#रिश्ते और संबंध

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:52
कल काफी पेचीदा है कि हमारे समाज में हमेशा औरतों के आंसू सबसे पहले क्यों दिखाई देते हैं मर्द का दर्द क्यों नहीं दिखाई देता दोस्तों को बता दें कि देश के अंदर महिलाएं हमेशा सीधा कर रही है उनके पास सिर्फ एक ही रही है घर की घुटन और कुछ नहीं बारिश हो रही है उनको पता ही नहीं कैसी होती है और वह बाहर भी जाता है और अंदर भी रहता है मेरी बात करे महिलाओं के आंसू पहले क्यों आते हैं दोनों भावनाएं जो है वह भावनाओं के ऊपर निर्भर करता है और सारे लोग तो इसलिए दिख जाते हैं क्योंकि हमने अक्सर से यही सुना है कि फलां आदमी अपनी महिला को प्रताड़ित कर रहा है मारना पीटना है उसके पीछे कई कारण होता उसका बांझपन हो सकता है उसकी शादी में कब दहेज लेना हो सकता है उसकी खूबसूरती को लेकर के काफी ज्यादा सवाल जो महिला के हाथ खड़े कर दिए जाते हैं हेलो को हमेशा से समाज में इस तरीके से दबा कर के रखा है कि महिलाएं जो है इनके आंसू पहले दिखाई देते हैं और आज जो जो बदल रही है आज महिला और पुरुष धीरे-धीरे बराबरी की ओर आ रही हैं और इस वजह से ही कुछ महिलाओं के जो अधिकार है उनका भी भी हनन हो रहा है इस वजह से उनके आंसू पहले दिखाई देते हैं और रही बात मर्द का दर्द के मर्द का दर्द है दोस्तों आज देखे तो एक पुरुष के लिए अपना घर चलाना को रोजगार पाना काफी कठिन हो गया है और दर्द है क्योंकि रोजगार पाना आज के दौर में आसान नहीं है
Kal kaaphee pecheeda hai ki hamaare samaaj mein hamesha auraton ke aansoo sabase pahale kyon dikhaee dete hain mard ka dard kyon nahin dikhaee deta doston ko bata den ki desh ke andar mahilaen hamesha seedha kar rahee hai unake paas sirph ek hee rahee hai ghar kee ghutan aur kuchh nahin baarish ho rahee hai unako pata hee nahin kaisee hotee hai aur vah baahar bhee jaata hai aur andar bhee rahata hai meree baat kare mahilaon ke aansoo pahale kyon aate hain donon bhaavanaen jo hai vah bhaavanaon ke oopar nirbhar karata hai aur saare log to isalie dikh jaate hain kyonki hamane aksar se yahee suna hai ki phalaan aadamee apanee mahila ko prataadit kar raha hai maarana peetana hai usake peechhe kaee kaaran hota usaka baanjhapan ho sakata hai usakee shaadee mein kab dahej lena ho sakata hai usakee khoobasooratee ko lekar ke kaaphee jyaada savaal jo mahila ke haath khade kar die jaate hain helo ko hamesha se samaaj mein is tareeke se daba kar ke rakha hai ki mahilaen jo hai inake aansoo pahale dikhaee dete hain aur aaj jo jo badal rahee hai aaj mahila aur purush dheere-dheere baraabaree kee or aa rahee hain aur is vajah se hee kuchh mahilaon ke jo adhikaar hai unaka bhee bhee hanan ho raha hai is vajah se unake aansoo pahale dikhaee dete hain aur rahee baat mard ka dard ke mard ka dard hai doston aaj dekhe to ek purush ke lie apana ghar chalaana ko rojagaar paana kaaphee kathin ho gaya hai aur dard hai kyonki rojagaar paana aaj ke daur mein aasaan nahin hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • हमारे समाज में हमेशा औरत के आंसू सबसे पहले क्यों दिखाई देते हैं मर्द का दर्द क्यों नहीं दिखाई देता हमारे समाज में हमेशा औरत के आंसू सबसे पहले क्यों दिखाई देते हैं
URL copied to clipboard