#undefined

Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:32
वाले के अच्छे स्वास्थ्य क्यों लगातार बनाए रखने के लिए शहर के इस्तेमाल के तरीकों को क्यों नहीं समझते हैं तो वह कारण यह है कि सदियों से जो पुराने नुस्खे इस्तेमाल किए जा रहे हैं वह आजमाएं हुए हैं मैं तेरी की पर किसी भी व्यक्ति को जाने में थोड़ा सा संधि तो होता ही है बिल्कुल आपके साथ भी ऐसा ही होता होगा जो पुराने दादी नानी के नुस्खे हैं जो हम आए हुए हैं निश्चित तौर पर जो सदियों से चले आ रहे हैं उनको आप भी बिल्कुल से जाएंगे यूज करने के लिए मैं तेरी के पर जाने से पहले दुख तकलीफ के समय पर थोड़ा सा लॉक है सकते हैं आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद
Vaale ke achchhe svaasthy kyon lagaataar banae rakhane ke lie shahar ke istemaal ke tareekon ko kyon nahin samajhate hain to vah kaaran yah hai ki sadiyon se jo puraane nuskhe istemaal kie ja rahe hain vah aajamaen hue hain main teree kee par kisee bhee vyakti ko jaane mein thoda sa sandhi to hota hee hai bilkul aapake saath bhee aisa hee hota hoga jo puraane daadee naanee ke nuskhe hain jo ham aae hue hain nishchit taur par jo sadiyon se chale aa rahe hain unako aap bhee bilkul se jaenge yooj karane ke lie main teree ke par jaane se pahale dukh takaleeph ke samay par thoda sa lok hai sakate hain aapaka din shubh rahe dhanyavaad

और जवाब सुनें

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:48
हेलो एवरीवन स्वागत है आपका इतने अच्छे स्वास्थ्य में लगातार बनाए रखने के लिए लोग शहर के इस्तेमाल किए हुए तरीकों को क्यों नहीं समझते तो फ्रेंड से लोग अपने पुराने तरीकों को ही आते हैं और पुराने नोट को कोई नहीं समझते हैं और नए तरीकों को आजमाने में हिचकते हैं क्योंकि जो पुराने नुस्खे होते हैं हमारी दादी नानी के दिए हुए तो वे लोग उनको अजमा चुके होते हैं अपने ऊपर उनका प्रयोग कर चुके होते हैं तो पुराने तरीकों से लाभ भी मिलता है पुराने जो नुस्खे होते हैं कोई भी सर्दी जुखाम यह कोई भी चीज का काफी लाभदायक होते हैं लेकिन नए तरीके अपनाने में इसके चैटिंग क्योंकि आजमाया हुआ नहीं होता और जल्दी से विश्वास नहीं होता उसके ऊपर इसीलिए पुराने तरीके पर ज्यादा विश्वास होता है धन्यवाद
Helo evareevan svaagat hai aapaka itane achchhe svaasthy mein lagaataar banae rakhane ke lie log shahar ke istemaal kie hue tareekon ko kyon nahin samajhate to phrend se log apane puraane tareekon ko hee aate hain aur puraane not ko koee nahin samajhate hain aur nae tareekon ko aajamaane mein hichakate hain kyonki jo puraane nuskhe hote hain hamaaree daadee naanee ke die hue to ve log unako ajama chuke hote hain apane oopar unaka prayog kar chuke hote hain to puraane tareekon se laabh bhee milata hai puraane jo nuskhe hote hain koee bhee sardee jukhaam yah koee bhee cheej ka kaaphee laabhadaayak hote hain lekin nae tareeke apanaane mein isake chaiting kyonki aajamaaya hua nahin hota aur jaldee se vishvaas nahin hota usake oopar iseelie puraane tareeke par jyaada vishvaas hota hai dhanyavaad

Udham Prasad Gautam Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Udham जी का जवाब
Unknown
2:25
