#जीवन शैली

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:02
सर सीधे सीधे स्वभाव वाले लोग अपनी बुराई सुनने के बाद इतने तनाव में क्यों आ जाते हैं दोस्तों इसके पीछे का कारण ही होते हैं किसी के 100 गांव के जो लोग होते हैं जो अपनी बुराई तो सुन ले परंतु इस कारण से तनाव में आ जाते हैं कि वह अपने बुराई क्यों सुन रहे हैं इसका मेन कारण है उनका जिस वजह से जो व्यक्ति उनकी बुराइयां कर रहे हैं उनका विरोध नहीं करते हैं सिर्फ उस चीज को सहन करते हैं जिनके द्वारा नहीं है उनको लगता है कि यह बिल्कुल गलत है वह तनाव में आ जाते हैं कि उन्होंने काम किया था उसके आधार पर उसकी मां को नहीं रखने उनकी बुराई कर रहे हैं आखिर क्यों रही है उनकी बुराई के माइंड के अंदर होता रहता है
Sar seedhe seedhe svabhaav vaale log apanee buraee sunane ke baad itane tanaav mein kyon aa jaate hain doston isake peechhe ka kaaran hee hote hain kisee ke 100 gaanv ke jo log hote hain jo apanee buraee to sun le parantu is kaaran se tanaav mein aa jaate hain ki vah apane buraee kyon sun rahe hain isaka men kaaran hai unaka jis vajah se jo vyakti unakee buraiyaan kar rahe hain unaka virodh nahin karate hain sirph us cheej ko sahan karate hain jinake dvaara nahin hai unako lagata hai ki yah bilkul galat hai vah tanaav mein aa jaate hain ki unhonne kaam kiya tha usake aadhaar par usakee maan ko nahin rakhane unakee buraee kar rahe hain aakhir kyon rahee hai unakee buraee ke maind ke andar hota rahata hai

और जवाब सुनें

Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College Student
1:27
तो आजकल ऐसा कई बार हो जाता है कि जो लोग होते हैं और उनको क्रिटिसाइज करते हैं कोई बुराई कर दिया है उनके बारे में तो तनाव में आ जाते हैं जैसे अगर आप कभी इंटरव्यू देने जाए और सामने वाले ने आपसे कह दिया कि आपका यह चीज है जो आप किस के लगभग खराब है आप कहीं पर भी जवाब नहीं मिलेगी या ऐसी कोई बात करनी बुराई करती तो तनाव में लोग आ जाते हैं ज्यादा तनाव में फूलों की शुरुआत में आते वक्त नए-नए आते हैं दुनिया की पहली बार पाला पड़ता है तो कोई उनकी बुराई करता है तो वह कहते हैं हमसे जाते कितने आईडिया नहीं होता कि सामने वाला जो कहना है वह सही है या कोई और रीजन है दिल काफी कुछ नया होता है तो पहले ही डरे हुए हैं कि सोसाइटी कैसी होगी और उसमें भी कोई सामने वाला फ्रेंडली नाव की उतराई करते तो उस टाइम जाती है कोई बात नहीं तो सारे लोगों की है जो साधु स्वभाव वाले होते हैं वह लोग होते हैं जो पहले चाय में कोई बुराई करते हैं लेकिन अगर कोई इंसान दादा ध्यान नहीं देता और बात भूखे आगे बढ़ जाते हैं तो आपको देखना चाहिए आप सीधे साधे लोगों ने लोगों सूची क्या सच में कोई बुराई है या नहीं है क्या बहुत सीरियस प्रॉब्लम है आप उसको ठीक कर सकते हैं नहीं की कमी तो आप में हमेशा रहेगी और अपनी कमियों को इंप्रूव करना ही हमारा मकसद है
To aajakal aisa kaee baar ho jaata hai ki jo log hote hain aur unako kritisaij karate hain koee buraee kar diya hai unake baare mein to tanaav mein aa jaate hain jaise agar aap kabhee intaravyoo dene jae aur saamane vaale ne aapase kah diya ki aapaka yah cheej hai jo aap kis ke lagabhag kharaab hai aap kaheen par bhee javaab nahin milegee ya aisee koee baat karanee buraee karatee to tanaav mein log aa jaate hain jyaada tanaav mein phoolon kee shuruaat mein aate vakt nae-nae aate hain duniya kee pahalee baar paala padata hai to koee unakee buraee karata hai to vah kahate hain hamase jaate kitane aaeediya nahin hota ki saamane vaala jo kahana hai vah sahee hai ya koee aur reejan hai dil kaaphee kuchh naya hota hai to pahale hee dare hue hain ki sosaitee kaisee hogee aur usamen bhee koee saamane vaala phrendalee naav kee utaraee karate to us taim jaatee hai koee baat nahin to saare logon kee hai jo saadhu svabhaav vaale hote hain vah log hote hain jo pahale chaay mein koee buraee karate hain lekin agar koee insaan daada dhyaan nahin deta aur baat bhookhe aage badh jaate hain to aapako dekhana chaahie aap seedhe saadhe logon ne logon soochee kya sach mein koee buraee hai ya nahin hai kya bahut seeriyas problam hai aap usako theek kar sakate hain nahin kee kamee to aap mein hamesha rahegee aur apanee kamiyon ko improov karana hee hamaara makasad hai

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
4:15
अक्सर सीधे-साधे शोभा वाले लोग अपनी बुराई सुनने के बाद ही अपने तनाव में क्यों आते हैं इसका मानव शरीर के अच्छे व्यक्तियों में भी एक अहंकार होता है मैं अच्छा हूं मैं समाजसेवक मैंने क्या किया है मैं सच बोलता मैं सत्य के लिए लड़ता इस तरह के उनके भक्तों के होते हैं और उन्हें अपने साधन से और सोच से चरित्र के लिए गर्व है गर्व हो जाता है थोड़े किसी भी जरूर गर्विष्ठ व्यक्ति को किसी ने अगर कुछ बुरा कहा तो उसको उठे छोटी बड़ी ठेस पहुंची है उसको नहीं पहुंची है उससे ज्यादा ऐसे व्यक्तियों को कम कर दो को चोट पहुंचती इसके आगे गए हुए व्यक्ति होते हैं लेकिन यह बात सामान्य जो श्री शादी व्यक्ति है इनके बारे में उसके आगे भी जो बुद्ध पुरुष जाते हैं तो उन पर किसी ने धोखा भी तो उनको कुछ नहीं तनाव आ जाता उगने वाले ठोकने वाले को आता है बहुत ज्यादा बाद में और कुछ आता है और ऐसे व्यक्ति से देखिए यह मिस्टेक होती है लेकिन यह सीधे साधे जिनमें यह जो घमंड निर्माण होता है की बात ज्यादा करके होती क्योंकि उनकी सोच भी बहुत बड़ी नहीं होती और 14 चीजें स्वभाव वाला और एक स्टेट फॉरवार्ड जीना जीवन की सार्थकता है ऐसा ही लोग मानते हैं लेकिन ऐसा नहीं होता है इतनी मामूली चीज से परिपूर्ण जीवन की व्याख्या व्याख्या निबंध पढ़ते-पढ़ते सुनने वाले स्वभाव के लोग लोग जो है वह किसी भी तरह नहीं करते और बताते हैं कि मैं सीधा साधा ही पसंद घबराते हैं किसी विश्वास करने से और अगर इसमें किसी ने कहा है ऐसा तो उनकी नस पर जैसे हाथ रखा है ऐसे ऐसे वाली बात होती है और यह तनाव में आ जाते हैं धन्यवाद
Aksar seedhe-saadhe shobha vaale log apanee buraee sunane ke baad hee apane tanaav mein kyon aate hain isaka maanav shareer ke achchhe vyaktiyon mein bhee ek ahankaar hota hai main achchha hoon main samaajasevak mainne kya kiya hai main sach bolata main saty ke lie ladata is tarah ke unake bhakton ke hote hain aur unhen apane saadhan se aur soch se charitr ke lie garv hai garv ho jaata hai thode kisee bhee jaroor garvishth vyakti ko kisee ne agar kuchh bura kaha to usako uthe chhotee badee thes pahunchee hai usako nahin pahunchee hai usase jyaada aise vyaktiyon ko kam kar do ko chot pahunchatee isake aage gae hue vyakti hote hain lekin yah baat saamaany jo shree shaadee vyakti hai inake baare mein usake aage bhee jo buddh purush jaate hain to un par kisee ne dhokha bhee to unako kuchh nahin tanaav aa jaata ugane vaale thokane vaale ko aata hai bahut jyaada baad mein aur kuchh aata hai aur aise vyakti se dekhie yah mistek hotee hai lekin yah seedhe saadhe jinamen yah jo ghamand nirmaan hota hai kee baat jyaada karake hotee kyonki unakee soch bhee bahut badee nahin hotee aur 14 cheejen svabhaav vaala aur ek stet phoravaard jeena jeevan kee saarthakata hai aisa hee log maanate hain lekin aisa nahin hota hai itanee maamoolee cheej se paripoorn jeevan kee vyaakhya vyaakhya nibandh padhate-padhate sunane vaale svabhaav ke log log jo hai vah kisee bhee tarah nahin karate aur bataate hain ki main seedha saadha hee pasand ghabaraate hain kisee vishvaas karane se aur agar isamen kisee ne kaha hai aisa to unakee nas par jaise haath rakha hai aise aise vaalee baat hotee hai aur yah tanaav mein aa jaate hain dhanyavaad

TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
1:07
नमस्कार दोस्तों मिशन 50 से सीधे साधे स्वभाव वाले लोग अपने बुराई सुन ले बाद में तनाव लेते डिप्रेशन में क्यों हो जाते हैं बिल्कुल आपने बहुत ही अच्छा प्रश्न आपने उठाया है लेकिन जो सीधे साधे और अच्छे व्यक्तित्व व्यक्तित्व वाले जो लोग होते हैं वह कभी किसी की बुराई नहीं करते किसी के लिए बुरा नहीं सोचते हमेशा जुबा शिव खुद अच्छा दूसरों के लिए करता है तो मुझे एक्सपेक्टेशन की रहती तो दूसरा भी उनके लिए अच्छा ही सोचा था लेकिन जब आप इतना अच्छा होने के बाद भी उनकी इसमें ठीक होने के बाद ही अगला बंदा के भोलेपन का फायदा और अच्छे बन का फायदा उठाकर आपकी बुराई करता है तो उसे या तो सीधा साधा निशाना उसके दिमाग में यह चीज बार बार घूमती रहती है कि मैं मैंने कभी जिंदगी में किसी का बुरा नहीं किया मैंने कभी जिंदगी किसी के लिए बुरा नहीं सोचा कि मेरे बारे में इतना बड़ा सच हो सकता है वह तो यही कारण है कि अक्सर तो हम सीधे साधे स्वागत लोकतंत्र मोटिवेशन बनाना
Namaskaar doston mishan 50 se seedhe saadhe svabhaav vaale log apane buraee sun le baad mein tanaav lete dipreshan mein kyon ho jaate hain bilkul aapane bahut hee achchha prashn aapane uthaaya hai lekin jo seedhe saadhe aur achchhe vyaktitv vyaktitv vaale jo log hote hain vah kabhee kisee kee buraee nahin karate kisee ke lie bura nahin sochate hamesha juba shiv khud achchha doosaron ke lie karata hai to mujhe eksapekteshan kee rahatee to doosara bhee unake lie achchha hee socha tha lekin jab aap itana achchha hone ke baad bhee unakee isamen theek hone ke baad hee agala banda ke bholepan ka phaayada aur achchhe ban ka phaayada uthaakar aapakee buraee karata hai to use ya to seedha saadha nishaana usake dimaag mein yah cheej baar baar ghoomatee rahatee hai ki main mainne kabhee jindagee mein kisee ka bura nahin kiya mainne kabhee jindagee kisee ke lie bura nahin socha ki mere baare mein itana bada sach ho sakata hai vah to yahee kaaran hai ki aksar to ham seedhe saadhe svaagat lokatantr motiveshan banaana

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:38
हेलो जीवन स्वागत है आपका आपका प्रश्न है अक्सर सीधे-साधे स्वभाव वाले लोग अपनी बुराई सुनने के बाद इतने तनाव में क्यों आ जाती हैं तो खैर जो लोग सीधे-साधे होते हैं इसलिए तनाव में आ जाते हैं क्योंकि वे समझते हैं कि हम तो किसी से लड़ाई नहीं करते हैं फिर भी लोग हमारी बुराई क्यों कर रहे हैं तनाव में आ जाते हैं जब भी सीधे-साधे होते हैं वे किसी के साथ कोई गलत नहीं करते हैं मगर फिर भी उनको कोई बोले तो फिर उनको तनाव होना तो स्वभाविक है अगर कोई सीधा साधा है तो उसके बारे में बुराई नहीं करनी चाहिए किसी के बारे में भी हमें गलत राय नहीं बनानी चाहिए धन्यवाद
Helo jeevan svaagat hai aapaka aapaka prashn hai aksar seedhe-saadhe svabhaav vaale log apanee buraee sunane ke baad itane tanaav mein kyon aa jaatee hain to khair jo log seedhe-saadhe hote hain isalie tanaav mein aa jaate hain kyonki ve samajhate hain ki ham to kisee se ladaee nahin karate hain phir bhee log hamaaree buraee kyon kar rahe hain tanaav mein aa jaate hain jab bhee seedhe-saadhe hote hain ve kisee ke saath koee galat nahin karate hain magar phir bhee unako koee bole to phir unako tanaav hona to svabhaavik hai agar koee seedha saadha hai to usake baare mein buraee nahin karanee chaahie kisee ke baare mein bhee hamen galat raay nahin banaanee chaahie dhanyavaad

vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:01
नमस्कार साथियों आप का सवाल है अक्सर सीधे-साधे स्वभाव वाले लोग अपने बुराइयां करने के बाद इतने तनाव में क्यों आ जाते हैं तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार है सीधे साधारण सभा वाले लोग अपनी बुराई सुनना पसंद नहीं करते हैं क्योंकि वह सीधे सिंपल होते हैं उनमें कोई छल कपट की भावनाएं नहीं होती है वह हमेशा अच्छा ही सोचते हैं दूसरे के बारे में लेकिन अगर सीधे साधे स्वभाव वाले लोगों के बारे में अगर कुछ गलत बोला जाए तो वह से नहीं कर पाते हैं उनके दिमाग में डिप्रेशन के शिकार हो जाते हैं इसलिए हमें किसी के साथ भी गलत व्यवहार नहीं करना चाहिए सभी के साथ अच्छा व्यवहार करना चाहिए हमें अच्छे के साथ अच्छा गांव वाले लोगों के साथ उनकी बुराई नहीं करना चाहिए धन्यवाद साथियों
Namaskaar saathiyon aap ka savaal hai aksar seedhe-saadhe svabhaav vaale log apane buraiyaan karane ke baad itane tanaav mein kyon aa jaate hain to doston aapake savaal ka uttar is prakaar hai seedhe saadhaaran sabha vaale log apanee buraee sunana pasand nahin karate hain kyonki vah seedhe simpal hote hain unamen koee chhal kapat kee bhaavanaen nahin hotee hai vah hamesha achchha hee sochate hain doosare ke baare mein lekin agar seedhe saadhe svabhaav vaale logon ke baare mein agar kuchh galat bola jae to vah se nahin kar paate hain unake dimaag mein dipreshan ke shikaar ho jaate hain isalie hamen kisee ke saath bhee galat vyavahaar nahin karana chaahie sabhee ke saath achchha vyavahaar karana chaahie hamen achchhe ke saath achchha gaanv vaale logon ke saath unakee buraee nahin karana chaahie dhanyavaad saathiyon

itishree Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए itishree जी का जवाब
Unknown
1:14
किसने असर सीधे साधे स्वभाव वाले लोग अपनी बुराई सुनने के बाद इतने तरह में क्यों आ जाते हैं लेकिन तो सीधे-साधे लोग होते हैं वह मन की बहुत ही सच्चे होते हैं कि वह किसी झंझट में नहीं पड़ना चाहते थे या कुछ कहा अगर कोई हो रहा है कुछ गलत तो वह वहां नहीं जाते उसमें नहीं पढ़ते तो वह खुद अपने आप के बारे में सोचकर हमेशा चुप रहते हैं ताकि उनके ऊपर कोई आंच ना आए तो सीधे-साधे लोग होते हैं उनके लाइट चल भी बहुत सीधे होते हैं वह किसी के साथ है आप बुरे बर्ताव नहीं कर पाते हैं या जोर से या बहुत रूठ कर उठ कर नहीं बोलते ताकि किसी को तकलीफ में पहुंचे तो अगर वही लोग इतना अच्छे होने के बावजूद कोई बुरे सुने उनके बारे में तो उनको बहुत ही झटका लगता है कोई ऐसा सोचता है कि मैं उससे हूं मैं कि नहीं बोलती मैं किसी के बारे में बुरा नहीं बोलता तो मैं मेरे बारे में लोकेशन कैसे बोल सकते हैं तो यह सोच कर बहुत तनाव में आ जाते हैं जल्दी
Kisane asar seedhe saadhe svabhaav vaale log apanee buraee sunane ke baad itane tarah mein kyon aa jaate hain lekin to seedhe-saadhe log hote hain vah man kee bahut hee sachche hote hain ki vah kisee jhanjhat mein nahin padana chaahate the ya kuchh kaha agar koee ho raha hai kuchh galat to vah vahaan nahin jaate usamen nahin padhate to vah khud apane aap ke baare mein sochakar hamesha chup rahate hain taaki unake oopar koee aanch na aae to seedhe-saadhe log hote hain unake lait chal bhee bahut seedhe hote hain vah kisee ke saath hai aap bure bartaav nahin kar paate hain ya jor se ya bahut rooth kar uth kar nahin bolate taaki kisee ko takaleeph mein pahunche to agar vahee log itana achchhe hone ke baavajood koee bure sune unake baare mein to unako bahut hee jhataka lagata hai koee aisa sochata hai ki main usase hoon main ki nahin bolatee main kisee ke baare mein bura nahin bolata to main mere baare mein lokeshan kaise bol sakate hain to yah soch kar bahut tanaav mein aa jaate hain jaldee

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • मूर्ख से बहस, तनाव कितने प्रकार के होते है, मानसिक तनाव
URL copied to clipboard