#धर्म और ज्योतिषी

satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
1:20
चर्च को से पूछा गया कि कुछ लोग हम क्यों मानते हैं कि प्रीति समतल है इसके पीछे कोई वैध कारण है दिखे अज्ञानता के कारण जो है पहले के लोग जो तथा है कितना विकास नहीं हो पाया था जिससे क्या होता था कि वह अपने सीने तक थानों को हैं पूरी का पूरी तरह से जोड़ने की दुनिया के रूप में मानते थे अगर देखा जाए तो 17वीं शताब्दी के पहले जॉब ढूंढने की खोज नहीं हुई थी तब जान लोग अगर हम भारत की बात करें तो यहां पर जो है जितने भारत का लोकेशन है उतने को जो है उस समय पूरी तरह से दुनिया लोग बना कर चलते थे क्योंकि उसके पास जो है जल को देखकर वह समझते थे कि इसके बाद जो है स्थान आया था कि दुनिया कितनी तक है लेकिन धीरे-धीरे जो है समुद्री माध्यम से जुड़े व्यापार होने लगा लोग जो है यातायात के माध्यम से एक-दूसरे से परिचय होने लगे जिससे क्या बाकी लोगों में जो है ज्ञान की जो है सीमा का विकास हुआ जिससे यह पता चला कि अतीत में जो है वह एक जगह से सीमित नहीं है और इसके बाद कई तरह के नए नए अविष्कारों के बाद जो है हम एक निश्चित जो है तख्त पर आए हैं कि पेट में जो है वह कॉल होते हैं आधार की थोड़ी छुट्टी होती है पढ़ते हैं उससे बोला कि रुके हम जानते हैं जहां पर क्या होता है कि हम एक जगह से चलकर हम दूसरी जगह वही पुनाना सकते हैं
Charch ko se poochha gaya ki kuchh log ham kyon maanate hain ki preeti samatal hai isake peechhe koee vaidh kaaran hai dikhe agyaanata ke kaaran jo hai pahale ke log jo tatha hai kitana vikaas nahin ho paaya tha jisase kya hota tha ki vah apane seene tak thaanon ko hain pooree ka pooree tarah se jodane kee duniya ke roop mein maanate the agar dekha jae to 17veen shataabdee ke pahale job dhoondhane kee khoj nahin huee thee tab jaan log agar ham bhaarat kee baat karen to yahaan par jo hai jitane bhaarat ka lokeshan hai utane ko jo hai us samay pooree tarah se duniya log bana kar chalate the kyonki usake paas jo hai jal ko dekhakar vah samajhate the ki isake baad jo hai sthaan aaya tha ki duniya kitanee tak hai lekin dheere-dheere jo hai samudree maadhyam se jude vyaapaar hone laga log jo hai yaataayaat ke maadhyam se ek-doosare se parichay hone lage jisase kya baakee logon mein jo hai gyaan kee jo hai seema ka vikaas hua jisase yah pata chala ki ateet mein jo hai vah ek jagah se seemit nahin hai aur isake baad kaee tarah ke nae nae avishkaaron ke baad jo hai ham ek nishchit jo hai takht par aae hain ki pet mein jo hai vah kol hote hain aadhaar kee thodee chhuttee hotee hai padhate hain usase bola ki ruke ham jaanate hain jahaan par kya hota hai ki ham ek jagah se chalakar ham doosaree jagah vahee punaana sakate hain

और जवाब सुनें

Sanjay Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sanjay जी का जवाब
𝔖𝔱𝔲𝔡𝔢𝔫𝔱 | 𝔈𝔡𝔲𝔠𝔞𝔱𝔦𝔬𝔫𝔦𝔰𝔱
1:07
कुछ लोग यह मानते हैं कि पृथ्वी समतल है क्या इसके पीछे कोई वायरस तर्क का है पृथ्वी समतल तो है हल्की समतल यू धरातल होता है वह हर जगह नहीं पाया जाता है पृथ्वी का जो धरातल है उस पर बहुत सी संरचनाएं पाई जाती जैसे हमारा देश है तो हमारा देश में भी पांच के तरीके की जो धरातलीय है उसका वर्णन है वह किया गया है जैसे कि वह प्रथम तभी पाए जा सकते हैं यानी कि जॉब विशाल मैदान होते हैं जो नदियों के द्वारा बनाए जाते हैं वह समतल भूमि हो जाती है खास तौर पर अपनी जन्मभूमि वही होती है इसके अलावा अगर बात करें तो पर्वती भाग भी होते हैं पठारी भाग भी होते हैं और अगर देखे तुम्हारे चली भाग भी होते हैं और नदियां पाई जाती हैं तो हर तरह की चीजें जो होती है पृथ्वी तो पाई जाती है तो पृथ्वी को गर्म दूर से देखते हैं तो डिप्टी नारंगी के सामान में गोल दिखाई पड़ती है और इसकी रिसर्च हो गई है और अब पृथ्वी का जो कुछ भाग है वह समतल है और अन्य तरीकों की जो चीजें हैं वह पाई जाती हैं तो समतल है तो उसे वैज्ञानिक संत मान सकते हैं या कोई नहीं की संतान मान लेता है अन्यथा जिस तरह की जो कंडीशन से उसी की तरह मानना पड़ जाएगा धन्यवाद
Kuchh log yah maanate hain ki prthvee samatal hai kya isake peechhe koee vaayaras tark ka hai prthvee samatal to hai halkee samatal yoo dharaatal hota hai vah har jagah nahin paaya jaata hai prthvee ka jo dharaatal hai us par bahut see sanrachanaen paee jaatee jaise hamaara desh hai to hamaara desh mein bhee paanch ke tareeke kee jo dharaataleey hai usaka varnan hai vah kiya gaya hai jaise ki vah pratham tabhee pae ja sakate hain yaanee ki job vishaal maidaan hote hain jo nadiyon ke dvaara banae jaate hain vah samatal bhoomi ho jaatee hai khaas taur par apanee janmabhoomi vahee hotee hai isake alaava agar baat karen to parvatee bhaag bhee hote hain pathaaree bhaag bhee hote hain aur agar dekhe tumhaare chalee bhaag bhee hote hain aur nadiyaan paee jaatee hain to har tarah kee cheejen jo hotee hai prthvee to paee jaatee hai to prthvee ko garm door se dekhate hain to diptee naarangee ke saamaan mein gol dikhaee padatee hai aur isakee risarch ho gaee hai aur ab prthvee ka jo kuchh bhaag hai vah samatal hai aur any tareekon kee jo cheejen hain vah paee jaatee hain to samatal hai to use vaigyaanik sant maan sakate hain ya koee nahin kee santaan maan leta hai anyatha jis tarah kee jo kandeeshan se usee kee tarah maanana pad jaega dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • कुछ लोग ऐसा क्यों मानते हैं की खड़े होकर पानी नहीं पीना चाहिए .. बिल्ली के रास्ता काट देने से सब कुछ गलत होगा
URL copied to clipboard