हाय दोस्तों नमस्कार गुड इवनिंग आपका प्रश्न है कि अच्छे स्वास्थ्य के लगातार बनाए रखने के लिए कुछ लोग शहर के इस्तेमाल के तरीकों को क्यों नहीं समझते दोस्तों जो सरकी जो जनसंख्या होती हैं जो शहर में रहते हैं अक्सर लोग ज्यादातर पढ़े-लिखे होते हैं इसलिए उनको हमेशा पता रहता है कि हमें क्या खाना चाहिए क्या नहीं खाना चाहिए कब खाना चाहिए कैसे व्यायाम करना चाहिए कैसे अपने शरीर को स्वस्थ रखने के लिए क्या उपाय करना चाहिए उनको सर पता होता है इसके बारे में ठीक है लेकिन गांव के लोगों को इतना अच्छे से पता नहीं रहता है और क्योंकि गांव वाले इतना पढ़े-लिखे नहीं होते हैं ठीक है इसलिए उनको सही तरीके से मालूम पता नहीं कब क्या खाना क्या नहीं खाना वह जिसको सिंह जब भूख लगी जो मिला वो खा लेते हैं ठीक है और क्या खाना है क्या नहीं खाना इसको भी उसको इस्तेमाल में अच्छे से नहीं ला सकते हम लोग तो क्या गलती होती है कि उनको ज्यादा फास्ट फूड मिल गया तो भी चला जो चल चल जाता है ठीक है और शाम को जैसे दिन डूबा 4:05 बजे भी खा लेते हैं ठीक है सुबह भी खाली दो कि उनकी टाइम कुछ नहीं थी किस टाइम होगा जिसमें बहुत भूख लगी थोड़ा बहुत खा लिए नहीं खाने दिन भर तो बीच जिस समय मिला खा लिए और गांव में यह भी आ जाते थे कि वह सुबह में उसने अच्छे से नहीं खाते हैं ठीक हैं और खाते खाते क्या होता पता चलता है 10:11 बजे खाना खाते हैं जबकि साल की आदत है जो होती है वह टाइम से 7:08 बजे तक खाना वह खा लेते हैं ठीक है या फिर कुछ नाश्ता कर लेते सुबह में लेकिन गांव वाले कहते हैं सुबह में कुछ भी नहीं कर चढ़ चाय पी लेंगे उसके बाद क्या करूं सीधे ₹10 12:00 बजे खाना खाते हैं लेकिन तू ऐसे में क्या था 29 तारीख पर ज्यादा दुष्प्रभाव होने लगता है ठीक है उनके शरीर सारी कमजोरी आने लगती है और व्यायाम भी अच्छे से नहीं करते हैं ठीक हैं तो इस तरह से गांव वाले इतने अच्छे से मतलब की हवा जो गांव की जरूरत हो वह सही होने के कारण ही स्वस्थ रह पाते हैं अच्छे से अन्यथा वह शहर के मुकाबले स्वस्थ नहीं हो पाते हैं ठीक है क्योंकि व्यायाम अच्छे से नहीं कर पाते हैं अच्छे से जो करना क्यों नहीं कर पाते लेकिन उनका नाम उनका हो कैसे जाता है देखिए वह खेत खलियान में काम करते हैं और सुबह से ही मतलब घर के आजू-बाजू जो भी काम करते हो कर कर लेते इसलिए घर गांव वाले स्वस्थ रहते हैं ठीक है यही उसका कारण अगर यह नहीं करते तो शायद अस्वस्थ रह जाते हैं ठीक है
Haay doston namaskaar gud ivaning aapaka prashn hai ki achchhe svaasthy ke lagaataar banae rakhane ke lie kuchh log shahar ke istemaal ke tareekon ko kyon nahin samajhate doston jo sarakee jo janasankhya hotee hain jo shahar mein rahate hain aksar log jyaadaatar padhe-likhe hote hain isalie unako hamesha pata rahata hai ki hamen kya khaana chaahie kya nahin khaana chaahie kab khaana chaahie kaise vyaayaam karana chaahie kaise apane shareer ko svasth rakhane ke lie kya upaay karana chaahie unako sar pata hota hai isake baare mein theek hai lekin gaanv ke logon ko itana achchhe se pata nahin rahata hai aur kyonki gaanv vaale itana padhe-likhe nahin hote hain theek hai isalie unako sahee tareeke se maaloom pata nahin kab kya khaana kya nahin khaana vah jisako sinh jab bhookh lagee jo mila vo kha lete hain theek hai aur kya khaana hai kya nahin khaana isako bhee usako istemaal mein achchhe se nahin la sakate ham log to kya galatee hotee hai ki unako jyaada phaast phood mil gaya to bhee chala jo chal chal jaata hai theek hai aur shaam ko jaise din dooba 4:05 baje bhee kha lete hain theek hai subah bhee khaalee do ki unakee taim kuchh nahin thee kis taim hoga jisamen bahut bhookh lagee thoda bahut kha lie nahin khaane din bhar to beech jis samay mila kha lie aur gaanv mein yah bhee aa jaate the ki vah subah mein usane achchhe se nahin khaate hain theek hain aur khaate khaate kya hota pata chalata hai 10:11 baje khaana khaate hain jabaki saal kee aadat hai jo hotee hai vah taim se 7:08 baje tak khaana