#भारत की राजनीति

bolkar speaker

क्या किसान आंदोलन में फूट पड़ गई है?

Kya Kisan Andolan Mein Phoot Pad Gai Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:01
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न क्या किसान आंदोलन में फूट पड़ गई है नहीं फ्रेंड से ऐसा नहीं है किसान आंदोलन में कोई भी प्रूफ नहीं पड़ी है और किसान आंदोलन कर रहे हैं वह जगह-जगह ट्रैक्टर रैली निकाल रहे हैं और किस जनसभाएं चल रही हैं और जो किसान नेता राकेश टिकैत जी व भाषण देते हैं उन्हें सब बड़े उसे सुनते हैं और वह जगह-जगह आंदोलन कर रहे हैं और उन्होंने अंत कह दिया है कि सितंबर अक्टूबर तक आंदोलन खत्म भी नहीं होगा और जब तक एक जब तक यह किसानों के जो कानून बने हुए हैं तीनों किसानों के लिए तो यह जब तक कानून वापस नहीं लिए जाएंगे तब तक किसान आंदोलन बिल्कुल भी खत्म नहीं होगा तो उस आंदोलन में कोई खोट नहीं है और वे आंदोलन चल रहा है और जगह-जगह पर प्रदर्शन हो रहे हैं और उनको रोकने के लिए कहीं-कहीं पर बॉर्डर पर की लगाई गई है और क्रिकेटिंग लगाई गई है कि ज्यादा भीड़ इकट्ठा ना हो पाए तो वह किसान आंदोलन अभी चल रहा है उसमें कोई खोट नहीं है धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn kya kisaan aandolan mein phoot pad gaee hai nahin phrend se aisa nahin hai kisaan aandolan mein koee bhee prooph nahin padee hai aur kisaan aandolan kar rahe hain vah jagah-jagah traiktar railee nikaal rahe hain aur kis janasabhaen chal rahee hain aur jo kisaan neta raakesh tikait jee va bhaashan dete hain unhen sab bade use sunate hain aur vah jagah-jagah aandolan kar rahe hain aur unhonne ant kah diya hai ki sitambar aktoobar tak aandolan khatm bhee nahin hoga aur jab tak ek jab tak yah kisaanon ke jo kaanoon bane hue hain teenon kisaanon ke lie to yah jab tak kaanoon vaapas nahin lie jaenge tab tak kisaan aandolan bilkul bhee khatm nahin hoga to us aandolan mein koee khot nahin hai aur ve aandolan chal raha hai aur jagah-jagah par pradarshan ho rahe hain aur unako rokane ke lie kaheen-kaheen par bordar par kee lagaee gaee hai aur kriketing lagaee gaee hai ki jyaada bheed ikattha na ho pae to vah kisaan aandolan abhee chal raha hai usamen koee khot nahin hai dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या किसान आंदोलन में फूट पड़ गई है?Kya Kisan Andolan Mein Phoot Pad Gai Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:37
किसान आंदोलन में फूट पड़ गई है दोस्तों बिल्कुल भी ऐसा नहीं है किसान आंदोलन के अंदर कोई फोटो नहीं पड़ी है किसान अपना कार्य कर रहे हैं आंदोलन के माध्यम से और गवर्नमेंट की बातें मानती है तो ठीक है वरना आंदोलन किसान खत्म करते हैं या नहीं करते इनको पर निर्भर करता है और पेट तो बिल्कुल भी नहीं पड़ी है क्योंकि मैं डेली अपडेट्स के बारे में पढ़ता रहता हूं कोई पूछने के लिए परंतु हां यानी कि जो के सामने उन्होंने कुछ ऐसे लोग पकड़े हैं जो उनके बीच में जा करके उनको गद्दार साबित करने की कोशिश कर रहे हैं जैसे कोई नकली किसान बनकर जा रहे हैं और देश विरोध कर रहा है
Kisaan aandolan mein phoot pad gaee hai doston bilkul bhee aisa nahin hai kisaan aandolan ke andar koee photo nahin padee hai kisaan apana kaary kar rahe hain aandolan ke maadhyam se aur gavarnament kee baaten maanatee hai to theek hai varana aandolan kisaan khatm karate hain ya nahin karate inako par nirbhar karata hai aur pet to bilkul bhee nahin padee hai kyonki main delee apadets ke baare mein padhata rahata hoon koee poochhane ke lie parantu haan yaanee ki jo ke saamane unhonne kuchh aise log pakade hain jo unake beech mein ja karake unako gaddaar saabit karane kee koshish kar rahe hain jaise koee nakalee kisaan banakar ja rahe hain aur desh virodh kar raha hai

bolkar speaker
क्या किसान आंदोलन में फूट पड़ गई है?Kya Kisan Andolan Mein Phoot Pad Gai Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:23
बस वाले की किसान आंदोलन में फूट पड़ गई है तो मेरे ख्याल से दिल्ली में जब सभी चुनरी पर लाल किले पर देश के तिरंगे के साथ छेड़छाड़ की गई थी तब से चैनल दर्द-ए-दिल बैकफुट पर जा रहे हैं और 14 से किसान धीरे-धीरे अलग हो रहे हैं
Bas vaale kee kisaan aandolan mein phoot pad gaee hai to mere khyaal se dillee mein jab sabhee chunaree par laal kile par desh ke tirange ke saath chhedachhaad kee gaee thee tab se chainal dard-e-dil baikaphut par ja rahe hain aur 14 se kisaan dheere-dheere alag ho rahe hain

bolkar speaker
क्या किसान आंदोलन में फूट पड़ गई है?Kya Kisan Andolan Mein Phoot Pad Gai Hai
T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
4:57
आपका प्रश्न है कि क्या किसान आंदोलन में फूट पड़ गई है देखिए किसी भी आंदोलन के दोस्तों एक आंदोलन जो कि वास्तव में जन भावनाओं के साथ में जुड़ा हुआ है एक आंदोलन जो कि वास्तव में बहुत बड़ी समस्या के निराकरण के लिए है एक आंदोलन जोकि वास्तविक आंदोलन है एक आंदोलन जिसमें राजनीति का समावेश नहीं है उस आंदोलन को हम एक श्रेणी में रख सकते हैं पर एक दूसरा स्वरूप जो आंदोलन का होता है जो कि वर्तमान में दिखाई दे रहा है जो कुछ लोगों की अपनी व्यक्तिगत महत्वाकांक्षाओं को पूरा करने के लिए एक पूरे समाज को एक पूरे वर्ग को हिंसा और अराजकता वाले आंदोलन को शामिल किया जा रहा है एक आंदोलन जिसमें देश विरोधी लोग एक आंदोलन जिसमें ऐसी घटनाएं जो एक राष्ट्र के रूप में शर्मसार करने वाली एक आंदोलन इसमें दुनिया भर की विघटनकारी पार्क में जो कि राष्ट्र के रूप में भारत को बचाने के लिए नीचा दिखाने के लिए कार्य करी गद्दारी कर रही हो पर ऐसी ताकतें भी उस आंदोलन का हिस्सा एक ऐसा आंदोलन जो कि पूरे एक शहर को बंधक बनाकर हिंसा करके राष्ट्र की धरोहर का अपमान कर देश दुनिया में राष्ट्र को नीचा दिखा कर अपनी व्यक्तिगत महत्वाकांक्षाओं को पूर्ण करने के लिए हठधर्मिता के साथ सरकार को नीचे दिखाने की विचारधारा के जब कार्य कर रही हो इस तरह के आंदोलन को हम दूसरी श्रेणी में रखते हैं जो कि वर्तमान में आपको किसान आंदोलन के रूप में क्योंकि कुछ लोग जो कि इस किसान आंदोलन का आज वर्तमान में हिस्सा तो है लेकिन क्योंकि इस पर है क्या जो हमने बात करी यह जो दूसरे स्तर का जो आंदोलन है दूसरा स्वरूप है आंदोलन जो वाकई आंदोलनकारी हैं जो कि वास्तव में समस्याओं के निराकरण के लिए आंदोलन करता है वह धीरे-धीरे इस बात को समझ रहे हैं कि यह कृषि बिल का जो विरोध हो रहा है यह जो आंदोलन हो रहा है इसमें कुछ लोग अपनी स्वयं की महत्वाकांक्षाओं को पूर्ण करने के लिए इस पूरे आंदोलन को अराजक बना रहे हैं हिंसक बना रहे हैं सरकार को के साथ में अमिता कर रहे हैं इस देश के 90% किसानों की के हितों के साथ में उनका कोई लगाव नहीं है उनको धीरे-धीरे आगे बढ़कर के कुछ समय बाद में सत्ता का भागीदार बनना है किसी एक पार्टी को लाभ पहुंचाना है तुझे इस तरह की सच्चाई वास्तविकता में सामने आती है तो 1 वर्ग उस आंदोलन का हिस्सा नहीं रहना चाहता और यही कारण है इस किसान आंदोलन में धीरे-धीरे फूट पड़ती जा रही है और इसमें विरोध के स्वर दिखाई पड़ रहे हैं मुझे नहीं लगता कि जब सच्चा देशभक्त है जो वास्तव में सत्य के साथ में आंदोलन करता है वह इस आंदोलन का भविष्य में हिस्सा रहना चाहिए था बनकर रहना चाहिए यही मेरा मन है और वास्तव में पढ़ने लग गई धन्यवाद
Aapaka prashn hai ki kya kisaan aandolan mein phoot pad gaee hai dekhie kisee bhee aandolan ke doston ek aandolan jo ki vaastav mein jan bhaavanaon ke saath mein juda hua hai ek aandolan jo ki vaastav mein bahut badee samasya ke niraakaran ke lie hai ek aandolan joki vaastavik aandolan hai ek aandolan jisamen raajaneeti ka samaavesh nahin hai us aandolan ko ham ek shrenee mein rakh sakate hain par ek doosara svaroop jo aandolan ka hota hai jo ki vartamaan mein dikhaee de raha hai jo kuchh logon kee apanee vyaktigat mahatvaakaankshaon ko poora karane ke lie ek poore samaaj ko ek poore varg ko hinsa aur araajakata vaale aandolan ko shaamil kiya ja raha hai ek aandolan jisamen desh virodhee log ek aandolan jisamen aisee ghatanaen jo ek raashtr ke roop mein sharmasaar karane vaalee ek aandolan isamen duniya bhar kee vighatanakaaree paark mein jo ki raashtr ke roop mein bhaarat ko bachaane ke lie neecha dikhaane ke lie kaary karee gaddaaree kar rahee ho par aisee taakaten bhee us aandolan ka hissa ek aisa aandolan jo ki poore ek shahar ko bandhak banaakar hinsa karake raashtr kee dharohar ka apamaan kar desh duniya mein raashtr ko neecha dikha kar apanee vyaktigat mahatvaakaankshaon ko poorn karane ke lie hathadharmita ke saath sarakaar ko neeche dikhaane kee vichaaradhaara ke jab kaary kar rahee ho is tarah ke aandolan ko ham doosaree shrenee mein rakhate hain jo ki vartamaan mein aapako kisaan aandolan ke roop mein kyonki kuchh log jo ki is kisaan aandolan ka aaj vartamaan mein hissa to hai lekin kyonki is par hai kya jo hamane baat karee yah jo doosare star ka jo aandolan hai doosara svaroop hai aandolan jo vaakee aandolanakaaree hain jo ki vaastav mein samasyaon ke niraakaran ke lie aandolan karata hai vah dheere-dheere is baat ko samajh rahe hain ki yah krshi bil ka jo virodh ho raha hai yah jo aandolan ho raha hai isamen kuchh log apanee svayan kee mahatvaakaankshaon ko poorn karane ke lie is poore aandolan ko araajak bana rahe hain hinsak bana rahe hain sarakaar ko ke saath mein amita kar rahe hain is desh ke 90% kisaanon kee ke hiton ke saath mein unaka koee lagaav nahin hai unako dheere-dheere aage badhakar ke kuchh samay baad mein satta ka bhaageedaar banana hai kisee ek paartee ko laabh pahunchaana hai tujhe is tarah kee sachchaee vaastavikata mein saamane aatee hai to 1 varg us aandolan ka hissa nahin rahana chaahata aur yahee kaaran hai is kisaan aandolan mein dheere-dheere phoot padatee ja rahee hai aur isamen virodh ke svar dikhaee pad rahe hain mujhe nahin lagata ki jab sachcha deshabhakt hai jo vaastav mein saty ke saath mein aandolan karata hai vah is aandolan ka bhavishy mein hissa rahana chaahie tha banakar rahana chaahie yahee mera man hai aur vaastav mein padhane lag gaee dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसान आंदोलन, किसान आंदोलन में फूट पड़ने को कारण
URL copied to clipboard