#भारत की राजनीति

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
0:59
आपको फ्रेश नहीं की हो राकेश टिकैत को ही क्यों किसान नेता बनाया क्या आप कैसे कह सकते हैं कि वह बीजेपी से नहीं है कई सारे मुद्दा उठाएंगे क्योंकि जो किसान आंदोलन चल रहा है चेक उसमें पॉलिटिकल पार्टियां जो भी है उसके है तू कहीं ना कहीं भूसारे बात का बतंगड़ बनेंगे किसान यूनियन जो राकेश दिखाए थे वह बीजेपी से है कांग्रेसका समर्थन कर रहे हैं अदर पार्टी का समर्थन कर रहे हैं अलग सी बात है बहुत सारे ऐसे मुद्दे उठेंगे और जहां तक की बात है कि राकेश टिकैत को किसान नेता क्यों मनाया गया तो जैसे आप समझ सकते हैं कि बीजेपी से प्रधानमंत्री के उम्मीदवार के रूप में 2014 में मोदी जी को ही क्यों चुना गया क्योंकि उनकी काबिलियत ही एक अच्छे नेता के रूप में थे और उनका प्रतिनिधित्व था जो सब को सपोर्ट करता था इस वजह से क्या हुआ कि नहीं हमें प्रधानमंत्री के रूप में बनाया गया उसके बाद उसी तरह से किसान नेता राकेश टिकैत को बनाया गया
Aapako phresh nahin kee ho raakesh tikait ko hee kyon kisaan neta banaaya kya aap kaise kah sakate hain ki vah beejepee se nahin hai kaee saare mudda uthaenge kyonki jo kisaan aandolan chal raha hai chek usamen politikal paartiyaan jo bhee hai usake hai too kaheen na kaheen bhoosaare baat ka batangad banenge kisaan yooniyan jo raakesh dikhae the vah beejepee se hai kaangresaka samarthan kar rahe hain adar paartee ka samarthan kar rahe hain alag see baat hai bahut saare aise mudde uthenge aur jahaan tak kee baat hai ki raakesh tikait ko kisaan neta kyon manaaya gaya to jaise aap samajh sakate hain ki beejepee se pradhaanamantree ke ummeedavaar ke roop mein 2014 mein modee jee ko hee kyon chuna gaya kyonki unakee kaabiliyat hee ek achchhe neta ke roop mein the aur unaka pratinidhitv tha jo sab ko saport karata tha is vajah se kya hua ki nahin hamen pradhaanamantree ke roop mein banaaya gaya usake baad usee tarah se kisaan neta raakesh tikait ko banaaya gaya

और जवाब सुनें

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
4:02
राकेश टिकट को ही क्यों किसान नेता बनाया गया आप कैसे कह सकते हैं कि वह बीजेपी से ले पहले राकेश टिकैत जो है राष्ट्रीय लोक दल से चुनाव लड़ चुके हैं और इससे पहले भी और छोटी पार्टियों से लड़ चुके हैं राकेश टिकैत नेता बने नहीं इनको अपने बाप से मिल गई महेंद्र सिंह टिकैत बहुत बेहतरीन नेता थे और वास्तव में किसानों के असली मुद्दों को उठा देते हैं और सरकार से सही सामंजस्य बना कर चलते थे यह राकेश टिकैत की तरह नहीं जो खाली स्थानीय झंडा लेकर चल रहे हैं अगर खालिस्तानी बंदरवाल ओला का झंडा दिखाया जाता है तो कहते हैं कि नहीं कोई बात नहीं है ऐसा नहीं होना चाहिए लाल किला पर दर्ज कराया जाता है और तिरंगे को बता दिया जाता था कि कोई नहीं हुआ हमारे लोग नहीं हो सकता और भी बहुत सारी हकीकत है कि इन लोगों ने कहीं न कहीं अपने जो इस किसान के रूप में आकर के छात्र 75 दिनों में एक प्रेम तो भाई अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लोगों को अपने नाम कर दिया कि भाई यह राकेश टिकैत कौन है जबकि कोई नहीं जानता था इससे पहले तो किया है और किसी भी पार्टी का हो सकता है लेकिन किसान नहीं के रूप में कहीं न कहीं किसानों के हितों की रक्षा नहीं कर पा रहा अगर सच्चा किसान का नेता होता तो कानून को वापस करने की वजह कानून संशोधन में विश्वास रखता अगर सच्चा किसान नेता हुआ कितने दिनों से बैठकर नहीं सरकार से सही बातचीत करके समाधान निकाल अगर सच्चा किसान नेता होता है तो कितने हजारों लोगों को भड़काता नहीं कि चलिए दिल्ली चलो और लाल किला पहुंची क्या आपको लगता है कि जो हजारों ट्रैक्टर कितने लोग आए इतने दिनों से जो यह चल रहे हैं इसमें राकेश टिकैत को कौन फाइनेंस कर रहा कहां से पैसा सारे किसान दे रहे हैं किसान की स्थिति को देख लीजिए 4 महीने 3 महीने 90 दिन 120 से 140 देने की फसल को पकड़ने में लग जाता तब तक वह बेचारा सा मारता है सिंह टिकैत जहां से आते हैं उनको एमएसपी की जरूरत है सबसे ज्यादा तो वहां गन्ने की खेती हो जाती है डायरेक्ट वहां जाकर के ले कर आ जाते पैसा जिस चीज की आप बात कर रहे हो वह समझ से परे है इन लोगों का देश के लिए कुछ नहीं अपनी राजनीति चमकाने से अच्छा है इस तरह से बॉर्डर को बंद करके बैठे हुए हैं की जिम्मेदारी नहीं बनती हम सरकार से मिल कर के उस कानून को रद्द करने के प्रयास में संशोधन क्या है क्या देश को कानून की जरूरत नहीं है कृपया कुछ गिने-चुने किसान ही है इसके हकदार हैं बाकी जो हमारी 80% आबादी है जो किसानी कर रही है क्या उनको अपने छोटे-छोटे जो भी शान है मछली की जान है उनको जीने का हक नहीं है उनको किसी कानूनी दायरे में लाने का हक नहीं तो भी लोग तो एक प्राइसेस कार्यक्रम चला रहे हैं और करेंगे भैया जी आपको तक बैठे रहेंगे
Raakesh tikat ko hee kyon kisaan neta banaaya gaya aap kaise kah sakate hain ki vah beejepee se le pahale raakesh tikait jo hai raashtreey lok dal se chunaav lad chuke hain aur isase pahale bhee aur chhotee paartiyon se lad chuke hain raakesh tikait neta bane nahin inako apane baap se mil gaee mahendr sinh tikait bahut behatareen neta the aur vaastav mein kisaanon ke asalee muddon ko utha dete hain aur sarakaar se sahee saamanjasy bana kar chalate the yah raakesh tikait kee tarah nahin jo khaalee sthaaneey jhanda lekar chal rahe hain agar khaalistaanee bandaravaal ola ka jhanda dikhaaya jaata hai to kahate hain ki nahin koee baat nahin hai aisa nahin hona chaahie laal kila par darj karaaya jaata hai aur tirange ko bata diya jaata tha ki koee nahin hua hamaare log nahin ho sakata aur bhee bahut saaree hakeekat hai ki in logon ne kaheen na kaheen apane jo is kisaan ke roop mein aakar ke chhaatr 75 dinon mein ek prem to bhaee antararaashtreey star par logon ko apane naam kar diya ki bhaee yah raakesh tikait kaun hai jabaki koee nahin jaanata tha isase pahale to kiya hai aur kisee bhee paartee ka ho sakata hai lekin kisaan nahin ke roop mein kaheen na kaheen kisaanon ke hiton kee raksha nahin kar pa raha agar sachcha kisaan ka neta hota to kaanoon ko vaapas karane kee vajah kaanoon sanshodhan mein vishvaas rakhata agar sachcha kisaan neta hua kitane dinon se baithakar nahin sarakaar se sahee baatacheet karake samaadhaan nikaal agar sachcha kisaan neta hota hai to kitane hajaaron logon ko bhadakaata nahin ki chalie dillee chalo aur laal kila pahunchee kya aapako lagata hai ki jo hajaaron traiktar kitane log aae itane dinon se jo yah chal rahe hain isamen raakesh tikait ko kaun phainens kar raha kahaan se paisa saare kisaan de rahe hain kisaan kee sthiti ko dekh leejie 4 maheene 3 maheene 90 din 120 se 140 dene kee phasal ko pakadane mein lag jaata tab tak vah bechaara sa maarata hai sinh tikait jahaan se aate hain unako emesapee kee jaroorat hai sabase jyaada to vahaan ganne kee khetee ho jaatee hai daayarekt vahaan jaakar ke le kar aa jaate paisa jis cheej kee aap baat kar rahe ho vah samajh se pare hai in logon ka desh ke lie kuchh nahin apanee raajaneeti chamakaane se achchha hai is tarah se bordar ko band karake baithe hue hain kee jimmedaaree nahin banatee ham sarakaar se mil kar ke us kaanoon ko radd karane ke prayaas mein sanshodhan kya hai kya desh ko kaanoon kee jaroorat nahin hai krpaya kuchh gine-chune kisaan hee hai isake hakadaar hain baakee jo hamaaree 80% aabaadee hai jo kisaanee kar rahee hai kya unako apane chhote-chhote jo bhee shaan hai machhalee kee jaan hai unako jeene ka hak nahin hai unako kisee kaanoonee daayare mein laane ka hak nahin to bhee log to ek praises kaaryakram chala rahe hain aur karenge bhaiya jee aapako tak baithe rahenge

T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
2:58
अपने प्रश्न किया है कि यह राकेश टिकैत को ही क्यों किसान नेता बनाया गया आप कैसे कह सकते हैं कि वह बीजेपी से नहीं है देखिए कल परसों हमारे गांव में इस बात पर चर्चा चल रही थी राकेश टिकैत के बारे में कि वह किस तरह का नेता है और मेरे गांव की जो ग्रामीण है किसान है वह लोग कह रहे थे कि राकेश टिकैत जैसा व्यक्ति जितना इस तरह से हिंसा की जिसके लोगों ने गणतंत्र दिवस पर उस राष्ट्र पर्व पर पूरे देश को शर्मसार किया और भारत जैसे महान राष्ट्र को पूरे विश्व में बदनाम किया मगर यह किसान नेता के नाम पर या व्यक्ति के नाम पर भी अगर हमारे यहां पर आए तो हम उसके पिछवाड़े पर लात मारकर के उसी समय उसको भगा देंगे और वहां पर चर्चा चल रही थी कि कैसे ऐसा व्यक्ति किसानों का नेता हूं तुझे चर्चा चल रही थी उसमें निकल कर आया कि शायद वहां पर जिस तरह के लोग बैठे हुए हैं वह भी ठीक उस तरह की मानसिकता ही रखते हैं जैसी राकेश टिकैत मानसिकता रखा है इसीलिए वहां पर कुछ लोगों का नेता है इस देश के आम किसान का ऐसा गंदा व्यक्ति नेता नहीं हो सकता ना ऐसे नेता को बनाया जाना चाहिए रही बात कि हम कैसे कह सकते हैं कि बीजेपी से नहीं है देखिए जो आदमी मुश्किल में फसने पर जबकि आपको पता है कि उस समय की परिस्थितियों को देखते हुए जब उसने कहा था कि मैंने बीजेपी को वोट दिया है इससे बड़ा झूठा व्यक्ति नहीं हो सकता क्योंकि उसको पता था कि मैं ऐसा कहूंगा कुछ शायद मुझे बीजेपी से फायदा मिल सकता है मेरे खिलाफ जो केस हैं कविता को कम किया जा सकता है इसलिए उसने ऐसा बयान दे दिया मुझे नहीं लगता कि वह बीजेपी जैसी पार्टी का भी हो सकता है बाकी इतना तो समझ लीजिए कि राकेश टिकैत जैसा व्यक्ति जिस समय किसानों का सभी किसानों का जिस दिन नुमाइंदगी उसने कर ली समझ लीजिए किसानों का भी पतन हो गया और इस देश का भी बहुत बड़ा नुकसान हो जाएगा क्योंकि वह बड़ा लालची आदमी है अब तक चुनाव लड़ता आया है और उसकी राजनीतिक महत्वाकांक्षा साफ दिखती है धन्यवाद
Apane prashn kiya hai ki yah raakesh tikait ko hee kyon kisaan neta banaaya gaya aap kaise kah sakate hain ki vah beejepee se nahin hai dekhie kal parason hamaare gaanv mein is baat par charcha chal rahee thee raakesh tikait ke baare mein ki vah kis tarah ka neta hai aur mere gaanv kee jo graameen hai kisaan hai vah log kah rahe the ki raakesh tikait jaisa vyakti jitana is tarah se hinsa kee jisake logon ne ganatantr divas par us raashtr parv par poore desh ko sharmasaar kiya aur bhaarat jaise mahaan raashtr ko poore vishv mein badanaam kiya magar yah kisaan neta ke naam par ya vyakti ke naam par bhee agar hamaare yahaan par aae to ham usake pichhavaade par laat maarakar ke usee samay usako bhaga denge aur vahaan par charcha chal rahee thee ki kaise aisa vyakti kisaanon ka neta hoon tujhe charcha chal rahee thee usamen nikal kar aaya ki shaayad vahaan par jis tarah ke log baithe hue hain vah bhee theek us tarah kee maanasikata hee rakhate hain jaisee raakesh tikait maanasikata rakha hai iseelie vahaan par kuchh logon ka neta hai is desh ke aam kisaan ka aisa ganda vyakti neta nahin ho sakata na aise neta ko banaaya jaana chaahie rahee baat ki ham kaise kah sakate hain ki beejepee se nahin hai dekhie jo aadamee mushkil mein phasane par jabaki aapako pata hai ki us samay kee paristhitiyon ko dekhate hue jab usane kaha tha ki mainne beejepee ko vot diya hai isase bada jhootha vyakti nahin ho sakata kyonki usako pata tha ki main aisa kahoonga kuchh shaayad mujhe beejepee se phaayada mil sakata hai mere khilaaph jo kes hain kavita ko kam kiya ja sakata hai isalie usane aisa bayaan de diya mujhe nahin lagata ki vah beejepee jaisee paartee ka bhee ho sakata hai baakee itana to samajh leejie ki raakesh tikait jaisa vyakti jis samay kisaanon ka sabhee kisaanon ka jis din numaindagee usane kar lee samajh leejie kisaanon ka bhee patan ho gaya aur is desh ka bhee bahut bada nukasaan ho jaega kyonki vah bada laalachee aadamee hai ab tak chunaav ladata aaya hai aur usakee raajaneetik mahatvaakaanksha saaph dikhatee hai dhanyavaad

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:17
राकेश टिकैत को किसान नेता क्यों बनाए गए नेता क्यों मनाया जाता है नेता कौन बनाता है जब किसी आदमी का अपने संगठन पर एक विश्वास जम जाता है ट्रस्ट बन जाता है उसके कार्य अवधि अच्छी होती है कार्यक्षमता अच्छी होती है लोगों के प्रति उसके अंदर सहानुभूति व श्रद्धा होती है वह लोगों की बात को संत संसद और सरकार ने अपनी बात को भलीभांति कहने के लिए सक्षम होता है ऐसे लोगों को ही नेता बनाया जाता है तो अब जहां तक राकेश टिकैत की बात है कि बीजेपी के हैं कि नहीं देखे किसान पार्टी जो है उसको बीजेपी की नहीं है और उसमें एक संगठन किसानों के संरक्षण और सुरक्षा के लिए बनाया गया है जिसमें किसानों का हित सर्वोपरि हो इसके लिए किसान संगठन अपनी लड़ाई लड़ रहा है और राकेश शिकायत उसके सर्वोपरि हैं और सरकार अगर बीजेपी के होती तो सरकार की बातों को मानकर के 70 दिन में कम से कम डेढ़ सौ किसानों की योजना हुतात्मा होती हो चुके उन्होंने पाती इसलिए वह बीजेपी पार्टी के नहीं हो किसानों की सुरक्षा और सन अच्छा के लिए तन मन धन की लड़ाई लड़ रहे हैं और आर-पार की लड़ाई लड़ेंगे ताकि उनको एमएसपी की गारंटी गारंटी मिल जाए और सरकार के जॉब तीनों जो है किसान विरोधी कानून है उन को समाप्त किया जा सके उसकी लड़ाई और लड़ रहे हैं
Raakesh tikait ko kisaan neta kyon banae gae neta kyon manaaya jaata hai neta kaun banaata hai jab kisee aadamee ka apane sangathan par ek vishvaas jam jaata hai trast ban jaata hai usake kaary avadhi achchhee hotee hai kaaryakshamata achchhee hotee hai logon ke prati usake andar sahaanubhooti va shraddha hotee hai vah logon kee baat ko sant sansad aur sarakaar ne apanee baat ko bhaleebhaanti kahane ke lie saksham hota hai aise logon ko hee neta banaaya jaata hai to ab jahaan tak raakesh tikait kee baat hai ki beejepee ke hain ki nahin dekhe kisaan paartee jo hai usako beejepee kee nahin hai aur usamen ek sangathan kisaanon ke sanrakshan aur suraksha ke lie banaaya gaya hai jisamen kisaanon ka hit sarvopari ho isake lie kisaan sangathan apanee ladaee lad raha hai aur raakesh shikaayat usake sarvopari hain aur sarakaar agar beejepee ke hotee to sarakaar kee baaton ko maanakar ke 70 din mein kam se kam dedh sau kisaanon kee yojana hutaatma hotee ho chuke unhonne paatee isalie vah beejepee paartee ke nahin ho kisaanon kee suraksha aur san achchha ke lie tan man dhan kee ladaee lad rahe hain aur aar-paar kee ladaee ladenge taaki unako emesapee kee gaarantee gaarantee mil jae aur sarakaar ke job teenon jo hai kisaan virodhee kaanoon hai un ko samaapt kiya ja sake usakee ladaee aur lad rahe hain

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:52
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न राकेश टिकैत को ही क्यों किसान नेता बनाया गया है आप कैसे कह सकते हैं कि वह बीजेपी से नहीं है तो फ्रेंड से राकेश टिकैत जी किसानों की बात अच्छे से सबके सामने रख पा रहे हैं और वे अच्छे से बोल पा रहे हैं और उनमें काबिलियत है इसीलिए उनको किसान नेता बनाया गया है जैसे हमारे प्रधानमंत्री मोदी जी को प्रधानमंत्री बनाया गया है क्योंकि उनके अंदर काबिलियत है इसलिए उनको प्रधानमंत्री बनाया गया है वैसे ही राकेश टिकैत जी के अंदर भी काबिलियत है इसलिए उन्हें किसान नेता बनाया गया है वह अपनी बात खुलकर बोलते हैं और अपनी सब बातें खुलकर सामने रखते हैं और वे बीजेपी से नहीं है वह किसी भी पार्टी से नहीं है यह तो सब फालतू की अफवाहें उड़ाई जा रही हैं कि वह कांग्रेसी हैं बीजेपी से हैं यह पार्टी से है लेकिन वह किसी भी पार्टी से नहीं है किसान संगठन के नेता है और उसी के लिए काम कर रहे हैं धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn raakesh tikait ko hee kyon kisaan neta banaaya gaya hai aap kaise kah sakate hain ki vah beejepee se nahin hai to phrend se raakesh tikait jee kisaanon kee baat achchhe se sabake saamane rakh pa rahe hain aur ve achchhe se bol pa rahe hain aur unamen kaabiliyat hai iseelie unako kisaan neta banaaya gaya hai jaise hamaare pradhaanamantree modee jee ko pradhaanamantree banaaya gaya hai kyonki unake andar kaabiliyat hai isalie unako pradhaanamantree banaaya gaya hai vaise hee raakesh tikait jee ke andar bhee kaabiliyat hai isalie unhen kisaan neta banaaya gaya hai vah apanee baat khulakar bolate hain aur apanee sab baaten khulakar saamane rakhate hain aur ve beejepee se nahin hai vah kisee bhee paartee se nahin hai yah to sab phaalatoo kee aphavaahen udaee ja rahee hain ki vah kaangresee hain beejepee se hain yah paartee se hai lekin vah kisee bhee paartee se nahin hai kisaan sangathan ke neta hai aur usee ke lie kaam kar rahe hain dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard