#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker

कॉन्फिडेंस और ओवर कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है?

Confidence Aur Over Confidence Mein Kya Fark Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
कॉन्फिडेंस और और कॉन्फ्रेंस में फर्क क्या होता है कॉन्फ्रेंस में ज्यादा कर की वास्तविकता होता है और कॉन्फिडेंस में वास्तविकता समझने में गलती हो जाती है और सपने ज्यादा देखे जाते हैं सफलता के या कई चीजों को नौटंकी राजू करने में अटकल काम करते हैं उनको कमजोर समझा जाता है कॉन्फ्रेंस में इस बात का विचार किया जाता है कि इसमें क्या क्या परेशानी आ सकती है या समस्या या सुधर गेट को हासिल करने में और वह अपनी उम्र को जागृत करते कभी एक से ही उसको पता चलता है कि मेरी शक्ति का दायरा कितना है और मेरे उस में पूरा होना संभव है या केवल शंभू चीज के लिए कॉन्फिडेंस वाला व्यक्ति काम नहीं करेगा क्योंकि कॉन्फ्रेंस में बुद्धिमत्ता का भी एक भागवत ताहिर लॉजिक का भाव एनालिसिस का भाव भाव बताएं एक प्रकार का स्टेरिंग इसमें किया जाता है और उसके बाद ही कौन बना सकता है और कॉन्फिडेंस में हड़ताल कर करो कॉन्फिडेंस कोलायत द्वारा या तो तरफ से जो कुछ समझता नहीं है या एक गलतफहमी ज्यादा विश्वास है किस-किस चमत्कारी शक्ति पर विश्वास रखना देवी शक्ति पर विश्वास रखना तुम खुद को बहुत बड़ा समझ में आया बहुत शक्तिमान ना समझना ऋषि सेंटर गलती है और कॉन्फ्रेंस में और ज्यादा करके सफलता कॉन्फ्रेंस वाले व्यक्ति को मिलती है और कॉन्फिडेंस वाली को व्यक्ति को पता मिल भी सकती है लेकिन इसका प्रमाण कम होता है और कॉन्फ्रेंस वाला बेटी सब को कमजोर होता है प्रतिस्पर्धा को कम जो समझता है और किसी को कमजोर समझने की बीमारी होती खुश हो सकती है इसके इतिहास वर्ग में सबूत पाए जाते हैं अमेरिका ने वियतनाम को कुचलने की कोशिश कीजिए 52000 अमेरिकन सैनिक मारे गए थे और अमीर लोगों ने लोकल तरीके से गलत ढंग का निर्णय किया जो चलता है अमेरिका थक गई वह सेवा अवश्य अवश्य कि इससे मेरे को ज्यादा नहीं
Konphidens aur aur konphrens mein phark kya hota hai konphrens mein jyaada kar kee vaastavikata hota hai aur konphidens mein vaastavikata samajhane mein galatee ho jaatee hai aur sapane jyaada dekhe jaate hain saphalata ke ya kaee cheejon ko nautankee raajoo karane mein atakal kaam karate hain unako kamajor samajha jaata hai konphrens mein is baat ka vichaar kiya jaata hai ki isamen kya kya pareshaanee aa sakatee hai ya samasya ya sudhar get ko haasil karane mein aur vah apanee umr ko jaagrt karate kabhee ek se hee usako pata chalata hai ki meree shakti ka daayara kitana hai aur mere us mein poora hona sambhav hai ya keval shambhoo cheej ke lie konphidens vaala vyakti kaam nahin karega kyonki konphrens mein buddhimatta ka bhee ek bhaagavat taahir lojik ka bhaav enaalisis ka bhaav bhaav bataen ek prakaar ka stering isamen kiya jaata hai aur usake baad hee kaun bana sakata hai aur konphidens mein hadataal kar karo konphidens kolaayat dvaara ya to taraph se jo kuchh samajhata nahin hai ya ek galataphahamee jyaada vishvaas hai kis-kis chamatkaaree shakti par vishvaas rakhana devee shakti par vishvaas rakhana tum khud ko bahut bada samajh mein aaya bahut shaktimaan na samajhana rshi sentar galatee hai aur konphrens mein aur jyaada karake saphalata konphrens vaale vyakti ko milatee hai aur konphidens vaalee ko vyakti ko pata mil bhee sakatee hai lekin isaka pramaan kam hota hai aur konphrens vaala betee sab ko kamajor hota hai pratispardha ko kam jo samajhata hai aur kisee ko kamajor samajhane kee beemaaree hotee khush ho sakatee hai isake itihaas varg mein saboot pae jaate hain amerika ne viyatanaam ko kuchalane kee koshish keejie 52000 amerikan sainik maare gae the aur ameer logon ne lokal tareeke se galat dhang ka nirnay kiya jo chalata hai amerika thak gaee vah seva avashy avashy ki isase mere ko jyaada nahin

और जवाब सुनें

bolkar speaker
कॉन्फिडेंस और ओवर कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है?Confidence Aur Over Confidence Mein Kya Fark Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:57
तो आज आप का सवाल है कि कॉन्फिडेंस और ओवरकॉन्फिडेंस में क्या फर्क है तूने क्या कहा जाता है कि कॉन्फिडेंस कॉन्फिडेंस अच्छा नहीं है जवाब किसी भी चीज के लिए तैयारी कर रहे होते तो आप अपने मन में यह बोलते हैं मुझे कॉन्फिडेंस से कि मैं कर सकता हूं जो एड्रेस ऑफ फॉर्म भरते हैं आप ट्राई करते आप कोशिश करते हैं लेकिन क्या करें कि जो भी चिदंबरम से सब हो जाएगा इस जगह पर आपके अंदर किया जाता है कि जो भी चीज हर चीज आपके मतलब हाथ में आपके बस में है आप चेक कर सकते हैं इस तरह के आपके दिमाग में मतलब बैठ जाता है कि हर चीज आपसे पूछा था जिसकी वजह से आप मेहनत नहीं कर पाते हैं और जितना आपको सीरियस में सोना चाहिए जितना मतलब जिस जिस इंसान के पता नहीं होता मतलब हां मुझे यहां पर पढ़ना मैं कर सकता हूं कहां का फॉर्म निकल रहा कहां कैसे सवाल आ रहे हैं का किस तरह के पटाखे में प्रैक्टिस करो लेकिन कौन आ गया मेरा कोई फॉर्म भर देगा या फिर हमें जब जाऊंगा तब का तब देख लूंगा उसे बहुत ही ऊपर कॉन्फिडेंस होता है कि हाथ में वह हर एक किस कर सकता है वह मतलब जिस फिल्म में जाए जहां भी जाए हर चीज उसके हाथ में वह हर एक चीज में बहुत ही मतलब बेस्ट है तो यहां पर ओवर कॉन्फिडेंस हो जाता है जहां पर इंसान मतलब मतलब जीत जीत सकता है तो हार जाता है आपने सुना होगा वह खरगोश और कछुए की जो मतलब कहानी है उसे कितना मतलब खरगोश को वर्कर होता है कि दौड़ता हूं तो मैं ही दूंगा लेकिन असल में देखिए क्या होता है कंफ्यूज हर एक इंसान को कॉन्फिडेंस अच्छी बात होती है अगर आप जब तक कॉन्फिडेंस नहीं लाएंगे की तकनिकी मुझे यह चीज मैं कर सकता हूं तो आप ट्राई ही नहीं करेंगे तो कॉन्फ्रेंस आफ लाइए ताकि आप हर एक जगह बैठे ट्राई करें कोशिश कर सकते हो सकता वह भी आप नहीं कर पाएंगे
To aaj aap ka savaal hai ki konphidens aur ovarakonphidens mein kya phark hai toone kya kaha jaata hai ki konphidens konphidens achchha nahin hai javaab kisee bhee cheej ke lie taiyaaree kar rahe hote to aap apane man mein yah bolate hain mujhe konphidens se ki main kar sakata hoon jo edres oph phorm bharate hain aap traee karate aap koshish karate hain lekin kya karen ki jo bhee chidambaram se sab ho jaega is jagah par aapake andar kiya jaata hai ki jo bhee cheej har cheej aapake matalab haath mein aapake bas mein hai aap chek kar sakate hain is tarah ke aapake dimaag mein matalab baith jaata hai ki har cheej aapase poochha tha jisakee vajah se aap mehanat nahin kar paate hain aur jitana aapako seeriyas mein sona chaahie jitana matalab jis jis insaan ke pata nahin hota matalab haan mujhe yahaan par padhana main kar sakata hoon kahaan ka phorm nikal raha kahaan kaise savaal aa rahe hain ka kis tarah ke pataakhe mein praiktis karo lekin kaun aa gaya mera koee phorm bhar dega ya phir hamen jab jaoonga tab ka tab dekh loonga use bahut hee oopar konphidens hota hai ki haath mein vah har ek kis kar sakata hai vah matalab jis philm mein jae jahaan bhee jae har cheej usake haath mein vah har ek cheej mein bahut hee matalab best hai to yahaan par ovar konphidens ho jaata hai jahaan par insaan matalab matalab jeet jeet sakata hai to haar jaata hai aapane suna hoga vah kharagosh aur kachhue kee jo matalab kahaanee hai use kitana matalab kharagosh ko varkar hota hai ki daudata hoon to main hee doonga lekin asal mein dekhie kya hota hai kamphyooj har ek insaan ko konphidens achchhee baat hotee hai agar aap jab tak konphidens nahin laenge kee takanikee mujhe yah cheej main kar sakata hoon to aap traee hee nahin karenge to konphrens aaph laie taaki aap har ek jagah baithe traee karen koshish kar sakate ho sakata vah bhee aap nahin kar paenge

bolkar speaker
कॉन्फिडेंस और ओवर कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है?Confidence Aur Over Confidence Mein Kya Fark Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:40
आपका सवाल है कि कॉन्फिडेंस और ओवरकॉन्फिडेंस में क्या फर्क होता है तो इसमें क्या होता है कि कॉन्फिडेंस में हुआ है व्यक्ति होते हैं जो इस पर इसमें पूरा विश्वास होता है कि मैं यह काम कर सकता हूं और और कॉन्फिडेंस बताएं कि मैं इस काम को कर सकता हूं पर वह ज्यादा और कॉन्फिडेंस होने के कारण मतलब ज्यादा अपने आप को दिखाने के कारण वह काम जो आशा कर सकता है उसको नहीं कर पाते हैं
Aapaka savaal hai ki konphidens aur ovarakonphidens mein kya phark hota hai to isamen kya hota hai ki konphidens mein hua hai vyakti hote hain jo is par isamen poora vishvaas hota hai ki main yah kaam kar sakata hoon aur aur konphidens bataen ki main is kaam ko kar sakata hoon par vah jyaada aur konphidens hone ke kaaran matalab jyaada apane aap ko dikhaane ke kaaran vah kaam jo aasha kar sakata hai usako nahin kar paate hain

bolkar speaker
कॉन्फिडेंस और ओवर कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है?Confidence Aur Over Confidence Mein Kya Fark Hai
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
1:03
उसे कहते हैं जिसमें आप अपनी कार को कर सकते हैं पूरी ईमानदारी के साथ दृढ़ संकल्प के साथ और इसके लिए आप दिन प्रतिदिन प्रैक्टिस भी करते रहेंगे ताकि मेरा काम अच्छे से हो सके समय पर हो सके और पूरा हो सके जिससे आपको सफलता जरूर मिलती है और ओवर कॉन्फिडेंस उसे कहते हैं जिसमें आप यह सोचते हैं कि आप इस काम को कर सकते हैं और इस काम को आप के अलावा कोई और नहीं कर सकता है ऐसे सोचकर आप प्रैक्टिस भी नहीं करते हैं और यह प्रैक्टिस नहीं करेंगे तो आपको इतना बहुत ही कम पर सेट बचता है उसे त्यौहार जाए उसे दुखी भी हो जाए उसी को कॉन्फिडेंस ओवर कॉन्फिडेंस कॉन्फिडेंस व्यक्ति पानी के लिए प्रैक्टिस करता रहता है यह भी जानता है कि मैं नहीं कहूंगा तो कोई और भी कर सकता है और अगर फोन भी नहीं सुन सकती हो क्या सोचता है कि मैं कर सकता हूं और मेरे अलावा कोई नहीं कर सकता है
Use kahate hain jisamen aap apanee kaar ko kar sakate hain pooree eemaanadaaree ke saath drdh sankalp ke saath aur isake lie aap din pratidin praiktis bhee karate rahenge taaki mera kaam achchhe se ho sake samay par ho sake aur poora ho sake jisase aapako saphalata jaroor milatee hai aur ovar konphidens use kahate hain jisamen aap yah sochate hain ki aap is kaam ko kar sakate hain aur is kaam ko aap ke alaava koee aur nahin kar sakata hai aise sochakar aap praiktis bhee nahin karate hain aur yah praiktis nahin karenge to aapako itana bahut hee kam par set bachata hai use tyauhaar jae use dukhee bhee ho jae usee ko konphidens ovar konphidens konphidens vyakti paanee ke lie praiktis karata rahata hai yah bhee jaanata hai ki main nahin kahoonga to koee aur bhee kar sakata hai aur agar phon bhee nahin sun sakatee ho kya sochata hai ki main kar sakata hoon aur mere alaava koee nahin kar sakata hai

bolkar speaker
कॉन्फिडेंस और ओवर कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है?Confidence Aur Over Confidence Mein Kya Fark Hai
sanjay kumar pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए sanjay जी का जवाब
Writer, Teacher, motivational youtuber
3:09
गुड इवनिंग सवाल है कि कॉन्फिडेंस और ओवरकॉन्फिडेंस में क्या फर्क देखिए कंप्यूटर सर ओवरकॉन्फिडेंस में यही फर्क है जिसको हिंदी में बोलते हैं विश्वास और अति विश्वास विश्वास तो ठीक है हमें अपने आप पर विश्वास होना चाहिए कि मैं यह काम कर दूंगा कोई काम निश्चित समय में कर दूंगा लेकिन उसमें थोड़ा बहुत तो संदेह भी हो सकता है कि नहीं मैं हंड्रेड परसेंट हो सकता है कि ना करता है उसमें मैं भी रहता है लेकिन जब ओवरकॉन्फिडेंस जब होता है तो हम उसको यह कहते हैं कि नहीं यह होगा ही होगा वह हमें मतलब कि जैसे किसी चीज को जो कि हमारे हाथ में नहीं है उस पर भी हम दावा कर देते हैं कि नहीं यह होगा ही होगा किसी तरह और फिर वह नहीं होता है तो फिर हम मुश्किल में हो जा वैसे ट्रेन को हम कह दे कि नहीं यह निश्चित टाइम पर आएगी तो यह ओवरकॉन्फिडेंट होता है हम रोज देखते हैं वो टाइम पर आती है लेकिन वह हमारे हाथ में नहीं है तो वह ओवर कॉन्फिडेंस रहता है कोई कार्य हम हाथ में ले लेते हैं और फिर कहेंगे कि हम इस काम को समय के अंदर ही करके दिखा देंगे तो यह एक तरह से हमारा विश्वास है कि हम कर देंगे लेकिन जब यह हम कहते हैं कि नहीं हम इसे समय के अंदर ही कर देंगे कितना समय है और लोग ले रहे हैं उसे हम समय के अंदर करके दिखा देंगे और फिर नहीं कर पाते हैं तो वह हमारा ओवरकॉन्फिडेंस हो जाता है किसी चीज में ओवर कॉन्फिडेंट नहीं होना चाहिए कभी कॉन्फिडेंस होना अच्छी बात है होना चाहिए अपने आप पर अपने कार्य पर लेकिन ओवरकॉन्फिडेंस हमें बर्बाद कर सकता है उनसे कभी भी ओवर कम नहीं होना चाहिए उसमें एक आध परसेंट का मार्जिन रखना ही चाहिए कुछ भी भविष्य जो है हमारे हाथ में नहीं है उसमें इतना जरूर हमें इस पर लगाना चाहिए कि मैं अपनी कोशिश करूंगा हंड्रेड परसेंट और कोशिश करूंगा कि मैं समय के अंदर इस काम को कर सकूं लेकिन मैं आगे समय जैसा होता है परिस्थिति वैसे बनती है क्योंकि परिस्थितियां और समय हमारे हाथ में नहीं है वह हमें आ रहा है बना बनाया खेल बिगाड़ देती है इसलिए हमें अभी ओवरकॉन्फिडेंट कभी नहीं आना चाहिए कॉन्फिडेंस बिल्कुल होना चाहिए कि डांस के साथ हम प्रयास कर सकते हैं कॉन्फिडेंस में हम प्रयास करने की बात करते हैं और ओवरकॉन्फिडेंस में हम उसे प्रयास में ढीलापन कर देते हैं वह प्रयास उतना नहीं करते हैं जितना कि अब लगता है कि नहीं यह तो हो ही जाएगा मैं कर ही दूंगा इस चीज को और फिर हम मतलब तुमसे दिल भी हो जाए और कैसा डांस होता है और कंट्रीब्यूशन कभी नहीं करना चाहिए कंप्यूटर अच्छी बात है नहीं की
Gud ivaning savaal hai ki konphidens aur ovarakonphidens mein kya phark dekhie kampyootar sar ovarakonphidens mein yahee phark hai jisako hindee mein bolate hain vishvaas aur ati vishvaas vishvaas to theek hai hamen apane aap par vishvaas hona chaahie ki main yah kaam kar doonga koee kaam nishchit samay mein kar doonga lekin usamen thoda bahut to sandeh bhee ho sakata hai ki nahin main handred parasent ho sakata hai ki na karata hai usamen main bhee rahata hai lekin jab ovarakonphidens jab hota hai to ham usako yah kahate hain ki nahin yah hoga hee hoga vah hamen matalab ki jaise kisee cheej ko jo ki hamaare haath mein nahin hai us par bhee ham daava kar dete hain ki nahin yah hoga hee hoga kisee tarah aur phir vah nahin hota hai to phir ham mushkil mein ho ja vaise tren ko ham kah de ki nahin yah nishchit taim par aaegee to yah ovarakonphident hota hai ham roj dekhate hain vo taim par aatee hai lekin vah hamaare haath mein nahin hai to vah ovar konphidens rahata hai koee kaary ham haath mein le lete hain aur phir kahenge ki ham is kaam ko samay ke andar hee karake dikha denge to yah ek tarah se hamaara vishvaas hai ki ham kar denge lekin jab yah ham kahate hain ki nahin ham ise samay ke andar hee kar denge kitana samay hai aur log le rahe hain use ham samay ke andar karake dikha denge aur phir nahin kar paate hain to vah hamaara ovarakonphidens ho jaata hai kisee cheej mein ovar konphident nahin hona chaahie kabhee konphidens hona achchhee baat hai hona chaahie apane aap par apane kaary par lekin ovarakonphidens hamen barbaad kar sakata hai unase kabhee bhee ovar kam nahin hona chaahie usamen ek aadh parasent ka maarjin rakhana hee chaahie kuchh bhee bhavishy jo hai hamaare haath mein nahin hai usamen itana jaroor hamen is par lagaana chaahie ki main apanee koshish karoonga handred parasent aur koshish karoonga ki main samay ke andar is kaam ko kar sakoon lekin main aage samay jaisa hota hai paristhiti vaise banatee hai kyonki paristhitiyaan aur samay hamaare haath mein nahin hai vah hamen aa raha hai bana banaaya khel bigaad detee hai isalie hamen abhee ovarakonphident kabhee nahin aana chaahie konphidens bilkul hona chaahie ki daans ke saath ham prayaas kar sakate hain konphidens mein ham prayaas karane kee baat karate hain aur ovarakonphidens mein ham use prayaas mein dheelaapan kar dete hain vah prayaas utana nahin karate hain jitana ki ab lagata hai ki nahin yah to ho hee jaega main kar hee doonga is cheej ko aur phir ham matalab tumase dil bhee ho jae aur kaisa daans hota hai aur kantreebyooshan kabhee nahin karana chaahie kampyootar achchhee baat hai nahin kee

bolkar speaker
कॉन्फिडेंस और ओवर कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है?Confidence Aur Over Confidence Mein Kya Fark Hai
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:55
प्रश्न है कि कॉन्फिडेंस और और कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है तो दोस्तों कई बार ऐसा होता है कि हम बहुत ज्यादा उत्साहित हो जाते हैं या बहुत ज्यादा हमें ऐसी गलतफहमी हो जाती है कि यह तो मैं बिना कुछ किए ही इस काम को कर सकता हूं यह चाय पढ़ाई लिखाई के बारे में हो सकती या किसी काम के बारे में जानकारी के बारे में हो सकती है तो दोस्तों आप विश्वास जैसे हम कॉन्फिडेंस बोलते हैं वह तो अच्छा है लेकिन जरूरत से ज्यादा आत्मविश्वास भी हानिकारक होता है कई बच्चे ऐसा क्या होता है पढ़ाई लिखाई में स्कूल में टॉप करते हैं तो कई बार मैंने देखा है कि वह चीजों को दोहराते नहीं है तो उससे होता क्या है कि जब पेपर देने जाते हैं बहुत सारी चीजों भूलने लग जाते हैं या कोई चीज अच्छे कार्य करें हैं बंदे ऑफिस में मैं बिजनेस में जीवन में ऐसे करते हैं वह सोचते तो मैं आसानी से कर लूंगा लेकिन बहुत सारी चीजें तकनीकी बदल चुकी होती है उस समय अज्ञान बदल चुका होता है तो उसे आप मन में भ्रम पैदा करने आत्मविश्वास की वजह से तो उसे हम अति आत्मविश्वास चकोर और कॉन्फिडेंस जिसे बोलते हैं तो दोस्तों ओवरकॉन्फिडेंस काफी नुकसानदायक होता है हमें आत्मविश्वास तो कोई काम करने के लिए रखना चाहिए लेकिन उसको हमें बारे में पूरा जानकारी भी रखनी चाहिए यानी कि हमारे पर गाड़ी तो होनी चाहिए लेकिन गाड़ी की में ब्रेकर भी होने चाहिए कि कोई रोक नहीं पड़ेगा ही तो रुक जाए ऐसी आत्मविश्वास है आत्मविश्वास तो अच्छा है लेकिन अति आत्मविश्वास कई बार हानि का कारण हो सकता है धन्यवाद
Prashn hai ki konphidens aur aur konphidens mein kya phark hai to doston kaee baar aisa hota hai ki ham bahut jyaada utsaahit ho jaate hain ya bahut jyaada hamen aisee galataphahamee ho jaatee hai ki yah to main bina kuchh kie hee is kaam ko kar sakata hoon yah chaay padhaee likhaee ke baare mein ho sakatee ya kisee kaam ke baare mein jaanakaaree ke baare mein ho sakatee hai to doston aap vishvaas jaise ham konphidens bolate hain vah to achchha hai lekin jaroorat se jyaada aatmavishvaas bhee haanikaarak hota hai kaee bachche aisa kya hota hai padhaee likhaee mein skool mein top karate hain to kaee baar mainne dekha hai ki vah cheejon ko doharaate nahin hai to usase hota kya hai ki jab pepar dene jaate hain bahut saaree cheejon bhoolane lag jaate hain ya koee cheej achchhe kaary karen hain bande ophis mein main bijanes mein jeevan mein aise karate hain vah sochate to main aasaanee se kar loonga lekin bahut saaree cheejen takaneekee badal chukee hotee hai us samay agyaan badal chuka hota hai to use aap man mein bhram paida karane aatmavishvaas kee vajah se to use ham ati aatmavishvaas chakor aur konphidens jise bolate hain to doston ovarakonphidens kaaphee nukasaanadaayak hota hai hamen aatmavishvaas to koee kaam karane ke lie rakhana chaahie lekin usako hamen baare mein poora jaanakaaree bhee rakhanee chaahie yaanee ki hamaare par gaadee to honee chaahie lekin gaadee kee mein brekar bhee hone chaahie ki koee rok nahin padega hee to ruk jae aisee aatmavishvaas hai aatmavishvaas to achchha hai lekin ati aatmavishvaas kaee baar haani ka kaaran ho sakata hai dhanyavaad

bolkar speaker
कॉन्फिडेंस और ओवर कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है?Confidence Aur Over Confidence Mein Kya Fark Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:57
सवाल यह है कि कॉन्फिडेंस ओवरकॉन्फिडेंस में क्या फर्क है जब आप सोचते हैं कि मैं से कर रहा कर सकता हूं क्योंकि मैंने की तैयारी की है तो यह आपका कॉन्फिडेंस है जबकि आप जो अगर आप सोचते हैं कि मैं इसे आसानी से करता कर सकता हूं और मुझे किसी भी तैयारी की आवश्यकता नहीं है तो यह आपका और कॉन्फिडेंस है जब आप सोचते हैं कि मुझे दूसरों की भी सुननी चाहिए कि आपका कॉन्फिडेंस है जब लेकिन जब आप सोचते हैं कि दूसरों को सिर्फ मेरी ही सुननी चाहिए तो ये आपका ओवर कॉन्फिडेंस है जब आप सोचते हैं कि मैं अपना सर्वश्रेष्ठ दूंगा और उन्हें मुझे सिलेक्ट कर लेना चाहिए तो आपका कॉन्फिडेंस है जबकि आप सोचते हैं कि अगर वह मुझे सिलेक्ट नहीं करते तो उसका मतलब है कि वह मूर्ख है यह तो आपका ओवरकॉन्फिडेंस जब आप तो हमेशा दूसरों का सम्मान करते हैं तो आपका कॉन्फिडेंस है और जबकि जब आप हम हमेशा दूसरों का ध्यान चाहते हैं तो ये आपका ओवर कॉन्फिडेंस है जब आप सोचते हैं कि मैं गलतियां करता हूं और उन्हें डराने की कोशिश नहीं करता हूं तो यह आपकी कौन आपका कॉन्फिडेंस है लेकिन जब आप सोचते हैं कि मैं परफेक्ट हूं और कोई गलती नहीं करता हूं तू ही आपको ओवर कॉन्फिडेंस है और जब आप पहले सोचते हैं और फिर बोलते हैं तो यह आपका कॉन्फिडेंस है जबकि जब आप पहले बोलते हैं और फिर सोचते हैं कि आपका ओवर कॉन्फिडेंस है ऐसा सोचना कि मैं यह कर सकता हूं कि आपका आत्मविश्वास है जबकि यह सोचना कि केवल मैं ही से कर सकता हूं तो ये आपका अति आत्मविश्वास है किसी भी चीज के पक्ष और विपक्ष पर भली-भांति विचार करने के बाद दृश्य उठाना आता कॉन्फिडेंस है जबकि झूठे अहंकार के प्रभाव में लापरवाही से व्यवहार करना आपका ओवर कॉन्फिडेंस है मुझे पता है मैं कौन हूं यह मेरा आत्मविश्वास है जबकि मैं उन्हें दिखाना चाहता हूं कि मैं कौन हूं यह आपका अति आत्मविश्वास है
Savaal yah hai ki konphidens ovarakonphidens mein kya phark hai jab aap sochate hain ki main se kar raha kar sakata hoon kyonki mainne kee taiyaaree kee hai to yah aapaka konphidens hai jabaki aap jo agar aap sochate hain ki main ise aasaanee se karata kar sakata hoon aur mujhe kisee bhee taiyaaree kee aavashyakata nahin hai to yah aapaka aur konphidens hai jab aap sochate hain ki mujhe doosaron kee bhee sunanee chaahie ki aapaka konphidens hai jab lekin jab aap sochate hain ki doosaron ko sirph meree hee sunanee chaahie to ye aapaka ovar konphidens hai jab aap sochate hain ki main apana sarvashreshth doonga aur unhen mujhe silekt kar lena chaahie to aapaka konphidens hai jabaki aap sochate hain ki agar vah mujhe silekt nahin karate to usaka matalab hai ki vah moorkh hai yah to aapaka ovarakonphidens jab aap to hamesha doosaron ka sammaan karate hain to aapaka konphidens hai aur jabaki jab aap ham hamesha doosaron ka dhyaan chaahate hain to ye aapaka ovar konphidens hai jab aap sochate hain ki main galatiyaan karata hoon aur unhen daraane kee koshish nahin karata hoon to yah aapakee kaun aapaka konphidens hai lekin jab aap sochate hain ki main paraphekt hoon aur koee galatee nahin karata hoon too hee aapako ovar konphidens hai aur jab aap pahale sochate hain aur phir bolate hain to yah aapaka konphidens hai jabaki jab aap pahale bolate hain aur phir sochate hain ki aapaka ovar konphidens hai aisa sochana ki main yah kar sakata hoon ki aapaka aatmavishvaas hai jabaki yah sochana ki keval main hee se kar sakata hoon to ye aapaka ati aatmavishvaas hai kisee bhee cheej ke paksh aur vipaksh par bhalee-bhaanti vichaar karane ke baad drshy uthaana aata konphidens hai jabaki jhoothe ahankaar ke prabhaav mein laaparavaahee se vyavahaar karana aapaka ovar konphidens hai mujhe pata hai main kaun hoon yah mera aatmavishvaas hai jabaki main unhen dikhaana chaahata hoon ki main kaun hoon yah aapaka ati aatmavishvaas hai

bolkar speaker
कॉन्फिडेंस और ओवर कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है?Confidence Aur Over Confidence Mein Kya Fark Hai
Vijay shankar pal Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Vijay जी का जवाब
My youtube channel - Tech with vijay
1:03
नमस्कार साथियों सवाल है कॉफी डेंट और ओवर कॉन्फिडेंस का क्या मतलब होता है तो साथियों कॉफी डे जो होता है यह एक्सपीरियंस होता है जैसे हम कोई काम लगातार करते हैं फिर हमारे अंदर कॉपी डाटा जाता है कि हम एक काम कर सकते हैं आगे हम हमारे अंदर एक जज्बा होता है और हमारी जो इस पीरियड होती है उसी स्पीयर्स के आधार पर हम बोलते हैं कि हमें काम कर सकते हैं लेकिन वह काफी रेंस का होता है यह होता है हमारे पास नहीं होती है लेकिन हम उस काम को सोचते हैं कि कल मतलब सोचता है और पता नहीं क्या पाएंगे कि नहीं वह तो करने के बाद पता चलेगा तो यही दोनों में अंतर होता है ओवरकॉन्फिडेंट से लोग कई बार विचलित हो जाते हैं और पीछे भी हो जाते हैं ऊपर काफी नहीं रखने का जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद
Namaskaar saathiyon savaal hai kophee dent aur ovar konphidens ka kya matalab hota hai to saathiyon kophee de jo hota hai yah eksapeeriyans hota hai jaise ham koee kaam lagaataar karate hain phir hamaare andar kopee daata jaata hai ki ham ek kaam kar sakate hain aage ham hamaare andar ek jajba hota hai aur hamaaree jo is peeriyad hotee hai usee speeyars ke aadhaar par ham bolate hain ki hamen kaam kar sakate hain lekin vah kaaphee rens ka hota hai yah hota hai hamaare paas nahin hotee hai lekin ham us kaam ko sochate hain ki kal matalab sochata hai aur pata nahin kya paenge ki nahin vah to karane ke baad pata chalega to yahee donon mein antar hota hai ovarakonphident se log kaee baar vichalit ho jaate hain aur peechhe bhee ho jaate hain oopar kaaphee nahin rakhane ka javaab pasand aaya hoga dhanyavaad

bolkar speaker
कॉन्फिडेंस और ओवर कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है?Confidence Aur Over Confidence Mein Kya Fark Hai
srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
0:40

