#जीवन शैली

bolkar speaker

इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है?

Insan Ko Apani Galati Ka Ehsaas Kab Hota Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:43
तारा का टशन इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है तो आप को बताए जाएंगे देखेंगे जो प्रश्न है बहुत ही अच्छा प्रश्न आपने पूछा है क्योंकि जो भी मनुष्य है जो भी अपनी गलतियां करता है बस का टाइम पर ऐसा ही होता है कि जब वक्त निकल जाता है तब उसको अपनी गलती का एहसास होता है अपनी गलती का एहसास होना अच्छी थी लेकिन वक्त पर होना सबसे अच्छी चीज है अगर किसी व्यक्ति से आपके कोई लड़ाई हुई है और अगर आप उसके साथ जो रिलेशनशिप है उसको वैल्यू करते हैं तो तुरंत आपको वहां पर चुप करके माफी मांगनी चाहिए ताकि आपका लिखो से बचा रह सके मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Taara ka tashan insaan ko apanee galatee ka ehasaas kab hota hai to aap ko batae jaenge dekhenge jo prashn hai bahut hee achchha prashn aapane poochha hai kyonki jo bhee manushy hai jo bhee apanee galatiyaan karata hai bas ka taim par aisa hee hota hai ki jab vakt nikal jaata hai tab usako apanee galatee ka ehasaas hota hai apanee galatee ka ehasaas hona achchhee thee lekin vakt par hona sabase achchhee cheej hai agar kisee vyakti se aapake koee ladaee huee hai aur agar aap usake saath jo rileshanaship hai usako vailyoo karate hain to turant aapako vahaan par chup karake maaphee maanganee chaahie taaki aapaka likho se bacha rah sake main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है?Insan Ko Apani Galati Ka Ehsaas Kab Hota Hai
Udham Prasad Gautam Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Udham जी का जवाब
Unknown
0:57
हाय दोस्तो नमस्कार गुड इवनिंग आपका प्रश्न है कि इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है दोस्तों जब एक इंसान दूसरे इंसान पत्ते चार करता है ना तब उसे उतना पता नहीं चलता कि सामने वाला कितना दुख तकलीफ से गुजर रहा है लेकिन जब ठीक उसी प्रकार का अत्याचार उसी प्रकार के दुख तकलीफ खुद पर पड़ता है तब उसको समझ में आता क्या दुख तकलीफ क्या चीज होती है ठीक है अगर वही दुख तकलीफ को अगर जिस ने जिस पर अत्याचार हुआ अगर वह आकर सिर्फ उसको बचा ले उस दर्द दर्द से उस तकलीफ से ठीक है ताकि उसको कुछ ना हो तब पहले वाले इंसान को समझ में आता है कि हां मैंने क्या गलती की थी यानी मैंने जिसको छुड़ा गोपा वही मुझे आकर बचाया है ठीक है उस समय इंसान को अपनी गलती का एहसास होता है और फिर से वो का अच्छा इंसान के रूप में प्रवृत्ति उसकी छलकती है ठीक है दोस्तों धन्यवाद
Haay dosto namaskaar gud ivaning aapaka prashn hai ki insaan ko apanee galatee ka ehasaas kab hota hai doston jab ek insaan doosare insaan patte chaar karata hai na tab use utana pata nahin chalata ki saamane vaala kitana dukh takaleeph se gujar raha hai lekin jab theek usee prakaar ka atyaachaar usee prakaar ke dukh takaleeph khud par padata hai tab usako samajh mein aata kya dukh takaleeph kya cheej hotee hai theek hai agar vahee dukh takaleeph ko agar jis ne jis par atyaachaar hua agar vah aakar sirph usako bacha le us dard dard se us takaleeph se theek hai taaki usako kuchh na ho tab pahale vaale insaan ko samajh mein aata hai ki haan mainne kya galatee kee thee yaanee mainne jisako chhuda gopa vahee mujhe aakar bachaaya hai theek hai us samay insaan ko apanee galatee ka ehasaas hota hai aur phir se vo ka achchha insaan ke roop mein pravrtti usakee chhalakatee hai theek hai doston dhanyavaad

bolkar speaker
इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है?Insan Ko Apani Galati Ka Ehsaas Kab Hota Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:23
सवाल ये है कि इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है तो इंसान को अपनी गलती का एहसास तब होता है जब उसके द्वारा पूर्व में लिए गए निर्णय का परिणाम मिलना शुरू होता है क्योंकि भूतकाल को अब मैं बदल नहीं सकता इसलिए उसे चाहिए कि अपनी गलतियों से सबक लें और भविष्य में गलतियों को ना दोहराते हुए भविष्य के लिए काम करें और सोच समझकर काम करें
Savaal ye hai ki insaan ko apanee galatee ka ehasaas kab hota hai to insaan ko apanee galatee ka ehasaas tab hota hai jab usake dvaara poorv mein lie gae nirnay ka parinaam milana shuroo hota hai kyonki bhootakaal ko ab main badal nahin sakata isalie use chaahie ki apanee galatiyon se sabak len aur bhavishy mein galatiyon ko na doharaate hue bhavishy ke lie kaam karen aur soch samajhakar kaam karen

bolkar speaker
इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है?Insan Ko Apani Galati Ka Ehsaas Kab Hota Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
0:46
आज आपका सवाल है कि इंसान को अपनी गलती का एहसास तब होता है जब गलती करता है तो बहुत लोगों को पता नहीं होता है कि वह गलत कर रहा है या फिर से बाद में एहसास होता है बहुत सारे लोगों को पता चलता है तू जब उनको किसी के दुख दर्द आंसू का एहसास होता है उनकी जिंदगी में हमने कितना खराब किया मेरी यह काम करने से कितना नुकसान और उनकी जिंदगी में कोई मतलब किसी की जिंदगी किसी के काम काज कैसा लगा तब अगर आपको इस तरह की है एहसास होता है तब आप समझते हैं कि नहीं मैंने किसी इंसान के साथ गलती क्या फिर आप माफी मांगते हैं
Aaj aapaka savaal hai ki insaan ko apanee galatee ka ehasaas tab hota hai jab galatee karata hai to bahut logon ko pata nahin hota hai ki vah galat kar raha hai ya phir se baad mein ehasaas hota hai bahut saare logon ko pata chalata hai too jab unako kisee ke dukh dard aansoo ka ehasaas hota hai unakee jindagee mein hamane kitana kharaab kiya meree yah kaam karane se kitana nukasaan aur unakee jindagee mein koee matalab kisee kee jindagee kisee ke kaam kaaj kaisa laga tab agar aapako is tarah kee hai ehasaas hota hai tab aap samajhate hain ki nahin mainne kisee insaan ke saath galatee kya phir aap maaphee maangate hain

bolkar speaker
इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है?Insan Ko Apani Galati Ka Ehsaas Kab Hota Hai
Deepak Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Deepak जी का जवाब
संस्कृतप्रचारक:
2:12
नमस्कार मित्र आप ने प्रश्न किया है इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है मित्र इंसान को अपनी गलती का एहसास देकर ऐसे पहली बात तो होता नहीं है और गलती का एहसास होता जब है जब जैसे कि एक तो यह है कि आपने किसी पर विश्वास करके कोई काम किया और उस व्यक्ति ने आपका विश्वास तोड़ दिया मतलब जिस विश्वास के बल पर आपने वह काम किया था वह विश्वास जब उस व्यक्ति के द्वारा तोड़ दिया गया है तो आपको तब अपनी गलती का एहसास होगा कि मैंने किसी व्यक्ति पर विश्वास किया चाहे वह आपका कितना ही अजीज मित्र हो फिर भी आपका अपनी गलती का एहसास होगा कि अगर मैं इस पर विश्वास नहीं करता तो जो है मैं इतना बड़ा नुकसान नहीं उठाता दूसरी एक चीज के आप से किसी ने कोई काम कहा कि यह काम करिए अब आप ने इस पर विचार किया नहीं किया यह आपके आपके ऊपर निर्भर करता है और आपने उस काम को कर भी लिया वह काम गलत हो गया तब आपको अपनी गलती का एहसास हो जाएगा कि आप मुझे पहले इसको इसके बारे में सोचना था विचार ना था फिर यह काम करना था तब जाकर के आपको अपनी गलती का एहसास होता है और दूसरा एक ही होता है कि कहीं पर अगर लड़ाई हो गई है चाहे कितने ही अच्छे मित्र लड़ाई हो गई है तो अब उसमें क्या गलती आपकी है पर आप मानेंगे नहीं कि नहीं मेरी गलती नहीं है और जब आप के कारण उससे मित्र को बहुत ज्यादा नुकसान उठाना पड़ गया तब आपको अंदर ही अंदर भी गलती का एहसास हो जाएगा कि मेरे कारण जो है मेरे मित्र को इतना भुगतना पड़ा कि मेरी बहुत बड़ी गलती है मुझे उस समय अपनी गलती को स्वीकार लेना चाहिए था अगर मैं उस समय ही हां कर देता कि हां यह मैंने किया है यह मेरी गलती है तो उसे इतना नुकसान उठाना नहीं पड़ता यातना भुगतना नहीं पड़ता तो यह सब चीज है जब जब व्यक्ति को अपनी गलतियों का एहसास होता है धन्यवाद
Namaskaar mitr aap ne prashn kiya hai insaan ko apanee galatee ka ehasaas kab hota hai mitr insaan ko apanee galatee ka ehasaas dekar aise pahalee baat to hota nahin hai aur galatee ka ehasaas hota jab hai jab jaise ki ek to yah hai ki aapane kisee par vishvaas karake koee kaam kiya aur us vyakti ne aapaka vishvaas tod diya matalab jis vishvaas ke bal par aapane vah kaam kiya tha vah vishvaas jab us vyakti ke dvaara tod diya gaya hai to aapako tab apanee galatee ka ehasaas hoga ki mainne kisee vyakti par vishvaas kiya chaahe vah aapaka kitana hee ajeej mitr ho phir bhee aapaka apanee galatee ka ehasaas hoga ki agar main is par vishvaas nahin karata to jo hai main itana bada nukasaan nahin uthaata doosaree ek cheej ke aap se kisee ne koee kaam kaha ki yah kaam karie ab aap ne is par vichaar kiya nahin kiya yah aapake aapake oopar nirbhar karata hai aur aapane us kaam ko kar bhee liya vah kaam galat ho gaya tab aapako apanee galatee ka ehasaas ho jaega ki aap mujhe pahale isako isake baare mein sochana tha vichaar na tha phir yah kaam karana tha tab jaakar ke aapako apanee galatee ka ehasaas hota hai aur doosara ek hee hota hai ki kaheen par agar ladaee ho gaee hai chaahe kitane hee achchhe mitr ladaee ho gaee hai to ab usamen kya galatee aapakee hai par aap maanenge nahin ki nahin meree galatee nahin hai aur jab aap ke kaaran usase mitr ko bahut jyaada nukasaan uthaana pad gaya tab aapako andar hee andar bhee galatee ka ehasaas ho jaega ki mere kaaran jo hai mere mitr ko itana bhugatana pada ki meree bahut badee galatee hai mujhe us samay apanee galatee ko sveekaar lena chaahie tha agar main us samay hee haan kar deta ki haan yah mainne kiya hai yah meree galatee hai to use itana nukasaan uthaana nahin padata yaatana bhugatana nahin padata to yah sab cheej hai jab jab vyakti ko apanee galatiyon ka ehasaas hota hai dhanyavaad

bolkar speaker
इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है?Insan Ko Apani Galati Ka Ehsaas Kab Hota Hai
Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
0:37
सौकस वाले इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है तो शाम को खुद की गलती का एहसास तब होता है जब वक्त निकल जाता है तब तक कुछ नहीं हो सकता सिर्फ इंसान पतासा ही रहता है इसलिए वक्त गति अपनी गलती का एहसास कर लो वरना उस वक्त नहीं रहेगा तो पता मैं अलावा कोई रास्ता नहीं बचेगा इंसान को अपनी गलती का एहसास एहसास तब होता है जब वह कुत्तों को खाने के बाद जब वक्त ही अपनी गलती का परिणाम सामने होता है तब धन्यवाद दोस्त
Saukas vaale insaan ko apanee galatee ka ehasaas kab hota hai to shaam ko khud kee galatee ka ehasaas tab hota hai jab vakt nikal jaata hai tab tak kuchh nahin ho sakata sirph insaan pataasa hee rahata hai isalie vakt gati apanee galatee ka ehasaas kar lo varana us vakt nahin rahega to pata main alaava koee raasta nahin bachega insaan ko apanee galatee ka ehasaas ehasaas tab hota hai jab vah kutton ko khaane ke baad jab vakt hee apanee galatee ka parinaam saamane hota hai tab dhanyavaad dost

