#धर्म और ज्योतिषी

Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
1:35
दोस्तों आपका स्वागत भारत में सबसे प्राचीन मंदिरों में से एक मुंडेश्वरी देवी का मंदिर इतिहास में क्या है तो जहां लोग ही देवों के प्रार्थना पूजा का ध्यान करते उसे का बताकर का बताएं यदि हम प्राचीन सभ्यताओं के मंदिर की बात करें तो आपकी मिश्र यरुशलम तुर्की माचू पिचू आदि जगहों में 25 ईसा पूर्व ही प्राचीन मंदिर मिल जाएंगे लेकिन उन कविताओं को नहीं धर्मों के मंदिर की बात करें तो ऐसे हड़प्पा मोहनजोदड़ो में भी मंदिर कहते होंगे मुंडेश्वरी देवी का मंदिर हमारे देश में 1 से 500 साल वर्ष पुराने मंदिर मिल जाएंगे जैसे अजंता एलोरा का कैलाश मंदिर तमिलनाडु के तंजौर का मंदिर तिरुपति तेल में बना विष्णु मंदिर कंबोडिया का अंकोरवाट मंदिर लेकिन सबसे प्राचीन परिवार में रूप में मुंडेश्वरी देवी का मंदिर मांगा था जिसका निर्माण 108 ईसवी में हुआ था मुंडेश्वरी देवी का मंदिर बिहार के कैमूर जिले मैं दुकान पे आ चल के पहाड़ी पर 608 फीट ऊंचाई पर स्थित है इसकी स्थापना 108 ईसवी में हुई तक के शासनकाल में हुई थी यहां की और पार्वती की पूजा होती है और प्रमाणों के आधार पर इस देश में सबसे प्राचीन मंदिर माना जाता है कहा जाता है कि संदीप ने 26 सालों से लगातार हो रही हैं और यह इस मंदिर की 635 विविध मां को खोने का उल्लेख मिलता है कुछ के अनुसार मंत्रियों को प्राप्त विवरण के अनुसार उद्देश्य हंस के शासनकाल का इसका निर्माण माता नी वार्ता
Doston aapaka svaagat bhaarat mein sabase praacheen mandiron mein se ek mundeshvaree devee ka mandir itihaas mein kya hai to jahaan log hee devon ke praarthana pooja ka dhyaan karate use ka bataakar ka bataen yadi ham praacheen sabhyataon ke mandir kee baat karen to aapakee mishr yarushalam turkee maachoo pichoo aadi jagahon mein 25 eesa poorv hee praacheen mandir mil jaenge lekin un kavitaon ko nahin dharmon ke mandir kee baat karen to aise hadappa mohanajodado mein bhee mandir kahate honge mundeshvaree devee ka mandir hamaare desh mein 1 se 500 saal varsh puraane mandir mil jaenge jaise ajanta elora ka kailaash mandir tamilanaadu ke tanjaur ka mandir tirupati tel mein bana vishnu mandir kambodiya ka ankoravaat mandir lekin sabase praacheen parivaar mein roop mein mundeshvaree devee ka mandir maanga tha jisaka nirmaan 108 eesavee mein hua tha mundeshvaree devee ka mandir bihaar ke kaimoor jile main dukaan pe aa chal ke pahaadee par 608 pheet oonchaee par sthit hai isakee sthaapana 108 eesavee mein huee tak ke shaasanakaal mein huee thee yahaan kee aur paarvatee kee pooja hotee hai aur pramaanon ke aadhaar par is desh mein sabase praacheen mandir maana jaata hai kaha jaata hai ki sandeep ne 26 saalon se lagaataar ho rahee hain aur yah is mandir kee 635 vividh maan ko khone ka ullekh milata hai kuchh ke anusaar mantriyon ko praapt vivaran ke anusaar uddeshy hans ke shaasanakaal ka isaka nirmaan maata nee vaarta

और जवाब सुनें

Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
3:54
