#जीवन शैली

bolkar speaker

कटु वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है?

Katu Vani Se Bhe Kathor Kya Hai Jo Insaan Ko Mansik Kasht Deta Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:54
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न कटु वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है तो फ्रेंड्स कटु वाणी तो बहुत कठोर होती है इसे तो इंसान को कष्ट होता ही है लेकिन अगर इससे भी कठोर कुछ है तो यह है कि इंसान जब कोई गलत व्यवहार करता है जब तू भी किसी के साथ बहुत गंदा व्यवहार करता है गलत व्यवहार करता है तो वह बहुत ही मानसिक कष्ट देता है और जब आप अत्यधिक बीमार होते हैं आपसे कोई बात नहीं करता कोई शांत आने नहीं देता यह आपको किसी बीमारी से कोई आराम नहीं मिल रहा है तब भी आपको बहुत मानसिक कष्ट होता है या आपके घर में भी और कोई परेशानियां हो पैसे की बहुत तंगी हो और आपके पास खाने-पीने तक के खर्चे के लिए पैसे ना हो तब भी आपको बहुत ही ज्यादा मानसिक तो फ्रेंड जवाब पसंद आए तो लाइक करिएगा धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn katu vaanee se bhee kathor kya hai jo insaan ko maanasik kasht deta hai to phrends katu vaanee to bahut kathor hotee hai ise to insaan ko kasht hota hee hai lekin agar isase bhee kathor kuchh hai to yah hai ki insaan jab koee galat vyavahaar karata hai jab too bhee kisee ke saath bahut ganda vyavahaar karata hai galat vyavahaar karata hai to vah bahut hee maanasik kasht deta hai aur jab aap atyadhik beemaar hote hain aapase koee baat nahin karata koee shaant aane nahin deta yah aapako kisee beemaaree se koee aaraam nahin mil raha hai tab bhee aapako bahut maanasik kasht hota hai ya aapake ghar mein bhee aur koee pareshaaniyaan ho paise kee bahut tangee ho aur aapake paas khaane-peene tak ke kharche ke lie paise na ho tab bhee aapako bahut hee jyaada maanasik to phrend javaab pasand aae to laik kariega dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
कटु वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है?Katu Vani Se Bhe Kathor Kya Hai Jo Insaan Ko Mansik Kasht Deta Hai
शिवम मौर्या Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए शिवम जी का जवाब
Unknown
1:28
यह आपका प्रश्न है कटु वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है तो यह बोल कर दे हमको सुझाया कि आपको इस तरह का काफी समय से इंतजार है तो हम बताना चाहेंगे कि भाई कटु वाणी से भी कटोरी होता है विश्वासघात तू जो विश्वासघात है वह सबसे ज्यादा कष्टदायक होता है कट वाली थोड़ी देर के लिए चल जाएगा अगर आपको कोई कुछ अपशब्द भी बोल दे या आपका कोई चाहने वाला आपको कुछ तो खा लिया अभी देते तो थोड़ी देर के लिए आप उसको बर्दाश्त कर लेंगे कि चलो हो सकता है उसका मूड अच्छा हो लेकिन विश्वासघात होता है कि जब आप किसी के ऊपर था विश्वास करते हैं कि वह सामने वाला जो व्यक्ति है वह समय पड़ने पर हमारे मुसीबत में या किसी पार्टिकुलर काम में आपने सोच रखा है कि हां उस टाइम वह हमारा साथ देगा और अपने आप था भरोसा कर रखा है और उस समय आने पर वह जो समय है अब किसका इंतजार कर रहे हैं वह समय आ गया और वह व्यक्ति आपको धोखा जानबूझकर तू अब तू इतना कष्ट होगा आप खुद महसूस कर सकते हैं भाई हम को बताने की आवश्यकता नहीं है कि विश्वासघात में तो कई तरीके से हो सकता है आप कृपया करके एक बार सोचिए कि आपका चाहने वाला आपको किसी समय पर धोखा दे दे तो आप कैसा फील करेंगे या फिर तो गालियां दे दे खुशी खुशी से या कुछ भी तब आप कैसा फील करेंगे
Yah aapaka prashn hai katu vaanee se bhee kathor kya hai jo insaan ko maanasik kasht deta hai to yah bol kar de hamako sujhaaya ki aapako is tarah ka kaaphee samay se intajaar hai to ham bataana chaahenge ki bhaee katu vaanee se bhee katoree hota hai vishvaasaghaat too jo vishvaasaghaat hai vah sabase jyaada kashtadaayak hota hai kat vaalee thodee der ke lie chal jaega agar aapako koee kuchh apashabd bhee bol de ya aapaka koee chaahane vaala aapako kuchh to kha liya abhee dete to thodee der ke lie aap usako bardaasht kar lenge ki chalo ho sakata hai usaka mood achchha ho lekin vishvaasaghaat hota hai ki jab aap kisee ke oopar tha vishvaas karate hain ki vah saamane vaala jo vyakti hai vah samay padane par hamaare museebat mein ya kisee paartikular kaam mein aapane soch rakha hai ki haan us taim vah hamaara saath dega aur apane aap tha bharosa kar rakha hai aur us samay aane par vah jo samay hai ab kisaka intajaar kar rahe hain vah samay aa gaya aur vah vyakti aapako dhokha jaanaboojhakar too ab too itana kasht hoga aap khud mahasoos kar sakate hain bhaee ham ko bataane kee aavashyakata nahin hai ki vishvaasaghaat mein to kaee tareeke se ho sakata hai aap krpaya karake ek baar sochie ki aapaka chaahane vaala aapako kisee samay par dhokha de de to aap kaisa pheel karenge ya phir to gaaliyaan de de khushee khushee se ya kuchh bhee tab aap kaisa pheel karenge

bolkar speaker
कटु वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है?Katu Vani Se Bhe Kathor Kya Hai Jo Insaan Ko Mansik Kasht Deta Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
0:53
हेलो आपका सवाल है कि कटु वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है तरीके से बात करते हैं तो इंसान अंदर ही अंदर घुटने लगता है मानसिक तौर पर बहुत ज्यादा सोचने लगता है आमीन दिल्ली बीमार हो जाता है उससे भी खराब क्या होता है जब किसी इंसान को पता चलता है कि वह बीमार है या फिर आंखों से देखा है उसको बहुत बड़ी प्रॉब्लम है या फिर घर में अगर पैसे की प्रॉब्लम होती है खाना पीना कुछ भी नहीं आ पा रहा है तो ऐसे मतलब परिस्थिति आ जाती है इंसान जिंदा इंसान मतलब जिंदा होकर भी ऐसा लहास की तरह मतलब रहता है से घुट घुट के मर जाए तो इससे शहर की स्थिति भी अच्छी होती है इंसान को अंदर ही अंदर मानसिकता बहुत ज्यादा कष्ट देती है
Helo aapaka savaal hai ki katu vaanee se bhee kathor kya hai jo insaan ko maanasik kasht deta hai tareeke se baat karate hain to insaan andar hee andar ghutane lagata hai maanasik taur par bahut jyaada sochane lagata hai aameen dillee beemaar ho jaata hai usase bhee kharaab kya hota hai jab kisee insaan ko pata chalata hai ki vah beemaar hai ya phir aankhon se dekha hai usako bahut badee problam hai ya phir ghar mein agar paise kee problam hotee hai khaana peena kuchh bhee nahin aa pa raha hai to aise matalab paristhiti aa jaatee hai insaan jinda insaan matalab jinda hokar bhee aisa lahaas kee tarah matalab rahata hai se ghut ghut ke mar jae to isase shahar kee sthiti bhee achchhee hotee hai insaan ko andar hee andar maanasikata bahut jyaada kasht detee hai

bolkar speaker
कटु वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है?Katu Vani Se Bhe Kathor Kya Hai Jo Insaan Ko Mansik Kasht Deta Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:32
कटु वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है एक बहुत अच्छा सवाल किसी ने पूछा है इस पर मैं बहुत देर से विचार कर रहा था कटवाने भी बहुत पीड़ा देती है कि क्योंकि वह याद रहती है हमारे दिमाग में ऐसी है जो चीजें याद रखती है सेव करती है मेमोराइज करती हो एक पीड़ा का अनुभव होता है और जब भी फिर उसकी याद आती है तू तो दिखला जाना गाना कटुआ है और कभी-कभी यह लंबा जिंदगी तक चलता है अगर और कई बार यह कम होते होते कम भी हो जाता है जागृति व्यक्ति ने क्षमा मांगी या बाद में अपना मित्र बन गया या कुछ रिश्ते निर्माण हुए और बाद में फिर सहवास के कारण और उसके प्रति आदर स्पेक्टर निर्माण हो जाता है तो इसमें बहुत कभी भी आ जाती है लेकिन कुछ ना कुछ और रहता है इसलिए कटु शब्द को कस्टमर आ गया है लेकिन मैं इससे भी कटरा कष्ट बाइक चीज सोच रहा था तो मुझे ऐसा लगा कि जो बिरहा होता है इसका मतलब मैं ऐसे ही यहां पर कहना चाहूंगा कि जब कोई व्यक्ति हमें छोड़ जाता है हमेशा हमेशा के लिए चाहे वह मृत हो जाए या चाहे वह दूर कहीं जाए लेकिन फिर ना मिले और जो हमारा बहुत अच्छा मित्र या रिश्तेदार या कोई भी हो सकता है जिससे हमारे मन के रिश्ते बन जाते बंधन बन जाते और ऐसी बेटी जब हम से दूर जाता है बाद में कभी जिंदगी भर नहीं मिलता खास करके किसी की मृत्यु के बाद हमारा अपना होता है और वह सिर्फ कृत्रिम रूप से ना अपना नहीं होता है वह अपना बन जाता है या हो जाता है ऐसी स्थिति में उसका विरोध जो है तो बहुत पीड़ादायक होता है बहुत ही दुख होता है बहुत ही कष्टदायक होता है और हमें पूरा मालूम होता है कि अभी वह फिर से कभी हमें दिखाई नहीं देगा इसका कोई भी रास्ता नहीं है उसको फिर से मिलने का कोई भी रास्ता नहीं अगर हम मूर्ति को भी स्वीकार कर ले तो भी निश्चित नहीं है कि हम वह हमसे मिल जाएगा तब बहुत बहुत दुख होता है कई लोगों के अनुभवी हैं उसे कभी पूछना या अपने मन में अपने अनुभव को अंगों को विचार करना नेचुरल पिक्चर को याद आता है बार-बार ही होता है उसका विरोध उसकी कमी लिए हम जीते हैं एहसास करते हैं उसके कविता तुम्हें ऐसे सोचता हूं कि वह जो है वह कटु आने से भी ज्यादा मानसिक कष्ट देता और ऐसे व्यक्ति का बिरहा जिसका कोई रिप्लेसमेंट नहीं हो सकता उसके कभी कोई दूसरा नहीं बस इतना गहरा स्थान उसने आपके मन में किया होता वह होता है और ऐसा हर एक व्यक्ति के साथ होता है कम से कम आप कम अपने मां-बाप के लिए तो होगा भाइयों भाइयों के लिए होगा बहन के लिए होगा पत्नी के लिए हो सकता है बच्चों के लिए हो सकता है मित्रों के लिए हो सकता है लेकिन बहुत तड़पाता है अगर मेरा यह जवाब आपको सही लगा तो कृपया इसे लाइक करें धन्यवाद
Katu vaanee se bhee kathor kya hai jo insaan ko maanasik kasht deta hai ek bahut achchha savaal kisee ne poochha hai is par main bahut der se vichaar kar raha tha katavaane bhee bahut peeda detee hai ki kyonki vah yaad rahatee hai hamaare dimaag mein aisee hai jo cheejen yaad rakhatee hai sev karatee hai memoraij karatee ho ek peeda ka anubhav hota hai aur jab bhee phir usakee yaad aatee hai too to dikhala jaana gaana katua hai aur kabhee-kabhee yah lamba jindagee tak chalata hai agar aur kaee baar yah kam hote hote kam bhee ho jaata hai jaagrti vyakti ne kshama maangee ya baad mein apana mitr ban gaya ya kuchh rishte nirmaan hue aur baad mein phir sahavaas ke kaaran aur usake prati aadar spektar nirmaan ho jaata hai to isamen bahut kabhee bhee aa jaatee hai lekin kuchh na kuchh aur rahata hai isalie katu shabd ko kastamar aa gaya hai lekin main isase bhee katara kasht baik cheej soch raha tha to mujhe aisa laga ki jo biraha hota hai isaka matalab main aise hee yahaan par kahana chaahoonga ki jab koee vyakti hamen chhod jaata hai hamesha hamesha ke lie chaahe vah mrt ho jae ya chaahe vah door kaheen jae lekin phir na mile aur jo hamaara bahut achchha mitr ya rishtedaar ya koee bhee ho sakata hai jisase hamaare man ke rishte ban jaate bandhan ban jaate aur aisee betee jab ham se door jaata hai baad mein kabhee jindagee bhar nahin milata khaas karake kisee kee mrtyu ke baad hamaara apana hota hai aur vah sirph krtrim roop se na apana nahin hota hai vah apana ban jaata hai ya ho jaata hai aisee sthiti mein usaka virodh jo hai to bahut peedaadaayak hota hai bahut hee dukh hota hai bahut hee kashtadaayak hota hai aur hamen poora maaloom hota hai ki abhee vah phir se kabhee hamen dikhaee nahin dega isaka koee bhee raasta nahin hai usako phir se milane ka koee bhee raasta nahin agar ham moorti ko bhee sveekaar kar le to bhee nishchit nahin hai ki ham vah hamase mil jaega tab bahut bahut dukh hota hai kaee logon ke anubhavee hain use kabhee poochhana ya apane man mein apane anubhav ko angon ko vichaar karana nechural pikchar ko yaad aata hai baar-baar hee hota hai usaka virodh usakee kamee lie ham jeete hain ehasaas karate hain usake kavita tumhen aise sochata hoon ki vah jo hai vah katu aane se bhee jyaada maanasik kasht deta aur aise vyakti ka biraha jisaka koee riplesament nahin ho sakata usake kabhee koee doosara nahin bas itana gahara sthaan usane aapake man mein kiya hota vah hota hai aur aisa har ek vyakti ke saath hota hai kam se kam aap kam apane maan-baap ke lie to hoga bhaiyon bhaiyon ke lie hoga bahan ke lie hoga patnee ke lie ho sakata hai bachchon ke lie ho sakata hai mitron ke lie ho sakata hai lekin bahut tadapaata hai agar mera yah javaab aapako sahee laga to krpaya ise laik karen dhanyavaad

bolkar speaker
कटु वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है?Katu Vani Se Bhe Kathor Kya Hai Jo Insaan Ko Mansik Kasht Deta Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:33
यह आपका सवाल है कि कटु वाणी से भी कठोर क्यों है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है तो कटे वाणी से इंसान मेरे ख्याल में वह मानसिक बीमारी है जो इंसान के पास होते हुए उसे कोई बात नहीं करता हो या उसे कोई सलाह नहीं देता वह मेरे ख्याल से एक तरह की मानसिक दृष्टि में कमजोर होता जाते हैं
Yah aapaka savaal hai ki katu vaanee se bhee kathor kyon hai jo insaan ko maanasik kasht deta hai to kate vaanee se insaan mere khyaal mein vah maanasik beemaaree hai jo insaan ke paas hote hue use koee baat nahin karata ho ya use koee salaah nahin deta vah mere khyaal se ek tarah kee maanasik drshti mein kamajor hota jaate hain

bolkar speaker
कटु वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है?Katu Vani Se Bhe Kathor Kya Hai Jo Insaan Ko Mansik Kasht Deta Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:52
आपका प्रश्न है कटवाने से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है देखिए कटुक वचन मधुर वचन है औषधि कटु वचन है तीर श्रवण द्वारा संचालित साले सकल शरीर जैसा कि तुलसीदास जी ने कहा है इसको तो वाकई कटु वचन जय हो तकलीफ देते हैं लेकिन कटु वचन से भी एक ज्यादा उपेक्षा है नजरों से उपेक्षा जब हम किसी को उपेक्षित कर देते हैं कटु वचन भी नहीं करते हैं और हम उसको अपने निगाहों से ओझल कर देते हैं उसे बोलना बंद कर देते हैं वह सब सिद्ध कष्ट देता तो अपेक्षा समाज में उपेक्षा परिवार में उपेक्षा उपेक्षित का मतलब किसी तरह का कोई सम्मान बदन ही आदमी को बहुत ही ज्यादा तोड़ के रख देता कष्ट देता है इसलिए कटु वचन से भी ज्यादा उपेक्षा होती
Aapaka prashn hai katavaane se bhee kathor kya hai jo insaan ko maanasik kasht deta hai dekhie katuk vachan madhur vachan hai aushadhi katu vachan hai teer shravan dvaara sanchaalit saale sakal shareer jaisa ki tulaseedaas jee ne kaha hai isako to vaakee katu vachan jay ho takaleeph dete hain lekin katu vachan se bhee ek jyaada upeksha hai najaron se upeksha jab ham kisee ko upekshit kar dete hain katu vachan bhee nahin karate hain aur ham usako apane nigaahon se ojhal kar dete hain use bolana band kar dete hain vah sab siddh kasht deta to apeksha samaaj mein upeksha parivaar mein upeksha upekshit ka matalab kisee tarah ka koee sammaan badan hee aadamee ko bahut hee jyaada tod ke rakh deta kasht deta hai isalie katu vachan se bhee jyaada upeksha hotee

bolkar speaker
कटु वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है?Katu Vani Se Bhe Kathor Kya Hai Jo Insaan Ko Mansik Kasht Deta Hai
Dt. Mayuari official Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dt. जी का जवाब
Medical field
2:35
कड़ी पत्ता क्या होता है इंसान को मजबूर कर देता है मुझे लगता है किसी को पता नहीं मारता वह ज्यादा मानसिक कष्ट भाई होता है क्योंकि वह कोई भी चीज के लिए पड़ोसी ने ताना मारा जा रहा होता है तो वह मानसिक रूप से भी उनके और उसे गुस्सा भी आता है तो मुझे लगता है कि बुरा बोलने के बाद आपको बोलने के बाद कठोर बोलना चाहिए हमारे बड़े बूढ़े होते हैं वह अभी तक नेट को लेकर 1 जून को ले गया तो कुछ ना कुछ ऐसी चीज होती है जो हमसे टाइम नहीं है टेंशन हो सकती है तो सब कुछ ना कुछ कहते हैं बुरा लगता है उनका फोन भी नहीं समझ में आता ठीक होते हैं हमारी नजर में सब कुछ नहीं होते हैं बातों को सीधा ना करके उन बातों को ताना मारे तंज कसे इंसान मानसिक रूप से ज्यादा दुखी होता है और मानसिक तौर पर महिलाओं के बाद के लिए उन्हें ताना देती है माता-पिता पे ग्रेड प्वाइंट आउट करती है कि बहुत गलत होता है ऐसा नहीं करना चाहिए बट लोग करते हैं तू हर तरह के लोग होते हैं दुनिया में लोग करते हैं तो मुझे लगता है कि वह ज्यादा कष्ट होता है क्योंकि इंसान वह चीज होता रहता है और वह मतलब बहुत ही होती है आप मत बता भी नहीं बता भी नहीं सकते हो और उस पर छुपा भी नहीं सकते हो तो ऐसी होती है तो बहुत ज्यादा मानते हैं पर कठिनाई होती है जब हम किसी के सामने और किसी के संगीत सुनते जाते हैं आप जॉब करते जाते हैं कुछ प्रतिक्रिया नहीं दे पाते कि हम कुछ कर नहीं दे सकते ट्यूबलाइट
Kadee patta kya hota hai insaan ko majaboor kar deta hai mujhe lagata hai kisee ko pata nahin maarata vah jyaada maanasik kasht bhaee hota hai kyonki vah koee bhee cheej ke lie padosee ne taana maara ja raha hota hai to vah maanasik roop se bhee unake aur use gussa bhee aata hai to mujhe lagata hai ki bura bolane ke baad aapako bolane ke baad kathor bolana chaahie hamaare bade boodhe hote hain vah abhee tak net ko lekar 1 joon ko le gaya to kuchh na kuchh aisee cheej hotee hai jo hamase taim nahin hai tenshan ho sakatee hai to sab kuchh na kuchh kahate hain bura lagata hai unaka phon bhee nahin samajh mein aata theek hote hain hamaaree najar mein sab kuchh nahin hote hain baaton ko seedha na karake un baaton ko taana maare tanj kase insaan maanasik roop se jyaada dukhee hota hai aur maanasik taur par mahilaon ke baad ke lie unhen taana detee hai maata-pita pe gred pvaint aaut karatee hai ki bahut galat hota hai aisa nahin karana chaahie bat log karate hain too har tarah ke log hote hain duniya mein log karate hain to mujhe lagata hai ki vah jyaada kasht hota hai kyonki insaan vah cheej hota rahata hai aur vah matalab bahut hee hotee hai aap mat bata bhee nahin bata bhee nahin sakate ho aur us par chhupa bhee nahin sakate ho to aisee hotee hai to bahut jyaada maanate hain par kathinaee hotee hai jab ham kisee ke saamane aur kisee ke sangeet sunate jaate hain aap job karate jaate hain kuchh pratikriya nahin de paate ki ham kuchh kar nahin de sakate tyoobalait

bolkar speaker
कटु वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है?Katu Vani Se Bhe Kathor Kya Hai Jo Insaan Ko Mansik Kasht Deta Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:53
प्रश्न पूछा जाए कि कटु बाड़ी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है क्या नुकसान होते जैसे कोई करता है कोई हमें कुछ ऐसे अपशब्द बोलता है तो क्या होता है कि हम उसे इग्नोर करते हैं क्योंकि कटु बाड़ी से बस हम हमें कुछ समय के लिए जलन सी होती है या जो हमें को टू बॉडी बोलता है उसे कुछ समय के लिए जलन होती है उस चीज को एहसास करता है कि हम देखने के बाद ही प्रत्यक्ष रूप से आपको ऐसा कुछ कहता है अगर ना देखे तो आपकी चर्चा नहीं करता है या तो कोई चर्चा कर रहा है तो उसमें आपके प्रति टिप्पणी कर सकता है कटु वाणी बोल सकता है उनकी सबसे बड़ी बात है कि इसके अलावा क्या चीज होता है जब हम कहीं ना कहीं धोखा खाते हैं जब हम किसी पर बहुत ज्यादा ट्रस्ट करते हैं बहुत ज्यादा विश्वास करते हैं और उस के उपलक्ष में आपको कुछ भी नहीं हासिल होता है तब कुछ भी परसेंट आपको कुछ भी नहीं मिलता जितना आप विश्वास की है जिसे क्या होगा कि मम्मी पापा अपनी औलाद भी अपनी लड़की पर चाय लड़की पर इतना विश्वास करते हैं कि लड़की या लड़का जो भी बच्चे हैं ऊपर के बहुत ज्यादा अच्छा नंबर लाएंगे और हमारा कम से कम समाज में नाम होगा या तो नौकरी करेंगे तो हमारी इज्जत पर ही जब बच्चे वही गलत काम करने लगते हैं उनकी डायरेक्शन चेंज हो जाती है आप कोई गलत डायरेक्शन हो जाता है यार वह किसी चीज में गलत मीनू ऑल हो जाता है बाहरवाली जब उनको आते हैं प्रताड़ित करते हैं ना जब कहते तो कष्ट होता है ना तो पूरा दुख दायक होता है जो उसके मानसिक संतुलन को बिगाड़ देते हैं तो एहसास होता है बड़ा ही दर्द होता है और वह दर्द जब तक सही नहीं होगा तब तक वो दर्द रहता है अगर इंसान का जो भी बचा है वह पूरी तरह से कर बिगड़ गया वह नहीं सही वक्त दर्द पूरी जिंदगी भर रहेगा कि मैंने कौन सी परवरिश की कमी कर दी कौन सी उसे कमी कर दी कि आज मुझे इसका फर्स्ट क्लास उसकी मानसिक तरीके से बहुत ज्यादा प्रेशर डालता है और इसे धोखा है कभी हम प्यार करते हैं बहुत ज्यादा विश्वास है उस में धोखा मिलता है फिर हमें क्या होता है कि जब हम पढ़ाई करते हो उसमें हम अपने हिसाब से अगर नहीं नंबर मिलते हैं तब भी बहुत बड़ा कष्ट होता है वह भी का मानसिक संतुलन बिगड़ जैसे कि जब हम नौकरी नहीं पाते हैं हमें कुछ लोगों को मैंने देखा है कि हमारे साथ बड़े लोग हैं जो आज पागल की श्रेणी में हो गए मैं तो उन्हें कुछ भी एहसास नहीं कि जीवन में इस दुनिया में कुछ है बसु ने जैसे ही रहना है मिट्टी में बहना सोना कचरे में इतना बड़ा धोखा नहीं पीने से कोई ऐसी चीज में दर्द हो रहा है धोखा विश्वासघात आप कुछ भी कह लीजिए और उसके अलावा आपके जितना ट्रस्ट करते जितना विश्वास करते हैं उसके उस के उपलक्ष में कुछ नहीं मिलता है तो एक कटु बाड़ी से भी पूरी जिंदगी पूरी लाइफ को आप को बिगाड़ बिगाड़ देता है और यही एक मानसिक कष्ट देता है
Prashn poochha jae ki katu baadee se bhee kathor kya hai jo insaan ko maanasik kasht deta hai kya nukasaan hote jaise koee karata hai koee hamen kuchh aise apashabd bolata hai to kya hota hai ki ham use ignor karate hain kyonki katu baadee se bas ham hamen kuchh samay ke lie jalan see hotee hai ya jo hamen ko too bodee bolata hai use kuchh samay ke lie jalan hotee hai us cheej ko ehasaas karata hai ki ham dekhane ke baad hee pratyaksh roop se aapako aisa kuchh kahata hai agar na dekhe to aapakee charcha nahin karata hai ya to koee charcha kar raha hai to usamen aapake prati tippanee kar sakata hai katu vaanee bol sakata hai unakee sabase badee baat hai ki isake alaava kya cheej hota hai jab ham kaheen na kaheen dhokha khaate hain jab ham kisee par bahut jyaada trast karate hain bahut jyaada vishvaas karate hain aur us ke upalaksh mein aapako kuchh bhee nahin haasil hota hai tab kuchh bhee parasent aapako kuchh bhee nahin milata jitana aap vishvaas kee hai jise kya hoga ki mammee paapa apanee aulaad bhee apanee ladakee par chaay ladakee par itana vishvaas karate hain ki ladakee ya ladaka jo bhee bachche hain oopar ke bahut jyaada achchha nambar laenge aur hamaara kam se kam samaaj mein naam hoga ya to naukaree karenge to hamaaree ijjat par hee jab bachche vahee galat kaam karane lagate hain unakee daayarekshan chenj ho jaatee hai aap koee galat daayarekshan ho jaata hai yaar vah kisee cheej mein galat meenoo ol ho jaata hai baaharavaalee jab unako aate hain prataadit karate hain na jab kahate to kasht hota hai na to poora dukh daayak hota hai jo usake maanasik santulan ko bigaad dete hain to ehasaas hota hai bada hee dard hota hai aur vah dard jab tak sahee nahin hoga tab tak vo dard rahata hai agar insaan ka jo bhee bacha hai vah pooree tarah se kar bigad gaya vah nahin sahee vakt dard pooree jindagee bhar rahega ki mainne kaun see paravarish kee kamee kar dee kaun see use kamee kar dee ki aaj mujhe isaka pharst klaas usakee maanasik tareeke se bahut jyaada preshar daalata hai aur ise dhokha hai kabhee ham pyaar karate hain bahut jyaada vishvaas hai us mein dhokha milata hai phir hamen kya hota hai ki jab ham padhaee karate ho usamen ham apane hisaab se agar nahin nambar milate hain tab bhee bahut bada kasht hota hai vah bhee ka maanasik santulan bigad jaise ki jab ham naukaree nahin paate hain hamen kuchh logon ko mainne dekha hai ki hamaare saath bade log hain jo aaj paagal kee shrenee mein ho gae main to unhen kuchh bhee ehasaas nahin ki jeevan mein is duniya mein kuchh hai basu ne jaise hee rahana hai mittee mein bahana sona kachare mein itana bada dhokha nahin peene se koee aisee cheej mein dard ho raha hai dhokha vishvaasaghaat aap kuchh bhee kah leejie aur usake alaava aapake jitana trast karate jitana vishvaas karate hain usake us ke upalaksh mein kuchh nahin milata hai to ek katu baadee se bhee pooree jindagee pooree laiph ko aap ko bigaad bigaad deta hai aur yahee ek maanasik kasht deta hai

bolkar speaker
कटु वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है?Katu Vani Se Bhe Kathor Kya Hai Jo Insaan Ko Mansik Kasht Deta Hai
Chetan Chandrawanshi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Chetan जी का जवाब
Finding a part time job
2:11
जैसे ही कटु तो बहुत सी चीजें होती है कुछ घटनाएं दो कितने जाती है किसके द्वारा जानबूझकर षड्यंत्र बनाकर की जाती वह भी मानती और ज्यादातर निर्भर करता है आप पर कि आप किस बात पर गुस्सा आता है कौन सी बातें अच्छी लगती है तो आपके लिए खरपतवार अच्छी बातें बेकार हो जाएगा तो जो आपको पसंद नहीं होगा वह आपके गटू है और जो आपको पसंद है बात करने में था लेकिन जो एक साधारण इंसान होता है उसके लिए तो सभी बुरे काम कर टूट के समान होते हैं कड़वे होते हैं और वह चाहते हैं कि हिंदी में परिचय नहीं हो सकता जिंदगी में जैसे रात आती है सोने के लिए दिन आता है जागने के लिए और कुछ करने के लिए वैसे ही दुख और सुख मिलते रहते हैं जैसे दुख में धीरज जैसी सुख में भी सबसे ज्यादा उत्साहित ज्यादा खुश मत हो क्योंकि दुख आएगा उसके बाद तो खुश होगी बर्दाश्त नहीं कर पाओ और दुख में भी ज्यादा दूसरों की खुशी को खुशियां तो खुशी पर यकीन ही ना करे की खुशी है हमारी जिंदगी तो बनाए रखें पीएनपी भी कुछ है और लिखने में मास्टर धन्यवाद
Jaise hee katu to bahut see cheejen hotee hai kuchh ghatanaen do kitane jaatee hai kisake dvaara jaanaboojhakar shadyantr banaakar kee jaatee vah bhee maanatee aur jyaadaatar nirbhar karata hai aap par ki aap kis baat par gussa aata hai kaun see baaten achchhee lagatee hai to aapake lie kharapatavaar achchhee baaten bekaar ho jaega to jo aapako pasand nahin hoga vah aapake gatoo hai aur jo aapako pasand hai baat karane mein tha lekin jo ek saadhaaran insaan hota hai usake lie to sabhee bure kaam kar toot ke samaan hote hain kadave hote hain aur vah chaahate hain ki hindee mein parichay nahin ho sakata jindagee mein jaise raat aatee hai sone ke lie din aata hai jaagane ke lie aur kuchh karane ke lie vaise hee dukh aur sukh milate rahate hain jaise dukh mein dheeraj jaisee sukh mein bhee sabase jyaada utsaahit jyaada khush mat ho kyonki dukh aaega usake baad to khush hogee bardaasht nahin kar pao aur dukh mein bhee jyaada doosaron kee khushee ko khushiyaan to khushee par yakeen hee na kare kee khushee hai hamaaree jindagee to banae rakhen peeenapee bhee kuchh hai aur likhane mein maastar dhanyavaad

bolkar speaker
कटु वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है?Katu Vani Se Bhe Kathor Kya Hai Jo Insaan Ko Mansik Kasht Deta Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:33
आरा का प्रश्न 18 वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है तो आपको बता दें कि देखिए और आपको किसी की वाणी सुनने को मिल रही है भले वह खत्म हो तब भी वह उतनी बुरी नहीं लगती की बजाय उसके कि वह चुप भी साथ ले अगर कोई व्यक्ति आपके साथ किसी भी शिक्षक में है और अगर वह चुप हो जाता है खामोशी इतना लेता है तो वह चीज आपको हमेशा में खटकती रहती है आपकी क्या सोच है जो बारे में कम सेक्शन अपनी राय जरुर व्यक्त करें मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Aara ka prashn 18 vaanee se bhee kathor kya hai jo insaan ko maanasik kasht deta hai to aapako bata den ki dekhie aur aapako kisee kee vaanee sunane ko mil rahee hai bhale vah khatm ho tab bhee vah utanee buree nahin lagatee kee bajaay usake ki vah chup bhee saath le agar koee vyakti aapake saath kisee bhee shikshak mein hai aur agar vah chup ho jaata hai khaamoshee itana leta hai to vah cheej aapako hamesha mein khatakatee rahatee hai aapakee kya soch hai jo baare mein kam sekshan apanee raay jarur vyakt karen main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
कटु वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है?Katu Vani Se Bhe Kathor Kya Hai Jo Insaan Ko Mansik Kasht Deta Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
1:44
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है गुरु वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है दोस्तों कटु वाणी यानी कि कड़वी भाषा जो कि दूसरों को अच्छी नहीं लगती है और होती भी नहीं है उनसे सभी लोग असंतुष्ट होते हैं लेकिन आपने पूछा कि उनसे भी कठोर क्या है तो दोस्तों वह है दुर्व्यवहार लोगों का व्यवहार जिससे कि बोला भी नहीं जाता और केवल अपने व्यवहार से कठोरता भी दिखाई देती है इससे इंसानों को मानसिक कष्ट पहुंचता है बिना बोले तो कटु वाणी से भी कठोर किसी का व्यवहार होता है और व्यवहार में भी दुर्व्यवहार किसी के साथ यदि कोई दुर्व्यवहार या यातनाएं कष्ट देना या अन्य प्रकार की कोई परेशानियां यदि उसे झेलनी पड़ रही हो किसी के माध्यम से तो यह जो व्यवहार है वह किसी को अच्छा नहीं लगता है और ऐसा व्यवहार हमेशा मन को कष्ट ही पहुंचाता है ऐसा किसी ने भी नहीं होना चाहिए व्यवहार सभी को बहुत ही अच्छा रखना चाहिए और वाणी में भी मधुरता लानी चाहिए 2 भाषा और अल्प वैसे भी होना चाहिए धन्यवाद
Namaskaar doston aapaka prashn hai guru vaanee se bhee kathor kya hai jo insaan ko maanasik kasht deta hai doston katu vaanee yaanee ki kadavee bhaasha jo ki doosaron ko achchhee nahin lagatee hai aur hotee bhee nahin hai unase sabhee log asantusht hote hain lekin aapane poochha ki unase bhee kathor kya hai to doston vah hai durvyavahaar logon ka vyavahaar jisase ki bola bhee nahin jaata aur keval apane vyavahaar se kathorata bhee dikhaee detee hai isase insaanon ko maanasik kasht pahunchata hai bina bole to katu vaanee se bhee kathor kisee ka vyavahaar hota hai aur vyavahaar mein bhee durvyavahaar kisee ke saath yadi koee durvyavahaar ya yaatanaen kasht dena ya any prakaar kee koee pareshaaniyaan yadi use jhelanee pad rahee ho kisee ke maadhyam se to yah jo vyavahaar hai vah kisee ko achchha nahin lagata hai aur aisa vyavahaar hamesha man ko kasht hee pahunchaata hai aisa kisee ne bhee nahin hona chaahie vyavahaar sabhee ko bahut hee achchha rakhana chaahie aur vaanee mein bhee madhurata laanee chaahie 2 bhaasha aur alp vaise bhee hona chaahie dhanyavaad

bolkar speaker
कटु वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है?Katu Vani Se Bhe Kathor Kya Hai Jo Insaan Ko Mansik Kasht Deta Hai
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:32
जमाने की कटु वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है निश्चित तौर पर यदि आप अपने वेरावल से हार जाएंगे अपने मन से हार जाएंगे तो आप किसी भी तरीके से अपनी परिस्थिति का सामना नहीं कर पाएंगे इसीलिए बहुत जरूरी है कि कटु वाणी एक बार आकर के हारे हार है मन के जीते जीत हमेशा खुद की पावर को स्ट्रांग रखना चाहिए है कभी भी खुद से नहीं होना चाहिए आपका दिन शुभ शनिवार
Jamaane kee katu vaanee se bhee kathor kya hai jo insaan ko maanasik kasht deta hai nishchit taur par yadi aap apane veraaval se haar jaenge apane man se haar jaenge to aap kisee bhee tareeke se apanee paristhiti ka saamana nahin kar paenge iseelie bahut jarooree hai ki katu vaanee ek baar aakar ke haare haar hai man ke jeete jeet hamesha khud kee paavar ko straang rakhana chaahie hai kabhee bhee khud se nahin hona chaahie aapaka din shubh shanivaar

bolkar speaker
कटु वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है?Katu Vani Se Bhe Kathor Kya Hai Jo Insaan Ko Mansik Kasht Deta Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:34
आपका सवाल है कटु वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार से है बोलना बोलो ऐसा कोई जो दिल पर चोट लगे वक्त गुजर जाएगा बात खड़ी रह जाएगी इंसान को अपनी वाणी पर हमेशा कंट्रोल करना चाहिए और जो भी वाणी बोले उसको मधुर वाणी के रूप में ही बोलना चाहिए जिससे एक दूसरे लोग सुनने वाले भी मनमोहित हो जाएंगे इसलिए हमें अपनी वाणी को नियंत्रित में रखना बहुत ही जरूरी है और जो भी बोले अच्छा बोले और अगर किसी के साथ विश्वासघात भी नहीं करना चाहिए क्योंकि इंसान जो विश्वासघात कर है तो उनका हमेशा के लिए विश्वास खत्म हो जाता है इसलिए एक दूसरे के साथ विश्वास को बनाए रखना बहुत ही जरूरी है जो वाणी और विश्वास यह इंसान के लिए बहुत ही जरूरी है अगर यह चीज अगर नहीं रहेगी इंसान में तो मांस मानसिक अशांति पैदा करते हैं कष्ट प्रदान करते हैं इसलिए कटु वाणी से बचना चाहिए और विश्वास को बनाए रखना चाहिए धन्यवाद साथियों खुश रहो
Aapaka savaal hai katu vaanee se bhee kathor kya hai jo insaan ko maanasik kasht deta hai to doston aapake savaal ka uttar is prakaar se hai bolana bolo aisa koee jo dil par chot lage vakt gujar jaega baat khadee rah jaegee insaan ko apanee vaanee par hamesha kantrol karana chaahie aur jo bhee vaanee bole usako madhur vaanee ke roop mein hee bolana chaahie jisase ek doosare log sunane vaale bhee manamohit ho jaenge isalie hamen apanee vaanee ko niyantrit mein rakhana bahut hee jarooree hai aur jo bhee bole achchha bole aur agar kisee ke saath vishvaasaghaat bhee nahin karana chaahie kyonki insaan jo vishvaasaghaat kar hai to unaka hamesha ke lie vishvaas khatm ho jaata hai isalie ek doosare ke saath vishvaas ko banae rakhana bahut hee jarooree hai jo vaanee aur vishvaas yah insaan ke lie bahut hee jarooree hai agar yah cheej agar nahin rahegee insaan mein to maans maanasik ashaanti paida karate hain kasht pradaan karate hain isalie katu vaanee se bachana chaahie aur vishvaas ko banae rakhana chaahie dhanyavaad saathiyon khush raho

bolkar speaker
कटु वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है?Katu Vani Se Bhe Kathor Kya Hai Jo Insaan Ko Mansik Kasht Deta Hai
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
0:53
एक एक कटु वाणी से भी कठोर हमारे मन को पीड़ा देता है वह है इंसान का अपना व्यक्ति को विश्वास को ठेस पहुंचाना जो इंसान किसी के साथ विश्वासघात करता है या किसी को धोखा देता है तो है कटु वाणी से कठोर है और वह बहुत ही मानसिक कष्ट देता है इसलिए इंसान को कभी भी किसी के साथ विश्वासघात नहीं करना चाहिए किसी को धोखा नहीं देना चाहिए कटु वाणी बहुत से पार्षद जो होती है वह इंसान उससे ऊपर भी सकता है मगर कटु वाणी कभी पीछा नहीं होनी चाहिए नहीं तो वह बहुत ही अधिक जुदाई हो सकते हैं
Ek ek katu vaanee se bhee kathor hamaare man ko peeda deta hai vah hai insaan ka apana vyakti ko vishvaas ko thes pahunchaana jo insaan kisee ke saath vishvaasaghaat karata hai ya kisee ko dhokha deta hai to hai katu vaanee se kathor hai aur vah bahut hee maanasik kasht deta hai isalie insaan ko kabhee bhee kisee ke saath vishvaasaghaat nahin karana chaahie kisee ko dhokha nahin dena chaahie katu vaanee bahut se paarshad jo hotee hai vah insaan usase oopar bhee sakata hai magar katu vaanee kabhee peechha nahin honee chaahie nahin to vah bahut hee adhik judaee ho sakate hain

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • कटु वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है कटु वाणी से भी कठोर क्या है
URL copied to clipboard