#जीवन शैली

bolkar speaker

आधुनिकता की दौड़ ने जीवन को आसान बनाया है या फिर कठिन?

Aadhunikata Kee Daud Ne Jeevan Ko Aasaan Banaaya Hai Ya Phir Kathin
Prashant Tiwari  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prashant जी का जवाब
Teaching job cac at present in Mp
0:24
आपका सवाल 8 मीटर दौड़ में जीवन को आसान बनाया है कठिन तो दोनों चीजें बहुत सी चीजें ना विज्ञानिक सागर शहर में धमाल जीवन को आसान बनाया है और कठिन मानसिक रूप से हमें हमारा जीवन कठिन हो गया है क्योंकि अब जीवन में भागदौड़ ज्यादा है मेहनत ज्यादा है प्रतिस्पर्धा ज्यादा है और तनाव चाहता है
Aapaka savaal 8 meetar daud mein jeevan ko aasaan banaaya hai kathin to donon cheejen bahut see cheejen na vigyaanik saagar shahar mein dhamaal jeevan ko aasaan banaaya hai aur kathin maanasik roop se hamen hamaara jeevan kathin ho gaya hai kyonki ab jeevan mein bhaagadaud jyaada hai mehanat jyaada hai pratispardha jyaada hai aur tanaav chaahata hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
आधुनिकता की दौड़ ने जीवन को आसान बनाया है या फिर कठिन?Aadhunikata Kee Daud Ne Jeevan Ko Aasaan Banaaya Hai Ya Phir Kathin
Ajay sinh Pawar  Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ajay जी का जवाब
Entrepreneur
5:00
आज दिन तक दौड़ने जीवन को आसान बना दिया है खत में भक्तामर जीवन शैली को तो बदल के रख दिया आसान बना दिया जीवन से लिखो और इसका सीधा स्वास्थ्य पर पड़ रहा बहुराष्ट्रीय कंपनियों के कार्य के आधुनिकीकरण के दिन और रात के देश को तो खत्म ही कर दिया कार्यशैली में बदलाव आ गया भाग दौड़ पड़ी है आगे निकलने की होड़ बड़ी सब को सब कुछ बहुत जल्दी चाहिए और इसके लिए हमारा युवा सब कुछ करने को तैयार कॉल सेंटर इंटरनेट के बाद सोशल मीडिया में भी जीवन शैली को बदल कर रख दिया देर रात तक जागना सुबह देर से उठना के बाद काम पर जाना जीवन हो गया और ऐसे हुआ है युवा जो काम पर नहीं जाते उनको तो जीवन भी कमोबेश ऐसा ही है क्योंकि जहां पढ़ाई कर रहे हैं या फिर जिस तरह से कह दिया की तलाश में वहां भी इसी तरह की मारामारी ऐसे में खानपान का प्रभावित होना लाजमी है युवा ज्यादातर फास्ट फूड डिब्बाबंद या पर होटलों के खाने पर आसीन तो हर चौराहे पर चाइनीस फूड स्टॉल भी लगी रहती पर खाना भी तो पोषण नहीं होता गंदगी कारण और भी बीमारियां घुसती जिस तरह से आधुनिकता के दौर में समाज का विकास उसमें संघ परिवार के लिए गायकी परिवारों के अब एक स्वस्थ जीवनशैली अपनाने की जरूरत है तो वह तो करना बहुत मुश्किल हो जाता अकेलेपन को युवा पार्टियों ने कम करते हैं और धीरे-धीरे अल्कोहल की नसों की गिरफ्त में आते हैं ऐसा करने लगे दूसरे शहरों से रोजगार पढ़ाई करने के लिए युवा परिवार ने उनको जैसे इस तरह का व्यवहार विकास होना आसान हो गया सिगरेट तंबाकू सांस की तकलीफ कैंसर जैसी बीमारियों को बढ़ा अलकोल किडनी और पेट की समस्या मोटापा बढ़ने का कारण बन रहा है कौन सी बीमारी हो गई है आधुनिकता के कारण केलावा छोटे शहरों और गांवों तक का बहुत तेजी से विकास हो गया निश्चित रूप से टेलीविजन इंटरनेट में गांव और शहर के बीच के अंतर को हद तक कम कर दिया काम करने की मांग भी शैली का विस्तार छोटे शहरों में भी एक पैर पसारने लगा विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक 10 से 24 की आयु वर्ग के करीब 25 लाख के आसपास असामयिक मौत के शिकार हो जाता है कई गुना ज्यादा ऐसी बीमारियां हैं कि जैसे थोड़ा उसका कोई समझा जाता था तो वह वास्ता नहीं आ जाती है अरे 30 साल के बाद भी बुनियादी सवालों से जूझना पड़ता है करीब 50 की आबादी 25 साल से कम की और 65 की आबादी 35 साल से नीचे की है भारत के करीब दो-तिहाई आबादी से युवा और भारत में हम लोगों को संजीदगी से लेते हैं जो साथ पर दिखाई पड़ता है हमारा जीवन गतिविधियां दोनों थप्पड़ अब अदालतें भी रुको उनके निदान के प्रति सरकारों को सरकार सरोकार को लेकर कठघरे में खड़ा करने लगी विकास को बाधित करने वाले उनकी कार्य क्षमता को प्रभावित करने वाले रोगों के प्रति मीनिंग के साथ ध्यान नहीं दिया जा रहा है मोटापा बढ़ रहा है बीएमआई लोगों का बढ़ रहा है और अनुपात में युवा अधिकारी ले रहे हैं लेकिन नौकरी मिल नहीं रही है मानसिक तनाव अपराधियों के बीच अब केवल अच्छे शादी का इतना नहीं रहा टेलीविजन में उनकी अपेक्षा भी बढ़ा दी वैवाहिक जीवन की शुरुआत में ही तनाव उनके युवा पीढ़ी कब भरा जा रहा है कोई उनसे कुछ छीनने वाला हो ऐसा माहौल उनके दिमाग में छाया रहता है हर लोगों के पास खुद के लिए समय है ना परिवार के लिए समय न सामाजिक गतिविधियों के लिए समय न मिलजुल के लिए समय इसलिए कोई किसी से कुछ पूछना चाहता है सवाल पूछेंगे सोशल मीडिया पर लेकिन अपने माता-पिता को समय नहीं देते हैं उनसे गाइडेंस नहीं लेते हैं अपने माता-पिता से वह जनरेशन गैप कहकर दूरी बना लेते हैं इसलिए यह मानसिक रूप से 1 तरह की है बीमारी है और परिपक्वता के निशानी कही जा सकती है मानसिक रूप से बीमार व्यक्ति खुद ही उसको नहीं मालूम होता है कि बीमार है यह सब जो है आधुनिकता के नाम पर बहुत सारा उसको डेट मिली है युवा पीढ़ी को और हर उम्र के लोगों
Aaj din tak daudane jeevan ko aasaan bana diya hai khat mein bhaktaamar jeevan shailee ko to badal ke rakh diya aasaan bana diya jeevan se likho aur isaka seedha svaasthy par pad raha bahuraashtreey kampaniyon ke kaary ke aadhunikeekaran ke din aur raat ke desh ko to khatm hee kar diya kaaryashailee mein badalaav aa gaya bhaag daud padee hai aage nikalane kee hod badee sab ko sab kuchh bahut jaldee chaahie aur isake lie hamaara yuva sab kuchh karane ko taiyaar kol sentar intaranet ke baad soshal meediya mein bhee jeevan shailee ko badal kar rakh diya der raat tak jaagana subah der se uthana ke baad kaam par jaana jeevan ho gaya aur aise hua hai yuva jo kaam par nahin jaate unako to jeevan bhee kamobesh aisa hee hai kyonki jahaan padhaee kar rahe hain ya phir jis tarah se kah diya kee talaash mein vahaan bhee isee tarah kee maaraamaaree aise mein khaanapaan ka prabhaavit hona laajamee hai yuva jyaadaatar phaast phood dibbaaband ya par hotalon ke khaane par aaseen to har chauraahe par chainees phood stol bhee lagee rahatee par khaana bhee to poshan nahin hota gandagee kaaran aur bhee beemaariyaan ghusatee jis tarah se aadhunikata ke daur mein samaaj ka vikaas usamen sangh parivaar ke lie gaayakee parivaaron ke ab ek svasth jeevanashailee apanaane kee jaroorat hai to vah to karana bahut mushkil ho jaata akelepan ko yuva paartiyon ne kam karate hain aur dheere-dheere alkohal kee nason kee girapht mein aate hain aisa karane lage doosare shaharon se rojagaar padhaee karane ke lie yuva parivaar ne unako jaise is tarah ka vyavahaar vikaas hona aasaan ho gaya sigaret tambaakoo saans kee takaleeph kainsar jaisee beemaariyon ko badha alakol kidanee aur pet kee samasya motaapa badhane ka kaaran ban raha hai kaun see beemaaree ho gaee hai aadhunikata ke kaaran kelaava chhote shaharon aur gaanvon tak ka bahut tejee se vikaas ho gaya nishchit roop se teleevijan intaranet mein gaanv aur shahar ke beech ke antar ko had tak kam kar diya kaam karane kee maang bhee shailee ka vistaar chhote shaharon mein bhee ek pair pasaarane laga vishv svaasthy sangathan ke mutaabik 10 se 24 kee aayu varg ke kareeb 25 laakh ke aasapaas asaamayik maut ke shikaar ho jaata hai kaee guna jyaada aisee beemaariyaan hain ki jaise thoda usaka koee samajha jaata tha to vah vaasta nahin aa jaatee hai are 30 saal ke baad bhee buniyaadee savaalon se joojhana padata hai kareeb 50 kee aabaadee 25 saal se kam kee aur 65 kee aabaadee 35 saal se neeche kee hai bhaarat ke kareeb do-tihaee aabaadee se yuva aur bhaarat mein ham logon ko sanjeedagee se lete hain jo saath par dikhaee padata hai hamaara jeevan gatividhiyaan donon thappad ab adaalaten bhee ruko unake nidaan ke prati sarakaaron ko sarakaar sarokaar ko lekar kathaghare mein khada karane lagee vikaas ko baadhit karane vaale unakee kaary kshamata ko prabhaavit karane vaale rogon ke prati meening ke saath dhyaan nahin diya ja raha hai motaapa badh raha hai beeemaee logon ka badh raha hai aur anupaat mein yuva adhikaaree le rahe hain lekin naukaree mil nahin rahee hai maanasik tanaav aparaadhiyon ke beech ab keval achchhe shaadee ka itana nahin raha teleevijan mein unakee apeksha bhee badha dee vaivaahik jeevan kee shuruaat mein hee tanaav unake yuva peedhee kab bhara ja raha hai koee unase kuchh chheenane vaala ho aisa maahaul unake dimaag mein chhaaya rahata hai har logon ke paas khud ke lie samay hai na parivaar ke lie samay na saamaajik gatividhiyon ke lie samay na milajul ke lie samay isalie koee kisee se kuchh poochhana chaahata hai savaal poochhenge soshal meediya par lekin apane maata-pita ko samay nahin dete hain unase gaidens nahin lete hain apane maata-pita se vah janareshan gaip kahakar dooree bana lete hain isalie yah maanasik roop se 1 tarah kee hai beemaaree hai aur paripakvata ke nishaanee kahee ja sakatee hai maanasik roop se beemaar vyakti khud hee usako nahin maaloom hota hai ki beemaar hai yah sab jo hai aadhunikata ke naam par bahut saara usako det milee hai yuva peedhee ko aur har umr ke logon

