#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker

क्या ज्यादा प्यार नफरत का कारण बन जाता है अगर हा तो क्यों ?

Kya Jayda Pyaar Nafrat Ka Vaje Ban Jati Hai Agar Ha To Kyo
Udham Prasad Gautam Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Udham जी का जवाब
Unknown
1:49
हाय दोस्तों नमस्कार गुड इवनिंग आपका प्रश्न है कि क्या ज्यादा प्यार नफरत की वजह बन जाती है अगर हां तो क्यों दोस्तों जी हां बिलकुल कभी-कभी ऐसी स्थिति आती है कि जब प्यार भी चित्र से नफरत में बदलने लगता है ठीक है दोस्तों यह स्थिति कब आती है मैं जो बताने जा रहा हूं प्लीज उसे ध्यान से सुनिए गा लिखिए जब तक दोनों स्थितियों में दोनों औरतें ठीक है मेल फीमेल दोनों और से ना फिर कैसा भी रिलेशन हो अगर दोनों ओर से प्यार की जो आ गया अगर बराबर धधक रही है यानी दोनों और से उतना ही प्यार करने की इच्छा जागृत हो रही है तब तक कभी भी झगड़ा नहीं हो सकता दोस्त ठीक है लेकिन जब भी किसी स्थिति में अगर एक और प्यार कम पड़ा दूसरी ओर भारी पड़ गया एक तरफ से क्या होगा ना वह डिस्टरबेंस का भाव उत्पन्न कर दे या नहीं डिस्टर्ब वाला सिस्टम आ जाएगा जब उसे प्रेम से प्रेम करने जाएंगे अनुचित लाड प्यार दुलार ड्यूटी करने जाएंगे तो क्या होगा कि बार-बार करने से क्या होगा कुछ डिस्टर्ब वाली भावना अंदर आ जाती है ठीक है और जब बार-बार उस पर आप प्रेशर बनाते रहेंगे तो फिर क्या दिक्कत हो गई कि 110 नफरत की आग मन में बैठने लगी ऑडियो चलते चलते एक दिन बड़ा रूप ले लेगी वहीं नफरत ठीक है विस्तार से नफरत ही बदल जाती है और प्यार भी बदल जाता नफरत में ठीक है तो ऐसी स्थिति आती है इसलिए प्यार भी जो भी फ्री लिमिट से और एक दूसरे की भावनाओं को कदर करके करिए ठीक है तभी आप की भी कदर है और सामने वाले की भी ठीक है लेकिन जब आप कभी प्यार में घुल मिल जाएंगे और इतना नीचे गिर जाएंगे तो फिर दिक्कत पड़ जाएगी ठीक है ना कि सामने वाला आपका कदर ही नहीं कर पाएगा इसलिए कुछ भी करिए लिमिट के अनुसार और आप सामने वाले के मन अनुसार भी देखा करिए ठीक है दोस्त तन्हा
Haay doston namaskaar gud ivaning aapaka prashn hai ki kya jyaada pyaar napharat kee vajah ban jaatee hai agar haan to kyon doston jee haan bilakul kabhee-kabhee aisee sthiti aatee hai ki jab pyaar bhee chitr se napharat mein badalane lagata hai theek hai doston yah sthiti kab aatee hai main jo bataane ja raha hoon pleej use dhyaan se sunie ga likhie jab tak donon sthitiyon mein donon auraten theek hai mel pheemel donon aur se na phir kaisa bhee rileshan ho agar donon or se pyaar kee jo aa gaya agar baraabar dhadhak rahee hai yaanee donon aur se utana hee pyaar karane kee ichchha jaagrt ho rahee hai tab tak kabhee bhee jhagada nahin ho sakata dost theek hai lekin jab bhee kisee sthiti mein agar ek aur pyaar kam pada doosaree or bhaaree pad gaya ek taraph se kya hoga na vah distarabens ka bhaav utpann kar de ya nahin distarb vaala sistam aa jaega jab use prem se prem karane jaenge anuchit laad pyaar dulaar dyootee karane jaenge to kya hoga ki baar-baar karane se kya hoga kuchh distarb vaalee bhaavana andar aa jaatee hai theek hai aur jab baar-baar us par aap preshar banaate rahenge to phir kya dikkat ho gaee ki 110 napharat kee aag man mein baithane lagee odiyo chalate chalate ek din bada roop le legee vaheen napharat theek hai vistaar se napharat hee badal jaatee hai aur pyaar bhee badal jaata napharat mein theek hai to aisee sthiti aatee hai isalie pyaar bhee jo bhee phree limit se aur ek doosare kee bhaavanaon ko kadar karake karie theek hai tabhee aap kee bhee kadar hai aur saamane vaale kee bhee theek hai lekin jab aap kabhee pyaar mein ghul mil jaenge aur itana neeche gir jaenge to phir dikkat pad jaegee theek hai na ki saamane vaala aapaka kadar hee nahin kar paega isalie kuchh bhee karie limit ke anusaar aur aap saamane vaale ke man anusaar bhee dekha karie theek hai dost tanha

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या ज्यादा प्यार नफरत का कारण बन जाता है अगर हा तो क्यों ?Kya Jayda Pyaar Nafrat Ka Vaje Ban Jati Hai Agar Ha To Kyo
अनन्या सिहं Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए अनन्या जी का जवाब
शिक्षारत
0:58
कई बार ऐसा होता है कि जरूर ज्यादा प्यार करते हैं वह हद से ज्यादा पसंद होते हैं और जिससे वह प्यार करती है यह चीज कई बार आपको पसंद नहीं आती होगी जिससे वह प्यार करते हैं ना और सोचते हैं कि यह तो ऐसे ही खा रहे हैं समाज में भी छोटे बच्चे की तरह क्या है तरह लोगों को थोड़ा एंबेरेसमेंट होने लगता है कि नहीं करना चाहिए और उनकी बिक्री की जा रही है और प्यार भी ग्रहण करने में लोगों को झिझक महसूस होने लगती है और सामान भी लोगों के सामने भी नहीं जानते कि घर दिखाएं और इसी कारण से लोग उनके हक बीच में लगती है उनसे मिलने की कोशिश करने लगते हैं और यह सब धीरे-धीरे नफरत में बदल जाती है
Kaee baar aisa hota hai ki jaroor jyaada pyaar karate hain vah had se jyaada pasand hote hain aur jisase vah pyaar karatee hai yah cheej kaee baar aapako pasand nahin aatee hogee jisase vah pyaar karate hain na aur sochate hain ki yah to aise hee kha rahe hain samaaj mein bhee chhote bachche kee tarah kya hai tarah logon ko thoda emberesament hone lagata hai ki nahin karana chaahie aur unakee bikree kee ja rahee hai aur pyaar bhee grahan karane mein logon ko jhijhak mahasoos hone lagatee hai aur saamaan bhee logon ke saamane bhee nahin jaanate ki ghar dikhaen aur isee kaaran se log unake hak beech mein lagatee hai unase milane kee koshish karane lagate hain aur yah sab dheere-dheere napharat mein badal jaatee hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • ज्यादा प्यार कौन करता है.. प्यार करने के कितने तरीके होते है
URL copied to clipboard