#जीवन शैली

bolkar speaker

हम अपनी गलती नजरअंदाज करके दूसरों में गलती क्यों निकालते हैं?

Hum Apni Galti Najarandaaj Karke Dusro Mein Galti Kyun Nikalte Hain
rohit paste Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए rohit जी का जवाब
Unknown
0:11
आपके कहने का मतलब एक ही बात में मैं आपको समझाता हूं जिससे कि खुद जो करे वो सही और दूसरा जो करे वह गलत
Aapake kahane ka matalab ek hee baat mein main aapako samajhaata hoon jisase ki khud jo kare vo sahee aur doosara jo kare vah galat

और जवाब सुनें

bolkar speaker
हम अपनी गलती नजरअंदाज करके दूसरों में गलती क्यों निकालते हैं?Hum Apni Galti Najarandaaj Karke Dusro Mein Galti Kyun Nikalte Hain
अमित सिंह बघेल Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए अमित जी का जवाब
सामाजिक कार्यकर्ता, मोटिवेशनल स्पीकर 
2:10
पूछा गया है हम अपनी गलती नजरअंदाज करके दूसरों में गलती क्यों निकालते थे कि बहुत से ऐसे लोग हैं कि उनके अंदर तो काफी कमियां हैं तो अपनी कमियों को नजरअंदाज कर देते हो और दूसरों की गलती निकालने पर जा तू देखेगी बहुत गलत चीज है अपने अंदर की कमियों को सुधारें और अच्छा कार्य करें लोगों को देखकर सकारात्मक पहलू के बारे में बताएं अब देखिए हमारे अंदर कमियां हैं और हम दूसरों की कमियों को निकाले बैठे हैं लेकिन मैं यही चीज कहना चाहता हूं कि हम हो या कोई भी हो जानबूझकर अनजाने में गलती हो तो क्या अवश्य करते हैं छोटी-छोटी गलतियां पर तो कोई भी दिखे विशेष कोई ध्यान नहीं देता है ऐसे क्या है की गलतियों से विशेष दिखे नुकसान भी नहीं होता लेकिन मेरे सामने कई लोगों को मैंने देखी गलती करते हो देखा तो अनजाने में तो की गई गलतियों को मैं देखे नजर अंदाज कर देता हूं जानबूझकर की गई गलती हो तो मैं देख एक गलती करने वालों की मानसिकता को समझने की कोशिश करता हूं अगर वह दिखे नादान महसूस होता है तब तो मेरे कि उसे समझाकर क्या है कि उसकी गलतियों को माफ कर देता हूं अगर देखिए पूरे होशो हवास में सोच समझकर साजिश बनाकर कोई भी क्या प्राप्त करता है तब तो देखिए मैं उससे अपना समझ लीजिए पहले से पिंड छुड़ाने का प्रयास करता हूं उसकी मौत इतनी सजा देता हूं कि उसे हमेशा के लिए दिखे उससे दूरी बना लेता हूं ऐसे लोगों से देखिए आप दूरी बनाकर रखी जिनको देख कितनी गलतियां दिखती नहीं है बस वह दूसरों की कमियां निकालने में बैठते हैं वह देखकर बहुत खतरनाक होते हैं ऐसे लोग अपने अंदर की कमियां ना देखकर दूसरों की बुराइयां करके दूसरों की गलतियां ने क्या क्या हो सकता है सामने वाला अच्छा हो जानबूझकर उसकी कमियां निकालने में उसको परेशान करने में लगाएं साथ तो हर इंसान के अंदर कमी होती अगर है सामने वाले अंदर कुछ गलत कर रहा है तो उसको समझाने की कोशिश करें और अपने अंदर भी कोशिश करें कि जो कमियां है उसको सुधारने की कोशिश करें जय हिंद जय भारत
Poochha gaya hai ham apanee galatee najarandaaj karake doosaron mein galatee kyon nikaalate the ki bahut se aise log hain ki unake andar to kaaphee kamiyaan hain to apanee kamiyon ko najarandaaj kar dete ho aur doosaron kee galatee nikaalane par ja too dekhegee bahut galat cheej hai apane andar kee kamiyon ko sudhaaren aur achchha kaary karen logon ko dekhakar sakaaraatmak pahaloo ke baare mein bataen ab dekhie hamaare andar kamiyaan hain aur ham doosaron kee kamiyon ko nikaale baithe hain lekin main yahee cheej kahana chaahata hoon ki ham ho ya koee bhee ho jaanaboojhakar anajaane mein galatee ho to kya avashy karate hain chhotee-chhotee galatiyaan par to koee bhee dikhe vishesh koee dhyaan nahin deta hai aise kya hai kee galatiyon se vishesh dikhe nukasaan bhee nahin hota lekin mere saamane kaee logon ko mainne dekhee galatee karate ho dekha to anajaane mein to kee gaee galatiyon ko main dekhe najar andaaj kar deta hoon jaanaboojhakar kee gaee galatee ho to main dekh ek galatee karane vaalon kee maanasikata ko samajhane kee koshish karata hoon agar vah dikhe naadaan mahasoos hota hai tab to mere ki use samajhaakar kya hai ki usakee galatiyon ko maaph kar deta hoon agar dekhie poore hosho havaas mein soch samajhakar saajish banaakar koee bhee kya praapt karata hai tab to dekhie main usase apana samajh leejie pahale se pind chhudaane ka prayaas karata hoon usakee maut itanee saja deta hoon ki use hamesha ke lie dikhe usase dooree bana leta hoon aise logon se dekhie aap dooree banaakar rakhee jinako dekh kitanee galatiyaan dikhatee nahin hai bas vah doosaron kee kamiyaan nikaalane mein baithate hain vah dekhakar bahut khataranaak hote hain aise log apane andar kee kamiyaan na dekhakar doosaron kee buraiyaan karake doosaron kee galatiyaan ne kya kya ho sakata hai saamane vaala achchha ho jaanaboojhakar usakee kamiyaan nikaalane mein usako pareshaan karane mein lagaen saath to har insaan ke andar kamee hotee agar hai saamane vaale andar kuchh galat kar raha hai to usako samajhaane kee koshish karen aur apane andar bhee koshish karen ki jo kamiyaan hai usako sudhaarane kee koshish karen jay hind jay bhaarat

bolkar speaker
हम अपनी गलती नजरअंदाज करके दूसरों में गलती क्यों निकालते हैं?Hum Apni Galti Najarandaaj Karke Dusro Mein Galti Kyun Nikalte Hain
BEBY SINGH Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए BEBY जी का जवाब
I am student
1:52
मुझे अपनी गलती नजरअंदाज करके दूसरे में गलती क्यों निकालते हैं तो यहां पर एक गांव में कहा कहा जाता है कि वो अपने नीचे नहीं दिखता है अपने नीचे दिया उजागर नहीं करता था कि चारों तरफ उजाला कर दो वैसे भी होते हैं जो अपने अंदर कमी के चलते में नीचा दिखाओ और उसे मैं प्रेम करो लेकिन अगर वही गलती हम खुद में ढूंढने लगे तो हम अपनी गलती ढूंढने लगे बहुत अच्छी क्वालिटी है अपने किसी की नहीं है ऐसा नहीं है कि आप जान आपको पता होगा अगर आप एक उंगली किसी की तरफ करते हैं तो 3 उंगली आपके तरफ होती है इसका मतलब यह है कि आप दूसरे को कुछ खुद के अंदर देखिए लेकिन ऐसा नहीं होगा क्योंकि लोग अपनी बुराई नहीं बल्कि अपनी अच्छाइयां और कोई तारीफ करना पसंद करते हो लेकिन उस कमी को नहीं देखेंगे लेकिन ऐसा नहीं करना चाहिए अपनी कमी को देखना चाहिए कि आपके अंदर कमी क्या आप उसे थोड़ी और सुधार कीजिए ताकि दुनिया को कहने से पहले आप उसकी दुनिया का एक ऐप इसमें गलती है तब आप उसे फोकस मत कीजिए आप अपनी गलती फोटो नहीं और तो बस कीजिए हम अपनी गलतियों को नजरअंदाज कर सकते हैं लेकिन उस से बच नहीं सकते हैं गलतियां बहुत डेंजरस होती है यह गलतियां हमसे बहुत ऐसे काम करवा देती हैं जिससे मैं चाहती हूं भी करना पड़ता है इसलिए हमें अपनी गलतियों को सुधार की झाइयों को अपनाना चाहिए ना की गलतियों को धन
Mujhe apanee galatee najarandaaj karake doosare mein galatee kyon nikaalate hain to yahaan par ek gaanv mein kaha kaha jaata hai ki vo apane neeche nahin dikhata hai apane neeche diya ujaagar nahin karata tha ki chaaron taraph ujaala kar do vaise bhee hote hain jo apane andar kamee ke chalate mein neecha dikhao aur use main prem karo lekin agar vahee galatee ham khud mein dhoondhane lage to ham apanee galatee dhoondhane lage bahut achchhee kvaalitee hai apane kisee kee nahin hai aisa nahin hai ki aap jaan aapako pata hoga agar aap ek ungalee kisee kee taraph karate hain to 3 ungalee aapake taraph hotee hai isaka matalab yah hai ki aap doosare ko kuchh khud ke andar dekhie lekin aisa nahin hoga kyonki log apanee buraee nahin balki apanee achchhaiyaan aur koee taareeph karana pasand karate ho lekin us kamee ko nahin dekhenge lekin aisa nahin karana chaahie apanee kamee ko dekhana chaahie ki aapake andar kamee kya aap use thodee aur sudhaar keejie taaki duniya ko kahane se pahale aap usakee duniya ka ek aip isamen galatee hai tab aap use phokas mat keejie aap apanee galatee photo nahin aur to bas keejie ham apanee galatiyon ko najarandaaj kar sakate hain lekin us se bach nahin sakate hain galatiyaan bahut denjaras hotee hai yah galatiyaan hamase bahut aise kaam karava detee hain jisase main chaahatee hoon bhee karana padata hai isalie hamen apanee galatiyon ko sudhaar kee jhaiyon ko apanaana chaahie na kee galatiyon ko dhan

bolkar speaker
हम अपनी गलती नजरअंदाज करके दूसरों में गलती क्यों निकालते हैं?Hum Apni Galti Najarandaaj Karke Dusro Mein Galti Kyun Nikalte Hain
ashok pandit Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ashok जी का जवाब
Godly service
2:58

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • हम अपनी गलती नजरअंदाज करके दूसरों में गलती क्यों निकालते हैं अपनी गलती नजरअंदाज करके दूसरों में गलती क्यों निकालते हैं
URL copied to clipboard