bolkar speaker
आधुनिकता की दौड़ ने जीवन को आसान बनाया है या फिर कठिन?Aadhunikata Kee Daud Ne Jeevan Ko Aasaan Banaaya Hai Ya Phir Kathin
Farhan Ghani Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Farhan जी का जवाब
Businessmen
1:28
आपका सवाल है आधुनिकता की दौड़ ने जीवन को आसान बनाया फिर कठिन जीवन बहुत आसान हुआ है मिसाल दूं आपको कि मेरठ से दिल्ली जाने के लिए पहले कितनी घटना हुई थी लोक बैलगाड़ी से जा रहे हैं पर आ जा रहे हैं फिर बस का निर्माण हुआ ट्रेन का निर्माण हुआ तब कितना आसान है जाना पहले आप किसी खबर देने शादी की या मोदी कितना मुश्किल होता था पता चला कोई खबर देने गया मौत की किताब से आए उसे दफना दिया कोई खबर देना गया पता चला शादी हो गई अब कितना आसान है अब आप कॉल पर भी कर सकते हो जब आप 100 किलोमीटर 1000 किलोमीटर 2000 किलोमीटर इंसान की खबर 5 मिनट में ले सकते हैं कि वह सही है सही है सही है नहीं तो ऐसा नहीं है आसान है काफी हद तक कहने टेक्नो इन्हीं चीजों ने आसान किया है हमारा जीवन और हम खुद बना लिया है हम लोगों के आदी हो चुके हैं हम इनके 4G के एंड्रॉयड के इन के आदी हो चुके हैं हमने अपना जीवन खुद कठिन बना लिया है तो मैं यह कहना चाहूंगा कि इन चीजों के आदि मत बने हमारे जो है साधारण सुविधा के लिए है ना कि हमारी मुसीबत के लिए
Aapaka savaal hai aadhunikata kee daud ne jeevan ko aasaan banaaya phir kathin jeevan bahut aasaan hua hai misaal doon aapako ki merath se dillee jaane ke lie pahale kitanee ghatana huee thee lok bailagaadee se ja rahe hain par aa ja rahe hain phir bas ka nirmaan hua tren ka nirmaan hua tab kitana aasaan hai jaana pahale aap kisee khabar dene shaadee kee ya modee kitana mushkil hota tha pata chala koee khabar dene gaya maut kee kitaab se aae use daphana diya koee khabar dena gaya pata chala shaadee ho gaee ab kitana aasaan hai ab aap kol par bhee kar sakate ho jab aap 100 kilomeetar 1000 kilomeetar 2000 kilomeetar insaan kee khabar 5 minat mein le sakate hain ki vah sahee hai sahee hai sahee hai nahin to aisa nahin hai aasaan hai kaaphee had tak kahane tekno inheen cheejon ne aasaan kiya hai hamaara jeevan aur ham khud bana liya hai ham logon ke aadee ho chuke hain ham inake 4g ke endroyad ke in ke aadee ho chuke hain hamane apana jeevan khud kathin bana liya hai to main yah kahana chaahoonga ki in cheejon ke aadi mat bane hamaare jo hai saadhaaran suvidha ke lie hai na ki hamaaree museebat ke lie