vah kha lete hain theek hai ya phir kuchh naashta kar lete subah mein lekin gaanv vaale kahate hain subah mein kuchh bhee nahin kar chadh chaay pee lenge usake baad kya karoon seedhe ₹10 12:00 baje khaana khaate hain lekin too aise mein kya tha 29 taareekh par jyaada dushprabhaav hone lagata hai theek hai unake shareer saaree kamajoree aane lagatee hai aur vyaayaam bhee achchhe se nahin karate hain theek hain to is tarah se gaanv vaale itane achchhe se matalab kee hava jo gaanv kee jaroorat ho vah sahee hone ke kaaran hee svasth rah paate hain achchhe se anyatha vah shahar ke mukaabale svasth nahin ho paate hain theek hai kyonki vyaayaam achchhe se nahin kar paate hain achchhe se jo karana kyon nahin kar paate lekin unaka naam unaka ho kaise jaata hai dekhie vah khet khaliyaan mein kaam karate hain aur subah se hee matalab ghar ke aajoo-baajoo jo bhee kaam karate ho kar kar lete isalie ghar gaanv vaale svasth rahate hain theek hai yahee usaka kaaran agar yah nahin karate to shaayad asvasth rah jaate hain theek hai

srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
0:36

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
2:29
अच्छे स्वास्थ्य लगातार बनाए रखने के लिए लोग शहर के इस्तेमाल के तरीकों क्यों नहीं समय देखिए शहर के इस्तेमाल के तरीके में और गांव के इस्तेमाल के तरीके में अंतर शहर वालों के पास पैसा ज्यादा होता है पैसा कमाते हैं इसलिए उज्जैन चले जाते हैं इस प्रकार से शहर के लोगों पास तू भी पैसा ज्यादा है तो अपना जिम चले जाते हैं उनकी आदत होती है कि सुबह उठे घर के बगल में घर में लैट्रिन है वहां घुस गए यह सब चीजें सही अच्छी नहीं है शहर में स्वास्थ के तरीके जो कुछ और पैसे के बलबूते पर हैं इसलिए वहां हर आदमी से परेशान रहता है अच्छे स्वास्थ्य के तरीके तो आपके गांव में हैं आप सुबह उठते हैं दिशा मैदान के लिए खेत चले गए थोड़ा दूर चले गए टहलने चले गए खेतों की रखवाली करने के लिए चले गए इस तरह स्वास्थ्य जो आपको चार-पांच किलोमीटर की जो पैदल रनिंग है वह बहुत महत्वपूर्ण रखते हैं इसके अलावा शहर में आपको हर हाथ में आपको हरी सब्जियां बढ़िया मिल जाती हैं मोटा अनाज भी खाने को मिल जाता है तो जो स्वास्थ्य और जो पानी आपको देहाती क्षेत्र में बढ़िया मिलता है वह शहर में नहीं है शहर में तो पानी भी खरीदते हैं यह बोतल तो हम यारों का खरीदना पड़ता है और वह भी ₹20 का मिलता है तो शहर में स्वास्थ्य के तरीकों में केवल एक ही है कि लोग पार्क में घूमने के लिए चले जाते हैं कह देना दूर दूर के ढोल सुहावने होते हैं इस शहर में स्वास्थ्य के दो तरीके हैं वह दूर के ढोल सुहावने की तरह हैं अगर आप देहात में है तो देहात में उसको और रुचि रोचक बना सकते हैं आप टहलने के लिए जाइए दौड़ने के लिए जाइए उछल कूद कीजिए हाई जंप कीजिए लाइंस ऑन कीजिए फुटबॉल खेलने वाली बॉल कीजिए बैडमिंटन के लिए तो इससे आपकी क्या योग्यता भी बढ़ेगी और आपके क्षमता भी कार्य करने की बढ़ेगी और स्वस्थ भी रहेंगे आप
Achchhe svaasthy lagaataar banae rakhane ke lie log shahar ke istemaal ke tareekon kyon nahin samay dekhie shahar ke istemaal ke tareeke mein aur gaanv ke istemaal ke tareeke mein antar shahar vaalon ke paas paisa jyaada hota hai paisa kamaate hain isalie ujjain chale jaate hain is prakaar se shahar ke logon paas too bhee paisa jyaada hai to apana jim chale jaate hain unakee aadat hotee hai ki subah uthe ghar ke bagal mein ghar mein laitrin hai vahaan ghus gae yah sab cheejen sahee achchhee nahin hai shahar mein svaasth ke tareeke jo kuchh aur paise ke balaboote par hain isalie vahaan har aadamee se pareshaan rahata hai achchhe svaasthy ke tareeke to aapake gaanv mein hain aap subah uthate hain disha maidaan ke lie khet chale gae thoda door chale gae tahalane chale gae kheton kee rakhavaalee karane ke lie chale gae is tarah svaasthy jo aapako chaar-paanch kilomeetar kee jo paidal raning hai vah bahut mahatvapoorn rakhate hain isake alaava shahar mein aapako har haath mein aapako haree sabjiyaan badhiya mil jaatee hain mota anaaj bhee khaane ko mil jaata hai to jo svaasthy aur jo paanee aapako dehaatee kshetr mein badhiya milata hai vah shahar mein nahin hai shahar mein to paanee bhee khareedate hain yah botal to ham yaaron ka khareedana padata hai aur vah bhee ₹20 ka milata hai to shahar mein svaasthy ke tareekon mein keval ek hee hai ki log paark mein ghoomane ke lie chale jaate hain kah dena door door ke dhol suhaavane hote hain is shahar mein svaasthy ke do tareeke hain vah door ke dhol suhaavane kee tarah hain agar aap dehaat mein hai to dehaat mein usako aur ruchi rochak bana sakate hain aap tahalane ke lie jaie daudane ke lie jaie uchhal kood keejie haee jamp keejie lains on keejie phutabol khelane vaalee bol keejie baidamintan ke lie to isase aapakee kya yogyata bhee badhegee aur aapake kshamata bhee kaary karane kee badhegee aur svasth bhee rahenge aap

Shivangi Dixit.  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Shivangi जी का जवाब
Unknown
1:14
कुछ अच्छे स्वास्थ्य को लगाकर बनाए रखने के लिए लोग शहर के इस्तेमाल के तरीकों को क्यों नहीं समझते क्वेश्चन आपने किया है यह शहर का इस्तेमाल क्या होता है अगर लोग गांव में भी रहता है पुलिस और स्वास्थ्य को लेकर करेगा चिंता होती है अपने शरीर को लेकर चिंता होती होती होती है तो वह अपने चाहे वह गांव में रहते हैं वह शहर में रह जाए वह विदेश में रहे अपने स्वास्थ्य की चिंता जरूर करेंगे और जैसे जो भी फॉलो करना होता है वह करेंगे इसलिए इसमें यह कुछ नहीं होता कि लोग शहर के इस्तेमाल कीजिए क्यों नहीं कर रहे हैं शहर के तरीकों को शहर के तरीके में भी कुछ अलग नहीं है देखे वह सब अपने हिसाब से चलते हैं शहर में भी कुछ लोग ऐसे होते हैं कि नहीं देते वह डाइट पर ध्यान दें कि नहीं देना बहुत जरूरी है सबसे पहले तो उसके लिए चाहे कहीं भी हो चाहे शहर में हो कि गांव में हो उसके लिए सबसे पहले योग करना बहुत जरूरी है सुबह के कुछ करना 30 मिनट ही दीजिए पर दीजिए और समय पर नाश्ता करना समय पर खाना खाना है रात में जो है वह लाइट खाना खाना ज्यादा है अभी खाना नहीं खाना और यह जो शुगर वाली चीजें जिनको शुगर होती है वह तो रात में बिल्कुल भी ऐसी मीठी चीज ना ही का है उनको तो शुगर रहती है तो वैसे भी इनको मीठा खाना बना ही रहता है तो यह सब जो चीजें हैं इनको बहुत ध्यान में रखना होता है जहां पत्नी तो लाइक सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Kuchh achchhe svaasthy ko lagaakar banae rakhane ke lie log shahar ke istemaal ke tareekon ko kyon nahin samajhate kveshchan aapane kiya hai yah shahar ka istemaal kya hota hai agar log gaanv mein bhee rahata hai pulis aur svaasthy ko lekar karega chinta hotee hai apane shareer ko lekar chinta hotee hotee hotee hai to vah apane chaahe vah gaanv mein rahate hain vah shahar mein rah jae vah videsh mein rahe apane svaasthy kee chinta jaroor karenge aur jaise jo bhee pholo karana hota hai vah karenge isalie isamen yah kuchh nahin hota ki log shahar ke istemaal keejie kyon nahin kar rahe hain shahar ke tareekon ko shahar ke tareeke mein bhee kuchh alag nahin hai dekhe vah sab apane hisaab se chalate hain shahar mein bhee kuchh log aise hote hain ki nahin dete vah dait par dhyaan den ki nahin dena bahut jarooree hai sabase pahale to usake lie chaahe kaheen bhee ho chaahe shahar mein ho ki gaanv mein ho usake lie sabase pahale yog karana bahut jarooree hai subah ke kuchh karana 30 minat hee deejie par deejie aur samay par naashta karana samay par khaana khaana hai raat mein jo hai vah lait khaana khaana jyaada hai abhee khaana nahin khaana aur yah jo shugar vaalee cheejen jinako shugar hotee hai vah to raat mein bilkul bhee aisee meethee cheej na hee ka hai unako to shugar rahatee hai to vaise bhee inako meetha khaana bana hee rahata hai to yah sab jo cheejen hain inako bahut dhyaan mein rakhana hota hai jahaan patnee to laik sabsakraib karen dhanyavaad

Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
3:00
गवालियर के अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए लोग शहद शहद के इस्तेमाल करने के तरीकों को क्यों नहीं समझते तो शहद के फायदे के बारे में अधिकतर लोगों को पता होता है लेकिन शहद खाने के तरीकों को लेकर लोग असमंजस में रहते हैं आप कई तरीके से शहद का सेवन कर सकते हैं आप रोजाना एक से दो चम्मच शहद सीधे तौर पर खा सकते हैं जैसे दूध में मिलाकर सेवन कर सकते हैं इसके अलावा खाली पेट हल्के गुनगुने पानी के साथ शहद का सेवन वजन कम करने के लिए बहुत उपयोगी माना जाता है कुछ लोग हल्के गुनगुने पानी और शहद के मिश्रण में नींबू मिलाकर भी सेवन करते हैं शहद के फायदे को देखते हुए आयुर्वेद में से अमृत माना गया है छोटे बच्चे से लेकर व्यस्त को तक शायद कभी के लिए उतना ही फायदेमंद है नियमित रूप से शहद खाने से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है जिससे कई तरह के संक्रामक बीमारी से बचाव होता है दोपहर के 7:00 का सेवन करने से खांसी में आराम मिलता है कटने जलने पर हम लगा सकते हैं अगर आपकी त्वचा में हल्की खरोच आ गई है या कोई सामान ले लूट जल गया है तो सर पर शहद लगाना यह जलन को काम करता है वजन कम करने के लिए सहायक है शहद रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक है घाव भरने में मदद करता है गले की खराश को सही करता है कब्ज से राहत दिलाता है शहद शहद के फायदे रचा के लिए भी बहुत हैं रूखी त्वचा वाले कर सकते हैं शायद और त्वचा के निखार के लिए भी शहद का उपयोग हम कर सकते हैं शहर भाई लोग बालों के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है मुंहासे दूर करने के लिए भी उपयोगी एशली की सेहत से जुड़ी कुछ सावधानी बरतनी चाहिए अधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए अगर आप सामान्य रूप से खाने में शहद का सेवन कर रहे हैं तो दिन भर में एक या दो चम्मच का ही सेवन पर्याप्त है पर आप इसे औषधि के रूप में त्वचा के लिए इस्तेमाल करते हैं तो चिकित्सक द्वारा बताए गए खुराक के अनुसार ही सेवन करें 1 साल से कम उम्र के बच्चों को शहद ना खिलाए आधुनिक चिकित्सा पद्धति में ऐसा माना गया है कि 1 साल से कम उम्र के बच्चों को शहद नहीं खिलाना चाहिए इससे बच्चों को बॉडी लोशन का खतरा होता है इसलिए अगर आप 1 साल से कम की उम्र को बच्चे को खिलाना चाहते तो पहले डॉक्टर से परामर्श करें पराग कणों से एलर्जी वाले लोग नहीं खा सकते शहद शहद संवेदनशील त्वचा वाले लोग भी परहेज कंफर्म कर सकते हैं अगर आपका ब्लड शुगर लेवल अनियंत्रित है तो आप आपको शायद को नहीं करना चाहिए ब्लड प्रेशर के मरीजों को शहद का सेवन नहीं करना चाहिए समान मात्रा में घी और शहद बिल्कुल भी ना लें आयुर्वेद में घी और शहद का उचित
Gavaaliyar ke achchhe svaasthy ko banae rakhane ke lie log shahad shahad ke istemaal karane ke tareekon ko kyon nahin samajhate to shahad ke phaayade ke baare mein adhikatar logon ko pata hota hai lekin shahad khaane ke tareekon ko lekar log asamanjas mein rahate hain aap kaee tareeke se shahad ka sevan kar sakate hain aap rojaana ek se do chammach shahad seedhe taur par kha sakate hain jaise doodh mein milaakar sevan kar sakate hain isake alaava khaalee pet halke gunagune paanee ke saath shahad ka sevan vajan kam karane ke lie bahut upayogee maana jaata hai kuchh log halke gunagune paanee aur shahad ke mishran mein neemboo milaakar bhee sevan karate hain shahad ke phaayade ko dekhate hue aayurved mein se amrt maana gaya hai chhote bachche se lekar vyast ko tak shaayad kabhee ke lie utana hee phaayademand hai niyamit roop se shahad khaane se rog pratirodhak kshamata badhatee hai jisase kaee tarah ke sankraamak beemaaree se bachaav hota hai dopahar ke 7:00 ka sevan karane se khaansee mein aaraam milata hai katane jalane par ham laga sakate hain agar aapakee tvacha mein halkee kharoch aa gaee hai ya koee saamaan le loot jal gaya hai to sar par shahad lagaana yah jalan ko kaam karata hai vajan kam karane ke lie sahaayak hai shahad rog pratirodhak kshamata badhaane mein sahaayak hai ghaav bharane mein madad karata hai gale kee kharaash ko sahee karata hai kabj se raahat dilaata hai shahad shahad ke phaayade racha ke lie bhee bahut hain rookhee tvacha vaale kar sakate hain shaayad aur tvacha ke nikhaar ke lie bhee shahad ka upayog ham kar sakate hain shahar bhaee log baalon ke lie bhee bahut phaayademand hota hai munhaase door karane ke lie bhee upayogee eshalee kee sehat se judee kuchh saavadhaanee baratanee chaahie adhik maatra mein sevan nahin karana chaahie agar aap saamaany roop se khaane mein shahad ka sevan kar rahe hain to din bhar mein ek ya do chammach ka hee sevan paryaapt hai par aap ise aushadhi ke roop mein tvacha ke lie istemaal karate hain to chikitsak dvaara batae gae khuraak ke anusaar hee sevan karen 1 saal se kam umr ke bachchon ko shahad na khilae aadhunik chikitsa paddhati mein aisa maana gaya hai ki 1 saal se kam umr ke bachchon ko shahad nahin khilaana chaahie isase bachchon ko bodee loshan ka khatara hota hai isalie agar aap 1 saal se kam kee umr ko bachche ko khilaana chaahate to pahale doktar se paraamarsh karen paraag kanon se elarjee vaale log nahin kha sakate shahad shahad sanvedanasheel tvacha vaale log bhee parahej kampharm kar sakate hain agar aapaka blad shugar leval aniyantrit hai to aap aapako shaayad ko nahin karana chaahie blad preshar ke mareejon ko shahad ka sevan nahin karana chaahie samaan maatra mein ghee aur shahad bilkul bhee na len aayurved mein ghee aur shahad ka uchit

Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student
0:59
नमस्कार दोस्तों वाली अच्छी सोच को बनाए रखने के लिए लोग कक्षा 7 के इस्तेमाल करने के तरीकों को क्यों नहीं समझते थे कि जहां तक मेरी राय तो मैं यही जानता हूं कि जो सांसों में तुम आसानी से उपलब्ध नहीं होते हैं लेकिन जो उपलब्ध होता है उस विश्वास नहीं होता और जो लोग इसका सेवन करते हैं इनकी स्वास्थ्य की तरफ से तो उन्हें कोई लाभ नहीं होता तो इसीलिए मतलब इसका मतलब हम जो करते हैं तुम लोग ज्यादा कोई फायदा नहीं होता तो हमारे सबसे इसीलिए इसको देखो को नहीं समझते और रही बात मतलब स्वास्थ्य वह नहीं तो साहब जो होता है स्वास्थ्य की दृष्टि से देखा जाए तो काफी महत्व होता है क्योंकि शादी है कैसा मात्र पदार्थ है जो कभी खराब नहीं होता है और अगर अब नियमित तौर पर शहद को मिलाकर वजन घटाना चाहते तो गर्म पानी में हाथ का सेवन करते हैं 127 के डाल दे गर्म पानी है क्लास अगर आप निवेश और पर प्रीति दो-तीन महीने में तो आपका वेट काफी कंट्रोल रहता है तो उम्मीद करता हूं सवाल का जवाब अच्छा लगा धन्यवाद
Namaskaar doston vaalee achchhee soch ko banae rakhane ke lie log kaksha 7 ke istemaal karane ke tareekon ko kyon nahin samajhate the ki jahaan tak meree raay to main yahee jaanata hoon ki jo saanson mein tum aasaanee se upalabdh nahin hote hain lekin jo upalabdh hota hai us vishvaas nahin hota aur jo log isaka sevan karate hain inakee svaasthy kee taraph se to unhen koee laabh nahin hota to iseelie matalab isaka matalab ham jo karate hain tum log jyaada koee phaayada nahin hota to hamaare sabase iseelie isako dekho ko nahin samajhate aur rahee baat matalab svaasthy vah nahin to saahab jo hota hai svaasthy kee drshti se dekha jae to kaaphee mahatv hota hai kyonki shaadee hai kaisa maatr padaarth hai jo kabhee kharaab nahin hota hai aur agar ab niyamit taur par shahad ko milaakar vajan ghataana chaahate to garm paanee mein haath ka sevan karate hain 127 ke daal de garm paanee hai klaas agar aap nivesh aur par preeti do-teen maheene mein to aapaka vet kaaphee kantrol rahata hai to ummeed karata hoon savaal ka javaab achchha laga dhanyavaad

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:51
200 सवाल किया गया अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए लोग सेट के माल के तरीकों को क्यों नहीं समझते हैं दोस्तों आपको जानकारी के लिए बता दे किस चीज जो शरीर के लिए काफी फायदेमंद है यह आपको कई तरीके से निजात दिलाता है जुकाम खांसी बुखार इत्यादि तक मैं भी जो है शायद काम आता है सेहत का जो तरीका दोस्तों का हिसाब से लेना पड़ता जैसी आप गर्म दूध के माध्यम से 20 को ले सकते इसको सेट करके भी ले सकते हैं या फिर किसी चूर्ण के माध्यम से भी ले सकते हैं इसके अलग-अलग तरीके होते उसको लेने के लिए यदि बात करें सेट की असली पहचान को लेकर दोस्तों पहचान है वह यह कि आप एक कोरा कागज लीजिए कोरे कागज के ऊपर एथिरालिए सेट की और उसको रगड़ी यदि वह कागज के उस पार जाता है तो वह सब डुप्लीकेट है अन्यथा एक तरफ रहता है तो शहर जो है वह ओरिजिनल
200 savaal kiya gaya achchhe svaasthy ko banae rakhane ke lie log set ke maal ke tareekon ko kyon nahin samajhate hain doston aapako jaanakaaree ke lie bata de kis cheej jo shareer ke lie kaaphee phaayademand hai yah aapako kaee tareeke se nijaat dilaata hai jukaam khaansee bukhaar ityaadi tak main bhee jo hai shaayad kaam aata hai sehat ka jo tareeka doston ka hisaab se lena padata jaisee aap garm doodh ke maadhyam se 20 ko le sakate isako set karake bhee le sakate hain ya phir kisee choorn ke maadhyam se bhee le sakate hain isake alag-alag tareeke hote usako lene ke lie yadi baat karen set kee asalee pahachaan ko lekar doston pahachaan hai vah yah ki aap ek kora kaagaj leejie kore kaagaj ke oopar ethiraalie set kee aur usako ragadee yadi vah kaagaj ke us paar jaata hai to vah sab dupleeket hai anyatha ek taraph rahata hai to shahar jo hai vah orijinal

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • अच्छे स्वास्थ्य के बारे में बताएं..शहद के इस्तेमाल के फायदे
URL copied to clipboard