#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

क्या आजकल के भी लोग एक दूसरे को चिट्ठी लिखते हैं?

Kya Aajkal Ke Bhe Log Ek Dusre Ko Chitthi Likhte Hain
Rakesh Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Rakesh जी का जवाब
👨‍🏫 Teacher.
1:31
मैंने अपने आसपास देखा है और बदलते समय को भी देखा है जब मैं छोटा था और जो कि मैं गांव में रहता था तो उस समय गांव के कुछ लोग जो है हमारे घर पर आते थे क्योंकि मैं ही एक के पढ़ा लिखा व्यक्ति था और जिस में चिट्ठी ओके लिखा करता था क्योंकि एक तो छोटा बच्चा भी था और बहुत पहले भी हिंदी पढ़ने लिखने का आ गया था तो इसलिए लोगों को चिट्ठी लिखा करता था लेकिन उस समय क्यों और आज के परिवेश में हम देख रहे हैं कि काफी कुछ बदल गया है तो हम कह सकते हैं कि आजकल के भी लोग जुड़े एक दूसरे को चिट्ठी नहीं लिखते हैं हालांकि मैं खुद लिखता हूं अगर कोई विभागीय पत्राचार होता है तो उसे मैं लिखता हूं और अक्सर मैं उसको डाक माध्यम से प्रेषित करते रहता हूं तो जो पहले अपने परिवार जनों आया अपने प्रेमी प्रेमिकाओं का जो खत लिखे जाते थे या पत्र लिखे जाते थे वह प्रचलन तो बिल्कुल बंद हो गया है और यह हम बिल्कुल कह सकते हैं क्योंकि आज के मोबाइल जुग में जो है व्हाट्सएप जिम में जो है इस तारे चीज जो है खत्म हो गए हैं लेकिन अभी जो है राजपत्रित या विभागीय चीज जो है किसी के माध्यम से काम हो रहे हैं या लिखे जा रहे हैं
Mainne apane aasapaas dekha hai aur badalate samay ko bhee dekha hai jab main chhota tha aur jo ki main gaanv mein rahata tha to us samay gaanv ke kuchh log jo hai hamaare ghar par aate the kyonki main hee ek ke padha likha vyakti tha aur jis mein chitthee oke likha karata tha kyonki ek to chhota bachcha bhee tha aur bahut pahale bhee hindee padhane likhane ka aa gaya tha to isalie logon ko chitthee likha karata tha lekin us samay kyon aur aaj ke parivesh mein ham dekh rahe hain ki kaaphee kuchh badal gaya hai to ham kah sakate hain ki aajakal ke bhee log jude ek doosare ko chitthee nahin likhate hain haalaanki main khud likhata hoon agar koee vibhaageey patraachaar hota hai to use main likhata hoon aur aksar main usako daak maadhyam se preshit karate rahata hoon to jo pahale apane parivaar janon aaya apane premee premikaon ka jo khat likhe jaate the ya patr likhe jaate the vah prachalan to bilkul band ho gaya hai aur yah ham bilkul kah sakate hain kyonki aaj ke mobail jug mein jo hai vhaatsep jim mein jo hai is taare cheej jo hai khatm ho gae hain lekin abhee jo hai raajapatrit ya vibhaageey cheej jo hai kisee ke maadhyam se kaam ho rahe hain ya likhe ja rahe hain

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या आजकल के भी लोग एक दूसरे को चिट्ठी लिखते हैं?Kya Aajkal Ke Bhe Log Ek Dusre Ko Chitthi Likhte Hain
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:21
आजकल के भी लोग हैं तो उसे वोट देते हैं ज्यादातर बिल्कुल लिखते हैं आप यदि स्कूल लाइफ के आज भी 9 दिन पहले बच्चे हैं एक दूसरे के अंदर प्यार प्रेम है तो आप देख लीजिए आज-कल कबूतरों का प्लान नहीं है यह तो बात करनी पड़ेगी
Aajakal ke bhee log hain to use vot dete hain jyaadaatar bilkul likhate hain aap yadi skool laiph ke aaj bhee 9 din pahale bachche hain ek doosare ke andar pyaar prem hai to aap dekh leejie aaj-kal kabootaron ka plaan nahin hai yah to baat karanee padegee

bolkar speaker
क्या आजकल के भी लोग एक दूसरे को चिट्ठी लिखते हैं?Kya Aajkal Ke Bhe Log Ek Dusre Ko Chitthi Likhte Hain
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
2:00
जज के खिलाफ दूसरे को चिट्ठी लिखी जा रही है मानता हूं कि डिजिटल कंटेंट है लेकिन यह भी तो चिट्ठी जैसे ही है भाई आज भी विभागीय स्तर पर छुट्टियां लिखी जाती है तब कहते हैं सरकारी विभागों रोक नहीं जानती है तो क्या लेकिन और भी चीजें हैं जो लोग छुट्टियों पर लिखे दूरदराज यही प्रमुख साधन हुआ करता था कि कुछ यूनिफार्म पहन कर गया तथा घर करो तो सबको जनता भी था कि आपकी चिट्ठी आई है मुंबई से कोलकाता से और भेजो गांव से उसी तरह से शहरी जीवन में रहने वाले लोगों को भी यही कहता था और थोड़े से जैसे जैसे मानो की क्षमता बढ़ गई है उनके उनको दूसरा स्वरूप दे दिया गया जो है मैसेज में आ गई कुछ किया व्हाट्सएप पर आ गई या दूसरे मैसेजिंग एप पर आ गई यह पोस्ट ऑफिस राहुल नहीं है एक दूसरे का मोबाइल है वह छुट्टियां नहीं मानते हो या कहीं पर भी छुट्टियां तो लिखी जाती है एक दूसरे की उसका स्वरूप जो है अब डिजिटल छुट्टियां ले ली है और उसको अलग ढंग से लिखा जा रहा है और लोग उपचार से पढ़ते भी हैं और आसानी से पहुंच वीजा
Jaj ke khilaaph doosare ko chitthee likhee ja rahee hai maanata hoon ki dijital kantent hai lekin yah bhee to chitthee jaise hee hai bhaee aaj bhee vibhaageey star par chhuttiyaan likhee jaatee hai tab kahate hain sarakaaree vibhaagon rok nahin jaanatee hai to kya lekin aur bhee cheejen hain jo log chhuttiyon par likhe dooradaraaj yahee pramukh saadhan hua karata tha ki kuchh yooniphaarm pahan kar gaya tatha ghar karo to sabako janata bhee tha ki aapakee chitthee aaee hai mumbee se kolakaata se aur bhejo gaanv se usee tarah se shaharee jeevan mein rahane vaale logon ko bhee yahee kahata tha aur thode se jaise jaise maano kee kshamata badh gaee hai unake unako doosara svaroop de diya gaya jo hai maisej mein aa gaee kuchh kiya vhaatsep par aa gaee ya doosare maisejing ep par aa gaee yah post ophis raahul nahin hai ek doosare ka mobail hai vah chhuttiyaan nahin maanate ho ya kaheen par bhee chhuttiyaan to likhee jaatee hai ek doosare kee usaka svaroop jo hai ab dijital chhuttiyaan le lee hai aur usako alag dhang se likha ja raha hai aur log upachaar se padhate bhee hain aur aasaanee se pahunch veeja

bolkar speaker
क्या आजकल के भी लोग एक दूसरे को चिट्ठी लिखते हैं?Kya Aajkal Ke Bhe Log Ek Dusre Ko Chitthi Likhte Hain
srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
0:47

bolkar speaker
क्या आजकल के भी लोग एक दूसरे को चिट्ठी लिखते हैं?Kya Aajkal Ke Bhe Log Ek Dusre Ko Chitthi Likhte Hain
Rohit Rathore Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Student
1:12
स्वागत आप सबका मेरी बोल करें प्रोफाइल पर और आप सुन रहे हैं रोहित राठौर को तो आजकल के लोग क्या एक दूसरे से चींटी से बात करते हैं कि आपको ऐसा लगता है तो मेरे हिसाब से ऐसा नहीं होता है क्योंकि आजकल इंटरनेट का जमाना हर कोई चैटिंग व्हाट्सएप इंस्टाग्राम और यहां तक कि एस एम एस करके बातें करते हैं आजकल कोई चिट्टियां नहीं लिखता था पर हम यह कह सकते हैं कि कई बार में फॉर्मल लेटर लिखने होता है जैसे किसी कंपनी को रिज्यूम अपना देना होता है या किसी कंपनी में इंटरव्यू के लिए एप्लीकेशन दे रहे हैं या फिर हम किसी प्रधानमंत्री को से किसी चीज का आग्रह कर रहे तो उन्हें लेटर लिखा है तो हम उन्हें चिट्ठी लिख देते क्योंकि हम उनके इंतजार में डोले फिल्म नहीं व्हाट्सएप पर आई है करके उनके तक हम मैसेज नहीं पहुंचा सकते तो अगर हम कोई फॉर्म भर काम कर रहे हैं तो हमें चिट्ठी लिखना ही पड़ती है बाकी अगर आप देखेंगे कि क्या मैं कैजुअली किसी से बात करनी है तो हम चिट्ठी लिखकर अपना वक्त जाया नहीं करते वक्त बलवान नहीं करते क्योंकि चिट्ठी पहुंचने में और उसका रिप्लाई आने में बहुत टाइम लगता है पुराने जमाने में s4u इतने सस्ते में और इतने अच्छे संचार के माध्यमों नहीं होते थे जो आज इंटरनेट है फोन है आज इसी से सब काम हो जाता है तो कोई भी व्यक्ति चिट्ठी नहीं लिखता है तो धन्यवाद मिलते हैं आपसे पुलिस वाले जब तक के लिए टेक केयर
Svaagat aap sabaka meree bol karen prophail par aur aap sun rahe hain rohit raathaur ko to aajakal ke log kya ek doosare se cheentee se baat karate hain ki aapako aisa lagata hai to mere hisaab se aisa nahin hota hai kyonki aajakal intaranet ka jamaana har koee chaiting vhaatsep instaagraam aur yahaan tak ki es em es karake baaten karate hain aajakal koee chittiyaan nahin likhata tha par ham yah kah sakate hain ki kaee baar mein phormal letar likhane hota hai jaise kisee kampanee ko rijyoom apana dena hota hai ya kisee kampanee mein intaravyoo ke lie epleekeshan de rahe hain ya phir ham kisee pradhaanamantree ko se kisee cheej ka aagrah kar rahe to unhen letar likha hai to ham unhen chitthee likh dete kyonki ham unake intajaar mein dole philm nahin vhaatsep par aaee hai karake unake tak ham maisej nahin pahuncha sakate to agar ham koee phorm bhar kaam kar rahe hain to hamen chitthee likhana hee padatee hai baakee agar aap dekhenge ki kya main kaijualee kisee se baat karanee hai to ham chitthee likhakar apana vakt jaaya nahin karate vakt balavaan nahin karate kyonki chitthee pahunchane mein aur usaka riplaee aane mein bahut taim lagata hai puraane jamaane mein s4u itane saste mein aur itane achchhe sanchaar ke maadhyamon nahin hote the jo aaj intaranet hai phon hai aaj isee se sab kaam ho jaata hai to koee bhee vyakti chitthee nahin likhata hai to dhanyavaad milate hain aapase pulis vaale jab tak ke lie tek keyar

bolkar speaker
क्या आजकल के भी लोग एक दूसरे को चिट्ठी लिखते हैं?Kya Aajkal Ke Bhe Log Ek Dusre Ko Chitthi Likhte Hain
अनन्या सिहं Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए अनन्या जी का जवाब
शिक्षारत
0:24
अब तो चिट्ठी कोई नहीं लिखता लेकिन अगर किसी के लिए कोई उपहार भेजता है तो साथ में नोट भेज देता है चिट्ठी के रूप में लेकिन ज्यादातर लोग नहीं भेजते हैं अगर कहीं पर कोई लेटर भेजना ऑफिशियल ही किसी कार्यालय में 2 लोग भेजते हैं लेकिन जैसी पहले भेजते थे अपनों को वैसे चिट्टियां आजकल अब कोई भी नहीं भेजता
Ab to chitthee koee nahin likhata lekin agar kisee ke lie koee upahaar bhejata hai to saath mein not bhej deta hai chitthee ke roop mein lekin jyaadaatar log nahin bhejate hain agar kaheen par koee letar bhejana ophishiyal hee kisee kaaryaalay mein 2 log bhejate hain lekin jaisee pahale bhejate the apanon ko vaise chittiyaan aajakal ab koee bhee nahin bhejata

bolkar speaker
क्या आजकल के भी लोग एक दूसरे को चिट्ठी लिखते हैं?Kya Aajkal Ke Bhe Log Ek Dusre Ko Chitthi Likhte Hain
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:57
जी हां आज भी लोग चिट्ठी लिखते हैं जिन लोगों के पास फोन नहीं है गरीब है उन्होंने 10 पैसे का कार्ड लिया उस पर लिख दिया डाकखाने में डाल दिया समाचार पहुंच गए बहुत से लोग आप इतने गरीब पड़े हैं हमारे दुनिया में भारत में विश्व में देहातों में कि पढ़े-लिखे तो है लेकिन उनके पास इतना पैसा नहीं क्यों नेटवर्क के द्वारा टेलीफोन को चला सके और आपसे बात कर सके आप हम लोग संभोग आपसे बात कर ले तो कम से कम भारत के अभी 40 वर्षों से साठ पर्सेंट जनता इस तरह की है कि चिट्टियां लिखती है ऐसी बात नहीं चिट्टियां लिखती है वह भले डाक के द्वारा न जाए केवल जो नए-नए व्यवस्थाएं इन के माध्यम से चली जाती हैं तो लेकिन यह कहना कि चिट्टियां नहीं लिखी जा रही है यह गलत बात अभी भी चिट्ठियां लिखी जाती है सरकारी कार्यालयों में भी लिया और प्राइवेट लोग अपने घर में भी चिट्ठी लिखते हैं माता-पिता को भी लिखते हैं अपनी पत्नी को भी लिखते हैं चिट्टियां जी भी जाते हैं
Jee haan aaj bhee log chitthee likhate hain jin logon ke paas phon nahin hai gareeb hai unhonne 10 paise ka kaard liya us par likh diya daakakhaane mein daal diya samaachaar pahunch gae bahut se log aap itane gareeb pade hain hamaare duniya mein bhaarat mein vishv mein dehaaton mein ki padhe-likhe to hai lekin unake paas itana paisa nahin kyon netavark ke dvaara teleephon ko chala sake aur aapase baat kar sake aap ham log sambhog aapase baat kar le to kam se kam bhaarat ke abhee 40 varshon se saath parsent janata is tarah kee hai ki chittiyaan likhatee hai aisee baat nahin chittiyaan likhatee hai vah bhale daak ke dvaara na jae keval jo nae-nae vyavasthaen in ke maadhyam se chalee jaatee hain to lekin yah kahana ki chittiyaan nahin likhee ja rahee hai yah galat baat abhee bhee chitthiyaan likhee jaatee hai sarakaaree kaaryaalayon mein bhee liya aur praivet log apane ghar mein bhee chitthee likhate hain maata-pita ko bhee likhate hain apanee patnee ko bhee likhate hain chittiyaan jee bhee jaate hain

bolkar speaker
क्या आजकल के भी लोग एक दूसरे को चिट्ठी लिखते हैं?Kya Aajkal Ke Bhe Log Ek Dusre Ko Chitthi Likhte Hain
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
4:00
क्या आजकल के लोग भी एक दूसरे को दूसरे को चिट्ठी लिखते हैं लेकिन इसका प्रमाण है वह बहुत कम हुआ है क्योंकि मोबाइल फोन मेल मैसेजेस शादी कम्युनिकेशन के बहुत सारे माध्यम भी कुछ व्यवसायिक मैंने देखे ऐसी चीजों पर विश्वास नहीं करते और अपने पुराने ढंग से कागज पर लिखकर अपने नौकर के द्वारा यह पोस्ट से भिजवा ते हैं और उनको ही आदत है और उनको यह चीजें भी चलाना नहीं आता है जैसे ईमेल पर भेज सकते हैं लेकिन उसको भी वह तो विश्वास नहीं रखते हैं और उनको लगता है कि कुछ चीजें हैं जो हम दिल दोनों के बीच में ही रहनी चाहिए और वह कागज पर लिख कर देते हैं कई बार वक्ता बहुत ज्यादा समय बोलने शुरू हुई रखता है और आयोजक भी होते हैं इनको समझ में आता है कि यह वक्ता बहुत ज्यादा समय ले रहा है और बाकी व्यवस्था बोलने वाले हैं या कार्यक्रम होता है उसका टाइमिंग है उसके अनुसार इस को ज्यादा नहीं बोलना चाहिए तो छोटी चिट्ठी लिखकर वह चिट्ठी न कोई कार्य करता उस वक्त आपको देता है और वह पढ़कर वक्त बताता है कि ठीक है ठीक है अभी सिर्फ मैं एक आधुनिक बोलने वाला पैसा देकर अपना वक्तव्य बंद करके कई चीजों में अभी ग्रामीण इलाकों में लिखते हैं या तो कभी असुविधा ही नहीं पहुंची है वहां का वहां कागज पर लिख दे पोस्ट ऑफिस गांव गांव की में आता है चिट्ठी आती है उसका कमेंट आते हैं दूसरी वस्तुएं भी आते पार्सल यादें मैंने भी कुछ ऑनलाइन ही मंगाई हुई वस्तुएं पोस्ट में जब तक है वह पोस्ट से मेरे पास आया यह भी माध्यम अभी जिंदा है इतना तो हम कह सकते हैं लेकिन ज्यादा देर कल देर तक यह वाला मामला जो है और रहेगा नहीं क्योंकि परिवर्तन परिवर्तन का नियम है परिवर्तन तो होता है परिवर्तन हो जाएगा धन्यवाद
Kya aajakal ke log bhee ek doosare ko doosare ko chitthee likhate hain lekin isaka pramaan hai vah bahut kam hua hai kyonki mobail phon mel maisejes shaadee kamyunikeshan ke bahut saare maadhyam bhee kuchh vyavasaayik mainne dekhe aisee cheejon par vishvaas nahin karate aur apane puraane dhang se kaagaj par likhakar apane naukar ke dvaara yah post se bhijava te hain aur unako hee aadat hai aur unako yah cheejen bhee chalaana nahin aata hai jaise eemel par bhej sakate hain lekin usako bhee vah to vishvaas nahin rakhate hain aur unako lagata hai ki kuchh cheejen hain jo ham dil donon ke beech mein hee rahanee chaahie aur vah kaagaj par likh kar dete hain kaee baar vakta bahut jyaada samay bolane shuroo huee rakhata hai aur aayojak bhee hote hain inako samajh mein aata hai ki yah vakta bahut jyaada samay le raha hai aur baakee vyavastha bolane vaale hain ya kaaryakram hota hai usaka taiming hai usake anusaar is ko jyaada nahin bolana chaahie to chhotee chitthee likhakar vah chitthee na koee kaary karata us vakt aapako deta hai aur vah padhakar vakt bataata hai ki theek hai theek hai abhee sirph main ek aadhunik bolane vaala paisa dekar apana vaktavy band karake kaee cheejon mein abhee graameen ilaakon mein likhate hain ya to kabhee asuvidha hee nahin pahunchee hai vahaan ka vahaan kaagaj par likh de post ophis gaanv gaanv kee mein aata hai chitthee aatee hai usaka kament aate hain doosaree vastuen bhee aate paarsal yaaden mainne bhee kuchh onalain hee mangaee huee vastuen post mein jab tak hai vah post se mere paas aaya yah bhee maadhyam abhee jinda hai itana to ham kah sakate hain lekin jyaada der kal der tak yah vaala maamala jo hai aur rahega nahin kyonki parivartan parivartan ka niyam hai parivartan to hota hai parivartan ho jaega dhanyavaad

bolkar speaker
क्या आजकल के भी लोग एक दूसरे को चिट्ठी लिखते हैं?Kya Aajkal Ke Bhe Log Ek Dusre Ko Chitthi Likhte Hain
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:20
सवाल यह है कि क्या आजकल के लोग भी एक दूसरे को चिट्ठी लिखते हैं आ चिट्ठी लिखने की परंपरा बहुत पुरानी है पुराने जमाने से ही लोग छुट्टियों के माध्यम से सूचनाओं का आदान प्रदान करते आए हैं जमाना बदला तकनीक एबदनी पर भी आए थे राय दूरभाष यंत्र तब चिट्ठियां भेजी जानी थोड़ी कम हो गई क्योंकि कुछ लोगों के पास टेलीफोन आ गया था फिर भी रक्षाबंधन कोई खुशखबरी किसी की मरण की खबर आया इन सब पर एक दूसरे क्या चिट्ठियां भेजी जाती थी परंतु वर्तमान समय में मोबाइल फोन में हर चीज में अपना प्राथमिकी दर्ज करा ली है चिट्ठियों का चांदी व्हाट्सएप हाइक लाइन टेलीग्राम मैसेंजर जैसी और भी अन्य एप्लीकेशन संदेश का आदान-प्रदान करने वाली आंखें और अब तो होलिया दिवाली इजी क्रिसमस राखी हो या किसी का जन्मदिन हारी हो या बीमारी एक दूसरे को ही संदेश भेजें दिया जाता है और आजकल इस भाग दौड़ में लोगों के पास इतना टाइम भी नहीं है कि मैसेज भी कुछ एक टाइप करके भेजें और होली दिवाली पर तो एक दूसरे के आए हुए संदेश को ही आगे फॉरवर्ड कर दिए जाते हैं पर गांवों में आज भी छुट्टी का प्रचलन है
Savaal yah hai ki kya aajakal ke log bhee ek doosare ko chitthee likhate hain aa chitthee likhane kee parampara bahut puraanee hai puraane jamaane se hee log chhuttiyon ke maadhyam se soochanaon ka aadaan pradaan karate aae hain jamaana badala takaneek ebadanee par bhee aae the raay doorabhaash yantr tab chitthiyaan bhejee jaanee thodee kam ho gaee kyonki kuchh logon ke paas teleephon aa gaya tha phir bhee rakshaabandhan koee khushakhabaree kisee kee maran kee khabar aaya in sab par ek doosare kya chitthiyaan bhejee jaatee thee parantu vartamaan samay mein mobail phon mein har cheej mein apana praathamikee darj kara lee hai chitthiyon ka chaandee vhaatsep haik lain teleegraam maisenjar jaisee aur bhee any epleekeshan sandesh ka aadaan-pradaan karane vaalee aankhen aur ab to holiya divaalee ijee krisamas raakhee ho ya kisee ka janmadin haaree ho ya beemaaree ek doosare ko hee sandesh bhejen diya jaata hai aur aajakal is bhaag daud mein logon ke paas itana taim bhee nahin hai ki maisej bhee kuchh ek taip karake bhejen aur holee divaalee par to ek doosare ke aae hue sandesh ko hee aage phoravard kar die jaate hain par gaanvon mein aaj bhee chhuttee ka prachalan hai

bolkar speaker
क्या आजकल के भी लोग एक दूसरे को चिट्ठी लिखते हैं?Kya Aajkal Ke Bhe Log Ek Dusre Ko Chitthi Likhte Hain
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:20
का प्रश्न है क्या आजकल के भी लोग एक दूसरे को चिट्ठी लिखते हैं तो आपको बता देते कि छुट्टी अभी भी लोग लिखा करते हैं लेकिन ऐसे लोगों की संख्या बहुत ही कम हो गई है ज्यादा लोग आज की सूचना क्रांति के दौर में मोबाइल फोन का ही सहारा लेते हैं हमें शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Ka prashn hai kya aajakal ke bhee log ek doosare ko chitthee likhate hain to aapako bata dete ki chhuttee abhee bhee log likha karate hain lekin aise logon kee sankhya bahut hee kam ho gaee hai jyaada log aaj kee soochana kraanti ke daur mein mobail phon ka hee sahaara lete hain hamen shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
क्या आजकल के भी लोग एक दूसरे को चिट्ठी लिखते हैं?Kya Aajkal Ke Bhe Log Ek Dusre Ko Chitthi Likhte Hain
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
0:35
बनकर आ गए क्या आजकल लोग एक दूसरे को चिट्ठी लिखना बहुत कम हो गया है चिट्ठी लिखना बहुत ही कम हो गया है लेकिन कुछ भी करना हो गिफ्ट करना हो तो उसके लिए हम कम हो गया है
Banakar aa gae kya aajakal log ek doosare ko chitthee likhana bahut kam ho gaya hai chitthee likhana bahut hee kam ho gaya hai lekin kuchh bhee karana ho gipht karana ho to usake lie ham kam ho gaya hai

bolkar speaker
क्या आजकल के भी लोग एक दूसरे को चिट्ठी लिखते हैं?Kya Aajkal Ke Bhe Log Ek Dusre Ko Chitthi Likhte Hain
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:30
चलेगी क्या आजकल के भी लोग जो जो को चिट्ठी लिखते हैं तो देखे जैसे मोबाइल फोन आ गया है एक दूसरे से बातें करना इतना आसान हो गया है कांटेक्ट करना आसान हो गया तो निश्चित तौर पर हर एक कोई उसी का ही है पार्टी देता है लेकिन फिर भी कुछ पूछोगे जैसे ऐसे होते हैं जहां पर आज भी लोग से ठीक लिखते हैं उदाहरण के तौर पर जब बहनों भाइयों को दूसरे शहर में राख्या भेजते हैं कि आज भी कुछ अच्छा लिख कर के भेज दी है और इसी तरीके से जितने भी उनकी भी पहले वह आज भी छुट्टी लेकर गई हमसे संपर्क करना पसंद करते हैं आपका दिन शुभ रहे थे निबंध
Chalegee kya aajakal ke bhee log jo jo ko chitthee likhate hain to dekhe jaise mobail phon aa gaya hai ek doosare se baaten karana itana aasaan ho gaya hai kaantekt karana aasaan ho gaya to nishchit taur par har ek koee usee ka hee hai paartee deta hai lekin phir bhee kuchh poochhoge jaise aise hote hain jahaan par aaj bhee log se theek likhate hain udaaharan ke taur par jab bahanon bhaiyon ko doosare shahar mein raakhya bhejate hain ki aaj bhee kuchh achchha likh kar ke bhej dee hai aur isee tareeke se jitane bhee unakee bhee pahale vah aaj bhee chhuttee lekar gaee hamase sampark karana pasand karate hain aapaka din shubh rahe the nibandh

bolkar speaker
क्या आजकल के भी लोग एक दूसरे को चिट्ठी लिखते हैं?Kya Aajkal Ke Bhe Log Ek Dusre Ko Chitthi Likhte Hain
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:11
नमस्कार दोस्तों प्रश्न है कि क्या आजकल के भी लोग एक दूसरे को छुट्टी लिखते हैं दोनों दोस्तों और छुट्टी तो समाप्त हो गई है आपको तो आजकल झांकियां भी कॉलोनी में बहुत कम दिखाई देते होंगे क्योंकि आजकल बस बिजनेस की चीजें जो भेजी जाती है ताकि कागज कार्रवाई करने के लिए कागजात भेजे जाते हैं या किसी को सामान भेजा जाता है वही पोस्ट ऑफिस के थ्रू जाते हैं नहीं तो आजकल तो बहुत सारी चीजें कोरियर के तू जाने लग गई है बात है चिट्ठी लिखना आजकल तो आप चिट्ठी पहुंचेगी जवाब देंगे तो आजकल तो लोग व्हाट्सएप कर रहे हैं अन्य माध्यम मैसेंजर के थ्रू कर रहे हैं कि उसी समय लिखेंगे उसी समय उसको जवाब मिल जाएगा लेकिन हम इलेक्ट्रॉनिक सिटी जिसे ईमेल बोलते हैं वह तो जी निश्चित रूप से डिजिटल रूप में आ गई है वह तो भेजते हैं लेकिन कई बार ऐसा होता है कि राजनीतिक लो या मंत्री या जिससे हम संपर्क नहीं कर सकते हैं उसको हम चिट्ठी लिखते हैं आपने देखा होगा कि रक्षा मंत्रालय ने फलाने मंत्रालय को चिट्ठी लिखी आता आता है सुनने में या हम प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखकर समस्याओं का समाधान करने के लिए क्या आप वहां पहुंच नहीं सकते हैं तो वहीं तक सीमित रह गया यान अतिथि का दौर खत्म हो गया है धन्यवाद
Namaskaar doston prashn hai ki kya aajakal ke bhee log ek doosare ko chhuttee likhate hain donon doston aur chhuttee to samaapt ho gaee hai aapako to aajakal jhaankiyaan bhee kolonee mein bahut kam dikhaee dete honge kyonki aajakal bas bijanes kee cheejen jo bhejee jaatee hai taaki kaagaj kaarravaee karane ke lie kaagajaat bheje jaate hain ya kisee ko saamaan bheja jaata hai vahee post ophis ke throo jaate hain nahin to aajakal to bahut saaree cheejen koriyar ke too jaane lag gaee hai baat hai chitthee likhana aajakal to aap chitthee pahunchegee javaab denge to aajakal to log vhaatsep kar rahe hain any maadhyam maisenjar ke throo kar rahe hain ki usee samay likhenge usee samay usako javaab mil jaega lekin ham ilektronik sitee jise eemel bolate hain vah to jee nishchit roop se dijital roop mein aa gaee hai vah to bhejate hain lekin kaee baar aisa hota hai ki raajaneetik lo ya mantree ya jisase ham sampark nahin kar sakate hain usako ham chitthee likhate hain aapane dekha hoga ki raksha mantraalay ne phalaane mantraalay ko chitthee likhee aata aata hai sunane mein ya ham pradhaanamantree ko chitthee likhakar samasyaon ka samaadhaan karane ke lie kya aap vahaan pahunch nahin sakate hain to vaheen tak seemit rah gaya yaan atithi ka daur khatm ho gaya hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या आजकल के भी लोग एक दूसरे को चिट्ठी लिखते हैं?Kya Aajkal Ke Bhe Log Ek Dusre Ko Chitthi Likhte Hain
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:49
जिसकी दोस्तों आप का सवाल है क्या आजकल के लोग एक दूसरे को चिट्ठी लगते हैं तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार है आजकल के लोग एक दूसरे को चिट्ठी बहुत ही कम लिखते हैं क्योंकि प्राचीन समय में शिक्षिका ज्यादा चलन था जो एक दूसरे को चिट्ठी लिखते थे लेकिन वर्तमान में चिट्ठी बहुत ही कम देखते हैं आजकल तो मोबाइल के माध्यम से एक दूसरे को ईमेल कर देते हैं या व्हाट्सएप पर सूचना को भेज देते हैं या फेसबुक पर एक दूसरे को जानकारी दे देते हैं इसलिए वर्तमान में चिट्ठों का चलन बहुत ही कम हो गया है धन्यवाद सबको खुश रहो
Jisakee doston aap ka savaal hai kya aajakal ke log ek doosare ko chitthee lagate hain to doston aapake savaal ka uttar is prakaar hai aajakal ke log ek doosare ko chitthee bahut hee kam likhate hain kyonki praacheen samay mein shikshika jyaada chalan tha jo ek doosare ko chitthee likhate the lekin vartamaan mein chitthee bahut hee kam dekhate hain aajakal to mobail ke maadhyam se ek doosare ko eemel kar dete hain ya vhaatsep par soochana ko bhej dete hain ya phesabuk par ek doosare ko jaanakaaree de dete hain isalie vartamaan mein chitthon ka chalan bahut hee kam ho gaya hai dhanyavaad sabako khush raho

bolkar speaker
क्या आजकल के भी लोग एक दूसरे को चिट्ठी लिखते हैं?Kya Aajkal Ke Bhe Log Ek Dusre Ko Chitthi Likhte Hain
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:34
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है क्या आजकल के लोग हैं एक दूसरे को छुट्टी लिखते हैं यह फ्रेंड आजकल के लोग भी एक दूसरे को चिट्ठी लिखते हैं जो बुजुर्ग लोग होते हैं बड़े बूढ़े होते हैं तो वे चिट्ठी लिखना पसंद करते हैं और एक दूसरे को चिट्ठी लिखते हैं और भी बहुत सारे ऐसे ऑपरेशन होते हैं जहां पर चिट्ठी लिखी जाती हैं जैसे कि रक्षाबंधन पर बहन अपने भाई को राखी भेज दी और छुट्टी भी लिखकर भेजती हैं तो बहुत सारी ऐसी जगह है जहां पर चिट्ठी लिखा जाता है और आजकल भी लोग कितनी लिखते हैं धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai kya aajakal ke log hain ek doosare ko chhuttee likhate hain yah phrend aajakal ke log bhee ek doosare ko chitthee likhate hain jo bujurg log hote hain bade boodhe hote hain to ve chitthee likhana pasand karate hain aur ek doosare ko chitthee likhate hain aur bhee bahut saare aise opareshan hote hain jahaan par chitthee likhee jaatee hain jaise ki rakshaabandhan par bahan apane bhaee ko raakhee bhej dee aur chhuttee bhee likhakar bhejatee hain to bahut saaree aisee jagah hai jahaan par chitthee likha jaata hai aur aajakal bhee log kitanee likhate hain dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या आजकल के भी लोग एक दूसरे को चिट्ठी लिखते हैं क्या आज भी लोग चिट्ठी लिखते हैं
URL copied to clipboard