नमस्कार मैं ब्रहम प्रकाश मिश्र प्रताप कबूल करे पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है भारत के सबसे प्राचीन मंदिरों में से एक मुंडेश्वरी देवी के मंदिर का इतिहास क्या है मित्र मुंडेश्वरी देवी का मंदिर बिहार के भभुआ जिला केंद्र से 14 किलोमीटर दक्षिण पश्चिम में कैमूर की पहाड़ियों पर स्थित है साडे 600 फीट की ऊंचाई वाली इस पहाड़ी पर माता मुंडेश्वरी एवं महा मंडलेश्वर महादेव का एक प्राचीन मंदिर है इस मंदिर को भारत के प्राचीन मंदिरों में से एक माना जाता है पर यह कितना प्राचीन है इसका कोई स्पष्ट प्रमाण नहीं है इसके इतने प्रमाण अवश्य मिल रहे हैं इस मंदिर में तेल एवं अनाज का प्रबंध स्थानीय राजा के द्वारा संवत्सर के तीसरे वर्ष के कार्तिक मास यानी वाइस में दिन किया गया था पुलिस का उल्लेख एक शिलालेख में उत्कीर्ण राजा गया में किया गया यानी इस शिलालेख पर कुत्ते आज्ञा के पूर्व में मंदिर था ऐसा पता चलता है वर्तमान में पहाड़ी पर स्थित यह मंदिर भग्नावशेष के रूप में ही है ना लगता है कि किसी ने इस मंदिर को तोड़ा है मूर्तियों के अंग ऐसे टूटे हैं मानो किसी तेज हथियार से उन पर चोट की गई है पंचमुखी महादेव का मंदिर ट्रस्ट स्थिति में है किसी के एक भाग में माता की प्रतिमा को दक्षिण मुखी स्वरूप में खड़ा कर पूजा अर्चना की जाती है माता की 3:30 फीट की काले पत्थर की प्रतिमा है जो भयंकर सब आ रहे हैं इस मंदिर का उल्लेख कनिंघम ने अपनी पुस्तक में किया है इसमें स्पष्ट स्पष्ट रूप से उल्लेख है कि कैमूर में मुंडेश्वरी पहाड़ी है जहां मंदिर रूप में विद्यमान है मंदिर का पता तब चला जब कुछ कर दिए पहाड़ी के ऊपर गए और मंदिर के स्वरूप को देखा यह कुल 20 25 वर्ष पूर्व उक्त बात है अब इसकी इतनी औकात नहीं थी जितनी कि अब है प्रारंभ में पहाड़ी के नीचे निवास करने वाले लोग ही इस मंदिर में दिया जलाते और पूजा अर्चना करते थे वर्तमान में धार्मिक न्यास बोर्ड बिहार द्वारा इस मंदिर को व्यवस्थित किया गया है और पूजा अर्चना की व्यवस्था की गई है नाग पंचमी से पूर्णिमा तक इस पहाड़ी पर एक मेला लगता है जिसमें दूर-दूर से भक्त आते हैं कहते हैं कि चंड मुंड के नाश के लिए जब देवी उद्यत हुई थी तो चंद के विनाश के बाद मुंडे युद्ध करते हुए इस पार्टी में छिप गया था और यहीं पर माता ने उसका वध किया था अतः मुंडेश्वरी माता के नाम से स्थानीय लोगों में जानी जाती है एक आश्चर्य की बात यह है कि यहां भक्तों की मां कामनाओं को पूरा होने के बाद बकरी की बलि चढ़ाई जाती है पर माता उनकी बलि नहीं लेती है बल्कि बलि चढ़ने के समय भक्तों में माता के प्रति आश्चर्यजनक आस्था पनपती है बकरे को माता की पूर्ण मूर्ति के सामने लाया जाता है तो पुजारी अक्षत यानि चावल के दाने को मूर्ति को स्पर्श कराकर बकरे पर देखते हैं बकरा तत्क्षण क्षेत्र और मृतप्राय हो जाता है थोड़ी देर के बाद अक्षत फेंकने की प्रक्रिया फिर होती है तो बकरा उठ खड़ा होता है बड़ी की एक रिया माता के प्रति आस्था को बढ़ाती है तो मित्र इस मंदिर के रास्ते में सिक्के भी मिले हैं और तमिल सिंहली भाषा में पहाड़ी के पत्थरों पर कुछ अक्षर भी जुड़े हुए हैं कहते हैं कि यहां पर श्रीलंका के बीच वक्त आया करते हैं और पाया करते थे बहरहाल मंदिर के गर्भ में अभी कई रहस्य छिपे हुए हैं बहुत कुछ पता नहीं है बस माता की अर्चना होती है तो मित्र यह जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया मुझे सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Namaskaar main braham prakaash mishr prataap kabool kare par haardik svaagat karata hoon aapaka prashn hai bhaarat ke sabase praacheen mandiron mein se ek mundeshvaree devee ke mandir ka itihaas kya hai mitr mundeshvaree devee ka mandir bihaar ke bhabhua jila kendr se 14 kilomeetar dakshin pashchim mein kaimoor kee pahaadiyon par sthit hai saade 600 pheet kee oonchaee vaalee is pahaadee par maata mundeshvaree evan maha mandaleshvar mahaadev ka ek praacheen mandir hai is mandir ko bhaarat ke praacheen