#undefined

bolkar speaker

श्रीलाल शुक्ल का जीवन परिचय एवं उनकी प्रमुख रचनाएँ क्या हैं?

Shrilaal Shukla Ka Jeevan Parichey Evam Unke Pramukh Rachnaen Kya Hain
Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
2:53
हेलो फ्रेंड नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है श्रीलाल शुक्ल का जीवन परिचय एवं उनकी प्रमुख रचनाएं क्या है श्रीलाल शुक्ल जो थे वह एक बहुत ही है बड़े जो है लेखक से बहुत ही बढ़िया साहित्यकार थे श्रीलाल शुक्ल का जन्म हुआ वह 31 दिसंबर 1925 को हुआ तथा इनका निधन हुआ है वह 28 दिसंबर 2011 को लखनऊ जनपद के समकालीन कथा साहित्य में 29 पर व्यंग्य लेखन के लिए विख्यात साहित्यकार माने जाते थे फिर उन्होंने 1947 में इलाहाबाद विश्वविद्यालय से स्नातक परीक्षा पास की 1949 में राज्य सिविल सेवा में उन्होंने नौकरी भी की 1883 में भारतीय प्रशासनिक सेवा से यह इनकी हो गई और उनका विधिवत लेखन जो है 19 चमन से शुरू हुआ इसी के साथ जो है हिंदी गद्य का एक गौरवशाली अध्याय भी यह लिख रहा है उनका पहला जो है प्रकाशित जहां था जो उपन्यास उनका नाम था सोनी घाटी का सूरज योगी 1957 में प्रकाशित हुआ और दूसरा इनका जो उपन्यास था वह है अंगद का पांव जो कि 1958 में प्रकाशित हुआ फ्रेंड स्वतंत्रता के बाद फ्रेंड भारत के ग्रामीण जीवन की मौलिकता को परंतु परंतु यह उखाड़ने वाले उपन्यास जो थे वह राग दरबारी 1968 के लिए उन्होंने साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया था उनके इस उपन्यास पर एक दूरदर्शन धारावाहिक का भी निर्माण हुआ श्री शुक्ल को भारत सरकार ने 2008 में पद्म भूषण पुरस्कार से भी सम्मानित किया था फ्रेंड और इनकी जो रचनाएं हैं वह बहुत ही यह जो है उसमें जान भर देने वाली हिना की प्रमुख रचनाएं जैसे कि सूनी घाटी का सूरज जो कि 1957 में प्रकाशित हुआ अज्ञातवास जो कि 1962 में जो है प्रकाशित हुआ राजदरबारी चुकी 1968 में उपन्यास हुआ आदमी का जहर 1972 में हुआ सीमाएं टूटती है 1973 में इसका न्यास का प्रकाशन हुआ मकान 1976 पहला पड़ाव विश्व विश्रामपुर का संत गब्बर सिंह और उनके साथी राग बैरागी सब उनकी प्रमुख रचनाएं थी आशा है कि आप सभी को या जवाब पसंद होगा शुक्रिया
Helo phrend namaskaar jaisa ki aapaka prashn hai shreelaal shukl ka jeevan parichay evan unakee pramukh rachanaen kya hai shreelaal shukl jo the vah ek bahut hee hai bade jo hai lekhak se bahut hee badhiya saahityakaar the shreelaal shukl ka janm hua vah 31 disambar 1925 ko hua tatha inaka nidhan hua hai vah 28 disambar 2011 ko lakhanoo janapad ke samakaaleen katha saahity mein 29 par vyangy lekhan ke lie vikhyaat saahityakaar maane jaate the phir unhonne 1947 mein ilaahaabaad vishvavidyaalay se snaatak pareeksha paas kee 1949 mein raajy sivil seva mein unhonne naukaree bhee kee 1883 mein bhaarateey prashaasanik seva se yah inakee ho gaee aur unaka vidhivat lekhan jo hai 19 chaman se shuroo hua isee ke saath jo hai hindee gady ka ek gauravashaalee adhyaay bhee yah likh raha hai unaka pahala jo hai prakaashit jahaan tha jo upanyaas unaka naam tha sonee ghaatee ka sooraj yogee 1957 mein prakaashit hua aur doosara inaka jo upanyaas tha vah hai angad ka paanv jo ki 1958 mein prakaashit hua phrend svatantrata ke baad phrend bhaarat ke graameen jeevan kee maulikata ko parantu parantu yah ukhaadane vaale upanyaas jo the vah raag darabaaree 1968 ke lie unhonne saahity akaadamee puraskaar se sammaanit kiya gaya tha unake is upanyaas par ek dooradarshan dhaaraavaahik ka bhee nirmaan hua shree shukl ko bhaarat sarakaar ne 2008 mein padm bhooshan puraskaar se bhee sammaanit kiya tha phrend aur inakee jo rachanaen hain vah bahut hee yah jo hai usamen jaan bhar dene vaalee hina kee pramukh rachanaen jaise ki soonee ghaatee ka sooraj jo ki 1957 mein prakaashit hua agyaatavaas jo ki 1962 mein jo hai prakaashit hua raajadarabaaree chukee 1968 mein upanyaas hua aadamee ka jahar 1972 mein hua seemaen tootatee hai 1973 mein isaka nyaas ka prakaashan hua makaan 1976 pahala padaav vishv vishraamapur ka sant gabbar sinh aur unake saathee raag bairaagee sab unakee pramukh rachanaen thee aasha hai ki aap sabhee ko ya javaab pasand hoga shukriya

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • श्रीलाल शुक्ल का जीवन परिचय श्रीलाल शुक्ल
URL copied to clipboard