#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

उत्पत्ति एकादशी की कथा क्या है?

Utpatti Ekadashi Ki Katha Kya Hai
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:58
हरे कृष्ण कृष्ण से युधिष्ठिर ने पूछा प्रभु उत्पत्ति एकादशी कैसे हुई तो भगवान श्रीकृष्ण ने युधिष्ठिर को कहा कि सतयुग में मोड़ नामक एक दानव था जिसने पूरे संसार को जीत लिया था तीनों लोग को और देवताओं को विवश कर दिया था पृथ्वी पर विचरण करने के लिए देवता अपनी समस्या को लेकर भगवान शिव के पास पहुंचे भगवान शिव ने कहा आपकी समस्या का समाधान गरुड़ध्वज भगवान हरि विष्णु करेंगे आप उनके पास जाएं सारे देवता पताल में सागर के बीचो बीच पहुंचे वहां उन्होंने विनती की भगवान श्री श्री विष्णु जी से कि प्रभु हमें इस दैत्य से मुर नामक देते थे हमें आजादी पिलाएं याद दिला दो भगवान श्री हरि विष्णु जी ने असत्य के बारे में पूछा कौन है वह दोनों ने बताया देवराज इंद्र ने की ब्रह्मा के वंश से हुए दाल नामक एक असूल के पुत्र है मुर्दा ना जो कि चंद्रावती नाम की नगरी में रहते हैं अब उन्होंने उसका वध करने के लिए भगवान श्री हरि ने उसके पास गए हैं तो बहुत तो युद्ध काफी समय चला उसके पश्चात भगवान हरि विष्णु सिंगर वती गुफा में जाकर विश्राम करने लगे हैं योग्य उतरा में उनके पीछे पीछे मुड़ नामक दैत्य भी वहां पहुंचा तो उन्होंने मारने के लिए प्रयास किया जैसे उन्होंने आज तो उठाया तो भगवान श्री हरि के देर से एक दिव्य ज्योति प्रकट हुई जिसके हुंकार मात्र से ही मोड़ नामक दैत्य का संहार हो गया और उस कन्या को ही उत्पत्ति एकादशी कहा जाता है उसे भगवान ने वरदान दिया कि जो कोई भी तुम्हारा व्रत करेगा उसे संसार की हर एक सिद्धियां हर एक व्यक्ति सॉरी वैभव प्राप्त होगा मुझे यह कथा सुनने का उसका भी उद्धार होगा आशा करता हूं यह कथा आपके जीवन में सकारात्मक परिवर्तन लाए
Hare krshn krshn se yudhishthir ne poochha prabhu utpatti ekaadashee kaise huee to bhagavaan shreekrshn ne yudhishthir ko kaha ki satayug mein mod naamak ek daanav tha jisane poore sansaar ko jeet liya tha teenon log ko aur devataon ko vivash kar diya tha prthvee par vicharan karane ke lie devata apanee samasya ko lekar bhagavaan shiv ke paas pahunche bhagavaan shiv ne kaha aapakee samasya ka samaadhaan garudadhvaj bhagavaan hari vishnu karenge aap unake paas jaen saare devata pataal mein saagar ke beecho beech pahunche vahaan unhonne vinatee kee bhagavaan shree shree vishnu jee se ki prabhu hamen is daity se mur naamak dete the hamen aajaadee pilaen yaad dila do bhagavaan shree hari vishnu jee ne asaty ke baare mein poochha kaun hai vah donon ne bataaya devaraaj indr ne kee brahma ke vansh se hue daal naamak ek asool ke putr hai murda na jo ki chandraavatee naam kee nagaree mein rahate hain ab unhonne usaka vadh karane ke lie bhagavaan shree hari ne usake paas gae hain to bahut to yuddh kaaphee samay chala usake pashchaat bhagavaan hari vishnu singar vatee gupha mein jaakar vishraam karane lage hain yogy utara mein unake peechhe peechhe mud naamak daity bhee vahaan pahuncha to unhonne maarane ke lie prayaas kiya jaise unhonne aaj to uthaaya to bhagavaan shree hari ke der se ek divy jyoti prakat huee jisake hunkaar maatr se hee mod naamak daity ka sanhaar ho gaya aur us kanya ko hee utpatti ekaadashee kaha jaata hai use bhagavaan ne varadaan diya ki jo koee bhee tumhaara vrat karega use sansaar kee har ek siddhiyaan har ek vyakti soree vaibhav praapt hoga mujhe yah katha sunane ka usaka bhee uddhaar hoga aasha karata hoon yah katha aapake jeevan mein sakaaraatmak parivartan lae

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • उत्पत्ति एकादशी की कथा, उत्पत्ति एकादशी की कथा कौन-सी हैं
URL copied to clipboard