#भारत की राजनीति

Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
1:28
कि महंगाई कम होने के कोई भी चांस नहीं है दिन प्रतिदिन खाने पीने की वस्तुएं गैस सिलेंडर आप की सब्जी हैं तो सभी के रेट बढ़ रहा है भाई जब हम हमारे गेहूं की फसल किसान भेजता है तो वह ₹2000 कुंडल में जाता है और जब वह भी खरीदने जाता है उसको ₹6000 कुंडल में मिलता है तो इस प्रकार से व्यापारी लोग महंगाई को बढ़ा रहा है और सरकार भी उसको नहीं रोक सकती क्योंकि वे टैक्स भरते हैं और आगे चलकर तो और भी रेट बढ़ने वाले क्योंकि अब सरकार ने जो तीन कृषि कानून बनाएं उसमें आपके फल सब्जी या दाल सबको भंडारण करने की अनुमति दे दी गई है तो व्यापारी इसका स्टार्ट करेंगे और अपने मनमाने दामों में भेजेंगे बाड़मेर में भी अब जो किसान है तो जो व्यापारी उनको भेज देंगे खाद देंगे तो उसको भी खुद भी नहीं कर सकते ना बचा के रख सकते ना कहीं और भेज सकते हैं तो उसको दीदी कंपनी खरीदेगी और आपके सामने जिसने अपनी सारी जमीन का कॉन्ट्रैक्ट कर लिया है तो बेबी बाजार से अनाज खरीदेगा सवार अच्छी बात है महंगाई तो बढ़ना ही धन्यवाद
Ki mahangaee kam hone ke koee bhee chaans nahin hai din pratidin khaane peene kee vastuen gais silendar aap kee sabjee hain to sabhee ke ret badh raha hai bhaee jab ham hamaare gehoon kee phasal kisaan bhejata hai to vah ₹2000 kundal mein jaata hai aur jab vah bhee khareedane jaata hai usako ₹6000 kundal mein milata hai to is prakaar se vyaapaaree log mahangaee ko badha raha hai aur sarakaar bhee usako nahin rok sakatee kyonki ve taiks bharate hain aur aage chalakar to aur bhee ret badhane vaale kyonki ab sarakaar ne jo teen krshi kaanoon banaen usamen aapake phal sabjee ya daal sabako bhandaaran karane kee anumati de dee gaee hai to vyaapaaree isaka staart karenge aur apane manamaane daamon mein bhejenge baadamer mein bhee ab jo kisaan hai to jo vyaapaaree unako bhej denge khaad denge to usako bhee khud bhee nahin kar sakate na bacha ke rakh sakate na kaheen aur bhej sakate hain to usako deedee kampanee khareedegee aur aapake saamane jisane apanee saaree jameen ka kontraikt kar liya hai to bebee baajaar se anaaj khareedega savaar achchhee baat hai mahangaee to badhana hee dhanyavaad

और जवाब सुनें

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
4:25
मनोज जी के द्वारा अनुरोध एक प्रश्न है कि क्या आपको लगता है महंगाई कम होने के चांस हैं क्या सरकार महंगाई को रूप नहीं सकती क्योंकि खाने वाली जो पदार्थ है जो खाद्य पदार्थ हैं जो आम पब्लिक या सभी के लिए जो खाद्य पदार्थ हैं वो क्या महंगाई पर नियंत्रण नहीं कर पाएंगे और कैसे अगर देखा जाए तो आने वाले समय में क्या स्थितियां रहेंगे जिससे आपको बता दें न्यूज़ के माध्यम से न्यूज़ की रिपोर्ट के माध्यम से कई लोग जो हैं उनकी छाती में 2020 तो खराबी गया बाकी जो बचा के रखा हूं उसमें एक को फोर व्हीलर या बाई कि आप एक में साधन का पाठ खरीद लूंगा जो बढ़ते हुए पेट्रोल के दाम वाकई यह कहना ही सही है क्योंकि पेट्रोल और डीजल के बढ़ते दामों को देखकर वह लोग रुक गए और डीलर्स भी कोई खास अच्छा फल नहीं दिए और उन्हीं भी देने का हक ही नहीं मिला तो सबसे बड़ी बात है कि जब हम खरीदने की बात तो करते हैं लेकिन उसमे रोज की चलने वाली चीजें जो रोज पेट्रोल डीजल के दाम बढ़ रहे हैं आज लगभग दोनों एक ही रेट है डीजल और