#जीवन शैली

bolkar speaker

भाषा का व्यक्ति समाज और राष्ट्र की जीवन में क्या महत्व है?

Bhasha Ka Vyakti Samaj Aur Rashtr Ki Jevan Mein Kya Mahatv Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:09
भाषा के व्यक्ति और समाज और राष्ट्र के जीवन में क्या लिखिए भाषा गधे के नीचे भाषा उन्नति अहै सब उन्नति को मूल बिन निज भाषा ज्ञान के मिटे न हिय को सूल तू भाषा अपने जवान के द्वारा एक ऐसी बोली हुई बोले हुए शब्दों का एक समूह होता है जो दूसरों को उसके माध्यम से उसको समझाया जा सके अपनी बात को कहने के लिए जिन शब्दों का प्रयोग किया जाता है जिसके विषय में सब लोग उसको जानते हो उसे भाषा कहते हैं यह भाषाएं स्थानीय भाषा में भी होते हैं जैसे अंग्रेजी भाषा है यह हमारी अंतर्राष्ट्रीय भाषा है हिंदी भाषा है और राजभाषा है तमिल मलयालम केरला और जितने भी हैं वहां के राज्य की वहां की अपनी मातृभाषा में हैं तो जो भाषा अपने मुख्य के द्वारा शब्दों के संचयन के माध्यम से दूसरों के सामने प्रस्तुत किया जाए और उस भाषा के पूर्व समझने के लिए सक्षम हो तो जो माध्यम होते हैं शब्दों के माध्यम से अपनी बात को प्रस्तुत करने की जो सहेली होती है उसे भाषा शैली है
Bhaasha ke vyakti aur samaaj aur raashtr ke jeevan mein kya likhie bhaasha gadhe ke neeche bhaasha unnati ahai sab unnati ko mool bin nij bhaasha gyaan ke mite na hiy ko sool too bhaasha apane javaan ke dvaara ek aisee bolee huee bole hue shabdon ka ek samooh hota hai jo doosaron ko usake maadhyam se usako samajhaaya ja sake apanee baat ko kahane ke lie jin shabdon ka prayog kiya jaata hai jisake vishay mein sab log usako jaanate ho use bhaasha kahate hain yah bhaashaen sthaaneey bhaasha mein bhee hote hain jaise angrejee bhaasha hai yah hamaaree antarraashtreey bhaasha hai hindee bhaasha hai aur raajabhaasha hai tamil malayaalam kerala aur jitane bhee hain vahaan ke raajy kee vahaan kee apanee maatrbhaasha mein hain to jo bhaasha apane mukhy ke dvaara shabdon ke sanchayan ke maadhyam se doosaron ke saamane prastut kiya jae aur us bhaasha ke poorv samajhane ke lie saksham ho to jo maadhyam hote hain shabdon ke maadhyam se apanee baat ko prastut karane kee jo sahelee hotee hai use bhaasha shailee hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
भाषा का व्यक्ति समाज और राष्ट्र की जीवन में क्या महत्व है?Bhasha Ka Vyakti Samaj Aur Rashtr Ki Jevan Mein Kya Mahatv Hai
Sanjay Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sanjay जी का जवाब
𝔖𝔱𝔲𝔡𝔢𝔫𝔱 | 𝔈𝔡𝔲𝔠𝔞𝔱𝔦𝔬𝔫𝔦𝔰𝔱
1:14
भाषा का व्यक्ति समाज और राष्ट्र की जीवन में क्या महत्व दोस्तों भाषा की बात करें तो भाषा एक ऐसा टूल है जिसकी सहायता से हम विचारों का आदान-प्रदान कर सकते हैं तो अगर भाषा को ही लें तो हम जब एक परिवार में रहते हैं तो हमारी रो परिवार में हमारे माता-पिता होते हैं वह हमें सिखाते हैं कि कैसे बोलना है इससे कैसी बातें करनी है और जब हम आगे थोड़ा बड़े हो जाते हैं फिर विद्यालय जाने लगते हैं उस समय हम एक समाज में आ जाते हैं और वह समाज हमें बताता है कि हमें समाज में कैसा व्यवहार करना चाहिए तू हमारा परिवार ही होता है जो यह बताता है कि समाज में कैसे व्यवस्था नहीं है और जो हमारा व्यवहार है वह किसी के प्रति कैसा है या हमारी भाषा और हमारा रिश्ता होता है हमारा आचरण कैसे मालूम चलेगा कि हम किसी से कैसे बोलते हैं तो भाषा ही एक तरफ से हमारे और समाज के बीच में एक डोर का कार्य करती हैं और राष्ट्र की बात कर ले तो राष्ट्र हमारा समाज में विवाह अच्छा होता है और हम अपने राष्ट्र के प्रति भी अच्छी भावना रखते हैं एक तरह से समाज से ही राष्ट्र बनता है तो भाषा का जो योगदान है वह समाज व राष्ट्र में काफी ज्यादा महत्वपूर्ण
Bhaasha ka vyakti samaaj aur raashtr kee jeevan mein kya mahatv doston bhaasha kee baat karen to bhaasha ek aisa tool hai jisakee sahaayata se ham vichaaron ka aadaan-pradaan kar sakate hain to agar bhaasha ko hee len to ham jab ek parivaar mein rahate hain to hamaaree ro parivaar mein hamaare maata-pita hote hain vah hamen sikhaate hain ki kaise bolana hai isase kaisee baaten karanee hai aur jab ham aage thoda bade ho jaate hain phir vidyaalay jaane lagate hain us samay ham ek samaaj mein aa jaate hain aur vah samaaj hamen bataata hai ki hamen samaaj mein kaisa vyavahaar karana chaahie too hamaara parivaar hee hota hai jo yah bataata hai ki samaaj mein kaise vyavastha nahin hai aur jo hamaara vyavahaar hai vah kisee ke prati kaisa hai ya hamaaree bhaasha aur hamaara rishta hota hai hamaara aacharan kaise maaloom chalega ki ham kisee se kaise bolate hain to bhaasha hee ek taraph se hamaare aur samaaj ke beech mein ek dor ka kaary karatee hain aur raashtr kee baat kar le to raashtr hamaara samaaj mein vivaah achchha hota hai aur ham apane raashtr ke prati bhee achchhee bhaavana rakhate hain ek tarah se samaaj se hee raashtr banata hai to bhaasha ka jo yogadaan hai vah samaaj va raashtr mein kaaphee jyaada mahatvapoorn

bolkar speaker
भाषा का व्यक्ति समाज और राष्ट्र की जीवन में क्या महत्व है?Bhasha Ka Vyakti Samaj Aur Rashtr Ki Jevan Mein Kya Mahatv Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:07
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न भाषा का व्यक्ति समाज और राष्ट्र की जीवन में क्या महत्व है तो फ्रेंड्स भाषा का व्यक्ति समाज और राष्ट्र जीवन में बहुत महत्व है जैसे कि हमारे हिंदुस्तान में ही हमारी हिंदी भाषा का प्रयोग में लाई जाती है तो हमारी हिंदी भाषा से हम सबकी समझ लेते हैं बोल लेते हैं और अपने अपने समाज में अलग-अलग प्रदेशों की शादी होती है जैसे पंजाब में पंजाबी भाषा होती है आसामी संभाला भाषा होती है और अलग-अलग देशों की कर्नाटक में अलग भाषा होती है तमिलनाडु मेला भाषा है तो सब प्रदेश के अलग-अलग भाषाएं होती है लेकिन तो भी वह सब होते हुए सब लोग मिलजुलकर प्यार से इस साथ रहते हैं और हमारे हिंदुस्तान में हमारी हिंदी भाषा है जो हिंदी भाषा है उसी को हम लोग समझते हैं देखते हैं लिखते हैं और पढ़ते हैं और बच्चों को भी भी सिखाई जाती है तो उसका जीवन में बहुत महत्व होता है इसी भाषा को हम बोलते हैं यह समझते हैं कि सब काम करते हैं नौकरी भी कहीं जाते हैं तो ऐसी भाषा का प्रयोग करते हैं तो यह बहुत महत्वपूर्ण होती है
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn bhaasha ka vyakti samaaj aur raashtr kee jeevan mein kya mahatv hai to phrends bhaasha ka vyakti samaaj aur raashtr jeevan mein bahut mahatv hai jaise ki hamaare hindustaan mein hee hamaaree hindee bhaasha ka prayog mein laee jaatee hai to hamaaree hindee bhaasha se ham sabakee samajh lete hain bol lete hain aur apane apane samaaj mein alag-alag pradeshon kee shaadee hotee hai jaise panjaab mein panjaabee bhaasha hotee hai aasaamee sambhaala bhaasha hotee hai aur alag-alag deshon kee karnaatak mein alag bhaasha hotee hai tamilanaadu mela bhaasha hai to sab pradesh ke alag-alag bhaashaen hotee hai lekin to bhee vah sab hote hue sab log milajulakar pyaar se is saath rahate hain aur hamaare hindustaan mein hamaaree hindee bhaasha hai jo hindee bhaasha hai usee ko ham log samajhate hain dekhate hain likhate hain aur padhate hain aur bachchon ko bhee bhee sikhaee jaatee hai to usaka jeevan mein bahut mahatv hota hai isee bhaasha ko ham bolate hain yah samajhate hain ki sab kaam karate hain naukaree bhee kaheen jaate hain to aisee bhaasha ka prayog karate hain to yah bahut mahatvapoorn hotee hai

bolkar speaker
भाषा का व्यक्ति समाज और राष्ट्र की जीवन में क्या महत्व है?Bhasha Ka Vyakti Samaj Aur Rashtr Ki Jevan Mein Kya Mahatv Hai
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
1:40
नमस्कार दोस्तों यूजर ने पूछा भाषा का व्यक्ति समाज और राष्ट्र की जीवन में क्या महत्व है जी आपको बताना चाहूंगा देखिए किसी भी देश की भाषा उसके इतिहास और उस पर आधारित होती है और किसी भी देश के खिलाएंगे ज्योति है उसका बहुत बड़ा एक देश है तो व्यक्ति समाज पर प्रभाव के अगर आप बात करते हैं जब व्यक्तिगत जीवन में क्या महत्व है देखिए आपने जो भी हमारी मातृभाषा है जैसे कि हमारी मातृभाषा हिंदी है तो हिंदी का अंग्रेजी में बहुत बड़ा महत्व है क्योंकि यही एक लड़की ऐसी भाषा जो हम एक दूसरे से बात कर सकते हैं अपनी चीजों को शेयर कर सकते हैं अपने जो आपकी व्यक्तिगत समस्याएं हैं उनको हम शेयर कर सकते हैं उन्हीं से हमारा एक तरह से जुड़ा है और एग्जांपल आर रहमान की जी आपका घर जंगल बुक जंगल बुक जंगल में डर लगेगा लेकिन आप को सुकून का जो चैन है स्कूल के साथ जो है वह अपने घर में ही आगे बेशक वह घर चाय घने जंगलों के बीच में है और कहीं लेकिन अपना घर हमें अपना होने का अहसास रहता है उसी तरह से भाषा जो है हमें एक हिंदुस्तानी के साथ-साथ हमारे सभी भारतीय भाई बहनों को एकता का प्रतीक है और समाज में भी हम इसी भाषा के आधार पर पहचाने जाते हैं कि हम कौन हैं और कहां से हैं तो यह भाषा जो है सिर्फ भाषा नहीं एक माध्यम है हम सभी को आपस में जोड़कर रखने का आशा करता हूं आपको आपके सवाल का जवाब मिल जाएगा लाइक और सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Namaskaar doston yoojar ne poochha bhaasha ka vyakti samaaj aur raashtr kee jeevan mein kya mahatv hai jee aapako bataana chaahoonga dekhie kisee bhee desh kee bhaasha usake itihaas aur us par aadhaarit hotee hai aur kisee bhee desh ke khilaenge jyoti hai usaka bahut bada ek desh hai to vyakti samaaj par prabhaav ke agar aap baat karate hain jab vyaktigat jeevan mein kya mahatv hai dekhie aapane jo bhee hamaaree maatrbhaasha hai jaise ki hamaaree maatrbhaasha hindee hai to hindee ka angrejee mein bahut bada mahatv hai kyonki yahee ek ladakee aisee bhaasha jo ham ek doosare se baat kar sakate hain apanee cheejon ko sheyar kar sakate hain apane jo aapakee vyaktigat samasyaen hain unako ham sheyar kar sakate hain unheen se hamaara ek tarah se juda hai aur egjaampal aar rahamaan kee jee aapaka ghar jangal buk jangal buk jangal mein dar lagega lekin aap ko sukoon ka jo chain hai skool ke saath jo hai vah apane ghar mein hee aage beshak vah ghar chaay ghane jangalon ke beech mein hai aur kaheen lekin apana ghar hamen apana hone ka ahasaas rahata hai usee tarah se bhaasha jo hai hamen ek hindustaanee ke saath-saath hamaare sabhee bhaarateey bhaee bahanon ko ekata ka prateek hai aur samaaj mein bhee ham isee bhaasha ke aadhaar par pahachaane jaate hain ki ham kaun hain aur kahaan se hain to yah bhaasha jo hai sirph bhaasha nahin ek maadhyam hai ham sabhee ko aapas mein jodakar rakhane ka aasha karata hoon aapako aapake savaal ka javaab mil jaega laik aur sabsakraib karen dhanyavaad

bolkar speaker
भाषा का व्यक्ति समाज और राष्ट्र की जीवन में क्या महत्व है?Bhasha Ka Vyakti Samaj Aur Rashtr Ki Jevan Mein Kya Mahatv Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:33
आपका सवाल ने की भाषा का व्यक्ति समाज व राष्ट्र की जीवन में क्या महत्व है तो सामान्य भाषा को वैचारिक आदान-प्रदान का मध्य मध्य कहा जाता है भाषा अभिव्यक्ति का सर्वप्रथम एवं मध्यम है यही नहीं है हमारे समाज के निर्माण का विकास सामाजिक में संस्कृति की पहचान का भी महत्वपूर्ण साधन है भाषा के बिना मनुष्य पूर्ण है और अपने इतिहास और परंपरा से 2016 देता है धन्यवाद
Aapaka savaal ne kee bhaasha ka vyakti samaaj va raashtr kee jeevan mein kya mahatv hai to saamaany bhaasha ko vaichaarik aadaan-pradaan ka madhy madhy kaha jaata hai bhaasha abhivyakti ka sarvapratham evan madhyam hai yahee nahin hai hamaare samaaj ke nirmaan ka vikaas saamaajik mein sanskrti kee pahachaan ka bhee mahatvapoorn saadhan hai bhaasha ke bina manushy poorn hai aur apane itihaas aur parampara se 2016 deta hai dhanyavaad

bolkar speaker
भाषा का व्यक्ति समाज और राष्ट्र की जीवन में क्या महत्व है?Bhasha Ka Vyakti Samaj Aur Rashtr Ki Jevan Mein Kya Mahatv Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
0:56
क्या आपका प्रश्न भाषा का व्यक्ति समाज और राष्ट्र के जीवन में क्या महत्व देखिए भाषा अभिव्यक्ति का एक माध्यम है अभिव्यक्ति का यह माध्यम हमें जोड़ती भी है हमें सचेत भी करती है हमें शक्ति भी करती है हमें समझने की क्षमता भी प्रदान करती है और इंसान संसार में बहुत ही कमजोर प्राणी हो करके भी अगर एक सशक्त साड़ी के रूप में स्थापित है तो उसका मूल कारण उसके सोचने समझने की क्षमता है समझे आपने तो आपने पूछा है कि भाषा का तो भाषा व्यक्ति के जीवन में समाज के जीवन में और राष्ट्र के जीवन में रचना धर्मी होने के नाते व्यक्ति को समाज को राष्ट्र को शक्तिशाली बनाते से जोड़ती है उसको शक करे करती है समझे ना तो इस तरह से भाषा हमारी एक जीवनदायिनी विशेषता कही जा सकती थी
Kya aapaka prashn bhaasha ka vyakti samaaj aur raashtr ke jeevan mein kya mahatv dekhie bhaasha abhivyakti ka ek maadhyam hai abhivyakti ka yah maadhyam hamen jodatee bhee hai hamen sachet bhee karatee hai hamen shakti bhee karatee hai hamen samajhane kee kshamata bhee pradaan karatee hai aur insaan sansaar mein bahut hee kamajor praanee ho karake bhee agar ek sashakt sari ke roop mein sthaapit hai to usaka mool kaaran usake sochane samajhane kee kshamata hai samajhe aapane to aapane poochha hai ki bhaasha ka to bhaasha vyakti ke jeevan mein samaaj ke jeevan mein aur raashtr ke jeevan mein rachana dharmee hone ke naate vyakti ko samaaj ko raashtr ko shaktishaalee banaate se jodatee hai usako shak kare karatee hai samajhe na to is tarah se bhaasha hamaaree ek jeevanadaayinee visheshata kahee ja sakatee thee

bolkar speaker
भाषा का व्यक्ति समाज और राष्ट्र की जीवन में क्या महत्व है?Bhasha Ka Vyakti Samaj Aur Rashtr Ki Jevan Mein Kya Mahatv Hai
Rohit Soni Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Journalism
1:16
हम अपने मन के भावों को भाषा के द्वारा ही आदान प्रदान करते हैं नमस्कार दोस्तों मेरा नाम है रोहित और आप सुनने में ऑडियो बोल कर अपने भाषा का व्यक्ति के समाज को राष्ट्र के लिए महत्वपूर्ण है तो है मैं आपको तंग नहीं कोई व्यक्ति है जो अपने आसपास की भाषा नहीं जानता है वह किसी बाहर गांव से आए हैं जो मान लीजिए कोई व्यक्ति दिल्ली से गया तमिल तमिल नाडु गया हुआ है वहां पर उसे तमिल नहीं आती है लेकिन उसका परिणाम यह निकला कि वहां पर लोगों से बातचीत नहीं कर पाएगा अपनी जो इंपॉर्टेंट है अपनी तो मन के भावों को एक दूसरे में व्यक्त नहीं कर पाएगा अमीर व्यक्तियों में आती तो वहां पर भी अपने मन के भावों को भी दूसरी बार पाता जिससे क्या होता है कि वह अपने व्यक्तित्व को तो बढ़ावा दे रहा है कि यहां वहां पर तमिल तमिलनाडु में जो व्यक्ति बैठे हैं वह सोचते दिल्ली में रहने वाला व्यक्ति भी हमारी भाषा में बोल पा रहा है इसके उपरांत हुए राष्ट्र में भी एक अच्छा संदेश जाता है कि हां दिल्ली में बैठा व्यक्ति भी तमिल भाषा सीख लाई जानी तमिलनाडु मां की जो भाषा है तो मैं उसकी भी बहुत अच्छ 15 है लोगों को समझे और लोग जमा कर वह भी समझते कि हम हम लोगों को भी हिंदी भाषा को बहुत ज्यादा मैसेज भेजिए इसको भी सीखना चाहिए ताकि जो बाहर से लोग हैं इस भाषा को समझ सके आशा करता हूं दोस्तों आपको मेरा इस सवाल का जवाब मिल गया होगा
Ham apane man ke bhaavon ko bhaasha ke dvaara hee aadaan pradaan karate hain namaskaar doston mera naam hai rohit aur aap sunane mein odiyo bol kar apane bhaasha ka vyakti ke samaaj ko raashtr ke lie mahatvapoorn hai to hai main aapako tang nahin koee vyakti hai jo apane aasapaas kee bhaasha nahin jaanata hai vah kisee baahar gaanv se aae hain jo maan leejie koee vyakti dillee se gaya tamil tamil naadu gaya hua hai vahaan par use tamil nahin aatee hai lekin usaka parinaam yah nikala ki vahaan par logon se baatacheet nahin kar paega apanee jo importent hai apanee to man ke bhaavon ko ek doosare mein vyakt nahin kar paega ameer vyaktiyon mein aatee to vahaan par bhee apane man ke bhaavon ko bhee doosaree baar paata jisase kya hota hai ki vah apane vyaktitv ko to badhaava de raha hai ki yahaan vahaan par tamil tamilanaadu mein jo vyakti baithe hain vah sochate dillee mein rahane vaala vyakti bhee hamaaree bhaasha mein bol pa raha hai isake uparaant hue raashtr mein bhee ek achchha sandesh jaata hai ki haan dillee mein baitha vyakti bhee tamil bhaasha seekh laee jaanee tamilanaadu maan kee jo bhaasha hai to main usakee bhee bahut achchh 15 hai logon ko samajhe aur log jama kar vah bhee samajhate ki ham ham logon ko bhee hindee bhaasha ko bahut jyaada maisej bhejie isako bhee seekhana chaahie taaki jo baahar se log hain is bhaasha ko samajh sake aasha karata hoon doston aapako mera is savaal ka javaab mil gaya hoga

