#undefined

bolkar speaker

क्या आप कोई दिल को छू लेने वाली कविता सुना सकते हैं?

Kya Aap Koee Dil Ko Chhoo Lene Vaalee Kavita Suna Sakate Hain
Deepika Jain Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deepika जी का जवाब
Unknown
2:17

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या आप कोई दिल को छू लेने वाली कविता सुना सकते हैं?Kya Aap Koee Dil Ko Chhoo Lene Vaalee Kavita Suna Sakate Hain
Rushi Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rushi जी का जवाब
Unknown
1:20

bolkar speaker
क्या आप कोई दिल को छू लेने वाली कविता सुना सकते हैं?Kya Aap Koee Dil Ko Chhoo Lene Vaalee Kavita Suna Sakate Hain
Choudhary Sadaf Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Choudhary जी का जवाब
businessman
1:05

bolkar speaker
क्या आप कोई दिल को छू लेने वाली कविता सुना सकते हैं?Kya Aap Koee Dil Ko Chhoo Lene Vaalee Kavita Suna Sakate Hain
Riya Gupta Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Riya जी का जवाब
Content Writer / Proofreader
1:40

bolkar speaker
क्या आप कोई दिल को छू लेने वाली कविता सुना सकते हैं?Kya Aap Koee Dil Ko Chhoo Lene Vaalee Kavita Suna Sakate Hain
Sameera khaan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Sameera जी का जवाब
Unknown
0:22

bolkar speaker
क्या आप कोई दिल को छू लेने वाली कविता सुना सकते हैं?Kya Aap Koee Dil Ko Chhoo Lene Vaalee Kavita Suna Sakate Hain
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
0:07

bolkar speaker
क्या आप कोई दिल को छू लेने वाली कविता सुना सकते हैं?Kya Aap Koee Dil Ko Chhoo Lene Vaalee Kavita Suna Sakate Hain
Arjun Vishvakrma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Arjun जी का जवाब
Pata nahe
0:43

bolkar speaker
क्या आप कोई दिल को छू लेने वाली कविता सुना सकते हैं?Kya Aap Koee Dil Ko Chhoo Lene Vaalee Kavita Suna Sakate Hain
Choudhary Bilal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Choudhary जी का जवाब
Unknown
1:05