bolkar speaker
आधुनिकता की दौड़ ने जीवन को आसान बनाया है या फिर कठिन?Aadhunikata Kee Daud Ne Jeevan Ko Aasaan Banaaya Hai Ya Phir Kathin
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:58

bolkar speaker
आधुनिकता की दौड़ ने जीवन को आसान बनाया है या फिर कठिन?Aadhunikata Kee Daud Ne Jeevan Ko Aasaan Banaaya Hai Ya Phir Kathin
vikas Singh Rajput Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए vikas जी का जवाब
Unknown
4:43

bolkar speaker
आधुनिकता की दौड़ ने जीवन को आसान बनाया है या फिर कठिन?Aadhunikata Kee Daud Ne Jeevan Ko Aasaan Banaaya Hai Ya Phir Kathin
Dilip Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dilip जी का जवाब
Unknown
0:34

bolkar speaker
आधुनिकता की दौड़ ने जीवन को आसान बनाया है या फिर कठिन?Aadhunikata Kee Daud Ne Jeevan Ko Aasaan Banaaya Hai Ya Phir Kathin
Balramji Dilwale Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Balramji जी का जवाब
Unknown
0:59

bolkar speaker
आधुनिकता की दौड़ ने जीवन को आसान बनाया है या फिर कठिन?Aadhunikata Kee Daud Ne Jeevan Ko Aasaan Banaaya Hai Ya Phir Kathin
Ritik Dhasmana Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Ritik जी का जवाब
Unknown
2:22

bolkar speaker
आधुनिकता की दौड़ ने जीवन को आसान बनाया है या फिर कठिन?Aadhunikata Kee Daud Ne Jeevan Ko Aasaan Banaaya Hai Ya Phir Kathin
Sanjeev Gupta Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sanjeev जी का जवाब
Unknown
1:20

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard