#undefined

bolkar speaker

चीन के लोग कीड़े मकोड़े जैसे सांप बिच्छू खाते हैं ऐसा क्यों?

China Ke Log Keede Makode Jaise Saanp Bichu Khate Hain Aisa Kyun
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:44
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका फेस नहीं चीन के लोग कीड़े मकोड़े जैसे सांप बिच्छू चीजें खाते हैं ऐसा क्यों तो फ्रेंड चीन चीन के लोग मांसाहारी हैं वह लोग हर चीज खाते में कुछ भी नहीं छोड़ते सब खा जाते हैं और वे लोग अपनी ऐसी इच्छा के हिसाब से करते हैं ऐसा नहीं कि वहां पर खाने की और अन्य सामान नहीं है सब कुछ खाने के लिए है लेकिन वह लोग यह सब खाना अपने आप को दिखावा समझते हैं और सब चीज खाते हैं और कोरोनावायरस भी चीज नहीं फैलाया है चमगादड़ को खाकर वह लोग चमगादड़ भी खाते थे इसलिए चमगादड़ से कोरोनावायरस भी उन लोगों ने पूरे विश्व में फैला दिया है और यह लोग यह उनकी दुष्टता है जो है सांप बिच्छू ऐसी चीजें खाते हैं और इसका परिणाम पूरी दुनिया को भी भोगना पड़ता है उनके पीछे के बाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka phes nahin cheen ke log keede makode jaise saamp bichchhoo cheejen khaate hain aisa kyon to phrend cheen cheen ke log maansaahaaree hain vah log har cheej khaate mein kuchh bhee nahin chhodate sab kha jaate hain aur ve log apanee aisee ichchha ke hisaab se karate hain aisa nahin ki vahaan par khaane kee aur any saamaan nahin hai sab kuchh khaane ke lie hai lekin vah log yah sab khaana apane aap ko dikhaava samajhate hain aur sab cheej khaate hain aur koronaavaayaras bhee cheej nahin phailaaya hai chamagaadad ko khaakar vah log chamagaadad bhee khaate the isalie chamagaadad se koronaavaayaras bhee un logon ne poore vishv mein phaila diya hai aur yah log yah unakee dushtata hai jo hai saamp bichchhoo aisee cheejen khaate hain aur isaka parinaam pooree duniya ko bhee bhogana padata hai unake peechhe ke baad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
चीन के लोग कीड़े मकोड़े जैसे सांप बिच्छू खाते हैं ऐसा क्यों?China Ke Log Keede Makode Jaise Saanp Bichu Khate Hain Aisa Kyun
srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
0:31

bolkar speaker
चीन के लोग कीड़े मकोड़े जैसे सांप बिच्छू खाते हैं ऐसा क्यों?China Ke Log Keede Makode Jaise Saanp Bichu Khate Hain Aisa Kyun
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:33
आकाशवाणी की चीन के लोग कीड़े मकोड़े सांप बिच्छू और चीजें खाते हैं ऐसा क्यों तो चीन में बहुत ज्यादा जनसंख्या होने के कारण पर्याप्त खाद्य पदार्थ नहीं मिल पाने के कारण लकीरे में पड़ी जिससे चीजों को खाते हैं और दूसरा बात है दूसरी बात यह है कि चीन में कुछ जानवरों को उनके स्वर की नजर से भी खराब पास जाता है पहचान और का इस्तेमाल पारंपरिक दवाओं में भी किया जाता है
Aakaashavaanee kee cheen ke log keede makode saamp bichchhoo aur cheejen khaate hain aisa kyon to cheen mein bahut jyaada janasankhya hone ke kaaran paryaapt khaady padaarth nahin mil paane ke kaaran lakeere mein padee jisase cheejon ko khaate hain aur doosara baat hai doosaree baat yah hai ki cheen mein kuchh jaanavaron ko unake svar kee najar se bhee kharaab paas jaata hai pahachaan aur ka istemaal paaramparik davaon mein bhee kiya jaata hai

