#भारत की राजनीति

bolkar speaker

न्यायाधीश कानून बनाते हैं और उनको किसका अधिकार होता है?

Nyayadhish Kanun Banate Hain Aur Unko Kiska Adhikar Hota Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:30
आपका सवाल है कि न्यायधीश कानून बनाते हैं और उसको किसका अधिकार होता है तो भारतीय नगरपालिका के शीर्ष पर सर्वोच्च न्यायालय को भारत का संविधान को बनाए रखने का सबसे ज्यादा अधिकारी नागरिकों के अधिकारों और स्वतंत्रता की रक्षा कर रक्षा करने के अधिकार और विधि नियम में मूल्यों को बनाए रखने का अधिकार इसलिए हमारे सविधान के संरक्षक के रूप में जाना जाता है धन्यवाद
Aapaka savaal hai ki nyaayadheesh kaanoon banaate hain aur usako kisaka adhikaar hota hai to bhaarateey nagarapaalika ke sheersh par sarvochch nyaayaalay ko bhaarat ka sanvidhaan ko banae rakhane ka sabase jyaada adhikaaree naagarikon ke adhikaaron aur svatantrata kee raksha kar raksha karane ke adhikaar aur vidhi niyam mein moolyon ko banae rakhane ka adhikaar isalie hamaare savidhaan ke sanrakshak ke roop mein jaana jaata hai dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
न्यायाधीश कानून बनाते हैं और उनको किसका अधिकार होता है?Nyayadhish Kanun Banate Hain Aur Unko Kiska Adhikar Hota Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:31
न्यायाधीश कानून बनाते हैं और उनको किसका अधिकार होता है न्यायाधीश नहीं यहां पर जो कानून में नया कानून जो बनता है उन्हें एक संविधान संशोधन की वजह से आज संविधान में ऐसा प्रावधान है कोई अगर नया कानून बनता है तो उसके पक्ष में क्या होगा कि जो भी लोकसभा में लोकसभा और राज्यसभा होता है इसमें क्या होता है कि प्रतिनिधि तू जो भी सांसद या मंत्री करते हैं उसमें क्या होता है कि दो तिहाई बहुमत से अगर बिल पास होता है जिसे लोकसभा लोकसभा और राज्यसभा दोनों सदन में कभी भी बनाया जा रहा है नया कानून अगर पास हो जाता है और वहां पर पूरी प्रक्रिया से आगे बढ़ता है तो वह क्या होता है कि फिर यह दोनों सदनों के पास से क्या होता है कि राष्ट्रपति के पास भेजा जाता है और राष्ट्रपति की आखिरी मुहर लगाई जाती है कि अगर राष्ट्रपति चाहे तो उस बिल को खारिज भी कर सकता है उसे अनुमति दे सकते थे जैसे राय पति जब अनुमति देता है जो बिल होता है कानून में परिवर्तित हो जाता है तो इसका मतलब यह है कि न्यायाधीश कानून नहीं बनाते हैं वहां पर जो मंत्री सांसद में तो लोकसभा और राज्यसभा से जो लोग प्रतिनिधित्व करते हैं उन्हीं लोगों के द्वारा जो भी बिल है उसको पारित किया जाता है उसके बाद राष्ट्रपति के पास भेजा जाता है आखरी बार के लिए उसमें अगर कुछ भी संशोधन एक राष्ट्रपति के द्वारा होगा नहीं तो राष्ट्रपति को घर पसंद आता है तो जो भी बिल होता है एक नया कानून के रूप में नया अधिकार के रूप में मिल जाता है
Nyaayaadheesh kaanoon banaate hain aur unako kisaka adhikaar hota hai nyaayaadheesh nahin yahaan par jo kaanoon mein naya kaanoon jo banata hai unhen ek sanvidhaan sanshodhan kee vajah se aaj sanvidhaan mein aisa praavadhaan hai koee agar naya kaanoon banata hai to usake paksh mein kya hoga ki jo bhee lokasabha mein lokasabha aur raajyasabha hota hai isamen kya hota hai ki pratinidhi too jo bhee saansad ya mantree karate hain usamen kya hota hai ki do tihaee bahumat se agar bil paas hota hai jise lokasabha lokasabha aur raajyasabha donon sadan mein kabhee bhee banaaya ja raha hai naya kaanoon agar paas ho jaata hai aur vahaan par pooree prakriya se aage badhata hai to vah kya hota hai ki phir yah donon sadanon ke paas se kya hota hai ki raashtrapati ke paas bheja jaata hai aur raashtrapati kee aakhiree muhar lagaee jaatee hai ki agar raashtrapati chaahe to us bil ko khaarij bhee kar sakata hai use anumati de sakate the jaise raay pati jab anumati deta hai jo bil hota hai kaanoon mein parivartit ho jaata hai to isaka matalab yah hai ki nyaayaadheesh kaanoon nahin banaate hain vahaan par jo mantree saansad mein to lokasabha aur raajyasabha se jo log pratinidhitv karate hain unheen logon ke dvaara jo bhee bil hai usako paarit kiya jaata hai usake baad raashtrapati ke paas bheja jaata hai aakharee baar ke lie usamen agar kuchh bhee sanshodhan ek raashtrapati ke dvaara hoga nahin to raashtrapati ko ghar pasand aata hai to jo bhee bil hota hai ek naya kaanoon ke roop mein naya adhikaar ke roop mein mil jaata hai

bolkar speaker
न्यायाधीश कानून बनाते हैं और उनको किसका अधिकार होता है?Nyayadhish Kanun Banate Hain Aur Unko Kiska Adhikar Hota Hai
Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
0:27
आपका सवाल है कि न्यायाधीश कमेंट बात है और उनका किसका अधिकार होता है तो न्यायपालिका या किसी भी जनतंत्र के तीनों प्रमुख अंगों में से एक यानी 2 अंक कार्यपालिका व्यवस्थापिका यांना न्यायपालिका संबलपुर का संपूर्ण राज्य की तरफ से कानून का सही अर्थ निकालती और कानून के अनुसार में चलने वाले को दंडित करती है धन्यवाद दोस्तों
Aapaka savaal hai ki nyaayaadheesh kament baat hai aur unaka kisaka adhikaar hota hai to nyaayapaalika ya kisee bhee janatantr ke teenon pramukh angon mein se ek yaanee 2 ank kaaryapaalika vyavasthaapika yaanna nyaayapaalika sambalapur ka sampoorn raajy kee taraph se kaanoon ka sahee arth nikaalatee aur kaanoon ke anusaar mein chalane vaale ko dandit karatee hai dhanyavaad doston

bolkar speaker
न्यायाधीश कानून बनाते हैं और उनको किसका अधिकार होता है?Nyayadhish Kanun Banate Hain Aur Unko Kiska Adhikar Hota Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
3:18
सवाल यह है कि न्यायाधीश कानून बनाते हैं और उनको किसका अधिकार होता है तो जी ऐसा नहीं है न्यायाधीश कानून नहीं बनाते हैं भारत में 3 तरह से कानून का निर्माण होता है केंद्र स्तर पर कानून बनती है जो पूरे देश में लागू होती है दूसरे प्रदेश स्तर पर कानून बनती है जो किसी आमुख प्रदेश को ध्यान में रखकर बनाया जाता है तीसरा राज्य और प्रदेश के द्वारा मिलकर बनाया जाता है कानूनों को तीन सूची में अंदर अंतर्गत रखा जाता है कि राज्य सूची केंद्रीय सूची समवर्ती सूची तो संसद में पहले जानते कि संसद में कानून कैसे बनता है सबसे पहले सदन में विधेयक को रखा जाता है सरकार को जब ऐसा लगता है कि किसी मुद्दे पर कानून बनाने की जरूरत है तो सरकार कैबिनेट में इस मुद्दे पर चर्चा करती है चर्चा होने के बाद कानून के मसौदे पर ड्राफ्टिंग की जाती है ड्राफ्टिंग के बाद कानून कानून का ड्राफ्ट कहा जाता है वह सदन के पटल पर रखा जाता है सदन में पक्ष और विपक्ष के सदस्य इस विधेयक पर चर्चा करते हैं पक्ष विपक्ष के सदस्यों के बीच इस मुद्दे पर बहस के बाद कानून के पास करने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है कभी-कभी विधेयक पर आम सहमति नहीं बन पाती इस हालत में सदन में मतदान की नौबत आती है अगर सदन में विधेयक के पक्ष में अधिक वोट पड़ते हैं तो विधेयक को पास माना जाता है वह बिना किसी गतिरोध के कारण या कम समर्थन के कारण पास नहीं हो पाता तो कानून नहीं बन पाता है अधिकतर कानून लोकसभा और राज्यसभा दोनों सदन के पास पास होने के बाद ही बनते हैं सदन के पास होने के बाद विधेयक को राष्ट्रपति के पास उसके हस्ताक्षर के लिए भेजा जाता है राष्ट्रपति के पास यह अधिकार होता है कि वह अधिकतम दो बार विधेयक को पुनर्विचार के लिए विधायिका को भेज सकता है जब राष्ट्रपति के पास हस्ताक्षर हो जाते हैं तो यह कानून बन जाता है अब यह जानते हैं कि राज्य स्तर पर कानून कैसे बनता है राज्य स्तर पर कानून विधानसभा से बनाया जाता है राज्यों के विधानसभा में पहले विधेयक को पारित किया जाता है विधानसभा से विधेयक के पारित होने के बाद विधेयक को राज्यपाल के अनुमोदन के लिए भेजा जाता है राजन विधेयक के ऊपर राज्यपाल का हस्ताक्षर होता है राज्य के पाल के पास भी अधिकार होता है कि वह विधेयक पर फिर से सोच विचार करने के लिए अधिकतम 2 बार वापस सदन भेजता है एक बार राज्यपाल के हस्ताक्षर होने के बाद कानून अस्तित्व में आती है अध्यादेश क्या होता है आदेश सरकार के लिए एक विशेष अधिकार होता है इसकी जरूरत तभी पड़ती है जब सरकार किसी बेहद खास विषय पर कानून बनाने के लिए बिल लाना चाहती है लेकिन संसद के दोनों सदन या किसी भी एक सदन का सत्र चल रहा हूं इस हालत में सरकार अध्यादेश लेकर आती है जिसके तहत ही सीधा कानून बना बन जाता है जब सदन की कार्यवाही शुरू होती है उसे सदन के पास करवाया जाता है अध्यादेश की अवधि 180 दिनों तक की होती है इसके बाद ही निरस्त हो जाती है
Savaal yah hai ki nyaayaadheesh kaanoon banaate hain aur unako kisaka adhikaar hota hai to jee aisa nahin hai nyaayaadheesh kaanoon nahin banaate hain bhaarat mein 3 tarah se kaanoon ka nirmaan hota hai kendr star par kaanoon banatee hai jo poore desh mein laagoo hotee hai doosare pradesh star par kaanoon banatee hai jo kisee aamukh pradesh ko dhyaan mein rakhakar banaaya jaata hai teesara raajy aur pradesh ke dvaara milakar banaaya jaata hai kaanoonon ko teen soochee mein andar antargat rakha jaata hai ki raajy soochee kendreey soochee samavartee soochee to sansad mein pahale jaanate ki sansad mein kaanoon kaise banata hai sabase pahale sadan mein vidheyak ko rakha jaata hai sarakaar ko jab aisa lagata hai ki kisee mudde par kaanoon banaane kee jaroorat hai to sarakaar kaibinet mein is mudde par charcha karatee hai charcha hone ke baad kaanoon ke masaude par draaphting kee jaatee hai draaphting ke baad kaanoon kaanoon ka draapht kaha jaata hai vah sadan ke patal par rakha jaata hai sadan mein paksh aur vipaksh ke sadasy is vidheyak par charcha karate hain paksh vipaksh ke sadasyon ke beech is mudde par bahas ke baad kaanoon ke paas karane kee prakriya shuroo ho jaatee hai kabhee-kabhee vidheyak par aam sahamati nahin ban paatee is haalat mein sadan mein matadaan kee naubat aatee hai agar sadan mein vidheyak ke paksh mein adhik vot padate hain to vidheyak ko paas maana jaata hai vah bina kisee gatirodh ke kaaran ya kam samarthan ke kaaran paas nahin ho paata to kaanoon nahin ban paata hai adhikatar kaanoon lokasabha aur raajyasabha donon sadan ke paas paas hone ke baad hee banate hain sadan ke paas hone ke baad vidheyak ko raashtrapati ke paas usake hastaakshar ke lie bheja jaata hai raashtrapati ke paas yah adhikaar hota hai ki vah adhikatam do baar vidheyak ko punarvichaar ke lie vidhaayika ko bhej sakata hai jab raashtrapati ke paas hastaakshar ho jaate hain to yah kaanoon ban jaata hai ab yah jaanate hain ki raajy star par kaanoon kaise banata hai raajy star par kaanoon vidhaanasabha se banaaya jaata hai raajyon ke vidhaanasabha mein pahale vidheyak ko paarit kiya jaata hai vidhaanasabha se vidheyak ke paarit hone ke baad vidheyak ko raajyapaal ke anumodan ke lie bheja jaata hai raajan vidheyak ke oopar raajyapaal ka hastaakshar hota hai raajy ke paal ke paas bhee adhikaar hota hai ki vah vidheyak par phir se soch vichaar karane ke lie adhikatam 2 baar vaapas sadan bhejata hai ek baar raajyapaal ke hastaakshar hone ke baad kaanoon astitv mein aatee hai adhyaadesh kya hota hai aadesh sarakaar ke lie ek vishesh adhikaar hota hai isakee jaroorat tabhee padatee hai jab sarakaar kisee behad khaas vishay par kaanoon banaane ke lie bil laana chaahatee hai lekin sansad ke donon sadan ya kisee bhee ek sadan ka satr chal raha hoon is haalat mein sarakaar adhyaadesh lekar aatee hai jisake tahat hee seedha kaanoon bana ban jaata hai jab sadan kee kaaryavaahee shuroo hotee hai use sadan ke paas karavaaya jaata hai adhyaadesh kee avadhi 180 dinon tak kee hotee hai isake baad hee nirast ho jaatee hai

bolkar speaker
न्यायाधीश कानून बनाते हैं और उनको किसका अधिकार होता है?Nyayadhish Kanun Banate Hain Aur Unko Kiska Adhikar Hota Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:25
खाना खाकर न्यायाधीश कानून बनाते हैं और उनको किसका अधिकार होता है तो आप बता देना या देश कभी निकालो नहीं बनाते हैं कानून जितने भी हैं यह संसद में बनते हैं उन कानूनों के जरिए ही यहां पर किसी को सजा देने का ना देने का प्रावधान रहता है आपकी 11 इस बारे में कम सेक्शन अपनी राय जरुर व्यक्त करें निशान है आपके साथ है धन्यवाद
Khaana khaakar nyaayaadheesh kaanoon banaate hain aur unako kisaka adhikaar hota hai to aap bata dena ya desh kabhee nikaalo nahin banaate hain kaanoon jitane bhee hain yah sansad mein banate hain un kaanoonon ke jarie hee yahaan par kisee ko saja dene ka na dene ka praavadhaan rahata hai aapakee 11 is baare mein kam sekshan apanee raay jarur vyakt karen nishaan hai aapake saath hai dhanyavaad

bolkar speaker
न्यायाधीश कानून बनाते हैं और उनको किसका अधिकार होता है?Nyayadhish Kanun Banate Hain Aur Unko Kiska Adhikar Hota Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:36
आपका प्रधान न्यायाधीश कानून बनाते हैं और उनको किसका अधिकार होता है देश के प्रधान न्यायाधीश ने बनाते हैं न्यायाधीश जो है वह सरकार के द्वारा पारित कानून बनाने का अधिकार जो है राज्यसभा और लोकसभा को होता है दिमाग से काम मोड बंद करके पारित हो जाते हैं और उसकी को संविधान में को शामिल कर लिया जाता है तो उन नियमों का पालन कर दिया जाता है जो इस दुनिया में प्रतिस्थापित किया जाता है वह कानून कहलाते हैं कानून हमारी सरकार द्वारा बनाया यादव का पालन किया जाता कराते हैं
Aapaka pradhaan nyaayaadheesh kaanoon banaate hain aur unako kisaka adhikaar hota hai desh ke pradhaan nyaayaadheesh ne banaate hain nyaayaadheesh jo hai vah sarakaar ke dvaara paarit kaanoon banaane ka adhikaar jo hai raajyasabha aur lokasabha ko hota hai dimaag se kaam mod band karake paarit ho jaate hain aur usakee ko sanvidhaan mein ko shaamil kar liya jaata hai to un niyamon ka paalan kar diya jaata hai jo is duniya mein pratisthaapit kiya jaata hai vah kaanoon kahalaate hain kaanoon hamaaree sarakaar dvaara banaaya yaadav ka paalan kiya jaata karaate hain

bolkar speaker
न्यायाधीश कानून बनाते हैं और उनको किसका अधिकार होता है?Nyayadhish Kanun Banate Hain Aur Unko Kiska Adhikar Hota Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:50
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न न्यायाधीश कानून प्रणाली है और उनको क्या अधिकार होता है तो फ्रेंड्स न्यायाधीश कानून नहीं बनाते हैं जो हमारी कानून है वह हमारी संसद में बनते हैं राज्यसभा विधानसभा में हमारी कानून बनते हैं और फिर संसद में पास होते हैं फिर उसमें राष्ट्रपति प्रधानमंत्री और सभी लोगों की सहमति होती है पक्ष और विपक्ष दोनों की सहमति ली ली ली जाती है उसके बाद कानून बनते हैं फिर जो भी कानून होते हैं और उस कानून के हिसाब से अगर कोई व्यक्ति गलत काम करता है तब न्यायाधीश को सजा देने का अधिकार रखता है न्यायाधीश यजद होता है तो जो भी कोई अपराध करता है तो जो कानून के हिसाब से सजा बनती है वह उसे उस व्यक्ति को सजा जरूर देता है और वे कानून नहीं बनाता है वैसे सजा देना धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn nyaayaadheesh kaanoon pranaalee hai aur unako kya adhikaar hota hai to phrends nyaayaadheesh kaanoon nahin banaate hain jo hamaaree kaanoon hai vah hamaaree sansad mein banate hain raajyasabha vidhaanasabha mein hamaaree kaanoon banate hain aur phir sansad mein paas hote hain phir usamen raashtrapati pradhaanamantree aur sabhee logon kee sahamati hotee hai paksh aur vipaksh donon kee sahamati lee lee lee jaatee hai usake baad kaanoon banate hain phir jo bhee kaanoon hote hain aur us kaanoon ke hisaab se agar koee vyakti galat kaam karata hai tab nyaayaadheesh ko saja dene ka adhikaar rakhata hai nyaayaadheesh yajad hota hai to jo bhee koee aparaadh karata hai to jo kaanoon ke hisaab se saja banatee hai vah use us vyakti ko saja jaroor deta hai aur ve kaanoon nahin banaata hai vaise saja dena dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • न्यायाधीश कानून बनाते हैं और उनको किसका अधिकार होता है न्यायाधीश को किसका अधिकार होता है
URL copied to clipboard