#भारत की राजनीति

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:48
नहीं यदि आंदोलन किसानों का है तो फिर लाल किले पर तिरंगे की जगह खालसा का झंडा क्यों फहराया गया दिखे अपमानजनक है और देश के प्रति कहा जाए कि गलत हुआ और कहा जाए कि देशद्रोही मत अब आप जिस शाम को आप नीचे करके दूसरी अब लगा रहे थे बिल्कुल गलत है और हमारा देश का राष्ट्रीय झंडा है वह हमारा तिरंगा है तो अगर किसान आंदोलन ए कहता है और राकेश टिकैत जी उसके नेता ही कहते हैं कि कुछ लोगों के गलत बिहेवियर से और कुछ लोग की अराजकता तरीके से हमारे आंदोलन में घुसकर इस तरह की जो खराब किया हमारे रैली को गलत किया तो उन लोगों की देन है हमारी तरफ से कुछ भी ऐसा नहीं था और हमने पहले से भी जताया था कि हमारे किसान सफलता पूर्व और जो भी करेंगे कोई नियम कानून और एक दायरे में रहकर करेंगे लेकिन कुछ लोग जो बाहर से घुस आए थे और इस आंदोलन को उग्र रूप देकर दिए और जिसका एक कारण हुआ कि कुछ लोगों के उकसाने की वजह से इस तिरंगे की शान को खालसा झंडे की के रूप में वहां पर फहराया गया जो एकदम पूरा गलत है और देशद्रोही के रूप में जाना जाता है कि गलत है और राकेश टिकैत जी भी कह चुके हैं लेकिन जहां तक मेरा सवाल है कि यदि आप कोई भी आंदोलन कर रहे हैं तो अपने राष्ट्रीय झंडे के साथ करिए और मर्यादा में रहते हुए करिए क्योंकि मरवा मर्यादा में रहकर ही आप कुछ हासिल कर सकते हैं और अपने आप को प्रत्यक्ष रूप से अगर सही दिखाना चाहते हैं तो दिखा सकते हैं
Nahin yadi aandolan kisaanon ka hai to phir laal kile par tirange kee jagah khaalasa ka jhanda kyon phaharaaya gaya dikhe apamaanajanak hai aur desh ke prati kaha jae ki galat hua aur kaha jae ki deshadrohee mat ab aap jis shaam ko aap neeche karake doosaree ab laga rahe the bilkul galat hai aur hamaara desh ka raashtreey jhanda hai vah hamaara tiranga hai to agar kisaan aandolan e kahata hai aur raakesh tikait jee usake neta hee kahate hain ki kuchh logon ke galat biheviyar se aur kuchh log kee araajakata tareeke se hamaare aandolan mein ghusakar is tarah kee jo kharaab kiya hamaare railee ko galat kiya to un logon kee den hai hamaaree taraph se kuchh bhee aisa nahin tha aur hamane pahale se bhee jataaya tha ki hamaare kisaan saphalata poorv aur jo bhee karenge koee niyam kaanoon aur ek daayare mein rahakar karenge lekin kuchh log jo baahar se ghus aae the aur is aandolan ko ugr roop dekar die aur jisaka ek kaaran hua ki kuchh logon ke ukasaane kee vajah se is tirange kee shaan ko khaalasa jhande kee ke roop mein vahaan par phaharaaya gaya jo ekadam poora galat hai aur deshadrohee ke roop mein jaana jaata hai ki galat hai aur raakesh tikait jee bhee kah chuke hain lekin jahaan tak mera savaal hai ki yadi aap koee bhee aandolan kar rahe hain to apane raashtreey jhande ke saath karie aur maryaada mein rahate hue karie kyonki marava maryaada mein rahakar hee aap kuchh haasil kar sakate hain aur apane aap ko pratyaksh roop se agar sahee dikhaana chaahate hain to dikha sakate hain

और जवाब सुनें

T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
4:56
आपने बहुत अच्छा प्रश्न किया है कि यदि आंदोलन किसानों का है तो फिर लाल किले पर तिरंगे की जगह खालसा का झंडा क्यों फहराया गया 1 तरीके से आपने अपने प्रश्न में ही इसका उत्तर भी दे दिया देखें यह आंदोलन कभी किसानों का था ही नहीं अब किसानों का जब मैं बात करता हूं तो मतलब वास्तविक गीता इस देश का 90% के साथ जो कि लघु और सीमांत किसान है जो कि छोटा किसान हैं जिसकी जो कम है 2 हेक्टेयर से कम जब वह किसान इस आंदोलन का हिस्सा है ही नहीं यह आंदोलन किसानों का नहीं है यह आंदोलन जमीदारों का है जागीरदारों यह आंदोलन भूमि पतियों का है बड़े-बड़े भूमि पति-पत्नी जिनके पास 200 बीघा 300 बीघा 400 बीघा आप सुनकर के आश्चर्यचकित रहेंगे लेकिन जो राकेश टिकैत मैं उसको राकेश डकैत बोलता हूं लेकिन जो राकेश ताकत है आप उसकी किसानी का अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं कि वह 80 करोड़ का मालिक कई सारे रोड कंपनियों के अंदर उसकी भागीदारी है कई सारे पेट्रोल पंप में उसकी भागीदारी है सैकड़ों बीघा जमीन है कई सारे व्यावसायिक संगठनों में व्यावसायिक प्रतिष्ठानों में उसकी भागीदारी है चार पांच राज्यों के अंदर उसकी भूमि वस्त्र कुछ नेता बनकर अर्जित किया बस सब कुछ उसने जालसाजी के मार्फत अर्जित किया है और जिन पूंजीपतियों का जिन बड़े आदमियों का जिनके खुद की अपनी मंडियां हैं जो कि खुद स्वयं में आरती दुखी दूसरों से सस्ते दामों पर माल खरीद करके अपनी मंडियों में और अन्य के माध्यम से माल को ज्यादा भाव में भेजते हैं यह वह लोग हैं जो यह दुल्हन को मुख्य रूप से चला रहे हैं और इसके नेता बन बैठे हैं क्योंकि उनको यह पता है कि यह कृषि मिलाने के बाद में उनका उस तरह का एकाधिकार समाप्त हो जाएगा और उनको अपना वह जो जमीदारी है वह जाती हुई महसूस हो रही है और इसलिए वॉइस बिल का विरोध कर रहे हैं भला इस देश का किसान जो कि वास्तविक किसान है अब सोच भी सकते हैं कि वह तिरंगे की जगह किसी और धर्म का झंडा लाल किले पर फेरा नहीं जाएगा लेकिन हम इसी झंडे का विरोध हम नहीं हम किसी धर्म का विरोध नहीं करते हम हर धर्म का सम्मान करते हैं लेकिन लाल किला हमारी देश की धरोहर है और वहां पर तिरंगे के अलावा कोई दूसरा झंडा नहीं है तू दिखे या फिर या जो आंदोलन है यह आंदोलन कभी किसानों का था ही नहीं यह आंदोलन वास्तविकता में जमींदारों का है जागीरदारों का है जी पति किसानों का है जो स्वयं खेती नहीं करते उनके यहां पर मजदूरों से बहुत सस्ते दाम पर उनसे उनका शोषण किया जाता है उनसे मजदूरी कराई जाती है और वह स्वयं में अपने आप को ऐसे पूंजीपति किसान कहते हैं जबकि वह बहुत बड़े व्यापारी हैं भारतीय हैं खुद की मंडियां है वह किसी न किसी भी रूप में किसान नहीं है और उनको लगता है कि अगर अच्छे दामों पर बाजार में खुले में अगर अच्छी रेट पर यह फसल बिकने लग गई तो हमारी जो मंडियां हैं वह मियां बेकार और इसी वजह से यह सारा आंदोलन है और इस आंदोलन ने और इससे बढ़िया इससे बड़ी कोई बात मत समझो धीरे धीरे आम किसान वास्तविक किसान इस बात को मस्त आ जा रहा है और इस आंदोलन में फूट भी बढ़ती जा रही है और राकेश डकैत जैसे लोग हैं जो अपनी व्यक्तिगत महत्वाकांक्षाओं को राजनीति में जाने की महत्वाकांक्षाओं के कारण इस आंदोलन को भड़का रहे हैं लोग इस बात को समझ रहे हैं और इसीलिए इस आंदोलन का मुझे कोई आधार नहीं दिखता मुझे भविष्य नहीं दिखता मुझे कोई वर्तमान नहीं देखते और यह बिल किसी हालत में वापस नहीं उम्मीद है मेरे उत्तर से आप संतुष्ट होंगे धन्यवाद
Aapane bahut achchha prashn kiya hai ki yadi aandolan kisaanon ka hai to phir laal kile par tirange kee jagah khaalasa ka jhanda kyon phaharaaya gaya 1 tareeke se aapane apane prashn mein hee isaka uttar bhee de diya dekhen yah aandolan kabhee kisaanon ka tha hee nahin ab kisaanon ka jab main baat karata hoon to matalab vaastavik geeta is desh ka 90% ke saath jo ki laghu aur seemaant kisaan hai jo ki chhota kisaan hain jisakee jo kam hai 2 hekteyar se kam jab vah kisaan is aandolan ka hissa hai hee nahin yah aandolan kisaanon ka nahin hai yah aandolan jameedaaron ka hai jaageeradaaron yah aandolan bhoomi patiyon ka hai bade-bade bhoomi pati-patnee jinake paas 200 beegha 300 beegha 400 beegha aap sunakar ke aashcharyachakit rahenge lekin jo raakesh tikait main usako raakesh dakait bolata hoon lekin jo raakesh taakat hai aap usakee kisaanee ka andaaja is baat se laga sakate hain ki vah 80 karod ka maalik kaee saare rod kampaniyon ke andar usakee bhaageedaaree hai kaee saare petrol pamp mein usakee bhaageedaaree hai saikadon beegha jameen hai kaee saare vyaavasaayik sangathanon mein vyaavasaayik pratishthaanon mein usakee bhaageedaaree hai chaar paanch raajyon ke andar usakee bhoomi vastr kuchh neta banakar arjit kiya bas sab kuchh usane jaalasaajee ke maarphat arjit kiya hai aur jin poonjeepatiyon ka jin bade aadamiyon ka jinake khud kee apanee mandiyaan hain jo ki khud svayan mein aaratee dukhee doosaron se saste daamon par maal khareed karake apanee mandiyon mein aur any ke maadhyam se maal ko jyaada bhaav mein bhejate hain yah vah log hain jo yah dulhan ko mukhy roop se chala rahe hain aur isake neta ban baithe hain kyonki unako yah pata hai ki yah krshi milaane ke baad mein unaka us tarah ka ekaadhikaar samaapt ho jaega aur unako apana vah jo jameedaaree hai vah jaatee huee mahasoos ho rahee hai aur isalie vois bil ka virodh kar rahe hain bhala is desh ka kisaan jo ki vaastavik kisaan hai ab soch bhee sakate hain ki vah tirange kee jagah kisee aur dharm ka jhanda laal kile par phera nahin jaega lekin ham isee jhande ka virodh ham nahin ham kisee dharm ka virodh nahin karate ham har dharm ka sammaan karate hain lekin laal kila hamaaree desh kee dharohar hai aur vahaan par tirange ke alaava koee doosara jhanda nahin hai too dikhe ya phir ya jo aandolan hai yah aandolan kabhee kisaanon ka tha hee nahin yah aandolan vaastavikata mein jameendaaron ka hai jaageeradaaron ka hai jee pati kisaanon ka hai jo svayan khetee nahin karate unake yahaan par majadooron se bahut saste daam par unase unaka shoshan kiya jaata hai unase majadooree karaee jaatee hai aur vah svayan mein apane aap ko aise poonjeepati kisaan kahate hain jabaki vah bahut bade vyaapaaree hain bhaarateey hain khud kee mandiyaan hai vah kisee na kisee bhee roop mein kisaan nahin hai aur unako lagata hai ki agar achchhe daamon par baajaar mein khule mein agar achchhee ret par yah phasal bikane lag gaee to hamaaree jo mandiyaan hain vah miyaan bekaar aur isee vajah se yah saara aandolan hai aur is aandolan ne aur isase badhiya isase badee koee baat mat samajho dheere dheere aam kisaan vaastavik kisaan is baat ko mast aa ja raha hai aur is aandolan mein phoot bhee badhatee ja rahee hai aur raakesh dakait jaise log hain jo apanee vyaktigat mahatvaakaankshaon ko raajaneeti mein jaane kee mahatvaakaankshaon ke kaaran is aandolan ko bhadaka rahe hain log is baat ko samajh rahe hain aur iseelie is aandolan ka mujhe koee aadhaar nahin dikhata mujhe bhavishy nahin dikhata mujhe koee vartamaan nahin dekhate aur yah bil kisee haalat mein vaapas nahin ummeed hai mere uttar se aap santusht honge dhanyavaad

शिवम मौर्या Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए शिवम जी का जवाब
Unknown
0:49
तू यह प्रश्न जो आपका है बहुत ही सुंदर है यदि आंदोलन किसानों का है तो फिर लाल किले पर तिरंगे की जगह खालसा का झंडा के ऊपर आएगा तो यह आंदोलन जाहिर सी बात है यह देखने में ही प्रतीत होता है कि यह खाली स्थानों का झंडा है और देश का बंटवारा करने पर यह लोग तुले हुए हैं अगर किसानों का होता तो किसानों का कोई स्पेसिफिक झंडा अभी तक तो नहीं बना है मेरी जानकारी के अनुसार और दंगे की अपमान कोई भी किसान की इतनी भी बुरी स्थिति में हो वह तिरंगे का अपमान नहीं कर सकता है आइए खाली स्थानों की एक बहुत ही गंदी मानसिकता है तू जिस तरह से पाकिस्तानी ज्योति पाकिस्तान बटवा लिया हमारे देश से अलग दो टुकड़े करके यह तीसरा टुकड़ा करवाने पर लगे हुए हैं यह जो है खालिसानी और यह हमारे देश के लिए बहुत नुकसानदायक है
Too yah prashn jo aapaka hai bahut hee sundar hai yadi aandolan kisaanon ka hai to phir laal kile par tirange kee jagah khaalasa ka jhanda ke oopar aaega to yah aandolan jaahir see baat hai yah dekhane mein hee prateet hota hai ki yah khaalee sthaanon ka jhanda hai aur desh ka bantavaara karane par yah log tule hue hain agar kisaanon ka hota to kisaanon ka koee spesiphik jhanda abhee tak to nahin bana hai meree jaanakaaree ke anusaar aur dange kee apamaan koee bhee kisaan kee itanee bhee buree sthiti mein ho vah tirange ka apamaan nahin kar sakata hai aaie khaalee sthaanon kee ek bahut hee gandee maanasikata hai too jis tarah se paakistaanee jyoti paakistaan batava liya hamaare desh se alag do tukade karake yah teesara tukada karavaane par lage hue hain yah jo hai khaalisaanee aur yah hamaare desh ke lie bahut nukasaanadaayak hai

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:56
अधिक आंदोलन किसानों का है तो फिर लाल किले पर तिरंगा की जगह खालसा का झंडा क्यों फहराया गया दोस्तों काल सब जन धन नहीं फहराया गया पूरी तरह से जानकारी लेने के लिए किसानों का झंडा अलग से बनाया गया को विश्व स्तर पर रखिए 26 जनवरी के पूरे विश्व को भारत की ओर भारत के किसानों की तरफ अग्रसर किया है तो झंडा को ऐसा ही कराया गया परंतु जो झंडा जोधा रखा गया है
Adhik aandolan kisaanon ka hai to phir laal kile par tiranga kee jagah khaalasa ka jhanda kyon phaharaaya gaya doston kaal sab jan dhan nahin phaharaaya gaya pooree tarah se jaanakaaree lene ke lie kisaanon ka jhanda alag se banaaya gaya ko vishv star par rakhie 26 janavaree ke poore vishv ko bhaarat kee or bhaarat ke kisaanon kee taraph agrasar kiya hai to jhanda ko aisa hee karaaya gaya parantu jo jhanda jodha rakha gaya hai

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:37
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है यदि आंदोलन के गानों का है तो फिर किले पर तिरंगे की जगह खालसा का झंडा क्यों फहराया गया तो फ्रेंडशिप किसानों ने नहीं किया था यह सब उपद्रवी लोगों ने किया था कि लाल किले पर हमारे झंडे की जगह पर उन्होंने कल से का झंडा फहराया और हमारे झंडे का अपमान किया जो कि बहुत ही गलत बात है और यह किसान आंदोलन में बहुत सारे उपद्रवी जो कि इस तरह की खराब हरकतें कर रहे हैं किसान ऐसी कोई गलत काम नहीं कर रहे हैं लेकिन उसमें बहुत सारे असामाजिक तत्व भी किसान आंदोलन में कुछ कहे जो इस तरह की वारदात कर रहे हैं धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai yadi aandolan ke gaanon ka hai to phir kile par tirange kee jagah khaalasa ka jhanda kyon phaharaaya gaya to phrendaship kisaanon ne nahin kiya tha yah sab upadravee logon ne kiya tha ki laal kile par hamaare jhande kee jagah par unhonne kal se ka jhanda phaharaaya aur hamaare jhande ka apamaan kiya jo ki bahut hee galat baat hai aur yah kisaan aandolan mein bahut saare upadravee jo ki is tarah kee kharaab harakaten kar rahe hain kisaan aisee koee galat kaam nahin kar rahe hain lekin usamen bahut saare asaamaajik tatv bhee kisaan aandolan mein kuchh kahe jo is tarah kee vaaradaat kar rahe hain dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • यदि आंदोलन किसानों का है तो फिर लाल किले पर तिरंगे की जगह खालसा का झंडा क्यों फहराया गया लाल किले पर तिरंगे की जगह खालसा का झंडा क्यों फहराया गया
URL copied to clipboard