bolkar speaker
कॉन्फिडेंस और ओवर कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है?Confidence Aur Over Confidence Mein Kya Fark Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
2:50
पॉलिटिक्स ओवर कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है कॉन्फिडेंस आता है आपके पास आपके नॉलेज से अपनी करतूत वैसे जैसे कि अगर आप किसी किसी टीचर हो और आपके पास तो इतना नॉलेज है उसका अपनी इतनी बार पढ़ाया हुआ है तो आपको कॉन्फिडेंट होते हैं आप उस समय कि आप उसको बहुत अच्छे से पढ़ा सकते हो या और किसी विषय कि आपने बहुत अच्छे से पढ़ाई की है उसको हर तरीके से बहुत ज्यादा प्रैक्टिस की तो आप कॉन्फिडेंट होते हो कि मुझे उत्तर उत्तर जल जाएगा आप तो नहीं बिजनेस के बिजनेस के अंदर में आप कई सालों से बिजनेस करते हो तो आपने गलतियां कर रही है बहुत सारी अपने काफी ठीक है 1 मिनट के अंदर में तो कॉन्फिडेंट होते हो कि आप बिजनेस कर लोगे अपने कई बार तेज पर जाकर बात की है पहले आप नहीं करते थे लेकिन धीरे-धीरे जाकर स्टेज पर बोला है और बोलते हो बोलते हो तो आप कॉन्फिडेंट हो क्या आप को 23:00 पीएम नहीं आते इस पर किसी भी चीज को बोलोगे लेकिन जब और कॉन्फिडेंस की बातें और कॉन्फिडेंस जाने क्या होता है कई बार हम लोग अंडरलाइन कर देते हैं कि हमारे पास तिल से क्या है और उसके बाहर जाकर काम करने की कोशिश करते हैं जैसे कि मैं बाइक चलाता हूं बाइक चलाता हूं तो मैं कॉन्फिडेंट होती में एक जगह से भी जगह तक बाइक चलाते हो पहुंच जाऊंगा लेकिन अगर इस बाइक को मैं यह समझ रहा हूं कि मैं 10 साल से बाइक चलाते नाउ आई विल ट्राई लाइक करके कैसे में लाइव करूंगा व्हाट्सएप पर निकाल लूंगा अभी हो गया और कॉन्फिडेंस क्योंकि अब उसके लिए बने नहीं हो मैं आपके भाई को उसके लिए बनी हुई है कहीं ना कहीं बाइक स्लिप हो गई किसी का डर लग गया और एक्सीडेंट हो गया और कॉन्फिडेंट पर का एक्सीडेंट हो गया कई बार लोग अपने आपको फिट समझ बैठते हैं और कई बार ऐसी जगह पर जाकर अपना खुद का साहस दिखाते जैसे पहाड़ियों में या फिर कहीं ऐसी जगह एडवेंचर इस जगह पर जाकर क्या मैं तो ठीक हूं आपकी फिटनेस फ्रीक जिम में थी लेकिन आपकी फिटनेस पहाड़ों के ऊपर एक पहाड़ी से दूसरे पहाड़ी पर जाना है और कहीं पर छलांग लगाना यह कई ग्रुप चाहिए वहां पर नहीं थी और अब उन्हें वह करते समय आपको इजीली और कॉन्फिडेंस हो सकते हो आप और कॉन्फिडेंस वाली चीज क्या होती है और छोटी-छोटी गलतियों को देखने नहीं देती आप को आप उसको अंडरलाइन करते हो चीजों को और उसमें एग्जिट करती है और आप गलती कर बैठते हो और उसने नुकसान होता है तो कौन सी दवा काम करते हो तो हंड्रेड परसेंट चार्ज थे कि आपको उससे सुन लेगी और कॉन्फिडेंट होकर जब काम करते हो तो इसके अंदर में मोस्ट ऑफ द टाइम प्रोबेबिलिटी यह है कि आपके साथ कुछ ना कुछ बुरा या गलत हो जाएगा तुझे अपने चीज देखी नहीं है अनदेखा कर दिया बहुत सारी चीजों को आज वही एक गले का शायरी पिक
Politiks ovar konphidens mein kya phark hai konphidens aata hai aapake paas aapake nolej se apanee karatoot vaise jaise ki agar aap kisee kisee teechar ho aur aapake paas to itana nolej hai usaka apanee itanee baar padhaaya hua hai to aapako konphident hote hain aap us samay ki aap usako bahut achchhe se padha sakate ho ya aur kisee vishay ki aapane bahut achchhe se padhaee kee hai usako har tareeke se bahut jyaada praiktis kee to aap konphident hote ho ki mujhe uttar uttar jal jaega aap to nahin bijanes ke bijanes ke andar mein aap kaee saalon se bijanes karate ho to aapane galatiyaan kar rahee hai bahut saaree apane kaaphee theek hai 1 minat ke andar mein to konphident hote ho ki aap bijanes kar loge apane kaee baar tej par jaakar baat kee hai pahale aap nahin karate the lekin dheere-dheere jaakar stej par bola hai aur bolate ho bolate ho to aap konphident ho kya aap ko 23:00 peeem nahin aate is par kisee bhee cheej ko bologe lekin jab aur konphidens kee baaten aur konphidens jaane kya hota hai kaee baar ham log andaralain kar dete hain ki hamaare paas til se kya hai aur usake baahar jaakar kaam karane kee koshish karate hain jaise ki main baik chalaata hoon baik chalaata hoon to main konphident hotee mein ek jagah se bhee jagah tak baik chalaate ho pahunch jaoonga lekin agar is baik ko main yah samajh raha hoon ki main 10 saal se baik chalaate nau aaee vil traee laik karake kaise mein laiv karoonga vhaatsep par nikaal loonga abhee ho gaya aur konphidens kyonki ab usake lie bane nahin ho main aapake bhaee ko usake lie banee huee hai kaheen na kaheen baik slip ho gaee kisee ka dar lag gaya aur ekseedent ho gaya aur konphident par ka ekseedent ho gaya kaee baar log apane aapako phit samajh baithate hain aur kaee baar aisee jagah par jaakar apana khud ka saahas dikhaate jaise pahaadiyon mein ya phir kaheen aisee jagah edavenchar is jagah par jaakar kya main to theek hoon aapakee phitanes phreek jim mein thee lekin aapakee phitanes pahaadon ke oopar ek pahaadee se doosare pahaadee par jaana hai aur kaheen par chhalaang lagaana yah kaee grup chaahie vahaan par nahin thee aur ab unhen vah karate samay aapako ijeelee aur konphidens ho sakate ho aap aur konphidens vaalee cheej kya hotee hai aur chhotee-chhotee galatiyon ko dekhane nahin detee aap ko aap usako andaralain karate ho cheejon ko aur usamen egjit karatee hai aur aap galatee kar baithate ho aur usane nukasaan hota hai to kaun see dava kaam karate ho to handred parasent chaarj the ki aapako usase sun legee aur konphident hokar jab kaam karate ho to isake andar mein most oph da taim probebilitee yah hai ki aapake saath kuchh na kuchh bura ya galat ho jaega tujhe apane cheej dekhee nahin hai anadekha kar diya bahut saaree cheejon ko aaj vahee ek gale ka shaayaree pik

bolkar speaker
कॉन्फिडेंस और ओवर कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है?Confidence Aur Over Confidence Mein Kya Fark Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:29
हेलो बंद स्वागत है आपका आपका प्रश्न कॉन्फिडेंस और ओवरकॉन्फिडेंस में क्या फर्क है तो फ्रेंड जब हमें किसी काम करने के लिए मेरे अंदर से यह मजबूरी होती है क्या मिस कॉल कर लेंगे तो वही कॉन्फिडेंस होता है और जब मैं उसमें ज्यादा बढ़ चढ़कर बातें करने लगे ज्यादा बढ़ बोल बोलने लगे तो भी ओवरकॉन्फिडेंस होता है किसी काम को करने के लिए योग्यता होनी चाहिए वह कौन सी डांस होता है और फालतू की बात बंद करें तो वह ओवर कॉन्फिडेंस होता है धन्यवाद
Helo band svaagat hai aapaka aapaka prashn konphidens aur ovarakonphidens mein kya phark hai to phrend jab hamen kisee kaam karane ke lie mere andar se yah majabooree hotee hai kya mis kol kar lenge to vahee konphidens hota hai aur jab main usamen jyaada badh chadhakar baaten karane lage jyaada badh bol bolane lage to bhee ovarakonphidens hota hai kisee kaam ko karane ke lie yogyata honee chaahie vah kaun see daans hota hai aur phaalatoo kee baat band karen to vah ovar konphidens hota hai dhanyavaad

bolkar speaker
कॉन्फिडेंस और ओवर कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है?Confidence Aur Over Confidence Mein Kya Fark Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
1:44
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है कॉन्फिडेंस और ओवरकॉन्फिडेंस में क्या फर्क है दोस्तों कॉन्फिडेंस का मतलब होता है आत्मविश्वास अपने ऊपर आस्था लेकिन ओवर कॉन्फिडेंस का अर्थ होता है अति आत्मविश्वास दैनिक बहुत ज्यादा अपने ऊपर विश्वास कर लेना दोस्तों जो पहले स्थिति है कॉन्फिडेंस को एकदम सही है आत्मविश्वास होना जरूरी है लेकिन बहुत ज्यादा आत्मविश्वास होना या अति आत्मविश्वास करना यह बहुत ही गलत बात है क्योंकि दोस्तों का ही बात जो वेबसाइट होते हैं बिजनेस होते हैं उनके उदाहरण के तौर पर देखा जाए तो कुछ लोग ओवरकॉन्फिडेंस कर लेते हैं अपने काम पर अति विश्वास कर लेते हैं वह सोचते हैं कि हम अच्छा कर लेंगे और इसमें विक आज तुमको गाली ऐसा करके वह इधर उधर से कर शादी कर लेते हैं जिससे कि आगे चलकर उन्हें बहुत ज्यादा हानियों का सामना करना पड़ता है बहुत बड़ी बड़ी डील कर लेते हैं और फिर बाद में संभलने पाने के कारण और अपना व्यवसाय अपना काम घाटे में ले जाते हैं और फिर बाद में बहुत सी परेशानियां उन्हें घेर लेती है इसलिए जो ओवरकॉन्फिडेंस होता है बहुत ही ज्यादा विश्वास करना ऐसा नहीं होना चाहिए और कौन सी टीम उपरांत विश्वास उतना ही रखिए जितना काम में लेना होता है या होना चाहिए धन्यवाद
Namaskaar doston aapaka prashn hai konphidens aur ovarakonphidens mein kya phark hai doston konphidens ka matalab hota hai aatmavishvaas apane oopar aastha lekin ovar konphidens ka arth hota hai ati aatmavishvaas dainik bahut jyaada apane oopar vishvaas kar lena doston jo pahale sthiti hai konphidens ko ekadam sahee hai aatmavishvaas hona jarooree hai lekin bahut jyaada aatmavishvaas hona ya ati aatmavishvaas karana yah bahut hee galat baat hai kyonki doston ka hee baat jo vebasait hote hain bijanes hote hain unake udaaharan ke taur par dekha jae to kuchh log ovarakonphidens kar lete hain apane kaam par ati vishvaas kar lete hain vah sochate hain ki ham achchha kar lenge aur isamen vik aaj tumako gaalee aisa karake vah idhar udhar se kar shaadee kar lete hain jisase ki aage chalakar unhen bahut jyaada haaniyon ka saamana karana padata hai bahut badee badee deel kar lete hain aur phir baad mein sambhalane paane ke kaaran aur apana vyavasaay apana kaam ghaate mein le jaate hain aur phir baad mein bahut see pareshaaniyaan unhen gher letee hai isalie jo ovarakonphidens hota hai bahut hee jyaada vishvaas karana aisa nahin hona chaahie aur kaun see teem uparaant vishvaas utana hee rakhie jitana kaam mein lena hota hai ya hona chaahie dhanyavaad

bolkar speaker
कॉन्फिडेंस और ओवर कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है?Confidence Aur Over Confidence Mein Kya Fark Hai
Anand Patel Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Anand जी का जवाब
Mathematics Teacher
0:49
वालेकुम सलाम और ओवरकॉन्फिडेंस में क्या फर्क है तो कॉन्फ्रेंस जो है अपने ऊपर विश्वास रखना और ओवर कॉन्फिडेंस अत्यधिक विश्वास रखना तो वह कई लोग जो कॉन्फिडेंट होते हैं उन्हें विश्वास होता है साहस होते हैं उनके अंदर कि हम कोई काम कर सकते हैं लेकिन ओवरकॉन्फिडेंस जो होता है वह हमेशा कार्य करने के पहले अगर कोई व्यक्ति चाहता है कि हां मैं यह कार्य कर लूंगा बहुत ज्यादा विश्वास के साथ कहता है तो ओवर कॉन्फिडेंस ख्याल आता है हमें अपने जीवन में कॉन्फिडेंट आफ कॉन्फिडेंस होना चाहिए ओवर कॉन्फिडेंस चाहिए
Vaalekum salaam aur ovarakonphidens mein kya phark hai to konphrens jo hai apane oopar vishvaas rakhana aur ovar konphidens atyadhik vishvaas rakhana to vah kaee log jo konphident hote hain unhen vishvaas hota hai saahas hote hain unake andar ki ham koee kaam kar sakate hain lekin ovarakonphidens jo hota hai vah hamesha kaary karane ke pahale agar koee vyakti chaahata hai ki haan main yah kaary kar loonga bahut jyaada vishvaas ke saath kahata hai to ovar konphidens khyaal aata hai hamen apane jeevan mein konphident aaph konphidens hona chaahie ovar konphidens chaahie

bolkar speaker
कॉन्फिडेंस और ओवर कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है?Confidence Aur Over Confidence Mein Kya Fark Hai
Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
2:01
हेल्पलाइन नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है कॉन्फिडेंस और और कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है कार्ड फीडिंग का मतलब होता है विश्वास आप में स्वास्थ्य और कॉन्फिडेंस का मतलब होता है अत्यधिक विश्वास विश्वास जब रहता है किसी काम के प्रति हमारा तब तो ठीक रहता है लेकिन वही विश्वास सबसे ज्यादा हो जाता है अधिक हो जाता है विश्वास अधिक हो जाता है और कॉन्फिडेंस में आ जाता है जो कि गलत होता है मान लीजिए कोई काम है मैं उसे बोल रहा हूं यह काम मैं कर लूंगा कि मेरा कॉन्फिडेंस है लेकिन मैं यह बोलूं कि यह काम मैं ही कर सकता हूं इसके अलावा कोई नहीं कर सकता ठीक है भाई तू कहीं न कहीं यह मेरे ओवर कॉन्फिडेंस के साथ साथ है इसमें घमंड की भी जो है अहम भूमिका होती है और फिर आप सभी जानते हैं कि जहां पर घमंड नामक शब्द आ जाता है मैं नामक शब्द आ जाता है वहां पर कोई काम जो होने वाला भी रहता है वह भी नहीं हो पाता है तो घमंड जो होता है वह ओवरकॉन्फिडेंस में जो है परिवर्तित हो जाता है जो आदमी जो है अनसक्सेस फूल हो जाता है विश्वास रखिए अपने पर रखिए और किसी को बताइए मत कोई काम आपको दिया जा रहा है वह आप अपने विश्वास में रखे अपने मन में रखे यह क्या मैं यह कर सकता हूं यह सोचे आप यह क्या मैं इस काम को कर सकता हूं मेरी क्षमता इतनी है कि मैं इस काम को कर लूंगा फिर जब अंदर से जवाब आएगी यस आप उस काम को कर सकते हैं तो आप उस काम को लीजिए लेकिन पता लगे कि आपकी इतनी क्षमता ही नहीं है वैल्यू ही नहीं है और आप शाबाशी में वाहवाही में भूकंप ले लेते हैं और आप अगर उस काम को नहीं कर पाते हैं तो आप हंसी के पात्र बनते हैं तो जब ऐसा करते हैं तू ओवरकॉन्फिडेंस में आ जाता है तो आशा फ्रेंड की आप सभी को यह जवाब पसंद आया होगा नमस्कार
Helpalain namaskaar jaisa ki aapaka prashn hai konphidens aur aur konphidens mein kya phark hai kaard pheeding ka matalab hota hai vishvaas aap mein svaasthy aur konphidens ka matalab hota hai atyadhik vishvaas vishvaas jab rahata hai kisee kaam ke prati hamaara tab to theek rahata hai lekin vahee vishvaas sabase jyaada ho jaata hai adhik ho jaata hai vishvaas adhik ho jaata hai aur konphidens mein aa jaata hai jo ki galat hota hai maan leejie koee kaam hai main use bol raha hoon yah kaam main kar loonga ki mera konphidens hai lekin main yah boloon ki yah kaam main hee kar sakata hoon isake alaava koee nahin kar sakata theek hai bhaee too kaheen na kaheen yah mere ovar konphidens ke saath saath hai isamen ghamand kee bhee jo hai aham bhoomika hotee hai aur phir aap sabhee jaanate hain ki jahaan par ghamand naamak shabd aa jaata hai main naamak shabd aa jaata hai vahaan par koee kaam jo hone vaala bhee rahata hai vah bhee nahin ho paata hai to ghamand jo hota hai vah ovarakonphidens mein jo hai parivartit ho jaata hai jo aadamee jo hai anasakses phool ho jaata hai vishvaas rakhie apane par rakhie aur kisee ko bataie mat koee kaam aapako diya ja raha hai vah aap apane vishvaas mein rakhe apane man mein rakhe yah kya main yah kar sakata hoon yah soche aap yah kya main is kaam ko kar sakata hoon meree kshamata itanee hai ki main is kaam ko kar loonga phir jab andar se javaab aaegee yas aap us kaam ko kar sakate hain to aap us kaam ko leejie lekin pata lage ki aapakee itanee kshamata hee nahin hai vailyoo hee nahin hai aur aap shaabaashee mein vaahavaahee mein bhookamp le lete hain aur aap agar us kaam ko nahin kar paate hain to aap hansee ke paatr banate hain to jab aisa karate hain too ovarakonphidens mein aa jaata hai to aasha phrend kee aap sabhee ko yah javaab pasand aaya hoga namaskaar

bolkar speaker
कॉन्फिडेंस और ओवर कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है?Confidence Aur Over Confidence Mein Kya Fark Hai
Author Yogendra Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Author जी का जवाब
लेखक
3:44
हेलो दोस्तों मेरा नाम है योगेंद्र सिंह और आप मुझे सुन रहे हैं बोलकर ऐप पर एक लेख हो साथ में वॉइस टाइपिंग की प्रैक्टिस भी कर रहा हूं लाइफ कोच की तरह से काम भी करने की कोशिश कर रहा हूं और जो सवाल है वो ये है कि कॉन्फिडेंस और ओवरकॉन्फिडेंस में क्या फर्क है बहुत सीधी सिंपल भाषा में अगर बताना चाहो तो बात यह है कि जब इंसान को कॉन्फिडेंस होता है तो उसके साथ साथ वह उस लेवल की तैयारी भी करता है लेकिन जब और कॉन्फिडेंस होता है तो उसमें विश्वास ज्यादा होता है कि वह उस काम को कर सकता है बेशक वह उसके लेवल की तैयारी नहीं करता बात बहुत सीधी सी है कि अगर आप किसी चीज को लेकर कॉन्फिडेंस लेकिन आप उसके लिए इतनी मेहनत नहीं कर रहे हैं तो यह आपका ओवर कॉन्फिडेंस है अगर आप में कॉन्फिडेंस है फिर भी आप मेहनत कर रहे हैं बहुत अच्छी तरीके से तो फिर कहते हैं कॉन्फिडेंस और भी है जो अक्सर सुनने को मिलता है बोलिए है कि कॉन्फिडेंस जीव होता है कि मैं किसी काम को कर सकता हूं और ओवर कॉन्फिडेंस यह होता है जिसे हम इंकार भी कहते हैं कि इस काम को सिर्फ और सिर्फ मैं ही कर सकता है विश्वास करना खुद पर बहुत अच्छी बात है लेकिन उसके साथ उस काम की जानकारी उस काम को करना ज्यादा जरूरी है लेकिन अगर आप सिर्फ खोखले विश्वास को ले करके कहते रहेंगे 3 काम कर सकता हूं तो वह ओवरकॉन्फिडेंस में आ जाता है मान लीजिए किसी बच्चे ने कहा है कि वह पास हो जाएगा बहुत अच्छे नंबरों से पास हो जाएगा लेकिन वह पढ़ाई बिल्कुल भी नहीं कर रहा तो जाहिर सी बात है उसमें ओवर कॉन्फिडेंस है क्योंकि जितनी बड़ी बड़ी बातें वह कहना है उस लेवल की तैयारी नहीं कर रहा है वही दूसरा बच्चा जो कह तो रहा है कि मैं पास हो जाऊंगा लेकिन वह मेहनत भी लगातार बहुत ज्यादा कर रहा है तो वह कॉन्फिडेंस होता है कॉन्फिडेंस में इंसान हमेशा तैयारी करके हम मेहनत करता है बहुत लगन से और ओवरकॉन्फिडेंस में इंसान सिर्फ बड़ी-बड़ी बातें करता है उस लेवल के काम नहीं करता तो बेहतर है कि इंसान के साथ खुद पर विश्वास रखे लेकिन साथ में लगन से मेहनत करें तभी उसे फायदा होने वाला है सिर्फ बड़ी-बड़ी विश्वास की बातें करने से कि मैं ऐसा कर दो हां मैं वैसा कर दूंगा मैं यह कर सकता हूं और उसको लेकर के उस स्तर पर काम नहीं किए जाओ लगन से काम नहीं किया जाए तो वह बिल्कुल बेकार है इसलिए ओवरकॉन्फिडेंस हमेशा लोगों को ले डूबता है और वही कॉन्फिडेंस इन लोगों में बहुत ज्यादा विश्वास बनाता है और उन्हें सफलता हासिल करने में मदद करता है इसलिए बेसन का प्रीपेड कॉन्फिडेंस रखे लेकिन शासन भारत में कोई कमी मत कीजिए और जहां मेहनत में कमी करना शुरू कर देंगे वही आपका कॉन्फिडेंस ओवरकॉन्फिडेंस में बदल जाएगा जिसका आपको नुकसान उठाना पड़ सकता है बहुत-बहुत धन्यवाद
Helo doston mera naam hai yogendr sinh aur aap mujhe sun rahe hain bolakar aip par ek lekh ho saath mein vois taiping kee praiktis bhee kar raha hoon laiph koch kee tarah se kaam bhee karane kee koshish kar raha hoon aur jo savaal hai vo ye hai ki konphidens aur ovarakonphidens mein kya phark hai bahut seedhee simpal bhaasha mein agar bataana chaaho to baat yah hai ki jab insaan ko konphidens hota hai to usake saath saath vah us leval kee taiyaaree bhee karata hai lekin jab aur konphidens hota hai to usamen vishvaas jyaada hota hai ki vah us kaam ko kar sakata hai beshak vah usake leval kee taiyaaree nahin karata baat bahut seedhee see hai ki agar aap kisee cheej ko lekar konphidens lekin aap usake lie itanee mehanat nahin kar rahe hain to yah aapaka ovar konphidens hai agar aap mein konphidens hai phir bhee aap mehanat kar rahe hain bahut achchhee tareeke se to phir kahate hain konphidens aur bhee hai jo aksar sunane ko milata hai bolie hai ki konphidens jeev hota hai ki main kisee kaam ko kar sakata hoon aur ovar konphidens yah hota hai jise ham inkaar bhee kahate hain ki is kaam ko sirph aur sirph main hee kar sakata hai vishvaas karana khud par bahut achchhee baat hai lekin usake saath us kaam kee jaanakaaree us kaam ko karana jyaada jarooree hai lekin agar aap sirph khokhale vishvaas ko le karake kahate rahenge 3 kaam kar sakata hoon to vah ovarakonphidens mein aa jaata hai maan leejie kisee bachche ne kaha hai ki vah paas ho jaega bahut achchhe nambaron se paas ho jaega lekin vah padhaee bilkul bhee nahin kar raha to jaahir see baat hai usamen ovar konphidens hai kyonki jitanee badee badee baaten vah kahana hai us leval kee taiyaaree nahin kar raha hai vahee doosara bachcha jo kah to raha hai ki main paas ho jaoonga lekin vah mehanat bhee lagaataar bahut jyaada kar raha hai to vah konphidens hota hai konphidens mein insaan hamesha taiyaaree karake ham mehanat karata hai bahut lagan se aur ovarakonphidens mein insaan sirph badee-badee baaten karata hai us leval ke kaam nahin karata to behatar hai ki insaan ke saath khud par vishvaas rakhe lekin saath mein lagan se mehanat karen tabhee use phaayada hone vaala hai sirph badee-badee vishvaas kee baaten karane se ki main aisa kar do haan main vaisa kar doonga main yah kar sakata hoon aur usako lekar ke us star par kaam nahin kie jao lagan se kaam nahin kiya jae to vah bilkul bekaar hai isalie ovarakonphidens hamesha logon ko le doobata hai aur vahee konphidens in logon mein bahut jyaada vishvaas banaata hai aur unhen saphalata haasil karane mein madad karata hai isalie besan ka preeped konphidens rakhe lekin shaasan bhaarat mein koee kamee mat keejie aur jahaan mehanat mein kamee karana shuroo kar denge vahee aapaka konphidens ovarakonphidens mein badal jaega jisaka aapako nukasaan uthaana pad sakata hai bahut-bahut dhanyavaad

bolkar speaker
कॉन्फिडेंस और ओवर कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है?Confidence Aur Over Confidence Mein Kya Fark Hai
satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
0:31
क्वेश्चन पूछा गया कि कॉन्फिडेंस और ओवरकॉन्फिडेंस में क्या अंतर है तो कंप्यूटर हम सभी जानते हैं कि हर किसी व्यक्ति के जरूरत है कुछ करने की क्षमता को दर्शाता है कोई व्यक्ति जो है वह कहता है कि उस पर तो क्या काम कर सकते हैं तो उसके अंदर कंप्यूटर थे लेकिन वहां पर कहता है कि हमें सिर्फ मैं क्या करूंगा यह जो होता है वह ऊपर करके सोता है ताकि उसे इतना जो है क्या आपने एक कमीज पर जो आता है थैंक विश्वास होता है कि वह जो है दूसरों के प्रति जो हैं अपने आप को जो मुझे समझते हैं
Kveshchan poochha gaya ki konphidens aur ovarakonphidens mein kya antar hai to kampyootar ham sabhee jaanate hain ki har kisee vyakti ke jaroorat hai kuchh karane kee kshamata ko darshaata hai koee vyakti jo hai vah kahata hai ki us par to kya kaam kar sakate hain to usake andar kampyootar the lekin vahaan par kahata hai ki hamen sirph main kya karoonga yah jo hota hai vah oopar karake sota hai taaki use itana jo hai kya aapane ek kameej par jo aata hai thaink vishvaas hota hai ki vah jo hai doosaron ke prati jo hain apane aap ko jo mujhe samajhate hain

bolkar speaker
कॉन्फिडेंस और ओवर कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है?Confidence Aur Over Confidence Mein Kya Fark Hai
शिवम मौर्या Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए शिवम जी का जवाब
Unknown
0:49
देखिए प्रश्न जो आपका कॉन्फिडेंस और ओवरकॉन्फिडेंस में क्या फर्क है इस चीज को समझ लेना बहुत ही जरूरी है और आपने पूछा है तो बहुत सारे लोगों को यह समस्या होगी वो जो समझ नहीं पाते होंगे कि कॉन्फिडेंस और ओवर कॉन्फिडेंस के मामले में तो हम इसको क्लियर कर दें जैसे ही आप किसी बात को कहते हैं कि मैं इस काम को कर सकता हूं तो यह हो गया आपका कॉन्फिडेंस कि हां आप उस काम को कर सकते हैं उसके बारे में जानकारी लगते हैं मगर जब आप यह किस बात की बात कोई कोई भी बात हो जवाब दो ही बोलते हैं कि यह काम मैं सिर्फ मैं कर सकता हूं सिर्फ मैं तो यह आपका उम्र कंफ्यूज हो गया यानी कि कोई और नहीं कर सकता है सिर्फ मैं कर सकता हूं तू ही आपका ओवर कॉन्फिडेंस है और यह खतरनाक है सिर्फ अपने आप को ही बड़ा साबित करना यह गलत बात है
Dekhie prashn jo aapaka konphidens aur ovarakonphidens mein kya phark hai is cheej ko samajh lena bahut hee jarooree hai aur aapane poochha hai to bahut saare logon ko yah samasya hogee vo jo samajh nahin paate honge ki konphidens aur ovar konphidens ke maamale mein to ham isako kliyar kar den jaise hee aap kisee baat ko kahate hain ki main is kaam ko kar sakata hoon to yah ho gaya aapaka konphidens ki haan aap us kaam ko kar sakate hain usake baare mein jaanakaaree lagate hain magar jab aap yah kis baat kee baat koee koee bhee baat ho javaab do hee bolate hain ki yah kaam main sirph main kar sakata hoon sirph main to yah aapaka umr kamphyooj ho gaya yaanee ki koee aur nahin kar sakata hai sirph main kar sakata hoon too hee aapaka ovar konphidens hai aur yah khataranaak hai sirph apane aap ko hee bada saabit karana yah galat baat hai

bolkar speaker
कॉन्फिडेंस और ओवर कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है?Confidence Aur Over Confidence Mein Kya Fark Hai
Sanjay Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sanjay जी का जवाब
𝔖𝔱𝔲𝔡𝔢𝔫𝔱 | 𝔈𝔡𝔲𝔠𝔞𝔱𝔦𝔬𝔫𝔦𝔰𝔱
0:30
कांग्रेस और और कांटे में क्या फर्क होता है तो कॉन्फिडेंस जो होता है वह एक अच्छी चीज है जबकि ओवरकॉन्फिडेंस है वह अच्छी चीज नहीं है कॉन्फिडेंस में जो व्यक्ति होता है वह इतना विश्वास रखता है कि जो भी कार्य करेगा वह काफी कॉन्फिडेंस के साथ में करेगा और उसका जो कार्य होगा वह सफल भी आसानी से जाते और कानपुर में क्या होता है कि वह टाइप हो जाता है और अपने कार्य को योग करने का तरीका होता है उसमें वह थोड़ी सी दिलाई कर देता है जैसे कि उसका जो कार्य का सफलता का रेट है वह गिर जाता है यही दोनों में अंतर है धन्यवाद
Kaangres aur aur kaante mein kya phark hota hai to konphidens jo hota hai vah ek achchhee cheej hai jabaki ovarakonphidens hai vah achchhee cheej nahin hai konphidens mein jo vyakti hota hai vah itana vishvaas rakhata hai ki jo bhee kaary karega vah kaaphee konphidens ke saath mein karega aur usaka jo kaary hoga vah saphal bhee aasaanee se jaate aur kaanapur mein kya hota hai ki vah taip ho jaata hai aur apane kaary ko yog karane ka tareeka hota hai usamen vah thodee see dilaee kar deta hai jaise ki usaka jo kaary ka saphalata ka ret hai vah gir jaata hai yahee donon mein antar hai dhanyavaad

bolkar speaker
कॉन्फिडेंस और ओवर कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है?Confidence Aur Over Confidence Mein Kya Fark Hai
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:30
कसा वाली के कॉन्फिडेंस और ओवरकॉन्फिडेंस में क्या फर्क है तो दिल कॉन्फिडेंस वह होता है जब आप चीजों को करते हैं पूरी अपनी विल पावर के साथ नहीं कि आप कोई भी कार्य को करने जा रहे हैं उसको आते ही तरीके से कर लेंगे ओवरकॉन्फिडेंस होता है कि जब आपको लगता है कि नहीं हम भी काम कर ही लेंगे और हम इसमें गलती कर ही नहीं सकते यह होता है और कॉन्फिडेंस क्योंकि जो गलती की बात करें तो गलती किसी से भी हो सकती है कभी भी हो सकती है जरूरत है आपको हमेशा सतर्क रहने की दूसरों के एक्सपीरियंस से सीख लेने की ओर लाइफ में आगे बढ़ने की आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद
Kasa vaalee ke konphidens aur ovarakonphidens mein kya phark hai to dil konphidens vah hota hai jab aap cheejon ko karate hain pooree apanee vil paavar ke saath nahin ki aap koee bhee kaary ko karane ja rahe hain usako aate hee tareeke se kar lenge ovarakonphidens hota hai ki jab aapako lagata hai ki nahin ham bhee kaam kar hee lenge aur ham isamen galatee kar hee nahin sakate yah hota hai aur konphidens kyonki jo galatee kee baat karen to galatee kisee se bhee ho sakatee hai kabhee bhee ho sakatee hai jaroorat hai aapako hamesha satark rahane kee doosaron ke eksapeeriyans se seekh lene kee or laiph mein aage badhane kee aapaka din shubh rahe dhanyavaad

bolkar speaker
कॉन्फिडेंस और ओवर कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है?Confidence Aur Over Confidence Mein Kya Fark Hai
Ashvani Patel Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ashvani जी का जवाब
Kheti
1:11
नमस्कार दोस्तों जैसा कि प्रश्न में पूछा गया कॉन्फिडेंस और ओवरकॉन्फिडेंस में क्या फर्क है तो दोस्तों कॉन्फिडेंस क्यों होता है वह होता है कि अगर हम किसी काम को करने जा रहे हैं या कोई काम हमको दिया गया है कि आप इस काम को करिए और जो है कि हम उस काम को आसानी से कर लेंगे यह बोलना हमारा कॉन्फिडेंस है लेकिन अगर कोई काम पड़ा है और अगर उस काम को यह हम बोले यह काम सिर्फ और सिर्फ हम ही कर सकते हैं इससे ओवरकॉन्फिडेंस करते हैं और जो एक ही कॉन्फिडेंस में किया गया कार्य हमेशा बेहतर होता है और हमें जो है कि उससे सीखने को मिलता है और वह हमारे लिए भी बेहतर साबित होता है और ओवरकॉन्फिडेंस में किया गया काम हमेशा ही गलत हो जाता है और हम में चोट लगने की भी संभावनाएं बनती है और जो एक तरफ से कुछ गलत अभी हो जाती हैं इसलिए दोस्तों अगर कोई भी आप काम करें तो उसको कॉन्फिडेंस के साथ करें या ना कि ओवर कॉन्फिडेंस के साथ करें
Namaskaar doston jaisa ki prashn mein poochha gaya konphidens aur ovarakonphidens mein kya phark hai to doston konphidens kyon hota hai vah hota hai ki agar ham kisee kaam ko karane ja rahe hain ya koee kaam hamako diya gaya hai ki aap is kaam ko karie aur jo hai ki ham us kaam ko aasaanee se kar lenge yah bolana hamaara konphidens hai lekin agar koee kaam pada hai aur agar us kaam ko yah ham bole yah kaam sirph aur sirph ham hee kar sakate hain isase ovarakonphidens karate hain aur jo ek hee konphidens mein kiya gaya kaary hamesha behatar hota hai aur hamen jo hai ki usase seekhane ko milata hai aur vah hamaare lie bhee behatar saabit hota hai aur ovarakonphidens mein kiya gaya kaam hamesha hee galat ho jaata hai aur ham mein chot lagane kee bhee sambhaavanaen banatee hai aur jo ek taraph se kuchh galat abhee ho jaatee hain isalie doston agar koee bhee aap kaam karen to usako konphidens ke saath karen ya na ki ovar konphidens ke saath karen

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • कॉन्फिडेंस और ओवर कॉन्फिडेंस में क्या फर्क है कॉन्फिडेंस और ओवर कॉन्फिडेंस में फर्क
URL copied to clipboard