mandiron mein se ek maana jaata hai par yah kitana praacheen hai isaka koee spasht pramaan nahin hai isake itane pramaan avashy mil rahe hain is mandir mein tel evan anaaj ka prabandh sthaaneey raaja ke dvaara sanvatsar ke teesare varsh ke kaartik maas yaanee vais mein din kiya gaya tha pulis ka ullekh ek shilaalekh mein utkeern raaja gaya mein kiya gaya yaanee is shilaalekh par kutte aagya ke poorv mein mandir tha aisa pata chalata hai vartamaan mein pahaadee par sthit yah mandir bhagnaavashesh ke roop mein hee hai na lagata hai ki kisee ne is mandir ko toda hai moortiyon ke ang aise toote hain maano kisee tej hathiyaar se un par chot kee gaee hai panchamukhee mahaadev ka mandir trast sthiti mein hai kisee ke ek bhaag mein maata kee pratima ko dakshin mukhee svaroop mein khada kar pooja archana kee jaatee hai maata kee 3:30 pheet kee kaale patthar kee pratima hai jo bhayankar sab aa rahe hain is mandir ka ullekh kaningham ne apanee pustak mein kiya hai isamen spasht spasht roop se ullekh hai ki kaimoor mein mundeshvaree pahaadee hai jahaan mandir roop mein vidyamaan hai mandir ka pata tab chala jab kuchh kar die pahaadee ke oopar gae aur mandir ke svaroop ko dekha yah kul 20 25 varsh poorv ukt baat hai ab isakee itanee aukaat nahin thee jitanee ki ab hai praarambh mein pahaadee ke neeche nivaas karane vaale log hee is mandir mein diya jalaate aur pooja archana karate the vartamaan mein dhaarmik nyaas bord bihaar dvaara is mandir ko vyavasthit kiya gaya hai aur pooja archana kee vyavastha kee gaee hai naag panchamee se poornima tak is pahaadee par ek mela lagata hai jisamen door-door se bhakt aate hain kahate hain ki chand mund ke naash ke lie jab devee udyat huee thee to chand ke vinaash ke baad munde yuddh karate hue is paartee mein chhip gaya tha aur yaheen par maata ne usaka vadh kiya tha atah mundeshvaree maata ke naam se sthaaneey logon mein jaanee jaatee hai ek aashchary kee baat yah hai ki yahaan bhakton kee maan kaamanaon ko poora hone ke baad bakaree kee bali chadhaee jaatee hai par maata unakee bali nahin letee hai balki bali chadhane ke samay bhakton mein maata ke prati aashcharyajanak aastha panapatee hai bakare ko maata kee poorn moorti ke saamane laaya jaata hai to pujaaree akshat yaani chaaval ke daane ko moorti ko sparsh karaakar bakare par dekhate hain bakara tatkshan kshetr aur mrtapraay ho jaata hai thodee der ke baad akshat phenkane kee prakriya phir hotee hai to bakara uth khada hota hai badee kee ek riya maata ke prati aastha ko badhaatee hai to mitr is mandir ke raaste mein sikke bhee mile hain aur tamil sinhalee bhaasha mein pahaadee ke pattharon par kuchh akshar bhee jude hue hain kahate hain ki yahaan par shreelanka ke beech vakt aaya karate hain aur paaya karate the baharahaal mandir ke garbh mein abhee kaee rahasy chhipe hue hain bahut kuchh pata nahin hai bas maata kee archana hotee hai to mitr yah jaanakaaree achchhee lagee ho to krpaya mujhe sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

Sanjay Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sanjay जी का जवाब
𝔖𝔱𝔲𝔡𝔢𝔫𝔱 | 𝔈𝔡𝔲𝔠𝔞𝔱𝔦𝔬𝔫𝔦𝔰𝔱
1:16
हेलो दोस्तों मैं संजय कुमार आपका स्वागत करता हूं भारत के सबसे प्राचीन मंदिरों में से एक मुंडेश्वरी देवी के मंदिर का क्या इतिहास है जो मुंडेश्वरी देवी का मंदिर है यह जो बिहार का कैमूर जिला है वहां पर एक पर्वत है वहां पर कैमूर पर्वती है वहां पर स्थित है तो इसमें एक गुफा थी तो हुआ क्या कि चंडौर मुन्नाम के दौरान थे तो इनका युद्ध जो हुआ है यह दुर्गा जी की जितने अवतार हैं उनमें से एक और तार होता है अवतार को हम माता कहते हैं और इन माता से इनका युद्ध होता है जिसमें संडे को तो पहले ही मार देती है लेकिन मुंडोता है यह इसी पर्वत है इसकी गुफा में को चला जाता है और वहां पर बनता है उसका जो उसकी मुंडी होती है वह काट कर के अलग कर दिया जाता है और उसका वध कर देती है मां तू इस लिंक को मुंडेश्वरी मुंडेश्वरी देवी भी कहा जाता है तब से लेकर के आज तक के यहां पर क्या होता है कि ऐसा माना जाता है कि यहां पर जब भी किसी बकरा आया फ्री की बलि देते हैं लोग और खाली हिंदू धर्म में ही नहीं अन्य धर्मों के लोग भी आते हैं यहां पर बलि देने के लिए तुझे बलि देते हैं तो इससे माता प्रसन्न होती है और जो भी मनोकामनाएं होती है उनको पूरी करती है तो यह इसका इतिहास है धन्यवाद
Helo doston main sanjay kumaar aapaka svaagat karata hoon bhaarat ke sabase praacheen mandiron mein se ek mundeshvaree devee ke mandir ka kya itihaas hai jo mundeshvaree devee ka mandir hai yah jo bihaar ka kaimoor jila hai vahaan par ek parvat hai vahaan par kaimoor parvatee hai vahaan par sthit hai to isamen ek gupha thee to hua kya ki chandaur munnaam ke dauraan the to inaka yuddh jo hua hai yah durga jee kee jitane avataar hain unamen se ek aur taar hota hai avataar ko ham maata kahate hain aur in maata se inaka yuddh hota hai jisamen sande ko to pahale hee maar detee hai lekin mundota hai yah isee parvat hai isakee gupha mein ko chala jaata hai aur vahaan par banata hai usaka jo usakee mundee hotee hai vah kaat kar ke alag kar diya jaata hai aur usaka vadh kar detee hai maan too is link ko mundeshvaree mundeshvaree devee bhee kaha jaata hai tab se lekar ke aaj tak ke yahaan par kya hota hai ki aisa maana jaata hai ki yahaan par jab bhee kisee bakara aaya phree kee bali dete hain log aur khaalee hindoo dharm mein hee nahin any dharmon ke log bhee aate hain yahaan par bali dene ke lie tujhe bali dete hain to isase maata prasann hotee hai aur jo bhee manokaamanaen hotee hai unako pooree karatee hai to yah isaka itihaas hai dhanyavaad

Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:33
सवाल है कि भारत की सबसे प्राचीन मंदिरों में से एक मुंडेश्वरी देवी का मंदिर का इतिहास क्या है मुंडेश्वरी मंदिर बिहार के कैमूर जिले में रामगढ़ गांव में प्रोग्राम पहाड़ी पर स्थित है जिसकी ऊंचाई लगभग 600 फीट की है व 18 सो 12 ईस्वी से लेकर 19004 ईसवी के बीच ब्रिटिश यात्री आर एंड मार्टिन फ्रांसिस बुकानन और ब्लॉक में इस मंदिर का भ्रमण किया था पुरातत्व विधि के अनुसार यहां से प्राप्त शिलालेख 389 ईसवी के बीच का है जो इसकी पुराना को दर्शाता है मुंडेश्वरी भवानी के मंदिर की नक्काशी और मूर्तियां उत्तर उत्तर गुप्तकालीन है यह पत्थर से बना हुआ अष्टकोण मंदिर है इस मंदिर के पूर्वी खंड में देवी मुंडेश्वरी के पत्थर से भव्य व प्राचीन मूर्ति मुख्य आकर्षण का केंद्र है मां बाराही रूप में विराजमान है जिनका वाहन महेश है मंदिर में प्रवेश के चार द्वार हैं जिसने एक को कर दिया गया और एक आरती द्वार है इस मंदिर के मध्य भाग में पंचमुखी शिवलिंग स्थापित है जिस पत्थर से यह पंचमुखी शिवलिंग निर्मित किया गया है उसमें सूर्य की स्थिति के साथ-साथ पत्थर का रंग भी बदलता रहता है मुख्य मंदिर के पश्चिमी में पूर्व विमुख विशाल नंदी की मूर्ति है जो आज भी अक्षम है यहां पशु बलि में बकरा तो चढ़ाया जाता है परंतु उसका वध नहीं किया जाता बल्कि यह स्थापित परंपरा पूरे भारतवर्ष में अनंत्र कहीं नहीं है
Savaal hai ki bhaarat kee sabase praacheen mandiron mein se ek mundeshvaree devee ka mandir ka itihaas kya hai mundeshvaree mandir bihaar ke kaimoor jile mein raamagadh gaanv mein prograam pahaadee par sthit hai jisakee oonchaee lagabhag 600 pheet kee hai va 18 so 12 eesvee se lekar 19004 eesavee ke beech british yaatree aar end maartin phraansis bukaanan aur blok mein is mandir ka bhraman kiya tha puraatatv vidhi ke anusaar yahaan se praapt shilaalekh 389 eesavee ke beech ka hai jo isakee puraana ko darshaata hai mundeshvaree bhavaanee ke mandir kee nakkaashee aur moortiyaan uttar uttar guptakaaleen hai yah patthar se bana hua ashtakon mandir hai is mandir ke poorvee khand mein devee mundeshvaree ke patthar se bhavy va praacheen moorti mukhy aakarshan ka kendr hai maan baaraahee roop mein viraajamaan hai jinaka vaahan mahesh hai mandir mein pravesh ke chaar dvaar hain jisane ek ko kar diya gaya aur ek aaratee dvaar hai is mandir ke madhy bhaag mein panchamukhee shivaling sthaapit hai jis patthar se yah panchamukhee shivaling nirmit kiya gaya hai usamen soory kee sthiti ke saath-saath patthar ka rang bhee badalata rahata hai mukhy mandir ke pashchimee mein poorv vimukh vishaal nandee kee moorti hai jo aaj bhee aksham hai yahaan pashu bali mein bakara to chadhaaya jaata hai parantu usaka vadh nahin kiya jaata balki yah sthaapit parampara poore bhaaratavarsh mein anantr kaheen nahin hai

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:41
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका पुलिस ने भारत के सबसे प्राचीन मंदिरों में से एक मुंडेश्वरी देवी के मंदिर का क्या इतिहास है तो फ्रेंड सीएम मंदिर बिहार में है कैमूर जिले में तो यह कैमूर पर्वत है उसी पर यह मंदिर है तो यहां पर दो राक्षस तेजाब कहा जाता है ऐसा कि जब माता राक्षसों का वध कर रही थी चंडौर मुंडका तो चंद गुंडों ने मार दिया था और मोड़ बचा हुआ था तो वैसे कैमूर पर्वत में जाकर छुप गया था तो माता एवं उसकी मुंडे उसके धड़ से अलग कर दी थी तभी से इस मंदिर का नाम बिशरी मंदिर पड़ गया धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka pulis ne bhaarat ke sabase praacheen mandiron mein se ek mundeshvaree devee ke mandir ka kya itihaas hai to phrend seeem mandir bihaar mein hai kaimoor jile mein to yah kaimoor parvat hai usee par yah mandir hai to yahaan par do raakshas tejaab kaha jaata hai aisa ki jab maata raakshason ka vadh kar rahee thee chandaur mundaka to chand gundon ne maar diya tha aur mod bacha hua tha to vaise kaimoor parvat mein jaakar chhup gaya tha to maata evan usakee munde usake dhad se alag kar dee thee tabhee se is mandir ka naam bisharee mandir pad gaya dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भारत के सबसे प्राचीन मंदिरों में से एक मुंडेश्वरी देवी का मंदिर का इतिहास क्या है मुंडेश्वरी देवी का मंदिर का इतिहास क्या है
URL copied to clipboard