bolkar speaker
भाषा का व्यक्ति समाज और राष्ट्र की जीवन में क्या महत्व है?Bhasha Ka Vyakti Samaj Aur Rashtr Ki Jevan Mein Kya Mahatv Hai
T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
4:58
आपका प्रश्न है कि भाषा का व्यक्ति समाज और राष्ट्र के जीवन में क्या मांग टीके कुत्ते पहले तो इस प्रश्न को पूछने के लिए आपका बहुत धन्यवाद हजारों वर्ष पहले श्री गोस्वामी तुलसीदास जी ने कहा था कि वशीकरण एक मंत्र है पजदे वचन कठोर तुलसी मीठे वचन ते सुख उपजत चहुं गोस्वामी तुलसीदास जी की पंक्तियां भाषा के महत्व को समझाने के लिए मेरी दृष्टि में काफी भाषा ही से तो हमारे संस्कार जुड़े हमारी भाषा ही हमें पीढ़ियों से जोड़ दें भाषा हमारी सामाजिक जीवन की नींव है भाषा हमारी उन्नति और विकास का प्रतीक भाषा हमारी शिक्षा और प्रगति की तस्वीर है और भाषा हमारी वाणी का प्रति देखिए भाषा का सीधा संबंध आप के संस्कारों से हमारे पूर्वजों ने हमारे समाज में हमारे परिवार में हमको जो संस्कार दिए हैं वही संस्कार हमारी भाषा के जरिए अगली पीढ़ियों तक जाते हैं और किस को आगे बढ़ाते रहना ही हमारा कर्तव्य को बहुत दुख से यह कहना पड़ता है कि आज की आधुनिकता में बल्कि यूं कहें कि आज की आधुनिकता की आंधी में हमारी जो युवा पीढ़ी हमारी जो वास्तविक संस्कारों वाली भाषा है उससे युवा पीढ़ी दूर होती जा रही है पर वर्तमान पीढ़ी अपनी भाषा से दूर होने के साथ कि संस्कारों से भी पूरी बना रही है जिससे पाश्चात्य संस्कृति का बोलबाला बॉर्डर हम जिस भाषा को महत्व देते हैं उसी भाषा की संस्कृति हम सीखते हैं और समझते हैं और इसके लिए बच्चों को अपनी भाषा से जुड़े रखना बहुत जरूरी लिखिए भाषा क्या है भाषा विचारों को व्यक्त करने का एक प्रमुख साधन है भाषा हमारी मुख से उच्चारित होने वाले शब्दों और वाक्यों का अधिक का वह समूह जिसके द्वारा हम अपने मन की बात बताते भाषा की सहायता से किसी समाज या देश के लोग अपने मनोगत भाग अथवा विचार एक दूसरे पर प्रकट करते हैं दुनिया में हजारों भाटा हर व्यक्ति बचपन से ही अपनी मातृभाषा या देश की भाषा से परिचित होता है लेकिन दूसरे देश या समाज की भाषा से इतनी आसानी से नहीं छोड़ता और हमारी जो हिंदी भाषा है वह भाषा विज्ञान की दृष्टि से भारतीय आर्य शाखा की एक भाषा ब्रजभाषा अवधी बुंदेलखंडी गैस की भाषाएं मानव समाज के साथ ही भाषा का भी बराबर विकास होता आया है और इसी विकास के कारण भाषाओं में सदा परिवर्तन होता है भाषा अभिव्यक्ति का सर्वाधिक विश्वसनीय माध्यम यह हमारे समाज के निर्माण विकास अस्मिता सामाजिक व सांस्कृतिक पहचान का महत्वपूर्ण साधन है और भाषा के बिना मनुष्य पूर्ण है और अपने इतिहास और परंपरा से मिलना है भाषा में ही हमारे भाव राज्य वर्ग जातीयता और प्रांतीय का चालक इसलिए व्यक्ति समाज और राष्ट्र की जीवन में भाषा का भाव
Aapaka prashn hai ki bhaasha ka vyakti samaaj aur raashtr ke jeevan mein kya maang teeke kutte pahale to is prashn ko poochhane ke lie aapaka bahut dhanyavaad hajaaron varsh pahale shree gosvaamee tulaseedaas jee ne kaha tha ki vasheekaran ek mantr hai pajade vachan kathor tulasee meethe vachan te sukh upajat chahun gosvaamee tulaseedaas jee kee panktiyaan bhaasha ke mahatv ko samajhaane ke lie meree drshti mein kaaphee bhaasha hee se to hamaare sanskaar jude hamaaree bhaasha hee hamen peedhiyon se jod den bhaasha hamaaree saamaajik jeevan kee neenv hai bhaasha hamaaree unnati aur vikaas ka prateek bhaasha hamaaree shiksha aur pragati kee tasveer hai aur bhaasha hamaaree vaanee ka prati dekhie bhaasha ka seedha sambandh aap ke sanskaaron se hamaare poorvajon ne hamaare samaaj mein hamaare parivaar mein hamako jo sanskaar die hain vahee sanskaar hamaaree bhaasha ke jarie agalee peedhiyon tak jaate hain aur kis ko aage badhaate rahana hee hamaara kartavy ko bahut dukh se yah kahana padata hai ki aaj kee aadhunikata mein balki yoon kahen ki aaj kee aadhunikata kee aandhee mein hamaaree jo yuva peedhee hamaaree jo vaastavik sanskaaron vaalee bhaasha hai usase yuva peedhee door hotee ja rahee hai par vartamaan peedhee apanee bhaasha se door hone ke saath ki sanskaaron se bhee pooree bana rahee hai jisase paashchaaty sanskrti ka bolabaala bordar ham jis bhaasha ko mahatv dete hain usee bhaasha kee sanskrti ham seekhate hain aur samajhate hain aur isake lie bachchon ko apanee bhaasha se jude rakhana bahut jarooree likhie bhaasha kya hai bhaasha vichaaron ko vyakt karane ka ek pramukh saadhan hai bhaasha hamaaree mukh se uchchaarit hone vaale shabdon aur vaakyon ka adhik ka vah samooh jisake dvaara ham apane man kee baat bataate bhaasha kee sahaayata se kisee samaaj ya desh ke log apane manogat bhaag athava vichaar ek doosare par prakat karate hain duniya mein hajaaron bhaata har vyakti bachapan se hee apanee maatrbhaasha ya desh kee bhaasha se parichit hota hai lekin doosare desh ya samaaj kee bhaasha se itanee aasaanee se nahin chhodata aur hamaaree jo hindee bhaasha hai vah bhaasha vigyaan kee drshti se bhaarateey aary shaakha kee ek bhaasha brajabhaasha avadhee bundelakhandee gais kee bhaashaen maanav samaaj ke saath hee bhaasha ka bhee baraabar vikaas hota aaya hai aur isee vikaas ke kaaran bhaashaon mein sada parivartan hota hai bhaasha abhivyakti ka sarvaadhik vishvasaneey maadhyam yah hamaare samaaj ke nirmaan vikaas asmita saamaajik va saanskrtik pahachaan ka mahatvapoorn saadhan hai aur bhaasha ke bina manushy poorn hai aur apane itihaas aur parampara se milana hai bhaasha mein hee hamaare bhaav raajy varg jaateeyata aur praanteey ka chaalak isalie vyakti samaaj aur raashtr kee jeevan mein bhaasha ka bhaav

bolkar speaker
भाषा का व्यक्ति समाज और राष्ट्र की जीवन में क्या महत्व है?Bhasha Ka Vyakti Samaj Aur Rashtr Ki Jevan Mein Kya Mahatv Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:36
मेरा का प्रश्न भाषा के व्यक्ति समाज और राष्ट्र की जीवन में क्या महत्व है तो देखे भाषाएं बोली तो बहुत ही महत्वपूर्ण रोल प्ले करती हैं किसी भी समाज के लिए किसी भी देश के लिए और एक दोहा भी है कि ऐसी वाणी बोलिए मन का आपा खोय औरन को शीतल करे आपहु शीतल होय तो यहां पर आपको ऐसी भाषा का प्रयोग हमेशा करना चाहिए जिसको सुनकर के दूसरे तो मोहित हुई हो साथ ही साथ आपको भी बोल कर के भी वापस सुख का आनंद प्राप्त हो मिस कामना के साथ हैं धन्यवाद
Mera ka prashn bhaasha ke vyakti samaaj aur raashtr kee jeevan mein kya mahatv hai to dekhe bhaashaen bolee to bahut hee mahatvapoorn rol ple karatee hain kisee bhee samaaj ke lie kisee bhee desh ke lie aur ek doha bhee hai ki aisee vaanee bolie man ka aapa khoy auran ko sheetal kare aapahu sheetal hoy to yahaan par aapako aisee bhaasha ka prayog hamesha karana chaahie jisako sunakar ke doosare to mohit huee ho saath hee saath aapako bhee bol kar ke bhee vaapas sukh ka aanand praapt ho mis kaamana ke saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
भाषा का व्यक्ति समाज और राष्ट्र की जीवन में क्या महत्व है?Bhasha Ka Vyakti Samaj Aur Rashtr Ki Jevan Mein Kya Mahatv Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:55
तथा व्यक्ति समाज और राष्ट्र के जीवन में क्या महत्व है दोस्तों का साथ जो है वह व्यक्ति को एक तो संवाद के लिए जरूरी होती है मान लीजिए कि आप पर तमिलनाडु के रहने वाले रात हिंदी नहीं जानते हैं तो भाषा जो है उसका तमिल नाडु तमिल नहीं आती है और उसको राजस्थानी नहीं आती है हिंदी नहीं आती है तो आप इंग्लिश के माध्यम से दूसरे संवाद कर सकते हैं फेसबुक माता का व्यक्ति और समाज और राष्ट्रीय जीवन में 200 काफी महत्व होता है क्योंकि भाषा संवाद करने के लिए जरूरी होती है और किसी भी राष्ट्र के साथ यदि आप संपर्क साबित करना चाहते हैं तो उसके लिए यह जरूरी आपको दोनों को कोई एक ऐसी भाषा आनी चाहिए कि जिसको आप दोनों जानते हैं
Tatha vyakti samaaj aur raashtr ke jeevan mein kya mahatv hai doston ka saath jo hai vah vyakti ko ek to sanvaad ke lie jarooree hotee hai maan leejie ki aap par tamilanaadu ke rahane vaale raat hindee nahin jaanate hain to bhaasha jo hai usaka tamil naadu tamil nahin aatee hai aur usako raajasthaanee nahin aatee hai hindee nahin aatee hai to aap inglish ke maadhyam se doosare sanvaad kar sakate hain phesabuk maata ka vyakti aur samaaj aur raashtreey jeevan mein 200 kaaphee mahatv hota hai kyonki bhaasha sanvaad karane ke lie jarooree hotee hai aur kisee bhee raashtr ke saath yadi aap sampark saabit karana chaahate hain to usake lie yah jarooree aapako donon ko koee ek aisee bhaasha aanee chaahie ki jisako aap donon jaanate hain

bolkar speaker
भाषा का व्यक्ति समाज और राष्ट्र की जीवन में क्या महत्व है?Bhasha Ka Vyakti Samaj Aur Rashtr Ki Jevan Mein Kya Mahatv Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:26
दिवाली की भाषा का व्यक्ति समाज और राष्ट्र की जीवन में क्या महत्व है भाषा अभिव्यक्ति का सर्वाधिक विश्वसनीय माध्यम है यही नहीं यह हमारे समाज के निर्माण में कार अस्मिता सामाजिक और सांस्कृतिक पहचान का भी महत्वपूर्ण साधन है भाषण के बिना मनुष्य कौन है अपने इतिहास और परंपरा से वंचित है भाषा और लिपि भक्ति करण के दो अध्ययन दो पहलू हैं
Divaalee kee bhaasha ka vyakti samaaj aur raashtr kee jeevan mein kya mahatv hai bhaasha abhivyakti ka sarvaadhik vishvasaneey maadhyam hai yahee nahin yah hamaare samaaj ke nirmaan mein kaar asmita saamaajik aur saanskrtik pahachaan ka bhee mahatvapoorn saadhan hai bhaashan ke bina manushy kaun hai apane itihaas aur parampara se vanchit hai bhaasha aur lipi bhakti karan ke do adhyayan do pahaloo hain

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • व्यक्ति समाज और राष्ट्र, जीवन में भाषा का महत्व
URL copied to clipboard