#धर्म और ज्योतिषी

vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:32
नमस्कार दोस्तों आपका स्वागत है रविंद्र नाथ टैगोर के किस उपन्यास का प्रमुख पात्र निखिल है जो देश भक्ति से बढ़कर मानवता में विश्वास रखता है तो दोस्तों आपके सवाल को उधर इस प्रकार है रविंद्र नाथ टैगोर के घर बायरे उपन्यास का प्रमुख पात्र निखिल है जो हमें देशभक्ति से बढ़कर मानवता में विश्वास रखने के बारे में बता रहा है धन्यवाद था जो खुश रहो
Namaskaar doston aapaka svaagat hai ravindr naath taigor ke kis upanyaas ka pramukh paatr nikhil hai jo desh bhakti se badhakar maanavata mein vishvaas rakhata hai to doston aapake savaal ko udhar is prakaar hai ravindr naath taigor ke ghar baayare upanyaas ka pramukh paatr nikhil hai jo hamen deshabhakti se badhakar maanavata mein vishvaas rakhane ke baare mein bata raha hai dhanyavaad tha jo khush raho

और जवाब सुनें

Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:41
सवाल है कि रविंद्र नाथ टैगोर के किस उपन्यास का प्रमुख पात्र निखिल है जो देश भक्ति से बढ़कर मानवता में विश्वास रखता है तो उस उपन्यास का नाम है घर बाहर टैगोर का बंगाली उपन्यास घर बाहर भी देशभक्ति की रूमानियत पर आधारित है इस कहानी में नायक निखिल सामाजिक सुधार और महिला सशक्तिकरण के लिए आवाज उठाता है कि राष्ट्रवाद को लेकर थोड़ा नरम पड़ जाता है उसकी प्रेमिका विमला उसके इस रुख से नाराज हो जाती हैं वह चाहती है कि निखिल कि अंग्रेजो के खिलाफ नारे लगाए और अपनी देशभक्ति का परिचय दें इस बीच विमला को निखिल की दो संदीप से प्यार हो जाता है जो बहुत अच्छा भाषण देता है और देशभक्ति पूर्ण योद्धा की तरह नजर आता है विमला के इस फैसले के बावजूद में थी अब विचार नहीं बदलता और कहता है कि मैं देश की सेवा करने के लिए हमेशा तैयार हूं लेकिन मेरी पूजा का हकदार सत्य है जो भी मेरे देश से भी ऊपर है अपने देश को ईश्वर की तरह पूछने का मतलब है उसे अभिशाप देना कहानी में आप आगे संदीप उन लोगों की तारीफ तरफ नाराजगी जताते हैं जो आंदोलन में भाग नहीं ले रहे और उनकी की दुकानों पर हमला करने की योजना बनाता है विमला को संदीप की राष्ट्रवादी भावना और हिंसक गतिविधियों के बीच का धागा समझ आता है निखिल अपनी जान पर खेलकर पीड़ितों को बचाता है और इस तरह विमला को राजनीति के प्रति प्रेम खत्म होता है टैगोर के उपन्यास की कई खेमों में निंदा हुई है लेकिन कुछ विचारों को ने इससे एक चेतावनी बताया है जो पक्षपातपूर्ण रवैया से राष्ट्रवाद को भ्रष्ट होने की तरफ इशारा करता है
Savaal hai ki ravindr naath taigor ke kis upanyaas ka pramukh paatr nikhil hai jo desh bhakti se badhakar maanavata mein vishvaas rakhata hai to us upanyaas ka naam hai ghar baahar taigor ka bangaalee upanyaas ghar baahar bhee deshabhakti kee roomaaniyat par aadhaarit hai is kahaanee mein naayak nikhil saamaajik sudhaar aur mahila sashaktikaran ke lie aavaaj uthaata hai ki raashtravaad ko lekar thoda naram pad jaata hai usakee premika vimala usake is rukh se naaraaj ho jaatee hain vah chaahatee hai ki nikhil ki angrejo ke khilaaph naare lagae aur apanee deshabhakti ka parichay den is beech vimala ko nikhil kee do sandeep se pyaar ho jaata hai jo bahut achchha bhaashan deta hai aur deshabhakti poorn yoddha kee tarah najar aata hai vimala ke is phaisale ke baavajood mein thee ab vichaar nahin badalata aur kahata hai ki main desh kee seva karane ke lie hamesha taiyaar hoon lekin meree pooja ka hakadaar saty hai jo bhee mere desh se bhee oopar hai apane desh ko eeshvar kee tarah poochhane ka matalab hai use abhishaap dena kahaanee mein aap aage sandeep un logon kee taareeph taraph naaraajagee jataate hain jo aandolan mein bhaag nahin le rahe aur unakee kee dukaanon par hamala karane kee yojana banaata hai vimala ko sandeep kee raashtravaadee bhaavana aur hinsak gatividhiyon ke beech ka dhaaga samajh aata hai nikhil apanee jaan par khelakar peediton ko bachaata hai aur is tarah vimala ko raajaneeti ke prati prem khatm hota hai taigor ke upanyaas kee kaee khemon mein ninda huee hai lekin kuchh vichaaron ko ne isase ek chetaavanee bataaya hai jo pakshapaatapoorn ravaiya se raashtravaad ko bhrasht hone kee taraph ishaara karata hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • रविंद्र नाथ टैगोर को किस वर्ष नोबेल पुरस्कार दिया गया..रविंद्र नाथ टैगोरका जन्म कब हुआ था
URL copied to clipboard