#धर्म और ज्योतिषी

NeelamAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए NeelamAwasthi जी का जवाब
I am housewife
0:48
संभाले हमारी संस्कृत में गुरु को ब्रह्मा विष्णु और महेश के समक्ष क्यों माना गया है दिव्य सनातन धर्म ग्रंथों के अनुसार गुरु को ब्रह्मा विष्णु महेश के समान माना गया है इसका कारण यह है कि एक गुरु से सीख के उज्जवल भविष्य की रचना करता है इसलिए ब्रह्मा के समान माना गया है गुरु शिष्य को संपूर्ण दुर्गुणों और दुर्व्यवहार ओ से बचाता है अर्थात रक्षा करता है इसलिए विष्णु तुल्य माना जाता है गुरु शिष्य के प्रति थोड़ी कठोरता से पेश आते हुए सभी दोस्तों का संघार करता है इसलिए वह साक्षात महेश्वर के समान है इसीलिए गुरु को ब्रह्मा विष्णु महेश के समान माना जाता है धन्यवाद
Sambhaale hamaaree sanskrt mein guru ko brahma vishnu aur mahesh ke samaksh kyon maana gaya hai divy sanaatan dharm granthon ke anusaar guru ko brahma vishnu mahesh ke samaan maana gaya hai isaka kaaran yah hai ki ek guru se seekh ke ujjaval bhavishy kee rachana karata hai isalie brahma ke samaan maana gaya hai guru shishy ko sampoorn durgunon aur durvyavahaar o se bachaata hai arthaat raksha karata hai isalie vishnu tuly maana jaata hai guru shishy ke prati thodee kathorata se pesh aate hue sabhee doston ka sanghaar karata hai isalie vah saakshaat maheshvar ke samaan hai iseelie guru ko brahma vishnu mahesh ke samaan maana jaata hai dhanyavaad

और जवाब सुनें

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:04
नमस्कार दोस्तों प्रश्न कि हमारी संस्कृति में गुरु को ब्रह्मा विष्णु और महेश के समक्ष क्यों माना गया है दोस्तों जैसा कि दोहा बताए गए हैं गुरु गोविंद दोऊ खड़े काके लागू पाय गुरु बलिहारी आपने गोविंद दियो बताए गोविंद को बताने वाला है गोविंद की तरफ रास्ता दिखाने वाला है वह गुरु ही है गुरु ही हमारे अंधकार को दूर करके हमारे जीवन में प्रकाश दिलाता है या प्रकाश का ज्ञान देता है तो गुरु का महत्व सबसे बड़ा होता है क्योंकि हम ईश्वर को नहीं जानते हम ब्रह्मा विष्णु महेश को नहीं जानते गुरु ही हमें बताता है कि संसार में कौन कौन से देवी देवता है या हमें यहां जाकर ज्ञान प्राप्त होगा या मुक्त योगा किन की शरण में जाना हो तो सबसे बड़ा महत्त्व इसीलिए गुरु का रखा गया है गुरु कोई भी हो सकता है कि वह सबसे पहले जो गुरु होते हैं वह माता-पिता माना जाता है तो आप चाहे कितने भी देखने तो गुरु की मात्रा सबसे ज्यादा है धन्यवाद
Namaskaar doston prashn ki hamaaree sanskrti mein guru ko brahma vishnu aur mahesh ke samaksh kyon maana gaya hai doston jaisa ki doha batae gae hain guru govind dooo khade kaake laagoo paay guru balihaaree aapane govind diyo batae govind ko bataane vaala hai govind kee taraph raasta dikhaane vaala hai vah guru hee hai guru hee hamaare andhakaar ko door karake hamaare jeevan mein prakaash dilaata hai ya prakaash ka gyaan deta hai to guru ka mahatv sabase bada hota hai kyonki ham eeshvar ko nahin jaanate ham brahma vishnu mahesh ko nahin jaanate guru hee hamen bataata hai ki sansaar mein kaun kaun se devee devata hai ya hamen yahaan jaakar gyaan praapt hoga ya mukt yoga kin kee sharan mein jaana ho to sabase bada mahattv iseelie guru ka rakha gaya hai guru koee bhee ho sakata hai ki vah sabase pahale jo guru hote hain vah maata-pita maana jaata hai to aap chaahe kitane bhee dekhane to guru kee maatra sabase jyaada hai dhanyavaad

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:31
स्वागत है आपका आपका प्रश्न है हमारी संस्कृति में गुरुकुल कंभा विष्णु और महेश के समक्ष क्यों कहा गया है तो फ्रेंड से गुरु ही वह होता है जो हमारे जीवन में हमें पढ़ाई लिखाई करा कर और हमें अच्छा ज्ञान दे का जीवन में अच्छे काम करने की प्रेरणा देता है इसीलिए उनकी तुलना भगवान से की गई है ब्रह्मा विष्णु महेश से क्योंकि गुरु यह में अच्छे पाठ पढ़ाते हैं वह सही गलत का रास्ता बताते हैं और हमेशा मार्ग पर चलाते हैं और हमारे जीवन को निकालते हैं इसीलिए उनकी तुलना भगवान से की गई है धन्यवाद
Svaagat hai aapaka aapaka prashn hai hamaaree sanskrti mein gurukul kambha vishnu aur mahesh ke samaksh kyon kaha gaya hai to phrend se guru hee vah hota hai jo hamaare jeevan mein hamen padhaee likhaee kara kar aur hamen achchha gyaan de ka jeevan mein achchhe kaam karane kee prerana deta hai iseelie unakee tulana bhagavaan se kee gaee hai brahma vishnu mahesh se kyonki guru yah mein achchhe paath padhaate hain vah sahee galat ka raasta bataate hain aur hamesha maarg par chalaate hain aur hamaare jeevan ko nikaalate hain iseelie unakee tulana bhagavaan se kee gaee hai dhanyavaad

Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:34
स्वामी की हमारी संस्कृति में गुरु को ब्रह्मा विष्णु और महेश के समक्ष में माना जाता है तो सनातन संस्कृति में तीन प्रमुख देवता ब्रह्मा विष्णु महेश यानी कि भगवान शंकर को भी देवों की संज्ञा दी गई है शास्त्रों में यह भी कहा गया कि इस संपूर्ण सृष्टि की रचना वर्मा जी ने किए हैं और इसका पालन भगवान विष्णु कर रहे हैं भगवान शंकर को सृष्टि के पास सारे के रूप में मनमानी किया गया है
Svaamee kee hamaaree sanskrti mein guru ko brahma vishnu aur mahesh ke samaksh mein maana jaata hai to sanaatan sanskrti mein teen pramukh devata brahma vishnu mahesh yaanee ki bhagavaan shankar ko bhee devon kee sangya dee gaee hai shaastron mein yah bhee kaha gaya ki is sampoorn srshti kee rachana varma jee ne kie hain aur isaka paalan bhagavaan vishnu kar rahe hain bhagavaan shankar ko srshti ke paas saare ke roop mein manamaanee kiya gaya hai

TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
1:42
नमस्कार दोस्तों न्यूज़ ने पूछा हमारी संस्कृति में गुरु को ब्रह्मा विष्णु और महेश को समक्ष क्यों माना गया तुझे हमारे भारतीय सभ्यता जानी हिंदू सभ्यता के अनुसार ब्रह्मा विष्णु महेश इस सृष्टि के बहुत अहम योगदान रहा उनका तेरे जैसे हम गॉड बोलते हैं जिसमें जी का अर्थ होता है जनरेटर जाने कितने सृष्टि के रचेता की जो है हम ब्रह्मा बिरहा ऑपरेटर जो कि हमारे विष्णु भगवान जी हैं जिन्होंने पूरी सूची का सृजन किया और उनको चलाने मदद करें और डिस्ट्रॉय जो की है महेश जाने की शिवजी जो पृथ्वी का संतुलन बनाने के लिए उन पापों को और दुष्ट चीजों को खत्म करते हैं तो इसलिए उन तीनों के समक्ष इसलिए है क्योंकि यही सृष्टि के मेन जो है एक तरफ हम बोल सकते हैं चलाने वाले तो उसी हिसाब से उनको हम जियो डिजाइन की जनरेटर ऑपरेटर एंड स्क्वायर के रूप में आए थे इसलिए हमारी संस्कृति और हमारा जो है अब जहां मरम्मत भारतीय संस्कृति हम हिंदू सभ्यता में आने वाले की संस्कृति इसलिए मानते हैं क्योंकि हम अपने धर्म को यही मानते हैं कि हमारे जो भी संस्कृति है वह उनके अधीन है क्योंकि वही पूरी सृष्टि को चलाने वाले हैं इसलिए इनको इनके संरक्षण है क्योंकि बनाने वाले भी वही है चलाने वाले भी वही और खत्म करने वाले भी वही हैं आशा करता हूं आपको आपके सवाल का जवाब मिल गया होगा लाइक और सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Namaskaar doston nyooz ne poochha hamaaree sanskrti mein guru ko brahma vishnu aur mahesh ko samaksh kyon maana gaya tujhe hamaare bhaarateey sabhyata jaanee hindoo sabhyata ke anusaar brahma vishnu mahesh is srshti ke bahut aham yogadaan raha unaka tere jaise ham god bolate hain jisamen jee ka arth hota hai janaretar jaane kitane srshti ke racheta kee jo hai ham brahma biraha oparetar jo ki hamaare vishnu bhagavaan jee hain jinhonne pooree soochee ka srjan kiya aur unako chalaane madad karen aur distroy jo kee hai mahesh jaane kee shivajee jo prthvee ka santulan banaane ke lie un paapon ko aur dusht cheejon ko khatm karate hain to isalie un teenon ke samaksh isalie hai kyonki yahee srshti ke men jo hai ek taraph ham bol sakate hain chalaane vaale to usee hisaab se unako ham jiyo dijain kee janaretar oparetar end skvaayar ke roop mein aae the isalie hamaaree sanskrti aur hamaara jo hai ab jahaan marammat bhaarateey sanskrti ham hindoo sabhyata mein aane vaale kee sanskrti isalie maanate hain kyonki ham apane dharm ko yahee maanate hain ki hamaare jo bhee sanskrti hai vah unake adheen hai kyonki vahee pooree srshti ko chalaane vaale hain isalie inako inake sanrakshan hai kyonki banaane vaale bhee vahee hai chalaane vaale bhee vahee aur khatm karane vaale bhee vahee hain aasha karata hoon aapako aapake savaal ka javaab mil gaya hoga laik aur sabsakraib karen dhanyavaad

srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
0:44

Anand Patel Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Anand जी का जवाब
Mathematics Teacher
0:29
सवाल हमारी संस्कृति में गुरु को ब्रह्मा विष्णु और महेश के सामान्य माना जाए तो देखी ब्रह्मा विष्णु महेश यह तीन देव हैं वही हमारे जीवन में रक्षा करते हैं और गुरु को उनके समक्ष इसलिए माना जाए गुरु ही हमें जीवन में सच्ची राह दिखाता है जीवन जीने की प्रेरणा देता है और हमें सिखाता है कि किस प्रकार देना है इसलिए ब्रह्मा विष्णु महेश के समक्ष मना किया है
Savaal hamaaree sanskrti mein guru ko brahma vishnu aur mahesh ke saamaany maana jae to dekhee brahma vishnu mahesh yah teen dev hain vahee hamaare jeevan mein raksha karate hain aur guru ko unake samaksh isalie maana jae guru hee hamen jeevan mein sachchee raah dikhaata hai jeevan jeene kee prerana deta hai aur hamen sikhaata hai ki kis prakaar dena hai isalie brahma vishnu mahesh ke samaksh mana kiya hai

Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
1:00
हमारी संस्कृति में गुरु ब्रह्मा विष्णु महेश के समक्ष या समकक्ष इसलिए माना जाता है क्योंकि ऐसा होता है जो हमें सिखाता है कि ब्रह्मा को नाम विष्णु महेश्वर क्या है या नबी ज्ञान देते हैं वह बताते हैं कि इस अस्वस्थ क्या है कैसे रची गई कौन भगवान है क्योंकि गुरु के बिना तो हम अधूरे थे या नहीं आज तो बहुत सारे साधन होगी नहीं तो नहीं आ जाते थे तो ज्ञान था उन्होंने पुस्तकें पढ़ी थी या उन्होंने अपने पास चुन-चुन के ज्ञान प्राप्त कर रखा था वही बताते थे श्रेष्ठ होगा जिसके बारे में जानकारी दें
Hamaaree sanskrti mein guru brahma vishnu mahesh ke samaksh ya samakaksh isalie maana jaata hai kyonki aisa hota hai jo hamen sikhaata hai ki brahma ko naam vishnu maheshvar kya hai ya nabee gyaan dete hain vah bataate hain ki is asvasth kya hai kaise rachee gaee kaun bhagavaan hai kyonki guru ke bina to ham adhoore the ya nahin aaj to bahut saare saadhan hogee nahin to nahin aa jaate the to gyaan tha unhonne pustaken padhee thee ya unhonne apane paas chun-chun ke gyaan praapt kar rakha tha vahee bataate the shreshth hoga jisake baare mein jaanakaaree den

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:44
संस्कृति में धर्म के समक्ष क्यों माना गया है दोस्तों हमारी संस्कृति में गुरु को ब्रह्मा विष्णु महेश के समक्ष इसलिए माना गया है कि जिस तरीके से इस सृष्टि की रचना ब्रह्मा विष्णु महेश में की कोशिश तरीके से एक जो गुरु होता है वह अपने शिष्यों का चुनाव करके उनको इस समाज के अंदर एक अच्छा इंसान बनाने का काम है और गुरु ने मानव को अच्छी शिक्षा दी है उसको बताया कि तुम मानो और तुम्हारी यह करम है इसी वजह से हमारी संस्कृति में गुरु को ब्रह्मा विष्णु महेश के समक्ष माना गया है धन्यवाद
Sanskrti mein dharm ke samaksh kyon maana gaya hai doston hamaaree sanskrti mein guru ko brahma vishnu mahesh ke samaksh isalie maana gaya hai ki jis tareeke se is srshti kee rachana brahma vishnu mahesh mein kee koshish tareeke se ek jo guru hota hai vah apane shishyon ka chunaav karake unako is samaaj ke andar ek achchha insaan banaane ka kaam hai aur guru ne maanav ko achchhee shiksha dee hai usako bataaya ki tum maano aur tumhaaree yah karam hai isee vajah se hamaaree sanskrti mein guru ko brahma vishnu mahesh ke samaksh maana gaya hai dhanyavaad

RAM NIWASH AWASTHI Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए RAM जी का जवाब
विद्यार्थी
1:01
हमारी संस्कृति में गुरु को ब्रह्मा विष्णु और महेश के समान क्यों माना गया है गुरुर ब्रह्मा गुरुर विष्णु गुरुर देवो महेश्वरा गुरु साक्षात परब्रह्मा तस्मै श्री गुरुवे नमः हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार गुरु को ब्रह्मा विष्णु महेश के समान माना गया है इस कामयाबी कारण हो सकता है कि गुरु से जी के उज्जवल भविष्य की रचना करता है ब्रह्मा के समान माना गया है गुरु शिष्य को संपूर्ण दुर्गुणों और दुर्व्यवहार से बचाता है और अच्छा करता है इसीलिए विष्णु तूने माना गया है गुरु से सीख के थोड़ी कठोरता से पेश आते हैं हुए सभी दोस्तों का संघार करता है इसलिए वह महेश्वर के समान माना गया है इसलिए गुरु को ब्रह्मा विष्णु और महेश के समान माना जाता है धन्यवाद
Hamaaree sanskrti mein guru ko brahma vishnu aur mahesh ke samaan kyon maana gaya hai gurur brahma gurur vishnu gurur devo maheshvara guru saakshaat parabrahma tasmai shree guruve namah hindoo dharm granthon ke anusaar guru ko brahma vishnu mahesh ke samaan maana gaya hai is kaamayaabee kaaran ho sakata hai ki guru se jee ke ujjaval bhavishy kee rachana karata hai brahma ke samaan maana gaya hai guru shishy ko sampoorn durgunon aur durvyavahaar se bachaata hai aur achchha karata hai iseelie vishnu toone maana gaya hai guru se seekh ke thodee kathorata se pesh aate hain hue sabhee doston ka sanghaar karata hai isalie vah maheshvar ke samaan maana gaya hai isalie guru ko brahma vishnu aur mahesh ke samaan maana jaata hai dhanyavaad

Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
2:51
सवाल ये है कि हमारी संस्कृति में गुरु को जब मैं इंद्र के समक्ष क्यों माना गया है हमारी संस्कृति में गुरु को ब्रह्मा विष्णु तथा महेश से भी अधिक महत्व दिया गया है परंतु गुरु अपने को ऐसा नहीं मानता है कि वह शादीशुदा में अति विशिष्ट रहता है क्योंकि स्वयं को सर्वोच्च मान्य पर गुरुश्याम अहंकार द्वारा पतन की ओर उन्मुख होता है आबरू तरकारी शिशु को अध्यात्मा की ओर प्रेरित करना है दूसरे अर्थों में गैसों का हेतु गुरु केवल व्यक्ति नहीं बल्कि एक महत्व है और वह तत्व किसी व्यवस्था या रूप में हो सकता है जब हमारी भाषा में हम कह सकते हैं कि गुरु तब तक है जब तक उसमें कोई अलौकिक सूचित कर लो वरना जुड़ा है गुरु शिष्य को उंगली पकड़कर नहीं करता बल्कि उसकी मां को प्रकाशित करता है शिष्य को स्वयं इस मार्ग पर चलना होता है सारे संसार में गुरु तत्व व्याप्त है वह प्रत्येक व्यक्ति के लिए प्रत्येक प्रत्येक देश में प्राप्त होता है अवश्य ही को ही फौजी होना चाहिए कि अंतः करण में या गलत विद्यमान होनी चाहिए क्योंकि गुरु मेरे गरुड़ जी पक्षियों के राजा हैं किंतु उन्होंने तत्काल फूल चिड़ी जी को अपना गुरु बनाया बताइए यह भी कहते हैं कि बिना गुरु के संसार रूपी सागर से उद्धार संभव नहीं चाहे वे ब्रह्मामू अथवा शंकर ही क्यों ना हो श्री राम और कृष्ण श्री कृष्ण धरती पर आते हैं तब वह भी गुरु का वर्णन करते हैं श्री राम गुरु वशिष्ट जी और विश्वामित्र पर पता भगवान श्रीकृष्ण महर्षि सांदीपनि को अपना गुरु बनाते हैं वास्तव में जिस सिस्टम समक्ष जाकर हमारे हृदय में आस्था विश्वास तथा प्रेम का उदय हो जाए बनी वस्तु थे वही हमारा ग्रुप गुरु है एक विदेशी विद्वान पाल पाल 1 टन में भारत और अन्य महान विद्वानों तथा महापुरुष संपर्क किया जिनमें कई योगियों के चमत्कार ही उन्होंने देखें किंतु में अधिक प्रभावित हुए महर्षि रमण से क्योंकि उन्होंने चमत्कार को भी आदेश अध्यात्म का आधार नहीं माना था वर्ष के समाचारों की अपेक्षा अपने ज्ञान से चिपक आध्यात्मिक लाभ मार्ग प्रकाशित करता है स्वामी विवेकानंद ने स्वामी रामकृष्ण देव को पूर्ण रूप से स्वीकार किया पुराणों के अनुसार राज ऋषि जनक जी ने अनेक महापुरुषों का सानिध्य प्राप्त किया लेकिन उन्हें अपना गुरु ना बनाकर अष्टावक्र जी को गुरु के रूप में स्वीकार किया मान्यता है कि अष्टावक्र जी का शरीर आज जगह शीशे का था गुरुत्व को व्यक्ति ही ज्ञान में समाहित है उसे बाबा ऐश्वर्या पर फाउंडेशन नहीं रहा था
Savaal ye hai ki hamaaree sanskrti mein guru ko jab main indr ke samaksh kyon maana gaya hai hamaaree sanskrti mein guru ko brahma vishnu tatha mahesh se bhee adhik mahatv diya gaya hai parantu guru apane ko aisa nahin maanata hai ki vah shaadeeshuda mein ati vishisht rahata hai kyonki svayan ko sarvochch maany par gurushyaam ahankaar dvaara patan kee or unmukh hota hai aabaroo tarakaaree shishu ko adhyaatma kee or prerit karana hai doosare arthon mein gaison ka hetu guru keval vyakti nahin balki ek mahatv hai aur vah tatv kisee vyavastha ya roop mein ho sakata hai jab hamaaree bhaasha mein ham kah sakate hain ki guru tab tak hai jab tak usamen koee alaukik soochit kar lo varana juda hai guru shishy ko ungalee pakadakar nahin karata balki usakee maan ko prakaashit karata hai shishy ko svayan is maarg par chalana hota hai saare sansaar mein guru tatv vyaapt hai vah pratyek vyakti ke lie pratyek pratyek desh mein praapt hota hai avashy hee ko hee phaujee hona chaahie ki antah karan mein ya galat vidyamaan honee chaahie kyonki guru mere garud jee pakshiyon ke raaja hain kintu unhonne tatkaal phool chidee jee ko apana guru banaaya bataie yah bhee kahate hain ki bina guru ke sansaar roopee saagar se uddhaar sambhav nahin chaahe ve brahmaamoo athava shankar hee kyon na ho shree raam aur krshn shree krshn dharatee par aate hain tab vah bhee guru ka varnan karate hain shree raam guru vashisht jee aur vishvaamitr par pata bhagavaan shreekrshn maharshi saandeepani ko apana guru banaate hain vaastav mein jis sistam samaksh jaakar hamaare hrday mein aastha vishvaas tatha prem ka uday ho jae banee vastu the vahee hamaara grup guru hai ek videshee vidvaan paal paal 1 tan mein bhaarat aur any mahaan vidvaanon tatha mahaapurush sampark kiya jinamen kaee yogiyon ke chamatkaar hee unhonne dekhen kintu mein adhik prabhaavit hue maharshi raman se kyonki unhonne chamatkaar ko bhee aadesh adhyaatm ka aadhaar nahin maana tha varsh ke samaachaaron kee apeksha apane gyaan se chipak aadhyaatmik laabh maarg prakaashit karata hai svaamee vivekaanand ne svaamee raamakrshn dev ko poorn roop se sveekaar kiya puraanon ke anusaar raaj rshi janak jee ne anek mahaapurushon ka saanidhy praapt kiya lekin unhen apana guru na banaakar ashtaavakr jee ko guru ke roop mein sveekaar kiya maanyata hai ki ashtaavakr jee ka shareer aaj jagah sheeshe ka tha gurutv ko vyakti hee gyaan mein samaahit hai use baaba aishvarya par phaundeshan nahin raha tha

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • हमारी संस्कृति में गुरु को ब्रह्मा विष्णु और महेश के समक्ष क्यों माना गया है गुरु को ब्रह्मा विष्णु और महेश के समक्ष क्यों माना गया है
URL copied to clipboard