पेट्रोल का देखें तो बहुत कम का अंतर है जो पहले बहुत ज्यादा का अंतर था लेकिन सरकार के आने के बाद बहुत सारे ऐसे प्रोत्साहन देकर लोगों को लगभग दोनों की दायरी जो है ना बराबर कर दिए हैं तो लोग ज्यादा परेशान हुए अब आ जाते हैं खाने-पीने की चीजें जो खाने-पीने की चीजें हैं कि सब्जियों के दाम बढ़ने लगे तो लोग क्या की है ना उसकी जो नॉनवेज जो खाते हैं जिसे मांस मछली अंडा खाते हैं तो वह लोग क्या करें ई ऑप्शन लगा कि यार सब्जी से तो अच्छा अंडा है अंडा को हम यूज करते हैं अंडा के धीरे-धीरे मांग बढ़ती गई और अंडा का रेट भी धीरे-धीरे वह भी बढ़ इनक्रीस करने लगा इस सोचने लगे कि अब क्या खाए अब खाने से अच्छा है कि हम कुछ मेहनत करें तो मेहनत कहां करेंगे उन्हें जो बीज मिला एक आदमी ने उनकी पिटाई मिलना है तो उसके दाम घट सकते हैं खाली नहीं सकते हैं सरसों का तेल देख लीजिए तेल जो लगभग 60 से ₹65 किलो बिकता था आज ₹300 किलो ₹160 किलो के दाम से बिक रहा है इतना ज्यादा महंगाई है महंगाई कम होगी सबसे ज्यादा स्थिति खराब है वही देखा जाए तो बहुत सारी ऐसी चीजें हैं जो हमारे देश से नहीं बाहर के देशों से आती हैं और बाहर के देश अपने हिसाब से सरकार के हिसाब से जुड़े लगाते हैं उपयोग टैक्स देते हैं उसी के हिसाब से यहां पर चीजें बेचने की कोशिश करते हैं और सबसे बड़ी बात है कि जो मूंगफली सरसों सोयाबीन सूरजमुखी ताल सभी 30 परसेंट तक महंगे व्यक्त मत सोचिए कि हर एक तेल से रिलेटेड चीजें थी अगर देखा जाए तो यह भारत में 70 पर्सेंट खाद्य तेल हत्या है मलेशिया अर्जेंटीना अर्जेंटीना इंडोनेशिया यूक्रेन जैसे देशों से आयात किए जाते हैं उन्हें ज्यादा टैक्स देने की वजह से इसके दाम बढ़े हैं तो जाहिर सी बात है कि इसमें भी बहुत ज्यादा हमें दिक्कत होनी होगी और सबसे बड़ी बात है कि सरकार जो है बड़े-बड़े पूजा पतियों से जो फंडिंग की है जो पैसे लिए हैं उसका भुगतान करने के लिए सरकार भी इसमें बढ़ते दामों को रोक नहीं सकती है क्योंकि रुकेगी तो सरकार के ऊपर भी लगाम लगाने के उनके हाथ हैं बड़े-बड़े पूजी पतियों के बहुत सारे ऐसे कारण हैं जो सरकार भी बुरी तरह से फंसी हुई है और पूरी जनता को भी बुरी तरह से फंसा रही है तू दिखे प्रश्न आपका जो पूछा गया है उसके सरकार कुछ भी लगाम नहीं लगा सकती कुछ भी रोक नहीं लगा सकती है सरकार बुरी तरह से फंस गई और पूरे देशवासियों को भी इस महंगाई के जाल में फंसा रही है और इस पर कोई भी रोक नहीं लग सकता बस यही है कि आप मेहनत करिए अपने पैसे को केवल खाने के ऊपर ही खर्च करें उससे ज्यादा कुछ कर नहीं सकते
Manoj jee ke dvaara anurodh ek prashn hai ki kya aapako lagata hai mahangaee kam hone ke chaans hain kya sarakaar mahangaee ko roop nahin sakatee kyonki khaane vaalee jo padaarth hai jo khaady padaarth hain jo aam pablik ya sabhee ke lie jo khaady padaarth hain vo kya mahangaee par niyantran nahin kar paenge aur kaise agar dekha jae to aane vaale samay mein kya sthitiyaan rahenge jisase aapako bata den nyooz ke maadhyam se nyooz kee riport ke maadhyam se kaee log jo hain unakee chhaatee mein 2020 to kharaabee gaya baakee jo bacha ke rakha hoon usamen ek ko phor vheelar ya baee ki aap ek mein saadhan ka paath khareed loonga jo badhate hue petrol ke daam vaakee yah kahana hee sahee hai kyonki petrol aur deejal ke badhate daamon ko dekhakar vah log ruk gae aur deelars bhee koee khaas achchha phal nahin die aur unheen bhee dene ka hak hee nahin mila to sabase badee baat hai ki jab ham khareedane kee baat to karate hain lekin usame roj kee chalane vaalee cheejen jo roj petrol deejal ke daam badh rahe hain aaj lagabhag donon ek hee ret hai deejal aur petrol ka dekhen to bahut kam ka antar hai jo pahale bahut jyaada ka antar tha lekin sarakaar ke aane ke baad bahut saare aise protsaahan dekar logon ko lagabhag donon kee daayaree jo hai na baraabar kar die hain to log jyaada pareshaan hue ab aa jaate hain khaane-peene kee cheejen jo khaane-peene kee cheejen hain ki sabjiyon ke daam badhane lage to log kya kee hai na usakee jo nonavej jo khaate hain jise maans machhalee anda khaate hain to vah log kya karen ee opshan laga ki yaar sabjee se to achchha anda hai anda ko ham yooj karate hain anda ke dheere-dheere maang badhatee gaee aur anda ka ret bhee dheere-dheere vah bhee badh inakrees karane laga is sochane lage ki ab kya khae ab khaane se achchha hai ki ham kuchh mehanat karen to mehanat kahaan karenge unhen jo beej mila ek aadamee ne unakee pitaee milana hai to usake daam ghat sakate hain khaalee nahin sakate hain sarason ka tel dekh leejie tel jo lagabhag 60 se ₹65 kilo bikata tha aaj ₹300 kilo ₹160 kilo ke daam se bik raha hai itana jyaada mahangaee hai mahangaee kam hogee sabase jyaada sthiti kharaab hai vahee dekha jae to bahut saaree aisee cheejen hain jo hamaare desh se nahin baahar ke deshon se aatee hain aur baahar ke desh apane hisaab se sarakaar ke hisaab se jude lagaate hain upayog taiks dete hain usee ke hisaab se yahaan par cheejen bechane kee koshish karate hain aur sabase badee baat hai ki jo moongaphalee sarason soyaabeen soorajamukhee taal sabhee 30 parasent tak mahange vyakt mat sochie ki har ek tel se rileted cheejen thee agar dekha jae to yah bhaarat mein 70 parsent khaady tel hatya hai maleshiya arjenteena arjenteena indoneshiya yookren jaise deshon se aayaat kie jaate hain unhen jyaada taiks dene kee vajah se isake daam badhe hain to jaahir see baat hai ki isamen bhee bahut jyaada hamen dikkat honee hogee aur sabase badee baat hai ki sarakaar jo hai bade-bade pooja patiyon se jo phanding kee hai jo paise lie hain usaka bhugataan karane ke lie sarakaar bhee isamen badhate daamon ko rok nahin sakatee hai kyonki rukegee to sarakaar ke oopar bhee lagaam lagaane ke unake haath hain bade-bade poojee patiyon ke bahut saare aise kaaran hain jo sarakaar bhee buree tarah se phansee huee hai aur pooree janata ko bhee buree tarah se phansa rahee hai too dikhe prashn aapaka jo poochha gaya hai usake sarakaar kuchh bhee lagaam nahin laga sakatee kuchh bhee rok nahin laga sakatee hai sarakaar buree tarah se phans gaee aur poore deshavaasiyon ko bhee is mahangaee ke jaal mein phansa rahee hai aur is par koee bhee rok nahin lag sakata bas yahee hai ki aap mehanat karie apane paise ko keval khaane ke oopar hee kharch karen usase jyaada kuchh kar nahin sakate

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • इतनी महंगाई क्यों हो गई है, हर चीजों के दाम बढ़ने के कारण,
URL copied to clipboard