bolkar speaker
चीन के लोग कीड़े मकोड़े जैसे सांप बिच्छू खाते हैं ऐसा क्यों?China Ke Log Keede Makode Jaise Saanp Bichu Khate Hain Aisa Kyun
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:00
तो आज आप का सवाल है कि चीन के लोग कीड़े मकोड़े जैसे सांप बिच्छू कैसे खाते हैं ऐसा क्यों बनाते या फिर जो भी चिकन खाते हैं जितना उसमें न्यूट्रिएंट्स होना चाहिए उतना उन्हें मतलब चाहिए कोई भी चीज सब्जी या फिर कुछ बनाते हैं तो शौक तो वह चीज होता है साथ ही साथ बहुत सारे न्यूटन सबसे होता ना कि पकाने से कम हो जाता है तो उन लोगों का कहना है कि नहीं यह सब कीड़े मकोड़े जो भी बिच्छू इस समय बहुत ज्यादा नहीं छोड़ सकता है लेकिन हम तो नहीं खा सकते टेस्ट भी होता है जब आने का भी स्टाइल होता है आपका और खा सकते नहीं कैसा है नहीं है यह सोच आपका मन नहीं जा तारु नहीं करता लेकिन उन लोगों का मानना रोमन कुछ नहीं होता उनको न्यूज़ चैनल चाहिए और वह ऐसे ही मतलब इतना भी पकाते नहीं है ताकि उनका मानना होता है कि ज्यादा पकाने से नहीं तो खत्म हो जाएगा कम हो जाता है तो ऐसे ही हर एक चीज को
To aaj aap ka savaal hai ki cheen ke log keede makode jaise saamp bichchhoo kaise khaate hain aisa kyon banaate ya phir jo bhee chikan khaate hain jitana usamen nyootrients hona chaahie utana unhen matalab chaahie koee bhee cheej sabjee ya phir kuchh banaate hain to shauk to vah cheej hota hai saath hee saath bahut saare nyootan sabase hota na ki pakaane se kam ho jaata hai to un logon ka kahana hai ki nahin yah sab keede makode jo bhee bichchhoo is samay bahut jyaada nahin chhod sakata hai lekin ham to nahin kha sakate test bhee hota hai jab aane ka bhee stail hota hai aapaka aur kha sakate nahin kaisa hai nahin hai yah soch aapaka man nahin ja taaru nahin karata lekin un logon ka maanana roman kuchh nahin hota unako nyooz chainal chaahie aur vah aise hee matalab itana bhee pakaate nahin hai taaki unaka maanana hota hai ki jyaada pakaane se nahin to khatm ho jaega kam ho jaata hai to aise hee har ek cheej ko

bolkar speaker
चीन के लोग कीड़े मकोड़े जैसे सांप बिच्छू खाते हैं ऐसा क्यों?China Ke Log Keede Makode Jaise Saanp Bichu Khate Hain Aisa Kyun
Md Mahmud Alam Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Md जी का जवाब
स्टूडेंट विद्यार्थी
0:43
आज का सवाल आज चीन के लोग कीड़े मकोड़े जैसे सांप बिच्छू चीजें खाते हैं ऐसा क्यों दिखाते हैं क्योंकि आज इंडिया के जो कल्चर है मीट मछली तो इंडिया के लोग अपने हिसाब से अपना अपना खाते हैं कि नहीं उसी ने नहीं बल्कि इंसान की फितरत होता जो चीज खाने का मन है तो वह खा सकता है इंसान पर डिपेंड करता है जो इंसान को अच्छा लगता है तो इसलिए क्योंकि वहां के रहने वाला का नेतृत्व आजकल चालू हुआ या वैसे ही है इसलिए वहां के लोग यह सब खाते हैं धन्यवाद
Aaj ka savaal aaj cheen ke log keede makode jaise saamp bichchhoo cheejen khaate hain aisa kyon dikhaate hain kyonki aaj indiya ke jo kalchar hai meet machhalee to indiya ke log apane hisaab se apana apana khaate hain ki nahin usee ne nahin balki insaan kee phitarat hota jo cheej khaane ka man hai to vah kha sakata hai insaan par dipend karata hai jo insaan ko achchha lagata hai to isalie kyonki vahaan ke rahane vaala ka netrtv aajakal chaaloo hua ya vaise hee hai isalie vahaan ke log yah sab khaate hain dhanyavaad

bolkar speaker
चीन के लोग कीड़े मकोड़े जैसे सांप बिच्छू खाते हैं ऐसा क्यों?China Ke Log Keede Makode Jaise Saanp Bichu Khate Hain Aisa Kyun
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:57
अनिल लोगों को लेकर के कि वह लोग कीड़े मकोड़े जैसे सांप बिच्छू चीजें खाते हैं ऐसा क्यों लेकिन कारण यह है कि चाइनीस लोगों ने जो आपको उनके अनुकूल जो है वह बना लिया है और दूसरी बात है कि वहां पर जो गवर्नमेंट है इन चीजों को खाने की मान्यता देती है और क्योंकि यदि आप कोई भी चीज खाते हैं आपको का स्वाद लगता है तो आप उस चीज को खाना पसंद करेंगे ठीक है जी तरीके से मकोड़े उसको चमगादड़ हो इन सब को जो है चाइनीस लोग खाते हैं क्योंकि इन्होंने अपने दोस्त सभ्यता और जो है इनकी खान-पान को लेकर कि उनके अकॉर्डिंग जो है चाहिए लोग खाते हैं जैसा कि हम जानते हैं कि हमारे बाप दादा ने जो हमें सिखा है वह मां अपने बेटे पोते को भी झुकाएंगे यही कारण है कि उन्होंने अपने बाप दादा से चीजें सीखी है और अकॉर्डिंग जो है यह जनरेशन ऐसी चीज का नुकसान कर रही है और दूसरी बात यह है कि बाकी गवर्नमेंट में जो है इस चीज को मान्यता दे रखा है कोई पाबंदी नहीं है खाने पर
Anil logon ko lekar ke ki vah log keede makode jaise saamp bichchhoo cheejen khaate hain aisa kyon lekin kaaran yah hai ki chainees logon ne jo aapako unake anukool jo hai vah bana liya hai aur doosaree baat hai ki vahaan par jo gavarnament hai in cheejon ko khaane kee maanyata detee hai aur kyonki yadi aap koee bhee cheej khaate hain aapako ka svaad lagata hai to aap us cheej ko khaana pasand karenge theek hai jee tareeke se makode usako chamagaadad ho in sab ko jo hai chainees log khaate hain kyonki inhonne apane dost sabhyata aur jo hai inakee khaan-paan ko lekar ki unake akording jo hai chaahie log khaate hain jaisa ki ham jaanate hain ki hamaare baap daada ne jo hamen sikha hai vah maan apane bete pote ko bhee jhukaenge yahee kaaran hai ki unhonne apane baap daada se cheejen seekhee hai aur akording jo hai yah janareshan aisee cheej ka nukasaan kar rahee hai aur doosaree baat yah hai ki baakee gavarnament mein jo hai is cheej ko maanyata de rakha hai koee paabandee nahin hai khaane par

bolkar speaker
चीन के लोग कीड़े मकोड़े जैसे सांप बिच्छू खाते हैं ऐसा क्यों?China Ke Log Keede Makode Jaise Saanp Bichu Khate Hain Aisa Kyun
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
2:53
सवाल यह है कि चीन के लोग मेरे मकोड़े वजह से संबंधित चीजें क्यों खाते हैं सचिव हैं इसका इतिहास बहुत ही अतरंगी है उसका तो 1958 में चीन के सुप्रीम लीडर माओ जे़डोंग ने फरमान जारी किया कि देश में सारे बढ़िया चिड़िया मार दी जाए इस अभियान को मैसेज करो काम पर नहीं हो रही है मारो अभियान से भी जाना जाना जाना जाने लगा यह काम साफ सफाई अभियान के तहत शुरू किया जिसमें कुल मिलाकर 4G वीवो चूहे मक्खी मच्छर और गौरैया को मारने का टारगेट रखा गया सरकार मानती थी कि इन चारों के कारण ही गंदगी फैलती है भाइयों को मारने की दूसरी बड़ी वजह भी बताई गई है तो मैं बहुत सारा अनाज खा जाती है जिसके कारण उपज का उत्पादन कम हो गया है मां को अपने भाषण में गोराया को एक लड़की होने वाली है ना कौन सी बात का प्रतीक बताया करते थे और उनके मुताबिक चीन के आर्थिक विकास में पर है या चिड़िया सबसे बड़ी रुकावट है इसलिए उसे मार देना चाहिए इस अभियान के बाद लाखोचक भैया मार दी गई जिसमें पुरुष की स्त्रियां और बच्चे तक वरिया को मार दिया करते थे नतीजा यह हुआ कि गौरैया विलुप्त हो गई जैसे बहुत परेशानियां भी शुरू हुई फसल चक्र में गौरैया चिड़िया की बहुत बड़ी भूमिका होती है वह पौधों के परागण से लेकर बीच फैलाने तक के काम करती है गौरैया खत्म होने से स्टेडियो जैसे कीड़ों की संख्या आधा अचानक बहुत बढ़ गई पूरी खेत को सेट कर डालते थे पहले से गरीबी चल रहे चीन में भुखमरी के हालात पैदा हो गए खुद चीन के सरकारी आंकड़ों के मुताबिक इस काल में डेढ़ करोड़ लोगों की जान गई हालांकि माना जाता है कि वास्तव में यह संख्या चार साडे चार करोड़ काल में मरने वाले मरने लगे तो 3 की वामपंथी सरकार ने गांव-गांव में मुनादी करानी शुरू कर दी कि लोग मांसाहार करें लेकिन हालत यह थी कि जानवर पहले से ही मर चुके थे कुल मिलाकर चूहे चमगादड़ कीड़े मकोड़े कॉकरोच ही बचे थे नतीजा यह हुआ कि लोगों ने इन्हीं को खाना शुरु कर दी कहते हैं कि कई लोग भूख से मरने वालों का मांस भी खाया करते थे ताकि जिंदा रह सके क्योंकि हजारों लोगों को जिंदा मारकर खाने की घटनाएं भी हुई थी कि करोड़ों लोगों के की मौत के बाद चीन को सुप्रीम लीडर माओ जे़डोंग में आवारा या मारने का अपने हुक्म को वापस लिया हालांकि उनके उन्हें उन्होंने अपनी गलती नहीं मानी बल्कि यह कहा कि गोरिया को माफी दी जा रही है और अब उनकी जगह खटमल को मारा जाएगा इसे कुछ साल बाद चीन में हालत बेहतर हुए लेकिन खानपान की आदतें बनी रही तब से अब तक चीन में तुम्हें चमगादड़ कुत्ते कीड़े पर यहां तक कि चीटियां खाने में भी इस्तेमाल होती है यही कारण है कि जानवरों से इंसानों में वायरस के संक्रमण के से ज्यादातर मामले चीन से ही शुरू होते हैं और आज इनकी पहचान दुनिया के सबसे बड़े वायरस सप्लायर इन देश के पार्सल बन चुकी है
Savaal yah hai ki cheen ke log mere makode vajah se sambandhit cheejen kyon khaate hain sachiv hain isaka itihaas bahut hee atarangee hai usaka to 1958 mein cheen ke supreem leedar mao jedong ne pharamaan jaaree kiya ki desh mein saare badhiya chidiya maar dee jae is abhiyaan ko maisej karo kaam par nahin ho rahee hai maaro abhiyaan se bhee jaana jaana jaana jaane laga yah kaam saaph saphaee abhiyaan ke tahat shuroo kiya jisamen kul milaakar 4g veevo choohe makkhee machchhar aur gauraiya ko maarane ka taaraget rakha gaya sarakaar maanatee thee ki in chaaron ke kaaran hee gandagee phailatee hai bhaiyon ko maarane kee doosaree badee vajah bhee bataee gaee hai to main bahut saara anaaj kha jaatee hai jisake kaaran upaj ka utpaadan kam ho gaya hai maan ko apane bhaashan mein goraaya ko ek ladakee hone vaalee hai na kaun see baat ka prateek bataaya karate the aur unake mutaabik cheen ke aarthik vikaas mein par hai ya chidiya sabase badee rukaavat hai isalie use maar dena chaahie is abhiyaan ke baad laakhochak bhaiya maar dee gaee jisamen purush kee striyaan aur bachche tak variya ko maar diya karate the nateeja yah hua ki gauraiya vilupt ho gaee jaise bahut pareshaaniyaan bhee shuroo huee phasal chakr mein gauraiya chidiya kee bahut badee bhoomika hotee hai vah paudhon ke paraagan se lekar beech phailaane tak ke kaam karatee hai gauraiya khatm hone se stediyo jaise keedon kee sankhya aadha achaanak bahut badh gaee pooree khet ko set kar daalate the pahale se gareebee chal rahe cheen mein bhukhamaree ke haalaat paida ho gae khud cheen ke sarakaaree aankadon ke mutaabik is kaal mein dedh karod logon kee jaan gaee haalaanki maana jaata hai ki vaastav mein yah sankhya chaar saade chaar karod kaal mein marane vaale marane lage to 3 kee vaamapanthee sarakaar ne gaanv-gaanv mein munaadee karaanee shuroo kar dee ki log maansaahaar karen lekin haalat yah thee ki jaanavar pahale se hee mar chuke the kul milaakar choohe chamagaadad keede makode kokaroch hee bache the nateeja yah hua ki logon ne inheen ko khaana shuru kar dee kahate hain ki kaee log bhookh se marane vaalon ka maans bhee khaaya karate the taaki jinda rah sake kyonki hajaaron logon ko jinda maarakar khaane kee ghatanaen bhee huee thee ki karodon logon ke kee maut ke baad cheen ko supreem leedar mao jedong mein aavaara ya maarane ka apane hukm ko vaapas liya haalaanki unake unhen unhonne apanee galatee nahin maanee balki yah kaha ki goriya ko maaphee dee ja rahee hai aur ab unakee jagah khatamal ko maara jaega ise kuchh saal baad cheen mein haalat behatar hue lekin khaanapaan kee aadaten banee rahee tab se ab tak cheen mein tumhen chamagaadad kutte keede par yahaan tak ki cheetiyaan khaane mein bhee istemaal hotee hai yahee kaaran hai ki jaanavaron se insaanon mein vaayaras ke sankraman ke se jyaadaatar maamale cheen se hee shuroo hote hain aur aaj inakee pahachaan duniya ke sabase bade vaayaras saplaayar in desh ke paarsal ban chukee hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • चीन के लोग कीड़े मकोड़े जैसे सांप बिच्छू खाते हैं ऐसा क्यों चीन के लोग कीड़े मकोड़े जैसे सांप बिच्छू क्यों खाते हैं
URL copied to clipboard