#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

नरसिंह गुप्त का संघर्ष की किस हुण शासक़ में हुआ था?

Narasingh Gupt Ka Sangharsh Ki Kis Hun Shasak Me Hua Tha
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
2:02
हर्षित गुप्ता संघर्ष किस शासक में हुआ था दोस्तों यदि बात करें नरसिंह गुप्त के बारे में इसको बाल आदित्य के नाम से भी जाना जाता है और सन 495 ईसवी में कौन सा रो रो के सरदार थे फॉर्मर उन्होंने अपनी सेना लेकर नर्सिंग बुक तैयारी के बालक जितने के राज्य पर आक्रमण किया नरसिंह गुप्त ने अपनी सेना लेकर तोर मन की पूर्ण सेना का मुकाबला किया और हम सेना में सैनिकों की संख्या दोस्तों काफी अधिक थी धार्मिक और दार्शनिक रस्ता धार्मिकता और युद्ध प्रताप रस पद दो विरोधी प्रकृति रखती है प्रमाण के साथ में नरसिंह की पराजय हुई उसकी सेना युद्ध चित्र से भाग गई और प्रमाण की पूर्ण सेनानी मालवा राज्य पर अधिकार कर लिया नरसिंह की सेना को पराजित कर और मरने गुप्त साम्राज्य के अनेक राज्य पर अधिकार कर लिया और राजा की उपाधि लेकर उसने सियालकोट में अपनी राजधानी का नाम की इसके बाद भी मैं अपने राज्य के विस्तार की कोशिश करता रहा भारत के पूर्व में यमुना नदी यमुना और यमुना से चंबल नदी तक और दक्षिण की ओर नर्मदा नदी तक उसके राज्य का विस्तार हो गया और उनका पुत्र तेजी के साथ भारत में बड़ा और मध्य भारत के कितने ही राजाओं ने उसके अधिपति को स्वीकार किया अनेक छोटी-छोटी रियासत समुद्रगुप्त के द्वारा प्राप्त हुई थी और उनके अधिकार में आ गई थी और उसके राज्य विस्तार के कारण गुप्त साम्राज्य दिन में दिल से होता गया और कुछ बाकी रह गया था और लोग उस पर भी अपनी सत्ता कायम करने की चेष्टा करने लगे भारत के अनेक राजू पर अपना शासन कायम करके तो रावण की मृत्यु सन 510s में हो गई और उसके मरने के बाद उसका पुत्र वीर कुल अपने पिता के राज्य का उत्तराधिकारी धन्यवाद
Harshit gupta sangharsh kis shaasak mein hua tha doston yadi baat karen narasinh gupt ke baare mein isako baal aadity ke naam se bhee jaana jaata hai aur san 495 eesavee mein kaun sa ro ro ke saradaar the phormar unhonne apanee sena lekar narsing buk taiyaaree ke baalak jitane ke raajy par aakraman kiya narasinh gupt ne apanee sena lekar tor man kee poorn sena ka mukaabala kiya aur ham sena mein sainikon kee sankhya doston kaaphee adhik thee dhaarmik aur daarshanik rasta dhaarmikata aur yuddh prataap ras pad do virodhee prakrti rakhatee hai pramaan ke saath mein narasinh kee paraajay huee usakee sena yuddh chitr se bhaag gaee aur pramaan kee poorn senaanee maalava raajy par adhikaar kar liya narasinh kee sena ko paraajit kar aur marane gupt saamraajy ke anek raajy par adhikaar kar liya aur raaja kee upaadhi lekar usane siyaalakot mein apanee raajadhaanee ka naam kee isake baad bhee main apane raajy ke vistaar kee koshish karata raha bhaarat ke poorv mein yamuna nadee yamuna aur yamuna se chambal nadee tak aur dakshin kee or narmada nadee tak usake raajy ka vistaar ho gaya aur unaka putr tejee ke saath bhaarat mein bada aur madhy bhaarat ke kitane hee raajaon ne usake adhipati ko sveekaar kiya anek chhotee-chhotee riyaasat samudragupt ke dvaara praapt huee thee aur unake adhikaar mein aa gaee thee aur usake raajy vistaar ke kaaran gupt saamraajy din mein dil se hota gaya aur kuchh baakee rah gaya tha aur log us par bhee apanee satta kaayam karane kee cheshta karane lage bhaarat ke anek raajoo par apana shaasan kaayam karake to raavan kee mrtyu san 510s mein ho gaee aur usake marane ke baad usaka putr veer kul apane pita ke raajy ka uttaraadhikaaree dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
नरसिंह गुप्त का संघर्ष की किस हुण शासक़ में हुआ था?Narasingh Gupt Ka Sangharsh Ki Kis Hun Shasak Me Hua Tha
Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
1:21
साबका स्वागत आसीन गुप्त का संग्रह किस कौन सा सके हुआ था तो नरसिंह का विद्वान बाल दत्त की हूं शासक बिल्कुल का विजेता माना गया जिसकी 5733 से 530 ईसवी में समाप्त हो गई उसके शासन काल में गुप्त साम्राज्य के हास्य सारी रात भूत गुप्त और नरसिंह गुप्त दोनों ही राज्य काल 467 से 473 और नसीम गुप्ता सुविधा के गुप्त वंश के प्रमुख शासक थे वे सम्राट पुरुष गुप्त का पुत्र एवं उत्तराधिकारी था उसके बाद के पिता ने एक बोध कथा की शिक्षा के लिए नहीं की थी नरसिंहपुर का अपने नाम के साथ वाली उपाधि युक्ति उसके सिखों पर एक तरफ उसका चित्र दूसरी तरफ अलग लिखा हुआ था दूसरी तरफ वाली आदित्य लिखा हुआ गया पाया अपने ग्रुप की शिक्षा का नरसिंह गुप्त ने बौद्ध धर्म को स्वीकार किया नसीम गुप्त बौद्ध धर्म का अनुयाई था उसने नालंदा में जो उत्तरी भारत के बौद्ध शिक्षा की विश्व या खेत के अंदर यूट्यूब के भव्य मंदिर भी बनवाई इस मंदिर में सी फुट ऊंची बुध पीतांबर प्रतिमा भी स्थापित की गई है धन्यवाद दोस्तों

bolkar speaker
नरसिंह गुप्त का संघर्ष की किस हुण शासक़ में हुआ था?Narasingh Gupt Ka Sangharsh Ki Kis Hun Shasak Me Hua Tha
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:28
सवाल है कि नर्सिंग गुप्त का संघर्ष की किस वर्ष भारत में हुआ था तो विद्यार्थियों ने बाल आदित्य को ही और शासकीय स्कूल का विजेता माना कि सत्ता 533 से 534 दिन में समाप्त कर दिए थे उसके शासन काल में भी गुप्त साम्राज्य का हास्य जारी रहा तो गुप्त और नरसिंह गुप्त दोनों कार्यकाल 467 से 473 दिन तक है
Savaal hai ki narsing gupt ka sangharsh kee kis varsh bhaarat mein hua tha to vidyaarthiyon ne baal aadity ko hee aur shaasakeey skool ka vijeta maana ki satta 533 se 534 din mein samaapt kar die the usake shaasan kaal mein bhee gupt saamraajy ka haasy jaaree raha to gupt aur narasinh gupt donon kaaryakaal 467 se 473 din tak hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • नरसिंह गुप्ता संघर्ष, नरसिंह गुप्त, नरसिंह गुप्त बालदित्य
URL copied to clipboard