#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

संलयनअभिक्रिया क्या होती है और क्यों इतनी महत्वपूर्ण है?

Sanlayanabhikriya Kya Hoti Hai Aur Kyun Itni Mehtvapurn Hai
NeelamAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए NeelamAwasthi जी का जवाब
I am housewife
0:47
अभिक्रिया क्या होती है और क्यों इतनी महत्वपूर्ण है देखिए जब दोहल के नाभिक परत पर संयुक्त होकर एक भारी तत्व के नाभिक की रचना करते हैं तो इस प्रक्रिया को नाभिकीय संलयन कहते हैं नाभिकीय संलयन के फल स्वरुप जिस नाभिक का निर्माण होता है उसका द्रव्यमान सन में भाग लेने वाले दोनों नाभि को कसमृत द्रव्यमान से कम होता है विमान में यह कमी ऊर्जा में रूपांतरित हो जाती है जिसे अल्बर्ट आइंस्टीन के समीकरण ई = mc2 से ज्ञात करते हैं तारों के अंदर यह क्रिया निरंतर जारी है धन्यवाद
Abhikriya kya hotee hai aur kyon itanee mahatvapoorn hai dekhie jab dohal ke naabhik parat par sanyukt hokar ek bhaaree tatv ke naabhik kee rachana karate hain to is prakriya ko naabhikeey sanlayan kahate hain naabhikeey sanlayan ke phal svarup jis naabhik ka nirmaan hota hai usaka dravyamaan san mein bhaag lene vaale donon naabhi ko kasamrt dravyamaan se kam hota hai vimaan mein yah kamee oorja mein roopaantarit ho jaatee hai jise albart aainsteen ke sameekaran ee \\u003d mch2 se gyaat karate hain taaron ke andar yah kriya nirantar jaaree hai dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
संलयनअभिक्रिया क्या होती है और क्यों इतनी महत्वपूर्ण है?Sanlayanabhikriya Kya Hoti Hai Aur Kyun Itni Mehtvapurn Hai
Sanjay Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sanjay जी का जवाब
𝔖𝔱𝔲𝔡𝔢𝔫𝔱 | 𝔈𝔡𝔲𝔠𝔞𝔱𝔦𝔬𝔫𝔦𝔰𝔱
0:35
संलयन अभिक्रिया क्या होती है यह कितनी महत्वपूर्ण क्यों होती है तो जलन होती हैं तो उसमें क्या होता है कि जो छोटे-छोटे परमाणु होते हैं वह परमाणु एक दूसरे से जब प्रतिक्रिया करते हैं रासायनिक अभिक्रिया करते हैं तो जोड़ते हैं इसी को सलाम कहते हैं और शैलेन इसलिए काफी ज्यादा महत्वपूर्ण होती है क्योंकि यह सूर्य है सूर्य में नाभिकीय संलयन की प्रक्रिया होती है उसके द्वारा हमें ऊर्जा होती है मिलती है जिससे कि हमारा जीवन है इनकी पृथ्वी पर उसे जीवन विस्तृत होता है इसी वजह से हम जो हैं अस्तित्व में हैं इसलिए संलयन अभिक्रिया काफी ज्यादा महत्वपूर्ण है धन्यवाद
Sanlayan abhikriya kya hotee hai yah kitanee mahatvapoorn kyon hotee hai to jalan hotee hain to usamen kya hota hai ki jo chhote-chhote paramaanu hote hain vah paramaanu ek doosare se jab pratikriya karate hain raasaayanik abhikriya karate hain to jodate hain isee ko salaam kahate hain aur shailen isalie kaaphee jyaada mahatvapoorn hotee hai kyonki yah soory hai soory mein naabhikeey sanlayan kee prakriya hotee hai usake dvaara hamen oorja hotee hai milatee hai jisase ki hamaara jeevan hai inakee prthvee par use jeevan vistrt hota hai isee vajah se ham jo hain astitv mein hain isalie sanlayan abhikriya kaaphee jyaada mahatvapoorn hai dhanyavaad

bolkar speaker
संलयनअभिक्रिया क्या होती है और क्यों इतनी महत्वपूर्ण है?Sanlayanabhikriya Kya Hoti Hai Aur Kyun Itni Mehtvapurn Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:39
कबाली की संलयन अभिक्रिया क्या होती है और एक महत्वपूर्ण है जब दो हल्के नाभिक परस्पर संयुक्त होकर एक भारी तत्व के नाभिक की रचना करते हैं तो इस प्रकार की नाभिकीय संलयन कहते हैं नाभिकीय संलयन के फल स्वरुप जिस नाभिक का निर्माण होता है उसका द्रव्यमान संलयन में भाग लेने वाले दोनों नाभि को के सम्मिलित द्रव्यमान से कम होता है जब विमान में यह ऊर्जा में रूपांतरित हो जाती है जैसे अल्बर्ट आइंस्टीन के समीकरण इज इक्वल टू एमसी स्क्वायर से ज्ञात करते हैं तारों के अंदर यह घटिया निरंतर जारी है
Kabaalee kee sanlayan abhikriya kya hotee hai aur ek mahatvapoorn hai jab do halke naabhik paraspar sanyukt hokar ek bhaaree tatv ke naabhik kee rachana karate hain to is prakaar kee naabhikeey sanlayan kahate hain naabhikeey sanlayan ke phal svarup jis naabhik ka nirmaan hota hai usaka dravyamaan sanlayan mein bhaag lene vaale donon naabhi ko ke sammilit dravyamaan se kam hota hai jab vimaan mein yah oorja mein roopaantarit ho jaatee hai jaise albart aainsteen ke sameekaran ij ikval too emasee skvaayar se gyaat karate hain taaron ke andar yah ghatiya nirantar jaaree hai

bolkar speaker
संलयनअभिक्रिया क्या होती है और क्यों इतनी महत्वपूर्ण है?Sanlayanabhikriya Kya Hoti Hai Aur Kyun Itni Mehtvapurn Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:38
लेके दोस्तों जब दोस्त होते हैं हल्के वाले और वह जब एक चिड़िया करते हैं आपस में उस समय एक भारी वस्तु का निर्माण होता है और इसी चीज को लेकर नाभि के कल्याण का चार्ट कल्याण में भाग लेने वाले दोनों नागरिकों के समय होने वाले दर्द कम होता है और द्रव्यमान ऊर्जा में रूपांतरित की जाती है बदलाव किया जाता है
Leke doston jab dost hote hain halke vaale aur vah jab ek chidiya karate hain aapas mein us samay ek bhaaree vastu ka nirmaan hota hai aur isee cheej ko lekar naabhi ke kalyaan ka chaart kalyaan mein bhaag lene vaale donon naagarikon ke samay hone vaale dard kam hota hai aur dravyamaan oorja mein roopaantarit kee jaatee hai badalaav kiya jaata hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard