#undefined

bolkar speaker

कहा था कि संसार में हर किसी को अपने ज्ञान का घमंड है परंतु किसी को भी अपने घमंड का ज्ञान नहीं है ?

Kaha Tha Ki Sansaar Mein Har Kisee Ko Apane Gyaan Ka Ghamand Hai Parantu Kisee Ko Bhee Apane Ghamand Ka Gyaan Nahin Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
1:32

और जवाब सुनें

bolkar speaker
कहा था कि संसार में हर किसी को अपने ज्ञान का घमंड है परंतु किसी को भी अपने घमंड का ज्ञान नहीं है ?Kaha Tha Ki Sansaar Mein Har Kisee Ko Apane Gyaan Ka Ghamand Hai Parantu Kisee Ko Bhee Apane Ghamand Ka Gyaan Nahin Hai
Aditya anil mali Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Aditya जी का जवाब
Unknown
0:05

bolkar speaker
कहा था कि संसार में हर किसी को अपने ज्ञान का घमंड है परंतु किसी को भी अपने घमंड का ज्ञान नहीं है ?Kaha Tha Ki Sansaar Mein Har Kisee Ko Apane Gyaan Ka Ghamand Hai Parantu Kisee Ko Bhee Apane Ghamand Ka Gyaan Nahin Hai
Monika rajawat
     Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Monika जी का जवाब
Merath university
1:28

bolkar speaker
कहा था कि संसार में हर किसी को अपने ज्ञान का घमंड है परंतु किसी को भी अपने घमंड का ज्ञान नहीं है ?Kaha Tha Ki Sansaar Mein Har Kisee Ko Apane Gyaan Ka Ghamand Hai Parantu Kisee Ko Bhee Apane Ghamand Ka Gyaan Nahin Hai
Raj Kapoor Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Raj जी का जवाब
Rajasthan University Jaipur
1:23

bolkar speaker
कहा था कि संसार में हर किसी को अपने ज्ञान का घमंड है परंतु किसी को भी अपने घमंड का ज्ञान नहीं है ?Kaha Tha Ki Sansaar Mein Har Kisee Ko Apane Gyaan Ka Ghamand Hai Parantu Kisee Ko Bhee Apane Ghamand Ka Gyaan Nahin Hai
prakash saini Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए prakash जी का जवाब
Unknown
0:07

bolkar speaker
कहा था कि संसार में हर किसी को अपने ज्ञान का घमंड है परंतु किसी को भी अपने घमंड का ज्ञान नहीं है ?Kaha Tha Ki Sansaar Mein Har Kisee Ko Apane Gyaan Ka Ghamand Hai Parantu Kisee Ko Bhee Apane Ghamand Ka Gyaan Nahin Hai
Ramparkash Pk Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ramparkash जी का जवाब
Unknown
0:11

bolkar speaker
कहा था कि संसार में हर किसी को अपने ज्ञान का घमंड है परंतु किसी को भी अपने घमंड का ज्ञान नहीं है ?Kaha Tha Ki Sansaar Mein Har Kisee Ko Apane Gyaan Ka Ghamand Hai Parantu Kisee Ko Bhee Apane Ghamand Ka Gyaan Nahin Hai
Hiten Sethi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Hiten जी का जवाब
Student
2:30

bolkar speaker
कहा था कि संसार में हर किसी को अपने ज्ञान का घमंड है परंतु किसी को भी अपने घमंड का ज्ञान नहीं है ?Kaha Tha Ki Sansaar Mein Har Kisee Ko Apane Gyaan Ka Ghamand Hai Parantu Kisee Ko Bhee Apane Ghamand Ka Gyaan Nahin Hai
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea .
1:39

bolkar speaker
कहा था कि संसार में हर किसी को अपने ज्ञान का घमंड है परंतु किसी को भी अपने घमंड का ज्ञान नहीं है ?Kaha Tha Ki Sansaar Mein Har Kisee Ko Apane Gyaan Ka Ghamand Hai Parantu Kisee Ko Bhee Apane Ghamand Ka Gyaan Nahin Hai
Nikhil Kapoor nikku Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Unknown
0:17

bolkar speaker
कहा था कि संसार में हर किसी को अपने ज्ञान का घमंड है परंतु किसी को भी अपने घमंड का ज्ञान नहीं है ?Kaha Tha Ki Sansaar Mein Har Kisee Ko Apane Gyaan Ka Ghamand Hai Parantu Kisee Ko Bhee Apane Ghamand Ka Gyaan Nahin Hai
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
4:50
कहां है कि संसार में हर किसी को ज्ञान का घमंड होता है किसी को अपने मन को या नहीं करना चाहिए तो सेंड करने लगते हैं उन्हीं को तुलसीदास जी ने मूर्ति कहा है कि हृदय न चेत जो घूम रहे हैं और किसी की नहीं सुनते हैं तो रुको हम कहते हैं क्योंकि ज्ञान का भंडार तू है अतुल भंडार है भगवान ने जो गीता में लिखा है उससे भी आगे बढ़कर फिर अष्टावक्र ने बनाया है गीता में अष्टावक्र गीता कहलाती है ज्ञान का कभी अंत नहीं होता है और जो हम खुद से समझते हैं अपना अनुभव करते हैं हम उसी को कहते हैं जो सेवर मोड़ नहीं करना क्योंकि उसकी कोई सीमा नहीं है या से आकाश है आकाश अनंत है अनंत आकाश को भी यही बता पाया है कि सूरज चंदा तारे नक्षत्र कि आखिर इस ब्रह्मांड का अंत कहां है ऐसे इसका अंत नहीं है उसका ध्यान का भी अंत नहीं है तो अपने अनुभव के अनुसार हम सत्य सत्य कुमार लेते हैं परंतु उसकी कोई सीमा नहीं है प्रकाश का भाई है यह अनंत है इसी को हम अनंत यार सुन सकते हैं जो हम उसका अंत नहीं ढूंढ पाते हैं चाय मानस की ओर चले जाओ चक्रेश की ओर चले आओ तो आगे पीछे चलता रहता है परंतु म्यान जो है ज्ञान का कोई घमंड नहीं करना चाहिए क्योंकि एक से गया नहीं संसार में पड़े रहते हैं मुझे घमंड करने लगते हैं उठ जाते हैं दो ऊपर किसी की नहीं मानते हैं और अपने घमंड में ही उनका पतन हो जाता है तो सबसे अपना ग्रुप का व्यक्ति है उसे अपने बुराइयां पैदा कर लेते हैं तो भगवान ने हमें जो माध्यम बनाया है तो हम तो यह कैद कार्यकर्ता के रूप में संसार में आए हैं और जो हमें खुद दायित्व सौंपा गया है हमें उसी का निर्वहन करना चाहिए या नहीं समझना चाहिए कि हम पिता हैं यहां हम घर के मुखिया हैं यहां पर का संचालन करते हैं अरे माध्यम है माध्यम की तरह रहो हुआ है पानी पिलाता है वृक्ष एक फल देते हैं पर घमंड नहीं करते हैं तरुवर फल नहिं खात है सरवर पियत न पान और कैसे दाताराम तो ऐसे भगवान हैं जो शेयर नहीं करना चाहते हैं दूसरों को खिलाते हैं घातक ज्ञान भी दूसरों को दिया जाता है बांटा जाता है प्रधान ने किया जाता है एक आशा बिच्छू का मंत्र आता है तो घमंड करने लग जाओ क्योंकि यदि तो किसी को नहीं दोगी तो उसका लॉक हो जाता है और वह फिर आगे उसकी कोई लगदा नहीं होती है यहां से पैसे वसूले लगते हैं किसी भी दवा से तो फिर वह दवा हुआ यहां से चली जाती है तो आप किसी का भला नहीं कर पाते हैं तो इससे हमारा मान सम्मान बढ़ता है लोक आश्रम में से एक ही छोड़ देते हैं तो फिर हमारा मान सम्मान चौहान में घटने लगता है तो यही मूर्खता होती है तो कहते हैं मुंह ढक कर देना चाहिए जो गुरु मिले भगवान महावीर को प्राय तो उसके कोई पढ़ा नहीं सकता है तो यह अभियान का कारण उनका का रावण की सोने की लंका थी क्या चार मुक्ती ब्रह्मा जी ने चार वेद पड़ा है चारों मुखर्जी पड़ा है फर्ज बनता है उसका पतन हुआ है उसके वंश का पतन हुआ है ऐसा पता नहीं जिसको करना है तो वह अपनी प्रतिज्ञा नहीं समझा मैं तो एक छोटा सा छोटा सा गया हूं भगवान ने हमको कुछ बुद्धि नहीं दिया भगवान से यही मानते हैं कि थोड़ा बहुत ज्यादा में होना चाहिए और हमें गाना नहीं होना चाहिए उसका तो भगवान ने हमें जितना भी दिया है आंख नाक कान किया जाए एक हाथ लगा दिया जाए तो तुम उसको लाखों रुपया करोड़ों में नहीं पी सकते हो तो ज्ञान नहीं है कि जो है इसके बाद कुछ करें मैं तो यह आनंद चाहे करता हूं कि बिना किसी
Kahaan hai ki sansaar mein har kisee ko gyaan ka ghamand hota hai kisee ko apane man ko ya nahin karana chaahie to send karane lagate hain unheen ko tulaseedaas jee ne moorti kaha hai ki hrday na chet jo ghoom rahe hain aur kisee kee nahin sunate hain to ruko ham kahate hain kyonki gyaan ka bhandaar too hai atul bhandaar hai bhagavaan ne jo geeta mein likha hai usase bhee aage badhakar phir ashtaavakr ne banaaya hai geeta mein ashtaavakr geeta kahalaatee hai gyaan ka kabhee ant nahin hota hai aur jo ham khud se samajhate hain apana anubhav karate hain ham usee ko kahate hain jo sevar mod nahin karana kyonki usakee koee seema nahin hai ya se aakaash hai aakaash anant hai anant aakaash ko bhee yahee bata paaya hai ki sooraj chanda taare nakshatr ki aakhir is brahmaand ka ant kahaan hai aise isaka ant nahin hai usaka dhyaan ka bhee ant nahin hai to apane anubhav ke anusaar ham saty saty kumaar lete hain parantu usakee koee seema nahin hai prakaash ka bhaee hai yah anant hai isee ko ham anant yaar sun sakate hain jo ham usaka ant nahin dhoondh paate hain chaay maanas kee or chale jao chakresh kee or chale aao to aage peechhe chalata rahata hai parantu myaan jo hai gyaan ka koee ghamand nahin karana chaahie kyonki ek se gaya nahin sansaar mein pade rahate hain mujhe ghamand karane lagate hain uth jaate hain do oopar kisee kee nahin maanate hain aur apane ghamand mein hee unaka patan ho jaata hai to sabase apana grup ka vyakti hai use apane buraiyaan paida kar lete hain to bhagavaan ne hamen jo maadhyam banaaya hai to ham to yah kaid kaaryakarta ke roop mein sansaar mein aae hain aur jo hamen khud daayitv saumpa gaya hai hamen usee ka nirvahan karana chaahie ya nahin samajhana chaahie ki ham pita hain yahaan ham ghar ke mukhiya hain yahaan par ka sanchaalan karate hain are maadhyam hai maadhyam kee tarah raho hua hai paanee pilaata hai vrksh ek phal dete hain par ghamand nahin karate hain taruvar phal nahin khaat hai saravar piyat na paan aur kaise daataaraam to aise bhagavaan hain jo sheyar nahin karana chaahate hain doosaron ko khilaate hain ghaatak gyaan bhee doosaron ko diya jaata hai baanta jaata hai pradhaan ne kiya jaata hai ek aasha bichchhoo ka mantr aata hai to ghamand karane lag jao kyonki yadi to kisee ko nahin dogee to usaka lok ho jaata hai aur vah phir aage usakee koee lagada nahin hotee hai yahaan se paise vasoole lagate hain kisee bhee dava se to phir vah dava hua yahaan se chalee jaatee hai to aap kisee ka bhala nahin kar paate hain to isase hamaara maan sammaan badhata hai lok aashram mein se ek hee chhod dete hain to phir hamaara maan sammaan chauhaan mein ghatane lagata hai to yahee moorkhata hotee hai to kahate hain munh dhak kar dena chaahie jo guru mile bhagavaan mahaaveer ko praay to usake koee padha nahin sakata hai to yah abhiyaan ka kaaran unaka ka raavan kee sone kee lanka thee kya chaar muktee brahma jee ne chaar ved pada hai chaaron mukharjee pada hai pharj banata hai usaka patan hua hai usake vansh ka patan hua hai aisa pata nahin jisako karana hai to vah apanee pratigya nahin samajha main to ek chhota sa chhota sa gaya hoon bhagavaan ne hamako kuchh buddhi nahin diya bhagavaan se yahee maanate hain ki thoda bahut jyaada mein hona chaahie aur hamen gaana nahin hona chaahie usaka to bhagavaan ne hamen jitana bhee diya hai aankh naak kaan kiya jae ek haath laga diya jae to tum usako laakhon rupaya karodon mein nahin pee sakate ho to gyaan nahin hai ki jo hai isake baad kuchh karen main to yah aanand chaahe karata hoon ki bina kisee

bolkar speaker
कहा था कि संसार में हर किसी को अपने ज्ञान का घमंड है परंतु किसी को भी अपने घमंड का ज्ञान नहीं है ?Kaha Tha Ki Sansaar Mein Har Kisee Ko Apane Gyaan Ka Ghamand Hai Parantu Kisee Ko Bhee Apane Ghamand Ka Gyaan Nahin Hai
Hitesh jain Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Hitesh जी का जवाब
Blogger- Content Writer
2:58
हां यह बात बिल्कुल सही है घर संसार में हर किसी को अपने ज्ञान का घमंड होता है लेकिन किसी को अपने घमंड का ज्ञान नहीं क्योंकि वह ज्ञान ही बोलता होता है ना उनके स्ट्रिपचट्ट बोलता है फिर बढ़ जाता है और जब गलत ज्ञानदेव पर चढ़ जाता है तो वह सही ज्ञान को लेने की क्षमता उम्मीद नहीं होती है अगर वह गलत लोगों के साथ रह रहे गलत तरीके से बात कर रहे हैं गलत चीजों में पड़ गए हैं वह गलत तरीके से नॉलेज भले ही कितना भी क्यों ना ले लिया हो कितने भी पैसे क्यों न कमा लिया हो लेकिन अगर वह घमंड दिखा रहे हो मैं विनम्रता नहीं है किसी चीज में अगर कोई का काफी को कोई मान लीजिए कोई बड़ा करोड़पति आदमी है बहुत पैसे वाला है लेकिन उसमें काफी घमंड है तो फिर उसके बाद चाहे कितना भी ज्ञान होता हो वह कोई काम करें उसके लिए कोई अर्थ नहीं रखता है कोई मायने नहीं रखता है कि उसको इस चीज का बाद में तब पता चलता है जब कभी उसके साथ कोई डेंट हो जाता है तब उसे पछतावा होता है कि मैंने अपने चीजों पर जो मैंने पाया उससे काफी कमेंट किया है तो चाहे इंसान कुछ भी पा लिया कुछ भी खोले कभी भी उसको घमंड नहीं करना चाहिए मगर कुछ बात है तो घमंड नहीं करना चाहिए अगर कुछ होता है तो ज्यादा दुख नहीं करना चाहिए क्योंकि जीवन में उतार चढ़ाव आते रहते हो क्या पता कब आपके साथ क्या हादसा हो जाए आज आप करोड़पति है और आप के घमंड की वजह से कल आप रोडपति हो जाए एक-एक क्षण में तो आप और नहीं कह सकते यह कि मतलब हम यह कह सकते हैं कि लोगों को ज्ञान का घमंड है लेकिन घमंड का ज्ञान यह बात सही है तो लोगों के बात समझनी चाहिए कि अगर आपके पास पैसा है अगर आपके पास कोई चीज है तो उसमें आपको विनम्रता रखनी चाहिए आपको लोगों की हेल्प करनी चाहिए अगर आप को भगवान ने कुछ दिया है तो आपको दूसरों को देना चाहिए आपको गरीबों की मदद करनी चाहिए या फिर आप नहीं भी करते तो किसी का तिरस्कार मत कीजिए किसी का अनादर मत कीजिएगा घमंड मत दिखाइए कि मेरे पास इतना पैसा है नहीं सपने में भगवान को तो भगवान समझने लगते हैं और ऐसे भगवान बनने वाले लोगों की जब करती है ना तो इतनी जोरदार कटती है उसे मात्र लगती है तो इतनी जोरदार लगती है हालांकि एक डिब्बे में गलत वर्ड यूज़ नहीं कर सकता क्योंकि हमारे केप का अपने रोहित होते हैं उसे हम नहीं तोड़ सकते हैं और किसी एक पर या किसी सोशल मीडिया पर गलत तरीके से नहीं बोलना चाहती है वहां पर आप खुद का अपमान नहीं करे वहां पर आप उस इंसान का भी अपमान करें जिसने यह सोशल मीडिया बनाया है जितने आप को कनेक्ट किया है जिसने आपकी मदद की है तो यहां पर बोलकर इतने भी में काफी लोगों से जुड़ा हूं कि मुझे ना कनेक्ट किया है तो मैं क्यों बोलूं बोल कर एक के लिए इसलिए और मुझे बिल्कुल भी घमंड नहीं है कि मैं यहां जो ज्ञान है या पर बांट रहा हूं या ज्ञान ले रहा हूं मैं भी ज्ञानी बन चुका हूं काफी चीजों का मुझे ज्ञान हो चुका है बोल कर एक पर तो मैं थैंकफूल हूं लेकिन मुझे घमंड बिल्कुल नहीं है लेकिन कुछ इंसानों में है तो मैं भी नहीं होना चाहिए

bolkar speaker
कहा था कि संसार में हर किसी को अपने ज्ञान का घमंड है परंतु किसी को भी अपने घमंड का ज्ञान नहीं है ?Kaha Tha Ki Sansaar Mein Har Kisee Ko Apane Gyaan Ka Ghamand Hai Parantu Kisee Ko Bhee Apane Ghamand Ka Gyaan Nahin Hai
anushka prajapati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए anushka जी का जवाब
Unknown
4:29

bolkar speaker
कहा था कि संसार में हर किसी को अपने ज्ञान का घमंड है परंतु किसी को भी अपने घमंड का ज्ञान नहीं है ?Kaha Tha Ki Sansaar Mein Har Kisee Ko Apane Gyaan Ka Ghamand Hai Parantu Kisee Ko Bhee Apane Ghamand Ka Gyaan Nahin Hai
charu seth Bolkar App
Top Speaker,Level 88
सुनिए charu जी का जवाब
Unknown
0:03

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard