#undefined

bolkar speaker

एक लेखक को लिखते समय किन बातों का ध्यान देना चाहिए ?

Ek Lekhak Ko Likhate Samay Kin Baaton Ka Dhyaan Dena Chaahie
Disha Bhayani Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Disha जी का जवाब
Unknown
2:27

और जवाब सुनें

bolkar speaker
एक लेखक को लिखते समय किन बातों का ध्यान देना चाहिए ?Ek Lekhak Ko Likhate Samay Kin Baaton Ka Dhyaan Dena Chaahie
डॉ रामकिशोर शर्मा Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए डॉ जी का जवाब
शिक्षक
0:32

bolkar speaker
एक लेखक को लिखते समय किन बातों का ध्यान देना चाहिए ?Ek Lekhak Ko Likhate Samay Kin Baaton Ka Dhyaan Dena Chaahie
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
3:32
एक लेखक को लिखते समय किन बातों पर ध्यान देना चाहिए बेटा देखे लेकिन कई क्षेत्रों में होता है सृजनात्मक लेखन आलोचनात्मक लेखन और परिचयात्मक लेकर कहानी कविता उपन्यास लिखा है तो उसकी दूसरी होती है जहां विचारों से ज्यादा भावना ही सकती हो और भावना में बहकर के हो लेकिन करता है मन में तो नगर बस यादें देरी क्यों ना हो और अपने गले का हार Mp3 क्यों ना हो और आगे तो बड़ी गजब की लाइन है देखते हैं किसके सहारे उसको ना सर झुका लूंगा इस फ्रिपरोनो संवेदनात्मक ले निबंध लिखित नाटक आता है कहानी आती है उसमें फिर से बंद होता है समीक्षा होती है रिपोर्ट साथ में दोनों 5050 होते हैं रेखाचित्र होता संस्थान होता है इसमें भी दोनों की होती है ना जो परिचयात्मक मैं मसूरी गया मसूरी की 14 बिल्कुल आसानी से समझा जा सके न दर्द भरी हो अनादर करने वाली ठीक है ना और समाधान निबंध लेखन कुछ मानदंड है और ध्यान रखिए हर कोई तुलसीदास नहीं बनता है हर कोई सूरदास नहीं बनता हर कोई कबीरदास और कोई प्रेमचंद नहीं बनता है कि नहीं बनता है और ईश्वर की मर्जी है जिसे दे दे यह सब कर्म प्रारब्ध जो कुछ भी कह दीजिए लेकिन कुछ विशेष बातों का ध्यान रखना चाहिए इसीलिए रामचंद्र शुक्ल ने कहा है कि साहित्य के सीजन में परिस्थितियों का भी बहुत बड़ा योगदान है उनकी लाइने किसी भी देश का साइड थे वहां की जनता की चित्तवृत्ति का फल अजीब होता है अंतिम बात आपसे निवेदन अगर साथ हो तो मूल्यों को लेकर लिखेंगे तो आपका साहित्य देर तक ठेकेदार तात्कालिक मूल्यों को लेकर तो प्रभावी तो जल्दी हो सकता है लेकिन 3GB शायद ही हो सके उतना ही प्रभावी है या नहीं है तो शाश्वत मूल्य और तात्कालिक मुझे साहित्य सीरियल के दो पर्दा ने इन सभी ध्यान रखना
Ek lekhak ko likhate samay kin baaton par dhyaan dena chaahie beta dekhe lekin kaee kshetron mein hota hai srjanaatmak lekhan aalochanaatmak lekhan aur parichayaatmak lekar kahaanee kavita upanyaas likha hai to usakee doosaree hotee hai jahaan vichaaron se jyaada bhaavana hee sakatee ho aur bhaavana mein bahakar ke ho lekin karata hai man mein to nagar bas yaaden deree kyon na ho aur apane gale ka haar mp3 kyon na ho aur aage to badee gajab kee lain hai dekhate hain kisake sahaare usako na sar jhuka loonga is phriparono sanvedanaatmak le nibandh likhit naatak aata hai kahaanee aatee hai usamen phir se band hota hai sameeksha hotee hai riport saath mein donon 5050 hote hain rekhaachitr hota sansthaan hota hai isamen bhee donon kee hotee hai na jo parichayaatmak main masooree gaya masooree kee 14 bilkul aasaanee se samajha ja sake na dard bharee ho anaadar karane vaalee theek hai na aur samaadhaan nibandh lekhan kuchh maanadand hai aur dhyaan rakhie har koee tulaseedaas nahin banata hai har koee sooradaas nahin banata har koee kabeeradaas aur koee premachand nahin banata hai ki nahin banata hai aur eeshvar kee marjee hai jise de de yah sab karm praarabdh jo kuchh bhee kah deejie lekin kuchh vishesh baaton ka dhyaan rakhana chaahie iseelie raamachandr shukl ne kaha hai ki saahity ke seejan mein paristhitiyon ka bhee bahut bada yogadaan hai unakee laine kisee bhee desh ka said the vahaan kee janata kee chittavrtti ka phal ajeeb hota hai antim baat aapase nivedan agar saath ho to moolyon ko lekar likhenge to aapaka saahity der tak thekedaar taatkaalik moolyon ko lekar to prabhaavee to jaldee ho sakata hai lekin 3gb shaayad hee ho sake utana hee prabhaavee hai ya nahin hai to shaashvat mooly aur taatkaalik mujhe saahity seeriyal ke do parda ne in sabhee dhyaan rakhana

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard