#जीवन शैली

Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:34
सवाल है कि हमें किसी की प्रतिभा से जलन क्यों होती है इसकी विशेषता मनोविज्ञान क्या है तुझे के लोगों ने ऐसे तारिक मसूद का साथ बना लिया है जो दूसरों के तरीके को देखकर के हमेशा चलते हैं कभी भी खुश नहीं होते हैं और अपनी तरक्की से कभी भी संतुष्ट नहीं होते हैं दुखी होना यह चाहिए कि आपके पास जो कुछ भी है जितना भी हंसना को संतुष्ट रहना चाहिए और कक्षा दूसरों की तरह कि देखकर का को खुश होना चाहिए ऐसा करने से आप दुकान में रहेंगे शांत रहेंगे दिमाग आपका और तू सकारात्मक होगी जिससे आप खुद को आगे बढ़ने के लिए जिंदगी में प्रेरित भी कर पाएंगे आप नहीं सुन रहे धन्यवाद
Savaal hai ki hamen kisee kee pratibha se jalan kyon hotee hai isakee visheshata manovigyaan kya hai tujhe ke logon ne aise taarik masood ka saath bana liya hai jo doosaron ke tareeke ko dekhakar ke hamesha chalate hain kabhee bhee khush nahin hote hain aur apanee tarakkee se kabhee bhee santusht nahin hote hain dukhee hona yah chaahie ki aapake paas jo kuchh bhee hai jitana bhee hansana ko santusht rahana chaahie aur kaksha doosaron kee tarah ki dekhakar ka ko khush hona chaahie aisa karane se aap dukaan mein rahenge shaant rahenge dimaag aapaka aur too sakaaraatmak hogee jisase aap khud ko aage badhane ke lie jindagee mein prerit bhee kar paenge aap nahin sun rahe dhanyavaad

और जवाब सुनें

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:37
हमें किसी की प्रतिभा से जलन क्यों होती है इसके पीछे मनोविज्ञान क्या है दोस्तों यही बात है कि जब आपकी फैमिली के अंदर या आप स्वयं कोई सफल नहीं होते जबकि दूसरा व्यक्ति की प्रतिभा को देखते हुए व्यक्ति सफल हो जाता है तब आप एक तरीके से गणना करने लगते हैं अपने आप से अपनी फैमिली को लेकर के यही कारण है कि उस व्यक्ति की प्रतिमा से जो है अब चलने लग जाते हैं कुछ लोग इसलिए बदलने लग जाती क्योंकि उनके मां-बाप जो हैं अपने बच्चों को यह कहते हैं कि उसकी प्रतिभा भी देखो और तुम्हारी भी देखो
Hamen kisee kee pratibha se jalan kyon hotee hai isake peechhe manovigyaan kya hai doston yahee baat hai ki jab aapakee phaimilee ke andar ya aap svayan koee saphal nahin hote jabaki doosara vyakti kee pratibha ko dekhate hue vyakti saphal ho jaata hai tab aap ek tareeke se ganana karane lagate hain apane aap se apanee phaimilee ko lekar ke yahee kaaran hai ki us vyakti kee pratima se jo hai ab chalane lag jaate hain kuchh log isalie badalane lag jaatee kyonki unake maan-baap jo hain apane bachchon ko yah kahate hain ki usakee pratibha bhee dekho aur tumhaaree bhee dekho

srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
0:34

Rohit Rathore Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Student
1:09
बैंक स्वागत है आप सबका मेरी बोलकर प्रोफाइल पर और आप सुनाइए रोहित राठौर को तो हम किसी की भी मन की प्रतिभा से जलते क्यों हैं क्या इसके पीछे कोई मनुवादी कारण है तो मुझे इसके पीछे गया मनोज एक मनोवैज्ञानिक कारण हो तो मुझे नहीं पता पर हम इतना बता बता सकता हूं कि सभी लोग ऐसा नहीं करते हैं कि कई लोग अपनों को अपनों से प्यार करते हैं अपनों की प्रतिभा देखकर उन्हें खुशी मिलती है और कई लोग होते हैं जो जिन जिन के दुश्मन होते हैं फिर जिन से जलते हैं उनके पति उन्हें हजम नहीं होती है कहीं पकड़ जगह सके तो हम अपने दुश्मन हो या फिर हम इतना चाहने वालों को से प्रतिभा हमें अच्छी नहीं लगती अगर किसी चीज में आगे बढ़ना है तो हमने पीछे ही पूछना चाहेंगे ऐसा हमारी उनसे पर्सनल दुश्मनी या जलन के कारण नहीं हो सकता है बाकी अगर आप किसी से अगर अपने रिश्तेदारों ने चाय दोस्तों फैमिली मेंबर से अगर मुझसे सच्चा प्यार करते हैं उन्हें अच्छे से रखते हैं तब उनके प्रति भाव से कोई जलन नहीं होगी वो जितना आगे बढ़ेंगे हमसे उसे खुशी ही होगी तो धन्यवाद किसी भी प्रतिभा सेना लेबल क्यों ने पूछा तारों ने और आगे बढ़ने का मौका मिले जिससे आप में ही पॉजिटिविटी आएगी और आप भी जीवन में आगे बढ़ेंगे धन्यवाद मिलते हैं आपसे अकेले सवाल में जब तक के लिए ट्रैक्टर
Baink svaagat hai aap sabaka meree bolakar prophail par aur aap sunaie rohit raathaur ko to ham kisee kee bhee man kee pratibha se jalate kyon hain kya isake peechhe koee manuvaadee kaaran hai to mujhe isake peechhe gaya manoj ek manovaigyaanik kaaran ho to mujhe nahin pata par ham itana bata bata sakata hoon ki sabhee log aisa nahin karate hain ki kaee log apanon ko apanon se pyaar karate hain apanon kee pratibha dekhakar unhen khushee milatee hai aur kaee log hote hain jo jin jin ke dushman hote hain phir jin se jalate hain unake pati unhen hajam nahin hotee hai kaheen pakad jagah sake to ham apane dushman ho ya phir ham itana chaahane vaalon ko se pratibha hamen achchhee nahin lagatee agar kisee cheej mein aage badhana hai to hamane peechhe hee poochhana chaahenge aisa hamaaree unase parsanal dushmanee ya jalan ke kaaran nahin ho sakata hai baakee agar aap kisee se agar apane rishtedaaron ne chaay doston phaimilee membar se agar mujhase sachcha pyaar karate hain unhen achchhe se rakhate hain tab unake prati bhaav se koee jalan nahin hogee vo jitana aage badhenge hamase use khushee hee hogee to dhanyavaad kisee bhee pratibha sena lebal kyon ne poochha taaron ne aur aage badhane ka mauka mile jisase aap mein hee pojitivitee aaegee aur aap bhee jeevan mein aage badhenge dhanyavaad milate hain aapase akele savaal mein jab tak ke lie traiktar

Aditya Dangayach  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Aditya जी का जवाब
Student
1:03
इसमें करता जानना चाहते हैं कि हमें किसी की प्रतिभा से जलन क्यों होती है इसके पीछे का मनोविज्ञान क्या है तो देखिए इसके पीछे का मनोविज्ञान यह है कि हम उस की तरह बनना चाहते हैं कि हमें देखकर प्रतिभा से जलन होती है हम पाना चाहते हैं उसकी प्रतिभा लेकिन आप होते हैं मेहनत नहीं करते हमसे क्या सोचते हैं कि हमें ऊपर से वह अपने आप मिल जाए जब हम किसी और के अंदर ऐसी प्रतिभा में जलन होती है कि भाई इसने तो ऐसा कुछ कर लिया बट मैं कुछ नहीं कर पा रहा मुझसे नहीं होता है साथ में क्या होता है कि हमारे अंदर जलन महसूस होती है परम जलने लगते सामने वाले व्यक्ति से एक बार हमें सामने वाले व्यक्ति से नफरत होने लगती है क्योंकि हम उसकी कभी हम चाहते थे कि उसकी प्रतिभा हमारे पास है वैसी प्रतिभा हमारे पास हो परंतु वह हमारे पास नहीं है क्योंकि हमने मेहनत नहीं की है इस बात पर तो हम इस बात पर ध्यान नहीं देते इसलिए हम सामने वाले से कई बार नफरत करने लग जाते हैं इसी वजह से कहां से करता हूं आपको मेरा प्रश्न समझ में आया होगा इसी प्रकार मुझसे सवालों के जवाब पाने के लिए मुझे सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Isamen karata jaanana chaahate hain ki hamen kisee kee pratibha se jalan kyon hotee hai isake peechhe ka manovigyaan kya hai to dekhie isake peechhe ka manovigyaan yah hai ki ham us kee tarah banana chaahate hain ki hamen dekhakar pratibha se jalan hotee hai ham paana chaahate hain usakee pratibha lekin aap hote hain mehanat nahin karate hamase kya sochate hain ki hamen oopar se vah apane aap mil jae jab ham kisee aur ke andar aisee pratibha mein jalan hotee hai ki bhaee isane to aisa kuchh kar liya bat main kuchh nahin kar pa raha mujhase nahin hota hai saath mein kya hota hai ki hamaare andar jalan mahasoos hotee hai param jalane lagate saamane vaale vyakti se ek baar hamen saamane vaale vyakti se napharat hone lagatee hai kyonki ham usakee kabhee ham chaahate the ki usakee pratibha hamaare paas hai vaisee pratibha hamaare paas ho parantu vah hamaare paas nahin hai kyonki hamane mehanat nahin kee hai is baat par to ham is baat par dhyaan nahin dete isalie ham saamane vaale se kaee baar napharat karane lag jaate hain isee vajah se kahaan se karata hoon aapako mera prashn samajh mein aaya hoga isee prakaar mujhase savaalon ke javaab paane ke lie mujhe sabsakraib karen dhanyavaad

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:01
हमें किसी भी प्रतिभा से जलन क्यों होती है इसके पीछे का मनोविज्ञान क्या है देखिए हर आदमी को आगे बढ़ने की चाहत होती है कुछ लोग होते हैं कि वह अपने मेहनत को अपने उद्देश्य को पूरा करने के लिए दिन रात मेहनत करते हैं और जब भी जवाब देना तो करते हैं तो सफलता उनके चरण चूमती है और आपके भी मेहनत करते हैं लेकिन आप आगे बढ़ना चाहते आगे बढ़ने के लिए जितनी मेहनत की आवश्यकता है उतनी मेहनत आप नहीं करते तो अब आपको यह लग रहा है कि यह मुझसे आगे बढ़ गए यह मनोविज्ञान है कि जब आदमी हारने लगता है तो उसे अपने ऊपर प्रसाद भगवान पैदा होती है और दूसरे से चढ़ने लगता है यही इसके पीछे का मनोविज्ञान है और यह मनोविज्ञान गलत है अगर इसको आदमी अपने उद्देश्य की पूर्ति के लिए चरणबद्ध तरीके से रोज की तैयारी करें तो निश्चय है सफलता में आप सब सर्वप्रथम रहेंगे इसलिए सफलता से उसके कुछ सीखिए और आगे बढ़ने की प्रेरणा लीजिए और जलन होती है तो एक गलत चीज है
Hamen kisee bhee pratibha se jalan kyon hotee hai isake peechhe ka manovigyaan kya hai dekhie har aadamee ko aage badhane kee chaahat hotee hai kuchh log hote hain ki vah apane mehanat ko apane uddeshy ko poora karane ke lie din raat mehanat karate hain aur jab bhee javaab dena to karate hain to saphalata unake charan choomatee hai aur aapake bhee mehanat karate hain lekin aap aage badhana chaahate aage badhane ke lie jitanee mehanat kee aavashyakata hai utanee mehanat aap nahin karate to ab aapako yah lag raha hai ki yah mujhase aage badh gae yah manovigyaan hai ki jab aadamee haarane lagata hai to use apane oopar prasaad bhagavaan paida hotee hai aur doosare se chadhane lagata hai yahee isake peechhe ka manovigyaan hai aur yah manovigyaan galat hai agar isako aadamee apane uddeshy kee poorti ke lie charanabaddh tareeke se roj kee taiyaaree karen to nishchay hai saphalata mein aap sab sarvapratham rahenge isalie saphalata se usake kuchh seekhie aur aage badhane kee prerana leejie aur jalan hotee hai to ek galat cheej hai

Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:58
सवाल यह है कि हमें किसी की प्रतिभा से जलन क्यों होती है इसके पीछे का मनोविज्ञान क्या है 90 के दशक में न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय द्वारा व्यापक अध्ययन किया गया जहां एशिया की जड़ को समझने की कोशिश की गई परिणाम घोषित ओर संकेत कर रहे थे कि मनोवैज्ञानिक पहले से ही अंतर्ज्ञान में थे इसके पीछे सुरक्षा कम आत्मसम्मान और सबसे ऊपर एक पैरंट इन है जहां कोई स्वस्थ लगाव नहीं रहता इस प्रकार जैसा कि हम परिपक्व होते हैं और बढ़ते हैं हम अपने भागीदारों के प्रति निर्भर व्यवहार उत्पन्न करते हैं जाएं रिश्वत अक्सर होती है दूसरी ओर पत्रिका में प्रकाशित एक अध्ययन विकासात्मक मनोविज्ञान किसी चीज की चेतावनी हम नहीं छोड़ सकते हमारे किशोर तेरी से ईर्ष्या और नियंत्रण कर रहे हैं आज इर्षा अकरम आता आता थी दंपत्ति के प्रति आदर व्यवहार और नियंत्रण ऐसी वास्ते बताए हैं जिन्हें हम अधिक से अधिक बार देखते हैं इसकी वजह सत्य निर्भरता आत्मसम्मान की कमी और अकेलेपन का डर यह सब एशिया के एशिया की वजह होती हैं महत्वपूर्ण बात यह है कि सीधे उस जड़ तक जाना है जो उत्पन्न कर करता है इससे उत्पन्न करता है यह सामान्य है कि हम सभी के पास हमारे ऐसे भागे हम पसंद नहीं करते या सुधारना चाहते हैं समस्या यह है कि हम इन भागों को विनाशकारी तरीके से अस्वीकार करते हैं और उन्हें बदलने की बजाय हम उन्हें अपने विचारों और कार्यों से अधिक चोट पहुंचाते हैं इसलिए आवश्यक है कि हम अपने आप में निवेश करें कि हम अपने आत्मसम्मान अपनी आत्मा अवधारणा और व्यक्तिगत छवि को बढ़ाएं यह भी महत्वपूर्ण है कि हम रिक्त स्थान को अनुमति देना सीखे और उन लोगों पर भरोसा करें जिन्हें हम चाहते हैं आप खुद को बेहतर बनाने की कोशिश करिए
Savaal yah hai ki hamen kisee kee pratibha se jalan kyon hotee hai isake peechhe ka manovigyaan kya hai 90 ke dashak mein nyooyork vishvavidyaalay dvaara vyaapak adhyayan kiya gaya jahaan eshiya kee jad ko samajhane kee koshish kee gaee parinaam ghoshit or sanket kar rahe the ki manovaigyaanik pahale se hee antargyaan mein the isake peechhe suraksha kam aatmasammaan aur sabase oopar ek pairant in hai jahaan koee svasth lagaav nahin rahata is prakaar jaisa ki ham paripakv hote hain aur badhate hain ham apane bhaageedaaron ke prati nirbhar vyavahaar utpann karate hain jaen rishvat aksar hotee hai doosaree or patrika mein prakaashit ek adhyayan vikaasaatmak manovigyaan kisee cheej kee chetaavanee ham nahin chhod sakate hamaare kishor teree se eershya aur niyantran kar rahe hain aaj irsha akaram aata aata thee dampatti ke prati aadar vyavahaar aur niyantran aisee vaaste batae hain jinhen ham adhik se adhik baar dekhate hain isakee vajah saty nirbharata aatmasammaan kee kamee aur akelepan ka dar yah sab eshiya ke eshiya kee vajah hotee hain mahatvapoorn baat yah hai ki seedhe us jad tak jaana hai jo utpann kar karata hai isase utpann karata hai yah saamaany hai ki ham sabhee ke paas hamaare aise bhaage ham pasand nahin karate ya sudhaarana chaahate hain samasya yah hai ki ham in bhaagon ko vinaashakaaree tareeke se asveekaar karate hain aur unhen badalane kee bajaay ham unhen apane vichaaron aur kaaryon se adhik chot pahunchaate hain isalie aavashyak hai ki ham apane aap mein nivesh karen ki ham apane aatmasammaan apanee aatma avadhaarana aur vyaktigat chhavi ko badhaen yah bhee mahatvapoorn hai ki ham rikt sthaan ko anumati dena seekhe aur un logon par bharosa karen jinhen ham chaahate hain aap khud ko behatar banaane kee koshish karie

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
3:04
हमें किसी की प्रतिभा से जलन क्यों होती है उसके पीछे का मनोविज्ञान क्या है इसके पीछे का मनोविज्ञान सीधा साधा है हम अपनी सुना क्या हमारे जो माइंड होता है वह अपनी तुलना मुझसे व्यक्ति से करता है इसके बाद पति में होती है और उसके बाद उसको लगता है कि मेरे पास जाए वह इसकी कमी है तो एक इंफिनिटी कंपलेक्स दिल करता है उस व्यक्ति के संदर्भ में और उसका एक के रिएक्शन होता है मन का क्यों उस व्यक्ति से जलता है इस तरीके से होता है इसमें ज्यादा कुछ नहीं है और इसके उपाय का एक ही मार्ग है कि अपनी प्रतिभा प्रतिभा को और ज्यादा बढ़े और प्रयास किए गए प्रयासों से वह हो जाता है और तुलना किसी के साथ तो नहीं हो सकती है अमेरिका लोग एनटीटी है दूसरे वाला जो है वह एक अलग एंटिटी है इस सृष्टि में कोई भी चीज 21101 जेसीडीसी नहीं बनाई गई है हर चीज का अपना एक अस्तित्व है और वह स्वतंत्र है कोई किसी की कॉपी नहीं कर सकता और कॉपी करने के प्रयास भी अगर किसी ने की है तो सफल नहीं होते यह बात समझ में लेनी चाहिए और अपना एक निर्माण करना चाहिए तो अपनी एक अलग पहचान निर्माण और वह मेंटेन रखनी चाहिए अगर आपका आपको मेरा यह जवाब सही लगा तो कुछ पैसे लाइक भी करें धन्यवाद
Hamen kisee kee pratibha se jalan kyon hotee hai usake peechhe ka manovigyaan kya hai isake peechhe ka manovigyaan seedha saadha hai ham apanee suna kya hamaare jo maind hota hai vah apanee tulana mujhase vyakti se karata hai isake baad pati mein hotee hai aur usake baad usako lagata hai ki mere paas jae vah isakee kamee hai to ek imphinitee kampaleks dil karata hai us vyakti ke sandarbh mein aur usaka ek ke riekshan hota hai man ka kyon us vyakti se jalata hai is tareeke se hota hai isamen jyaada kuchh nahin hai aur isake upaay ka ek hee maarg hai ki apanee pratibha pratibha ko aur jyaada badhe aur prayaas kie gae prayaason se vah ho jaata hai aur tulana kisee ke saath to nahin ho sakatee hai amerika log enateetee hai doosare vaala jo hai vah ek alag entitee hai is srshti mein koee bhee cheej 21101 jeseedeesee nahin banaee gaee hai har cheej ka apana ek astitv hai aur vah svatantr hai koee kisee kee kopee nahin kar sakata aur kopee karane ke prayaas bhee agar kisee ne kee hai to saphal nahin hote yah baat samajh mein lenee chaahie aur apana ek nirmaan karana chaahie to apanee ek alag pahachaan nirmaan aur vah menten rakhanee chaahie agar aapaka aapako mera yah javaab sahee laga to kuchh paise laik bhee karen dhanyavaad

pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:19
हम किसी के प्रति किमी आगे पीछे का मनोविज्ञान क्या है जो कि दूसरों की प्रक्रिया से जलते हैं जबकि एटम होना नहीं चाहिए क्योंकि आपमें प्रतिभा है और आप प्रतिभावान होना चाहते ही हैं अलग बात है लेकिन दूर होना चाहती है या आपके यह प्रतिभा को प्रभावित कर रहा है जो प्रतिभावान होते हैं ना वह करके और आकर्षित होते हैं या फिर उनको अच्छा लगता है या फिर उनसे मोटिवेट होते हैं तो यह अच्छी बात है लेकिन आपकी आपकी प्रतिभावान होने में कहीं ना कहीं आपके परिजनों को भी की प्रतिभा को भी यार आप के प्रतिभावान होने पर भी सवाल उठाता है कि के प्रतिभावान लोग या फिर जो सफल कभी भी किसी को दिल नहीं सकते हैं और ना ही किसी को देख करके वह डिमोटिवेट होते हैं बल्कि उन्हें प्रेरक मिलते हैं जिससे वह आगे बढ़ने का प्रयास करते हैं तो मिलते हैं सवाल का जवाब बन जाएगा आप लोग सही लिखो
Ham kisee ke prati kimee aage peechhe ka manovigyaan kya hai jo ki doosaron kee prakriya se jalate hain jabaki etam hona nahin chaahie kyonki aapamen pratibha hai aur aap pratibhaavaan hona chaahate hee hain alag baat hai lekin door hona chaahatee hai ya aapake yah pratibha ko prabhaavit kar raha hai jo pratibhaavaan hote hain na vah karake aur aakarshit hote hain ya phir unako achchha lagata hai ya phir unase motivet hote hain to yah achchhee baat hai lekin aapakee aapakee pratibhaavaan hone mein kaheen na kaheen aapake parijanon ko bhee kee pratibha ko bhee yaar aap ke pratibhaavaan hone par bhee savaal uthaata hai ki ke pratibhaavaan log ya phir jo saphal kabhee bhee kisee ko dil nahin sakate hain aur na hee kisee ko dekh karake vah dimotivet hote hain balki unhen prerak milate hain jisase vah aage badhane ka prayaas karate hain to milate hain savaal ka javaab ban jaega aap log sahee likho

Manju Bolkar App
Top Speaker,Level 88
सुनिए Manju जी का जवाब
Unknown
1:26
आपने सवाल यह पूछा है कि हमें किसी की प्रतिमा से जलन क्यों होती है इसके पीछे का मनोविज्ञान क्या है तो दीए जल सी फीलिंग जो है यह हर इंसान में होती है कि तू हमें दूसरों की तरक्की से या उनकी प्रतिभा से जलन इसलिए होती है क्योंकि हम उस जगह पर रहना चाहते हैं हमें लगता है कि यह हमें मिलना चाहिए जो भी तरक्की दूसरों को जब देखते हैं मिलते हुए हमें लगता है हमें मिलना चाहिए और यह जल्दी फीलिंग हर एक इंसान में होता है किस में ज्यादा होता है किसी में कम होता है कुछ लोग तो इस हद तक जाते हो सामने वाले की जो तरक्की से जल्द क्यों नीचे गिराने की कोशिश करते हैं तो इसे देखिए जो बहुत ज्यादा आवश्यकता तो इंसान होता है उसकी जाति दोस्त नहीं होते एक या दो कि नहीं छूटेगी और खून कहो कि सच्चे दोस्त होते ही नहीं है तो बजे तो यही है कि हर कोई दूसरों की तरफ से जलता है उसे नीचे खींचने की कोशिश तो यह एक टेक्नोलॉजी है हर एक इंसान के भीतर होता है तो यह गलत बात है तो यह से हम काबू में रखना चाहिए हम दूसरों की तरह की से खुश हो ना ठीक है इससे हमारा माइंड भी अच्छा रहता है हम भी खुश रह सकते हैं किसी दूसरों की तरक्की से जलने वाले लोग खुद भी खुश कभी नहीं रह पाता
Aapane savaal yah poochha hai ki hamen kisee kee pratima se jalan kyon hotee hai isake peechhe ka manovigyaan kya hai to deee jal see pheeling jo hai yah har insaan mein hotee hai ki too hamen doosaron kee tarakkee se ya unakee pratibha se jalan isalie hotee hai kyonki ham us jagah par rahana chaahate hain hamen lagata hai ki yah hamen milana chaahie jo bhee tarakkee doosaron ko jab dekhate hain milate hue hamen lagata hai hamen milana chaahie aur yah jaldee pheeling har ek insaan mein hota hai kis mein jyaada hota hai kisee mein kam hota hai kuchh log to is had tak jaate ho saamane vaale kee jo tarakkee se jald kyon neeche giraane kee koshish karate hain to ise dekhie jo bahut jyaada aavashyakata to insaan hota hai usakee jaati dost nahin hote ek ya do ki nahin chhootegee aur khoon kaho ki sachche dost hote hee nahin hai to baje to yahee hai ki har koee doosaron kee taraph se jalata hai use neeche kheenchane kee koshish to yah ek teknolojee hai har ek insaan ke bheetar hota hai to yah galat baat hai to yah se ham kaaboo mein rakhana chaahie ham doosaron kee tarah kee se khush ho na theek hai isase hamaara maind bhee achchha rahata hai ham bhee khush rah sakate hain kisee doosaron kee tarakkee se jalane vaale log khud bhee khush kabhee nahin rah paata

Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
2:49
हमें किसी की प्रतिभा से जलन होती है इसके पीछे क्या मनोविज्ञान हैं लाइक कीजिएगा सब की जगह देखें अगर हमें किसी की जलन हो रही है उसके पंजाब में चलते हैं यह तब होती हमें कि हमारे आसपास के क्षेत्र में या फिर हमें जिस क्षेत्र में प्रगति करनी है और हमारे आस पास की कोई जान पहचान का बंदा उस क्षेत्र में प्रगति करता है या फिर उस क्षेत्र में कोई अचीवमेंट लेता है तो शरीर के अंदर एनिमा हमारे दिमाग के अंदर एक तुलना चलती है क्योंकि दिमाग ए क्लीन स्लेट होता है छोटे बच्चों का क्लीन स्लेट आने खाली एकदम क्लीन खाली कॉपी जैसा अब इसको कैसे पता चलता है कि हम जीत गए हम हार गए यह हमने सकते इसलिए लिया है तो दिमाग से कंपैरेटिव बेसिक पे करता है क्योंकि उसमें कंपैरिजन करता है और कंपैरिजन सी तो हमें पता चले कि हम आगे बढ़े या पीछे रह गए अदर वाइज अगर अकेले हो आप इंसान तो और एस नहीं रहेगी उसके बाद चलते रहोगे तो यह कंपनी जो सोसाइटी पर करता है अभी दुनिया ग्लोबल होगी तो यह कंपैरिजन हमें वर्ल्ड लेवल पर भी होता है और खास करके जो अगर पाक के लोगों के अंदर साथ में जो अपना ग्रुप है उसमें कंपैरिजन होने लगता है तो यहां पर हमें कमी फील होती है अगर कोई दूसरा बंदा आगे बढ़ता ही है उसमें कोई प्रतिभा होती है उसका कोई उसकी सराहना होती है तो हमें 11 क डिफिशिएंसी फील होती है क्योंकि हम भी चाहते कि हमारे साथ भी ऐसा हो तो यह यह जो सोच है यह हमारे ब्रेन को यह सोचने पर मजबूर कर देती है कि अरे हमें इमोशनल डाउनफील्ड कराने की कोशिश करती है पैसे बचे कैसे इससे बचने का एक ही तरीका है अगर आपके पास आपकी प्रोसेस एंड डिफाइन है वैसा बनने की व्यवस्था सक्सेस पाने की तो कोई फिल्म बिल्कुल भी नहीं है तभी आती है जब कोई कोई एक बंदा आपके कंपैरिजन वाला आगे बढ़ गया है और या फिर तो उसको अनवांटेड एडवांटेज मिला हो या फिर आपके आपके प्रयास कम हो तभी ऐसी फीलिंग आती है लेकिन अगर आप फोन सेल फुल फील हो कि मैं जो प्रयास कर रहा हूं और मन से कर रहा हूं दिल से कर रहा हूं और जब तक का प्रयास कर रहा हूं और इस जो पल मुझे मिलेगा वह मुझे अपेक्षित है मेरे हाथ के बाहर की जो चीज है उसके ऊपर नहीं मेरा कंट्रोल नहीं किसी का कंट्रोल है तो उसके लिए हमें हमारा माइन माइन है डिफिशिएंसी फील नहीं करनी है अगर की अपील के साथ अगर आप काम करते हो तो आप हमेशा प्रोसेस ओरिएंटेड दोगे goal-oriented नहीं रहोगे आपकी प्रोसेस इतनी बेहतर हो जाएंगे कि शायद हो सकता है कि दूसरे लोग आपकी प्रोसेस देख कर उनको जलन हो लेकिन आप आपके प्रोसेस में बेहतरीन बेहतरीन होते चले जाओ
Hamen kisee kee pratibha se jalan hotee hai isake peechhe kya manovigyaan hain laik keejiega sab kee jagah dekhen agar hamen kisee kee jalan ho rahee hai usake panjaab mein chalate hain yah tab hotee hamen ki hamaare aasapaas ke kshetr mein ya phir hamen jis kshetr mein pragati karanee hai aur hamaare aas paas kee koee jaan pahachaan ka banda us kshetr mein pragati karata hai ya phir us kshetr mein koee acheevament leta hai to shareer ke andar enima hamaare dimaag ke andar ek tulana chalatee hai kyonki dimaag e kleen slet hota hai chhote bachchon ka kleen slet aane khaalee ekadam kleen khaalee kopee jaisa ab isako kaise pata chalata hai ki ham jeet gae ham haar gae yah hamane sakate isalie liya hai to dimaag se kampairetiv besik pe karata hai kyonki usamen kampairijan karata hai aur kampairijan see to hamen pata chale ki ham aage badhe ya peechhe rah gae adar vaij agar akele ho aap insaan to aur es nahin rahegee usake baad chalate rahoge to yah kampanee jo sosaitee par karata hai abhee duniya global hogee to yah kampairijan hamen varld leval par bhee hota hai aur khaas karake jo agar paak ke logon ke andar saath mein jo apana grup hai usamen kampairijan hone lagata hai to yahaan par hamen kamee pheel hotee hai agar koee doosara banda aage badhata hee hai usamen koee pratibha hotee hai usaka koee usakee saraahana hotee hai to hamen 11 ka diphishiensee pheel hotee hai kyonki ham bhee chaahate ki hamaare saath bhee aisa ho to yah yah jo soch hai yah hamaare bren ko yah sochane par majaboor kar detee hai ki are hamen imoshanal daunapheeld karaane kee koshish karatee hai paise bache kaise isase bachane ka ek hee tareeka hai agar aapake paas aapakee proses end diphain hai vaisa banane kee vyavastha sakses paane kee to koee philm bilkul bhee nahin hai tabhee aatee hai jab koee koee ek banda aapake kampairijan vaala aage badh gaya hai aur ya phir to usako anavaanted edavaantej mila ho ya phir aapake aapake prayaas kam ho tabhee aisee pheeling aatee hai lekin agar aap phon sel phul pheel ho ki main jo prayaas kar raha hoon aur man se kar raha hoon dil se kar raha hoon aur jab tak ka prayaas kar raha hoon aur is jo pal mujhe milega vah mujhe apekshit hai mere haath ke baahar kee jo cheej hai usake oopar nahin mera kantrol nahin kisee ka kantrol hai to usake lie hamen hamaara main main hai diphishiensee pheel nahin karanee hai agar kee apeel ke saath agar aap kaam karate ho to aap hamesha proses oriented doge goal-oriaintaid nahin rahoge aapakee proses itanee behatar ho jaenge ki shaayad ho sakata hai ki doosare log aapakee proses dekh kar unako jalan ho lekin aap aapake proses mein behatareen behatareen hote chale jao

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:36
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न हमें किसी की प्रतिभा से जलन क्यों होती है इसके पीछे का क्या मनोविज्ञान है फ्रेंड से अगर कोई काम कोई दूसरा कर रहा है अगर बात नहीं कर पाते हैं तो फिर आपको उस से जलन होती है क्योंकि हर इंसान के अंदर अपनी एक प्रतिभा ने क्षमता या 1 गुण जरूर होता है तो अगर आपके अंदर भी गुण नहीं है तो आप दूसरी कोई कोई ऐसा होता है जो दूसरे के गुणों को देखकर जलता है बल्कि ऐसा नहीं होना चाहिए हर इंसान के अंदर अपनी कोई न कोई प्रतिभा होती है तो हमें किसी की प्रतिभा से चलना नहीं चाहिए धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hamen kisee kee pratibha se jalan kyon hotee hai isake peechhe ka kya manovigyaan hai phrend se agar koee kaam koee doosara kar raha hai agar baat nahin kar paate hain to phir aapako us se jalan hotee hai kyonki har insaan ke andar apanee ek pratibha ne kshamata ya 1 gun jaroor hota hai to agar aapake andar bhee gun nahin hai to aap doosaree koee koee aisa hota hai jo doosare ke gunon ko dekhakar jalata hai balki aisa nahin hona chaahie har insaan ke andar apanee koee na koee pratibha hotee hai to hamen kisee kee pratibha se chalana nahin chaahie dhanyavaad

Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College
1:28
हमें एक मनुष्य को जलन की एक ऐसी बीमारी है कि हम कुछ बात हो ना हो लेकिन जलन का बहाना ढूंढती रहती है ऐसे कोई दो दोस्त है बीकॉम में एक विज्ञान से दोनों में कुछ काम नहीं है पढ़ाई लेकिन तब भी कोई अगर अपनी पीड़ा अच्छा कर रहा हूं तो उसी होगी तुमसे गुस्सा नहीं हुआ तो मेरा दोस्त है आगे निकलकर नाथ न पीछे रह गया तू हताशा है वहीं का एक कारण भी बनती है क्योंकि हम अपने आपको बर्बाद करते हैं कि उसकी लाइफ कितनी अच्छी है और हमारे चाचा क्या हो रहा है उसके साथ कितना अच्छा है उसका कितना चलते हैं साथ में चलेंगे तब्दील हो जाती है कारण क्या है मनोविज्ञान क्या है तो पता नहीं क्यों लेकिन हमें सबसे आगे होना सबसे बेहतर बना है जबकि ऐसा नहीं हो सकता कोई भी व्यक्ति नहीं है जो कि मैं सबसे बेस्ट नहीं बन सकता किसी भी ग्रुप में रिकॉर्डिंग नहीं अपने आप को दूसरे से कम प्यार करना तब तक जलन
Hamen ek manushy ko jalan kee ek aisee beemaaree hai ki ham kuchh baat ho na ho lekin jalan ka bahaana dhoondhatee rahatee hai aise koee do dost hai beekom mein ek vigyaan se donon mein kuchh kaam nahin hai padhaee lekin tab bhee koee agar apanee peeda achchha kar raha hoon to usee hogee tumase gussa nahin hua to mera dost hai aage nikalakar naath na peechhe rah gaya too hataasha hai vaheen ka ek kaaran bhee banatee hai kyonki ham apane aapako barbaad karate hain ki usakee laiph kitanee achchhee hai aur hamaare chaacha kya ho raha hai usake saath kitana achchha hai usaka kitana chalate hain saath mein chalenge tabdeel ho jaatee hai kaaran kya hai manovigyaan kya hai to pata nahin kyon lekin hamen sabase aage hona sabase behatar bana hai jabaki aisa nahin ho sakata koee bhee vyakti nahin hai jo ki main sabase best nahin ban sakata kisee bhee grup mein rikording nahin apane aap ko doosare se kam pyaar karana tab tak jalan

डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
2:35
माई के हमें किसी की प्रतिभा से जलन क्यों होती है इसके पीछे का मनोविज्ञान क्या है लेकिन जब हम महत्वाकांक्षी होते हैं तो महत्तम अधिक महत्वाकांक्षी और हमारी फिल्म की तरह चलती है स्वार्थी जब होता है और ऐसे में अगर हमें कोई ऐसा प्रतिभाशाली व्यक्ति मिल जाए जो हमारे लिए हमारी भावनाओं के विरुद्ध हो या जिससे हमें स्पर्धा हो जाए या जिसे हम तुलनात्मक दृश्य अपने प्रतिद्वंदी मान बैठे तो निश्चित रूप से उसकी जो समय हम लोग बुरी लगने लगती है समझे आप क्यों की सफलता के धरातल पर हम अपने आप को जब देखने की कोशिश करते हो दूसरा कोई हमसे ज्यादा प्रतिभाशाली क्षमता शादी आता है तो हम उसको प्रतिद्वंदी बनाती हो रही प्रतिद्वंदी जो है उसके योग्यता हमारे लिए क्या का कारण जिसे आपने जलन का है हो जाता है तो मनोविज्ञान की ही है कि आदमी अपनी उपलब्धियों में किसी को अपना प्रतिद्वंदी नहीं मानना चाहता है लेकिन ऐसा भी नहीं है कि इस वर्ष की पराकाष्ठा होती है बहुत से ऐसे लोग होते हैं जो प्रतिद्वंदी पसंद करते हैं क्योंकि प्रतिबंधित सशक्त होता तो नहीं लगता है कि आगे बढ़ने का संघर्ष करने का उपलब्धियों का मजा कुछ और ही होता है तो क्यों गलत मानसिकता के अलग-अलग लोग हैं हां अब बिल्कुल ही आत्म केंद्रित है हम खुद ही स्वास्थ्य से इतने गिरे हुए हैं कि केवल अपनी प्रगति चाहते हैं तो आपका प्रश्न सही है कि एकांगी सोच वाले लोग ऐसे होते लेकिन मैंने पहले ही निवेदन किया कि कुछ ऐसे होते हैं जो दूसरों से स्पर्धा करना चाहते हो चाहत एक उन्हें अच्छे प्रतिद्वंदी मिले इसे अखाड़े का पहलवान है तो अखाड़े के पहलवान जो है वह तब तक अपने आप को पूर्ण मुझसे निर्भर नहीं मानता जब तक उचित अभ्यास करने के लिए बराबर का पहलवान ने मिले या क्रिकेट में खेलने वाला बैट्समैन है अगर उससे अच्छा वाला नहीं मिलेगा तो फिर वह कहां से खेलेगा सबसे अपना अब उसे लगे कि दूसरा जो बैट्समैन उससे अच्छा खेल रहा है और उसकी जगह उसका चयन हो सकता है तो आपके प्रश्नों का उत्तर ही निकल आएगा कि हमारा स्वास्थ्य का हल नहीं होगा इसलिए हमें प्रतिभाशाली व्यक्ति से कभी-कभी जलन होने लगती है सर जी आपने जब वह हमारी प्रवृति के सामने प्रशिक्षित बनकर खड़ा हो जाता है

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • हमें किसी की प्रतिभा से जलन क्यों होती है इसके पीछे का मनोविज्ञान क्या है हमें किसी की प्रतिभा से जलन क्यों होती है
URL copied to clipboard