bolkar speaker
क्या आप कोई दिल को छू लेने वाली कविता सुना सकते हैं?Kya Aap Koee Dil Ko Chhoo Lene Vaalee Kavita Suna Sakate Hain
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
2:54
अब कविता इतनी मरण नहीं रहती हैं लेकिन मेरा मानना यह है या तो आप राष्ट्रकवि श्री रामधारी सिंह दिनकर की कंपनी उसका नाम देखें कुरुक्षेत्र में श्री कृष्ण का दूत कार्य हो कितना प्रेरणास्पद है कि जब मानव जोर लगाता है पत्थर पानी बन जाता है जब नर पर्वत के जाते पांव इसी प्रकार आप मैथिलीशरण गुप्त की परीक्षा कितनी उसी के पास सुंदर चित्रण में प्रकृति का चित्रण किया है उन्होंने उन्होंने यह आदमी को प्रेरणादाई बहुत सारे लिखे हैं वह कविताएं अपने आप में बेमिसाल है एक कन्हैया लाल सेठिया जी राजस्थानी कवि हैं उन्होंने भी बहुत अच्छा चित्रण किया विशेष तौर से वह कविता उनकी हृदयस्पर्शी कवित जिस पर मुनि महाराणा प्रताप की पत्नी का प्रेम को चित्रण किया है कि कि b11 में भटकते हुए कर रहे हैं मुगलों का समय में बोलबाला है मुगलों के शासक अकबर का दिल्ली में साम्राज्य है और उनके कारण से मेवाड़ की स्थिति चंद्र हो चुकी है महाराणा प्रताप जंगल में अपने परिवार के साथ में रह रहे हैं यहां तक कि उनके बच्चों को खाने के लिए रोटियां भी नहीं है अमर सिंह रोटी के लिए बिलबिला रहा है और महाराणा प्रताप के अनुच्छेदों ने कहा चला कर दिए हैं और घास को कूटकर की रोटी बनाई गई है और उस रोटी को भी एक बन बिलाव लेकर भाग जाता है अरे घास री रोटी ही जद बन बिलावडो ले भाग्यो नानो सो अमरो चीख पड्यो राणा रो सोयो दुख दुख जागरण में सहयोग में मेवाड़ी मान बचा वाणी उसमें कितना सुंदर चित्रण किया है और उस दृश्य को देखकर के एक्शन ले व्यक्ति की आंखों में आंसू आ जाते हैं उस बालक को बहलाने के लिए घास की रोटी महाराणा प्रताप की पत्नी ने बनाई है और उस बालक को दिए इतने में एक बदलाव आया और उस घास की रोटी को भी छीन कर ले गया और अमर सिंह बिल बुलाने लगा चिल्लाने लगा मां मेरी रोटी को ठीक जा रहा है इतना दर्दनाक चित्रण है और उसको उन्होंने शब्दों में किस तरह सजाया है कन्हैयालाल सेठिया बाकी धन्यवाद के पात्र हैं उन्होंने कितनी साफगोई के साथ में उसका प्रेमी के परिवार का दर्दनाक मंजर प्रस्तुत किया है वह अपने आप में बेमिसाल है आप पढ़े
Ab kavita itanee maran nahin rahatee hain lekin mera maanana yah hai ya to aap raashtrakavi shree raamadhaaree sinh dinakar kee kampanee usaka naam dekhen kurukshetr mein shree krshn ka doot kaary ho kitana preranaaspad hai ki jab maanav jor lagaata hai patthar paanee ban jaata hai jab nar parvat ke jaate paanv isee prakaar aap maithileesharan gupt kee pareeksha kitanee usee ke paas sundar chitran mein prakrti ka chitran kiya hai unhonne unhonne yah aadamee ko preranaadaee bahut saare likhe hain vah kavitaen apane aap mein bemisaal hai ek kanhaiya laal sethiya jee raajasthaanee kavi hain unhonne bhee bahut achchha chitran kiya vishesh taur se vah kavita unakee hrdayasparshee kavit jis par muni mahaaraana prataap kee patnee ka prem ko chitran kiya hai ki ki b11 mein bhatakate hue kar rahe hain mugalon ka samay mein bolabaala hai mugalon ke shaasak akabar ka dillee mein saamraajy hai aur unake kaaran se mevaad kee sthiti chandr ho chukee hai mahaaraana prataap jangal mein apane parivaar ke saath mein rah rahe hain yahaan tak ki unake bachchon ko khaane ke lie rotiyaan bhee nahin hai amar sinh rotee ke lie bilabila raha hai aur mahaaraana prataap ke anuchchhedon ne kaha chala kar die hain aur ghaas ko kootakar kee rotee banaee gaee hai aur us rotee ko bhee ek ban bilaav lekar bhaag jaata hai are ghaas ree rotee hee jad ban bilaavado le bhaagyo naano so amaro cheekh padyo raana ro soyo dukh dukh jaagaran mein sahayog mein mevaadee maan bacha vaanee usamen kitana sundar chitran kiya hai aur us drshy ko dekhakar ke ekshan le vyakti kee aankhon mein aansoo aa jaate hain us baalak ko bahalaane ke lie ghaas kee rotee mahaaraana prataap kee patnee ne banaee hai aur us baalak ko die itane mein ek badalaav aaya aur us ghaas kee rotee ko bhee chheen kar le gaya aur amar sinh bil bulaane laga chillaane laga maan meree rotee ko theek ja raha hai itana dardanaak chitran hai aur usako unhonne shabdon mein kis tarah sajaaya hai kanhaiyaalaal sethiya baakee dhanyavaad ke paatr hain unhonne kitanee saaphagoee ke saath mein usaka premee ke parivaar ka dardanaak manjar prastut kiya hai vah apane aap mein bemisaal hai aap padhe

bolkar speaker
क्या आप कोई दिल को छू लेने वाली कविता सुना सकते हैं?Kya Aap Koee Dil Ko Chhoo Lene Vaalee Kavita Suna Sakate Hain
UMA TIWARI Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए UMA जी का जवाब
Teaching
1:23
कहां है रूठा तो कन्हाई मैं यह समझ ना पाया कि अब तो बता दो कन्हैया राह देखे तेरी गोकुला की गैया दे दी हमें रितु खायो मटकी तुम्हारा हम तब होना बोले हैं खूब अखियां अखियां बता बता जा कन्हैया कहां है रूठा तो कन्हाई मैं यह समझ ना पाई हा क्या पता बता जा कन्हैया
Kahaan hai rootha to kanhaee main yah samajh na paaya ki ab to bata do kanhaiya raah dekhe teree gokula kee gaiya de dee hamen ritu khaayo matakee tumhaara ham tab hona bole hain khoob akhiyaan akhiyaan bata bata ja kanhaiya kahaan hai rootha to kanhaee main yah samajh na paee ha kya pata bata ja kanhaiya

bolkar speaker
क्या आप कोई दिल को छू लेने वाली कविता सुना सकते हैं?Kya Aap Koee Dil Ko Chhoo Lene Vaalee Kavita Suna Sakate Hain
Rakesh Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Rakesh जी का जवाब
👨‍🏫 Teacher.
1:04
बहुत पहले मैंने एक कविता पड़ा था कि ना सपना देखना बुरा है और नाश्ता अपना सजाना बुरा है ना सपना देखना बुरा है और ना सपना सजा ना बुरा है किंतु सपनों की दुनिया में जीना बुरा है क्योंकि जिंदगी शौक नहीं हकीकत है मतलब कि हम सभी अपने जीवन में बहुत सारा बहुत सारा सपने देखते हैं तो इस कविता में यही इसका सारांश निकलता है कि हम कुछ सपना देख रहे हैं वह बुरा नहीं है और कोई सपना भी सजा रहे हैं कि आगे हमारे साथ ऐसा होता वैसे होता वह भी बुरा नहीं है लेकिन बुरा यह है कि सपनों की दुनिया में अगर हम जी रहे हैं तो यह बुरा है क्योंकि हम सभी जानते हैं कि जो जिंदगी स्वप्न नहीं है एक हकीकत है जो हमें भी जी रहे हैं जिस स्थिति में जिस परिस्थिति में यही जीवन वास्तविकता है धन्यवाद
Bahut pahale mainne ek kavita pada tha ki na sapana dekhana bura hai aur naashta apana sajaana bura hai na sapana dekhana bura hai aur na sapana saja na bura hai kintu sapanon kee duniya mein jeena bura hai kyonki jindagee shauk nahin hakeekat hai matalab ki ham sabhee apane jeevan mein bahut saara bahut saara sapane dekhate hain to is kavita mein yahee isaka saaraansh nikalata hai ki ham kuchh sapana dekh rahe hain vah bura nahin hai aur koee sapana bhee saja rahe hain ki aage hamaare saath aisa hota vaise hota vah bhee bura nahin hai lekin bura yah hai ki sapanon kee duniya mein agar ham jee rahe hain to yah bura hai kyonki ham sabhee jaanate hain ki jo jindagee svapn nahin hai ek hakeekat hai jo hamen bhee jee rahe hain jis sthiti mein jis paristhiti mein yahee jeevan vaastavikata hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या आप कोई दिल को छू लेने वाली कविता सुना सकते हैं?Kya Aap Koee Dil Ko Chhoo Lene Vaalee Kavita Suna Sakate Hain
Tej Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Tej जी का जवाब
Unknown
0:47

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • दिल को छू लेने वाली कविता
URL copied to clipboard