात करने लगे समझा अपना और इस भोग विलास की मानसिकता की सबसे बड़ी कमी होती है कि हम अपने को अच्छा और दूसरे को बुरा काम आते हैं क्योंकि जो स्वार्थ का तक तो होता है ना वह आत्म केंद्रित होता है ऐसे में अपने गलत कामों को करते हुए भी हम तुलना करते हैं जो हम कुछ कर रहे हैं दूसरे हमसे ज्यादा बुरे कर रहे हैं बुरा कर रहे हैं इसलिए आज जो है हर आदमी अपनी सुरक्षा के लिए अपने बचाव के लिए अपनी भोग विलास की मानसिकता की पूर्ति के लिए दूसरों में कमी खोजने में लगा है तभी आपने और यह धीरे-धीरे का आदत बनती जा रही स्वभाव बनता जा रहा ट्रक जब्त की जा रही है पीढ़ी दर पीढ़ी हमें उत्तराधिकार मिल रही है किसी के चरित्र पर शंका करना तो नैना बल किशन का तो छोड़िए तो उससे भी आगे बढ़ गए लोग अंगुली उठाने लगे हैं अपना किसी को आप गलत काम करते हुए पकड़ लीजिए तो तुरंत अंगुली उठा देना दूसरे भी तो ऐसा करते आप उनको क्यों नहीं कहते तो इस तरह से अब धीरे-धीरे पुरानी मानसिकता के विपरीत ए नहीं मान सकता जो है दूसरों के चरित्र में कमी खोजने लगी है
Aapaka prashn hai ki kisee ke charitr par shanka karana aajakal aam baat kyon hone lage aisa hai kya aajakal har aadamee jo hai vah buddhijeevee ban gaya hai puraane samay kee tulana mein aaj bhee log hain unaka bauddhik star badh gaya hai aur bahut dikhata bhog aur vilaas mein baat karane lage samajha apana aur is bhog vilaas kee maanasikata kee sabase badee kamee hotee hai ki ham apane ko achchha aur doosare ko bura kaam aate hain kyonki jo svaarth ka tak to hota hai na vah aatm kendrit hota hai aise mein apane galat kaamon ko karate hue bhee ham tulana karate hain jo ham kuchh kar rahe hain doosare hamase jyaada bure kar rahe hain bura kar rahe hain isalie aaj jo hai har aadamee apanee suraksha ke lie apane bachaav ke lie apanee bhog vilaas kee maanasikata kee poorti ke lie doosaron mein kamee khojane mein laga hai tabhee aapane aur yah dheere-dheere ka aadat banatee ja rahee svabhaav banata ja raha trak jabt kee ja rahee hai peedhee dar peedhee hamen uttaraadhikaar mil rahee hai kisee ke charitr par shanka karana to naina bal kishan ka to chhodie to usase bhee aage badh gae log angulee uthaane lage hain apana kisee ko aap galat kaam karate hue pakad leejie to turant angulee utha dena doosare bhee to aisa karate aap unako kyon nahin kahate to is tarah se ab dheere-dheere puraanee maanasikata ke vipareet e nahin maan sakata jo hai doosaron ke charitr mein kamee khojane lagee hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • चरित्र पर शक, दूसरों के चरित्र पर शक, दूसरों के चरित्र पर शक करना
URL copied to clipboard