bolkar speaker
इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है?Insan Ko Apani Galati Ka Ehsaas Kab Hota Hai
Vijay shankar pal Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Vijay जी का जवाब
My youtube channel - Tech with vijay
1:34
नमस्कार साथियों से सवाल है इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है तो साथियों इंसान को अपनी गलती का एहसास तब होता है जब वह कहीं धोखा खाता है जैसे हम किसी को ईमानदार व्यक्ति है बार-बार हम उसे टॉर्चर करते हैं और उसकी ईमानदारी पर शक करते हैं बार-बार तो एक समय ऐसा जाता है कि वह व्यक्ति आपका साथ छोड़ देता है फिर हम दूसरे के पास जाते हैं अफसोस मिल जाएगा लेकिन जब दूसरे के पास जाते हैं तो हमारा हमारे साथ गद्दारी करने लगता है तब हमें धोखा मिलता है तब हमें एहसास होता है कि हम उसको इतना टॉर्चर करते थे वह इंसान ईमानदार था और फिर हमें अपनी गलती का एहसास होता है साथ में ऐसे ही कई क्षेत्रों में होता है जैसे हम कहीं ड्यूटी करते रहते और हमें लगती है उसका हमसे मिलता है तब हमें एहसास होता है गलत कर दिए तुम्हारी प्रोफाइल में हमारे यूट्यूब चैनल की लिंक है आप वहां से ज्वाइन कर सकते हो और मुझे सपोर्ट कर सकते हैं धन्यवाद जय हिंद वंदे मातरम
Namaskaar saathiyon se savaal hai insaan ko apanee galatee ka ehasaas kab hota hai to saathiyon insaan ko apanee galatee ka ehasaas tab hota hai jab vah kaheen dhokha khaata hai jaise ham kisee ko eemaanadaar vyakti hai baar-baar ham use torchar karate hain aur usakee eemaanadaaree par shak karate hain baar-baar to ek samay aisa jaata hai ki vah vyakti aapaka saath chhod deta hai phir ham doosare ke paas jaate hain aphasos mil jaega lekin jab doosare ke paas jaate hain to hamaara hamaare saath gaddaaree karane lagata hai tab hamen dhokha milata hai tab hamen ehasaas hota hai ki ham usako itana torchar karate the vah insaan eemaanadaar tha aur phir hamen apanee galatee ka ehasaas hota hai saath mein aise hee kaee kshetron mein hota hai jaise ham kaheen dyootee karate rahate aur hamen lagatee hai usaka hamase milata hai tab hamen ehasaas hota hai galat kar die tumhaaree prophail mein hamaare yootyoob chainal kee link hai aap vahaan se jvain kar sakate ho aur mujhe saport kar sakate hain dhanyavaad jay hind vande maataram

bolkar speaker
इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है?Insan Ko Apani Galati Ka Ehsaas Kab Hota Hai
himanshu bansal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए himanshu जी का जवाब
Influencer, trainer,motivate speaker
2:55
अब सवाल है कि इंसान को अपनी गलती का एहसास तब होता है इंसान को अपनी गलती का एहसास होता है लेकिन बहुत कम बात होता है अगर मान लीजिए इंसान 10 गलतियां कर रहा है दोस्त 10 गलतियों से उसे एक यादों का ही एहसास होगा क्योंकि हम सभी जानते हैं कि इंसान इतनी है इंसानी फितरत है वह दूसरों के लिए अच्छा है क्या बोलते हैं दूसरों के लिए चलाने वाला जज होता है और अपने लिए अच्छा वकील होता है आप समझेंगे कि वकील और जज कहां पर कहां से का मायागंज आज ऐसे होता है कि जब दूसरा गलती कर दी तो बढ़ेगी जल्दी बिना कोई तर्क दिए बिना कोई वकील नहीं करें फटाफट फायदा फैसला सुना देता है कि सामने वाला गलत है उसने यह गलती की है लेकिन तुम खुद गलती करता है तो वह जिसकी पत्नी को उनके वकील की पर आ जाता है और बहुत ही अच्छे से अपने आप की वकालत करता है अलग-अलग तरह के तर्क देता है और अपनी गलती को गलत बताने की कोशिश करता है कि मैंने तो यह नहीं किया उसने यह किया इसलिए ऐसा हुआ मैंने कुछ नहीं किया ठीक है तो इंसान अपनी गलती का एहसास होता है लेकिन बहुत ही अच्छी बात है वह पेमेंट के लिए कर रहा था तुम्हारा बात करेगी कब होता है ऐसा कोई नहीं है कि इंसान को एक टाइम पीरियड में आप ही होना चाहिए इंसान को कभी भी हो सकता है ऐसा कुछ नहीं है कि बच्चों को ज्यादा होता है या फिर एक उम्र के बाद है आप जाओगे कुछ ऐसा था गलती करने की वजह से फोन लग गया छुट्टी गलतियों का कुछ नहीं है अगर आपको अपनी औकात नहीं कर रहे आप अपनी मां के लिए भी वैसे ही जज बन रही है वैसे ही जजमेंटल हो रहे हैं जिससे कि नहीं आपके पास होगा और आप अपनी गलती बड़े ही अच्छे से परेशान करेंगे और जिस दिन आप गलती करें उसी दिन तेरा गूगल एंटी दे सकता हूं आप अपने जीवन में बहुत ही सुहाना लगे कि आप अपने जीवन को और अच्छा बनाने के बाद जब उस गलती को सुधार ता है तो इंसान का जीवन बदल जाता है तुमने शुरूआत इंसानी जीवन जो कि इंसान ही अपनी सबसे बड़े कैसे हैं आप मेरे से प्यार करती है इंसान अगर चाहे तो अपनी गलती को सुधार कर आगे तक जा सकता है लेकिन वहीं तारा मा ने उस गलती के साथ लेकर बैठा है तो ना केवल वहां से देखो देगा ना केवल उसे गलत करने वाले लोगों से नाता तोड़ देगा अपना भी नुकसान भी रखे और होनी भी चाहिए
Ab savaal hai ki insaan ko apanee galatee ka ehasaas tab hota hai insaan ko apanee galatee ka ehasaas hota hai lekin bahut kam baat hota hai agar maan leejie insaan 10 galatiyaan kar raha hai dost 10 galatiyon se use ek yaadon ka hee ehasaas hoga kyonki ham sabhee jaanate hain ki insaan itanee hai insaanee phitarat hai vah doosaron ke lie achchha hai kya bolate hain doosaron ke lie chalaane vaala jaj hota hai aur apane lie achchha vakeel hota hai aap samajhenge ki vakeel aur jaj kahaan par kahaan se ka maayaaganj aaj aise hota hai ki jab doosara galatee kar dee to badhegee jaldee bina koee tark die bina koee vakeel nahin karen phataaphat phaayada phaisala suna deta hai ki saamane vaala galat hai usane yah galatee kee hai lekin tum khud galatee karata hai to vah jisakee patnee ko unake vakeel kee par aa jaata hai aur bahut hee achchhe se apane aap kee vakaalat karata hai alag-alag tarah ke tark deta hai aur apanee galatee ko galat bataane kee koshish karata hai ki mainne to yah nahin kiya usane yah kiya isalie aisa hua mainne kuchh nahin kiya theek hai to insaan apanee galatee ka ehasaas hota hai lekin bahut hee achchhee baat hai vah pement ke lie kar raha tha tumhaara baat karegee kab hota hai aisa koee nahin hai ki insaan ko ek taim peeriyad mein aap hee hona chaahie insaan ko kabhee bhee ho sakata hai aisa kuchh nahin hai ki bachchon ko jyaada hota hai ya phir ek umr ke baad hai aap jaoge kuchh aisa tha galatee karane kee vajah se phon lag gaya chhuttee galatiyon ka kuchh nahin hai agar aapako apanee aukaat nahin kar rahe aap apanee maan ke lie bhee vaise hee jaj ban rahee hai vaise hee jajamental ho rahe hain jisase ki nahin aapake paas hoga aur aap apanee galatee bade hee achchhe se pareshaan karenge aur jis din aap galatee karen usee din tera googal entee de sakata hoon aap apane jeevan mein bahut hee suhaana lage ki aap apane jeevan ko aur achchha banaane ke baad jab us galatee ko sudhaar ta hai to insaan ka jeevan badal jaata hai tumane shurooaat insaanee jeevan jo ki insaan hee apanee sabase bade kaise hain aap mere se pyaar karatee hai insaan agar chaahe to apanee galatee ko sudhaar kar aage tak ja sakata hai lekin vaheen taara ma ne us galatee ke saath lekar baitha hai to na keval vahaan se dekho dega na keval use galat karane vaale logon se naata tod dega apana bhee nukasaan bhee rakhe aur honee bhee chaahie

bolkar speaker
इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है?Insan Ko Apani Galati Ka Ehsaas Kab Hota Hai
रंगन Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए रंगन जी का जवाब
Business,Student🤓
0:58
इंसान को अपनी गलती का एहसास तब होता है ऐसी गलती जब हम लोग करते तो हम लोगों को पता नहीं होता क्या प्रगति करें जब गलती हो जाता है उसके बाद जब समझ में आता है कि हां यह मेरे से गलती हो गया जब बहुत ज्यादा मार हम को नुकसान पहुंचता है या फिर हमारी किसी गरीब को नुकसान पास तक की वजह से सब लोग गलती का एहसास होता है तब हमारे हाथ से सबको निकाल निभाने का मौका रहता है लेकिन सुधारने का जप कैसे सुधरे सुधरेंगे उसके बारे में कुछ दिमाग में नहीं आता इससे अच्छा कोई सा भी काम करता तो बहुत सोच समझकर बोलना कि कोई गलती ना हो फिर भी गलती हो जाता है यह जीवन पर क्या कर सकते हो
Insaan ko apanee galatee ka ehasaas tab hota hai aisee galatee jab ham log karate to ham logon ko pata nahin hota kya pragati karen jab galatee ho jaata hai usake baad jab samajh mein aata hai ki haan yah mere se galatee ho gaya jab bahut jyaada maar ham ko nukasaan pahunchata hai ya phir hamaaree kisee gareeb ko nukasaan paas tak kee vajah se sab log galatee ka ehasaas hota hai tab hamaare haath se sabako nikaal nibhaane ka mauka rahata hai lekin sudhaarane ka jap kaise sudhare sudharenge usake baare mein kuchh dimaag mein nahin aata isase achchha koee sa bhee kaam karata to bahut soch samajhakar bolana ki koee galatee na ho phir bhee galatee ho jaata hai yah jeevan par kya kar sakate ho

bolkar speaker
इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है?Insan Ko Apani Galati Ka Ehsaas Kab Hota Hai
Santosh Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Santosh जी का जवाब
Student
1:43
सवाल है इंसान को अपनी गलतियों का एहसास कब होता है बहुत ही बढ़िया सवाल है तो देखिए सबसे पहला है कि जब एक इंसान को गलती का एहसास तब होता है जब वह गलती करता है थोड़ी जानता एक बच्चा है और उसको टीचर ने होमवर्क बनाने के लिए उसको दिया और फिर वह बच्चे ने अपना होमवर्क नहीं बनाया फिर उसका टीचर कहता है कि बेटे तूने यह गलत किया है लेकिन मैं नहीं मानता लेकिन उसको समझा बुझाकर उसका अहसास करवाता है कि बेटा तूने गलती किया और फिर वह लड़के को भी पता लगता है कि हां मैंने गलती किया था क्या क्योंकि जो कुछ मुझे टीचर ने याद करने या पढ़ाई करने के लिए दिया था मैंने उन चीजों को याद नहीं किया तो इससे हमें यह पता चलता है जब एक इंसान गलती करता है तब उसको पता चलता है कि हां मैंने गलती किया था उसको एहसास होता है कि नहीं मैंने गलती किया तो जिस व्यक्ति ने एहसास कर लेता है और उसको मानकर वह आगे बढ़ता है वही इंसान गुड होता है आगे चलकर अच्छा उसका व्यवहार होता है आशा है कि आप लोग समझ गए होंगे
Savaal hai insaan ko apanee galatiyon ka ehasaas kab hota hai bahut hee badhiya savaal hai to dekhie sabase pahala hai ki jab ek insaan ko galatee ka ehasaas tab hota hai jab vah galatee karata hai thodee jaanata ek bachcha hai aur usako teechar ne homavark banaane ke lie usako diya aur phir vah bachche ne apana homavark nahin banaaya phir usaka teechar kahata hai ki bete toone yah galat kiya hai lekin main nahin maanata lekin usako samajha bujhaakar usaka ahasaas karavaata hai ki beta toone galatee kiya aur phir vah ladake ko bhee pata lagata hai ki haan mainne galatee kiya tha kya kyonki jo kuchh mujhe teechar ne yaad karane ya padhaee karane ke lie diya tha mainne un cheejon ko yaad nahin kiya to isase hamen yah pata chalata hai jab ek insaan galatee karata hai tab usako pata chalata hai ki haan mainne galatee kiya tha usako ehasaas hota hai ki nahin mainne galatee kiya to jis vyakti ne ehasaas kar leta hai aur usako maanakar vah aage badhata hai vahee insaan gud hota hai aage chalakar achchha usaka vyavahaar hota hai aasha hai ki aap log samajh gae honge

bolkar speaker
इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है?Insan Ko Apani Galati Ka Ehsaas Kab Hota Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:26
दोस्तों जीवन में इंसान को अपनी गलती का एहसास तब होता है जब वह गलती में कर चुका होता है जब वह गलती करने वाला होता है तब उसको एक बार लगता है कहीं मैं गलती तो नहीं कर रहा हूं लेकिन जब गलती को कर लेता है तभी उसको मालूम चलता है कि यह मैंने बहुत ही बड़ी गलती कर दी तो दोस्तों अगर आपको अच्छा लगा हो मेरी आवाज और मेरे जवाब कुछ लगते हैं तो प्लीज सब्सक्राइब कर लीजिएगा धन्यवाद
Doston jeevan mein insaan ko apanee galatee ka ehasaas tab hota hai jab vah galatee mein kar chuka hota hai jab vah galatee karane vaala hota hai tab usako ek baar lagata hai kaheen main galatee to nahin kar raha hoon lekin jab galatee ko kar leta hai tabhee usako maaloom chalata hai ki yah mainne bahut hee badee galatee kar dee to doston agar aapako achchha laga ho meree aavaaj aur mere javaab kuchh lagate hain to pleej sabsakraib kar leejiega dhanyavaad

bolkar speaker
इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है?Insan Ko Apani Galati Ka Ehsaas Kab Hota Hai
Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student
0:49
नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप सफल इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है बहुत अच्छा प्रश्न को अपनी गलती का एहसास तब होता कोई सोचे समझे काम कर देता है उसके बारे में ज्यादा कुछ समझता समझता नहीं वैसे ही काम कर देता है तो उसका परिणाम निकलता तो उसे गलती का एहसास उतारे हमने इस कंपनी से सोचा सोचा नहीं था और मतलब कर दिया था तो मिले उसका एग्जाम साबित हुआ तब उसे अपनी गलती का एहसास होता है की काश कोई ऐसा काम ना करता तो मुझे ऐसी गलती ना होती तो सोच में पड़ जाता है लेकिन उसे इस बात का ध्यान नहीं रहता कि उसने मिलो काम करने से पहले कुछ सोचा भी तो नहीं था करो सोचता तो आज तो गलती नहीं होती है उसी गलती का एहसास नहीं होता तो मिस करता हूं आपको अच्छा लगा धन्यवाद
Namaskaar doston kaise hain aap saphal insaan ko apanee galatee ka ehasaas kab hota hai bahut achchha prashn ko apanee galatee ka ehasaas tab hota koee soche samajhe kaam kar deta hai usake baare mein jyaada kuchh samajhata samajhata nahin vaise hee kaam kar deta hai to usaka parinaam nikalata to use galatee ka ehasaas utaare hamane is kampanee se socha socha nahin tha aur matalab kar diya tha to mile usaka egjaam saabit hua tab use apanee galatee ka ehasaas hota hai kee kaash koee aisa kaam na karata to mujhe aisee galatee na hotee to soch mein pad jaata hai lekin use is baat ka dhyaan nahin rahata ki usane milo kaam karane se pahale kuchh socha bhee to nahin tha karo sochata to aaj to galatee nahin hotee hai usee galatee ka ehasaas nahin hota to mis karata hoon aapako achchha laga dhanyavaad

bolkar speaker
इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है?Insan Ko Apani Galati Ka Ehsaas Kab Hota Hai
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
2:22
और विद्वान में यही अंतर होता है विद्वान किसी कार्य को करने से पहले बहुत सोचता है उसके कारण और परिणाम ऊपर अच्छी तरह सोच विचार करने के बाद ही कार्य को करता है जबकि मूर्ख कार्य को पहले करता है और पीछे उसके कारण और परिणाम जब उसके सामने आते हैं तब उसे अपनी गलती का एहसास होता है कि मैंने बहुत गलत किया यही बात ध्यान रखनी चाहिए क्योंकि मानव को कोई भी गलत कार्य जब उस करता है तू सबसे बड़ा चर्च के अंदर आपकी आत्मा है यदि अधिकारी कार्य है तो भी उसकी आत्मा सराहना करती है सुंदरता से पालन करने का आदेश देती है और यदि वह खुशी के अनिष्ट कार्य कार्य कर रहे हैं किसी का अधिकारी कार्य कर रहा है गंदी कार्य कर रहा है बेचारी कार्य कर रहा है स्वार्थ और शंकर जी में डूबा हुआ किसी को अनिष्ट हितकारी हानि कार्य कार्य कर रहा है तो भी उसकी आत्मा से दूध काटती रहती है आत्मा उसकी गलती का एहसास कराती रहती है कि तुम गलत हो बस यही अंतर है विद्वान लोग अपनी आत्मा की आवाज को मानते हुए पश्चाताप कर लेते हैं और सुधार कर लेते हैं जबकि मूर्ख उसी गलती पर पड़े रहते हैं और हर बार की तरह को तक करते रहते हैं लेकिन गलती को सुधारने का प्रयास नहीं करते हैं आत्मा कभी नहीं झूठ बोलती है आपका कभी भी गलत का अनुसरण करने के लिए नहीं कहती है जबकि मन हमेशा ही अनुच्छेद गलत और स्वात और खुदगर्जी में डूबा हुआ अनुचित कार्य कर आता है गलती पर गलती कराता हुआ चला जाता
Aur vidvaan mein yahee antar hota hai vidvaan kisee kaary ko karane se pahale bahut sochata hai usake kaaran aur parinaam oopar achchhee tarah soch vichaar karane ke baad hee kaary ko karata hai jabaki moorkh kaary ko pahale karata hai aur peechhe usake kaaran aur parinaam jab usake saamane aate hain tab use apanee galatee ka ehasaas hota hai ki mainne bahut galat kiya yahee baat dhyaan rakhanee chaahie kyonki maanav ko koee bhee galat kaary jab us karata hai too sabase bada charch ke andar aapakee aatma hai yadi adhikaaree kaary hai to bhee usakee aatma saraahana karatee hai sundarata se paalan karane ka aadesh detee hai aur yadi vah khushee ke anisht kaary kaary kar rahe hain kisee ka adhikaaree kaary kar raha hai gandee kaary kar raha hai bechaaree kaary kar raha hai svaarth aur shankar jee mein dooba hua kisee ko anisht hitakaaree haani kaary kaary kar raha hai to bhee usakee aatma se doodh kaatatee rahatee hai aatma usakee galatee ka ehasaas karaatee rahatee hai ki tum galat ho bas yahee antar hai vidvaan log apanee aatma kee aavaaj ko maanate hue pashchaataap kar lete hain aur sudhaar kar lete hain jabaki moorkh usee galatee par pade rahate hain aur har baar kee tarah ko tak karate rahate hain lekin galatee ko sudhaarane ka prayaas nahin karate hain aatma kabhee nahin jhooth bolatee hai aapaka kabhee bhee galat ka anusaran karane ke lie nahin kahatee hai jabaki man hamesha hee anuchchhed galat aur svaat aur khudagarjee mein dooba hua anuchit kaary kar aata hai galatee par galatee karaata hua chala jaata

bolkar speaker
इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है?Insan Ko Apani Galati Ka Ehsaas Kab Hota Hai
Sandeep Goyal Chandigarh  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Sandeep जी का जवाब
Tabla player artist and music home tutor
2:30
बहुत अच्छा सवाल आपका नमस्कार मैं संदीप गोयल चंडीगढ़ से कि इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है देखो जी इंसान तब तक मतलब नहीं सुधरता जब तक उचित होकर नहीं लगती ठीक है आपने पूछा गलती का एहसास इंसान को कब होता है सीधी से शब्दों में कहें तो इंसान को अपनी गलती का एहसास तब होता है जब उसे भयंकर ठोकर लगती है जीवन में उदाहरण के लिए हम इस संसार में आए हैं प्रभु भक्ति के लिए नाम जपने के लिए प्रभु का वह काम हम नहीं करते लेकिन जब हम इस संसार को छोड़कर के जाएंगे और भगवान हमें कोई और शरीर देंगे ठीक है तो हमें एहसास होगा कि हां हमें मनुष्य शरीर मिला किस लिए प्रभु भक्ति करने के लिए मिला था ताकि हम अच्छे काम करें अब आप देखते होंगे हमारे यहां आस-पास में सड़कों पर निकट कुत्ते घूमते हैं और घोड़े चलते हैं तो यही कटु इनको सब कुछ याद रहता है अपना यह बोल नहीं पाते ठीक है भगवान ने इनको ऐसा बनाया है क्यों क्योंकि इनके खुद के कर्म थी और दूसरी बात फिर इन्हें एहसास होता है इस दुनिया में दूसरी दुनिया में जाकर के कि हां कि काश हमने जो है पहले कुछ अच्छा काम किया हो हकीकत तो हमें यहां पर इस जगह पर इस दुनिया में ना आना पड़ता तुझे का कोई उदाहरण दिया है ठीक है तो यह हमें जब तक ठोकर नहीं लगती तो हम सुधर ते नहीं हैं टीका में गलती का एहसास नहीं होता या दूसरी बात अगर सपोर्ट यह एक उदाहरण दिया था मैंने यह आध्यात्मिक उदाहरण था ठीक है दूसरा कि जैसे उदाहरण के लिए कोई हस्बैंड है वह अपनी वाइफ को बहुत तंग करता है ठीक है तो जब तक उसकी वाइफ कुछ ऐसा कदम नहीं उठाती तो बाद में उसको यदि गलती का एहसास होता है तो क्या है कि से ठोकर लगी तभी तो उसको गलती का अहसास हुआ तो इंसान जब तक मुसीबत में नहीं गिरता तो पारित होकर नहीं लगती तब तक वह अपनी गलती का एहसास नहीं करता हूं तुझे पता नहीं है धन्यवाद उम्मीद आपका सवाल का जवाब अच्छा लगा होगा लाइक जरूर कीजिएगा धन्यवाद
Bahut achchha savaal aapaka namaskaar main sandeep goyal chandeegadh se ki insaan ko apanee galatee ka ehasaas kab hota hai dekho jee insaan tab tak matalab nahin sudharata jab tak uchit hokar nahin lagatee theek hai aapane poochha galatee ka ehasaas insaan ko kab hota hai seedhee se shabdon mein kahen to insaan ko apanee galatee ka ehasaas tab hota hai jab use bhayankar thokar lagatee hai jeevan mein udaaharan ke lie ham is sansaar mein aae hain prabhu bhakti ke lie naam japane ke lie prabhu ka vah kaam ham nahin karate lekin jab ham is sansaar ko chhodakar ke jaenge aur bhagavaan hamen koee aur shareer denge theek hai to hamen ehasaas hoga ki haan hamen manushy shareer mila kis lie prabhu bhakti karane ke lie mila tha taaki ham achchhe kaam karen ab aap dekhate honge hamaare yahaan aas-paas mein sadakon par nikat kutte ghoomate hain aur ghode chalate hain to yahee katu inako sab kuchh yaad rahata hai apana yah bol nahin paate theek hai bhagavaan ne inako aisa banaaya hai kyon kyonki inake khud ke karm thee aur doosaree baat phir inhen ehasaas hota hai is duniya mein doosaree duniya mein jaakar ke ki haan ki kaash hamane jo hai pahale kuchh achchha kaam kiya ho hakeekat to hamen yahaan par is jagah par is duniya mein na aana padata tujhe ka koee udaaharan diya hai theek hai to yah hamen jab tak thokar nahin lagatee to ham sudhar te nahin hain teeka mein galatee ka ehasaas nahin hota ya doosaree baat agar saport yah ek udaaharan diya tha mainne yah aadhyaatmik udaaharan tha theek hai doosara ki jaise udaaharan ke lie koee hasbaind hai vah apanee vaiph ko bahut tang karata hai theek hai to jab tak usakee vaiph kuchh aisa kadam nahin uthaatee to baad mein usako yadi galatee ka ehasaas hota hai to kya hai ki se thokar lagee tabhee to usako galatee ka ahasaas hua to insaan jab tak museebat mein nahin girata to paarit hokar nahin lagatee tab tak vah apanee galatee ka ehasaas nahin karata hoon tujhe pata nahin hai dhanyavaad ummeed aapaka savaal ka javaab achchha laga hoga laik jaroor keejiega dhanyavaad

bolkar speaker
इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है?Insan Ko Apani Galati Ka Ehsaas Kab Hota Hai
अमित सिंह बघेल Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए अमित जी का जवाब
सामाजिक कार्यकर्ता, मोटिवेशनल स्पीकर 
1:25
पूछा कि इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता लेकिन इंसान को गलती का एहसास भी होता है और कभी-कभी वह अपनी गलती मानता भी नहीं और एहसास भी नहीं होता कह सकते हैं कि अगर कोई आपने गलती की है और आपको लगता कि नहीं मैं गलत नहीं है और सामने वाला खूब बोला कर भाई तुम इसे भी गलत होता है लेकिन देखिए अपने अंदर एक घमंड आ जाता है कि मैं गलती कर ही नहीं सकता तो यह सब्सिडी के दूध के कभी-कभी हर सांसद की गलतियां मुझसे भी काफी गलतियां होती है तो उस चीज को मैं भी समझता हूं कि हम उससे गलत हो तो सही करने की कोशिश करता हूं तो अपनी गलती का एहसास कभी कभी ऐसा होता कि अहसास ही नहीं होता वह कभी जब एहसास होता है तो इंसान या तो प्रयास करता है उस गलती से उस गलती को सुधारने की कोशिश करता है नहीं तो बार-बार वह गलतियां करता रहता है ऐसे प्राणी क्या होता है ना कभी सुधारना नहीं चाहते हर इंसान के अंदर दिखी कमी होती हैं खूबियां होती हैं अगर आपको कमियां आपकी अपनी पता चल गई तो उस चीज को देखिए दूर करें और एहसास करें कि हम उसमें यह कमियां है यह गलतियों से होती है तो उस पर अपना कार्य करें कभी-कभी कुछ इंसानों को तो केवल गलतियों को काफी एहसास होता है तो कुछ गलत हो जाता तो तुरंत उसको पता चल जाता हूं कि दी किस सोच सकारात्मक रहती है लेकिन जल्दी आ जाने से कभी हो ही जाती है इंसान से तो उस चीज को सुधारने की कोशिश करता है तो यह सब गलतियां हैं इंसान कुछ एहसास करते हैं कुछ लोग कुछ लोग नहीं करते जय हिंद जय भारत
Poochha ki insaan ko apanee galatee ka ehasaas kab hota lekin insaan ko galatee ka ehasaas bhee hota hai aur kabhee-kabhee vah apanee galatee maanata bhee nahin aur ehasaas bhee nahin hota kah sakate hain ki agar koee aapane galatee kee hai aur aapako lagata ki nahin main galat nahin hai aur saamane vaala khoob bola kar bhaee tum ise bhee galat hota hai lekin dekhie apane andar ek ghamand aa jaata hai ki main galatee kar hee nahin sakata to yah sabsidee ke doodh ke kabhee-kabhee har saansad kee galatiyaan mujhase bhee kaaphee galatiyaan hotee hai to us cheej ko main bhee samajhata hoon ki ham usase galat ho to sahee karane kee koshish karata hoon to apanee galatee ka ehasaas kabhee kabhee aisa hota ki ahasaas hee nahin hota vah kabhee jab ehasaas hota hai to insaan ya to prayaas karata hai us galatee se us galatee ko sudhaarane kee koshish karata hai nahin to baar-baar vah galatiyaan karata rahata hai aise praanee kya hota hai na kabhee sudhaarana nahin chaahate har insaan ke andar dikhee kamee hotee hain khoobiyaan hotee hain agar aapako kamiyaan aapakee apanee pata chal gaee to us cheej ko dekhie door karen aur ehasaas karen ki ham usamen yah kamiyaan hai yah galatiyon se hotee hai to us par apana kaary karen kabhee-kabhee kuchh insaanon ko to keval galatiyon ko kaaphee ehasaas hota hai to kuchh galat ho jaata to turant usako pata chal jaata hoon ki dee kis soch sakaaraatmak rahatee hai lekin jaldee aa jaane se kabhee ho hee jaatee hai insaan se to us cheej ko sudhaarane kee koshish karata hai to yah sab galatiyaan hain insaan kuchh ehasaas karate hain kuchh log kuchh log nahin karate jay hind jay bhaarat

bolkar speaker
इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है?Insan Ko Apani Galati Ka Ehsaas Kab Hota Hai
Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College
0:53
इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है मेरा मानना है इंसान को अपनी गलती का एहसास तब होता है जब उसे समय मिलता है सोचने का जब वह सोच सकता है कि उसने एक समय समझता है कि वह एक बार वापस इंट्रोस्पेक्ट करें अपने आप अपने आप सोचे कि आज उसने क्या-क्या किया और क्या वह सही था या नहीं तो वह जब समय मिलता है जब वह खुद सोचता है कि मैंने क्या किया है क्या यह सही था गलत तब उसे गलती का एहसास होता क्योंकि हीट ऑफ द मोमेंट किया जब हम उस मोमेंट में होते हैं तब हमेशा आता समझ नहीं आता हम क्या कर रहे हैं हम बस वह चीज कर लेते हैं इमोशंस में आकर एक्सट्रीम इमोशंस में आकर तो इस कारण उस समय हमें बिल्कुल नहीं पता चलता कि हम क्या कर रहे हैं जब वह काम हो जाता है जब हमें समय मिलता है वापस बैठ के शांति है सोचने का कि हमने क्या किया तब हमें एहसास होता है कि हमने कुछ गलत किया है
Insaan ko apanee galatee ka ehasaas kab hota hai mera maanana hai insaan ko apanee galatee ka ehasaas tab hota hai jab use samay milata hai sochane ka jab vah soch sakata hai ki usane ek samay samajhata hai ki vah ek baar vaapas introspekt karen apane aap apane aap soche ki aaj usane kya-kya kiya aur kya vah sahee tha ya nahin to vah jab samay milata hai jab vah khud sochata hai ki mainne kya kiya hai kya yah sahee tha galat tab use galatee ka ehasaas hota kyonki heet oph da moment kiya jab ham us moment mein hote hain tab hamesha aata samajh nahin aata ham kya kar rahe hain ham bas vah cheej kar lete hain imoshans mein aakar eksatreem imoshans mein aakar to is kaaran us samay hamen bilkul nahin pata chalata ki ham kya kar rahe hain jab vah kaam ho jaata hai jab hamen samay milata hai vaapas baith ke shaanti hai sochane ka ki hamane kya kiya tab hamen ehasaas hota hai ki hamane kuchh galat kiya hai

bolkar speaker
इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है?Insan Ko Apani Galati Ka Ehsaas Kab Hota Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:52
इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है इंसान जब कार्य करता रहता है और उसके कार्य में उसको सफलता मिलती है उसको धोखे मिल जाते हैं उसको झटके लगते हैं जब वह समाज से बहिष्कृत होने लगता है तो उसे अपनी गलती का एहसास होता है कि हो सकता है कि मैंने जल्दबाजी में कोई कार्य किया हो कोई ऐसी बात किसी को कह रही हो किसी को बुरी लग गई है समाज से उपेक्षित हो जाने लगता है इसलिए जब तक आदमी को खोकर नहीं लगती है तो उसे संभलने का मौका नहीं मिलता तो कर जब लग जाती है अपने आप समझ कर समझ समझ कर भी चलता है अगर किसी को गोद में आकर के किसी अपमानित होकर के घमंड में आगे किसी को अपमानित कर दिया है और समाज सुबह जो बहिष्कृत हो जाता है उसे समझ में आता है कि नहीं समाज में भी सब लोग सम्माननीय हैं हम उनका सम्मान कर चुके थे बिगर ठोकर के आदमी को समझने का मौका नहीं मिलता
Insaan ko apanee galatee ka ehasaas kab hota hai insaan jab kaary karata rahata hai aur usake kaary mein usako saphalata milatee hai usako dhokhe mil jaate hain usako jhatake lagate hain jab vah samaaj se bahishkrt hone lagata hai to use apanee galatee ka ehasaas hota hai ki ho sakata hai ki mainne jaldabaajee mein koee kaary kiya ho koee aisee baat kisee ko kah rahee ho kisee ko buree lag gaee hai samaaj se upekshit ho jaane lagata hai isalie jab tak aadamee ko khokar nahin lagatee hai to use sambhalane ka mauka nahin milata to kar jab lag jaatee hai apane aap samajh kar samajh samajh kar bhee chalata hai agar kisee ko god mein aakar ke kisee apamaanit hokar ke ghamand mein aage kisee ko apamaanit kar diya hai aur samaaj subah jo bahishkrt ho jaata hai use samajh mein aata hai ki nahin samaaj mein bhee sab log sammaananeey hain ham unaka sammaan kar chuke the bigar thokar ke aadamee ko samajhane ka mauka nahin milata

bolkar speaker
इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है?Insan Ko Apani Galati Ka Ehsaas Kab Hota Hai
Chetan Chandrawanshi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Chetan जी का जवाब
Finding a part time job
1:25
इंसान गलती करता है तब दूसरे उसकी गलती का एहसास नहीं होता जब उसका परिणाम हो जाता है तब दूसरे उस गलती का एहसास नहीं होता लेकिन उस गलती का एहसास होने के लिए यह जरूरी नहीं है कि उसका परिणाम आए थे वह उस गलती को करते वक्त ही सोचा करने से पहले ही सोच ले उसका परिणाम कैसा हो और इससे यह हो सकता है और वह उसका प्रयोग परिणाम होगा अगर उसे ना पसंद है जाने के लिए गलत लगे या बुरा लगेगा तो उसे गलती का एहसास हो जाएगा कि यह गलत है क्या हुआ जब गलती कर रहे तब उसे अच्छा लग रहा है और फिर उसके बाद परिणाम आ गया तब भी अच्छा लग रहा है तब भी उसे ऐसा शहर को परिणाम कुछ गलत लग रहा है तो समझ में गलती गलती है कि नहीं और अक्सर ऐसा होता है इंसान कोई भी गलती कर देता है और हिजाब खुश के साथ ही ऐसी कुछ ना कुछ घटनाएं होती है तब उसे एहसान है एहसास होता है गलती का तो कोई भी कार्य करने से पहले उसका परिणाम सोचने क्या हो सकता है फिर कोई कदम उठाएं
Insaan galatee karata hai tab doosare usakee galatee ka ehasaas nahin hota jab usaka parinaam ho jaata hai tab doosare us galatee ka ehasaas nahin hota lekin us galatee ka ehasaas hone ke lie yah jarooree nahin hai ki usaka parinaam aae the vah us galatee ko karate vakt hee socha karane se pahale hee soch le usaka parinaam kaisa ho aur isase yah ho sakata hai aur vah usaka prayog parinaam hoga agar use na pasand hai jaane ke lie galat lage ya bura lagega to use galatee ka ehasaas ho jaega ki yah galat hai kya hua jab galatee kar rahe tab use achchha lag raha hai aur phir usake baad parinaam aa gaya tab bhee achchha lag raha hai tab bhee use aisa shahar ko parinaam kuchh galat lag raha hai to samajh mein galatee galatee hai ki nahin aur aksar aisa hota hai insaan koee bhee galatee kar deta hai aur hijaab khush ke saath hee aisee kuchh na kuchh ghatanaen hotee hai tab use ehasaan hai ehasaas hota hai galatee ka to koee bhee kaary karane se pahale usaka parinaam sochane kya ho sakata hai phir koee kadam uthaen

bolkar speaker
इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है?Insan Ko Apani Galati Ka Ehsaas Kab Hota Hai
Manish Bhati Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Manish जी का जवाब
Life coach, professional counsellor & Relationship expert. Fitness & Motivational Coach
1:11
मटका जैसा क्या प्रोपोर्शन इंसान को अपनी गलती का एहसास तब होता है इंसान को अपनी गलती का एहसास तब होता है जब उसको व्हाट्सएप होता है जब मुझको फील होता है कि मैं गलत था जब उसको फिर दुख होता है यार मैंने ऐसा क्यों किया क्यों आप एक चीज को समझें जब मैं आपको एक किस तो बहुत अच्छा उदाहरण देकर समझाना करता हूं जिसे हमारी रामायण सुनने देखी होगी राम को बनवास भेजने के बाद जब के कई मैया को एहसास हुआ कि वह गलत है उसने मंत्रा के कहने में यह सब किया उसको उस टाइम बोल दो ना शीला है उनकी लाइफ पूरी चेंज हो गई देखा जाए तो इस पूरी रामायण की स्टोरी चेंज हो गई थी अब इसमें भी ओल्ड रामायण वॉच करके देख रखी है तो उसने देखा हुआ उसमें बहुत अच्छे भी चीजें लेकिन राम में कभी अंतर नहीं किया तो इंसान को अपनी गलती का एहसास तब होता जब उनको सील कराया जाए जब उनके बेटे बगैर यदि भरत जी आए थे भरत भगवान ना आए थे तो उन्होंने सील कराया तो तब उन्हें एहसास हुआ कि हमारे लिए बहुत जरूरी है उस इंसान को एहसास कराना माय सजेशन
Mataka jaisa kya proporshan insaan ko apanee galatee ka ehasaas tab hota hai insaan ko apanee galatee ka ehasaas tab hota hai jab usako vhaatsep hota hai jab mujhako pheel hota hai ki main galat tha jab usako phir dukh hota hai yaar mainne aisa kyon kiya kyon aap ek cheej ko samajhen jab main aapako ek kis to bahut achchha udaaharan dekar samajhaana karata hoon jise hamaaree raamaayan sunane dekhee hogee raam ko banavaas bhejane ke baad jab ke kaee maiya ko ehasaas hua ki vah galat hai usane mantra ke kahane mein yah sab kiya usako us taim bol do na sheela hai unakee laiph pooree chenj ho gaee dekha jae to is pooree raamaayan kee storee chenj ho gaee thee ab isamen bhee old raamaayan voch karake dekh rakhee hai to usane dekha hua usamen bahut achchhe bhee cheejen lekin raam mein kabhee antar nahin kiya to insaan ko apanee galatee ka ehasaas tab hota jab unako seel karaaya jae jab unake bete bagair yadi bharat jee aae the bharat bhagavaan na aae the to unhonne seel karaaya to tab unhen ehasaas hua ki hamaare lie bahut jarooree hai us insaan ko ehasaas karaana maay sajeshan

bolkar speaker
इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है?Insan Ko Apani Galati Ka Ehsaas Kab Hota Hai
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:25
इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है उस इंसान को अपनी गलती का एहसास सब कुछ खत्म होने के बाद ही हो जाता है जब परिस्थितियां और फोटो हो जाती हैं रिश्ते नहीं बस अपने जीवन में इंसान अकेला रह जाता है उसके आसपास कोई भी नहीं होता है ऐसे समय में ही बैठकर के मैसेज करता है और यह सोचता है कि कहां-कहां गलतियां हुई है या नहीं लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी होती हो चुका होता है मनीषा बहन धन्यवाद
Insaan ko apanee galatee ka ehasaas kab hota hai us insaan ko apanee galatee ka ehasaas sab kuchh khatm hone ke baad hee ho jaata hai jab paristhitiyaan aur photo ho jaatee hain rishte nahin bas apane jeevan mein insaan akela rah jaata hai usake aasapaas koee bhee nahin hota hai aise samay mein hee baithakar ke maisej karata hai aur yah sochata hai ki kahaan-kahaan galatiyaan huee hai ya nahin lekin tab tak bahut der ho chukee hotee ho chuka hota hai maneesha bahan dhanyavaad

bolkar speaker
इंसान को अपनी गलती का एहसास कब होता है?Insan Ko Apani Galati Ka Ehsaas Kab Hota Hai
Abhishek Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Abhishek जी का जवाब
आपके सवालो का जवाब देना ही मेरा काम है..👩‍💻😊🙂😊🙂😊🙂
0:16
इंसान को अपनी गलती का एहसास तब होता है जब वो अच्छे से लाए जगह करके सब कुछ खत्म कर देता है उनके जो जगह गलती कर देता है जब उसका एहसास होता है कि उसने गलती की है धन्यवाद
Insaan ko apanee galatee ka ehasaas tab hota hai jab vo achchhe se lae jagah karake sab kuchh khatm kar deta hai unake jo jagah galatee kar deta hai jab usaka ehasaas hota hai ki usane galatee kee hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • सही इंसान की पहचान कैसे करे.. क्या इंसान सही में बदल गया है..
URL copied to clipboard